स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रही हैं उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छे काम कर रही है?...


user

Vivek Lakhera

Your Friend, Social Worker, Life Counceler , National Thinker,

1:43
Play

Likes  85  Dislikes    views  1707
WhatsApp_icon
23 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

4:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे हैं और सबसे बढ़िया कंपैरिजन का अगर होता है ना तो वही होता है कि हम सारी सारा डाटा पॉइंट ले ले और फिर उनको सब्जेक्टिविटी के हिसाब से नहीं देखे हम हार्ड फैक के ऊपर देखें कि वह किस सरकार ने क्या किया लेकिन ऐसा बड़ा मुश्किल हो जाता है ना आपके पास बैठा होगा ना मेरे पास हो गए इसलिए बताना बड़ा मुश्किल हो जाता है क्योंकि जब से आजाद हुए 70 साल हो गए समझ लीजिए तो भाई इन 70 सालों में कितनी सारी सरकारें आई कोई थोड़ी साइन समय के लिए कोई लंबे समय के लिए आए तो अलग-अलग सरकारों ने उस समय जो ने ठीक लगा उन्होंने वैसा किया उनके जो अपने कार्यकाल में जो जो घटनाएं घटी आया तो उन्होंने उस पर ध्यान दिया या नहीं दिया है जो भी कुछ है इस चीज को एक साथ देखना और कंपेयर करना बड़ा मुश्किल हो जाते हैं आप और हमारे लिए हमारे पास किया था डाटा नहीं है लेकिन अगर हम थोड़ा सा इसको सब्जेक्टिविटी मिला कर देखें कि भाई हमें क्या लगता है उस हिसाब से देखे बिना किसी डाटा देखते हुए देखे तो मोटा मोटा जब से हमने होश संभाला है यह जैसे थोड़ा समझ आने लगा तो आप देखेंगे कि वह पिछले 10000 साल में हमें थोड़ा कुछ समझ आने लगा है कि वह देश चलता कैसे राजनीति क्या होती है वगैरह वगैरह ना ध्यान से देखें में कुछ इंफॉर्मेशन मिलती रहती है हमें पता चलता रहता है लेकिन आप इतना ज्यादा बढ़ गया तो हमें पता लगने लगी वो कह रहा है आंचल में वास्तव में तो हमारा जोआन्डे सैनिकों को थोड़ा स्पर्म होता चला गया तो इस तरीके से मैं देखूं और क्योंकि मैंने इस सरकार को यह जो मोदी सरकार है बीजेपी की सरकार इसको 5 साल में मैंने देखा है और इससे पहले वाली भी तो मनमोहन सिंह जी की सरकार थी उसको भी देखा है तो एक आईडिया है और मैं इन दोनों को कंपेयर करके बना सकता हूं ऐसा देश हमारा गवर्मेंट है यह बहुत बढ़िया काम कर रहे हैं हम इनको सपोर्ट करने की जरूरत है वही एक तो यह होता है कि भाई कोशिश करता है सर करती है सरकार सारे का प्रोजेक्ट में बहुत जरूरी नहीं है सफल हो जाए लेकिन हमें उनको जब हम उनको चुनकर लाते हैं तब हमारे यह दायित्व बनता है कि हम उनको थोड़ा और समय दें हमारे यह फर्ज बनता है कि हम उनके कारण बारे में ना डालें उनके साथ खड़े रह सकते हैं लेकिन तरीका से अभी जो शाहीन बाघ वाला तरीका था वही सीए को लेकर आना से को लेकर क्या वह सही तरीका सही नहीं था ना अभी जैसे सरकार ने भाई और कोविड-19 करो ना वायरस के लिए यह जो हमने लोड किया हुआ है के संचालक डा इसमें जो अभी कुछ हुआ दिल्ली में निजामुद्दीन में क्या वह सही था भाई यह जो तबलीगी समाज का जो रवैया था क्या वह सही था नहीं था ना अनजाने में हूं जाने में हूं जो भी कुछ हो क्या वह सही था नहीं था ना दिल्ली सरकार ने तो बहुत पहले से ही 16 अप्रैल से ही सब लगा रखा था कि भाई आपको ऐसा नहीं कहता मैं ऐसा नहीं करना है लेकिन फिर भी लोगों ने ऐसे क्या तुम्हें मेरा कहने का मतलब यही है कि जाने-अनजाने में हमें थोड़ा सरकार को मदद करना चाहिए हम हम यह देखते हमेशा के लिए सरकार ने क्या कभी हमें भी तो देखना है कि हम ने देश के लिए क्या किया उस समय देश की क्या जरूरत थी और हमने क्या किया वह जैसे आज की तारीख में प्रधानमंत्री ने बोला है आज रात 9:00 बजे सब लोग 9 मिनट के लिए दिया जलाएं टॉर्च द लाइन लाइट लाइट जलाएं जो भी करें आज की तारीख में हमें शहीद भगत सिंह बनने की जरूरत नहीं है ना क्योंकि लेकिन मौका यह कहता है और हमारे देश का नेता ही कहता है कि भाई आज थोड़ा मेरे साथ मेरा साथ दो दुबई क्यों नहीं देना चाहिए हमें इसमें अपना ज्यादा दिमाग नहीं लगाना चाहिए इंटेलिजेंस लगाना नीचे क्योंकि किसी का नुकसान नहीं है अगर कुछ होगा तो फायदा ही होगा भाई का देश के इतने बड़े देश के नेता ने कुछ बोला है तो भाई सही बोला होगा और उन्होंने अपना दिमाग हर बात तो हम आपको हमको बताएंगे नहीं के भाई आज मैंने मीटिंग की तो मैंने यह सोचा ऐसा करना चाहिए ऐसा तो होगा नहीं वह किसी निष्कर्ष पर पहुंचेंगे कोई फैसला लेंगे और हमें उसका पालन करना चाहिए और इस फैसले में जहां पर किसी का कोई नुकसान नहीं है तो क्या जाता है जबकि पर काम करिएगा ठीक कर नहीं रहे हैं लेकिन प्रयास है आनी थी ठीक-ठाक देखती हैं तो उनका जो आयनों अप्रोच है वह ठीक-ठाक दिखता है तो मैं तो उसका समर्थन करता हूं और हमें सरकार का समर्थन करना चाहिए जिस किसी भी तरीके से क्यों किया मैं इसी देश के नागरिक हैं भाई हमारे पर दो दायित्व भी है कि हम एक अपने देश को और सुंदर और विकसित देश बनाने की तरफ से ले जाएं

