मैं दिल्ली में एक प्राइवेट कंपनी में काम करता हूं, मेरी सैलरी नहीं आ रही, क्या मैं कंपनी पर कोई केस कर सकता हूं?...


play
user

fighter

Counselor & Coach

4:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं दिल्ली में एक प्राइवेट कंपनी में काम करता हूं मेरी सैलरी नहीं आ रही क्या मैं कंपनी पर कोई केस कर सकता हूं दो तीन बातें हैं जरा समझने की कोशिश करिए इस समय लिक्विड करो ना कि चक्कर में बहुत ही छोटी कंपनियां तनखा नहीं दे पा रही है उनके पास पैसे नहीं तो खा लेंगे अभी मतलब अभी तक ऑफ डाउन है लोगों से पहले की बात कर रहा हूं वह तो सर अभी भी बड़ी गाड़ी में घूम रहा था ठीक है ना अभी भी उसका लाइफ क्या सोचा ही नहीं हो तो सर कभी ना कभी तो उसको भी पैसे मिले होंगे कहीं ना कहीं से कंपनी के प्रॉफिट हो गया बोल ना सो गया कुछ भी हो गया तो उसने बचाए हुए होंगे ऊपर जाकर कंपनी का मालिक है तो उसको ज्यादा ही मिलते होंगे अभी आप क्या करें आपको पैसे देने के चक्कर में वह अपना लाइफ से चेंज कर ले अगर कंपनी का पैसा कराना आपके साथ वह कंपनी ने उसको दिया कि आपको आज तक पूछा कि आपने कितनी बची है कमाल है पीके दूसरा छोटी कंपनी 99% इतना पैसा नहीं दे रही है ठीक है ना 31 मार्च तक दे दिया उन्होंने उसके बाद मैंने भी सुना है बहुत कम भी नहीं करते समाज को भी नहीं तो करो ना का चक्कर है कोई कुछ नहीं कर सकती पूरी उम्मीद है आगे जाकर देंगे कर देंगे जरूर देंगे क्योंकि लोगों ने कंपनियां बंद करनी है 2 महीने तक रहेगा ऊपर नीचे होगा अब दूसरी बात करते हैं बिल्कुल लेबर कमिश्नर के पास आप अरबी लेकर जा सकते हैं इकट्ठे जा सकते हैं जिनकी जो जो पीड़ित हैं और अलग-अलग जा सकते हैं और यह सुनवाई के लिए मांग कर सकते हैं इस समय वह सुनवाई दिल्ली में तो खासकर क्योंकि दिल्ली में कुछ साल पहले लेबर डिपार्टमेंट में कुछ साल से लेबर डिपार्टमेंट में योगिनी बड़े तो उनके पास इतना लोड है इतना लोड है मैं आपको क्या बताऊं तो बहुत कम समय और खासकर को वेट करो ना के चक्कर में बहुत कम सुनवाई हो रही है क्या अभी आप की ले ली ले ली जाएगी बाद में कभी देखेंगे अगर उन्होंने केस कर भी दिया किसी कंपनी और कंपनी ने पैसे नहीं देख लो अब खुद ठीक है तो फिर कोई कुछ नहीं कर सकता याद रखें इसमें बहुत से लोग हैं अपना-अपना उनका राय है तो मैं नहीं कह रहा मैं सही हूं मैं नहीं कह रहा कि वह लोग गलत है ठीक है इसमें दो राय हो सकती है तो मैं नहीं कराना से बहुत से लोग यह कहते हैं अगर अकेले जाती है आप कंप्लेंट करते हैं और आपके जो कंपनी वाले हैं वह आपको अच्छी नजर से नहीं देख सके उन्होंने हमारे खिलाफ कम पर दूसरा जवाब कुछ और लेने जाते हैं उनको मालूम पड़ता है तो वह कहते हैं यह तो ट्रबल नहीं करें यह तो जो है हमारे को कहीं ना कहीं फंसा देगा तुझ को छोड़ दो अब बहुत से लोग इस बात को मगर मैंने जो भी कहा है वह नहीं मानते मैं भी उनके साथ इसका मतलब तो हमको एक ही ना करें कि ठीक है ना नहीं ऐसी बात नहीं है यह जो मैंने कहा उसने भी थोड़ा और दम है तो सोच समझ कर लेगा जो भी करिएगा बेस्ट तो यह होगा किसी वकील को पकड़िए और अपनी कंपनी के बीच 25 लोगों को पकड़ी अकेले मत करिए और वह सब मिलकर जाएं मदद यह सिर्फ अपनी तसल्ली के लिए कर रहे हैं इसकी वजह से आपको पैसा नहीं मिलेगा पैसा तो आपको जब यह करो ना करो ना सब चला जाएगा और पटरी पर आएगी वापस अर्थशास्त्र इकोनामी बिजनेस व्यापार कब जाकर होगा ठीक है चलिए बेस्ट ऑफ लक

