एक तो भगवान अवतार लेकर लीला करते हैं और दूसरा संसार में जो हो रहा है वह सब भगवान की लीला है दोनों में क्या फर्क है?...


user

gobhaigo.com

Financial Expert

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोनों में कोई फर्क है जब-जब धर्म की हानि ताली तभी अधम अभिमानी का अर्थ भी अगर लगता है परमात्मा को जरूरत नहीं वह खुद आता है और अभी जो हुआ आपने देखा हुआ उसका विशेष मक्कार में थोड़ा में प्रकृति से छेड़छाड़ करना है जो भी चैनल करी थी वह लड़की कर रहे थे यह प्रकृति अपने रूम दिखाती है तो वह क्या कर सकती है क्योंकि आज भी दुखाए गा रहा था इतनी बेरहमी से नहीं था पति के सैनिक दिखा दिया है आदमी को अपनी औकात दिखाई आदमी को अपनी औकात नहीं भूलनी चाहिए कि आदमी 5 फुट का ऑल ओवर 50 अजीत आनंद कारणों से चली आ रही है और चलेगी हमारे आपका फोन नहीं उस पर नहीं पड़ता लेकिन उसकी नहीं होना बहुत फर्क पड़ जाता जिसका अर्थ 12 घंटे के लिए शुरू रुकता है तो इसी औकात नहीं किसी की फसलों को थे सगे पूजनीय उजाला कर सकें अगर भाई कुछ दिन रुक जाए तो किसी की हिम्मत नहीं दोबारा भाई चल अकेला पानी रुक जाए पानी ना रहे तो पानी कहां से लेकर आएंगे हम यह सब परमात्मा होगा तभी जो भी किया है परमात्मा ने वह सिर्फ प्रकृति को सही करने के लिए करा है और जब लगता है पर मन ही आना पड़ता है जरूरी है पर उनका गाना खो जाता है रावण जैसों कंस कंस का वध करने के लिए फार्मूला खोना पड़ता

dono me koi fark hai jab jab dharm ki hani tali tabhi adham abhimani ka arth bhi agar lagta hai paramatma ko zarurat nahi vaah khud aata hai aur abhi jo hua aapne dekha hua uska vishesh makkar me thoda me prakriti se chedchad karna hai jo bhi channel kari thi vaah ladki kar rahe the yah prakriti apne room dikhati hai toh vaah kya kar sakti hai kyonki aaj bhi dukhaya jaayega raha tha itni berehami se nahi tha pati ke sainik dikha diya hai aadmi ko apni aukat dikhai aadmi ko apni aukat nahi bhulni chahiye ki aadmi 5 feet ka all over 50 ajit anand karanon se chali aa rahi hai aur chalegi hamare aapka phone nahi us par nahi padta lekin uski nahi hona bahut fark pad jata jiska arth 12 ghante ke liye shuru rukata hai toh isi aukat nahi kisi ki fasalon ko the sage pujaniya ujaala kar sake agar bhai kuch din ruk jaaye toh kisi ki himmat nahi dobara bhai chal akela paani ruk jaaye paani na rahe toh paani kaha se lekar aayenge hum yah sab paramatma hoga tabhi jo bhi kiya hai paramatma ne vaah sirf prakriti ko sahi karne ke liye kara hai aur jab lagta hai par man hi aana padta hai zaroori hai par unka gaana kho jata hai ravan jaison kans kans ka vadh karne ke liye formula khona padta

दोनों में कोई फर्क है जब-जब धर्म की हानि ताली तभी अधम अभिमानी का अर्थ भी अगर लगता है परमात

Romanized Version
Likes  88  Dislikes    views  576
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!