dekhe hain aur sabse badhiya kampairijan ka agar hota hai na toh wahi hota hai ki hum saari saara data point le le aur phir unko subjectivity ke hisab se nahi dekhe hum hard faik ke upar dekhen ki vaah kis sarkar ne kya kiya lekin aisa bada mushkil ho jata hai na aapke paas baitha hoga na mere paas ho gaye isliye batana bada mushkil ho jata hai kyonki jab se azad hue 70 saal ho gaye samajh lijiye toh bhai in 70 salon me kitni saari sarkaren I koi thodi sign samay ke liye koi lambe samay ke liye aaye toh alag alag sarkaro ne us samay jo ne theek laga unhone waisa kiya unke jo apne karyakal me jo jo ghatnaye ghati aaya toh unhone us par dhyan diya ya nahi diya hai jo bhi kuch hai is cheez ko ek saath dekhna aur compare karna bada mushkil ho jaate hain aap aur hamare liye hamare paas kiya tha data nahi hai lekin agar hum thoda sa isko subjectivity mila kar dekhen ki bhai hamein kya lagta hai us hisab se dekhe bina kisi data dekhte hue dekhe toh mota mota jab se humne hosh sambhala hai yah jaise thoda samajh aane laga toh aap dekhenge ki vaah pichle 10000 saal me hamein thoda kuch samajh aane laga hai ki vaah desh chalta kaise raajneeti kya hoti hai vagera vagera na dhyan se dekhen me kuch information milti rehti hai hamein pata chalta rehta hai lekin aap itna zyada badh gaya toh hamein pata lagne lagi vo keh raha hai aanchal me vaastav me toh hamara joaande sainikon ko thoda sperm hota chala gaya toh is tarike se main dekhu aur kyonki maine is sarkar ko yah jo modi sarkar hai bjp ki sarkar isko 5 saal me maine dekha hai aur isse pehle wali bhi toh manmohan Singh ji ki sarkar thi usko bhi dekha hai toh ek idea hai aur main in dono ko compare karke bana sakta hoon aisa desh hamara government hai yah bahut badhiya kaam kar rahe hain hum inko support karne ki zarurat hai wahi ek toh yah hota hai ki bhai koshish karta hai sir karti hai sarkar saare ka project me bahut zaroori nahi hai safal ho jaaye lekin hamein unko jab hum unko chunkar laate hain tab hamare yah dayitva banta hai ki hum unko thoda aur samay de hamare yah farz banta hai ki hum unke karan bare me na Daalein unke saath khade reh sakte hain lekin tarika se abhi jo saheen bagh vala tarika tha wahi ca ko lekar aana se ko lekar kya vaah sahi tarika sahi nahi tha na abhi jaise sarkar ne bhai aur kovid 19 karo na virus ke liye yah jo humne load kiya hua hai ke sanchalak da isme jo abhi kuch hua delhi me nizamuddin me kya vaah sahi tha bhai yah jo tabaligi samaj ka jo ravaiya tha kya vaah sahi tha nahi tha na anjaane me hoon jaane me hoon jo bhi kuch ho kya vaah sahi tha nahi tha na delhi sarkar ne toh bahut pehle se hi 16 april se hi sab laga rakha tha ki bhai aapko aisa nahi kahata main aisa nahi karna hai lekin phir bhi logo ne aise kya tumhe mera kehne ka matlab yahi hai ki jaane anjaane me hamein thoda sarkar ko madad karna chahiye hum hum yah dekhte hamesha ke liye sarkar ne kya kabhi hamein bhi toh dekhna hai ki hum ne desh ke liye kya kiya us samay desh ki kya zarurat thi aur humne kya kiya vaah jaise aaj ki tarikh me pradhanmantri ne bola hai aaj raat 9 00 baje sab log 9 minute ke liye diya jalaen torch the line light light jalaen jo bhi kare aaj ki tarikh me hamein shaheed bhagat Singh banne ki zarurat nahi hai na kyonki lekin mauka yah kahata hai aur hamare desh ka neta hi kahata hai ki bhai aaj thoda mere saath mera saath do dubai kyon nahi dena chahiye hamein isme apna zyada dimag nahi lagana chahiye intelligence lagana niche kyonki kisi ka nuksan nahi hai agar kuch hoga toh fayda hi hoga bhai ka desh ke itne bade desh ke neta ne kuch bola hai toh bhai sahi bola hoga aur unhone apna dimag har baat toh hum aapko hamko batayenge nahi ke bhai aaj maine meeting ki toh maine yah socha aisa karna chahiye aisa toh hoga nahi vaah kisi nishkarsh par pahunchenge koi faisla lenge aur hamein uska palan karna chahiye aur is faisle me jaha par kisi ka koi nuksan nahi hai toh kya jata hai jabki par kaam kariega theek kar nahi rahe hain lekin prayas hai aani thi theek thak dekhti hain toh unka jo aayanon approach hai vaah theek thak dikhta hai toh main toh uska samarthan karta hoon aur hamein sarkar ka samarthan karna chahiye jis kisi bhi tarike se kyon kiya main isi desh ke nagarik hain bhai hamare par do dayitva bhi hai ki hum ek apne desh ko aur sundar aur viksit desh banane ki taraf se le jayen

देखे हैं और सबसे बढ़िया कंपैरिजन का अगर होता है ना तो वही होता है कि हम सारी सारा डाटा पॉइ

Romanized Version
Likes  702  Dislikes    views  4518
WhatsApp_icon
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

2014 के बाद जब से एनडीए की सरकार बनी है तब से लगातार हिंदुस्तान में अंत्योदय और गरीबों का विकास हो रहा है और सीता कैसे काम हो रहा है और क्या कर रही है और लोगों को जो ईमानदार है मेहंदी लगा पता नहीं

2014 ke baad jab se nda ki sarkar bani hai tab se lagatar Hindustan me antyoday aur garibon ka vikas ho raha hai aur sita kaise kaam ho raha hai aur kya kar rahi hai aur logo ko jo imaandaar hai mehendi laga pata nahi

2014 के बाद जब से एनडीए की सरकार बनी है तब से लगातार हिंदुस्तान में अंत्योदय और गरीबों का

Romanized Version
Likes  691  Dislikes    views  8027
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रहीं हैं उनमें से क्या यह सरकार सबसे अच्छे काम कर रही है तो दिखेगा बताए जाएंगे यह स्वतंत्रता के बाद इंडिपेंडेंस के बाद सरकार समय कांग्रेस की कॉमेंट्री है उसके अलावा दूसरी जनता दल लग रहा है कि सरकारें भी रही है एवं बीजेपी की सरकार बीच में रही थी हालांकि अभी तक जो सरकार की परफॉर्मेस रही है काफी दादा पोती हो रही है काफी ज्यादा बोल डिसीजन सभी लिए गए हैं सरकार द्वारा तो उम्मीद करते हैं किसी तरह से अच्छे डीसीएम गवर्नमेंट लेती रहेगी और देश को आगे प्रगतिशील से विकसित देश बनाने में पूरे पुरजोर कोशिश करेगी मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

aapka prashna swatantrata ke baad jitni bhi sarkaren rahin hain unmen se kya yah sarkar sabse acche kaam kar rahi hai toh dikhega bataye jaenge yah swatantrata ke baad Independence ke baad sarkar samay congress ki commentary hai uske alava dusri janta dal lag raha hai ki sarkaren bhi rahi hai evam bjp ki sarkar beech me rahi thi halaki abhi tak jo sarkar ki parafarmes rahi hai kaafi dada poti ho rahi hai kaafi zyada bol decision sabhi liye gaye hain sarkar dwara toh ummid karte hain kisi tarah se acche DCM government leti rahegi aur desh ko aage pragatisheel se viksit desh banane me poore purjor koshish karegi main subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

आपका प्रश्न स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रहीं हैं उनमें से क्या यह सरकार सबसे अच्छे

Romanized Version
Likes  662  Dislikes    views  8321
WhatsApp_icon
user

Sanjeev Kumar

Health and Fitness Expert

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों कैसे हो चलने से जीतना देना दोस्तों स्वतंत्रता के बाद भी सरकार बनी है मेरा मानना यह है कि मोदी सरकार द बेस्ट क्योंकि मोदी सरकार में वह सब करके दिखाया है वह सब डिसीजन लेकर दिखाए हैं जो किसी सरकार ने नहीं की वो काम किए हैं मोदी सरकार बीजेपी की सरकार है सब्जी भी नहीं की

hello doston kaise ho chalne se jeetna dena doston swatantrata ke baad bhi sarkar bani hai mera manana yah hai ki modi sarkar the best kyonki modi sarkar me vaah sab karke dikhaya hai vaah sab decision lekar dekhiye hain jo kisi sarkar ne nahi ki vo kaam kiye hain modi sarkar bjp ki sarkar hai sabzi bhi nahi ki

हेलो दोस्तों कैसे हो चलने से जीतना देना दोस्तों स्वतंत्रता के बाद भी सरकार बनी है मेरा मान

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  14
WhatsApp_icon
user

Sapna

Social Worker

2:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आंख का प्रश्न है कि स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रही उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छे काम कर रही है तो मैं आपको बताना चाहूंगी कि स्वतंत्रता के पहले जो सरकारें थी उन्होंने जनता का कम अपना ज्यादा विकास किया था और अपने लिए सोचा था मगर आज की जो सरकार है वह मदद तो सबकी कर रही है अब यह बात अलग बात है कि मदद किसी पर पहुंच नहीं पाती इसलिए हमें सरकार के काम नजर नहीं आते सरकार तो हमेशा हमारी मदद के लिए हमेशा यूज बनाती है नियम बनाती है निर्देश देती है मगर जिनकी माध्यम से हमें सहायता मिली चाहिए वह माध्यम ही सही नहीं होते तो उसमें सरकार का क्या दोष है सरकार का कोई दोष नहीं है सरकार को जनता के लिए होती है जनता सरकार के लिए होती है बस जो कारण बनता है वह सरकार जिस माध्यम को चुनती है सबकी सहायता करने के लिए वह माध्यम ही हमें धोखा देता है और हमें सरकार की जो मदद मिलनी चाहिए वह मिल नहीं पाती इसलिए हमें गलत नजर आती है मगर सरकार कभी गलत नहीं होती सरकार सबका हित एवं विकास चाहती है क्योंकि सरकार जनता से होती है जनता से ही सरकार होती है सरकार से जनता होती है तो इसलिए मैं आपको बताना चाहूंगी सरकार कोई भी हो लेकिन सरकार खराब नहीं सरकार जिसके माध्यम से अपनी जनता को परेशानियों से बचाना चाहती है उनको सहायता देने जाती है वह माध्यम सही नहीं होते वह मां हमें धोखा देते हैं और सरकार इसमें दूसरी होती है इसलिए मैं यही कहना चाहूंगी कि हम अपनी सरकार को बताएं कि वह किसी ऐसी माध्यम को को नियम में लाएं जिससे जिसको जो मदद मिलनी चाहिए वह मदद उसे मिल पाए इसलिए इस सरकार पर दोष लगता है वह दोस्त खत्म हो जाए सपना शर्मा

