मेडिटेशन करने पर किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?...


user

Luckypandey

Yoga Trainer

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करने के लिए आपको सबसे पहले जहां पर आप मेडिटेशन कर रहे हैं तो वहां का स्थान पवित्र होना चाहिए हवादार होना चाहिए आप अपने आप को परिपक्व बनाने के लिए आसन प्राणायाम पहले कर लें इसके बाद अभ्यास करें जिससे आपको अभ्यास में कोई बेटी थी उत्पन्न नैना हो थोड़ा सा हो सके तो त्राटक कर ले ध्यान ध्यान त्राटक या तो बिंदु त्राटक भी आप कर सकते थे बिंदु त्राटक आपके लिए अच्छा रहेगा तो यह भी आप कर सकते हैं और आपका जो स्थान हो बहुत पवित्र स्थान हो हवा से युक्त हो पानी से हो तो नदी के किनारे हो या अन्य कहीं स्थान पर हो तो और अच्छा माना जाता है लेकिन अगर हवादार है और वहां पर अन्यत्र बाहर के वातावरण प्रदूषित नहीं है अभी आपका बहुत अच्छा लाभ देगा आपको और अनन्य विचारों पर आपको हमेशा ध्यान में रखना चाहिए और आप खाली पेट ही थोड़ा बहुत भोजन करके कर सकते हैं लेकिन फुल पेट आप नहीं करेंगे ताकि आपको बैठने पर समस्या ना हो और हमेशा अगर आप प्यास करें तो प्रत्येक दिन आपको अगर आप तो 2 से 3 मिनट का ध्यान कर लेते हैं तो आपको बहुत लाभदायक और प्रभाव कारी यह अभ्यास होगा

meditation karne ke liye aapko sabse pehle jaha par aap meditation kar rahe hain toh wahan ka sthan pavitra hona chahiye havadar hona chahiye aap apne aap ko paripakva banane ke liye aasan pranayaam pehle kar le iske baad abhyas kare jisse aapko abhyas me koi beti thi utpann naina ho thoda sa ho sake toh tratak kar le dhyan dhyan tratak ya toh bindu tratak bhi aap kar sakte the bindu tratak aapke liye accha rahega toh yah bhi aap kar sakte hain aur aapka jo sthan ho bahut pavitra sthan ho hawa se yukt ho paani se ho toh nadi ke kinare ho ya anya kahin sthan par ho toh aur accha mana jata hai lekin agar havadar hai aur wahan par anyatra bahar ke vatavaran pradushit nahi hai abhi aapka bahut accha labh dega aapko aur anany vicharon par aapko hamesha dhyan me rakhna chahiye aur aap khaali pet hi thoda bahut bhojan karke kar sakte hain lekin full pet aap nahi karenge taki aapko baithne par samasya na ho aur hamesha agar aap pyaas kare toh pratyek din aapko agar aap toh 2 se 3 minute ka dhyan kar lete hain toh aapko bahut labhdayak aur prabhav kaari yah abhyas hoga

मेडिटेशन करने के लिए आपको सबसे पहले जहां पर आप मेडिटेशन कर रहे हैं तो वहां का स्थान पवित्र

Romanized Version
Likes  356  Dislikes    views  3617
WhatsApp_icon
25 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Yog Guru Amit Agrawal Rishiyog

Yoga Acupressure Expert

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका विष्णु मेडिटेशन करने पर किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए कि मेडिटेशन पर मैंने विस्तृत रूप से तीन वीडियो बनाई है उन तीनों वीडियोस को आप देखिए आपकी का को आपको काफी लाभ मिलेगा क्या क्या बात है महत्वपूर्ण है कि शासन में बैठना चाहिए किस रूप में किस तरह आप साकार रूप से निराकार रूप से मंत्र के माध्यम से स्वास्थ्य के माध्यम से किस-किस तरह ध्यान को कर सकते हैं इस पर विस्तृत रूप से वीडियो तैयार हैं आप मेरे प्रोफाइल में जाइए मेरे युटुब चैनल को योग गुरु अमित अग्रवाल ऋषि योग इसको आप यूट्यूब चैनल पर जाकर सब्सक्राइब करिए और वहां से ध्यान पर आप वीडियो देखें आपको काफी लाभ मिलेगा हरिओम

aapka vishnu meditation karne par kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye ki meditation par maine vistrit roop se teen video banai hai un tatvo videos ko aap dekhiye aapki ka ko aapko kaafi labh milega kya kya baat hai mahatvapurna hai ki shasan me baithana chahiye kis roop me kis tarah aap saakar roop se nirakaar roop se mantra ke madhyam se swasthya ke madhyam se kis kis tarah dhyan ko kar sakte hain is par vistrit roop se video taiyar hain aap mere profile me jaiye mere yutub channel ko yog guru amit agrawal rishi yog isko aap youtube channel par jaakar subscribe kariye aur wahan se dhyan par aap video dekhen aapko kaafi labh milega hariom

आपका विष्णु मेडिटेशन करने पर किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए कि मेडिटेशन पर मैंने विस्तृ

Romanized Version
Likes  490  Dislikes    views  2891
WhatsApp_icon
user

Suresh B. Patel

Yoga Instructor

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करने के लिए आपको एक शांत जगह या अलग से कमरा हो तो बहुत ही बढ़िया रहेगा और नीचे किसी कॉटन का कपड़ा या मैच उनका कपड़ा उनका असल में तो बहुत ही बढ़िया रहेगा उस पर बैठना चाहिए बैठते समय आपको सबसे पहले बिल्कुल शरीर को ढीला छोड़ ना है पद्मासन सोचती का आसन या अर्ध पद्मासन विकृत करके मेडिटेशन के लिए बैठना चाहिए शादी पार्टी मारकर बैठ सको तो शादी पार्टी मारकर लेकिन उससे ज्यादा बेहतर ही रहेगा कि आप पद्मासन करें या स्वस्तिका शंकर को सबसे ज्यादा बैटर दूसरा जब आप मेडिटेशन करना बैठे तो सबसे पहले आपको आपका पूरा कंसंट्रेशन सांस पर केंद्रित कर देना चाहिए सांस धीरे-धीरे सभी में आ रही है सांस रुक रही है शरीर के साथ निकल रही है विक्रय सांसो का ही सिर्फ अवलोकन करना चाहिए तो अपने आप आपका ध्यान सांस भी लगा रहेगा विचारों की आवन जान आपके मन के अंदर जो होती रहती हो बहुत ही कम हो जाएगी तीरे तीरे सबसे पहले अब यह साहब को यही करना है और यही मेडिटेशन का सबसे पहला बेसिक स्टेप है सांस की आवाज जाऊं तो देखो सांस के साथ एक रघु जाओ यही मेडिटेशन है और आपको इस बात का पूरा ध्यान रखना है कि विचारों में उन्हें जलाने की चासनी की दूसरी दूसरी में तीसरी चौथी पांचवी कहीं से कहीं पहुंच जाओ हम माने भटक जाएगा सांस पर से लेकिन वापस उसको सांस से पकड़ कर ले फिर भटक जाएगा 2 सेकेंड के अंदर तो दूसरी ओर चला जाएगा उसको ले आओ पहले अभी ऐसे ही करना है मेडिटेशन के अंदर उसके बाद मेडिटेशन की बात आएगी मैं उसके बाद मेरी जिंदगी है ठीक है ना

meditation karne ke liye aapko ek shaant jagah ya alag se kamra ho toh bahut hi badhiya rahega aur niche kisi cotton ka kapda ya match unka kapda unka asal me toh bahut hi badhiya rahega us par baithana chahiye baithate samay aapko sabse pehle bilkul sharir ko dheela chhod na hai padmasana sochti ka aasan ya ardh padmasana vikrit karke meditation ke liye baithana chahiye shaadi party marakar baith Sako toh shaadi party marakar lekin usse zyada behtar hi rahega ki aap padmasana kare ya swastika shankar ko sabse zyada better doosra jab aap meditation karna baithe toh sabse pehle aapko aapka pura kansantreshan saans par kendrit kar dena chahiye saans dhire dhire sabhi me aa rahi hai saans ruk rahi hai sharir ke saath nikal rahi hai vikray saanso ka hi sirf avalokan karna chahiye toh apne aap aapka dhyan saans bhi laga rahega vicharon ki avan jaan aapke man ke andar jo hoti rehti ho bahut hi kam ho jayegi tire tire sabse pehle ab yah saheb ko yahi karna hai aur yahi meditation ka sabse pehla basic step hai saans ki awaaz jaaun toh dekho saans ke saath ek raghu jao yahi meditation hai aur aapko is baat ka pura dhyan rakhna hai ki vicharon me unhe jalane ki chasni ki dusri dusri me teesri chauthi paanchvi kahin se kahin pohch jao hum maane bhatak jaega saans par se lekin wapas usko saans se pakad kar le phir bhatak jaega 2 second ke andar toh dusri aur chala jaega usko le aao pehle abhi aise hi karna hai meditation ke andar uske baad meditation ki baat aayegi main uske baad meri zindagi hai theek hai na

मेडिटेशन करने के लिए आपको एक शांत जगह या अलग से कमरा हो तो बहुत ही बढ़िया रहेगा और नीचे कि

Romanized Version
Likes  289  Dislikes    views  1706
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Aaditya

Yoga Instructor

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन अंग्रेजी में कहते हैं हिंदी में उसको ध्यान कहते हैं हमारे आपने देखा होगा कि जगह बच्चे को घर से बाहर भेजते हैं या वह जा रहा होता बाहर कुछ बोलते बोलते हैं बेटा ध्यान से जाना या पढ़ाई करता है तो सुनते हैं कि बेटा ध्यान से पढ़ना या जो भी काम करते हैं उसमें हम लगा दें ध्यान से करना मध्यान्ह का मतलब क्या है ध्यान का मतलब चलने की बात करते हैं तो ध्यान से चलना मुझको चलने पर ही ध्यान रखना पढ़ने का मतलब पड़ने पर ही ध्यान रखना तो ध्यान सिर्फ इतना ही है कि आप जहां हैं आप जहां भी हैं वहां 100% उपलब्ध हो मसीहा से ध्यान की शुरुआत होती है और जब 100% उपलब्ध होंगे तो आप मानसिक उन्नयन उसे यह मैं बहुत सरल भाषा में समझा रहा हूं राम समस्त जनों से चले जाएंगे आपके मानसिक उलझन समाप्त होती चली जाएंगी जब आप वर्तमान में जहां हैं वहीं पर होंगे यह ध्यान को इतनी कंप्लीटेड चिड़िया ऐसा विषय नहीं है कि साहब बहुत प्रयास करना पड़ेगा आलमबाग जांच करना पड़ेगा ऐसा कुछ भी नहीं आपने सिर्फ अपने मस्तिष्क को कि कचरे को साफ करना है ध्यान स्वता ही लग जाएगा तुझे अपने योगा शुरू करना है और धीरे-धीरे ध्यान की अवस्था प्राप्त हुई जाएगी

meditation angrezi me kehte hain hindi me usko dhyan kehte hain hamare aapne dekha hoga ki jagah bacche ko ghar se bahar bhejate hain ya vaah ja raha hota bahar kuch bolte bolte hain beta dhyan se jana ya padhai karta hai toh sunte hain ki beta dhyan se padhna ya jo bhi kaam karte hain usme hum laga de dhyan se karna madhyanh ka matlab kya hai dhyan ka matlab chalne ki baat karte hain toh dhyan se chalna mujhko chalne par hi dhyan rakhna padhne ka matlab padane par hi dhyan rakhna toh dhyan sirf itna hi hai ki aap jaha hain aap jaha bhi hain wahan 100 uplabdh ho masiha se dhyan ki shuruat hoti hai aur jab 100 uplabdh honge toh aap mansik unnayan use yah main bahut saral bhasha me samjha raha hoon ram samast jano se chale jaenge aapke mansik uljhan samapt hoti chali jayegi jab aap vartaman me jaha hain wahi par honge yah dhyan ko itni completed chidiya aisa vishay nahi hai ki saheb bahut prayas karna padega alamabag jaanch karna padega aisa kuch bhi nahi aapne sirf apne mastishk ko ki kachre ko saaf karna hai dhyan swata hi lag jaega tujhe apne yoga shuru karna hai aur dhire dhire dhyan ki avastha prapt hui jayegi

