शिक्षा हमारे परिवार को किस प्रकार सुशोभित करता है?...


play
user

Dr Yogi Ravi

Certified Yoga Expert | Naturopathic Consultant | Health Blogger

0:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शिक्षा जीवन का अनिवार्य अंग है शिक्षित इंसान ही समाज को एक शब्द है इंसान के रूप में डालता है सामान्यतया शिक्षा का लेना देना किसी इंसान के अच्छे और बुरे से इतना ज्यादा नहीं है लेकिन फिर भी एक शिक्षित इंसान किसी समाज की शोभा होता है उसे उस समाज के तौर-तरीके जीने का तरीका सब कुछ बेहतर तरीके से आप आता है अशिक्षा कभी-कभी भावनात्मक रूप से अगर कहे तो उसे अलग कर दें तो मानसिक और बौद्धिक विकास पुराना हो पाने के कारण इस बात की चुनौती रहती है अशिक्षित इंसान जीवन को उतना बेहतर नहीं दे पाता जितना एक शिक्षित शिक्षा कुल मिलाकर के जीवन को एक आधार देती है कि आप कैसे जिएंगे इतना अच्छा जीवन जीने वाले हैं या कितना बुरा जीवन जीने वाले हैं शिक्षा इन सब के लिए कब सर

shiksha jeevan ka anivarya ang hai shikshit insaan hi samaj ko ek shabd hai insaan ke roop me dalta hai samanyataya shiksha ka lena dena kisi insaan ke acche aur bure se itna zyada nahi hai lekin phir bhi ek shikshit insaan kisi samaj ki shobha hota hai use us samaj ke taur tarike jeene ka tarika sab kuch behtar tarike se aap aata hai asiksha kabhi kabhi bhavnatmak roop se agar kahe toh use alag kar de toh mansik aur baudhik vikas purana ho paane ke karan is baat ki chunauti rehti hai ashikshit insaan jeevan ko utana behtar nahi de pata jitna ek shikshit shiksha kul milakar ke jeevan ko ek aadhar deti hai ki aap kaise jeeenge itna accha jeevan jeene waale hain ya kitna bura jeevan jeene waale hain shiksha in sab ke liye kab sir

शिक्षा जीवन का अनिवार्य अंग है शिक्षित इंसान ही समाज को एक शब्द है इंसान के रूप में डालता

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
3:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है शिक्षा हमारे परिवार को किस प्रकार सुशोभित करते हैं लिखिए शिक्षा शिक्षा पर शक्कर जन्मसिद्ध अधिकार है और सभी को शिक्षा ग्रहण करना चाहिए कि बहुत आवश्यक है सभी के लिए क्योंकि आकर आप तो इस सब का परिवार को भी आप कर सकते हैं हमको प्रश्नों का उत्तर दे सकते हैं और आप उनको अपना विचार व्यक्ति के बारे में बता सकते हैं मुझे भी कोई काम करने से पहले वह सोचेंगे आरोपित होंगे तो कोई भी काम करने से पहले उसने किया सही है गलत है तो सही गलत के खेत को पता करने के लिए शिक्षा बहुत आवश्यक है दो चार आदमी खाना चाहिए कि आपके लिए भी लाभदायक है या पेपरव्हाइट अगर आपसे भी खाएं तो बहुत सारी कठिनाइयों से हम पर आ सकते हैं हम कोई भी ना करते हैं तुम्हें बहुत सहायता मिलती है अगर हम शिक्षित हैं पर लिखा है तो माननीय पर लिख नहीं है तो आपको बहुत जगह परेशानियां होती है कोई चीज नहीं लिखना हो कि आप कुछ आपको पढ़ना हो जो जरूरी है तो आपको किसी और से करना पड़ता है लेकिन आप स्वयं सिद्ध होते हैं तो आप स्वयं कर लेते हैं इसलिए आपके परिवार के लिए भी आवश्यक और आपके लिए भी आवश्यक है शिक्षित हर व्यक्ति होना चाहिए कभी हमें पता चल सके कि हमारा अधिकार क्या है हमारी जो हम करते हैं क्या सही है क्या गलत है उसका भी तुमको पता चलता है हमारे साथ सही हो रहा है गलत हो रहा है वो हमें पता चलता है उच्च शिक्षा के द्वारा पता चलता है तो आपको क्या अधिकार है जाने के लिए आप कोशिश अति आवश्यक है कि जरूरी है जिसे आप शिक्षा पता चलेगा हमें संविधान है संविधान के अनुसार हमारे अधिकार मिल जाएगा के अधिकार में

namaskar aapka sawaal hai shiksha hamare parivar ko kis prakar sushobhit karte hain likhiye shiksha shiksha par shakkar janmsiddh adhikaar hai aur sabhi ko shiksha grahan karna chahiye ki bahut aavashyak hai sabhi ke liye kyonki aakar aap toh is sab ka parivar ko bhi aap kar sakte hain hamko prashnon ka uttar de sakte hain aur aap unko apna vichar vyakti ke bare me bata sakte hain mujhe bhi koi kaam karne se pehle vaah sochenge aropit honge toh koi bhi kaam karne se pehle usne kiya sahi hai galat hai toh sahi galat ke khet ko pata karne ke liye shiksha bahut aavashyak hai do char aadmi khana chahiye ki aapke liye bhi labhdayak hai ya peparavait agar aapse bhi khayen toh bahut saari kathinaiyon se hum par aa sakte hain hum koi bhi na karte hain tumhe bahut sahayta milti hai agar hum shikshit hain par likha hai toh mananiya par likh nahi hai toh aapko bahut jagah pareshaniya hoti hai koi cheez nahi likhna ho ki aap kuch aapko padhna ho jo zaroori hai toh aapko kisi aur se karna padta hai lekin aap swayam siddh hote hain toh aap swayam kar lete hain isliye aapke parivar ke liye bhi aavashyak aur aapke liye bhi aavashyak hai shikshit har vyakti hona chahiye kabhi hamein pata chal sake ki hamara adhikaar kya hai hamari jo hum karte hain kya sahi hai kya galat hai uska bhi tumko pata chalta hai hamare saath sahi ho raha hai galat ho raha hai vo hamein pata chalta hai ucch shiksha ke dwara pata chalta hai toh aapko kya adhikaar hai jaane ke liye aap koshish ati aavashyak hai ki zaroori hai jise aap shiksha pata chalega hamein samvidhan hai samvidhan ke anusaar hamare adhikaar mil jaega ke adhikaar me

नमस्कार आपका सवाल है शिक्षा हमारे परिवार को किस प्रकार सुशोभित करते हैं लिखिए शिक्षा शिक्ष

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  336
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!