aankh ka prashna hai ki swatantrata ke baad jitni bhi sarkaren rahi unmen kya yah sarkar sabse acche kaam kar rahi hai toh main aapko batana chahungi ki swatantrata ke pehle jo sarkaren thi unhone janta ka kam apna zyada vikas kiya tha aur apne liye socha tha magar aaj ki jo sarkar hai vaah madad toh sabki kar rahi hai ab yah baat alag baat hai ki madad kisi par pohch nahi pati isliye hamein sarkar ke kaam nazar nahi aate sarkar toh hamesha hamari madad ke liye hamesha use banati hai niyam banati hai nirdesh deti hai magar jinki madhyam se hamein sahayta mili chahiye vaah madhyam hi sahi nahi hote toh usme sarkar ka kya dosh hai sarkar ka koi dosh nahi hai sarkar ko janta ke liye hoti hai janta sarkar ke liye hoti hai bus jo karan banta hai vaah sarkar jis madhyam ko chunati hai sabki sahayta karne ke liye vaah madhyam hi hamein dhokha deta hai aur hamein sarkar ki jo madad milani chahiye vaah mil nahi pati isliye hamein galat nazar aati hai magar sarkar kabhi galat nahi hoti sarkar sabka hit evam vikas chahti hai kyonki sarkar janta se hoti hai janta se hi sarkar hoti hai sarkar se janta hoti hai toh isliye main aapko batana chahungi sarkar koi bhi ho lekin sarkar kharab nahi sarkar jiske madhyam se apni janta ko pareshaniyo se bachaana chahti hai unko sahayta dene jaati hai vaah madhyam sahi nahi hote vaah maa hamein dhokha dete hain aur sarkar isme dusri hoti hai isliye main yahi kehna chahungi ki hum apni sarkar ko bataye ki vaah kisi aisi madhyam ko ko niyam me laye jisse jisko jo madad milani chahiye vaah madad use mil paye isliye is sarkar par dosh lagta hai vaah dost khatam ho jaaye sapna sharma

आंख का प्रश्न है कि स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रही उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छे

Romanized Version
Likes  127  Dislikes    views  1066
WhatsApp_icon
user

Vikash Chauhan

Soft Skill Trainer

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल यह है कि स्वतंत्र के बाद इतनी भी सरकार नहीं है उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छा काम कर रही है जी मैं आपको बताना चाहता हूं कि आजादी के बाद जितनी भी सरकारें रही है सबका भारत की प्रगति में कुछ ना कुछ योगदान रहा है हालांकि यह योगदान कम हो जाता रहा है कि सबका रहा है और जो इस समय मौजूदा सरकार है वह काफी अच्छा काम कर रही है इसका वजह यह है कि इसने जो नागरिक है जो गरीब गरीब जनता है उनकी जो मूलभूत समस्या है उनका लगभग निवारण कर चुप कर दिया है और आगे भी इस और उसका नंबर आ रही है और यह सरकार ठोस फैसले लेने में तनिक भी परहेज नहीं करती है इसलिए हमेशा कह सकते हैं कि इस समय जो केंद्र में सरकार है वह काफी सुधरी है धन्यवाद

namaskar aapka sawaal yah hai ki swatantra ke baad itni bhi sarkar nahi hai unmen kya yah sarkar sabse accha kaam kar rahi hai ji main aapko batana chahta hoon ki azadi ke baad jitni bhi sarkaren rahi hai sabka bharat ki pragati me kuch na kuch yogdan raha hai halaki yah yogdan kam ho jata raha hai ki sabka raha hai aur jo is samay maujuda sarkar hai vaah kaafi accha kaam kar rahi hai iska wajah yah hai ki isne jo nagarik hai jo garib garib janta hai unki jo mulbhut samasya hai unka lagbhag nivaran kar chup kar diya hai aur aage bhi is aur uska number aa rahi hai aur yah sarkar thos faisle lene me tanik bhi parhej nahi karti hai isliye hamesha keh sakte hain ki is samay jo kendra me sarkar hai vaah kaafi sudhari hai dhanyavad

नमस्कार आपका सवाल यह है कि स्वतंत्र के बाद इतनी भी सरकार नहीं है उनमें क्या यह सरकार सबसे

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  176
WhatsApp_icon
user
5:20
Play

Likes  146  Dislikes    views  933
WhatsApp_icon
user
0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उस समय ये सरकारें हैं वहां की प्रतिक्रिया जाने उनके पास क्या साधन लेकर आने से या उनके मानसिक स्तर जैसे काम किया था तो पूरा किया इंदिरा गांधी का गेम खेलें बांग्लादेश पाकिस्तान भी बहुत ही अच्छा कार्य कर रही है यही भाई 70 साल पुरानी जो कार्य में गए थे पूरा कर रही है

us samay ye sarkaren hain wahan ki pratikriya jaane unke paas kya sadhan lekar aane se ya unke mansik sthar jaise kaam kiya tha toh pura kiya indira gandhi ka game khele bangladesh pakistan bhi bahut hi accha karya kar rahi hai yahi bhai 70 saal purani jo karya me gaye the pura kar rahi hai

उस समय ये सरकारें हैं वहां की प्रतिक्रिया जाने उनके पास क्या साधन लेकर आने से या उनके मानस

Romanized Version
Likes  210  Dislikes    views  2125
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

5:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यस इस बात में कोई दो राय नहीं कि भारत में अधिकतर 2KG शासन रहे 60 साल एक क्रीम एक पार्टी ने शासन किया कि 15 साल की अन्य छोटी पार्टियों की इनके साथ साथ हैं लेकिन फिर भी यह कहना पड़ेगा यदि उसे कम पर करो 59 सालों में गबन घोटालों रिश्वतखोरी की पराकाष्ठा हो गई थी इतने अधिक गमन घोटाले किए और विशेष तौर से उन नेताओं के तो जिनके यहां सब को पढ़ रहे हो उनके विदेशों में पैसा जमा है विदेशों के बैंकों में जमा है यहां भी उनपर पास अरबों खरबों की संपत्ति या है इस बात की सूचक है और उनकी कंपेयर तो बीजेपी का शासन फिर भी ठीक है आदरणीय मोदी जी को इसमें कोई दो राय नहीं है उनकी कंपेयर में तो आदरणीय मोदी जी का शासन बहुत अच्छा है आदरणीय मोदी जी रोक प्रयास कर रहे हैं योगी जी अमित शाह जी आदरणीय मोदी जी ने जो टीम है वह भ्रष्टाचार को कम करने का प्रयास कर रही है लेकिन मैं अच्छी तरह जानता हूं अकेला चना कभी भाड़ नहीं फोड़ सकता है यह मुट्ठी वर्ग तीन चार पांच लोग यदि भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी कवन घोटालों को कम करना चाहे तो यह कभी कम नहीं हो सकता है क्यों कम नहीं हो सकता है उसका मेन कारण यह भारतीय जनता भ्रष्टाचार में लोग भी कम नहीं है क्योंकि उसको वोट देने का अधिकार संविधान के द्वारा मूल अधिकार दिया हुआ है उसको भी यह लोग जातिवाद के नाम पर धर्म के नाम पर बाढ़ क्षेत्र भात के नाम पर 115 पीके में भेजते हैं इससे बड़ी क्या गंदी बातों की छवि के ईमानदार व्यक्ति को आप चुनाव राजनीति में खड़ा करते हैं तो उस व्यक्ति को 10 वोट नहीं आते हैं ऐसे झूठे कप T20 फायदे करने वाले कथनी करनी मंत्र ने वाले स्वार्थी खुदगर्ज नेताजी जाते हैं जो राष्ट्रीय तक के बारे में कभी नहीं सोचते जो देश हित के बारे में नहीं सोचा मैं मेरा करने से और कुछ आता ही नहीं जो सत्ता के लिए लालची हैं जो सत्ता के भूखे हैं जिनके लिए सत्ता प्राप्त करना सत्ता को उलट ना सुख प्राप्त करना ही जिनका ध्यान रहता है उसी के लिए अवसरवादी हैं उसी के लिए ही भेज रातोंरात बदल भी कर लेते हैं वही पार्टी किस पार्टी का कोई नेता कब रात में कब किसी पार्टी में चला जाए कोई भरोसा नहीं है यह सब हो रहा है लेकिन आदरणीय मोदी जी और योगी की ओर रुख कर रहे हैं कुछ लोग हैं मुट्ठी भर हैं जब तक जनता इसके लिए तैयार नहीं होगी जनता की 98 लेगी कैसे अपडेट जिनके संरक्षण में भ्रष्टाचार घोटाले पनप रहे हैं ऐसे लोगों को ऐसे नेताओं के चेहरे पहचान करके उन्हें पराजित करके घर नहीं बैठेगी तब तक शायद देश से भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी गवनवा ले नहीं जा सकते हैं मेरा तो मानना यहां तक है ऐसे भ्रष्ट नेताओं के पूरी संपत्ति चल अचल संपत्ति को ज़ब्त कर लिया जाए इनके समस्त बैंक के धन को ले लिया जाए क्योंकि गवर्नमेंट को लेने का अधिकार है क्योंकि सब देश का पैसा है जिन्होंने कवन घोटालों के द्वारा अपना पैसा प्रभाव किस बात का है कि भारत में उनको सफलता प्राप्त है कोर्ट से पूर्व हो नहीं सकता क्योंकि माननीय मोदी जी ने यह कहा था कि मैं काला धन को वापस लेकर आऊंगा अमूल मोदी जी इसलिए इस ब्लैक लिस्ट बात नहीं कर पाते हैं क्योंकि इसमें बीजेपी की भी चपेट लीडर हैं ऐसा नहीं इनकार नहीं किया जा सकता क्योंकि हमाम में सभी नंगे हैं इसलिए सरकार ऐसे लोगों की काली सूची जारी करने में संकोच करती है क्योंकि सरकार को वोटों की राजनीति है सरकार की सरकार गिर सकती है इसलिए इनकी काली सूट नहीं होती है वरना इन लोगों के ऐसे जो काले कारनामे करने वाले गाउन घोटाले करने वाले जिन्होंने अथाह संपत्ति को कटा कर लिया अब उस संपत्ति को खट्टा कर लिया है समस्त संपत्ति जप्त कर ली जाए गवर्नमेंट के में लोकहित में तो कोई बहुत अच्छी बात होगी बहुत लोक हितकारी बात होगी लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि शायद ऐसा नहीं हो पाएगा क्योंकि मोदी जी को भी अब दोबारा सत्ता में आना है मोदी जी को वोटों की राजनीति में लेना है भावों की बहुत मोटो से ही बिजी जीतेंगे जमीन सरकार बना पाएंगे लेकिन फिर भी मैं यह कह सकता हूं और पार्टियों के शासन से आदरणीय मोदी जी का शासन बहुत ही अच्छा है उनसे तो बहुत अच्छा है जो भवन को खाली करके जनों ने संपत्तियां टट्टी करनी है