मेडिटेशन अंग्रेजी में कहते हैं हिंदी में उसको ध्यान कहते हैं हमारे आपने देखा होगा कि जगह ब

Romanized Version
Likes  273  Dislikes    views  1614
WhatsApp_icon
user

ashish yogi

Founder & Director - Meditation Magics

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्थान पवित्र होना चाहिए हवादार होना चाहिए व्यवस्थित आसन होना चाहिए किसी एक आसन में नियमित रूप से बैठने का अभ्यास होना चाहिए और शांत वातावरण में प्रसन्न भाव से ध्यान का अभ्यास करना चाहिए धन्यवाद

sthan pavitra hona chahiye havadar hona chahiye vyavasthit aasan hona chahiye kisi ek aasan me niyamit roop se baithne ka abhyas hona chahiye aur shaant vatavaran me prasann bhav se dhyan ka abhyas karna chahiye dhanyavad

स्थान पवित्र होना चाहिए हवादार होना चाहिए व्यवस्थित आसन होना चाहिए किसी एक आसन में नियमित

Romanized Version
Likes  100  Dislikes    views  2752
WhatsApp_icon
user

Pankaj Sharma

Yoga Instructor

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करने के लिए हमें निम्नलिखित बातों को बहुत ही अच्छी सी ध्यान देना है कि जब भी मेडिटेशन करें तो आपका चारों तरफ का वातावरण हो वह प्राकृतिक हरे भरे पेड़ पौधे और बालकनी जैसे घर में बालकनी हो खुला वातावरण हवा हवा का आदान-प्रदान होता हो और एक मैच में आप सुख पूर्वक आश्रम कोई भी पद्मासन सिद्धासन सुखासन कोई भी एक आसन लगाकर के कमर सीधा करके और ध्यान मुद्रा में तर्जनी उंगली और अंगूठे को जब ऊपरी सिरे को टच कर आएंगे तो उसको ध्यान रखते हैं कमर सीधा करके फस आंखें बंद कर धीमी धीमी सांसो पर पूरा ध्यान लगाएं और धीरे-धीरे आप सांसो पर ध्यान लगाने दे देंगे तो कुछ समय आपके विचार आएंगे और थोड़ी देर बाद वह भी चार समाप्त हो जाएंगी और आप सुख मेडिटेशन के शुभ को अनुभव करेंगे और हम उस में से लिप्त हो जाएंगी कि हमें बाहरी वातावरण से रिंकू दूरियां बन जाएंगे जिससे भी धीरे-धीरे आप ईश्वर को भी याद कर सकते हैं वैसे ही ध्यान किया जाता है

meditation karne ke liye hamein nimnlikhit baaton ko bahut hi achi si dhyan dena hai ki jab bhi meditation kare toh aapka charo taraf ka vatavaran ho vaah prakirtik hare bhare ped paudhe aur balakani jaise ghar me balakani ho khula vatavaran hawa hawa ka aadaan pradan hota ho aur ek match me aap sukh purvak ashram koi bhi padmasana siddhasan sukhasan koi bhi ek aasan lagakar ke kamar seedha karke aur dhyan mudra me tarjani ungli aur anguthe ko jab upari sire ko touch kar aayenge toh usko dhyan rakhte hain kamar seedha karke fas aankhen band kar dheemi dheemi saanso par pura dhyan lagaye aur dhire dhire aap saanso par dhyan lagane de denge toh kuch samay aapke vichar aayenge aur thodi der baad vaah bhi char samapt ho jayegi aur aap sukh meditation ke shubha ko anubhav karenge aur hum us me se lipt ho jayegi ki hamein bahri vatavaran se rinku duriyan ban jaenge jisse bhi dhire dhire aap ishwar ko bhi yaad kar sakte hain waise hi dhyan kiya jata hai

मेडिटेशन करने के लिए हमें निम्नलिखित बातों को बहुत ही अच्छी सी ध्यान देना है कि जब भी मेडि

Romanized Version
Likes  284  Dislikes    views  2251
WhatsApp_icon
user

Sadhak Anshit

Yoga Teacher

3:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है कि मेडिटेशन करते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए तो सर्वप्रथम मैं बता दूं ध्यान करना अर्थात मेडिटेशन करना केवल आंखें बंद कर लेने का नाम नहीं एकाग्र चित्त होना अपने आप में एक बड़ी साधना का नाम है मन को किसी बिंदु व्यक्ति या किसी वस्तु पर एकाग्र करना और उस में लीन हो जाना ही ध्यान है ईश्वर की उपासना का सर्वोच्च तरीका ध्यान माना गया है बाहें पूजा उपासना के प्रयोग के बाद जिस पद्धति से ईश्वर की उपलब्धि को सकती है एकमात्र पद्धति ध्यान है केवल आंखें बंद करना ही ध्यान नहीं है चक्रों पर ऊर्जा को संतुलित करना भी आवश्यक होता है ध्यान एक प्रक्रिया है जो कई चरणों के बाद प्राप्त हो पाती है इन कई चरणों में पहले के चक्रों को ठीक किया जाता है ध्यान की सिद्धि के बाद व्यक्ति अनंत सत्ता का अनुभव कर सकता है और इसी को समाधि कहा जाता है कमाल गुरु और आचार्य उन्हें ध्यान की अलग-अलग विधियां बताएं पर सब के उद्देश्य एक ही है ईश्वर की अनुभूति बस में ध्यान करते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि ध्यान करते समय हम जिस भी आसन पर बैठे आसन साफ सुथरा हो जिस जगह का चुनाव करें वह हवादार जगह हो और साथ ही साथ वहां पर साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा गया है ध्यान करने के मार्ग की अगर बात करें तो ध्यान करने का सर्वोत्तम मार्ग गौतम बुद्ध द्वारा बताया गया जिसे अष्टांग योग के माध्यम से पाया जा सकता था अष्टांग योग अर्थात यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान समाधि गौतम बुद्ध अष्टांग योग में ध्यान की जो विधि बताइए आनापान ध्यान सती योग बताया आनापान सती ध्यान की विधि मन को शांत करने का सबसे सरल माध्यम है इस ध्यान का अभ्यास बहुत सरल है कोई भी सीधे ही आना पान सती ध्यान का अभ्यास आरंभ कर सकता है इसमें केवल उससे अपने सामान्य स्वास्थ्य स्वास्थ्य के प्रति जगह सजग रहना है अर्थात अपनी आती और जाती हुई नेशनल बिल्डिंग को उसे वॉच करना है आरंभ में ध्यान कि किसी भी दिया को करते समय हमारा मन बार-बार भटकता है मगर उससे उत्तेजित ना हो और अपने मन को पुनः वहीं पर ले आए ऐसा बार-बार होगा मगर परेशान होने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है यही मनुष्य के मन का स्वभाव है धीरे-धीरे ही मन नियंत्रण में आता है इस ध्यान के माध्यम से आपके शरीर के असाध्य से असाध्य रोग भी ठीक हो जाते हैं और ध्यान की अन्य विधियों की अपेक्षा इसमें प्राणशक्ति सबसे शीघ्रता से बढ़ती है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai ki meditation karte samay kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye toh sarvapratham main bata doon dhyan karna arthat meditation karna keval aankhen band kar lene ka naam nahi ekagra chitt hona apne aap me ek badi sadhna ka naam hai man ko kisi bindu vyakti ya kisi vastu par ekagra karna aur us me Lean ho jana hi dhyan hai ishwar ki upasana ka sarvoch tarika dhyan mana gaya hai bahen puja upasana ke prayog ke baad jis paddhatee se ishwar ki upalabdhi ko sakti hai ekmatra paddhatee dhyan hai keval aankhen band karna hi dhyan nahi hai chakron par urja ko santulit karna bhi aavashyak hota hai dhyan ek prakriya hai jo kai charno ke baad prapt ho pati hai in kai charno me pehle ke chakron ko theek kiya jata hai dhyan ki siddhi ke baad vyakti anant satta ka anubhav kar sakta hai aur isi ko samadhi kaha jata hai kamaal guru aur aacharya unhe dhyan ki alag alag vidhiyan bataye par sab ke uddeshya ek hi hai ishwar ki anubhuti bus me dhyan karte samay kuch baaton ka vishesh dhyan rakhna chahiye ki dhyan karte samay hum jis bhi aasan par baithe aasan saaf suthara ho jis jagah ka chunav kare vaah havadar jagah ho aur saath hi saath wahan par saaf safaai ka vishesh dhyan rakha gaya hai dhyan karne ke marg ki agar baat kare toh dhyan karne ka sarvottam marg gautam buddha dwara bataya gaya jise ashtanga yog ke madhyam se paya ja sakta tha ashtanga yog arthat yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan samadhi gautam buddha ashtanga yog me dhyan ki jo vidhi bataiye anapan dhyan sati yog bataya anapan sati dhyan ki vidhi man ko shaant karne ka sabse saral madhyam hai is dhyan ka abhyas bahut saral hai koi bhi sidhe hi aana pan sati dhyan ka abhyas aarambh kar sakta hai isme keval usse apne samanya swasthya swasthya ke prati jagah sajag rehna hai arthat apni aati aur jaati hui national building ko use watch karna hai aarambh me dhyan ki kisi bhi diya ko karte samay hamara man baar baar bhatakta hai magar usse uttejit na ho aur apne man ko punh wahi par le aaye aisa baar baar hoga magar pareshan hone ki bilkul bhi zarurat nahi hai yahi manushya ke man ka swabhav hai dhire dhire hi man niyantran me aata hai is dhyan ke madhyam se aapke sharir ke asadhya se asadhya rog bhi theek ho jaate hain aur dhyan ki anya vidhiyon ki apeksha isme pranshakti sabse shighrata se badhti hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है कि मेडिटेशन करते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए तो सर्वप्रथम

Romanized Version
Likes  210  Dislikes    views  1885
WhatsApp_icon
user

Vikram Yog

Yoga Instructor

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हरिओम आपके सवाल मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए तो सर्वप्रथम तो मेडिटेशन करने के लिए हमको स्थान स्थान का विशेष ध्यान रखना चाहिए और दूसरा इष्ट देव का ध्यान मतलब आप को सर्वश्रेष्ठ स्थान का चयन करना चाहिए जहां पर आप शांतिपूर्वक बैठ सके और नित्य निरंतर अपने इष्टदेव का एकाग्र चित्त होकर ध्यान कर सके तो यह एक सहज अभ्यास है इसके पुरवा और ध्यान देने वाली जो इस ध्यान को संपूर्ण करता है मेडिटेशन को पूर्ण करता है उसके लिए अष्टांग योग की हम बात करें तो उसमें यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा इन छह अंग जो है उसे विशेष ध्यान देना चाहिए इसको करने के बाद यदि आप इसका सही पालन कर पाए सारी चीजों का तो आपका ध्यान खुद ही लग जाएगा आपको ध्यान लगाने की जरूरत नहीं होगी तो आप शुरुआत कीजिए हर एक अंगों को स्टेप वाइज कीजिए 11 का सीढ़ी चढ़ते जाइए जैसे हम पहली क्लास पढ़ने के बाद ही दूसरी में जाते हैं वैसे ही हम यम के बाद नियम नियम के बाद आसन आसन के बाद प्रणब ऐसे करते हुए बढ़ते हुए हमको चलना होगा तो हमको जैसे नदी में गोताखोर लगाता है परंतु धीरे-धीरे इतना एक्सपर्ट हो जाता है कि वह निरंतर उस धारा में बहते जातारा आगे बढ़ते जाता है वैसे हमको यम से शुरू करना चाहिए या आप चाहे तो अगर हठयोग की हम बात करें तो आप आसन से यात्रियों से शुरू कर सकते हैं जो आपके लिए सर्वश्रेष्ठ विधि है उसका पालन करते हो आप आगे बढ़िए निश्चित रूप से आप इन बातों का ध्यान रखते हुए इस ध्यान चाया मेडिटेशन सर्वश्रेष्ठ सैनिकों प्राप्त कर सकते हैं धन्यवाद

hariom aapke sawaal meditation karne par kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye toh sarvapratham toh meditation karne ke liye hamko sthan sthan ka vishesh dhyan rakhna chahiye aur doosra isht dev ka dhyan matlab aap ko sarvashreshtha sthan ka chayan karna chahiye jaha par aap shantipurvak baith sake aur nitya nirantar apne ishta dev ka ekagra chitt hokar dhyan kar sake toh yah ek sehaz abhyas hai iske purva aur dhyan dene wali jo is dhyan ko sampurna karta hai meditation ko purn karta hai uske liye ashtanga yog ki hum baat kare toh usme yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana in cheh ang jo hai use vishesh dhyan dena chahiye isko karne ke baad yadi aap iska sahi palan kar paye saari chijon ka toh aapka dhyan khud hi lag jaega aapko dhyan lagane ki zarurat nahi hogi toh aap shuruat kijiye har ek angon ko step wise kijiye 11 ka sidhi chadhte jaiye jaise hum pehli class padhne ke baad hi dusri me jaate hain waise hi hum yum ke baad niyam niyam ke baad aasan aasan ke baad pranab aise karte hue badhte hue hamko chalna hoga toh hamko jaise nadi me gotakhor lagaata hai parantu dhire dhire itna expert ho jata hai ki vaah nirantar us dhara me bahte jatara aage badhte jata hai waise hamko yum se shuru karna chahiye ya aap chahen toh agar hathyog ki hum baat kare toh aap aasan se yatriyon se shuru kar sakte hain jo aapke liye sarvashreshtha vidhi hai uska palan karte ho aap aage badhiye nishchit roop se aap in baaton ka dhyan rakhte hue is dhyan chaya meditation sarvashreshtha sainikon prapt kar sakte hain dhanyavad

