क्या वास्तव में मोदी भरस्टाचार को खत्म करने के लिए गंभीर हैं?...


play
user

BRAHAM SINGH

Social Activist

0:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रोहिणी देश में भ्रष्टाचार मिटाने के लिए खड़ा जितने बड़े योद्धा हैं और जिन्होंने जो बिल्कुल जी जान से उतनी ही मजबूत है कि उन्होंने जिनकी रिपोर्ट ठीक नहीं थी ऐसा पहली बार हुआ जिसने सारी ऐसी चीजें जिलों में जो इन्होंने बहुत भारी एक वह उसका था तेरे न्यूट्री वाले वह अटैच कर दे देना बच्चे लेकर पेपर घूमते देखे हमारे को अटैच कर दो 11 साइन करके प्रधानमंत्री जन को खत्म किया कि खुद अपना सेल्फ अटेस्टेड करो आप तो मुझे हम तो पूरा भरोसा है कि प्रधानमंत्री जी भ्रष्टाचार से लड़ रहे हैं और मजबूत हैं प्रधानमंत्री शुरू कर भी देंगे

rohini desh mein bhrashtachar mitne ke liye khada jitne bade yodha hai aur jinhone jo bilkul ji jaan se utani hi majboot hai ki unhone jinki report theek nahi thi aisa pehli baar hua jisne saree aisi cheezen jilon mein jo inhone bahut bhari ek vaah uska tha tere nutri waale vaah attach kar de dena bacche lekar paper ghumte dekhe hamare ko attach kar do 11 sign karke pradhanmantri jan ko khatam kiya ki khud apna self attested karo aap toh mujhe hum toh pura bharosa hai ki pradhanmantri ji bhrashtachar se lad rahe hai aur majboot hai pradhanmantri shuru kar bhi denge

रोहिणी देश में भ्रष्टाचार मिटाने के लिए खड़ा जितने बड़े योद्धा हैं और जिन्होंने जो बिल्कुल

Romanized Version
Likes  149  Dislikes    views  2646
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sarup Singh

Journalist

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीजेपी की जो सरकार है जो दूसरी बार आई है उसको देखकर मोदी सरकार का जो भजन है वह मेरे हिसाब से मुझे लगता है कि यह बिल्कुल प्लेयर है और यह लोग जो है अगर बात करें तो थोड़ा मुश्किल है ओके करप्शन पर थोड़ा सा अंकुश लगाया जाए लेकिन अगर प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी की बात करते हैं तो मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरी तरीके से भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए जीएसटी हो जो भी कदम उठाए जा रहे हैं वह सारे भ्रष्टाचार रोकने के लिए उठाए जा रहे हैं लेकिन अगर हम पूरी सरकार की बात करें तो सरकार में कुछ ऐसे लोग हैं एक आम पब्लिक में जिनकी सभी और जो भ्रष्टाचार के नाम पर आक्रमण के नाम पर लोगों के मन में एक साथ सभी नहीं बता पा रहे हैं अगर सरकार की बात करें तो मोदी की रैली प्रधानमंत्री और बीजेपी सरकार यह 25% भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए काम कर रही है इंडियन नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री भ्रष्टाचार के खिलाफ है और वह भी इसी दिशा में काम कर रहे हैं

bjp ki jo sarkar hai jo dusri baar I hai usko dekhkar modi sarkar ka jo bhajan hai vaah mere hisab se mujhe lagta hai ki yah bilkul player hai aur yah log jo hai agar baat kare toh thoda mushkil hai ok corruption par thoda sa ankush lagaya jaaye lekin agar prime minister narendra modi ki baat karte hain toh mujhe lagta hai ki pradhanmantri narendra modi puri tarike se bhrashtachar ko mitne ke liye gst ho jo bhi kadam uthye ja rahe hain vaah saare bhrashtachar rokne ke liye uthye ja rahe hain lekin agar hum puri sarkar ki baat kare toh sarkar mein kuch aise log hain ek aam public mein jinki sabhi aur jo bhrashtachar ke naam par aakraman ke naam par logo ke man mein ek saath sabhi nahi bata paa rahe hain agar sarkar ki baat kare toh modi ki rally pradhanmantri aur bjp sarkar yah 25 bhrashtachar ko mitne ke liye kaam kar rahi hai indian narendra modi pradhanmantri bhrashtachar ke khilaf hai aur vaah bhi isi disha mein kaam kar rahe hain

