क्या वाकई में चीन भारत को तबाह करना चाहता है?...


user
0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या वाकई में तीन बार करना चाहता है कि हमारी नीतियां व्यापारी और अपनी ब्रेड करके अपनी सीमाओं की रक्षा करते हुए व्यापार करते रहना है और बहुत जल्द आप देखेंगे कि हम चीन से आगे निकलने वाले हैं जहां तक मेरा अंदाजा है 2022 से हमारी आर्थिक रेस शुरू होगी 2025 में दुनिया की नंबर वन आर्थिक महाशक्ति बन सकते हैं उसके बाद हम दुनिया की सबसे बड़ी औरत

aapka prashna hai kya vaakai me teen baar karna chahta hai ki hamari nitiyan vyapaari aur apni bread karke apni seemaon ki raksha karte hue vyapar karte rehna hai aur bahut jald aap dekhenge ki hum china se aage nikalne waale hain jaha tak mera andaja hai 2022 se hamari aarthik race shuru hogi 2025 me duniya ki number van aarthik mahashakti ban sakte hain uske baad hum duniya ki sabse badi aurat

आपका प्रश्न है क्या वाकई में तीन बार करना चाहता है कि हमारी नीतियां व्यापारी और अपनी ब्रेड

Romanized Version
Likes  240  Dislikes    views  1986
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Isu Vasava

PASTOR in CHURCH.

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिस तरह से दुनिया के सभी देशों में कोरोनावायरस बढ़ रहा है और चीन में कम हो रहा है उस कारण सीरियल देखा और सोचा जाता है कि शायद चीन दुनिया को बर्बाद करना चाहता है या नहीं कि अमेरिका दुनिया काम आ सकता है जो सबसे पावरफुल देश है वह अमेरिका पहले नंबर पर और चीन का साथ दूसरा नंबर है लेकिन चीन का शायद हो सकता है कि वह एक नंबर पर बन जाए अमेरिका को पछाड़ के इसलिए अगर आंकड़ों के हिसाब से देखें जो को कोरोनावायरस pkcs12 आज करीब साढे चार लाख से ज्यादा सिर्फ हमें भी काहे करे हैं और चीन के 80 हजार के करीब थे लेकिन वह आज बहुत खुश में 77000 यानी 7766 तो वापस रिकवर हो चुके हैं वह लोग अच्छे हो चुके हैं चाइना में और भारत में भी वहीं पर स्थिति होने वाले आज कोरोनावायरस बढ़ रहा है 6000 से ऊपर पहुंच चुका है तो ऐसे देखा जाए तो हो सकता है कि चीन भारत को दुनिया को पीछे करके आगे बढ़ना चाहता हूं

jis tarah se duniya ke sabhi deshon me coronavirus badh raha hai aur china me kam ho raha hai us karan serial dekha aur socha jata hai ki shayad china duniya ko barbad karna chahta hai ya nahi ki america duniya kaam aa sakta hai jo sabse powerful desh hai vaah america pehle number par aur china ka saath doosra number hai lekin china ka shayad ho sakta hai ki vaah ek number par ban jaaye america ko pachhaad ke isliye agar aankado ke hisab se dekhen jo ko coronavirus pkcs12 aaj kareeb sadhe char lakh se zyada sirf hamein bhi kaahe kare hain aur china ke 80 hazaar ke kareeb the lekin vaah aaj bahut khush me 77000 yani 7766 toh wapas recover ho chuke hain vaah log acche ho chuke hain china me aur bharat me bhi wahi par sthiti hone waale aaj coronavirus badh raha hai 6000 se upar pohch chuka hai toh aise dekha jaaye toh ho sakta hai ki china bharat ko duniya ko peeche karke aage badhana chahta hoon

जिस तरह से दुनिया के सभी देशों में कोरोनावायरस बढ़ रहा है और चीन में कम हो रहा है उस कारण