हरिओम आपके सवाल मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए तो सर्वप्रथम तो मेडिटेश

Romanized Version
Likes  194  Dislikes    views  1455
WhatsApp_icon
user

Awanish Kumar

Yoga Instructor

2:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक के इंग्लिश में शब्द आता है और कीमोलिन मेडिटेशन में मेरी टेशन आपने पूछा नहीं बेटे शंकर ने पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए स्टेशन का मतलब ध्यान लिए ऐप्स के उत्तर कहते हैं कि हमने सिर्फ यह समझना कि ध्यान है क्या चीज और सच कहा जब ध्यान तू चीज नहीं है ध्यान ध्यान कैसे ध्यान है आप इसको थोड़ा सा शब्द का संधि विच्छेद करें तो इसमें दो शब्द आते हैं और यान यान मतलब होता है वाहन जलयान वायु यान यान यान बुद्धि बुद्धि बुद्धि बुद्धि के ऊपर लोड करें रखना ध्यान कहलाता है तो इसमें सबसे बड़ी चीजें यह है कि उसके लिए पहली चीज क्या है कि हमारी बुद्धि तिकड़म बाज नहीं होनी चाहिए तभी हमारे भीतर होनी चाहिए और और और और हमारा मन जब बुद्धि में तिकड़म होता है या फिर दुर्बुद्धि होती है किस प्रपंच होता है तो मन हमारा उसको जाता है तो फिर किसी का हमें चिंतन करना चाहिए इसी का हमें शेयर करना चाहिए कि हमारी बुद्धि शुद्धि रहो सद्बुद्धि हमारे जिक्र न हो और सच कहें तो जितने भी धर्म है सब की मूल का समय शताब्दी के लिए ही है जैसे हम बात करें क्रिश्चियनिटी का तो उसमें ओल्ड टेस्टामेंट में प्रार्थना किया जाता है कि वह लो डिलीवरी टावर ढकने समूह स्टूअटस राइटियस पथ पर हमें ले चलिए अब तो इस्लाम का देखिए ससुराल साथिया जो कुरान का फर्स्ट चैप्टर है उसमें साथ आजाद थे और साथ में छठे और सातवें आयात में यही कहा गया है कि हमें उस रास्ते पर चला हमें उस रास्ते पर बिल्कुल मत चला जिस पर तूने अपना कहर बरपाया है मतलब कि आप मुझे सही रास्ते पर चलाओ सही रास्ते सलामत ला हमारी बुद्धि को सही रास्ते पर ले चलो तो और भी वही जवाब हिंदूविजन की बात करें गायत्री मंत्र का भावार्थ यही है कि वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग की ओर प्रेरित करें तो हमें सिर्फ इस बात का ध्यान देना है कि हमारी बुद्धि स्वच्छ निर्मल कुमार के विपरीत होता है अनंत आकाश में अपने आप को वितरण करा सकते हैं और धीरे-धीरे अपने मूल लक्ष्य की ओर ले जा सकते हैं बस यही देखना है बुद्धि सहित धन्यवाद

ek ke english me shabd aata hai aur kimolin meditation me meri teshan aapne poocha nahi bete shankar ne pehle kin baaton ka dhyan rakhna chahiye station ka matlab dhyan liye apps ke uttar kehte hain ki humne sirf yah samajhna ki dhyan hai kya cheez aur sach kaha jab dhyan tu cheez nahi hai dhyan dhyan kaise dhyan hai aap isko thoda sa shabd ka sandhi vichched kare toh isme do shabd aate hain aur yaan yaan matlab hota hai vaahan jalyan vayu yaan yaan yaan buddhi buddhi buddhi buddhi ke upar load kare rakhna dhyan kehlata hai toh isme sabse badi cheezen yah hai ki uske liye pehli cheez kya hai ki hamari buddhi tikadam baaj nahi honi chahiye tabhi hamare bheetar honi chahiye aur aur aur aur hamara man jab buddhi me tikadam hota hai ya phir durbuddhi hoti hai kis PRAPANCH hota hai toh man hamara usko jata hai toh phir kisi ka hamein chintan karna chahiye isi ka hamein share karna chahiye ki hamari buddhi shudhi raho sadbuddhi hamare jikarr na ho aur sach kahein toh jitne bhi dharm hai sab ki mul ka samay shatabdi ke liye hi hai jaise hum baat kare krishchiyaniti ka toh usme old testament me prarthna kiya jata hai ki vaah lo delivery tower dhakane samuh stuatas raitiyas path par hamein le chaliye ab toh islam ka dekhiye sasural sathiya jo quraan ka first chapter hai usme saath azad the aur saath me chhathe aur satve ayat me yahi kaha gaya hai ki hamein us raste par chala hamein us raste par bilkul mat chala jis par tune apna kahar barpaya hai matlab ki aap mujhe sahi raste par chalao sahi raste salamat la hamari buddhi ko sahi raste par le chalo toh aur bhi wahi jawab hinduvijan ki baat kare gayatri mantra ka bhavarth yahi hai ki vaah paramatma hamari buddhi ko sanmarg ki aur prerit kare toh hamein sirf is baat ka dhyan dena hai ki hamari buddhi swachh nirmal kumar ke viprit hota hai anant akash me apne aap ko vitaran kara sakte hain aur dhire dhire apne mul lakshya ki aur le ja sakte hain bus yahi dekhna hai buddhi sahit dhanyavad

एक के इंग्लिश में शब्द आता है और कीमोलिन मेडिटेशन में मेरी टेशन आपने पूछा नहीं बेटे शंकर न

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  847
WhatsApp_icon
user

Rajkumar Koree

Founder & Director - Fitstop Fitness Studio

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करते समय आपको बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जिनका आप को ध्यान रखना चाहिए साफ सुथरी जगह हो शांत वातावरण हो मच्छर और मक्खी जिस देश पर ना हो साउंड दम ना हो तो अच्छा है शान दमसांग जगह हो अच्छा स्वच्छ जगह भी हो आप करेंगे तो वहां पर आपको काफी लाभ मिलेगा

meditation karte samay aapko bahut saari aisi cheezen hain jinka aap ko dhyan rakhna chahiye saaf suthri jagah ho shaant vatavaran ho macchar aur makkhi jis desh par na ho sound dum na ho toh accha hai shan damsang jagah ho accha swachh jagah bhi ho aap karenge toh wahan par aapko kaafi labh milega

मेडिटेशन करते समय आपको बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जिनका आप को ध्यान रखना चाहिए साफ सुथरी जगह

Romanized Version
Likes  362  Dislikes    views  2626
WhatsApp_icon
user

Shyam Vispute

Yoga Instructor

2:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए सबसे पहले अपने याद रखना चाहिए अगर आप ध्यान कर रहे हो तो आप पैसे खाना मत खाइए ज्यादा अदरक लहसुन प्याज ही समय पर आसपास याद कीजिए आराम से पढ़ मत खाइए आप सात्विक फूड करिए उसके बाद में सेकंड चीज जवाब ध्यान करते हो वह जगह जरा गर्मियों से ज्यादा ठंडी जगह नहीं होना चाहिए मोटर टेंपरेचर होना चिकन बात है नाइस होना चाहिए शेयर में काफी काम है कूल प्लेस होना चाहिए जहां पर पूरी लाइफ लगे आप कहां से लक्षणों से बैठने का कंफर्टेबल होना से आप वहां पर तो इन बातों का ध्यान रखना चाहिए दर्शन करते टाइम और रात जब 12343 मेडिटेशन कर रहे हो सब कुछ वेजिटेशन करे तो उसके दौरान आपको साथ की पूरी खाना है तब आपको उसका उसका असर होगा वेजिटेशन का आपके ऊपर अच्छे से शुरू होगा और किसी भी किसी भी ट्रेन से शीर्षक के अंदर में जाकर आप मेरी रीजेंसी की शक्तियां पोजीशन सीखे और मेरी रिसीव करिए काफी अच्छा होता है सेहत के लिए और मैंने जो बातें बताएं उनका ध्यान रखें जब मेडिटेशन करते हो तब मेडिटेशन करते वक्त आपने क्या करना है कि यहां पर है आपके पेट में ज्यादा खाना नहीं चाहिए 3 घंटे के बाद में अपने जीते शंकर सकते हो खाने के तुरंत बाद मेडिटेशन नहीं करना है क्योंकि खाना पचता है तो बॉडी में बहुत सारा हलचल मिलता है तो उसकी वजह से मैं ध्यान नहीं लगता हमारा तो आपका पेट खाली होना चाहिए मतलब खाना खाने के 3 या 4 घंटे के बाद अब मेडिटेशन कर सकते हो सवेरे आप कर सकते हो ज्यादा पानी पीना नहीं है पहले धान के पहले तो पेट खाली हो तो काफी अच्छा है तो ऐसा ध्यान करते हुए एक बात का ध्यान रखिए बातों का ख्याल रखिए तो आपका मेडिटेशन काफी सुख कर होगा और अच्छा होगा खुली हवा में बैठकर आफ मेडिकेशन कर सकते हो क्या आप कर सकते आराम से जहां साइलेंट एटमॉस्फेयर ओर जहां पर कोई आता-जाता ना हो जाता है कि पर बैठकर सुरक्षित जगह पर बैठकर अपनी दीदी से निकल सकते हैं नमो नारायण

aaj meditation karne par kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye sabse pehle apne yaad rakhna chahiye agar aap dhyan kar rahe ho toh aap paise khana mat khaiye zyada adrak lehsun pyaaz hi samay par aaspass yaad kijiye aaram se padh mat khaiye aap Satvik food kariye uske baad me second cheez jawab dhyan karte ho vaah jagah zara garmiyo se zyada thandi jagah nahi hona chahiye motor temperature hona chicken baat hai nice hona chahiye share me kaafi kaam hai cool place hona chahiye jaha par puri life lage aap kaha se lakshano se baithne ka Comfortable hona se aap wahan par toh in baaton ka dhyan rakhna chahiye darshan karte time aur raat jab 12343 meditation kar rahe ho sab kuch vegetation kare toh uske dauran aapko saath ki puri khana hai tab aapko uska uska asar hoga vegetation ka aapke upar acche se shuru hoga aur kisi bhi kisi bhi train se shirshak ke andar me jaakar aap meri regency ki shaktiyan position sikhe aur meri receive kariye kaafi accha hota hai sehat ke liye aur maine jo batein bataye unka dhyan rakhen jab meditation karte ho tab meditation karte waqt aapne kya karna hai ki yahan par hai aapke pet me zyada khana nahi chahiye 3 ghante ke baad me apne jeete shankar sakte ho khane ke turant baad meditation nahi karna hai kyonki khana pachta hai toh body me bahut saara hulchul milta hai toh uski wajah se main dhyan nahi lagta hamara toh aapka pet khaali hona chahiye matlab khana khane ke 3 ya 4 ghante ke baad ab meditation kar sakte ho savere aap kar sakte ho zyada paani peena nahi hai pehle dhaan ke pehle toh pet khaali ho toh kaafi accha hai toh aisa dhyan karte hue ek baat ka dhyan rakhiye baaton ka khayal rakhiye toh aapka meditation kaafi sukh kar hoga aur accha hoga khuli hawa me baithkar of medication kar sakte ho kya aap kar sakte aaram se jaha silent etamasfeyar aur jaha par koi aata jata na ho jata hai ki par baithkar surakshit jagah par baithkar apni didi se nikal sakte hain namo narayan

