हमारे देश में कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय का कानून लागू है क्या उस कानून को आज बदलने की ज़रूरत नहीं है?...


play
user

Likes  32  Dislikes    views  639
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
9:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपने पूछा है कि हमारे देश में कई भागों में आज भी अंग्रेजों का कानून लागू है तो क्या उसे बदल देना चाहिए यह आपका प्रश्न बहुत सुंदर प्रश्न है वर्तमान में जो भी सरकारी आ रही है कि भारत के आजाद होने के बाद से लगभग 70 साल तक कांग्रेस ने राज्य किया और उसके बाद अब पिछले साल से नरेंद्र जी मोदी इस देश पर राज्य कर रहे हैं इन लगभग 80 सालों के अंदर भारत में भारतीय नेताओं ने कभी भी इस संबंध में विचार ही नहीं किया यदि वास्तव में देखा जाए तो भारत की कानून व्यवस्था किसी-किसी व कि नहीं लगभग पूरी कानून व्यवस्था अंग्रेजों की देन है और अंग्रेजों जो कानून भारत के लिए बनाए थे वह सब कानून वर्तमान भारत में प्रजनन योग्य ही नहीं रहे वह खुद देखे हैं एक छोटी सी बात साहब को बोल दो तो समझ में आ जाएगा कि यदि किसी व्यक्ति ने किसी व्यक्ति का मर्डर कर दिया अब जिसका मर्डर हुआ वह व्यक्ति तो मर गया अब यदि देखेंगे कि वह व्यक्ति यदि किसी एक परिवार का मुखिया था और उसके पीछे 2457 आदमी जो भी उसकी आजीविका पर पलते थे तो ऐसी स्थिति में उन सभी का भी मर्डर हो गया क्योंकि अब उनके परिवार में कोई कमाने वाला नहीं बचा और कमाने वाला नहीं बचा इस कारण से और व्यक्ति आर्थिक रूप से बहुत ज्यादा परेशान हो जाएगा टूट जाएगा और इनडायरेक्टली उन सभी लोगों की भी हत्या हो गई अब जो कानून बना हुआ है वह कानून क्या है क्योंकि एक्टिको पुलिस पकड़े की कोर्ट में पेश करेगी 5 10 15 20 25 साल जो भी हुआ केस चलेगा और केस चलकर धीमान उसे सजा हुई भी और मृत्युदंड भी हो गया तो ऐसी स्थिति में जिस व्यक्ति के साथ यह घटना उसके परिवार को क्या लाभ मिला उसका स्वयं का व्यक्ति चला गया आरोपी को मृत्युदंड दे दिया गया वह भी मर गया लेकिन उसके परिवार को क्या लाभ के न्याय हो गया नहीं वास्तव में नहीं आए तो तब होता जब उस व्यक्ति को पकड़ कर के और उससे काम करवाया था और काम के एवज में जो भी तनखा मिलती उसमें से एक निश्चित राशि प्रतिमाह उस आहत फरियादी पक्ष के परिवार को जाती और जब तक जिंदा रहता तब तक उस परिवार का पालन पोषण करता यदि आरोपी की आर्थिक स्थिति सही होती तो उस दिन लम सम अमाउंट भी सपरिवार को दिलवाया जाता तब जाकर के और न्याय होता किंतु मृत्युदंड देने से क्या नहीं हुआ कुछ नहीं दूसरा आप देखेंगे कि यदि किन दो व्यक्तियों के बीच में विवाद हुआ और किसी एक व्यक्ति ने दूसरे व्यक्ति को के साथ मारपीट की चोट पहुंचाई तब ऐसी स्थिति में उस व्यक्ति द्वारा ए फायर की गई और ए फायर करने के बाद पुलिस ने उस व्यक्ति को पड़ोसियों ने कोर्ट में प्रस्तुत कर दिया यदि अपराध साधन प्रकृति का है तो उस व्यक्ति को तत्काल जमानत नहीं जाती है और उसके बाद फरियादी पक्ष को केवल एक बार कोर्ट में सभा के लिए उपस्थित होने के लिए कहा जाता है दवा देने के बाद उस प्रकरण का क्या हुआ उस व्यक्ति को सजा मिली नहीं मिली ऐसी कोई रिटर्न जानकारी फरियादी पक्ष को नहीं आती है तो न्याय कहां है यह तो ही अपराधों के संबंध में बात और भी कई क्षेत्र ऐसे हैं जहां पर पर जहां पर कानून के संबंध में आमूलचूल परिवर्तन करने की स्थिति में अब भारत है भारतीय सामाजिक व्यवस्था आर्थिक व्यवस्था राजनीतिक व्यवस्था एक अलग तरह की है ब्रिटेन की अलग तरह की की है और लगभग हर देश की अपनी अलग तरह की व्यवस्थाएं होती है और वह उसी के अनुरूप कानून बनाए जाते हैं इसलिए भारत में भी भारतीय व्यवस्थाओं के अनुसार कानून बनाने की आवश्यकता है और इस संबंध में राजनीतिक पार्टियों को विवाह 4 करना चाहिए कुछ और भी चीजें हैं इसे परिवर्तन की स्थिति है इसे लार्ड मैकाले की शिक्षा पद्धति लार्ड मैकाले ने ने भारत के लिए जब शिक्षा पद्धति बनाएं तब उसे उसने ब्रिटिश संसद ने जो बयान दिए थे वह दिए थे कि मेरी बनाई गई क्या पद्धति से भारत की आने वाली पीढ़ियां चाहे भारत फिजिकल रूप से हम से स्वतंत्र हो जाए किंतु मानसिक रूप से इस शिक्षा नीति से पढ़ने वाला व्यक्ति कभी भी हम से आजाद नहीं होगा और वर्तमान में उसकी हवा तक शरसन सही नजर आती है भारतीय शिक्षा पद्धति कहीं से कहीं तक व्यवसाई कहीं हमारी शिक्षा पद्धति को व्यवसायिक होने की आवश्यकता है साइंटिफिक होने की आवश्यकता है लेकिन ऐसा नहीं है तीसरी एक चीज है अंग्रेजी भारत में आज भी सुप्रीम कोर्ट अंग्रेजी में फैसले करती है बड़े-बड़े जो भी विभाग हैं उन सब की मूल भाषा इंग्लिश में भारतीय संविधान अंग्रेजी में हिंदी में उसका अनुवाद हो गया है लेकिन जहां भी हिंदी और इंग्लिश में विवाद होगा इंग्लिश वाला प्रभावी रहेगा भारत की 90% जनसंख्या हिंदीभाषी है गांव में रहने वाली है हिंदी समझती है ऐसी स्थिति में यदि फैसले औरतों के फैसले अंग्रेजी में हुए हमारे हैं कि पढ़ाई अंग्रेजी में हुई तो बच्चों को विशेष रूप से तकलीफ होती है मदर टंग ना होने के कारण इस कारण से अंग्रेजी को भी भारत की प्रमुख भाषा से हटा करके हिंदी भाषा में ही सारी चीजें महत्वपूर्ण चीजें की हार भजन चाहिए हिंदी में फैसले होना चाहिए हिंदी में ही हमारे जो भी आविष्कार होते हैं उस की प्रतिलिपि होनी चाहिए जिससे कि भारत के युवा बहुत आसानी से उन चीजों को समझ सकें और भारत निरंतर प्रगति करते हुए पुनः विश्व गुरु बन सकूं धन्यवाद