बीजेपी की जो सरकार है जो दूसरी बार आई है उसको देखकर मोदी सरकार का जो भजन है वह मेरे हिसाब

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं लगता कि जब से मोदी जी प्रधानमंत्री बने हैं तब से उन्होंने करप्शन को खत्म करने के लिए कोई भी जरूरी प्रयास किया है क्योंकि उनके कार्यकाल में ही नीरो मोदी और विजय माल्या जैसे लोग बैंकिंग सिस्टम से हजारों करोड़ रुपए लोन के तौर पर लेकर विदेश फरार हो चुके हैं और इन घोटालेबाजों को मोदी जी अपने अंधाधुंध विदेशी दौरों के बावजूद भारत वापस नहीं ला पाए तो यह साफ दिखाता है कि भारत की विदेश नीति और आंतरिक नीति भ्रष्टाचार के मामले पर कितनी लचर है अगर मोदी जी भ्रष्टाचार को खत्म करने का प्रयास करते तो आज हमारे देश की रैंकिंग भ्रष्टाचार के मामले में और भी ज्यादा खराब नहीं होती जिससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की बदनामी हुई है तो मोदी जी की जो भी नीतियां है भारतीय जनता पार्टी की जो भी नीतियां हैं वह बिल्कुल भ्रष्टाचार और कालेधन के मामले में असफल साबित हुई है और भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय सरकार बस नारेबाजी या फिर ऐसे भाषणों में लगी है जहां पर वह खुद की पीठ थपथपाते रहते हैं और मोदी जी ने कहा था कि नोटबंदी का जो फैसला लिया गया वह एक साहसपूर्ण फैसला था लेकिन मैं बिल्कुल ऐसा नहीं मानता क्योंकि नोटबंदी से भी हमारे देश में भ्रष्टाचार पर लगाम नहीं लग पाई है

mujhe nahi lagta ki jab se modi ji pradhanmantri bane hain tab se unhone corruption ko khatam karne ke liye koi bhi zaroori prayas kiya hai kyonki unke karyakal mein hi nero modi aur vijay malya jaise log banking system se hazaro crore rupaye loan ke taur par lekar videsh farar ho chuke hain aur in ghotalebajon ko modi ji apne andhadhundh videshi dauron ke bawajud bharat wapas nahi la paye toh yah saaf dikhaata hai ki bharat ki videsh niti aur aantarik niti bhrashtachar ke mamle par kitni lachar hai agar modi ji bhrashtachar ko khatam karne ka prayas karte toh aaj hamare desh ki ranking bhrashtachar ke mamle mein aur bhi zyada kharab nahi hoti jisse antararashtriya sthar par bharat ki badnami hui hai toh modi ji ki jo bhi nitiyan hai bharatiya janta party ki jo bhi nitiyan hain vaah bilkul bhrashtachar aur kaaledhan ke mamle mein asafal saabit hui hai aur bharatiya janta party ki kendriya sarkar bus narebaazi ya phir aise bhashano mein lagi hai jaha par vaah khud ki peeth thapathapate rehte hain aur modi ji ne kaha tha ki notebandi ka jo faisla liya gaya vaah ek sahaspurn faisla tha lekin main bilkul aisa nahi manata kyonki notebandi se bhi hamare desh mein bhrashtachar par lagaam nahi lag payi hai

मुझे नहीं लगता कि जब से मोदी जी प्रधानमंत्री बने हैं तब से उन्होंने करप्शन को खत्म करने के