आज मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए सबसे पहले अपने याद रखना चाहिए अगर आप

Romanized Version
Likes  237  Dislikes    views  2172
WhatsApp_icon
user

YogaChary Ajay Makwana

Founder & Director - Om Divine Yoga Foundation

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करने के लिए पहले तो हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि आज रूपा आसपास में ज्यादा से ज्यादा शोर ना हो कम आवाज आती हो वह देखना चाहिए अच्छा सुंदर वातावरण हो अच्छी म्यूजिक को स्टार्ट करना चाहिए आरंभ है कोई भी ऑप्शन में बैठना चाहिए कुर्सी पर भी हम कर सकते हैं अगर सर्वात में हमें ध्यान करने में कठिनाई आती है तो ध्यान कम से कम 10 से 15 मिनट तक की करिए उसके बाद धीरे-धीरे समय के साथ चलते जाइए प्यार में ज्यादा से ज्यादा हमने एक बार बैठने के बाद शरीर को किसी की आंख को ज्यादा हिलाना डुलाना नहीं है और अपना संपूर्ण त्याग आप अपने स्वास्थ्य रख सकते हैं आग ना चक्र दो प्रमुख के बीच में भी रख सकते हैं आप किसी देवी-देवताओं में भी रख सकते हैं ओम नमः शिवाय

meditation karne ke liye pehle toh hamein yah dhyan rakhna chahiye ki aaj rupa aaspass me zyada se zyada shor na ho kam awaaz aati ho vaah dekhna chahiye accha sundar vatavaran ho achi music ko start karna chahiye aarambh hai koi bhi option me baithana chahiye kursi par bhi hum kar sakte hain agar sarwat me hamein dhyan karne me kathinai aati hai toh dhyan kam se kam 10 se 15 minute tak ki kariye uske baad dhire dhire samay ke saath chalte jaiye pyar me zyada se zyada humne ek baar baithne ke baad sharir ko kisi ki aankh ko zyada hilana dulana nahi hai aur apna sampurna tyag aap apne swasthya rakh sakte hain aag na chakra do pramukh ke beech me bhi rakh sakte hain aap kisi devi devatao me bhi rakh sakte hain om namah shivay

मेडिटेशन करने के लिए पहले तो हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि आज रूपा आसपास में ज्यादा से ज्याद

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  3114
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

2:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन एमिटेशन करने के समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए तो मैं आपको बता देता हूं कि मैं स्टेशन करते समय पहले तो आप अपने को नीतियों से निवृत होकर स्नान आदि करने के बाद ही आपको मेडिटेशन के लिए ध्यान के लिए तैयार हो जाए और शक है जमीन पर साफ-सुथरी जमीन पर सख्त आसन पर अगर वस्त्र पहने की अशक्त वस्त्र पहनकर और सुबह का समय हो तो बहुत ही अच्छा इन सारी चीजों का ध्यान रखने की आवश्यकता है अब हमें शारीरिक के कुछ है क्रियाओं पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है जैसे कि मेडिसिन का शुरुआत करते समय पहले आप अपने मन को स्थिर करले प्राणायाम के द्वारा अनुलोम विलोम के द्वारा और किसी भी बात को दिमाग में ना आने दे या कुछ उस समय सोचे नहीं किसी भी चीज से पर तनाव ना लें बिल्कुल माइंड को फ्रेश रखें और विचार सुनीता के तरफ अग्रसर जिस समय आप को लगा कि यहां पर विचार सुनीता के तरफ अग्रसर हो गए उसी समय से उस पर बिल्कुल ध्यान दें और उसे स्टेशन करना प्रारंभ कर दें तो यह धीरे-धीरे होता है इस चीज को देखने की आवश्यकता है इतना जल्दी विचार सुनीता बहुत कम लोगों में आती है तो धीरे-धीरे होगा लेकिन और सारे बातों पर तो पूर्वक में ही शुरू से ही प्रारंभिक प्रक्रिया से ही इस चीज को फॉलो करना पड़ेगा ध्यान देने की आवश्यकता है तब जाकर मीटिंग कर सकते हैं धन्यवाद

aapka question emiteshan karne ke samay kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye toh main aapko bata deta hoon ki main station karte samay pehle toh aap apne ko nitiyon se nivrit hokar snan aadi karne ke baad hi aapko meditation ke liye dhyan ke liye taiyar ho jaaye aur shak hai jameen par saaf suthri jameen par sakht aasan par agar vastra pehne ki ashakt vastra pehankar aur subah ka samay ho toh bahut hi accha in saari chijon ka dhyan rakhne ki avashyakta hai ab hamein sharirik ke kuch hai kriyaon par bhi dhyan dene ki avashyakta hai jaise ki medicine ka shuruat karte samay pehle aap apne man ko sthir karle pranayaam ke dwara anulom vilom ke dwara aur kisi bhi baat ko dimag me na aane de ya kuch us samay soche nahi kisi bhi cheez se par tanaav na le bilkul mind ko fresh rakhen aur vichar sunita ke taraf agrasar jis samay aap ko laga ki yahan par vichar sunita ke taraf agrasar ho gaye usi samay se us par bilkul dhyan de aur use station karna prarambh kar de toh yah dhire dhire hota hai is cheez ko dekhne ki avashyakta hai itna jaldi vichar sunita bahut kam logo me aati hai toh dhire dhire hoga lekin aur saare baaton par toh purvak me hi shuru se hi prarambhik prakriya se hi is cheez ko follow karna padega dhyan dene ki avashyakta hai tab jaakar meeting kar sakte hain dhanyavad

आपका क्वेश्चन एमिटेशन करने के समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए तो मैं आपको बता देता ह

Romanized Version
Likes  159  Dislikes    views  3425
WhatsApp_icon
user

RAVI DATTA

Dentist

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो जी मेडिटेशन का मतलब होता है एक काम तो में जाकर अपने मन से बातें करना और जो भी दिनभर की जो योजना बनानी है वह मन ही मन बनाकर उन योजनाओं पर कार्य करना उन योजनाओं के अपने अंतरात्मा में उतारना और अपने जीवन में आगे बढ़ना जमीन मेडिटेशन करें 5:10 मिनट जो भी टाइम मिले उसके अनुसार करें क्योंकि मेडिटेशन का मतलब होता है शांत एकदम शांत वातावरण होना चाहिए आप सुबह शाम दोनो टाइम मेडिटेशन करें तो इससे आपको बुरी को बहुत ही बेनिफिट मिलेगा क्योंकि मेडिटेशन करने से क्या होता है कि जो मानसिक शक्ति है उसका विकास होता है आपने सोचने समझने की जरूरत रख सकती है उस में इजाफा होता है और जितना अपना टाइम आफ मेडिटेशन को देंगे फिर से 10 मिनट 15 मिनट एकदम शांत बैठ जाएगा एकदम शांत बैठकर जो भी सोचना वितरण है अपनी अंतरात्मा में सोचिए और उन पर मनन कीजिए दीमापुर सुबह मॉर्निंग करते हैं तो दिन भर की जो योजना है वह बनाई है और उन पर पूरे दिन अमल कीजिए जब आप शाम को मेडिटेशन क्या करते हैं दिन भर में जो आपने आपके जीवन में जो घटित घटनाएं हुई क्या आपने अच्छा क्या बुरा करें क्या उन सभी का इलाज करें और अपने जीवन में जो अच्छी बातें उनको उतारिए और अपने जीवन में आगे बढ़े इससे मैं मानता हूं कि जब भी आप मेडिटेशन करें एकदम शांत वातावरण हो जहां पर आप सूटेबल महसूस करो आप अच्छा पंखे करो वहां पर बैठकर आफ मेडिटेशन कीजिएगा तो आपको बहुत ही बेनिफिट मिलेगा ओके थैंक यू सो मच

hello ji meditation ka matlab hota hai ek kaam toh me jaakar apne man se batein karna aur jo bhi dinbhar ki jo yojana banani hai vaah man hi man banakar un yojnao par karya karna un yojnao ke apne antaraatma me utarana aur apne jeevan me aage badhana jameen meditation kare 5 10 minute jo bhi time mile uske anusaar kare kyonki meditation ka matlab hota hai shaant ekdam shaant vatavaran hona chahiye aap subah shaam dono time meditation kare toh isse aapko buri ko bahut hi benefit milega kyonki meditation karne se kya hota hai ki jo mansik shakti hai uska vikas hota hai aapne sochne samjhne ki zarurat rakh sakti hai us me ijafa hota hai aur jitna apna time of meditation ko denge phir se 10 minute 15 minute ekdam shaant baith jaega ekdam shaant baithkar jo bhi sochna vitaran hai apni antaraatma me sochiye aur un par manan kijiye dimapur subah morning karte hain toh din bhar ki jo yojana hai vaah banai hai aur un par poore din amal kijiye jab aap shaam ko meditation kya karte hain din bhar me jo aapne aapke jeevan me jo ghatit ghatnaye hui kya aapne accha kya bura kare kya un sabhi ka ilaj kare aur apne jeevan me jo achi batein unko utariye aur apne jeevan me aage badhe isse main maanta hoon ki jab bhi aap meditation kare ekdam shaant vatavaran ho jaha par aap suitable mehsus karo aap accha pankhe karo wahan par baithkar of meditation kijiega toh aapko bahut hi benefit milega ok thank you so match

हेलो जी मेडिटेशन का मतलब होता है एक काम तो में जाकर अपने मन से बातें करना और जो भी दिनभर क

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  238
WhatsApp_icon
user

Ankit Laur

Yoga Instructor

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आसपास के माहौल पर शांत हो बाहर भी भीतर भी अपनी सांसों में उनकी धनी सिलेबस

aaspass ke maahaul par shaant ho bahar bhi bheetar bhi apni shanson me unki dhani syllabus

