बढ़ती महंगाई पर मां बेटे का संवाद?...


user

Pradeep Solanki

Corporate Yoga Consultant

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटा जा महाजन की दुकान से 1 किलो गीले और ऐसे रखे हैं टेबल पर और जो पैसे बच जाए उसमें से आते हुए कुछ सब्जी ले लो प्याज ले आना 2 किलो और कुछ और सब्जी ले आना जी हां ले आऊंगा अरे मां की तो सिर्फ ₹300 हैं ₹300 में तो वह भी नहीं आएगा क्या भी नहीं आएगा क्यों नहीं आएगा श्रीमान जी ₹500 किलो हो गया है आजकल ₹500 किलो अरे हमारे जमाने में तो ₹5 का 1 शेर भी मिलता था अरे मां अभी आप का जमाना नहीं है अब यह हमारा जमाना है इसमें ₹500 किलो मिलता है और यही प्याज की बात तो प्याज कौन से सस्ता है वह भी सो रुपए किलो मिलता सो रुपए किलो बेटा सो रुपए किलो कोई जरूरत नहीं है प्यार ना लेगी मैं बिना प्याज की भी काम चला लूंगी मैं बिना का सब्जी बना सके टमाटर डालूंगी तो 2 किलो टमाटर ले लो टमाटर कौन सा सस्ता है टमाटर भी ₹50 किलो हे भगवान क्या हो गया है इस जमाने को टमाटर जैसी चीज ₹50 किलो कोई खरीद ता भी नहीं था यह क्या ₹2 में क्या हो गया है इस पूरी दुनिया को सब कुछ इतना महंगा क्यों हो गया है मां लोगों की तनख्वाह भी बढ़ी है पहले बापू जी की तनखा सिर्फ ₹300 हुआ करती थी हां और उस दिन शुरू पर मेरे सारे भाई बहनों को पढ़ाया लिखाया इंजीनियर बनाया सब कुछ बनाया देखो और आजकल तुम्हारी 30000 उसने भी गुजारा नहीं होता हां माह क्या करें मैं भाई बहुत बढ़ गया चल बेटा आधा किलो गीले और जो कुछ बच्चे उसका एक काम कर एक पाव प्याज लिया और आधा किलो टमाटर

beta ja mahajan ki dukaan se 1 kilo gile aur aise rakhe hain table par aur jo paise bach jaaye usme se aate hue kuch sabzi le lo pyaaz le aana 2 kilo aur kuch aur sabzi le aana ji haan le aaunga are maa ki toh sirf Rs hain Rs me toh vaah bhi nahi aayega kya bhi nahi aayega kyon nahi aayega shriman ji Rs kilo ho gaya hai aajkal Rs kilo are hamare jamane me toh Rs ka 1 sher bhi milta tha are maa abhi aap ka jamana nahi hai ab yah hamara jamana hai isme Rs kilo milta hai aur yahi pyaaz ki baat toh pyaaz kaun se sasta hai vaah bhi so rupaye kilo milta so rupaye kilo beta so rupaye kilo koi zarurat nahi hai pyar na legi main bina pyaaz ki bhi kaam chala lungi main bina ka sabzi bana sake tamatar dalungi toh 2 kilo tamatar le lo tamatar kaun sa sasta hai tamatar bhi Rs kilo hai bhagwan kya ho gaya hai is jamane ko tamatar jaisi cheez Rs kilo koi kharid ta bhi nahi tha yah kya Rs me kya ho gaya hai is puri duniya ko sab kuch itna mehnga kyon ho gaya hai maa logo ki tankhvaah bhi badhi hai pehle bapu ji ki tankha sirf Rs hua karti thi haan aur us din shuru par mere saare bhai bahnon ko padhaya likhaya engineer banaya sab kuch banaya dekho aur aajkal tumhari 30000 usne bhi gujara nahi hota haan mah kya kare main bhai bahut badh gaya chal beta aadha kilo gile aur jo kuch bacche uska ek kaam kar ek paav pyaaz liya aur aadha kilo tamatar

बेटा जा महाजन की दुकान से 1 किलो गीले और ऐसे रखे हैं टेबल पर और जो पैसे बच जाए उसमें से आत

Romanized Version
Likes  116  Dislikes    views  2645
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!