main delhi me ek private company me kaam karta hoon meri salary nahi aa rahi kya main company par koi case kar sakta hoon do teen batein hain zara samjhne ki koshish kariye is samay liquid karo na ki chakkar me bahut hi choti companiya tankha nahi de paa rahi hai unke paas paise nahi toh kha lenge abhi matlab abhi tak of down hai logo se pehle ki baat kar raha hoon vaah toh sir abhi bhi badi gaadi me ghum raha tha theek hai na abhi bhi uska life kya socha hi nahi ho toh sir kabhi na kabhi toh usko bhi paise mile honge kahin na kahin se company ke profit ho gaya bol na so gaya kuch bhi ho gaya toh usne bachaye hue honge upar jaakar company ka malik hai toh usko zyada hi milte honge abhi aap kya kare aapko paise dene ke chakkar me vaah apna life se change kar le agar company ka paisa krana aapke saath vaah company ne usko diya ki aapko aaj tak poocha ki aapne kitni bachi hai kamaal hai pk doosra choti company 99 itna paisa nahi de rahi hai theek hai na 31 march tak de diya unhone uske baad maine bhi suna hai bahut kam bhi nahi karte samaj ko bhi nahi toh karo na ka chakkar hai koi kuch nahi kar sakti puri ummid hai aage jaakar denge kar denge zaroor denge kyonki logo ne companiya band karni hai 2 mahine tak rahega upar niche hoga ab dusri baat karte hain bilkul labour commissioner ke paas aap rb lekar ja sakte hain ikatthe ja sakte hain jinki jo jo peedit hain aur alag alag ja sakte hain aur yah sunvai ke liye maang kar sakte hain is samay vaah sunvai delhi me toh khaskar kyonki delhi me kuch saal pehle labour department me kuch saal se labour department me yogini bade toh unke paas itna load hai itna load hai main aapko kya bataun toh bahut kam samay aur khaskar ko wait karo na ke chakkar me bahut kam sunvai ho rahi hai kya abhi aap ki le li le li jayegi baad me kabhi dekhenge agar unhone case kar bhi diya kisi company aur company ne paise nahi dekh lo ab khud theek hai toh phir koi kuch nahi kar sakta yaad rakhen isme bahut se log hain apna apna unka rai hai toh main nahi keh raha main sahi hoon main nahi keh raha ki vaah log galat hai theek hai isme do rai ho sakti hai toh main nahi krana se bahut se log yah kehte hain agar akele jaati hai aap complaint karte hain aur aapke jo company waale hain vaah aapko achi nazar se nahi dekh sake unhone hamare khilaf kam par doosra jawab kuch aur lene jaate hain unko maloom padta hai toh vaah kehte hain yah toh trouble nahi kare yah toh jo hai hamare ko kahin na kahin fansa dega tujhe ko chhod do ab bahut se log is baat ko magar maine jo bhi kaha hai vaah nahi maante main bhi unke saath iska matlab toh hamko ek hi na kare ki theek hai na nahi aisi baat nahi hai yah jo maine kaha usne bhi thoda aur dum hai toh soch samajh kar lega jo bhi kariega best toh yah hoga kisi vakil ko pakdiye aur apni company ke beech 25 logo ko pakadi akele mat kariye aur vaah sab milkar jayen madad yah sirf apni tasalli ke liye kar rahe hain iski wajah se aapko paisa nahi milega paisa toh aapko jab yah karo na karo na sab chala jaega aur patri par aayegi wapas arthashastra economy business vyapar kab jaakar hoga theek hai chaliye best of luck

मैं दिल्ली में एक प्राइवेट कंपनी में काम करता हूं मेरी सैलरी नहीं आ रही क्या मैं कंपनी पर

Romanized Version
Likes  665  Dislikes    views  4658
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!