haan Yes is baat me koi do rai nahi ki bharat me adhiktar 2KG shasan rahe 60 saal ek cream ek party ne shasan kiya ki 15 saal ki anya choti partiyon ki inke saath saath hain lekin phir bhi yah kehna padega yadi use kam par karo 59 salon me gaban ghotalo rishwat khori ki parakashtha ho gayi thi itne adhik gaman ghotale kiye aur vishesh taur se un netaon ke toh jinke yahan sab ko padh rahe ho unke videshon me paisa jama hai videshon ke bankon me jama hai yahan bhi unpar paas araboon kharbo ki sampatti ya hai is baat ki suchak hai aur unki compare toh bjp ka shasan phir bhi theek hai adaraniya modi ji ko isme koi do rai nahi hai unki compare me toh adaraniya modi ji ka shasan bahut accha hai adaraniya modi ji rok prayas kar rahe hain yogi ji amit shah ji adaraniya modi ji ne jo team hai vaah bhrashtachar ko kam karne ka prayas kar rahi hai lekin main achi tarah jaanta hoon akela chana kabhi bhad nahi fod sakta hai yah mutthi varg teen char paanch log yadi bhrashtachar rishwat khori coven ghotalo ko kam karna chahen toh yah kabhi kam nahi ho sakta hai kyon kam nahi ho sakta hai uska main karan yah bharatiya janta bhrashtachar me log bhi kam nahi hai kyonki usko vote dene ka adhikaar samvidhan ke dwara mul adhikaar diya hua hai usko bhi yah log jaatiwad ke naam par dharm ke naam par baadh kshetra bhat ke naam par 115 pk me bhejate hain isse badi kya gandi baaton ki chhavi ke imaandaar vyakti ko aap chunav raajneeti me khada karte hain toh us vyakti ko 10 vote nahi aate hain aise jhuthe cup T20 fayde karne waale kathni karni mantra ne waale swaarthi khudagarj netaji jaate hain jo rashtriya tak ke bare me kabhi nahi sochte jo desh hit ke bare me nahi socha main mera karne se aur kuch aata hi nahi jo satta ke liye lalchi hain jo satta ke bhukhe hain jinke liye satta prapt karna satta ko ulat na sukh prapt karna hi jinka dhyan rehta hai usi ke liye avasaravadi hain usi ke liye hi bhej ratonrat badal bhi kar lete hain wahi party kis party ka koi neta kab raat me kab kisi party me chala jaaye koi bharosa nahi hai yah sab ho raha hai lekin adaraniya modi ji aur yogi ki aur rukh kar rahe hain kuch log hain mutthi bhar hain jab tak janta iske liye taiyar nahi hogi janta ki 98 legi kaise update jinke sanrakshan me bhrashtachar ghotale panap rahe hain aise logo ko aise netaon ke chehre pehchaan karke unhe parajit karke ghar nahi baithegi tab tak shayad desh se bhrashtachar rishwat khori gavnava le nahi ja sakte hain mera toh manana yahan tak hai aise bhrasht netaon ke puri sampatti chal achal sampatti ko zabt kar liya jaaye inke samast bank ke dhan ko le liya jaaye kyonki government ko lene ka adhikaar hai kyonki sab desh ka paisa hai jinhone coven ghotalo ke dwara apna paisa prabhav kis baat ka hai ki bharat me unko safalta prapt hai court se purv ho nahi sakta kyonki mananiya modi ji ne yah kaha tha ki main kaala dhan ko wapas lekar aaunga amul modi ji isliye is black list baat nahi kar paate hain kyonki isme bjp ki bhi chapet leader hain aisa nahi inkar nahi kiya ja sakta kyonki hamam me sabhi nange hain isliye sarkar aise logo ki kali suchi jaari karne me sankoch karti hai kyonki sarkar ko voton ki raajneeti hai sarkar ki sarkar gir sakti hai isliye inki kali suit nahi hoti hai varna in logo ke aise jo kaale kaarname karne waale gown ghotale karne waale jinhone athah sampatti ko kata kar liya ab us sampatti ko khatta kar liya hai samast sampatti japt kar li jaaye government ke me lokhit me toh koi bahut achi baat hogi bahut lok hitkari baat hogi lekin durbhagya is baat ka hai ki shayad aisa nahi ho payega kyonki modi ji ko bhi ab dobara satta me aana hai modi ji ko voton ki raajneeti me lena hai bhavon ki bahut moto se hi busy jitenge jameen sarkar bana payenge lekin phir bhi main yah keh sakta hoon aur partiyon ke shasan se adaraniya modi ji ka shasan bahut hi accha hai unse toh bahut accha hai jo bhawan ko khaali karke jano ne sampattiyan tatti karni hai

हां यस इस बात में कोई दो राय नहीं कि भारत में अधिकतर 2KG शासन रहे 60 साल एक क्रीम एक पार्ट

Romanized Version
Likes  304  Dislikes    views  4751
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वतंत्र भारत के बाद स्वतंत्र भारत के जितने भी सरकारी आज तक रहेंगे उन सरकारों में किसी भी सरकार ने कोई इतना बुरा काम नहीं किया दुनिया में को अपमान का सामना करना पड़े और जनता को दुख के दिन देखने पड़े अर्जुन ठाकोर कस्टमर ही हो चिंता में नफरत में भेदभाव में दुखों में हाल ही में बीमारी में फंसी रही हो अब दुआएं करती रही हो कि कैसे हम जिएंगे क्योंकि महाराज जीवन यापन चलेगा ऐसी सरकार कोई भी नहीं लेकिन हां उन सरकारों के में भारत दुनिया की दूसरी शक्ति बन गया जिसका कहीं कोई नामोनिशान नहीं था कि भारत कुछ है बांग्लादेश एक निर्भर देश आचार्य ड्रेस दुनिया की तीसरी शक्ति बन गया उन सरकारों का अवसर मिलता है तो निश्चित रूप से दुनिया की नंबर एक सकते हो लेकिन कक्षा वर्षों से भारत 100 साल पीछे चला गया और 6 साल कोई दिन ऐसा नहीं जनता के मन में डर भय दुख तकलीफ केवल भक्तों को छोड़कर क्योंकि उनकी आंखों पर अज्ञानता का चश्मा चलाओ सिर्फ हिंदू वाद मुस्लिम बात सिर्फ जुमलेबाजी सिर्फ धोखाधड़ी भ्रष्टाचारी को बढ़ावा इस सरकार ने कमाल कर दिया वे स्वीकार कर लिया जो 70 सालों में नहीं हुआ वह सारे अत्याचारों सारे भ्रष्टाचार इन 6 सालों में हो गए

