पढ़ाई लिखाई करना शादी करना बीवी बच्चे सब्जी करना ज़रूरी है क्या?...


user

Narendra Bhardwaj

Spirituality Reformer

3:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महोदय आपने पूछा है पढ़ाई लिखाई करना शादी करना अभी बच्चे सभी करना जरूरी है क्या हमारी भारतीय संस्कृति में हम और परंपरागत जीवन जीते हैं जैसे संस्कार हम जिस माहौल में जिस परिवेश में पढ़े लिखे पढ़े हुए हैं उस तरह की परंपरा का पालन करते हैं हमारे मां-बाप हमें संस्कार देते हैं और जिन संस्कारों से हम बड़े होते हैं उन्हीं को हमें अपनाना पड़ता है अब रही बात इसकी की पढ़ाई लिखाई करना शादी करना भी बचपन इस सब का उद्देश्य जीवन के विकास से पढ़ाई लिखाई इसलिए करवाते हैं जिससे हमारा ज्ञान बड़े ज्ञान बढ़ेगा तो जीवन यापन करने में हमें सुधारने की शादी इसलिए करते हैं कि जिस प्रकार हमारे मां-बाप ने हमें जन्म दिया है हम भी उनके वंश को आगे हम भी शादी करके बच्चे बच्चियों को जन्मदिन यह जीवन की प्रक्रिया पर इस जीवन की प्रक्रिया में सभी पूर्णता है जब हम अपनी संस्कृति में चल रहे आ रहे हैं व्यवहार को अपनाकर आगे बढ़ते हैं और यदि हम ऐसा नहीं करते तो इस प्रकृति में अगर सारे लोग ऐसा सोचने लगेंगे तो कौन पढ़ने जाएगा कौन शादी करेगा कौन बच्चे पैदा करेगा तो इस सृष्टि नष्ट होने की कगार पर पहुंच जाएगी इसलिए प्रकृति में ऐसे गुणों को सम्मिलित किया गया है जिनमें शादी भी है पढ़ाई लिखाई भी है बच्चे पैदा करना अभी है मां-बाप की सेवा करना अभी है इस सारे संस्कार हमारे जीवन में 16 संस्कार होते हैं गर्भधारण से लेकर मृत्यु तक के सोलह संस्कार तो हमें इन संस्कारों से होकर गुजरना पड़ता है जिस देश की जो संस्कृति है उस देश में उस तरह के संस्कार होते हैं और उनको अपनाना ही पड़ता है और हमारे जीवन में भी अगर हिसाब है हमें करना चाहिए लेकिन आपको लगता है यह आपके स्वभाव के विपरीत है तो आप नहीं कर सकते मना कर सकते भाई मेरा मन पढ़ाई में नहीं लगता तो जिस में मन लगता है उसमें आगे बढ़ो आपका पढ़ाई में नहीं लगता क्रिकेट खेलने में लगता है तो क्रिकेट से सचिन तेंदुलकर पढ़ाई में मन नहीं लगा ज्यादा घरवालों ने फोर्स नहीं किया क्रिकेट में लगा लगा दिया आज तेंदुलकर तेंदुलकर सर कहते हैं लोग क्योंकि उन्होंने उसी में पारंगत आ हासिल की उसी में श्रेष्ठता हासिल की तो आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप किस फिल्म में किस में आपकी रुचि है घरवालों के साथ बैठकर अपनी रुचि अपना फिर बता सकते कि मैं इसमें मेरा मन नहीं लगता मैं यह करना चाहता हूं मैं आध्यात्मिक क्षेत्र में जाना चाहता हूं या मैं यह बनना चाहता हूं जो आप बनना चाहते हो वह बोलो ना आपको शादी ना करना करना या ना कर नहीं तो आपकी अपनी मर्जी इसके लिए मां-बाप को आप संतुष्ट कर सकते हैं आप अपने परिवेश को देखकर मां-बाप के साथ विचार-विमर्श करके कर सकते हैं धन्यवाद

mahoday aapne poocha hai padhai likhai karna shaadi karna abhi bacche sabhi karna zaroori hai kya hamari bharatiya sanskriti me hum aur paramparagat jeevan jeete hain jaise sanskar hum jis maahaul me jis parivesh me padhe likhe padhe hue hain us tarah ki parampara ka palan karte hain hamare maa baap hamein sanskar dete hain aur jin sanskaron se hum bade hote hain unhi ko hamein apnana padta hai ab rahi baat iski ki padhai likhai karna shaadi karna bhi bachpan is sab ka uddeshya jeevan ke vikas se padhai likhai isliye karwaate hain jisse hamara gyaan bade gyaan badhega toh jeevan yaapan karne me hamein sudhaarne ki shaadi isliye karte hain ki jis prakar hamare maa baap ne hamein janam diya hai hum bhi unke vansh ko aage hum bhi shaadi karke bacche bachiyo ko janamdin yah jeevan ki prakriya par is jeevan ki prakriya me sabhi purnata hai jab hum apni sanskriti me chal rahe aa rahe hain vyavhar ko apnakar aage badhte hain aur yadi hum aisa nahi karte toh is prakriti me agar saare log aisa sochne lagenge toh kaun padhne jaega kaun shaadi karega kaun bacche paida karega toh is shrishti nasht hone ki kagar par pohch jayegi isliye prakriti me aise gunon ko sammilit kiya gaya hai jinmein shaadi bhi hai padhai likhai bhi hai bacche paida karna abhi hai maa baap ki seva karna abhi hai is saare sanskar hamare jeevan me 16 sanskar hote hain garbhadharan se lekar mrityu tak ke solah sanskar toh hamein in sanskaron se hokar gujarana padta hai jis desh ki jo sanskriti hai us desh me us tarah ke sanskar hote hain aur unko apnana hi padta hai aur hamare jeevan me bhi agar hisab hai hamein karna chahiye lekin aapko lagta hai yah aapke swabhav ke viprit hai toh aap nahi kar sakte mana kar sakte bhai mera man padhai me nahi lagta toh jis me man lagta hai usme aage badho aapka padhai me nahi lagta cricket khelne me lagta hai toh cricket se sachin tendulkar padhai me man nahi laga zyada gharwaalon ne force nahi kiya cricket me laga laga diya aaj tendulkar tendulkar sir kehte hain log kyonki unhone usi me paarangat aa hasil ki usi me shreshthata hasil ki toh aapke upar nirbhar karta hai ki aap kis film me kis me aapki ruchi hai gharwaalon ke saath baithkar apni ruchi apna phir bata sakte ki main isme mera man nahi lagta main yah karna chahta hoon main aadhyatmik kshetra me jana chahta hoon ya main yah banna chahta hoon jo aap banna chahte ho vaah bolo na aapko shaadi na karna karna ya na kar nahi toh aapki apni marji iske liye maa baap ko aap santusht kar sakte hain aap apne parivesh ko dekhkar maa baap ke saath vichar vimarsh karke kar sakte hain dhanyavad

महोदय आपने पूछा है पढ़ाई लिखाई करना शादी करना अभी बच्चे सभी करना जरूरी है क्या हमारी भारती

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  1468
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!