Romanized Version
Likes  179  Dislikes    views  2044
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका फेस नहीं क्या वाकई में चीन भारत को तबाह करना चाहता है का को बता जाएंगे लेकिन का तो पता नहीं अभी बाहर को दबा करना चाहता है नहीं लेकिन आज अमेरिका को जरूर उसकी टेडवा चल रही थी तो उनको जो सबक सिखाना चाहता था और फिलहाल अभी चीन इस स्थिति में है कि उसने पूरी दुनिया को घुटनों पर ला दिया है और चीन अपने आप पूरा से हो चुका है जो करुणा के पेशेंट थे वह काफी हद तक कंट्रोल हो चुके हैं बहुत दिक्कत दुख ही पेशेंट अब वहां पर आ रहे हैं तो अपने लेवल पर चीन में पूरी तैयारी कर ली है लेकिन वर्ल्ड इकोनामी इस समय नीचे जा रही है सिवाय एक कंट्री की उसका नाम है चाइना शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

aapka face nahi kya vaakai me china bharat ko tabah karna chahta hai ka ko bata jaenge lekin ka toh pata nahi abhi bahar ko daba karna chahta hai nahi lekin aaj america ko zaroor uski tedva chal rahi thi toh unko jo sabak sikhaana chahta tha aur filhal abhi china is sthiti me hai ki usne puri duniya ko ghutno par la diya hai aur china apne aap pura se ho chuka hai jo corona ke patient the vaah kaafi had tak control ho chuke hain bahut dikkat dukh hi patient ab wahan par aa rahe hain toh apne level par china me puri taiyari kar li hai lekin world economy is samay niche ja rahi hai shivaay ek country ki uska naam hai china subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

आपका फेस नहीं क्या वाकई में चीन भारत को तबाह करना चाहता है का को बता जाएंगे लेकिन का तो पत

Romanized Version
Likes  527  Dislikes    views  5101
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या बात है मेरे चीन भारत को टावर करना चाहता है इसमें कोई दो चंदे नहीं है चीन केवल भारत को ही नहीं बल्कि उन शक्तियों को तबाह करना चाहता है जॉन शक्तियों ने चीन को उसके प्रोडक्शन में उसके एक्सपोर्ट इंपोर्ट में नुकसान पहुंचाया पिछले दो-तीन वर्षों में चीन के साथ कई देशों ने इस तरह की कारनामे किए थे और अब लगता है कि इस वायरस के माध्यम से 8 शिक्षकों को खराब करने पर उतारू हैं और भारत की अर्थव्यवस्था तबाह हो गई है दवा करना चाहता है एक अलग है लेकिन वास्तव में भारतीय अर्थव्यवस्था पहले आर्थिक मंदी से और आप कह कोरेना बारिश ने उसको जमीनी समाधि है

kya baat hai mere china bharat ko tower karna chahta hai isme koi do chande nahi hai china keval bharat ko hi nahi balki un shaktiyon ko tabah karna chahta hai john shaktiyon ne china ko uske production me uske export import me nuksan pahunchaya pichle do teen varshon me china ke saath kai deshon ne is tarah ki kaarname kiye the aur ab lagta hai ki is virus ke madhyam se 8 shikshakon ko kharab karne par utaru hain aur bharat ki arthavyavastha tabah ho gayi hai dawa karna chahta hai ek alag hai lekin vaastav me bharatiya arthavyavastha pehle aarthik mandi se aur aap keh korena barish ne usko zameeni samadhi hai

क्या बात है मेरे चीन भारत को टावर करना चाहता है इसमें कोई दो चंदे नहीं है चीन केवल भारत को