swatantra bharat ke baad swatantra bharat ke jitne bhi sarkari aaj tak rahenge un sarkaro me kisi bhi sarkar ne koi itna bura kaam nahi kiya duniya me ko apman ka samana karna pade aur janta ko dukh ke din dekhne pade arjun thakor customer hi ho chinta me nafrat me bhedbhav me dukhon me haal hi me bimari me fansi rahi ho ab duaen karti rahi ho ki kaise hum jeeenge kyonki maharaj jeevan yaapan chalega aisi sarkar koi bhi nahi lekin haan un sarkaro ke me bharat duniya ki dusri shakti ban gaya jiska kahin koi namonishan nahi tha ki bharat kuch hai bangladesh ek nirbhar desh aacharya dress duniya ki teesri shakti ban gaya un sarkaro ka avsar milta hai toh nishchit roop se duniya ki number ek sakte ho lekin kaksha varshon se bharat 100 saal peeche chala gaya aur 6 saal koi din aisa nahi janta ke man me dar bhay dukh takleef keval bhakton ko chhodkar kyonki unki aakhon par agyanata ka chashma chalao sirf hindu vad muslim baat sirf jumlebaji sirf dhokhadhari bhrashtachaari ko badhawa is sarkar ne kamaal kar diya ve sweekar kar liya jo 70 salon me nahi hua vaah saare atyacharo saare bhrashtachar in 6 salon me ho gaye

स्वतंत्र भारत के बाद स्वतंत्र भारत के जितने भी सरकारी आज तक रहेंगे उन सरकारों में किसी भी

Romanized Version
Likes  353  Dislikes    views  5682
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

3:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका स्नेह तनुजा के बाद जितनी भी सरकारें रहीं हैं उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छा काम कर रही है अलग-अलग कालखंड में सरकार द्वारा किए गए कामों की इस तरह की तुलना करना उचित नहीं है और ज्यादा सार्थक भी नहीं है अलग-अलग समय में देश की अलग-अलग पोस्ट इतनी अच्छी हर परिस्थितियों में जो है सर्वोत्तम दिया है जिसका सामना किया जा सके चुनौतियों का मुकाबला किया जा सके जैसे लाल बहादुर शास्त्री के सम्मान में चाइना ने अटैक किया था पाकिस्तान में कैद किया था और उसका मुंहतोड़ जवाब दिया था भीषण संकट अकाल का आया था बहुत अच्छी तरीके से प्रियंका को संभाला था इंदिरा गांधी ने बांग्लादेश को आजाद कराया था पाकिस्तान की तबीयत वह कार्यकाल में विशेष गांधी का अच्छा सा अटल बिहारी वाजपेई के कार्यकाल में परमाणु परीक्षण का सफल कार्यक्रम हुआ और प्रधानमंत्री सड़क योजना की शुरुआत हुई नदियों के जोड़ने के लिए चतुर्भुज योजना का लाभ हुआ ललितपुर सिंगरौली रेल लाइन पुजवा बदल के संबंध में हुई परीक्षा के बाद भारत की परवाह न करते हुए उन्होंने उस को जारी रखा और अमेरिका और मोदी जी का जो कालखंड है इसमें देश में अलग किया कि आतंकवाद हावी था काला धन बहुत सारी विसंगतियां और धमकियां थी इन सब को दूर करने के लिए पाकिस्तान की आतंकवादी गतिविधियों का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की उसके बाद बालाकोट एयर स्ट्राइक किया नोटबंदी की सीएल लागू किया राम मंदिर का निर्णय उनके काल में हुआ धारा 370 हटाए खंड में भी अच्छे अच्छे काम हो रहे हैं निश्चित रूप से वर्तमान सरकार काम कर रही है

aapka sneh tanuja ke baad jitni bhi sarkaren rahin hain unmen kya yah sarkar sabse accha kaam kar rahi hai alag alag kalakhand me sarkar dwara kiye gaye kaamo ki is tarah ki tulna karna uchit nahi hai aur zyada sarthak bhi nahi hai alag alag samay me desh ki alag alag post itni achi har paristhitiyon me jo hai sarvottam diya hai jiska samana kiya ja sake chunautiyon ka muqabla kiya ja sake jaise laal bahadur shastri ke sammaan me china ne attack kiya tha pakistan me kaid kiya tha aur uska muhtod jawab diya tha bhishan sankat akaal ka aaya tha bahut achi tarike se priyanka ko sambhala tha indira gandhi ne bangladesh ko azad karaya tha pakistan ki tabiyat vaah karyakal me vishesh gandhi ka accha sa atal bihari vajpayee ke karyakal me parmanu parikshan ka safal karyakram hua aur pradhanmantri sadak yojana ki shuruat hui nadiyon ke jodne ke liye chaturbhuj yojana ka labh hua lalitpur singrauli rail line pujva badal ke sambandh me hui pariksha ke baad bharat ki parvaah na karte hue unhone us ko jaari rakha aur america aur modi ji ka jo kalakhand hai isme desh me alag kiya ki aatankwad haavi tha kaala dhan bahut saari visangatiyan aur dhamkiyan thi in sab ko dur karne ke liye pakistan ki aatankwadi gatividhiyon ka muhtod jawab dene ke liye surgical strike ki uske baad balakot air strike kiya notebandi ki cl laagu kiya ram mandir ka nirnay unke kaal me hua dhara 370 hataye khand me bhi acche acche kaam ho rahe hain nishchit roop se vartaman sarkar kaam kar rahi hai

आपका स्नेह तनुजा के बाद जितनी भी सरकारें रहीं हैं उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छा काम कर रह

Romanized Version
Likes  230  Dislikes    views  2266
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा आजाद हुआ तब तो सकते हैं और आप दूसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री के पास गया काम कर रहे हैं और हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले दो-तीन कार्यकाल उनके और होंगे और कार्यकाल में भारत को विकसित देश की दम लेंगे

bhajpa azad hua tab toh sakte hain aur aap dusre karyakal me pradhanmantri ke paas gaya kaam kar rahe hain aur hum ummid karte hain ki aane waale do teen karyakal unke aur honge aur karyakal me bharat ko viksit desh ki dum lenge

भाजपा आजाद हुआ तब तो सकते हैं और आप दूसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री के पास गया काम कर रहे

Romanized Version
Likes  306  Dislikes    views  3853
WhatsApp_icon
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपस में स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकार आ रही हैं उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छी काम कर रही है आप अपने परिवार में देखें आप की आज तक की जितनी भी पीढ़ियां रही हैं 1950 में कोई युवा राजपूत सबसे अच्छी कौन सी है आपके पास जो मोबाइल है सबसे अच्छा टेक्नोलॉजी वाला मोबाइल कौन सा है इस साल पुरानी है तो निश्चित रूप से जो भी कोई आज होता है वह पहले से बेहतर होता है यह हमेशा कायम रहा है आज सरकार है उन क्षेत्रों से पहले से काम अच्छे कर जाइए क्योंकि टेक्नोलॉजी ज्यादा है उसके पास एक्सपोजर ज्यादा है उसके पास संसाधन ज्यादा है तो बेहतर तरीके से कार्य कर पा रही है 20 साल पहले तक किसी को पता नहीं था एक समस्या है लेकिन अब तक इस समस्या पर चली जा चुकी है और उसका समाधान खोजने सरकार बेहतर कार्य कर रही है देश और समय आगे बढ़ता है अब जो सरकार आएगी वह किसी की भी इनसे बेहतर कार्य करेगी हर सरकार अपनी पिछली सरकारों से बेहतर कार्य करती है हर समय आज का पिछले समय से अपग्रेडेड समय होता है और भीतर कार होती हैं

aapas me swatantrata ke baad jitni bhi sarkar aa rahi hain unmen kya yah sarkar sabse achi kaam kar rahi hai aap apne parivar me dekhen aap ki aaj tak ki jitni bhi peedhiyaan rahi hain 1950 me koi yuva rajput sabse achi kaun si hai aapke paas jo mobile hai sabse accha technology vala mobile kaun sa hai is saal purani hai toh nishchit roop se jo bhi koi aaj hota hai vaah pehle se behtar hota hai yah hamesha kayam raha hai aaj sarkar hai un kshetro se pehle se kaam acche kar jaiye kyonki technology zyada hai uske paas exposure zyada hai uske paas sansadhan zyada hai toh behtar tarike se karya kar paa rahi hai 20 saal pehle tak kisi ko pata nahi tha ek samasya hai lekin ab tak is samasya par chali ja chuki hai aur uska samadhan khojne sarkar behtar karya kar rahi hai desh aur samay aage badhta hai ab jo sarkar aayegi vaah kisi ki bhi inse behtar karya karegi har sarkar apni pichali sarkaro se behtar karya karti hai har samay aaj ka pichle samay se upgraded samay hota hai aur bheetar car hoti hain