आसपास के माहौल पर शांत हो बाहर भी भीतर भी अपनी सांसों में उनकी धनी सिलेबस

Romanized Version
Likes  177  Dislikes    views  1748
WhatsApp_icon
user

Yogi Arjun

Yoga Instructor

4:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन कि बहुत से आपको देखने से जुड़ जाएंगे इंटरनेट पर बहुत से लोगों ने उसके ऊपर कुछ भी लिखी हॉस्टल में जाते समय भी करते हुए प्रणब में भी कर सकते हैं आपके ज्यादा असर होता है दूसरे विश्वयुद्ध के चले आते चले चेतक चले में संभवत आगरा कपालभाति कब करे तो भी आप कर सकते हो गया मन शांत हो गया मन ही नहीं आपका मन ना कुछ की बातें नहीं बना रहा और आप एक पूरा चीजों को देख सुन रहे हो फील कर रहे हो योगी रोहित यश आपको 10 मिनट अपनी आंखें बंद करके सामना करके उन दोनों के बीच में आप आंख बंद करके लेकर जाकर थोड़ी देर देखिए और क्या-क्या हो रहा है क्या फील हो रहा है ब्राइटनेस लेकर आएंगे ब्राइटनेस का मतलब यह नहीं है कि आपको बंदर से बोलते रहो कि मुझे पर डालना है कि मैं ध्यान लगा पाव ऐसे करेंगे तो आप भी अपने मन को लगा है उसकी सब बातें मन करता है आपको जो कॉन्शसनेस है उसे अब जॉब करता है वह कुछ करता नहीं है यह क्या हो रहा है अपने बॉडी को ध्यान दो आपके साथ से ध्यान दो फिर अपने मन पर ध्यान दो उनको देखो कैसे लिखें समझेगा कि आप तो कुछ ना बॉडी होना व्रत होने माइंड हो तो आप क्या हो तो इसको लेकर फिर आपको आंखों के बीच में आप का ध्यान रखना है और देखना है कि हो क्या है बस कुछ एक्शन नहीं लेना है कुछ करना नहीं जिससे मैंने कहा यू हैव टू डू यू हैव टू डू है मैं खाना नहीं खाऊंगा कल से मैं वह चीज नहीं करूंगा यह एक ट्रांसफॉर्मेशन जो होता है उसमें करना नहीं पड़ता हो जाती मेटल आ नहीं सकता आप वह हो जाता है जैसे आपको कोई चीज पसंद है जैसे कोई लड़का या लड़की पसंद है तुझे कभी कबार उसको बोलने से पहले क्या चाहिए क्या पूरी तरह निभा लो उसमें तो उसी तरीके से जवाब होते हो तो आसपास क्या होगा सब कुछ करना पड़ता है यह प्रैक्टिस है योगा एक्सपीरियंस शहंशाह बचने करोगे तो कितना भी पढ़ लीजिए तो मैं तो यही बोलता हूं गूगल में जाओ आपको टेराबाइट सॉफ्टवेयर व्हाट्सएप डाटा मिल जाएगा जब तक आप उसको जमा कर लोगे आप जैसे ही गाड़ी चलाने के लिए ₹500 की इंफॉर्मेशन यह है कि गाड़ी में पहुंच गया है गाड़ी में पांच कैसे करते क्या करना चाहिए कुछ समय टिप दे पाया हूं एक अंडरस्टैंडिंग के लिए बार-बार नहीं थोड़ा ज्यादा समझ में आएगा

meditation ki bahut se aapko dekhne se jud jaenge internet par bahut se logo ne uske upar kuch bhi likhi hostel me jaate samay bhi karte hue pranab me bhi kar sakte hain aapke zyada asar hota hai dusre vishwayudh ke chale aate chale chetak chale me sambhavat agra kapalbhati kab kare toh bhi aap kar sakte ho gaya man shaant ho gaya man hi nahi aapka man na kuch ki batein nahi bana raha aur aap ek pura chijon ko dekh sun rahe ho feel kar rahe ho yogi rohit yash aapko 10 minute apni aankhen band karke samana karke un dono ke beech me aap aankh band karke lekar jaakar thodi der dekhiye aur kya kya ho raha hai kya feel ho raha hai brightness lekar aayenge brightness ka matlab yah nahi hai ki aapko bandar se bolte raho ki mujhe par dalna hai ki main dhyan laga paav aise karenge toh aap bhi apne man ko laga hai uski sab batein man karta hai aapko jo consciousness hai use ab job karta hai vaah kuch karta nahi hai yah kya ho raha hai apne body ko dhyan do aapke saath se dhyan do phir apne man par dhyan do unko dekho kaise likhen samjhega ki aap toh kuch na body hona vrat hone mind ho toh aap kya ho toh isko lekar phir aapko aakhon ke beech me aap ka dhyan rakhna hai aur dekhna hai ki ho kya hai bus kuch action nahi lena hai kuch karna nahi jisse maine kaha you have to do you have to do hai main khana nahi khaunga kal se main vaah cheez nahi karunga yah ek transformation jo hota hai usme karna nahi padta ho jaati metal aa nahi sakta aap vaah ho jata hai jaise aapko koi cheez pasand hai jaise koi ladka ya ladki pasand hai tujhe kabhi kabar usko bolne se pehle kya chahiye kya puri tarah nibha lo usme toh usi tarike se jawab hote ho toh aaspass kya hoga sab kuch karna padta hai yah practice hai yoga experience shahanshah bachne karoge toh kitna bhi padh lijiye toh main toh yahi bolta hoon google me jao aapko terabyte software whatsapp data mil jaega jab tak aap usko jama kar loge aap jaise hi gaadi chalane ke liye Rs ki information yah hai ki gaadi me pohch gaya hai gaadi me paanch kaise karte kya karna chahiye kuch samay tip de paya hoon ek understanding ke liye baar baar nahi thoda zyada samajh me aayega

मेडिटेशन कि बहुत से आपको देखने से जुड़ जाएंगे इंटरनेट पर बहुत से लोगों ने उसके ऊपर कुछ भी

Romanized Version
Likes  67  Dislikes    views  1294
WhatsApp_icon
user

Gautam Verma

Yoga Instructor https://youtu.be/RYUxHWXiDy4

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करते समय आप इस बात का ख्याल रखें कि आप मेडिटेशन व सेशन करने से पहले प्राणायाम जरूर करें आप अनुलोम विलोम प्राणायाम कम से कम भी 5 मिनट करें और मेडिटेशन का शासन खत्म होने के बाद भी आपने 5 मिनट का अनुलोम विलोम प्राणायाम करना है इसे आप की प्राणशक्ति फिर नॉर्मल हो जाएगी प्राणायाम करने से कई बार नुकसान भी होता है आपकी नींद की डिस्टरबेंस हो सकती आप रात को जब सोते हैं आपको अच्छी नींद नहीं आएगी कुछ लोगों में ऐसी प्रॉब्लम भी आई है मेडिटेशन करने से तो प्राणायाम करना बहुत ही नितांत आवश्यक है हर एक मेडिटेशन के सेक्शन के बाद इसका ख्याल रखिएगा कि 5 मिनट आपने पहले प्राणायाम करना है अनुलोम-विलोम प्राणायाम मान लीजिए आप 25 मिनट के आधे घंटे घंटे के बाद जानकारी के लिए इंडियन जोगी है इंडियन योगी हाउस चैनल पर जाकर लाइव सेशन को अटेंड कर सकती है मैं रोज शाम 5:00 बजे अपने चैनल पर ही क्यों का क्लास कर आता हूं आप अपने परिवार के साथ बैठकर इस लाइफ फैशन को देखकर जो कर सकते हो और इसका लिंक मेरी प्रोफाइल के नीचे भी है यूट्यूब कलिंग है उस चैनल को आप सीधे डायरेक्टली खोलकर मेरे चैनल को सब्सक्राइब करें और योग को सीखी है वह अपने परिवार को साथ बैठकर क्यों करिए

meditation karte samay aap is baat ka khayal rakhen ki aap meditation va session karne se pehle pranayaam zaroor kare aap anulom vilom pranayaam kam se kam bhi 5 minute kare aur meditation ka shasan khatam hone ke baad bhi aapne 5 minute ka anulom vilom pranayaam karna hai ise aap ki pranshakti phir normal ho jayegi pranayaam karne se kai baar nuksan bhi hota hai aapki neend ki distarabens ho sakti aap raat ko jab sote hain aapko achi neend nahi aayegi kuch logo me aisi problem bhi I hai meditation karne se toh pranayaam karna bahut hi nitant aavashyak hai har ek meditation ke section ke baad iska khayal rakhiega ki 5 minute aapne pehle pranayaam karna hai anulom vilom pranayaam maan lijiye aap 25 minute ke aadhe ghante ghante ke baad jaankari ke liye indian jogi hai indian yogi house channel par jaakar live session ko attend kar sakti hai main roj shaam 5 00 baje apne channel par hi kyon ka class kar aata hoon aap apne parivar ke saath baithkar is life fashion ko dekhkar jo kar sakte ho aur iska link meri profile ke niche bhi hai youtube kalinga hai us channel ko aap sidhe directly kholakar mere channel ko subscribe kare aur yog ko sikhi hai vaah apne parivar ko saath baithkar kyon kariye

मेडिटेशन करते समय आप इस बात का ख्याल रखें कि आप मेडिटेशन व सेशन करने से पहले प्राणायाम जरू

Romanized Version
Likes  195  Dislikes    views  1210
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिसिन मेडिटेशन करने के लिए मेडिटेशन करने के लिए शांत एकांत और पूरे भाव श्रद्धा विश्वास और आस्था के साथ बैठे बाहर हकीकत दृष्टिकोण छोड़ कर के किसी संत ने कहा है अंतर के पट कब खुले जब बाहर के पट गई जब हम बाहरी दुनिया में विचरण करते हैं बाहरी दुनिया को देखते हैं तो हम उस अंतर्मन और जो हमारे भीतर की जो ऊर्जा है अपने भीतर का विकास नहीं कर पाते हैं तो जो ध्यान है या जो मेडिटेशन है उसको बहुत ही शाम एकांत और एकदम एकाग्रता के साथ करना चाहिए तब उसका लाभ ज्यादा मिलता है

medicine meditation karne ke liye meditation karne ke liye shaant ekant aur poore bhav shraddha vishwas aur astha ke saath baithe bahar haqiqat drishtikon chhod kar ke kisi sant ne kaha hai antar ke pat kab khule jab bahar ke pat gayi jab hum bahri duniya me vichran karte hain bahri duniya ko dekhte hain toh hum us antarman aur jo hamare bheetar ki jo urja hai apne bheetar ka vikas nahi kar paate hain toh jo dhyan hai ya jo meditation hai usko bahut hi shaam ekant aur ekdam ekagrata ke saath karna chahiye tab uska labh zyada milta hai

मेडिसिन मेडिटेशन करने के लिए मेडिटेशन करने के लिए शांत एकांत और पूरे भाव श्रद्धा विश्वास औ

Romanized Version
Likes  150  Dislikes    views  1267
WhatsApp_icon
user

Sandeep Bisht

Yoga Instructor

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका घर वाले मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए मेडिटेशन के लिए स्वच्छता का सबसे पहले ध्यान रखना चाहिए सबसे पहले अपनी जगह मेडिटेशन कर रहे क्या कर रहे हो एकदम साफ सुथरी जगह हो दूसरी चीज शांत वातावरण होना चाहिए कहीं से कोई सोना और सुबह का समय हो तो सबसे बढ़िया है सुबह के समय मेडिटेशन ज्यादा अच्छे से होता है 4:05 बजे का समय जो मैं बोल रहा हूं जैसी प्रभु मूरत भी कहा जाता है उस समय करेंगे तो उसका प्रभाव आपको खुद ही फर्क लगेगा जो आप शाम को मेडिटेशन पर हो गया दिल में या सुबह 8:00 बजे मेडिकल ऊर्जा लकीर अनुभव होती है उसे शब्दों में बयां कर पाना संभव नहीं है मेडिटेशन और दूसरा कोई वह साफ सुथरी जगह हो तीसरी जयकांत वहां पर भी आप बैठो रे कांची रे कांची नहीं है तो आपको एक अच्छा सा म्यूजिक म्यूजिक प्ले कर सकते हो जिससे आपका ध्यान बना रहे धन्यवाद

aapka ghar waale meditation karne par kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye meditation ke liye swachhta ka sabse pehle dhyan rakhna chahiye sabse pehle apni jagah meditation kar rahe kya kar rahe ho ekdam saaf suthri jagah ho dusri cheez shaant vatavaran hona chahiye kahin se koi sona aur subah ka samay ho toh sabse badhiya hai subah ke samay meditation zyada acche se hota hai 4 05 baje ka samay jo main bol raha hoon jaisi prabhu murat bhi kaha jata hai us samay karenge toh uska prabhav aapko khud hi fark lagega jo aap shaam ko meditation par ho gaya dil me ya subah 8 00 baje medical urja lakir anubhav hoti hai use shabdon me bayaan kar paana sambhav nahi hai meditation aur doosra koi vaah saaf suthri jagah ho teesri jaykant wahan par bhi aap baitho ray kanchi ray kanchi nahi hai toh aapko ek accha sa music music play kar sakte ho jisse aapka dhyan bana rahe dhanyavad

आपका घर वाले मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए मेडिटेशन के लिए स्वच्छता क