Romanized Version
Likes  215  Dislikes    views  6018
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या वाकई में चीन भारत को तबाह करना चाहता है जब से भारत आजाद हुआ उसके बाद से चीन के बाद भारत की आबादी सबसे ज्यादा रही है दूसरे नंबर की आबादी पूरे विश्व में भारत और भारत की मार्केट भी बहुत ही बड़ी जाने की कौन सी उमर मार्केट भारत की जो सकती है वह वर्क फोर्स को इन तबाह करना चाहता है 1962 के पहले काफी उसने दोस्ती का हाथ बढ़ा कर और युद्ध किया और नेहरू जी धोखा खा गए चीनी हिंदी भाई भाई चीनी हिंदी बाय बाय कर के और उन्होंने नेता बॉर्डर पर हमला कर दिया था और हालांकि उसने भारत की हार हुई थी और तब से चीन अपने आप को बहुत ताकतवर बनाता गया जब अटल बिहारी वाजपेई के समय से राजीव गांधी के समय से अटल बिहारी वाजपेई के पहले राजीव गांधी के समय से उनकी तरफ नेता दो वहां पर जाने लगे राजीव गांधी जी वहां पर पहली बार गए थे तब से जो नेताओं के बीच में बातचीत शुरू हुई थी उसके पहले बिल्कुल ब्लैकआउट था चीन और भारत के बीच में कोई भी तरह के रिश्ते नहीं से बातचीत के भी रिश्ते नहीं थे लेकिन चीन की मंशा जो 1962 से पहले थी आज भी वही है इनकी विस्तार वादी नीति को पहले से उसके जो भी नेता पर हैं वह उनके बीच ही वही रहती है कैसे अपने आप विस्तार को बढ़ाओ अरुणाचल प्रदेश के ऊपर दावा करो कि अक्षय चीन के ऊपर दवा करो या किसी भी प्रदेश को हथियार और वहां पर विस्तार अपना कर लेना वहीं चीन की नीति है अब आधुनिक समय में बम भोलेनाथ का वायरस फेंक रहा है और भारत को तबाह करना चाहता है विश्व को तबाह करना चाहता है उसकी मंशा सिर्फ एक ही है उसे विश्व का विश्व की महाशक्ति बनना है और इस अंधी दौड़ में हो यह भी सोच रहा कि जब मानव जाति खत्म हो जाएगी तो अपना माल बेचेगा किसको यह उसकी समझ के ऊपर सोच जरूरी है इसलिए यह कहना बिल्कुल सही होगा कि चीन भारत और भारत के साथ पूरे जीरो और शक्ति को तबाह करना चाहता है धन्यवाद

kya vaakai me china bharat ko tabah karna chahta hai jab se bharat azad hua uske baad se china ke baad bharat ki aabadi sabse zyada rahi hai dusre number ki aabadi poore vishwa me bharat aur bharat ki market bhi bahut hi badi jaane ki kaun si umar market bharat ki jo sakti hai vaah work force ko in tabah karna chahta hai 1962 ke pehle kaafi usne dosti ka hath badha kar aur yudh kiya aur nehru ji dhokha kha gaye chini hindi bhai bhai chini hindi bye bye kar ke aur unhone neta border par hamla kar diya tha aur halaki usne bharat ki haar hui thi aur tab se china apne aap ko bahut takatwar banata gaya jab atal bihari vajpayee ke samay se rajeev gandhi ke samay se atal bihari vajpayee ke pehle rajeev gandhi ke samay se unki taraf neta do wahan par jaane lage rajeev gandhi ji wahan par pehli baar gaye the tab se jo netaon ke beech me batchit shuru hui thi uske pehle bilkul blackout tha china aur bharat ke beech me koi bhi tarah ke rishte nahi se batchit ke bhi rishte nahi the lekin china ki mansha jo 1962 se pehle thi aaj bhi wahi hai inki vistaar wadi niti ko pehle se uske jo bhi neta par hain vaah unke beech hi wahi rehti hai kaise apne aap vistaar ko badhao arunachal pradesh ke upar daawa karo ki akshay china ke upar dawa karo ya kisi bhi pradesh ko hathiyar aur wahan par vistaar apna kar lena wahi china ki niti hai ab aadhunik samay me bomb bholenaath ka virus fenk raha hai aur bharat ko tabah karna chahta hai vishwa ko tabah karna chahta hai uski mansha sirf ek hi hai use vishwa ka vishwa ki mahashakti banna hai aur is andhi daudh me ho yah bhi soch raha ki jab manav jati khatam ho jayegi toh apna maal bechega kisko yah uski samajh ke upar soch zaroori hai isliye yah kehna bilkul sahi hoga ki china bharat aur bharat ke saath poore zero aur shakti ko tabah karna chahta hai dhanyavad

