भारत की शिक्षा जो अंग्रेजों द्वारा बनाई गई थी, वह शिक्षा हमें क्यों दिलाई जाती है, जिससे सिर्फ नौकर बनना ही होता है, मालिक बनने का कोई हक़ नहीं है?...


play
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

0:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाभारत की शिक्षा जो अंग्रेजों द्वारा बनाई गई थी वह शिक्षा हमें क्यों जलाई जाती है जिससे सिर्फ नौकर बनना ही होता है मालिक पर ने कहा कि हमारी शिक्षा प्रणाली है वह प्राचीन अंग्रेजो के द्वारा तय की गई शिक्षा प्रणाली ही है परंतु हमारे देश में कई बदलाव हुए हैं और वर्तमान में भी कई प्रकार की एजुकेशन पॉलिसी और नए नियमों में बदलाव किए जा रहे हैं अभी पूरी तरह से को शिक्षा नहीं है जो अंग्रेजों के समय दी जाती थी पर आप फिर भी अभी कमियां हैं हमारी शिक्षा प्रणाली में उसे सुधार की जरूरत है और सरकार उस पर प्रयास कर रही है क्योंकि जब तक हम इस एजुकेशन प्रणाली को प्रॉपर तरीके से एप्टिट्यूड और एटीट्यूड के साथ नहीं जुड़ेंगे तब तक लोगों का विकास करना संभव नहीं है तो धीरे-धीरे बदलाव आ रहे हैं पहले से काफी बदली है यह प्रणाली और शायद अब आगे और ज्यादा हमें चांद देखने को मिले अब पूरी तरह से है वैसी नहीं है जैसे अंग्रेजो के समय में हुआ करती थी पर हां कमियां अभी भी हैं

mahabharat ki shiksha jo angrejo dwara banai gayi thi vaah shiksha hamein kyon jalai jaati hai jisse sirf naukar banna hi hota hai malik par ne kaha ki hamari shiksha pranali hai vaah prachin angrejo ke dwara tay ki gayi shiksha pranali hi hai parantu hamare desh me kai badlav hue hain aur vartaman me bhi kai prakar ki education policy aur naye niyamon me badlav kiye ja rahe hain abhi puri tarah se ko shiksha nahi hai jo angrejo ke samay di jaati thi par aap phir bhi abhi kamiyan hain hamari shiksha pranali me use sudhaar ki zarurat hai aur sarkar us par prayas kar rahi hai kyonki jab tak hum is education pranali ko proper tarike se eptityud aur attitude ke saath nahi judenge tab tak logo ka vikas karna sambhav nahi hai toh dhire dhire badlav aa rahe hain pehle se kaafi badli hai yah pranali aur shayad ab aage aur zyada hamein chand dekhne ko mile ab puri tarah se hai vaisi nahi hai jaise angrejo ke samay me hua karti thi par haan kamiyan abhi bhi hain

महाभारत की शिक्षा जो अंग्रेजों द्वारा बनाई गई थी वह शिक्षा हमें क्यों जलाई जाती है जिससे स

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  1710
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Beer Singh Rajput

Career Counsellor & Lecturer.

4:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की शिक्षा द्वारा बनाई गई चीजें बताइए जिससे सिर्फ नौकर बनना है देखिए मां काली ने उस समय अपने साथ सरकार की आयोग बने हैं अब तो सच हर साल हर साल में शिक्षा स्तर में बदलाव होता है अभी तक बच्चों के लिए पास कर दिया जाए इस वर्ष बोर्ड परीक्षा का आने का विचार आया था लेकिन उसने भी लेकिन अब परंतु आया है ncf-2005 नेशनल करिकुलम फ्रेमवर्क 2010 अब सीरियसली बात कर देंगे वही एनसीआरटी बुक्स लेकिन वर्तमान में अभी भी प्राकृतिक इस तरफ से हमारे गांव में जो बच्चों का बॉस के गति से आगे बढ़ रहा है जिसके पीछे प्रतिज्ञा नॉलेज प्रश्न हमारे शिक्षक अपडेट उपलब्ध है हम उम्मीद करते हैं बस में अवतार और सुधर जाएगा

bharat ki shiksha dwara banai gayi cheezen bataiye jisse sirf naukar banna hai dekhiye maa kali ne us samay apne saath sarkar ki aayog bane hain ab toh sach har saal har saal me shiksha sthar me badlav hota hai abhi tak baccho ke liye paas kar diya jaaye is varsh board pariksha ka aane ka vichar aaya tha lekin usne bhi lekin ab parantu aaya hai ncf 2005 national curriculum framework 2010 ab seriously baat kar denge wahi ncert books lekin vartaman me abhi bhi prakirtik is taraf se hamare gaon me jo baccho ka boss ke gati se aage badh raha hai jiske peeche pratigya knowledge prashna hamare shikshak update uplabdh hai hum ummid karte hain bus me avatar aur sudhar jaega

भारत की शिक्षा द्वारा बनाई गई चीजें बताइए जिससे सिर्फ नौकर बनना है देखिए मां काली ने उस सम

Romanized Version
Likes  159  Dislikes    views  1335
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!