आपस में स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकार आ रही हैं उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छी काम कर र

Romanized Version
Likes  89  Dislikes    views  1627
WhatsApp_icon
user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रही है उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छे काम कर रही है निश्चित रूप से जितनी सरकार एमपी सरकार आ रही हैं उसमें यह मोदी की सरकार निश्चित रूप से अच्छा काम कर रही है

swatantrata ke baad jitni bhi sarkaren rahi hai unmen kya yah sarkar sabse acche kaam kar rahi hai nishchit roop se jitni sarkar MP sarkar aa rahi hain usme yah modi ki sarkar nishchit roop se accha kaam kar rahi hai

स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रही है उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छे काम कर रही है निश

Romanized Version
Likes  212  Dislikes    views  1240
WhatsApp_icon
user
1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सांचौर नमस्कार क्वेश्चन बहुत अच्छा है स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें नहीं है क्या उन सब में सरकार का सबसे अच्छा काम है देखो यहां पर समझने की जरूरत है स्वतंत्रता आज के 77 साल सामने पहले भारत की स्थिति क्या थी तब उस समय लोगों के पास खाने के लिए वस्तुओं नहीं कि देश का प्रोडक्शन डाउन था चीजें बहुत डाउन थे जितना पैदा होता था उससे ज्यादा लोग आ जाते थे हमारी पहले की तरकारी विदेश से दाल चावल आटा को मंगाती थी पता लग 20 बीघा खेत में 1 साल के लिए खाने भर के लिए कुछ नहीं होता था लेकिन पढ़ाई तो आज यहां पर मौजूदा जो सरकार है उसको यह आपको सोचने और समझने की जरूरत में एजुकेशन सिस्टम बहुत डाउन था एक-एक गांव में कोई नहीं होता था कि आता था उनको बड़ा तथा पूर्व की सरकारों ने देश को इस स्थिति में पहुंचाया है खाने के लिए भी चीजें हैं लोग पढ़े लिखे नहीं हैं और गाड़ी रेलवे और सब सब सारी चीजें डिवेलप हो की है तो मौजूदा सरकार को जो प्लेटफार्म मिला है और पूर्व की सरकारों को जो प्लेटफार्म मिला था काफी अंतर अंतर था इस तरह की सरकार को जो प्लेटफार्म मिला है स्थिति अच्छी है सब कुछ अच्छी है सब कमा रहे हैं सब खा रहे पहले लोगों की मानसिकता ना तो एजुकेशन को लेकर की थी ना काम को लेकर थी वह घर में ही पड़े रहते थे से खेती को पर डिपेंड करते थे आज देश-विदेश अब बाहर कमाने जा रहे हैं तो यह जो इतनी अच्छी इमारत खड़ी की है तो पूर्व की सरकारों ने ही खड़ी की है जिस पर राज्य सरकार काम कर रही है

sanchor namaskar question bahut accha hai swatantrata ke baad jitni bhi sarkaren nahi hai kya un sab me sarkar ka sabse accha kaam hai dekho yahan par samjhne ki zarurat hai swatantrata aaj ke 77 saal saamne pehle bharat ki sthiti kya thi tab us samay logo ke paas khane ke liye vastuon nahi ki desh ka production down tha cheezen bahut down the jitna paida hota tha usse zyada log aa jaate the hamari pehle ki tarkari videsh se daal chawal atta ko mangati thi pata lag 20 bigha khet me 1 saal ke liye khane bhar ke liye kuch nahi hota tha lekin padhai toh aaj yahan par maujuda jo sarkar hai usko yah aapko sochne aur samjhne ki zarurat me education system bahut down tha ek ek gaon me koi nahi hota tha ki aata tha unko bada tatha purv ki sarkaro ne desh ko is sthiti me pahunchaya hai khane ke liye bhi cheezen hain log padhe likhe nahi hain aur gaadi railway aur sab sab saari cheezen develop ho ki hai toh maujuda sarkar ko jo platform mila hai aur purv ki sarkaro ko jo platform mila tha kaafi antar antar tha is tarah ki sarkar ko jo platform mila hai sthiti achi hai sab kuch achi hai sab kama rahe hain sab kha rahe pehle logo ki mansikta na toh education ko lekar ki thi na kaam ko lekar thi vaah ghar me hi pade rehte the se kheti ko par depend karte the aaj desh videsh ab bahar kamane ja rahe hain toh yah jo itni achi imarat khadi ki hai toh purv ki sarkaro ne hi khadi ki hai jis par rajya sarkar kaam kar rahi hai

सांचौर नमस्कार क्वेश्चन बहुत अच्छा है स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें नहीं है क्या उन स

Romanized Version
Likes  147  Dislikes    views  1251
WhatsApp_icon
user

umrao Singh

Professor ( Ph.d)

3:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत 1947 में स्वतंत्र हुआ था और स्वतंत्रता के उपरांत 26 जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधान विधिवत रूप से लागू किया गया है तो संविधान लागू होने के समय से लेकर वर्तमान समय तक केंद्रीय में अनेक सरकारों का गठन हो चुका है तब से लेकर अभी तक 17 लोकसभा गठित हो चुके हैं या यूं कह सकते हैं कि 17 सरकारी गठित हो चुके हैं प्रत्येक काल परिस्थिति के अनुसार हर सरकार को अपना कार्य करना होता है क्योंकि किसी भी सरकार के कार्यों व सिद्धांतों का निर्धारण उसके नेतृत्व करता उस समय की परिस्थितियों और संसाधनों पर निर्भर करता है तो इसलिए यह कहना अधिक उचित होगा कि सरकारें परिस्थितियों और संसाधनों के अनुसार ही काम करती है और उसी के अनुसार अच्छी और बुरी होती हैं कोई भी सरकार बुरी तो नहीं कह सकते कि सभी सरकारी बुझी हुई या सभी सरकारें अच्छी हुई या यही सरकार अच्छी है क्योंकि जब स्टार्ट हमारे पास संसाधन नहीं थे परिस्थितियां विपरीत थी अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था भी प्रीति तो ऐसी परिस्थिति में हमने एक नए भारत की ओर कदम रखा तो उस टाइम भी नेहरू के युग को बहुत से लोगों ने गोल्डन एज के रूप में कहना शुरू कर दिया था क्योंकि नेहरू के समय भारत में चाय इंफ्रास्ट्रक्चर शो चाय साइंस एंड टेक्नोलॉजी हो चाय एजुकेशन सोचा इस समाज को अर्थव्यवस्थाओं हर चीज में एक नई शुरुआत थी उसके बाद कुछ प्रधानमंत्री के इंदिरा गांधी मेनी इंदिरा गांधी ने भी अपने व्यक्तित्व के अनुकूल उस व्यवस्था को बदलें तो उस टाइम भी इंदिरा गांधी को लोग एक दीदी के रूप में पूछने लग गए थे और इंदिरा गांधी मैं ही अपने देश के विकास की छवि देखने लग गए थे तो उस टाइम भी लोगों ने इंदिरा गांधी की सरकार वहीं सर्वश्रेष्ठ सरकार कहना शुरू कर दिया हालांकि बाद में राजीव गांधी के दौर में थोड़े से व्यवस्था और बदली लेकिन कोई प्रधानमंत्री स्पष्ट रूप से इस तरह से अपने करिश्माई व्यक्तित्व के आधार पर संगठित नहीं कर पाया बाद में अटल बिहारी वाजपेई के उपरांत और वर्तमान में नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने व्यक्तित्व और बहुमत के आधार पर इस व्यवस्था को बदला है तो इसलिए अगर लोकसभा और राज्यसभा में या संपूर्ण भारत में व्यवस्था उस सत्ता पक्ष या सत्ता दल के अधीन होता है या अंतर्गत होता है और नेतृत्व करता उसके गुणों वाला है तो वह सरकार कुछ हद तक अपने श्रेष्ठ कार्यों को करने की कोशिश करती है तो इसलिए सरकार है सब अपनी परिस्थिति के अनुसार श्रेष्ठ ही फोड़ते हैं धन्यवाद