क्या वाकई में चीन भारत को तबाह करना चाहता है जब से भारत आजाद हुआ उसके बाद से चीन के बाद भ

Romanized Version
Likes  232  Dislikes    views  5100
WhatsApp_icon
user

Pandit Prem

शायर, पुस्तक संपादक

2:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों चीन भारत को ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को तबाह करना चाहता है चीन पूरे वर्ल्ड की सुपर पावर बनना चाहता है और इसमें उसको काफी हद तक कामयाबी भी मिली है कोरोनावायरस दरअसल उसी का छोड़ा हुआ है और चीन में देख लीजिए आप आज की डेट में सारी व्यापारिक संस्थाएं चल रही है सब कुछ उसका खराब तौर पर चल रहा है और उसने को रोना भी बहुत जल्दी अपने ओसियां लीक हो गया था गलती से तो जल्दी काबू भी पा लिया लेकिन पूरा वर्ड आज परेशान है और चीन उसका फायदा उठाकर मास का सैनिटाइजर का और दवाओं का व्यापार की खूब धड़ल्ले से कर रहा है चीन ने अभी हाल में कहा है कि उसे यह मौका नोट था अपने जैसा इसका मतलब आप समझ सकते हैं कि पूरी दुनिया की नंबर एक ताक़त बनना चाहता है सुपर पॉवर बनना चाहता और दुनिया बनाना चाहता है उसे कई बार प्रदेश है आप उत्तर कोरिया को ले लीजिए और भी दो-चार देश उसके हैं उनमें को रोना नहीं है बड़ी हैरत की बात है तो चीन जो है पूरे वर्ल्ड की सुपर पावर बनना चाहता है ऐसे में अगर चीन पर काबू पाना है तो भारत ही पा सकता है लेकिन भारत में निगम में और नाकारा लोग बैठे हुए हैं दोस्त लोग बैठे हुए हैं जो अपने देश का ही अहित कर रहे हैं देशद्रोही है इनको हटा कर फेंकना चाहिए यहां की जनता को और यहां पर अच्छे लोगों को लाना चाहिए अच्छे प्रधानमंत्री को चुनना चाहिए हमें बहुत सारे चेहरे अच्छे हैं और केजरीवाल उद्धव ठाकरे और झारखंड के जो मुख्यमंत्री अभी हाल में बने हैं तो इस तरह के लोगों को आगे लाना चाहिए ममता बनर्जी टाइप की है मायावती टाइप की लेडीस भी हैं जो तानाशाही शासन जनता के हित में जनता के हित करके नहीं यह तानाशाह जनता का हित करके है और वह तानाशाह बनेगी जनता का हित करके देश का हित करके तो ऐसे लोगों को भारत में लाने चाकी उद्योग और बहुत सारी चीजों को मजबूत किया जाए और चीन को हराया जा सके चीन को दबाया जा सके अन्यथा की निरंकुश हो जाएगा शत प्रतिशत सही है और इससे भारत ही निपट सकता है अगर भारत अभी भी चाहें तो अपने अंदर की हालत सुधार कर अपनी आर्थिक व्यवस्था मजबूत करके अपने यहां का इस पर टेक्चर सही करके अपने यहां के लोगों को मजबूत बनाकर टीम को हरा सकता है धन्यवाद

