नमस्कार मैं आप सभी से पूछना चाहती हूँ कि योग साधना क्या होती है?...


user

Yogacharya Aaditya

Yoga Instructor

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग साधना को सबसे आसान तरीके सीरियल समझना चाहते हैं तो योग में मुख्य रुप से सर्व काली की योग जितने भी अभी तक योगाभ्यास के क्रम बताए जाते हैं या जितने भी प्रारूप है हमारे सामने उसमें सभी को समाहित कर लिया जाए तो यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान और समाधि यह आठ अंग होते हैं जिन जिन का वर्णन महर्षि पतंजलि ने किया है तो सभी लोग इसी के बारे में कुछ ना कुछ बदल फेरबदल करके बता रहे हैं हमसे हमारे विचारों में पवित्रता आती है विचारों में शुद्धता आती है नियम से हमारे शरीर में शुद्ध ताकि हमारा शरीर शुद्ध हो जाता है आसन से हमारा शरीर ताकतवर हो जाता है मजबूत होता है प्राणायाम से हमारा मन मजबूत हो जाता है इसी तरह से आगे बढ़ते हुए हमारा मन एकाग्र हो जाता है बाहरी रूप से एकाग्र हो जाता है बाहर किसी वस्तु पर एकाग्रता आ जाती है फिर धारणा से हमारा वह एकाग्रता अंतर्मुखी हो जाती है फिर उस अंतर्मुखी एकाग्रता को लंबे समय तक टिकाए रखने का नाम ध्यान है और उस ज्ञान को लंबे समय तक अभ्यास में रखना उस अवस्था को समाधि कहते हैं तो यह कुल मिलाकर के योग साधना होती है यह पूरा के पैकेज में ने बताया 8 अंगों का स्कोर कुल मिलाकर के योग साधना का नाम दिया गया है आप इसमें से थोड़ा भी अभ्यास कर पाए तो आपको बहुत अच्छा फील होगा

yog sadhna ko sabse aasaan tarike serial samajhna chahte hain toh yog me mukhya roop se surv kali ki yog jitne bhi abhi tak yogabhayas ke kram bataye jaate hain ya jitne bhi prarup hai hamare saamne usme sabhi ko samahit kar liya jaaye toh yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan aur samadhi yah aath ang hote hain jin jin ka varnan maharshi patanjali ne kiya hai toh sabhi log isi ke bare me kuch na kuch badal ferabadal karke bata rahe hain humse hamare vicharon me pavitrata aati hai vicharon me shuddhta aati hai niyam se hamare sharir me shudh taki hamara sharir shudh ho jata hai aasan se hamara sharir takatwar ho jata hai majboot hota hai pranayaam se hamara man majboot ho jata hai isi tarah se aage badhte hue hamara man ekagra ho jata hai bahri roop se ekagra ho jata hai bahar kisi vastu par ekagrata aa jaati hai phir dharana se hamara vaah ekagrata antarmukhi ho jaati hai phir us antarmukhi ekagrata ko lambe samay tak tikaye rakhne ka naam dhyan hai aur us gyaan ko lambe samay tak abhyas me rakhna us avastha ko samadhi kehte hain toh yah kul milakar ke yog sadhna hoti hai yah pura ke package me ne bataya 8 angon ka score kul milakar ke yog sadhna ka naam diya gaya hai aap isme se thoda bhi abhyas kar paye toh aapko bahut accha feel hoga

योग साधना को सबसे आसान तरीके सीरियल समझना चाहते हैं तो योग में मुख्य रुप से सर्व काली की य

Romanized Version
Likes  298  Dislikes    views  3841
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!