Romanized Version
Likes  211  Dislikes    views  3023
WhatsApp_icon
user

सूर्य नारायण

योग शिक्षक

2:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करने में किन किन बातों का ध्यान अब किन-किन यह भी एक किन-किन भी लगता है दो हो क्या ध्यानी एक ऐसा चीज है जिसमें किसी पर भी ध्यान करने की जरूरत नहीं है यदि आप किसी पर ध्यान करते हैं तो फिर आप को ध्यान प्राप्त नहीं होगा क्योंकि जो करना होता है उस में लीन हो जाना होता है तो यहां पर किन-किन आएगा ही नहीं अब आप किसी चीज पर ध्यान रखेंगे तो भी आप दो रहेंगे अभी ध्यान से खाता है एक हो जाना तो ध्यान में किन-किन है ही नहीं किसी भी चीज पर ध्यान रखना होता ही नहीं है क्योंकि ध्यान में एक हो जाना होता है आपका कार्य और आप एक हो गए तो आपका ध्यान हो गया यदि किसी आसन मुद्रा में बैठ गए हैं तो अब आप किस पर ध्यान करेंगे सांसो पर ध्यान करेंगे तो स्वास्थ और आप एक होना चाहिए तो यहां तो किसी चीज पर ध्यान करना ही नहीं है वह एक ही होता है तो यहां पर एक से दो की बात ही नहीं हो रहा है एक हो जाना है यदि हम ईश्वर में भी ध्यान कर रहे हैं तो सिर्फ ईश्वर देखते हैं यहां पर किन-किन बातों यही नहीं यदि आप किन-किन चीजों पर जाएंगे तो आप ध्यान को प्राप्त नहीं होंगे क्योंकि ध्यान का मतलब होता है निर्विचार जहां पर विचार खत्म हो जाता है वहां पर हमारा ध्यान होता है

meditation karne me kin kin baaton ka dhyan ab kin kin yah bhi ek kin kin bhi lagta hai do ho kya dhyani ek aisa cheez hai jisme kisi par bhi dhyan karne ki zarurat nahi hai yadi aap kisi par dhyan karte hain toh phir aap ko dhyan prapt nahi hoga kyonki jo karna hota hai us me Lean ho jana hota hai toh yahan par kin kin aayega hi nahi ab aap kisi cheez par dhyan rakhenge toh bhi aap do rahenge abhi dhyan se khaata hai ek ho jana toh dhyan me kin kin hai hi nahi kisi bhi cheez par dhyan rakhna hota hi nahi hai kyonki dhyan me ek ho jana hota hai aapka karya aur aap ek ho gaye toh aapka dhyan ho gaya yadi kisi aasan mudra me baith gaye hain toh ab aap kis par dhyan karenge saanso par dhyan karenge toh swaasth aur aap ek hona chahiye toh yahan toh kisi cheez par dhyan karna hi nahi hai vaah ek hi hota hai toh yahan par ek se do ki baat hi nahi ho raha hai ek ho jana hai yadi hum ishwar me bhi dhyan kar rahe hain toh sirf ishwar dekhte hain yahan par kin kin baaton yahi nahi yadi aap kin kin chijon par jaenge toh aap dhyan ko prapt nahi honge kyonki dhyan ka matlab hota hai nirvichar jaha par vichar khatam ho jata hai wahan par hamara dhyan hota hai

मेडिटेशन करने में किन किन बातों का ध्यान अब किन-किन यह भी एक किन-किन भी लगता है दो हो क्या

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  2543
WhatsApp_icon
user

Umesh Bandoliya

Yoga Expert

2:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करते वक्त मुख्यतः कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जो जरूरी है योग में कहा गया है कि मुझे ध्यान है वह लास्ट का चरण है उससे पहले जो है ध्यान जब लगता है तो उसके बाद समाधि की और व्यक्ति चला जाता है तो अष्टांग योगा में जो है आठ अंगों के अंतर्गत यह सातवें नंबर का जो है योग 2 है मेडिटेशन है उस टाइम पर हमें ध्यान रखना होता है कि हम शांति इन्वायरमेंट अपने लिए बनाएं जितनी भी जगह है उसमें हम लोग आराम से बैठे हैं साफ सुथरी जगह में अच्छा इन्वायरमेंट हो आप ध्यान करने के लिए चाय आप कोई अच्छा म्यूजिक सुन सकते हैं इससे पहले आप रिप्रेशन करें साथ ही कुछ क्रियाएं करें हाथ भरे और छोड़े सांस भरे और छोड़ो ओम का उच्चारण करें कम से कम 10 या 11 बार या उससे ज्यादा और उसके बाद में आप जब ध्यान लगाने बैठेंगे तो महसूस करेंगे आपकी आपका मन एकाग्र हो गया है और मन जब एकाग्र होता तो उसके लिए आपको सबसे पहले देखना होता है कि जो आपके दिमाग में विचार आते हैं आप उस पर ही खड़े नहीं रहेंगे एडिंग नहीं रहेंगे उसे आएंगे उसे छोड़ते रहेंगे जब विचार आते रहते हैं बनते रहते हैं आप उन्हें छोड़ चले थे छोड़ दे रहने का मतलब है कि ध्यान नहीं देंगे उसके घर और आगे जो आप जिस प्रभु से आप ध्यान लगा रहे हैं जिसके भी ऊपर आप ध्यान लगा रही हंै कि जो हमारे को पूरे जीवन चर्या को चलाता है भगवान है या कोई भी है जिसको आप मानते हैं उसके ऊपर ध्यान लगाएंगे तो यह सब विचार आते रहते हैं आप उसी तरफ आकर्षित रहेंगे और धीरे-धीरे अच्छा लगेगा कि आपको महसूस नहीं हुआ कि आप कहां पर हैं और धीरे-धीरे आप पूरे खा कर के तो करके उसमें डूब जाएंगे जब आप वापस आते हैं ध्यान के पश्चात तो धीरे से दोनों हाथों को रब करे आंखों को मिले चेहरे को मिले फिर से आंखें खोलो और उसके पश्चात ही कुछ सेकंड हो पर बैठे रहे उसके बाद आप धीरे से उठे और अपने नीति में रेपो दिनचर्या के लोग खा रहे हैं उनको करें आप

meditation karte waqt mukhyata kuch baaton ka dhyan rakhna chahiye jo zaroori hai yog me kaha gaya hai ki mujhe dhyan hai vaah last ka charan hai usse pehle jo hai dhyan jab lagta hai toh uske baad samadhi ki aur vyakti chala jata hai toh ashtanga yoga me jo hai aath angon ke antargat yah satve number ka jo hai yog 2 hai meditation hai us time par hamein dhyan rakhna hota hai ki hum shanti environment apne liye banaye jitni bhi jagah hai usme hum log aaram se baithe hain saaf suthri jagah me accha environment ho aap dhyan karne ke liye chai aap koi accha music sun sakte hain isse pehle aap repression kare saath hi kuch kriyaen kare hath bhare aur chode saans bhare aur chodo om ka ucharan kare kam se kam 10 ya 11 baar ya usse zyada aur uske baad me aap jab dhyan lagane baitheange toh mehsus karenge aapki aapka man ekagra ho gaya hai aur man jab ekagra hota toh uske liye aapko sabse pehle dekhna hota hai ki jo aapke dimag me vichar aate hain aap us par hi khade nahi rahenge aiding nahi rahenge use aayenge use chodte rahenge jab vichar aate rehte hain bante rehte hain aap unhe chhod chale the chhod de rehne ka matlab hai ki dhyan nahi denge uske ghar aur aage jo aap jis prabhu se aap dhyan laga rahe hain jiske bhi upar aap dhyan laga rahi hanai ki jo hamare ko poore jeevan charya ko chalata hai bhagwan hai ya koi bhi hai jisko aap maante hain uske upar dhyan lagayenge toh yah sab vichar aate rehte hain aap usi taraf aakarshit rahenge aur dhire dhire accha lagega ki aapko mehsus nahi hua ki aap kaha par hain aur dhire dhire aap poore kha kar ke toh karke usme doob jaenge jab aap wapas aate hain dhyan ke pashchat toh dhire se dono hathon ko rab kare aakhon ko mile chehre ko mile phir se aankhen kholo aur uske pashchat hi kuch second ho par baithe rahe uske baad aap dhire se uthe aur apne niti me repo dincharya ke log kha rahe hain unko kare aap

मेडिटेशन करते वक्त मुख्यतः कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जो जरूरी है योग में कहा गया है कि

Romanized Version
Likes  137  Dislikes    views  1120
WhatsApp_icon
play
user

Swami Umesh Yogi

Peace-Guru (Global Peace Education)

1:19

Likes  225  Dislikes    views  2861
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मीडिया कर देनी आप उसे पिता की कोशिश कीजिए के आसपास का जवाब का निशान तो और आप भी कुछ अच्छे वाले इसको करें कॉमेडियन करने से पूर्व खुशी है कि ये आतंकी 25 मीटर वीडियो एंड लेख लिखे हुए

media kar deni aap use pita ki koshish kijiye ke aaspass ka jawab ka nishaan toh aur aap bhi kuch acche waale isko kare comedian karne se purv khushi hai ki ye aatanki 25 meter video and lekh likhe hue

मीडिया कर देनी आप उसे पिता की कोशिश कीजिए के आसपास का जवाब का निशान तो और आप भी कुछ अच्छे

Romanized Version
Likes  423  Dislikes    views  3647
WhatsApp_icon
user
4:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए मेडिटेशन करने पर जात को सबसे मुख्य जो मूल है जिस बात पर आपको ध्यान रखना चाहिए वह है आपका आसन व है आपका क्योंकि अगर आपका कुछ ठीक नहीं है यदि आपका पोस्ट नहीं है तो आपका मेडिटेशन अच्छा हो ही नहीं सकता है क्योंकि आपका घर सभी रिश्ते रहे तभी आप को सबसे पहले आपको ध्यान देने पर एक क्वेश्चन है तो सबसे पहले तो एक आसन को चुनने के लिए किस-किस को देखिए पद्मासन लगेगा कुलेश्वरी लेती है कैसे आपका कंफर्ट है तो एक पोस्टर को पकड़ लीजिए समर्थन और उसको मार्केट कीजिए कि आज मैं 10 मिनट बैठक कल 20 मिनट पर 30 40 1 घंटे इस समय को बढ़ाते रहिए अगर आप की गिनती मेडिटेशन करना चाहते हैं तो तू नंबर वन पॉइंट क्या होगा आपका पोस्ट पोस्ट करना है दूसरी चीज से अवैध बस बैठे रहना कोई मतलब नहीं हुआ है अगर दिमाग में आपके अच्छे ख्याल आ रहे हैं जागरूक किसी भी तरह का ख्याल आपके दिमाग में आया आपको उसके प्रति जागरूक आपको आपकी बॉडी को ठीक है आपको माइंडफुल लेना क्या आपके दिमाग में क्या थॉट्स आ रहे हो जा ठीक है दो नंबर और तीसरी बात जरूर है यह भी एक बेटे को है कि मेडिटेशन टेक्निक कंसंट्रेटेड मेडिटेशन चार तरह के होते हैं एक होता है रूम पे ध्यान शांति मेडिटेशन कोई भी स्वरूप मंत्र किसी को सबसे पहले उसको प्रेक्टिस थी जिससे भी आप सीखते हैं और और एक छोटी सी एडवाइस है मेरी एक सलाह है कि कोई भी चीज को बताइए अगर आपके गुरु ने आपको कोई टेक्निक दी है तो उसको अपने सुविधा आप नहीं बनती है जैसे बताया गया चाहे वह मुश्किल हो हर-हर अच्छी चीज है शुरुआत करने में मुश्किल ही लग के साथ को बहुत ही सुगम और दूसरी चीज जहां से भी आपने मेडिटेशन सीखा है आज के गुरु हो या कोई भी शास्त्र हुए बुक हो और जो भी तकलीफ आपको मिली हो उसको बताइए नहीं उसको मॉडिफाई बाइक क्या कार्य कपड़े नहीं है आप मॉडिफाइड शुद्ध विज्ञान कुछ भी रहने दे तो आपके लिए कारगर होगी और अच्छी थी तो तीन बातों का ध्यान रखना है पोस्टिंग अवेयरनेस एंड माइनर और तकनीक जो मिली है उसका बिना मॉडिफाइड किए तो इन तीन बातों का ध्यान रखिए आप जैसे जैसे आगे बढ़ते रहेंगे वैसे आपको अनुभव वह आपको आपको मार्गदर्शन मिलता रहेगा अगर आप आपको सच्चे साधक हैं तो आपको मार्गदर्शन मिलता रहेगा किसी भी धन्यवाद

