पूर्ण मोक्ष कैसे होगा?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब हम काम क्रोध लोभ मोह मकसद सब कुछ त्याग देते हैं ईश्वर में लीन हो जाते हैं हमें अगर कुछ मिल जाता है तो खाते नहीं मिलता तो हमें किसी चीज की अभिलाषा नहीं है जितना है हमारे पास उसी में हम खुश हैं समाज की सेवा करें जब तक जीवन है इस पर लगाएं ईश्वर की आराधना करें आत्म चिंतन करें आत्ममंथन करें और प्राणायाम करें मेडिटेशन करें इसके साथ सब करने के बाद शरीर को अपने इतना हल्का करने आप की अध्यात्म से बिल्कुल एकदम उसका जोड़ा हो रहे जब किसी चीज की आकांक्षा नहीं होगी आपको तो आप एक संत बन जाएंगे और संत जब आप बन जाएंगे तो आपका आपका मोक्ष होना अवश्यंभावी है मोक्ष का मतलब इस संसार में आवागमन की प्रक्रिया से मुक्त हो जाना कहते हैं जीवन मरण के बंधन से मुक्त होने की प्रक्रिया को मुक्त कहते हैं और जो मैंने आपको बताया ओम त्र्यंबकम यजामहे सुगंधिम इस मंत्र का जाप कीजिए कम से कम पांच माला 10 माला विरोध कीजिए ईश्वर चाहेगा तो अब जन्म मरण के बंधन से मुक्त हो जाएंगे अपनी आवश्यकताओं को सीमित रखिए संतोषी विचार रखे शिकार बनाए रखिए संसार की सेवा कीजिए माता पिता की सेवा कीजिए और कभी किसी का बुरा मत चाहिए किसी से कोई गिर सा देश के लिए दोनों समान है दोनों को समान दृष्टि से देखिए कभी किसी का के साथ अन्याय नगरिया ना होने दीजिए आपको मोक्ष का एक साधन है

jab hum kaam krodh lobh moh maksad sab kuch tyag dete hain ishwar me Lean ho jaate hain hamein agar kuch mil jata hai toh khate nahi milta toh hamein kisi cheez ki abhilasha nahi hai jitna hai hamare paas usi me hum khush hain samaj ki seva kare jab tak jeevan hai is par lagaye ishwar ki aradhana kare aatm chintan kare atmamanthan kare aur pranayaam kare meditation kare iske saath sab karne ke baad sharir ko apne itna halka karne aap ki adhyaatm se bilkul ekdam uska joda ho rahe jab kisi cheez ki aakansha nahi hogi aapko toh aap ek sant ban jaenge aur sant jab aap ban jaenge toh aapka aapka moksha hona awasyambhavi hai moksha ka matlab is sansar me aavagaman ki prakriya se mukt ho jana kehte hain jeevan maran ke bandhan se mukt hone ki prakriya ko mukt kehte hain aur jo maine aapko bataya om tryambakam yajamahe sugandhim is mantra ka jaap kijiye kam se kam paanch mala 10 mala virodh kijiye ishwar chahega toh ab janam maran ke bandhan se mukt ho jaenge apni avashayaktaon ko simit rakhiye santosh vichar rakhe shikaar banaye rakhiye sansar ki seva kijiye mata pita ki seva kijiye aur kabhi kisi ka bura mat chahiye kisi se koi gir sa desh ke liye dono saman hai dono ko saman drishti se dekhiye kabhi kisi ka ke saath anyay nagaria na hone dijiye aapko moksha ka ek sadhan hai

जब हम काम क्रोध लोभ मोह मकसद सब कुछ त्याग देते हैं ईश्वर में लीन हो जाते हैं हमें अगर कुछ

Romanized Version
Likes  179  Dislikes    views  1991
KooApp_icon
WhatsApp_icon
23 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!