namaskar doston china bharat ko hi nahi balki puri duniya ko tabah karna chahta hai china poore world ki super power banna chahta hai aur isme usko kaafi had tak kamyabi bhi mili hai coronavirus darasal usi ka choda hua hai aur china me dekh lijiye aap aaj ki date me saari vyaparik sansthayen chal rahi hai sab kuch uska kharab taur par chal raha hai aur usne ko rona bhi bahut jaldi apne osiyan leak ho gaya tha galti se toh jaldi kabu bhi paa liya lekin pura word aaj pareshan hai aur china uska fayda uthaakar mass ka sainitaijar ka aur dawaon ka vyapar ki khoob dhadalle se kar raha hai china ne abhi haal me kaha hai ki use yah mauka note tha apne jaisa iska matlab aap samajh sakte hain ki puri duniya ki number ek takat banna chahta hai super power banna chahta aur duniya banana chahta hai use kai baar pradesh hai aap uttar korea ko le lijiye aur bhi do char desh uske hain unmen ko rona nahi hai badi hairat ki baat hai toh china jo hai poore world ki super power banna chahta hai aise me agar china par kabu paana hai toh bharat hi paa sakta hai lekin bharat me nigam me aur naakaaraa log baithe hue hain dost log baithe hue hain jo apne desh ka hi ahit kar rahe hain deshdrohi hai inko hata kar phenkana chahiye yahan ki janta ko aur yahan par acche logo ko lana chahiye acche pradhanmantri ko chunana chahiye hamein bahut saare chehre acche hain aur kejriwal uddhav thakare aur jharkhand ke jo mukhyamantri abhi haal me bane hain toh is tarah ke logo ko aage lana chahiye mamata banerjee type ki hai mayawati type ki ladies bhi hain jo tanashahi shasan janta ke hit me janta ke hit karke nahi yah tanashah janta ka hit karke hai aur vaah tanashah banegi janta ka hit karke desh ka hit karke toh aise logo ko bharat me lane chaki udyog aur bahut saari chijon ko majboot kiya jaaye aur china ko haraya ja sake china ko dabaya ja sake anyatha ki nirankush ho jaega shat pratishat sahi hai aur isse bharat hi nipat sakta hai agar bharat abhi bhi chahain toh apne andar ki halat sudhaar kar apni aarthik vyavastha majboot karke apne yahan ka is par tekchar sahi karke apne yahan ke logo ko majboot banakar team ko hara sakta hai dhanyavad

नमस्कार दोस्तों चीन भारत को ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को तबाह करना चाहता है चीन पूरे वर्ल्

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  3682
WhatsApp_icon
play
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या वाकई चीन भारत को तबाह करना चाहता है चीन का भारत निश्चित रूप से प्रतिद्वंदी है पर कोई भी अपने प्रतिद्वंदी को तबाह नहीं करना चाहता हूं सर को झुकाना चाहता है कि यही चाहता कि भारत मेरे सामने झुका रहे मुझ से नीचे रहे और मेरे हिसाब से चलता रहे इनकी सिर्फ सिर्फ यही एक सोच है कि भारत मेरे सामने झुक कर रहे मेरे हिसाब से चलता रहे और मुझे हर चीज में सपोर्ट करता रहे

kya vaakai china bharat ko tabah karna chahta hai china ka bharat nishchit roop se pratidwandi hai par koi bhi apne pratidwandi ko tabah nahi karna chahta hoon sir ko jhukana chahta hai ki yahi chahta ki bharat mere saamne jhuka rahe mujhse se niche rahe aur mere hisab se chalta rahe inki sirf sirf yahi ek soch hai ki bharat mere saamne jhuk kar rahe mere hisab se chalta rahe aur mujhe har cheez me support karta rahe

क्या वाकई चीन भारत को तबाह करना चाहता है चीन का भारत निश्चित रूप से प्रतिद्वंदी है पर कोई

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1486
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

2:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम राम जी आपका प्रश्न क्या वाकई मितवा करना चाहता है तो मैं आपको बताना चाहूंगा लेकिन भारत का स्वाभाविक है चीन ने 1962 में भारत पर आक्रमण किया और आक्रमण किसने किया जब हिंदी चीनी भाई-भाई का नारा जोर से बुलंद हो रहा था तब भारत पर चीन ने हमला किया और 1962 के बाद चीन ने कभी कोई ऐसा रुख नहीं दिखाया भारत की प्रति क्यों भारत से मित्रता चाहता है बल्कि हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी ने चीन से संबंध सुधारने की कोशिश की तो उसी समय सीमाओं पर ही है ना छुट्टी होती भारत की सीमा पर और सीमा विवाद को लेकर चीनी सैनिक अंदर गुस्सा क्यों करती सबसे बड़ी बात तो यह है कि चीन भारत का दुश्मन नंबर एक पाकिस्तान जो है उसका परम मित्र है और पाकिस्तान को और आतंकवादियों को पाकिस्तान के आतंकवादियों को अंतर्राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उनको पोस्ट करता है कि चीन ने कोई ऐसा काम नहीं किया कि भारत की उसकी मित्रता जवाबी मित्रता की हल्की-हल्की और किंतु भारत देश में नंबर 13 तो मैं समझता हूं चीन ने जो कोरोना वायरस का संक्रमण से लाया है तो चीन केवल भारत को ही नहीं बल्कि मैं समझता हूं तो बात करना चाहता है और विश्व को दबाकर उसमें दो लाख से अधिक लोग मर चुके हैं जिनमें करो ना कर संक्रमण फैला कर अपने को तो सेव कर लिया इनमें तो पुराना को समाप्त हो चुका है लेकिन विश्व जो है इसको रोना नहीं सच्चाई को हजम नहीं कर पा रहा है दूध में मर गए हैं और कम से कम दो चार लाख और मरने वाली है और विश्व के 195 देश को रोना के कारण रो रहे

ram ram ji aapka prashna kya vaakai mitwa karna chahta hai toh main aapko batana chahunga lekin bharat ka swabhavik hai china ne 1962 me bharat par aakraman kiya aur aakraman kisne kiya jab hindi chini bhai bhai ka naara jor se buland ho raha tha tab bharat par china ne hamla kiya aur 1962 ke baad china ne kabhi koi aisa rukh nahi dikhaya bharat ki prati kyon bharat se mitrata chahta hai balki hamare pradhanmantri modi ji ne china se sambandh sudhaarne ki koshish ki toh usi samay seemaon par hi hai na chhutti hoti bharat ki seema par aur seema vivaad ko lekar chini sainik andar gussa kyon karti sabse badi baat toh yah hai ki china bharat ka dushman number ek pakistan jo hai uska param mitra hai aur pakistan ko aur aatankwadion ko pakistan ke aatankwadion ko antarrashtriya antarrashtriya manch par unko post karta hai ki china ne koi aisa kaam nahi kiya ki bharat ki uski mitrata javaabi mitrata ki halki halki aur kintu bharat desh me number 13 toh main samajhata hoon china ne jo corona virus ka sankraman se laya hai toh china keval bharat ko hi nahi balki main samajhata hoon toh baat karna chahta hai aur vishwa ko dabakar usme do lakh se adhik log mar chuke hain jinmein karo na kar sankraman faila kar apne ko toh save kar liya inmein toh purana ko samapt ho chuka hai lekin vishwa jo hai isko rona nahi sacchai ko hajam nahi kar paa raha hai doodh me mar gaye hain aur kam se kam do char lakh aur marne wali hai aur vishwa ke 195 desh ko rona ke karan ro rahe

राम राम जी आपका प्रश्न क्या वाकई मितवा करना चाहता है तो मैं आपको बताना चाहूंगा लेकिन भारत

Romanized Version
Likes  381  Dislikes    views  4903
WhatsApp_icon
user

Ramphal

Student

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शायद हो सकता है चीन ने भारत को तबाह करना चाहता है कि क्योंकि चीन के बाद भारत का है वस्तु में दूसरा स्थान आता है अनाज उपयोग बाजनी में भी भारत और चीन के बाद द्वितीय स्थान आता है हर क्षेत्र में चीन के बाद भारत का ही दूसरा स्थान आता है अगर चीन और भारत और एशिया के चीन और भारत एक हो जाए तो यह सबसे बड़ी महा की सबसे बड़ी महाशक्ति अंबानी जाएंगे चीन और भारत के प्राचीन समय से ही भाई भाई भाई किनारे रहे हैं भाई बहन के नारे चीनी भारतीय भाई-बहन के नारे रहे थे लेकिन कुछ रिश्ते में खटास आने के कारण चीन की चीन और भारत के रिश्तों में खटास आ गई जिसके कारण इनमें भारत को अपना विरोधी मानता मानता है जनसंख्या के क्षेत्र में भारत का स्थान दूसरा दूसरा आता है 3:00 के बाद हर क्षेत्र में भारत का स्थान भारत का स्थान दूसरा आता है इस प्रकार कहा जा सकता है कि जिन भारत को तबाह करना चाहता है और चीन पाकिस्तान का भी सहयोग दे रहा है