namaskar aapne poocha hai ki hamare desh me kai bhaagon me aaj bhi angrejo ka kanoon laagu hai toh kya use badal dena chahiye yah aapka prashna bahut sundar prashna hai vartaman me jo bhi sarkari aa rahi hai ki bharat ke azad hone ke baad se lagbhag 70 saal tak congress ne rajya kiya aur uske baad ab pichle saal se narendra ji modi is desh par rajya kar rahe hain in lagbhag 80 salon ke andar bharat me bharatiya netaon ne kabhi bhi is sambandh me vichar hi nahi kiya yadi vaastav me dekha jaaye toh bharat ki kanoon vyavastha kisi kisi va ki nahi lagbhag puri kanoon vyavastha angrejo ki then hai aur angrejo jo kanoon bharat ke liye banaye the vaah sab kanoon vartaman bharat me prajanan yogya hi nahi rahe vaah khud dekhe hain ek choti si baat saheb ko bol do toh samajh me aa jaega ki yadi kisi vyakti ne kisi vyakti ka murder kar diya ab jiska murder hua vaah vyakti toh mar gaya ab yadi dekhenge ki vaah vyakti yadi kisi ek parivar ka mukhiya tha aur uske peeche 2457 aadmi jo bhi uski aajiwika par palate the toh aisi sthiti me un sabhi ka bhi murder ho gaya kyonki ab unke parivar me koi kamane vala nahi bacha aur kamane vala nahi bacha is karan se aur vyakti aarthik roop se bahut zyada pareshan ho jaega toot jaega aur indirectly un sabhi logo ki bhi hatya ho gayi ab jo kanoon bana hua hai vaah kanoon kya hai kyonki ektiko police pakde ki court me pesh karegi 5 10 15 20 25 saal jo bhi hua case chalega aur case chalkar dhiman use saza hui bhi aur mrityudand bhi ho gaya toh aisi sthiti me jis vyakti ke saath yah ghatna uske parivar ko kya labh mila uska swayam ka vyakti chala gaya aaropi ko mrityudand de diya gaya vaah bhi mar gaya lekin uske parivar ko kya labh ke nyay ho gaya nahi vaastav me nahi aaye toh tab hota jab us vyakti ko pakad kar ke aur usse kaam karvaya tha aur kaam ke evaj me jo bhi tankha milti usme se ek nishchit rashi pratimah us aahat fariyadi paksh ke parivar ko jaati aur jab tak zinda rehta tab tak us parivar ka palan poshan karta yadi aaropi ki aarthik sthiti sahi hoti toh us din lam some amount bhi saparivar ko dilvaya jata tab jaakar ke aur nyay hota kintu mrityudand dene se kya nahi hua kuch nahi doosra aap dekhenge ki yadi kin do vyaktiyon ke beech me vivaad hua aur kisi ek vyakti ne dusre vyakti ko ke saath maar peet ki chot pahunchai tab aisi sthiti me us vyakti dwara a fire ki gayi aur a fire karne ke baad police ne us vyakti ko padoshiyon ne court me prastut kar diya yadi apradh sadhan prakriti ka hai toh us vyakti ko tatkal jamanat nahi jaati hai aur uske baad fariyadi paksh ko keval ek baar court me sabha ke liye upasthit hone ke liye kaha jata hai dawa dene ke baad us prakaran ka kya hua us vyakti ko saza mili nahi mili aisi koi return jaankari fariyadi paksh ko nahi aati hai toh nyay kaha hai yah toh hi apradho ke sambandh me baat aur bhi kai kshetra aise hain jaha par par jaha par kanoon ke sambandh me amulchul parivartan karne ki sthiti me ab bharat hai bharatiya samajik vyavastha aarthik vyavastha raajnitik vyavastha ek alag tarah ki hai britain ki alag tarah ki ki hai aur lagbhag har desh ki apni alag tarah ki vyavasthaen hoti hai aur vaah usi ke anurup kanoon banaye jaate hain isliye bharat me bhi bharatiya vyavasthaon ke anusaar kanoon banane ki avashyakta hai aur is sambandh me raajnitik partiyon ko vivah 4 karna chahiye kuch aur bhi cheezen hain ise parivartan ki sthiti hai ise lord maikale ki shiksha paddhatee lord maikale ne ne bharat ke liye jab shiksha paddhatee banaye tab use usne british sansad ne jo bayan diye the vaah diye the ki meri banai gayi kya paddhatee se bharat ki aane wali peedhiyaan chahen bharat physical roop se hum se swatantra ho jaaye kintu mansik roop se is shiksha niti se padhne vala vyakti kabhi bhi hum se azad nahi hoga aur vartaman me uski hawa tak sharasan sahi nazar aati hai bharatiya shiksha paddhatee kahin se kahin tak vyavasai kahin hamari shiksha paddhatee ko vyavasayik hone ki avashyakta hai scientific hone ki avashyakta hai lekin aisa nahi hai teesri ek cheez hai angrezi bharat me aaj bhi supreme court angrezi me faisle karti hai bade bade jo bhi vibhag hain un sab ki mul bhasha english me bharatiya samvidhan angrezi me hindi me uska anuvad ho gaya hai lekin jaha bhi hindi aur english me vivaad hoga english vala prabhavi rahega bharat ki 90 jansankhya hindibhashi hai gaon me rehne wali hai hindi samajhti hai aisi sthiti me yadi faisle auraton ke faisle angrezi me hue hamare hain ki padhai angrezi me hui toh baccho ko vishesh roop se takleef hoti hai mother tongue na hone ke karan is karan se angrezi ko bhi bharat ki pramukh bhasha se hata karke hindi bhasha me hi saari cheezen mahatvapurna cheezen ki haar bhajan chahiye hindi me faisle hona chahiye hindi me hi hamare jo bhi avishkar hote hain us ki pratilipi honi chahiye jisse ki bharat ke yuva bahut aasani se un chijon ko samajh sake aur bharat nirantar pragati karte hue punh vishwa guru ban sakun dhanyavad

