क्या देश में नए कानून बनने चाहिए या नए नियम को बढ़ावा देना चाहिए?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

3:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां आज देश को ही पापड़ी आ सकता है कि हमें संवैधानिक परिवर्तन किए जाने चाहिए ऐसे कानून बनने चाहिए जो वर्तमान की समय के अनुकूल हो वर्तमान समय की आवश्यकता के अनुकूल हो जो जनहितकारी हो यह बहुत से कानून तो हमारे यहां उस अंग्रेज जमाने के कानून है जो अंग्रेजों ने अपने स्वार्थ के कारण से उस समय ही हो सकता है परिस्थितियों के अनुकूल हो या आवश्यकताओं के अनुकूल हो बाकी मेरा मानना यह है कि विशेष तौर से भी अंग्रेज शासन के अंगूठे कानून चला रखे हैं इन कानूनों के कारण से आते हैं क्योंकि इन कानूनों की झील के कारण से इन कानूनों की कमजोरी होने के कारण अपराधी तत्व बार-बार मशक्कत करके बड़ी मेहनत करके उनको पढ़ती है फिर भी सूख जाते हैं वकीलों ने इनका कोई खिलवाड़ बना रखा है बे इन कानूनों के द्वारा इन कानूनों के खेल में पारंगत हैं कितने हैं एक कानून सरकार इसी अपराध को रोकने के लिए बनाती है वकील उसके लिए चार कानून उसमें से भूटान करके अपराधियों को बचा लेता है यह बड़े दुर्भाग्य से हमारी न्याय प्रक्रिया इतनी धीमी है एक चींटी की गति इतनी तेज होती है लेकिन हमारी कानून की प्रक्रिया उससे भी ज्यादा देनी है यह हमारे दिमाग की कब इसलिए आज हम सभी देशवासियों को इस बात पर विचार करना चाहिए उन नजर कमजोर ढीले कामुकता कर के नए कानून बने अच्छे कानून बने मजबूत कानून बने दिन की पकड़ से एक अपराधी को क्या स्थिति बिना निकल पाए पारदर्शिता पूर्ण कानून हो तो उसका फायदा सभी को मिल सकता है जी यह हमारे क्योंकि दरअसल हमारे देश में जो संपर्क सर्वाधिकार सुरक्षित होते हैं वह सर्वाधिकार संसद पहुंचे हैं इसलिए माननीय सांसद सांसदों को इस बारे में लोकसभा राज्यसभा विचार करके इन लचर कानून को हटाया जा सकता है वे लोग कभी विचार करें और ऐसे गंदे फिर के ढीले कानून उठते हैं जिनके जिनका लाभ अपराधी जगत दे रहा है अपराधी लोग ले रहे हैं अपराध भारत में बढ़ता जा रहा है गेम कमजोरी कानून की है ऐसे कमजोर कानून जो मर जाएंगे सख्त कानून हो जाएंगे तो निश्चित रूप से ही अपराधी तो बात छोड़ो एक चिट्ठी भी हम किस कंधे से नहीं बच पाएगी और कानून का दबदबा बनेगा परिणाम स्वरूप एक शेर और एक बकरी एक गांठ से पानी पी सकेंगे

haan aaj desh ko hi papari aa sakta hai ki hamein samvaidhanik parivartan kiye jaane chahiye aise kanoon banne chahiye jo vartaman ki samay ke anukul ho vartaman samay ki avashyakta ke anukul ho jo janahitkari ho yah bahut se kanoon toh hamare yahan us angrej jamane ke kanoon hai jo angrejo ne apne swarth ke karan se us samay hi ho sakta hai paristhitiyon ke anukul ho ya avashayaktaon ke anukul ho baki mera manana yah hai ki vishesh taur se bhi angrej shasan ke anguthe kanoon chala rakhe hain in kanuno ke karan se aate hain kyonki in kanuno ki jheel ke karan se in kanuno ki kamzori hone ke karan apradhi tatva baar baar mashakkat karke badi mehnat karke unko padhati hai phir bhi sukh jaate hain vakilon ne inka koi khilwad bana rakha hai be in kanuno ke dwara in kanuno ke khel me paarangat hain kitne hain ek kanoon sarkar isi apradh ko rokne ke liye banati hai vakil uske liye char kanoon usme se bhutan karke apradhiyon ko bacha leta hai yah bade durbhagya se hamari nyay prakriya itni dheemi hai ek chinti ki gati itni tez hoti hai lekin hamari kanoon ki prakriya usse bhi zyada deni hai yah hamare dimag ki kab isliye aaj hum sabhi deshvasiyon ko is baat par vichar karna chahiye un nazar kamjor dheele kamukata kar ke naye kanoon bane acche kanoon bane majboot kanoon bane din ki pakad se ek apradhi ko kya sthiti bina nikal paye pardarshita purn kanoon ho toh uska fayda sabhi ko mil sakta hai ji yah hamare kyonki darasal hamare desh me jo sampark sarvadhikar surakshit hote hain vaah sarvadhikar sansad pahuche hain isliye mananiya saansad sansadon ko is bare me lok sabha rajya sabha vichar karke in lachar kanoon ko hataya ja sakta hai ve log kabhi vichar kare aur aise gande phir ke dheele kanoon uthte hain jinke jinka labh apradhi jagat de raha hai apradhi log le rahe hain apradh bharat me badhta ja raha hai game kamzori kanoon ki hai aise kamjor kanoon jo mar jaenge sakht kanoon ho jaenge toh nishchit roop se hi apradhi toh baat chodo ek chitthi bhi hum kis kandhe se nahi bach payegi aur kanoon ka dabdaba banega parinam swaroop ek sher aur ek bakri ek ganth se paani p sakenge

हां आज देश को ही पापड़ी आ सकता है कि हमें संवैधानिक परिवर्तन किए जाने चाहिए ऐसे कानून बनने

Romanized Version
Likes  314  Dislikes    views  4880
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!