shayad ho sakta hai china ne bharat ko tabah karna chahta hai ki kyonki china ke baad bharat ka hai vastu me doosra sthan aata hai anaaj upyog bajni me bhi bharat aur china ke baad dwitiya sthan aata hai har kshetra me china ke baad bharat ka hi doosra sthan aata hai agar china aur bharat aur asia ke china aur bharat ek ho jaaye toh yah sabse badi maha ki sabse badi mahashakti ambani jaenge china aur bharat ke prachin samay se hi bhai bhai bhai kinare rahe hain bhai behen ke nare chini bharatiya bhai behen ke nare rahe the lekin kuch rishte me khatas aane ke karan china ki china aur bharat ke rishton me khatas aa gayi jiske karan inmein bharat ko apna virodhi maanta maanta hai jansankhya ke kshetra me bharat ka sthan doosra doosra aata hai 3 00 ke baad har kshetra me bharat ka sthan bharat ka sthan doosra aata hai is prakar kaha ja sakta hai ki jin bharat ko tabah karna chahta hai aur china pakistan ka bhi sahyog de raha hai

शायद हो सकता है चीन ने भारत को तबाह करना चाहता है कि क्योंकि चीन के बाद भारत का है वस्तु म

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
user

Shrawan Singh

Politician

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसी अटकलें लगाई जाती है चीन क्या भारत को तबाह करना चाहता है देखिए जो समीकरण सामरिक दृष्टिकोण होता है ना तो इससे क्या होता है कि हम एक दूसरे के ऊपर अटैक करने के लिए नहीं जो भी हथियार बना रहे हैं जो भी विकास कर रहे हैं वो थोड़ा सा खेलने का प्रयास करते हैं वह देखिए भारत के अलावा भारत के पूर्वोत्तर में स्थित वियतनाम चीनी ताइपे हांगकांग के बगल में जो करता है यह वियतनाम यह बलमा दोस्ती बढ़ाना है उधर चाइना चीन की सामरिक दृष्टिकोण को मजबूत करना है ताकि यानी कि हम कहां पर हैं ताकि कभी भी युद्ध जैसी स्थिति हो तो क्रिश्चियन कैसे निपटें अभी चाइना गेट चाइना पाकिस्तान की दोस्ती जगजाहिर है और इधर यानी की पूरी तरीके से इधर मैत्रीपूर्ण संबंध चाहता है चाइना इसलिए चाहता पटक कर सके और रही बात भारत की तो भारत भी उसका जवाब देने के लिए पूर्वोत्तर देशों में पूरी तरीके से अपनी रिपोर्ट संबंध स्थापित करना लगा था

aisi atakalein lagayi jaati hai china kya bharat ko tabah karna chahta hai dekhiye jo samikaran samarik drishtikon hota hai na toh isse kya hota hai ki hum ek dusre ke upar attack karne ke liye nahi jo bhi hathiyar bana rahe hain jo bhi vikas kar rahe hain vo thoda sa khelne ka prayas karte hain vaah dekhiye bharat ke alava bharat ke purvottar me sthit vietnam chini taipe hongkong ke bagal me jo karta hai yah vietnam yah balma dosti badhana hai udhar china china ki samarik drishtikon ko majboot karna hai taki yani ki hum kaha par hain taki kabhi bhi yudh jaisi sthiti ho toh Christian kaise nipate abhi china gate china pakistan ki dosti jagajahir hai aur idhar yani ki puri tarike se idhar maitripurn sambandh chahta hai china isliye chahta patak kar sake aur rahi baat bharat ki toh bharat bhi uska jawab dene ke liye purvottar deshon me puri tarike se apni report sambandh sthapit karna laga tha

ऐसी अटकलें लगाई जाती है चीन क्या भारत को तबाह करना चाहता है देखिए जो समीकरण सामरिक दृष्टिक

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!