नमस्कार आपने पूछा है कि हमारे देश में कई भागों में आज भी अंग्रेजों का कानून लागू है तो क्

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  447
WhatsApp_icon
user
1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह पता चले कि हमारे देश में कुछ बागों में आज भी अंग्रेजों के समय का कानून लागू है क्या उस कानून को आज बदलने की जरूरत नहीं है देखिए समय-समय पर कानून में बदलाव होता रहता है ना कि मैं कितना क्वेश्चन भी सही है कि क्या अंग्रेजों का कानून अभी तक लागू है तो मैं आपको बता दूं अंग्रेजी में उस समय जो कानून बनाए थे वह आज भी लागू और उन्हें बहुत ही ना कुछ किंचित मात्रा बहुत ही कम कर सकते हैं उसमें बदलाव करने की जरूरत होती लेकिन मैं 302 के तहत हंसी आ जा जीवन कारावास हत्या के केस में 307 लगती है 3 या 376 बलात्कार के केस में लगती है तो वह धारा में आज तक कोई बदलाव करने की कोशिश नहीं हुई है और ना इसमें कोई बदलाव करने की जरूरत है मोटर व्हीकल एक्ट में भी 185 में कार्रवाई करना दो दारू पीकर गाड़ी चलाना नशा करके गाड़ी चलाना तो ऐसे कई कानून अंग्रेजी में बनाए हैं जो आज भी हम को फायदा पहुंचा रहे हैं और उन्होंने गलत कार्य करने वालों के लिए यह कानून बनाए थे आई पी सी बनाई थी आईपीसी 1800 अंग्रेजी का समय बनी थी उसने बहुत ही कम बदलाव किया गया या ना के बराबर हुआ है तो उनके कारण एकदम सटीक और सही है संसदीय प्रणाली उनकी जो अंग्रेजों की आज भी वही है हमारे देश में है तो मेरा मानना है कि उनके कानून में कोई बदलाव करने की आवश्यकता नहीं है हालांकि में सब चला जोड़कर उस कानून को थोड़ा लचीला बनाया जा सकता है या उसका नंबर कोई सुधार किया जाए धन्यवाद

yah pata chale ki hamare desh me kuch baaghon me aaj bhi angrejo ke samay ka kanoon laagu hai kya us kanoon ko aaj badalne ki zarurat nahi hai dekhiye samay samay par kanoon me badlav hota rehta hai na ki main kitna question bhi sahi hai ki kya angrejo ka kanoon abhi tak laagu hai toh main aapko bata doon angrezi me us samay jo kanoon banaye the vaah aaj bhi laagu aur unhe bahut hi na kuch kinchit matra bahut hi kam kar sakte hain usme badlav karne ki zarurat hoti lekin main 302 ke tahat hansi aa ja jeevan karavas hatya ke case me 307 lagti hai 3 ya 376 balatkar ke case me lagti hai toh vaah dhara me aaj tak koi badlav karne ki koshish nahi hui hai aur na isme koi badlav karne ki zarurat hai motor vehicle act me bhi 185 me karyawahi karna do daaru peekar gaadi chalana nasha karke gaadi chalana toh aise kai kanoon angrezi me banaye hain jo aaj bhi hum ko fayda pohcha rahe hain aur unhone galat karya karne walon ke liye yah kanoon banaye the I p si banai thi ipc 1800 angrezi ka samay bani thi usne bahut hi kam badlav kiya gaya ya na ke barabar hua hai toh unke karan ekdam sateek aur sahi hai sansadiya pranali unki jo angrejo ki aaj bhi wahi hai hamare desh me hai toh mera manana hai ki unke kanoon me koi badlav karne ki avashyakta nahi hai halaki me sab chala jodkar us kanoon ko thoda lachila banaya ja sakta hai ya uska number koi sudhaar kiya jaaye dhanyavad

यह पता चले कि हमारे देश में कुछ बागों में आज भी अंग्रेजों के समय का कानून लागू है क्या उस

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  529
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  14  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon
user

Nirmla Arora

Advocate

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां देश के कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय के कानूनी लागू है और उसी के अनुसार चल भी रहे लेकिन जैसे-जैसे समय की डिमांड होती उसमें कुछ संशोधन भी होते रहे हैं जैसे कि डोमेस्टिक वायलेंस के के सचिव हैं उसमें हुआ है रेप के केस एस आई है अब जो छोटी बच्चों के साथ बॉक्साइट किस दर्द होते हैं उन से रिलेटेड भी नए-नए प्राप्त बने हैं तो जैसे जैसे समय की डिमांड होती है मुझे थोड़ा-थोड़ा करके जैसे जैसे मतलब जो भी हमारे सर कम सांसद के कोडिंग होता उसमें परिवर्तन होता रहता ऐसा नहीं है कि सारे के सारे कानून जो अंग्रेजों ने बनाया वह भी कभी प्रतिक एजइटइज वैसे ही चल रहे हैं उसमें जब जब जरूरत पर आगे भी होता रहेगा आईपीसी में भी कुछ नहीं जो है जैकसन ऐड हुए हैं डोमेस्टिक वायलेंस में ऐड हुए हैं और रेप के कैसे उसमें भी ऐड हुए हैं ठीक है इसी तरह से वह जो इंस्ट्रूमेंट एक्ट है एन आई एक्ट है उसमें भी हुए हैं तो बहुत सारे और भी अच्छा जिनमें समय के अकॉर्डिंग समय की डिमांड के कोडिंग चेंज हो तेरे और होते रहेंगे

haan desh ke kuch vibhagon me aaj bhi angrejo ke samay ke kanooni laagu hai aur usi ke anusaar chal bhi rahe lekin jaise jaise samay ki demand hoti usme kuch sanshodhan bhi hote rahe hain jaise ki domestic violence ke ke sachiv hain usme hua hai rape ke case S I hai ab jo choti baccho ke saath bauxite kis dard hote hain un se related bhi naye naye prapt bane hain toh jaise jaise samay ki demand hoti hai mujhe thoda thoda karke jaise jaise matlab jo bhi hamare sir kam saansad ke coding hota usme parivartan hota rehta aisa nahi hai ki saare ke saare kanoon jo angrejo ne banaya vaah bhi kabhi pratik ejaitaij waise hi chal rahe hain usme jab jab zarurat par aage bhi hota rahega ipc me bhi kuch nahi jo hai jackson aid hue hain domestic violence me aid hue hain aur rape ke kaise usme bhi aid hue hain theek hai isi tarah se vaah jo instrument act hai N I act hai usme bhi hue hain toh bahut saare aur bhi accha jinmein samay ke according samay ki demand ke coding change ho tere aur hote rahenge