meditation karne par kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye meditation karne par jaat ko sabse mukhya jo mul hai jis baat par aapko dhyan rakhna chahiye vaah hai aapka aasan va hai aapka kyonki agar aapka kuch theek nahi hai yadi aapka post nahi hai toh aapka meditation accha ho hi nahi sakta hai kyonki aapka ghar sabhi rishte rahe tabhi aap ko sabse pehle aapko dhyan dene par ek question hai toh sabse pehle toh ek aasan ko chunane ke liye kis kis ko dekhiye padmasana lagega kuleshwari leti hai kaise aapka comfort hai toh ek poster ko pakad lijiye samarthan aur usko market kijiye ki aaj main 10 minute baithak kal 20 minute par 30 40 1 ghante is samay ko badhate rahiye agar aap ki ginti meditation karna chahte hain toh tu number van point kya hoga aapka post post karna hai dusri cheez se awaidh bus baithe rehna koi matlab nahi hua hai agar dimag me aapke acche khayal aa rahe hain jagruk kisi bhi tarah ka khayal aapke dimag me aaya aapko uske prati jagruk aapko aapki body ko theek hai aapko mindful lena kya aapke dimag me kya thoughts aa rahe ho ja theek hai do number aur teesri baat zaroor hai yah bhi ek bete ko hai ki meditation technique kansantreted meditation char tarah ke hote hain ek hota hai room pe dhyan shanti meditation koi bhi swaroop mantra kisi ko sabse pehle usko practice thi jisse bhi aap sikhate hain aur aur ek choti si advice hai meri ek salah hai ki koi bhi cheez ko bataiye agar aapke guru ne aapko koi technique di hai toh usko apne suvidha aap nahi banti hai jaise bataya gaya chahen vaah mushkil ho har har achi cheez hai shuruat karne me mushkil hi lag ke saath ko bahut hi sugam aur dusri cheez jaha se bhi aapne meditation seekha hai aaj ke guru ho ya koi bhi shastra hue book ho aur jo bhi takleef aapko mili ho usko bataiye nahi usko madifai bike kya karya kapde nahi hai aap modified shudh vigyan kuch bhi rehne de toh aapke liye kargar hogi aur achi thi toh teen baaton ka dhyan rakhna hai posting awareness and minor aur taknik jo mili hai uska bina modified kiye toh in teen baaton ka dhyan rakhiye aap jaise jaise aage badhte rahenge waise aapko anubhav vaah aapko aapko margdarshan milta rahega agar aap aapko sacche sadhak hain toh aapko margdarshan milta rahega kisi bhi dhanyavad

मेडिटेशन करने पर किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए मेडिटेशन करने पर जात को सबसे मुख्य जो म

Romanized Version
Likes  341  Dislikes    views  2943
WhatsApp_icon
user

Yogi Satendra

Yoga Expert & International Coach | Yoga Therapist | Life Coach | Health & Fitness Consultant

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत-बहुत नमस्कार मैं हूं योगी सत्येंद्र आपका बहुत-बहुत स्वागत करता हूं एक बहुत अच्छा प्रश्न आया हुआ है कि मेडिटेशन करने पर किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए तो देखिए आपको बताऊं बहुत अच्छा आपने सोचा है अगर आप मेडिटेशन करना चाहते हैं तो आपका डिसीजन बहुत ही अच्छा है और आप इसको बिल्कुल आप मेडिटेशन का अभ्यास ध्यान का अभ्यास आप प्रतिदिन कर सकते हैं बहुत सारे फायदे हैं इसके उसको मैं बाद में बताऊंगा कि मेडिकेशन के फायदे क्या है सबसे पहले मैं प्रश्न पर आता हूं कि मेडिटेशन करने पर किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए सबसे पहले तो आपको मैं बताना चाहता हूं कि आप किसी ऐसे स्थान का चयन करें जहां पर एकदम शांति हो यहां पर किसी भी तरह का डिस्टरबेंस ना हो कोई एक ऐसा कमरा आपका होना चाहिए जहां पर बाहर की आवाज बहुत ज्यादा बाहर की आवाज अंदर नहीं आनी चाहिए आपके कमरे पर आपका जो कमरा है वह बिल्कुल साफ सुथरा एवं व्यवस्थित होना चाहिए अगर अस्त-व्यस्त कमरे में आप ध्यान करेंगे अस्त-व्यस्त जगह पर ध्यान करेंगे कि वह आपका ध्यान नहीं लगेगा और आप बार-बार ध्यान से आपका मन उतर जाएगा ध्यान लगाने में आपको बहुत ज्यादा दिक्कत आएगी तो सबसे पहले आप अपने कमरे को बिल्कुल व्यवस्थित करिए और भी कुछ साफ-सुथरे कमरे में आप बैठिए ध्यान रखिए आप बिस्तर पर ना बैठे आप शेयर पर ना बैठे अगर आप जमीन पर बैठ सकते हैं अगर आपको किसी तरह की फिजिकल तकलीफ ना हो तो अगर भाई साहब चेयर पर बैठकर भी कर सकते लेकिन आम लोगों के लिए जमीन पर बैठकर पद्मासन में या फिर आपको सुखासन में बैठकर ध्यान करना चाहिए आप जमीन पर कमरे के अंदर जो बहुत ही साफ सुथरा हो नहीं पेंटिंग हो व्यवस्थित कमरा हो कहीं पर आप एक जगह पर अपना आसन लगाए आसन दिखाएं उस कमरे पर कोई भी आप का मैच हो सकता है आप किधर हो सकती है या कुछ भी एक आदमी आपकी हो सकती है जिस पर आप आराम से बैठे अब इसकी शुरुआत कैसे करें आप आप सुख आसन पर बैठे या आप किसी भी आसन पर बैठ सकते हैं जिसमें आपको आप कम से कम आधे घंटे तक 1 घंटे तक जितने भी देर तक आप ध्यान कर रहे हैं आपको किसी भी तरह की शारीरिक तकलीफ ना हो क्योंकि क्या होता है कि जब हम पद्मासन लगा लेते हैं तो पता चलता है कि हम ध्यान 10 मिनट का फास्ट नेट अध्ययन किया और पता चला हमारे पैरों में बहुत तेज दर्द होने लग गया आपका ध्यान क्या होता है आपका ध्यान हट जाता है और आपका दिमाग है वह आपके घर की तरफ आपके पैरों की तरफ कन्वर्ट हो जाता है बढ़ जाता है तो आप सबसे पहले तो आप सुख आसन पर बैठी अगर आपका अभ्यास सर्वांग अगर आपका अभ्यास दूसरे किसी आसन पर बैठने का नहीं है तो आप सब से अच्छा है कि आप सुख आसन पर बैठे सुखासन में आप सामान्य रूप से पंथी मारकर बैठे आप बिल्कुल आराम से कमर को सीधी करें दोनों हाथ को वोट पर रखें और किसी एक मंत्र का उच्चारण करें 7 बार जो भी आपके आपका इस मंत्र को आप गायत्री मंत्र का भी जॉब कर सकते हैं ओम का उच्चारण भी कर सकते हैं उनका कैंटीन आप 7 बार आंखें बंद करके 7 बार मंत्र का जप करें किसी भी मंदिर का और मैं तो आपको सलाह दूंगा कि अगर आप गायत्री मंत्र का जप करते हैं तो आप को विशेष लाभ होगा ध्यान करने पर इसके अलावा भी आप दूसरा मंत्री कर सकते जो भी मंत्र आपको अच्छा लगता है 7 बार आप मंत्र करें और उसके बाद थोड़ा सा आधी मिनट के लिए रुके आंखें बंद रखी मन को शांत रखें और उसके बाद 7 बार आप भी लंबी गहरी श्वास बिजी है दोनों लोग चलते दोनों नाते ऑफिस छोड़ दीजिए फिर लंबी गहरी श्वास भेजो दीजिए इस तरह से आप इसको 7 बार करिए और लंबी गहरी श्वास लीजिए थोड़ी है लंबी चौड़ी 7 बार और जब आपका लंबी गहरी सांस लेना और सोना 7 बार हो जाए तो आप आप 2 मिनट बिल्कुल मौन रहिए विचार रहित रहिए दिमाग को बिल्कुल ब्लैंक कर दीजिए 2 मिनट के बाद आप अपना ध्यान अपनी चेतना लगाइए अपनी सांसो पर आप सांस ले रहे हैं लगाइए आप साथ छोड़ रहे हैं उस पर ध्यान लगाइए इस तरह अपनी संपूर्ण चेतना को आप आप अपने आप को दुआ दीजिए अपने साथ पार हो जाइए अपनी सांसो पर सांस ले रहे हैं स्वास्थ छोड़ रहे हैं सांस ले रहे हैं स्वास्थ छोड़ रहे हैं वृद्ध वृद्ध वृद्ध विदाउट सांस अंदर 5 बार सांस अंदर 5 वाट इस तरह आप ध्यान लगाइए अपनी सांसो पर और आप लगातार इसका अभ्यास करते रहे ध्यान रखें एक ही जगह पर एक ही स्थान पर आप ध्यान करें जब आप एक ही जगह पर ध्यान करते हैं तो 4:00 सो जाती है वहां की ऊर्जा का लेबल बहुत बढ़ जाता है इससे क्या होता है आपकी ध्यान की साधना में आपको बहुत लाभ पहुंचता है ध्यान आप जल्दी लगा पाते हैं और ध्यान में आपको सफलता बहुत जल्दी मिलती है जब एक ही स्थान पर आप बैठकर ध्यान करते हैं कई लोगों को मैंने देखा है वह देखने चेंज करते रहते कभी कहीं पर बैठ गए कहीं ड्राइंग रूम में बैठ गया क्या मैं छत पर बैठ गए कहीं में बैठ गया कमरा बना है उसको साफ सुथरा रखें व्यवस्थित रखें एक स्थान पर अपना आदमी लगाएं अपना मैप दिखाएं और उसमें बैठे आप लगातार की प्रैक्टिस करें कोशिश करें सुबह के टाइम पे अगर ध्यान करते हैं ब्रह्म मुहूर्त पर तो बहुत अच्छा है सुबह 4:00 से 6:00 के बीच ध्यान लगा लेंगे तो आपको इसका विशेष लाभ आपको मिलेगा दूसरी टाइम की अपेक्षा मैसेज तो आप किसी भी समय ध्यान लगा सकते हैं लेकिन अगर आप सुबह के टाइम पर ध्यान लगाते हैं सुबह 4:00 से 6:00 के बीच में तो आप को विशेष लाभ होता है बहुत ज्यादा लाभ होता है आपको ध्यान पर सफलता बहुत जल्दी मिलती है तो ध्यान कभी भी एक ही पॉइंट पर करें अगर पासवर्ड चेंज ना करें कि कभी सांसों पर कर लिया कभी किसी चीज पर ध्यान लगा लिया कभी किसी चीज पर ध्यान लिया इस तरह से अगर आप करेंगे आपको सफलता कतई नहीं मिलेगी बिल्कुल आपको सफलता नहीं मिल सकती ध्यान पर और दूसरी बात आप जितना साथ में खाना खा सकते हैं अपनी ध्यान साधना के दौरान उतना ही अच्छा है आप अगर आप मांसाहार छोड़ सकते हैं तो बहुत अच्छा है आप धीरे-धीरे करके कम करते हुए माशा छोड़ दीजिए अगर जब अगर आप तो ध्यान की साधना कर रहे हो के साथ ना कर रहे हैं तो आप भी कुछ अधिक भोजन करें सादा भोजन करें तीन मसाला मिर्ची इस तरह के भोजन को अवॉइड करें आप बिल्कुल संतुलित भोजन करें दूध की मात्रा ज्यादा बढ़ा दे फल-फूल आप ज्यादा करें आप हरी सब्जियां खाएं आप सलाद पहले बहुत ज्यादा खाए अंकुरित आइटम खाएं किस तरह से आप बहुत ही संतुलित भोजन अपने योगासन के दौरान जवाब करते हैं तो आपको हंड्रेड टाइम्स आपको ज्यादा लाभ मिलता है आपको सफलता जल्दी मिलती है तो इस तरह से अगर आप ध्यान की साधना कर रहे हैं तो आप इन्हीं सब बातों का ध्यान रखिए धीरे-धीरे आपको बहुत ही अच्छी सफलता मिलती जाएगी आगे बढ़ते जाएंगे और जब आप आगे बढ़ते जाएंगे तो आपके अंदर बहुत सारी प्रवर्तन आपको नजर आएंगे पोस्टिंग से भर जाएंगे आप बहुत ज्यादा आपके अंदर आत्मविश्वास अंदर आपको आपके अंदर से पनपने लगेगा आपको लगेगा कि मेरा आत्मविश्वास बढ़ रहा है मेरा समाज के प्रति नजरिया बढ़ रहा है और मेरा स्वभाव बहुत परिवर्तित हो चुका है तू तेरा काम हो चुका है मेरा नजरिया हर चीज के प्रति बदल गया है और बहुत सारे परिवर्तन जवाब के अंदर से आने लगे तो आप यह समझ जाइए कि ध्यान आपका आप जो ध्यान के साथ ना कर रहे हैं उसमें आपको सफलता बहुत अच्छी मिल रही है और लगातार इसकी प्रैक्टिस करते रहे लेकिन क्या होता है आपको थोड़ी है मत जिस तरह से आप खाना खाते हैं आप दूसरे एक्टिविटीज करते हैं बहुत सारे आपकी रूटीन सोती है उसी तरह से ध्यान को भी अपना एक पाठ बनाइए लाइफ का आप आधे घंटे का ही करें लेकिन आप रूट करें एक ही समय पर करें एक ही स्थान पर करें और इस तरह से आप लगातार जब करेंगे तो आप धीरे-धीरे आपको बहुत ज्यादा सफलता मिलेगी आप उत्तम सफलता की ओर आगे लगेंगे और इस तरह से आपका जीवन ही बदल जाएगा जब आपका जीवन बदल जाएगा तो आपके साथ रहने वाले लोगों का जीवन बदल जाएगा आपके बच्चों का जीवन बदल जाएगा आपके समाज में रहने वाले लोग आपके साथ रहने वाले फ्रेंड आपके द्वारा क्रिएटिव बदलने लगे करने के लिए अपने बच्चों को भी ध्यान करने के लिए अपनी फैमिली को भी आप मोटिवेट करें ध्यान करने के लिए साथ में समाज में भी जिनको जाप जानते हैं उनको भी आप मोटिवेट कर सकते हैं ध्यान करने की आपकी बहुत बड़ी सेवा होगी इस तरह से मारा राज बदल जाएगा राष्ट्र की उन्नति होगी लोकप्रश्न किस होंगे लोगों के सोचने का नजरिया चेंज होगा और हम स्वर्ग आनंद ले पाएंगे इस धरती पर