bharat 1947 me swatantra hua tha aur swatantrata ke uprant 26 january 1950 ko hamare desh ka samvidhan vidhivat roop se laagu kiya gaya hai toh samvidhan laagu hone ke samay se lekar vartaman samay tak kendriya me anek sarkaro ka gathan ho chuka hai tab se lekar abhi tak 17 lok sabha gathit ho chuke hain ya yun keh sakte hain ki 17 sarkari gathit ho chuke hain pratyek kaal paristhiti ke anusaar har sarkar ko apna karya karna hota hai kyonki kisi bhi sarkar ke karyo va siddhanto ka nirdharan uske netritva karta us samay ki paristhitiyon aur sansadhano par nirbhar karta hai toh isliye yah kehna adhik uchit hoga ki sarkaren paristhitiyon aur sansadhano ke anusaar hi kaam karti hai aur usi ke anusaar achi aur buri hoti hain koi bhi sarkar buri toh nahi keh sakte ki sabhi sarkari bujhi hui ya sabhi sarkaren achi hui ya yahi sarkar achi hai kyonki jab start hamare paas sansadhan nahi the paristhiyaann viprit thi antararashtriya vyavastha bhi preeti toh aisi paristhiti me humne ek naye bharat ki aur kadam rakha toh us time bhi nehru ke yug ko bahut se logo ne golden age ke roop me kehna shuru kar diya tha kyonki nehru ke samay bharat me chai infrastructure show chai science and technology ho chai education socha is samaj ko arthavyavasthaon har cheez me ek nayi shuruat thi uske baad kuch pradhanmantri ke indira gandhi many indira gandhi ne bhi apne vyaktitva ke anukul us vyavastha ko badale toh us time bhi indira gandhi ko log ek didi ke roop me poochne lag gaye the aur indira gandhi main hi apne desh ke vikas ki chhavi dekhne lag gaye the toh us time bhi logo ne indira gandhi ki sarkar wahi sarvashreshtha sarkar kehna shuru kar diya halaki baad me rajeev gandhi ke daur me thode se vyavastha aur badli lekin koi pradhanmantri spasht roop se is tarah se apne karishmai vyaktitva ke aadhar par sangathit nahi kar paya baad me atal bihari vajpayee ke uprant aur vartaman me narendra modi sarkar ne apne vyaktitva aur bahumat ke aadhar par is vyavastha ko badla hai toh isliye agar lok sabha aur rajya sabha me ya sampurna bharat me vyavastha us satta paksh ya satta dal ke adheen hota hai ya antargat hota hai aur netritva karta uske gunon vala hai toh vaah sarkar kuch had tak apne shreshtha karyo ko karne ki koshish karti hai toh isliye sarkar hai sab apni paristhiti ke anusaar shreshtha hi fodte hain dhanyavad

भारत 1947 में स्वतंत्र हुआ था और स्वतंत्रता के उपरांत 26 जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  257
WhatsApp_icon
user
1:34
Play

Likes  25  Dislikes    views  503
WhatsApp_icon
play
user
1:40

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जानते हैं हम जानना चाहते हैं कि स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रही हैं उनमें क्या यह सर का सबसे अच्छा काम कर रही है जी हां स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रहीं हैं उनसे यह मोदी सरकार अच्छे काम कर रहे आप बुरा मानेंगे मेरी बातों को लेकर लेकिन मोदी सरकार ने बहुत सारे काम किए लेकिन अन्य शाखा जो पिछले पिछले कुछ सालों में नहीं है उन्होंने कुछ ज्यादा काम नहीं किया मोदी सरकार ने एक स्मार्ट इंडिया बनाने का फैसला लिया आपको कहीं भी सी फॉर्म भरने के लिए बहुत सारे कागजात ले जाने पर देते जन्मतिथि उसके बाद आप का आवास प्रमाण पत्र और जाति प्रमाण पत्र बहुत सारे लेजा लेजा करते थे लेकिन जैसे ही आधार कार्ड आया सभी लोग एक आधार कार्ड से ही सहारे फॉर्म भर लेते हैं इस प्रकार हमारा देश भारत विकास कर रहा है फिर भी आप विकासशील जैसी अगर ऐसे ही निरंतर चलता ना तो हमारा देश की अमेरिका की तरह विकसित देश का

jante hain hum janana chahte hain ki swatantrata ke baad jitni bhi sarkaren rahi hain unmen kya yah sir ka sabse accha kaam kar rahi hai ji haan swatantrata ke baad jitni bhi sarkaren rahin hain unse yah modi sarkar acche kaam kar rahe aap bura manenge meri baaton ko lekar lekin modi sarkar ne bahut saare kaam kiye lekin anya shakha jo pichle pichle kuch salon me nahi hai unhone kuch zyada kaam nahi kiya modi sarkar ne ek smart india banane ka faisla liya aapko kahin bhi si form bharne ke liye bahut saare kagajat le jaane par dete janmtithi uske baad aap ka aawas pramaan patra aur jati pramaan patra bahut saare leja leja karte the lekin jaise hi aadhar card aaya sabhi log ek aadhar card se hi sahare form bhar lete hain is prakar hamara desh bharat vikas kar raha hai phir bhi aap vikasshil jaisi agar aise hi nirantar chalta na toh hamara desh ki america ki tarah viksit desh ka

जानते हैं हम जानना चाहते हैं कि स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें रही हैं उनमें क्या यह स

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  255
WhatsApp_icon
user
0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल आपके पास पर्सेंट लोग पसंद नहीं आ रहे हैं क्या है कि अंतरराष्ट्रीय लिखा हुआ है

ji bilkul aapke paas percent log pasand nahi aa rahe hain kya hai ki antararashtriya likha hua hai

जी बिल्कुल आपके पास पर्सेंट लोग पसंद नहीं आ रहे हैं क्या है कि अंतरराष्ट्रीय लिखा हुआ है

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

PANKAJ KUMAR

Business Owner

2:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दोस्तों आपका कहना है कि स्वतंत्रता जब हमारी देश जब आजाद हुई थी तो उस सब में सबसे अच्छे सरकार अभी का है या पहले का तो देखिए दोस्तों मैं पहले की बात पर नहीं जा रहा हूं पहले भी सरकारी अच्छी थी मैं यह नहीं कहना नहीं थी इतनी अच्छी सरकार है लेकिन पहले की अपेक्षा अभी के अपेक्षा में कंपटीशन काफी ज्यादा टफ हो गई काफी ज्यादा टफ हो गई है यानी कि आज की डेट में सुविधाएं काफी ज्यादा हो चुकी है यह नहीं हां मोदी का समर्थन करते हैं ऐसा नहीं है सारे प्रधानमंत्री के समर्थन करते हैं लेकिन नरेंद्र मोदी कुछ ऐसे हैं इनके पास और क्वालिटी है उनके पास वो चीज है कि जो चीज चाहिए हमें उसे मिलेगा इनको भी समय देना पड़ेगा हम चाहते कि जब दूसरे ने इतना देर तक शासन किया क्या लगता है आप इनको शासन करने का मौका नहीं दे मौका देना सैया में भी और उनमें सबसे बेस्ट है बेस्ट का सकते हैं ऐसा नहीं कि बेस्ट बेस्ट बेस्ट बेस्ट है इनके बारे में यानी कि मेरा एक मकसद है यह कहना चाहता हूं कि जितने भी इससे पहले प्रधानमंत्री बने क्या सभी के जुबान पर थे सब का नाम लिया था किसी को नहीं आता लेकिन आज के डेट में इस प्रधानमंत्री को जो प्रजेंट में अभी है लगभग इंडिया ही नहीं पूरे बहुत सारे ऐसे कंट्री में भी है सबकी जुबान पर सबको बच्चा से लेकर बड़े तक सभी को याद है इंडिया का प्रधानमंत्री कौन है सबको याद है बच्चा से बच्चा तक का सही पता चलता है कि पहले वाले में रवि वाले में इनकी क्वालिटी क्या है इनमें क्या है कैसे हैं आपको ही पता है हमें भी पता है सबको पता इसको पता नहीं जितनी कहा भी गया है कि अच्छी चीज की चर्चा जितना किया जाए उतना कम होता है हमें विश्वास है कि यही देश को आकर चलाएं और चलाते भी रहे और आगे की ओर बढ़ाते रहे हमारा देश भी आगे बढ़े देश के साथ हम लोग भी आगे बढ़े