हां देश के कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय के कानूनी लागू है और उसी के अनुसार चल भी

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  359
WhatsApp_icon
Likes  34  Dislikes    views  1133
WhatsApp_icon
user

Ranpal Awana Advocate Noida

Advocacy, Supreme Court Of India, Ex Treasurer District Court Noida, Gautam Budh Nagar

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्रीमान जी आप का क्वेश्चन है हमारे बीच में कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय का कानून लागू है क्या उस कानून को बदलने की जरूरत नहीं है कानून को बदलने की विदेशों से है कानून दिया था जैसे जैसे हमारे देश को रिक्वायरमेंट थी लेकिन उस समय के कानून में और आज की परिपक्व दिखाती समय को देखकर वार्षिक में उस कानून को बदलने की हमें नितांत आवश्यकता है क्योंकि अंग्रेजी समय कि कानून में राजकीय कानून में और उस समय तक रामराज की तरह में बहुत सारी दुआएं हैं लोग जबरदस्ती एक्सीडेंट करते हैं ऐसे में बेलेबल ऑफेंस भी हैं तो 376 जैसे प्रखंड में ट्रायल इतना लंबा चलता रहता है जिसका कोई समय पीरियड लिमिटेड नहीं होता लिमिटेड नहीं होता बहुत सारे दिन में कोई समय फिक्स नहीं हो पाता तो समय फिक्स ना होने के कारण जो अंग्रेजों के समय से कानून चला रहा है उसमें बदलाव करने की आज की समय के साथ से बहुत ही जरूरी और अत्यंत आवश्यकता है समाज हित के लिए देश हित के लिए और सभी को न्याय सुलभ और सस्ता और जल्दी मिल सके उन सब चीजों को ध्यान रख वे हमें कानून में बदलाव की अत्यंत आवश्यकता है धन्यवाद

shriman ji aap ka question hai hamare beech me kuch vibhagon me aaj bhi angrejo ke samay ka kanoon laagu hai kya us kanoon ko badalne ki zarurat nahi hai kanoon ko badalne ki videshon se hai kanoon diya tha jaise jaise hamare desh ko requirement thi lekin us samay ke kanoon me aur aaj ki paripakva dikhati samay ko dekhkar vaarshik me us kanoon ko badalne ki hamein nitant avashyakta hai kyonki angrezi samay ki kanoon me rajkiya kanoon me aur us samay tak ramraj ki tarah me bahut saari duaen hain log jabardasti accident karte hain aise me belebal offense bhi hain toh 376 jaise prakhand me trial itna lamba chalta rehta hai jiska koi samay period limited nahi hota limited nahi hota bahut saare din me koi samay fix nahi ho pata toh samay fix na hone ke karan jo angrejo ke samay se kanoon chala raha hai usme badlav karne ki aaj ki samay ke saath se bahut hi zaroori aur atyant avashyakta hai samaj hit ke liye desh hit ke liye aur sabhi ko nyay sulabh aur sasta aur jaldi mil sake un sab chijon ko dhyan rakh ve hamein kanoon me badlav ki atyant avashyakta hai dhanyavad

श्रीमान जी आप का क्वेश्चन है हमारे बीच में कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय का कानून

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  290
WhatsApp_icon
user

Rajiv Chaturvedi

Lawyer | Business Man

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रितेश में आज भी कुछ अंग्रेजो के समय काका लागू है अगर कानून में कुछ अच्छाइयां हैं उस समय की सामाजिक व्यवस्थाओं को दुरुस्त रखने में कामयाब हैं तूने बदलने की कोई आवश्यकता नहीं अगर हैं उन्हें कुर्तियां है कमियां हैं उन्हें बदलने की जरूरत है जब नहीं है तूने बस लेने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि कोई अलग से चीज नहीं आती जो कानून बनाया गया वह सोच समझकर बनाया गया है अच्छाई बुराई को लेकर बनाया गया पहले के लोग हां जो कन्नू पर चलाए जा रहा है स्वयं के स्वार्थ के हित में लाए जा रहा है वह गलत है ऐसा नहीं होना चाहिए कि सामाजिक मान कानून के दृष्टिकोण में कोई छोटा बड़ा कोई बड़ा नहीं कोई राजा रंक है वो राजा है राजा सब समानता होती अगर समानता में समानता है तो वह कमी है ऐसे कानून को बदलाव में रहना चाहिए जहां पर असमानता हो

ritesh me aaj bhi kuch angrejo ke samay kaka laagu hai agar kanoon me kuch achaiya hain us samay ki samajik vyavasthaon ko durast rakhne me kamyab hain tune badalne ki koi avashyakta nahi agar hain unhe kurtiyan hai kamiyan hain unhe badalne ki zarurat hai jab nahi hai tune bus lene ki koi zarurat nahi hai kyonki koi alag se cheez nahi aati jo kanoon banaya gaya vaah soch samajhkar banaya gaya hai acchai burayi ko lekar banaya gaya pehle ke log haan jo kannu par chalaye ja raha hai swayam ke swarth ke hit me laye ja raha hai vaah galat hai aisa nahi hona chahiye ki samajik maan kanoon ke drishtikon me koi chota bada koi bada nahi koi raja rank hai vo raja hai raja sab samanata hoti agar samanata me samanata hai toh vaah kami hai aise kanoon ko badlav me rehna chahiye jaha par asamanta ho

रितेश में आज भी कुछ अंग्रेजो के समय काका लागू है अगर कानून में कुछ अच्छाइयां हैं उस समय क