bahut bahut namaskar main hoon yogi satyendra aapka bahut bahut swaagat karta hoon ek bahut accha prashna aaya hua hai ki meditation karne par kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye toh dekhiye aapko bataun bahut accha aapne socha hai agar aap meditation karna chahte hain toh aapka decision bahut hi accha hai aur aap isko bilkul aap meditation ka abhyas dhyan ka abhyas aap pratidin kar sakte hain bahut saare fayde hain iske usko main baad me bataunga ki medication ke fayde kya hai sabse pehle main prashna par aata hoon ki meditation karne par kin kin baaton ka dhyan rakhna chahiye sabse pehle toh aapko main batana chahta hoon ki aap kisi aise sthan ka chayan kare jaha par ekdam shanti ho yahan par kisi bhi tarah ka distarabens na ho koi ek aisa kamra aapka hona chahiye jaha par bahar ki awaaz bahut zyada bahar ki awaaz andar nahi aani chahiye aapke kamre par aapka jo kamra hai vaah bilkul saaf suthara evam vyavasthit hona chahiye agar ast vyast kamre me aap dhyan karenge ast vyast jagah par dhyan karenge ki vaah aapka dhyan nahi lagega aur aap baar baar dhyan se aapka man utar jaega dhyan lagane me aapko bahut zyada dikkat aayegi toh sabse pehle aap apne kamre ko bilkul vyavasthit kariye aur bhi kuch saaf suthre kamre me aap baithiye dhyan rakhiye aap bistar par na baithe aap share par na baithe agar aap jameen par baith sakte hain agar aapko kisi tarah ki physical takleef na ho toh agar bhai saheb chair par baithkar bhi kar sakte lekin aam logo ke liye jameen par baithkar padmasana me ya phir aapko sukhasan me baithkar dhyan karna chahiye aap jameen par kamre ke andar jo bahut hi saaf suthara ho nahi painting ho vyavasthit kamra ho kahin par aap ek jagah par apna aasan lagaye aasan dikhaen us kamre par koi bhi aap ka match ho sakta hai aap kidhar ho sakti hai ya kuch bhi ek aadmi aapki ho sakti hai jis par aap aaram se baithe ab iski shuruat kaise kare aap aap sukh aasan par baithe ya aap kisi bhi aasan par baith sakte hain jisme aapko aap kam se kam aadhe ghante tak 1 ghante tak jitne bhi der tak aap dhyan kar rahe hain aapko kisi bhi tarah ki sharirik takleef na ho kyonki kya hota hai ki jab hum padmasana laga lete hain toh pata chalta hai ki hum dhyan 10 minute ka fast net adhyayan kiya aur pata chala hamare pairon me bahut tez dard hone lag gaya aapka dhyan kya hota hai aapka dhyan hut jata hai aur aapka dimag hai vaah aapke ghar ki taraf aapke pairon ki taraf convert ho jata hai badh jata hai toh aap sabse pehle toh aap sukh aasan par baithi agar aapka abhyas sarvang agar aapka abhyas dusre kisi aasan par baithne ka nahi hai toh aap sab se accha hai ki aap sukh aasan par baithe sukhasan me aap samanya roop se panthi marakar baithe aap bilkul aaram se kamar ko seedhi kare dono hath ko vote par rakhen aur kisi ek mantra ka ucharan kare 7 baar jo bhi aapke aapka is mantra ko aap gayatri mantra ka bhi job kar sakte hain om ka ucharan bhi kar sakte hain unka canteen aap 7 baar aankhen band karke 7 baar mantra ka jap kare kisi bhi mandir ka aur main toh aapko salah dunga ki agar aap gayatri mantra ka jap karte hain toh aap ko vishesh labh hoga dhyan karne par iske alava bhi aap doosra mantri kar sakte jo bhi mantra aapko accha lagta hai 7 baar aap mantra kare aur uske baad thoda sa aadhi minute ke liye ruke aankhen band rakhi man ko shaant rakhen aur uske baad 7 baar aap bhi lambi gehri swas busy hai dono log chalte dono naate office chhod dijiye phir lambi gehri swas bhejo dijiye is tarah se aap isko 7 baar kariye aur lambi gehri swas lijiye thodi hai lambi chaudi 7 baar aur jab aapka lambi gehri saans lena aur sona 7 baar ho jaaye toh aap aap 2 minute bilkul maun rahiye vichar rahit rahiye dimag ko bilkul blank kar dijiye 2 minute ke baad aap apna dhyan apni chetna lagaaiye apni saanso par aap saans le rahe hain lagaaiye aap saath chhod rahe hain us par dhyan lagaaiye is tarah apni sampurna chetna ko aap aap apne aap ko dua dijiye apne saath par ho jaiye apni saanso par saans le rahe hain swaasth chhod rahe hain saans le rahe hain swaasth chhod rahe hain vriddh vriddh vriddh without saans andar 5 baar saans andar 5 watt is tarah aap dhyan lagaaiye apni saanso par aur aap lagatar iska abhyas karte rahe dhyan rakhen ek hi jagah par ek hi sthan par aap dhyan kare jab aap ek hi jagah par dhyan karte hain toh 4 00 so jaati hai wahan ki urja ka lebal bahut badh jata hai isse kya hota hai aapki dhyan ki sadhna me aapko bahut labh pahuchta hai dhyan aap jaldi laga paate hain aur dhyan me aapko safalta bahut jaldi milti hai jab ek hi sthan par aap baithkar dhyan karte hain kai logo ko maine dekha hai vaah dekhne change karte rehte kabhi kahin par baith gaye kahin drying room me baith gaya kya main chhat par baith gaye kahin me baith gaya kamra bana hai usko saaf suthara rakhen vyavasthit rakhen ek sthan par apna aadmi lagaye apna map dikhaen aur usme baithe aap lagatar ki practice kare koshish kare subah ke time pe agar dhyan karte hain Brahma muhurt par toh bahut accha hai subah 4 00 se 6 00 ke beech dhyan laga lenge toh aapko iska vishesh labh aapko milega dusri time ki apeksha massage toh aap kisi bhi samay dhyan laga sakte hain lekin agar aap subah ke time par dhyan lagate hain subah 4 00 se 6 00 ke beech me toh aap ko vishesh labh hota hai bahut zyada labh hota hai aapko dhyan par safalta bahut jaldi milti hai toh dhyan kabhi bhi ek hi point par kare agar password change na kare ki kabhi shanson par kar liya kabhi kisi cheez par dhyan laga liya kabhi kisi cheez par dhyan liya is tarah se agar aap karenge aapko safalta katai nahi milegi bilkul aapko safalta nahi mil sakti dhyan par aur dusri baat aap jitna saath me khana kha sakte hain apni dhyan sadhna ke dauran utana hi accha hai aap agar aap mansahaari chhod sakte hain toh bahut accha hai aap dhire dhire karke kam karte hue masha chhod dijiye agar jab agar aap toh dhyan ki sadhna kar rahe ho ke saath na kar rahe hain toh aap bhi kuch adhik bhojan kare saada bhojan kare teen masala mirchi is tarah ke bhojan ko avoid kare aap bilkul santulit bhojan kare doodh ki matra zyada badha de fal fool aap zyada kare aap hari sabjiyan khayen aap salad pehle bahut zyada khaye ankurit item khayen kis tarah se aap bahut hi santulit bhojan apne yogasan ke dauran jawab karte hain toh aapko hundred times aapko zyada labh milta hai aapko safalta jaldi milti hai toh is tarah se agar aap dhyan ki sadhna kar rahe hain toh aap inhin sab baaton ka dhyan rakhiye dhire dhire aapko bahut hi achi safalta milti jayegi aage badhte jaenge aur jab aap aage badhte jaenge toh aapke andar bahut saari pravartan aapko nazar aayenge posting se bhar jaenge aap bahut zyada aapke andar aatmvishvaas andar aapko aapke andar se panapne lagega aapko lagega ki mera aatmvishvaas badh raha hai mera samaj ke prati najariya badh raha hai aur mera swabhav bahut parivartit ho chuka hai tu tera kaam ho chuka hai mera najariya har cheez ke prati badal gaya hai aur bahut saare parivartan jawab ke andar se aane lage toh aap yah samajh jaiye ki dhyan aapka aap jo dhyan ke saath na kar rahe hain usme aapko safalta bahut achi mil rahi hai aur lagatar iski practice karte rahe lekin kya hota hai aapko thodi hai mat jis tarah se aap khana khate hain aap dusre activities karte hain bahut saare aapki routine soti hai usi tarah se dhyan ko bhi apna ek path banaiye life ka aap aadhe ghante ka hi kare lekin aap root kare ek hi samay par kare ek hi sthan par kare aur is tarah se aap lagatar jab karenge toh aap dhire dhire aapko bahut zyada safalta milegi aap uttam safalta ki aur aage lagenge aur is tarah se aapka jeevan hi badal jaega jab aapka jeevan badal jaega toh aapke saath rehne waale logo ka jeevan badal jaega aapke baccho ka jeevan badal jaega aapke samaj me rehne waale log aapke saath rehne waale friend aapke dwara creative badalne lage karne ke liye apne baccho ko bhi dhyan karne ke liye apni family ko bhi aap motivate kare dhyan karne ke liye saath me samaj me bhi jinako jaap jante hain unko bhi aap motivate kar sakte hain dhyan karne ki aapki bahut badi seva hogi is tarah se mara raj badal jaega rashtra ki unnati hogi lokaprashn kis honge logo ke sochne ka najariya change hoga aur hum swarg anand le payenge is dharti par

बहुत-बहुत नमस्कार मैं हूं योगी सत्येंद्र आपका बहुत-बहुत स्वागत करता हूं एक बहुत अच्छा प्रश

Romanized Version
Likes  218  Dislikes    views  1874
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!