yah doston aapka kehna hai ki swatantrata jab hamari desh jab azad hui thi toh us sab me sabse acche sarkar abhi ka hai ya pehle ka toh dekhiye doston main pehle ki baat par nahi ja raha hoon pehle bhi sarkari achi thi main yah nahi kehna nahi thi itni achi sarkar hai lekin pehle ki apeksha abhi ke apeksha me competition kaafi zyada tough ho gayi kaafi zyada tough ho gayi hai yani ki aaj ki date me suvidhaen kaafi zyada ho chuki hai yah nahi haan modi ka samarthan karte hain aisa nahi hai saare pradhanmantri ke samarthan karte hain lekin narendra modi kuch aise hain inke paas aur quality hai unke paas vo cheez hai ki jo cheez chahiye hamein use milega inko bhi samay dena padega hum chahte ki jab dusre ne itna der tak shasan kiya kya lagta hai aap inko shasan karne ka mauka nahi de mauka dena saiya me bhi aur unmen sabse best hai best ka sakte hain aisa nahi ki best best best best hai inke bare me yani ki mera ek maksad hai yah kehna chahta hoon ki jitne bhi isse pehle pradhanmantri bane kya sabhi ke jubaan par the sab ka naam liya tha kisi ko nahi aata lekin aaj ke date me is pradhanmantri ko jo present me abhi hai lagbhag india hi nahi poore bahut saare aise country me bhi hai sabki jubaan par sabko baccha se lekar bade tak sabhi ko yaad hai india ka pradhanmantri kaun hai sabko yaad hai baccha se baccha tak ka sahi pata chalta hai ki pehle waale me ravi waale me inki quality kya hai inmein kya hai kaise hain aapko hi pata hai hamein bhi pata hai sabko pata isko pata nahi jitni kaha bhi gaya hai ki achi cheez ki charcha jitna kiya jaaye utana kam hota hai hamein vishwas hai ki yahi desh ko aakar chalaye aur chalte bhi rahe aur aage ki aur badhate rahe hamara desh bhi aage badhe desh ke saath hum log bhi aage badhe

यह दोस्तों आपका कहना है कि स्वतंत्रता जब हमारी देश जब आजाद हुई थी तो उस सब में सबसे अच्छे

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user

Taufique Alam

youtube:- The Secular Nation

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है देश आजाद हुआ उसके बाद हमारा कोई हमारे देश में जो 70 सालों में जितनी सरकारें आई हैं अभी तक के 2020 तक कि उसमें सबसे बेहतर यह सरकार काम कर रही है या नहीं कर रही तो मेरा जवाब है नहीं क्योंकि आज तक जितने भी जितने भी कानून बनाए गए यह जितने भी बातें भूल ही गई है सरकार के द्वारा सत्ता के द्वारा जो प्रजेंट सरकार है उसके द्वारा पूरी तरीके से इंप्लीमेंटेशन उस पर नहीं किया गया उसको पूरी तरीके से विचार नहीं किया गया और न ही उस पर काम किया गया बोल तो दिया गया लेकिन काम उस पर नहीं हुआ है तो यह सरकार मेरे ख्याल से अच्छा काम नहीं कर रही है इसलिए सरकार के मुकाबले क्योंकि अभी हमारे देश को ना वायरस से जूझ रहा है दूसरा है तो उसका उपाय भी हमारे देश के पास नहीं है अगर हमारे देश में यह सत्ता जो अभी 2020 में है वह 2014 में जब सत्ता में आए थे उस टाइम उस से उस टाइम ही हमारे देश को कम से कम 10 एम देने चाहिए थे तब जाकर के 10 बड़े देती दिल्ली के जैसे उसके जैसे तो आज हमारे देश को ना वायरस से जूझ पाता और लड़ पाता और और आप बहुत सारे मुद्दों पर देख सकते हो कि हमारा भारत बहुत कमजोर है रोजगार के मुद्दे प्लांट के फोटो में बहुत पीछे है आप मेरा अच्छा लगा हो तो प्लीज आप लोग यूट्यूब पर मुझे फॉलो कर सकते सब टाइप कर सकते मेरे चैनल को 1079 नेशन के नाम से चैनल है मेरा आप लोग वीडियो भी देख सकते मेरे वहां पर

aapka sawaal hai desh azad hua uske baad hamara koi hamare desh me jo 70 salon me jitni sarkaren I hain abhi tak ke 2020 tak ki usme sabse behtar yah sarkar kaam kar rahi hai ya nahi kar rahi toh mera jawab hai nahi kyonki aaj tak jitne bhi jitne bhi kanoon banaye gaye yah jitne bhi batein bhool hi gayi hai sarkar ke dwara satta ke dwara jo present sarkar hai uske dwara puri tarike se implementation us par nahi kiya gaya usko puri tarike se vichar nahi kiya gaya aur na hi us par kaam kiya gaya bol toh diya gaya lekin kaam us par nahi hua hai toh yah sarkar mere khayal se accha kaam nahi kar rahi hai isliye sarkar ke muqable kyonki abhi hamare desh ko na virus se joojh raha hai doosra hai toh uska upay bhi hamare desh ke paas nahi hai agar hamare desh me yah satta jo abhi 2020 me hai vaah 2014 me jab satta me aaye the us time us se us time hi hamare desh ko kam se kam 10 M dene chahiye the tab jaakar ke 10 bade deti delhi ke jaise uske jaise toh aaj hamare desh ko na virus se joojh pata aur lad pata aur aur aap bahut saare muddon par dekh sakte ho ki hamara bharat bahut kamjor hai rojgar ke mudde plant ke photo me bahut peeche hai aap mera accha laga ho toh please aap log youtube par mujhe follow kar sakte sab type kar sakte mere channel ko 1079 nation ke naam se channel hai mera aap log video bhi dekh sakte mere wahan par

आपका सवाल है देश आजाद हुआ उसके बाद हमारा कोई हमारे देश में जो 70 सालों में जितनी सरकारें आ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  85
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल किया है कि स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें चाहिए उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्छे काम कर रही है तुम मेरे हिसाब से जब से मैंने होश संभाला तब से मैंने नरेंद्र मोदी जी को हमारे भारत का हमारे देश का प्रधानमंत्री यानी कि सरकार बनते देखा तो जैसा कि मैं देख रही हूं कि नरेंद्र मोदी जी हमारे देश के लिए बहुत कुछ कर रहे हैं वह हमारे देश में सभी जगहों पर सबसे महत्वपूर्ण चीज शौचालय का निर्माण करवाया सभी को राशन कार्ड बनवाया गया एलपीजी गैस की एलपीजी गैस का दान में दिया गया अर्थात बांटा गया गांव में भी कई व्यवस्थाएं लागू की जाए नरेंद्र मोदी जी हमारे लिए बहुत कुछ कर रहे हैं और जैसा कि अभी भी हम देख रहे हैं कि हमारे देश में फैले करो ना वायरस पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है जिससे हमारे देश तथा पूरा दुनिया के लोग उससे सामने लेकिन हमारे सरकार भी इस में महत्वपूर्ण हिस्सा में भागीदारी रहे हैं और है भी जो हमारे देश के लिए लाखों करोड़ों रुपए खर्च कर दे उन मरीजों के लिए और भी हमारे सहारे का कारण बन रहे हैं लेकिन मैं बस इतना कहना चाहती हूं कि जो यह सरकार है सबसे अच्छा काम कर रहे हैं और अपने फर्ज निभा रही है

aapka sawaal kiya hai ki swatantrata ke baad jitni bhi sarkaren chahiye unmen kya yah sarkar sabse acche kaam kar rahi hai tum mere hisab se jab se maine hosh sambhala tab se maine narendra modi ji ko hamare bharat ka hamare desh ka pradhanmantri yani ki sarkar bante dekha toh jaisa ki main dekh rahi hoon ki narendra modi ji hamare desh ke liye bahut kuch kar rahe hain vaah hamare desh me sabhi jagaho par sabse mahatvapurna cheez shauchalay ka nirmaan karvaya sabhi ko raashan card banwaya gaya lpg gas ki lpg gas ka daan me diya gaya arthat baata gaya gaon me bhi kai vyavasthaen laagu ki jaaye narendra modi ji hamare liye bahut kuch kar rahe hain aur jaisa ki abhi bhi hum dekh rahe hain ki hamare desh me failen karo na virus puri duniya me tabaahi macha rakhi hai jisse hamare desh tatha pura duniya ke log usse saamne lekin hamare sarkar bhi is me mahatvapurna hissa me bhagidari rahe hain aur hai bhi jo hamare desh ke liye laakhon karodo rupaye kharch kar de un marizon ke liye aur bhi hamare sahare ka karan ban rahe hain lekin main bus itna kehna chahti hoon ki jo yah sarkar hai sabse accha kaam kar rahe hain aur apne farz nibha rahi hai

आपका सवाल किया है कि स्वतंत्रता के बाद जितनी भी सरकारें चाहिए उनमें क्या यह सरकार सबसे अच्

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  64
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!