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  491
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यश प्राप्त से पूर्णता सहमत हूं जो हमारे कानून कुछ अंग्रेजों के जमाने के बने हुए हैं उस समय की परिस्थितियों और उस समय की आपके अनुसार बने हुए हैं लेकिन आज समय बदल चुका है हम भारत स्वतंत्र हो चुका है आज की समय और परिस्थितियों के अनुसार उन्हें अवश्य बदलाव होना चाहिए और उसकी आज की समय की मांग भी यही है और जो लचर कानून है जिनके कारण से न्यायिक प्रक्रिया भी बहुत ज्यादा ढीली हो जाती है जिसका फायदा अपराधिक किस्म के लोग नहीं जाते हैं परिणाम स्वरूप भी इन्हीं वेटर कानूनों की सहायता ले करके बच जाते हैं अभी आपने उधर गया कि किस को देखा चार अपराधी थे वह एडल्ट थे उनको फांसी की सजा हुई पांचवा अपराधी जिसने सबसे ज्यादा बढ़ा प्राप्त किया का सबसे ज्यादा उसी ने किया था और उसका नाम मिल गया मैं करना चाहता हूं क्या वह बचाने के काबिल है कहीं पर तो आप 15 वर्ष के साथ 15 वर्ष की लड़की को शादी करने के लिए अलाउड करते हैं यह कैसे नियम है वह कहां पर जो कृत्य कर रहा है दवा है जो भी कार्य कर रहा है उसको सिर्फ नाबालिक होने के कारण से फांसी से मुक्त कर दिया सजा से मुक्त कर दिया यह ऐसे कानून बदलने चाहिए जो एक जैसा कांड कर सकता है वह नाबालिक कभी नहीं माना जा सकता है उसको सजा स्कूल से ज्यादा मिलनी चाहिए तो चल नहीं मिलनी चाहिए आज समय है कि ऐसे कानूनों को बदला जाए जिनका फायदा आपराधिक किस्म के लोग ले जाते हैं और भारत में अपराध बढ़ते जा रहे हैं

yash prapt se purnata sahmat hoon jo hamare kanoon kuch angrejo ke jamane ke bane hue hain us samay ki paristhitiyon aur us samay ki aapke anusaar bane hue hain lekin aaj samay badal chuka hai hum bharat swatantra ho chuka hai aaj ki samay aur paristhitiyon ke anusaar unhe avashya badlav hona chahiye aur uski aaj ki samay ki maang bhi yahi hai aur jo lachar kanoon hai jinke karan se nyayik prakriya bhi bahut zyada dhili ho jaati hai jiska fayda apradhik kism ke log nahi jaate hain parinam swaroop bhi inhin waiter kanuno ki sahayta le karke bach jaate hain abhi aapne udhar gaya ki kis ko dekha char apradhi the vaah adult the unko fansi ki saza hui panchava apradhi jisne sabse zyada badha prapt kiya ka sabse zyada usi ne kiya tha aur uska naam mil gaya main karna chahta hoon kya vaah bachane ke kaabil hai kahin par toh aap 15 varsh ke saath 15 varsh ki ladki ko shaadi karne ke liye allowed karte hain yah kaise niyam hai vaah kaha par jo kritya kar raha hai dawa hai jo bhi karya kar raha hai usko sirf nabalik hone ke karan se fansi se mukt kar diya saza se mukt kar diya yah aise kanoon badalne chahiye jo ek jaisa kaand kar sakta hai vaah nabalik kabhi nahi mana ja sakta hai usko saza school se zyada milani chahiye toh chal nahi milani chahiye aaj samay hai ki aise kanuno ko badla jaaye jinka fayda apradhik kism ke log le jaate hain aur bharat me apradh badhte ja rahe hain

यश प्राप्त से पूर्णता सहमत हूं जो हमारे कानून कुछ अंग्रेजों के जमाने के बने हुए हैं उस समय

Romanized Version
Likes  346  Dislikes    views  4957
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में बहुत से विवादों में भागों में आज भी अंग्रेजों के कानून लागू है कि नहीं बदलने की जरूरत नहीं है कानून के किसी के भी मन में जो कल्याणकारी में लोकहित हैं जनता की भलाई के लिए पानी सजीव अच्छी हूं चाहे वह भारतीय कानून में या अन्य कानूनी आपने देखा ही नहीं कि पिछले 6 वर्षों में कानून को बदल कर नए कानून बनाए गए उनका प्रणाम आपके सामने हैं देश की जनता ट्राई ट्राई कर रही है बेरोजगारी से आर्थिक समस्याओं से मंदी के दौर से और विभिन्न प्रकार की देश की डर और भय और सामाजिक समस्याओं से पिछले 6 वर्षों से भारत का साइट कोई भी नेताओं के इंसान चयन के नीचे सोया चिंता और भय और अंजाना डर आज हर प्राणी के मन में समाया हुआ है अब चाइना के कोरा वायरस ने आतंक मचा रखा है टॉप 100 छतें हमारे देश की जो नए कानून ए उन कानूनों ने बजाएं लोकगीत के लोक कल्याण के जनता के आइटम अजंता की कुर्बानियों के द्वार खोल दिए

hamare desh me bahut se vivadon me bhaagon me aaj bhi angrejo ke kanoon laagu hai ki nahi badalne ki zarurat nahi hai kanoon ke kisi ke bhi man me jo kalyaankari me lokhit hain janta ki bhalai ke liye paani sajeev achi hoon chahen vaah bharatiya kanoon me ya anya kanooni aapne dekha hi nahi ki pichle 6 varshon me kanoon ko badal kar naye kanoon banaye gaye unka pranam aapke saamne hain desh ki janta try try kar rahi hai berojgari se aarthik samasyaon se mandi ke daur se aur vibhinn prakar ki desh ki dar aur bhay aur samajik samasyaon se pichle 6 varshon se bharat ka site koi bhi netaon ke insaan chayan ke niche soya chinta aur bhay aur anjaana dar aaj har prani ke man me samaya hua hai ab china ke quora virus ne aatank macha rakha hai top 100 chete hamare desh ki jo naye kanoon a un kanuno ne bajaye lokgeet ke lok kalyan ke janta ke item ajanta ki kurbaniyon ke dwar khol diye

हमारे देश में बहुत से विवादों में भागों में आज भी अंग्रेजों के कानून लागू है कि नहीं बदलने

Romanized Version
Likes  346  Dislikes    views  5533
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैसा होता है कुछ ऐसी बातें हैं जो अभी चल रही है धीरे-धीरे चल रहे हैं उसमें जो बजट पेश हुआ था शाम को 5:00 बजे कॉमेंट चेंज होते ही उन्हें टाइम चेंज कर दिया लंदन में उस टाइम 11:00 बजे जो बच्चे से शाम को 5:15 में 5:00 बजे हेलो न्यू टाइम चेंज कर दिया क्या धीरे-धीरे करके चेंज करते जाता है

kaisa hota hai kuch aisi batein hain jo abhi chal rahi hai dhire dhire chal rahe hain usme jo budget pesh hua tha shaam ko 5 00 baje comment change hote hi unhe time change kar diya london me us time 11 00 baje jo bacche se shaam ko 5 15 me 5 00 baje hello new time change kar diya kya dhire dhire karke change karte jata hai