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिस तरह से मोदी जी ने नोटबंदी का कठोर फैसला लिया और उन्होंने कहा भी कि ना में भ्रष्टाचार होने नहीं दूंगा चाहे उसके लिए मुझे कोई सी भी कीमत क्यों नहीं चुकानी पड़े उन्हें पता था कि नोटबंदी का फैसला लेने के बाद अर्थव्यवस्था डामाडोल होगी देश की और जनता और विपक्ष दोनों की ओर से उन्हें कई सारे आरोप पर आक्षेप सहने पड़े लेकिन फिर भी उन्होंने भ्रष्टाचार को रोकने के लिए इस कठोर कदम को उठाया उससे यही लगता है कि वह चाहते हैं कि भ्रष्टाचार कम हो और जिस तरह से उनकी वर्किंग डेज में अपने कार्य करते हैं टाइम से ऑफिस जाना टाइम से सारे कार्य करना और जिस तरह से उनका पीएमओ चलता है सभी लोग टाइम से ऑफिस में पहुंच रहे हैं उसे लगता है कि वह हर लेवल पर भ्रष्टाचार को खत्म करना चाहते हैं उन्होंने अपनी तरफ से कोशिश की है कि वह भ्रष्टाचार को खत्म करे लेकिन इसकी जड़ें इतनी गहरी है कि जनता को सहयोग देना पड़ेगा अगर जनता और सरकार दोनों मिलकर इसके विरुद्ध लड़े तो हमारा देश इस समस्या का समाधान कर सकता है और इस समस्या से निजात पा सकता है लेकिन जनता और सरकार दोनों में समन्वय की दोनों पर एक दूसरे के विश्वास की और दोनों चाहे कि हां हमें यह समस्या खत्म करनी है दोनों एक दूसरे का साथ दे तो मुश्किल नहीं है समस्या से निजात पाना मोदी जी ने एक कदम अपनी तरफ से उठाया है और जनता भी चाहती है कि भ्रष्टाचार खत्म हो तो मुझे लगता है जरूर हम इतने सफल होंगे

jis tarah se modi ji ne notebandi ka kathor faisla liya aur unhone kaha bhi ki na mein bhrashtachar hone nahi dunga chahen uske liye mujhe koi si bhi kimat kyon nahi chukani pade unhe pata tha ki notebandi ka faisla lene ke baad arthavyavastha damadol hogi desh ki aur janta aur vipaksh dono ki aur se unhe kai saare aarop par akshep sahane pade lekin phir bhi unhone bhrashtachar ko rokne ke liye is kathor kadam ko uthaya usse yahi lagta hai ki vaah chahte hain ki bhrashtachar kam ho aur jis tarah se unki working days mein apne karya karte hain time se office jana time se saare karya karna aur jis tarah se unka pmo chalta hai sabhi log time se office mein pohch rahe hain use lagta hai ki vaah har level par bhrashtachar ko khatam karna chahte hain unhone apni taraf se koshish ki hai ki vaah bhrashtachar ko khatam kare lekin iski jaden itni gehri hai ki janta ko sahyog dena padega agar janta aur sarkar dono milkar iske viruddh lade toh hamara desh is samasya ka samadhan kar sakta hai aur is samasya se nijat paa sakta hai lekin janta aur sarkar dono mein samanvay ki dono par ek dusre ke vishwas ki aur dono chahen ki haan hamein yah samasya khatam karni hai dono ek dusre ka saath de toh mushkil nahi hai samasya se nijat paana modi ji ne ek kadam apni taraf se uthaya hai aur janta bhi chahti hai ki bhrashtachar khatam ho toh mujhe lagta hai zaroor hum itne safal honge

जिस तरह से मोदी जी ने नोटबंदी का कठोर फैसला लिया और उन्होंने कहा भी कि ना में भ्रष्टाचार ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  176
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सब के सब अपना-अपना ओपिनियन हो सकता है पॉलिटिकल पीने की क्या मोदी करप्शन खत्म करने में सीरियस है या नहीं लगी मेरे सबसे जो है नरेंद्र मोदी पर संकल्प करने में सीरियस है बिल्कुल नहीं तो अगर कोई भी इंसान के लिए सीरियस नहीं होगा तो वह इतना बड़ा कदम उठाएगा ही नहीं किसी से देश की इकोनॉमी इतनी चले जाएगा जैसे डिमोनेटाइजेशन तू मेरी सबसे बिल्कुल नरेंद्र मोदी उसके लिए सीरियस है वह करना चाहते हैं तभी उन्होंने ऐसा सख्त कदम उठाया

bilkul sab ke sab apna apna opinion ho sakta hai political peene ki kya modi corruption khatam karne mein serious hai ya nahi lagi mere sabse jo hai narendra modi par sankalp karne mein serious hai bilkul nahi toh agar koi bhi insaan ke liye serious nahi hoga toh vaah itna bada kadam uthayega hi nahi kisi se desh ki economy itni chale jaega jaise dimonetaijeshan tu meri sabse bilkul narendra modi uske liye serious hai vaah karna chahte hain tabhi unhone aisa sakht kadam uthaya

बिल्कुल सब के सब अपना-अपना ओपिनियन हो सकता है पॉलिटिकल पीने की क्या मोदी करप्शन खत्म करने

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  189
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!