मानव शरीर और उसके कामकाज पर आयुर्वेद का दृष्टिकोण क्या है?...


user

Arjun Vaidya

CEO of Dr Vaidya’s

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद का मानना है कि हमारे शरीर में पांच तत्व है पृथ्वी वायु जल अग्नि और आकाश और हर ह्यूमन बॉडी बनी रहे हैं और दूसरों की दोसा बनते हैं कि शरीर के सभी कार्यों के कारण है इसके शरीर को धारण करने वाले शब्द धातु है मांस मेद अस्थि मजा और शुक्र शरीफ तीन माला दोबारा मुद्रा पुलिस के द्वारा बाहर निकलता है अपने संतुलित अवस्था अवस्था में होते हैं तो शरीर की सभी फंक्शन के चलते हैं

ayurveda ka manana hai ki hamare sharir me paanch tatva hai prithvi vayu jal agni aur akash aur har human body bani rahe hain aur dusro ki dosa bante hain ki sharir ke sabhi karyo ke karan hai iske sharir ko dharan karne waale shabd dhatu hai maas med asthi maza aur shukra sharif teen mala dobara mudra police ke dwara bahar nikalta hai apne santulit avastha avastha me hote hain toh sharir ki sabhi function ke chalte hain

आयुर्वेद का मानना है कि हमारे शरीर में पांच तत्व है पृथ्वी वायु जल अग्नि और आकाश और हर ह्य

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  361
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!