बवासीर के लिए आयुर्वेदिक औषधि बताइए?...


play
user

N C Tripathy

Ayurved Specialist

3:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बवासीर पाइल्स इसके लिए आयुर्वेदिक औषधि के बारे में अपने पूछा है लेकिन इसके पहले मैं आपको बताना चाहता हूं कि इससे बहुत सारे लोग इस रोग से पीड़ित हैं लेकिन उसमें जब तक कुछ रूल्स को फॉलो नहीं करेंगे जब तक खानपान में बदलाव नहीं करेंगे कैसे खाना है कब खाना है पानी कब पीना है पानी कब नहीं पीना है इन सभी रूल्स को जब तक आप फॉलो नहीं करेंगे तब तक आप इस बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा नहीं पा सकते इसके लिए 24 नियमों को जरूर अपने दिनचर्या में शामिल करें जिसमें सबसे महत्वपूर्ण है खाना खाते समय कभी भी आप पानी कैसे हो ना करें यदि आप खाना खाते हैं खाना खा रहे हैं तो धीरे-धीरे भोजन करें जिससे आपको पानी की जरूरत ना पड़े इसके बाद खाना खाने के तुरंत बाद पानी का सेवन ना करें आयुर्वेद में कहा भी गया है भोजन आंते जलन विषम भोजन के अंत में जल पीना विष के समान है यानी कि 4 के समान है इसलिए खाना खाते समय या खाने के तुरंत बाद पानी का सेवन भूलकर भी ना करें इसके बाद खाना खाने के एक डेढ़ घंटे बाद ही पानी का सेवन करें पानी पिए इसके बाद रात का खाना जो है वह सोने के ढाई घंटा 3 घंटा पहले कर लें और रात का भोजन एकदम हल्का भोजन करें इस बात का ध्यान रखें कि रात का खाना हमें यदि हम 10:00 बजे रात को सोते हैं तो हमें 6:30 या 7:00 बजे तक भोजन कर लेना चाहिए और भोजन करने के एक डेढ़ घंटे बाद थोड़ा पानी पीना चाहिए रात में पानी की मात्रा थोड़ा हमें कमी कर देना चाहिए क्योंकि फिर टॉयलेट के लिए हमें बार-बार उठना पड़ता है जिससे नींद हमारी डिस्टर्ब होती है इसलिए दिन में पानी का सेवन अब खूब करें लेकिन रात में पानी की मात्रा थोड़ा कम कर दे और यदि 6 रोटी का भूख है तो हमें रात में दो रोटी से ज्यादा नहीं खानी चाहिए जिससे भोजन का पाचन अच्छे ढंग से हो जाए और उसके एक डेढ़ घंटे बाद पानी थोड़ा पानी पीकर तब सोने के लिए ऐप बिस्तर पर जाएं इसके बाद एक बात का और ध्यान रखें कि हफ्ते में एक दिन कोई भी एक दिन फिक्स कर ले उस दिन रात का भोजन ना करें रात को भोजन छोड़ दे जिससे हमारा पेट भी एकदम साफ हो जाता है और जितने टॉक्सिंस जो जहरीले तत्व शरीर में जमा रहते हैं वह बाहर निकल जाते हैं इसलिए इन सभी बातों को ध्यान रखें जब तक इन नियमों को आप नहीं अपनाएंगे तब तक आपको दवा खाते रहो जाएंगे कोई लाभ नहीं होगा इसलिए पहले इन नियमों को अपनी दिनचर्या में शामिल करें और इसके आयुर्वेदिक औषधि के लिए आप मुझे पर्सनली कांटेक्ट कर सकते हैं कॉल कर सकते हैं या व्हाट्सएप कर सकते हैं

bawasir piles iske liye ayurvedic aushadhi ke bare me apne poocha hai lekin iske pehle main aapko batana chahta hoon ki isse bahut saare log is rog se peedit hain lekin usme jab tak kuch rules ko follow nahi karenge jab tak khanpan me badlav nahi karenge kaise khana hai kab khana hai paani kab peena hai paani kab nahi peena hai in sabhi rules ko jab tak aap follow nahi karenge tab tak aap is bimari se hamesha ke liye chhutkara nahi paa sakte iske liye 24 niyamon ko zaroor apne dincharya me shaamil kare jisme sabse mahatvapurna hai khana khate samay kabhi bhi aap paani kaise ho na kare yadi aap khana khate hain khana kha rahe hain toh dhire dhire bhojan kare jisse aapko paani ki zarurat na pade iske baad khana khane ke turant baad paani ka seven na kare ayurveda me kaha bhi gaya hai bhojan ante jalan visham bhojan ke ant me jal peena vish ke saman hai yani ki 4 ke saman hai isliye khana khate samay ya khane ke turant baad paani ka seven bhulkar bhi na kare iske baad khana khane ke ek dedh ghante baad hi paani ka seven kare paani piye iske baad raat ka khana jo hai vaah sone ke dhai ghanta 3 ghanta pehle kar le aur raat ka bhojan ekdam halka bhojan kare is baat ka dhyan rakhen ki raat ka khana hamein yadi hum 10 00 baje raat ko sote hain toh hamein 6 30 ya 7 00 baje tak bhojan kar lena chahiye aur bhojan karne ke ek dedh ghante baad thoda paani peena chahiye raat me paani ki matra thoda hamein kami kar dena chahiye kyonki phir toilet ke liye hamein baar baar uthna padta hai jisse neend hamari disturb hoti hai isliye din me paani ka seven ab khoob kare lekin raat me paani ki matra thoda kam kar de aur yadi 6 roti ka bhukh hai toh hamein raat me do roti se zyada nahi khaani chahiye jisse bhojan ka pachan acche dhang se ho jaaye aur uske ek dedh ghante baad paani thoda paani peekar tab sone ke liye app bistar par jayen iske baad ek baat ka aur dhyan rakhen ki hafte me ek din koi bhi ek din fix kar le us din raat ka bhojan na kare raat ko bhojan chhod de jisse hamara pet bhi ekdam saaf ho jata hai aur jitne taksins jo zahreele tatva sharir me jama rehte hain vaah bahar nikal jaate hain isliye in sabhi baaton ko dhyan rakhen jab tak in niyamon ko aap nahi apanaenge tab tak aapko dawa khate raho jaenge koi labh nahi hoga isliye pehle in niyamon ko apni dincharya me shaamil kare aur iske ayurvedic aushadhi ke liye aap mujhe personally Contact kar sakte hain call kar sakte hain ya whatsapp kar sakte hain

बवासीर पाइल्स इसके लिए आयुर्वेदिक औषधि के बारे में अपने पूछा है लेकिन इसके पहले मैं आपको ब

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  153
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!