कैसा होता है कुछ ऐसी बातें हैं जो अभी चल रही है धीरे-धीरे चल रहे हैं उसमें जो बजट पेश हुआ

Romanized Version
Likes  120  Dislikes    views  3559
WhatsApp_icon
user
0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं इस तरह से देखा जाए तो रेलवे लाइन में अंग्रेजों के समय से बीच हुई है कई स्टेशन भी आ गया जो अंग्रेजों के समय में कई ऐसे भवन है जो अंग्रेजों के समय से हैं बदलने वाली जान तक बात आती है उसको पेमेंट किया जाता है समय समय के अनुसार जो जो चीजें जैसी जैसी है उसमें बदलाव लाया जाता है तो कानून में परिवर्तन होता है कि सरकार ने पिछले लगभग थोड़े ही समय में इतना बदलाव किया कि शायद आप अगर उस पर जाएंगे तो आपको पता लगेगा कि बहुत कानून बदले गए और इसी तरह से आगे वह बदलना भी जारी रखेंगे जो समय के हिसाब से हमारी जरूरत के नहीं है

nahi is tarah se dekha jaaye toh railway line me angrejo ke samay se beech hui hai kai station bhi aa gaya jo angrejo ke samay me kai aise bhawan hai jo angrejo ke samay se hain badalne wali jaan tak baat aati hai usko payment kiya jata hai samay samay ke anusaar jo jo cheezen jaisi jaisi hai usme badlav laya jata hai toh kanoon me parivartan hota hai ki sarkar ne pichle lagbhag thode hi samay me itna badlav kiya ki shayad aap agar us par jaenge toh aapko pata lagega ki bahut kanoon badle gaye aur isi tarah se aage vaah badalna bhi jaari rakhenge jo samay ke hisab se hamari zarurat ke nahi hai

नहीं इस तरह से देखा जाए तो रेलवे लाइन में अंग्रेजों के समय से बीच हुई है कई स्टेशन भी आ गय

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1727
WhatsApp_icon
user

Paras

Blessing Baba

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में कुछ विभागों में अंग्रेजी कानून आज भी है विस्तृत है लेकिन हटाए नहीं जा रहा है क्योंकि इसमें जागरूकता नहीं है और जागरूक करने के लिए कर्मचारियों के होना पड़ेगा इसके साथ-साथ देश की जनता को उसके लिए आंदोलन करने होंगे क्योंकि जब तक कोई आंदोलन नहीं किया जाता है सरकार जाति नहीं है जो कोई भी आंदोलन करें जिसको भी लेकर आए तो जरुर सफल होगा तो मुझे लगता है कि जो भी कान नाक हटाना चाह रहे हैं तो वह कानून के लिए सरकार को आवेदन पत्र दिए जाए और उसके लिए धरना प्रदर्शन किया जाए उसके बाद उन कानूनों को चेंज किया जाएगा जब तक हम जागरुक नहीं होगी सरकार है सरकारों के तो पता चलेगा कौन सा कानून चेंज करना है जबतक मांग नहीं आएगी डिमांड नहीं आएगी जिस प्रकार से कोई वस्तु सेल की जाती है डिमांड आने पर उसी प्रकार से कानून भी चेंज किया थे डिमांड आने पर तो इसलिए डिमांड सरकार तो कैसे पूछेगी हमें जागरूक होना पड़ेगा उसके लिए आंदोलन करने होंगे तो सरकार को पता चलेगा कौन से कानूनों में चेंज करनी है

hamare desh me kuch vibhagon me angrezi kanoon aaj bhi hai vistrit hai lekin hataye nahi ja raha hai kyonki isme jagrukta nahi hai aur jagruk karne ke liye karmachariyon ke hona padega iske saath saath desh ki janta ko uske liye andolan karne honge kyonki jab tak koi andolan nahi kiya jata hai sarkar jati nahi hai jo koi bhi andolan kare jisko bhi lekar aaye toh zaroor safal hoga toh mujhe lagta hai ki jo bhi kaan nak hatana chah rahe hain toh vaah kanoon ke liye sarkar ko avedan patra diye jaaye aur uske liye dharna pradarshan kiya jaaye uske baad un kanuno ko change kiya jaega jab tak hum jagruk nahi hogi sarkar hai sarkaro ke toh pata chalega kaun sa kanoon change karna hai jabtak maang nahi aayegi demand nahi aayegi jis prakar se koi vastu cell ki jaati hai demand aane par usi prakar se kanoon bhi change kiya the demand aane par toh isliye demand sarkar toh kaise puchegi hamein jagruk hona padega uske liye andolan karne honge toh sarkar ko pata chalega kaun se kanuno me change karni hai

हमारे देश में कुछ विभागों में अंग्रेजी कानून आज भी है विस्तृत है लेकिन हटाए नहीं जा रहा है

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  557
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कानून व्यवस्था का संतुलन बनाए रखने के लिए बनाए जाते हैं कानून भंग की रणनीति वही लोग बनाते हैं जो अपराधी जिन्हें कोई किसी प्रकार की दिक्कत हो रही हो समाज के अंदर अगर हम प्रेमभाव से रहते हैं तो किसी भी प्रकार का भ्रष्टाचार का हेतु नहीं बनते तो करो चाहे कैसे भी हो उसमें किसी प्रकार की दिक्कत नहीं आती जो साधारण जीवन जी रहे हैं और जिनको किसी से कोई शिकायत नहीं और जिनमें शमा का सामर्थ्य है क्षमा करने का तो मैं तो यही कहता हूं क्षमा से बड़ा कोई कानून है ही नहीं अपने प्रेम और भाव से निर्वाह करें यह जीवन जो है प्रेम के अधिकार का है इसको प्रेम से बढती तक भाई-बहन बंधुओं में जीव जंतुओं में पक्षपात ना करें और सबसे ज्यादा से ज्यादा अपने जीवन सरलता पूर्वक जीने का प्रयास करें

kanoon vyavastha ka santulan banaye rakhne ke liye banaye jaate hain kanoon bhang ki rananiti wahi log banate hain jo apradhi jinhen koi kisi prakar ki dikkat ho rahi ho samaj ke andar agar hum premabhav se rehte hain toh kisi bhi prakar ka bhrashtachar ka hetu nahi bante toh karo chahen kaise bhi ho usme kisi prakar ki dikkat nahi aati jo sadhaaran jeevan ji rahe hain aur jinako kisi se koi shikayat nahi aur jinmein shama ka samarthya hai kshama karne ka toh main toh yahi kahata hoon kshama se bada koi kanoon hai hi nahi apne prem aur bhav se nirvah kare yah jeevan jo hai prem ke adhikaar ka hai isko prem se badhti tak bhai behen bandhuon me jeev jantuon me pakshapat na kare aur sabse zyada se zyada apne jeevan saralata purvak jeene ka prayas kare

