दलित को मंदिर में जाने की इजाजत क्यों नहीं दी जाती?...


user

Mohammad Bilal

Accountant

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दलित को मंदिर में जाने की इजाजत क्यों नहीं दी जाती है तो देखिए दलित को इजाजत देने की बात ही नहीं है जहां तक हम जानते हैं वह भी तो इंसान है दलित है तो क्या उनका यह बहुत बड़ा उन्होंने जुर्म कर लिया है क्या कि दलित में पैदा हुआ हूं दलित परिवार में हूं दलित घर में हो तो मैं मुझे कहीं जब मंदिरों में जाने नहीं दिया जाएगा ऐसा नहीं है सब दलित या सभी इस तरह से जहां तक लोग सोचते हैं कि गंदगी साफ करते हैं झाड़ू लगाते पोछा लगाते हैं अस्पताल साफ करते हैं एक्टिंग साफ करते हैं एकदम खुली भाषा में बात कर रहे हैं यही लोग सोचते हैं इस वजह से मैं मंदिर में झांकी भगवान की मूर्तियां रखी होती हैं पूजा का स्थान है वह तो वहां उन लोगों का तो जो है कि वह अपवित्र हो जाएगा इस तरह से इस तरह से सोचते हैं देखिए वह भी तो नहा कर जाते होंगे वह भी मैं हर चीज का ध्यान रखते हैं तो इस तरह से उनको भी यह करने का हक है अधिकार है अगर वह चाहते हैं ऐसा करना है मंदिर जाना तो ऐसा भेदभाव नहीं करना चाहिए और यह तो मैं मानसिकता ऐसी बन गई है कि नहीं जाने देना है या उनको डरा धमका के रखते हैं ऐसा तो यह गलत बात है शुक्रिया

yah dalit ko mandir me jaane ki ijajat kyon nahi di jaati hai toh dekhiye dalit ko ijajat dene ki baat hi nahi hai jaha tak hum jante hain vaah bhi toh insaan hai dalit hai toh kya unka yah bahut bada unhone jurm kar liya hai kya ki dalit me paida hua hoon dalit parivar me hoon dalit ghar me ho toh main mujhe kahin jab mandiro me jaane nahi diya jaega aisa nahi hai sab dalit ya sabhi is tarah se jaha tak log sochte hain ki gandagi saaf karte hain jhadu lagate pocha lagate hain aspatal saaf karte hain acting saaf karte hain ekdam khuli bhasha me baat kar rahe hain yahi log sochte hain is wajah se main mandir me jhanki bhagwan ki murtiya rakhi hoti hain puja ka sthan hai vaah toh wahan un logo ka toh jo hai ki vaah apavitra ho jaega is tarah se is tarah se sochte hain dekhiye vaah bhi toh naha kar jaate honge vaah bhi main har cheez ka dhyan rakhte hain toh is tarah se unko bhi yah karne ka haq hai adhikaar hai agar vaah chahte hain aisa karna hai mandir jana toh aisa bhedbhav nahi karna chahiye aur yah toh main mansikta aisi ban gayi hai ki nahi jaane dena hai ya unko dara dhamka ke rakhte hain aisa toh yah galat baat hai shukriya

यह दलित को मंदिर में जाने की इजाजत क्यों नहीं दी जाती है तो देखिए दलित को इजाजत देने की बा

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1584
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!