कानून व्यवस्था का संतुलन बनाए रखने के लिए बनाए जाते हैं कानून भंग की रणनीति वही लोग बनाते

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
user

सुरेश चंद आचार्य

Social Worker ( Self employed )

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार साथियों वास्तव में कुछ कानून ऐसे हैं जो पुराने हो गए हैं और वर्तमान परिस्थितियों में वे एक प्रकार से निष्क्रिय हैं जिन्हें बदलने की आवश्यकता है लेकिन कानून बनाना बदलना हमारे संसद का काम है जो बहुमत से होता है इसलिए इस पर सभी पार्टियों को विचार करना चाहिए और ऐसे कानूनों को बदलना चाहिए

namaskar sathiyo vaastav me kuch kanoon aise hain jo purane ho gaye hain aur vartaman paristhitiyon me ve ek prakar se nishkriya hain jinhen badalne ki avashyakta hai lekin kanoon banana badalna hamare sansad ka kaam hai jo bahumat se hota hai isliye is par sabhi partiyon ko vichar karna chahiye aur aise kanuno ko badalna chahiye

नमस्कार साथियों वास्तव में कुछ कानून ऐसे हैं जो पुराने हो गए हैं और वर्तमान परिस्थितियों म

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1647
WhatsApp_icon
user

Sapna

Social Worker

3:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय का कानून लागू है क्या उस कानून को बदलने की जरूरत नहीं है तो आपकी जानकारी के लिए मैं बताना चाहूंगी कि हमारे देश में जो विभाग हैं उनमें अंग्रेजी कानून लागू है वह कानून भारतीय संविधान ने स्वीकार किए हैं इसीलिए वह लागू है यदि यह कानून इसी तरीके से चलते रहे तो हमारे देश में जितने भी कानून है वह कानून किसी मतलब के नहीं हैं क्योंकि जो अंग्रेजी कानून है यह कानून हमारे देश का हित एवं विकास कर ही नहीं सकता इससे इस कानून से तो भ्रष्टाचार और भी बढ़ेगा और जो हमारे देश की गरीब जनता है उसको जो मदद मिलनी चाहिए वह बिल्कुल भी मदद नहीं मिल पाएगी अंग्रेजी अंग्रेजों का कानून यह देश का हित एवं विकास कर ही नहीं सकता फिर भी वर्तमान में अंग्रेजी कानून एवं अंग्रेजी को बहुत महत्व था दी जा रही है ऐसा नहीं होना चाहिए हमारे देश में यदि कोई कानून बनना चाहिए तो वह कानून हमारे देश के महान पुरुषों एवं डीएसके जो वीर शहीद है उनके जैसी भावना की उनके जैसे विचार थे उनके अनुसार हमारे देश में कानून बनने चाहिए ताकि उन कानून कानूनों से हमारे देश का हित एवं विकास हो सके और जितने भी हमारे देश में कानून जन-जन को समाज को और देश को विकास की राह पर आने पर रुकते हैं तो वह बंद हो जाए और जो यह अंग्रेजी कानून है इसको बिल्कुल खत्म कर दिया जाए तो ही हमारा देश उन्नति और विकास कर सकता है अन्यथा हमारे देश की उन्नति और विकास असंभव ही बना रहे सपना शर्मा

hamare desh me kuch vibhagon me aaj bhi angrejo ke samay ka kanoon laagu hai kya us kanoon ko badalne ki zarurat nahi hai toh aapki jaankari ke liye main batana chahungi ki hamare desh me jo vibhag hain unmen angrezi kanoon laagu hai vaah kanoon bharatiya samvidhan ne sweekar kiye hain isliye vaah laagu hai yadi yah kanoon isi tarike se chalte rahe toh hamare desh me jitne bhi kanoon hai vaah kanoon kisi matlab ke nahi hain kyonki jo angrezi kanoon hai yah kanoon hamare desh ka hit evam vikas kar hi nahi sakta isse is kanoon se toh bhrashtachar aur bhi badhega aur jo hamare desh ki garib janta hai usko jo madad milani chahiye vaah bilkul bhi madad nahi mil payegi angrezi angrejo ka kanoon yah desh ka hit evam vikas kar hi nahi sakta phir bhi vartaman me angrezi kanoon evam angrezi ko bahut mahatva tha di ja rahi hai aisa nahi hona chahiye hamare desh me yadi koi kanoon banna chahiye toh vaah kanoon hamare desh ke mahaan purushon evam DSK jo veer shaheed hai unke jaisi bhavna ki unke jaise vichar the unke anusaar hamare desh me kanoon banne chahiye taki un kanoon kanuno se hamare desh ka hit evam vikas ho sake aur jitne bhi hamare desh me kanoon jan jan ko samaj ko aur desh ko vikas ki raah par aane par rukte hain toh vaah band ho jaaye aur jo yah angrezi kanoon hai isko bilkul khatam kar diya jaaye toh hi hamara desh unnati aur vikas kar sakta hai anyatha hamare desh ki unnati aur vikas asambhav hi bana rahe sapna sharma

हमारे देश में कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय का कानून लागू है क्या उस कानून को बदल

Romanized Version
Likes  100  Dislikes    views  2061
WhatsApp_icon
user
0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कानून बदलना और कानून बनाना यह विधायिका का काम है यह किसी जनता का काम नहीं है कौन कानून रहेगा और कौन पतले और आवश्यकता पड़ने पर विधायिका अपना काम करती हुई है विधायिका के साथ-साथ नेपाल का भी अपना काम करती है

kanoon badalna aur kanoon banana yah vidhayika ka kaam hai yah kisi janta ka kaam nahi hai kaun kanoon rahega aur kaun patle aur avashyakta padane par vidhayika apna kaam karti hui hai vidhayika ke saath saath nepal ka bhi apna kaam karti hai

कानून बदलना और कानून बनाना यह विधायिका का काम है यह किसी जनता का काम नहीं है कौन कानून र

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  429
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में जो कानून है वह अंग्रेजी विधि द्वारा ही लिया गया है इसलिए वह कानून लागू आज भी होता है जिसे आईपीसीए 1807 18 साल में अंग्रेजी भाषा में थोड़ी भी लागू होती है राजगढ़ अरे किसके पास होती है हमारे भारत में अंग्रेजों के कानून लागू होता है संतों द्वारा कुछ मालूम कैसे बलात्कार के मामले ज्यादा से जाते हैं

hamare desh me jo kanoon hai vaah angrezi vidhi dwara hi liya gaya hai isliye vaah kanoon laagu aaj bhi hota hai jise IPCA 1807 18 saal me angrezi bhasha me thodi bhi laagu hoti hai rajgadh are kiske paas hoti hai hamare bharat me angrejo ke kanoon laagu hota hai santo dwara kuch maloom kaise balatkar ke mamle zyada se jaate hain

हमारे देश में जो कानून है वह अंग्रेजी विधि द्वारा ही लिया गया है इसलिए वह कानून लागू आज भ

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  381
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए संविधान जब लिखा गया था भारत का यानी कॉन्स्टिट्यूशन जिसे हम कहते हैं जिसे फॉलो किया जाता है तो उसमें भी अमेंडमेंट्स होते हैं और कुछ ही जगह ऐसी है कि जहां पर अंग्रेजों का लगा हुआ कानून इस्तेमाल होता है मरना मोस्ट ऑफ द प्लेसेस और मोस्ट ऑफ द मिनी कहूंगा मैं यह कहूंगा ऑलमोस्ट इन एवरी प्लेस चेंज हो चुका है

dekhiye samvidhan jab likha gaya tha bharat ka yani Constitution jise hum kehte hain jise follow kiya jata hai toh usme bhi amendments hote hain aur kuch hi jagah aisi hai ki jaha par angrejo ka laga hua kanoon istemal hota hai marna most of the places aur most of the mini kahunga main yah kahunga alamost in every place change ho chuka hai

देखिए संविधान जब लिखा गया था भारत का यानी कॉन्स्टिट्यूशन जिसे हम कहते हैं जिसे फॉलो किया ज

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  527
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका जो सवाली काफी अच्छा सॉन्ग है यहां पर यह कहना होगा कि ज्यादातर कानून जो हमारी आईपीसी सीआरपीसी सीपीसी आवेदन और हमारा डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट धारा जो गुजरात रखने के बनाए हुए कानून हैं लेकिन समय-समय पर उन पर संशोधन कर उनको भारतीय बनाने के लिए कार्य चल रहा है एकदम किसी भी कानून को बदलना ठीक या उचित नहीं होगा क्योंकि किसी भी चीज को बदलने के लिए समय-समय पर उसमें संशोधन करना पड़ता है आदतें एकदम नहीं छूटती हैं और हर किसी से कहा जा सकता है कि आदतें छोड़ दे एकदम नहीं छोड़ेगा सोच को बदलना जरूरी है और आप कहना बिल्कुल उचित है कि बदलने की जरूरत है और मैं भी नहीं समर्थन करता हूं कि वाकई बदल ना जाना चाहिए बदला जाना चाहिए कि हालात वह पहले वाले अब नहीं है अब वर्तमान में जो हमारे देश की परिस्थितियां उसके अनुसार कानून भी बने और उनको लागू भी कराया जाए

aapka jo savali kaafi accha song hai yahan par yah kehna hoga ki jyadatar kanoon jo hamari ipc crpc CPC avedan aur hamara disaster management act dhara jo gujarat rakhne ke banaye hue kanoon hain lekin samay samay par un par sanshodhan kar unko bharatiya banane ke liye karya chal raha hai ekdam kisi bhi kanoon ko badalna theek ya uchit nahi hoga kyonki kisi bhi cheez ko badalne ke liye samay samay par usme sanshodhan karna padta hai aadatein ekdam nahi chutti hain aur har kisi se kaha ja sakta hai ki aadatein chhod de ekdam nahi chodega soch ko badalna zaroori hai aur aap kehna bilkul uchit hai ki badalne ki zarurat hai aur main bhi nahi samarthan karta hoon ki vaakai badal na jana chahiye badla jana chahiye ki haalaat vaah pehle waale ab nahi hai ab vartaman me jo hamare desh ki paristhiyaann uske anusaar kanoon bhi bane aur unko laagu bhi karaya jaaye

आपका जो सवाली काफी अच्छा सॉन्ग है यहां पर यह कहना होगा कि ज्यादातर कानून जो हमारी आईपीसी स

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
user

Pradeep Solanki

Corporate Yoga Consultant

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बहुत से विभागों में अंग्रेजों की कानून लागू हो हमको आजकल जरूरत के हिसाब से बदलने की जरूरत है सिर्फ कानून ही नहीं पूरा स्ट्रक्चर बदलने की जरूरत है जैसे कि आईएएस और आईपीएस अधिकारी है यह अंग्रेजो के बनाए हुए कि वह चाहते थे उनके अधिकारी इतने पावरफुल उनके पास इतनी पावर यह उन को हटाना चाहिए और इनकी जगह बनानी है तो नीचे ईमानदारी से काम कर रहा है काफी सालों तक उनको बनाए और थोड़े टाइम के लिए बनाया पर बना रहेगा काम करें या ना करें उरई गए रहेगा और नेताओं के लिए ही काम करते हैं सारा पैसा नहीं होना चाहिए बड़ी सारे नियम कायदे कानून रोजरी बनाए हमको सोच समझकर हटाया जाना चाहिए

ji haan bahut se vibhagon me angrejo ki kanoon laagu ho hamko aajkal zarurat ke hisab se badalne ki zarurat hai sirf kanoon hi nahi pura structure badalne ki zarurat hai jaise ki IAS aur ips adhikari hai yah angrejo ke banaye hue ki vaah chahte the unke adhikari itne powerful unke paas itni power yah un ko hatana chahiye aur inki jagah banani hai toh niche imaandaari se kaam kar raha hai kaafi salon tak unko banaye aur thode time ke liye banaya par bana rahega kaam kare ya na kare urai gaye rahega aur netaon ke liye hi kaam karte hain saara paisa nahi hona chahiye badi saare niyam kayade kanoon rojri banaye hamko soch samajhkar hataya jana chahiye

जी हां बहुत से विभागों में अंग्रेजों की कानून लागू हो हमको आजकल जरूरत के हिसाब से बदलने की

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  555
WhatsApp_icon
user

Umesh kumar

Lecturer & Brain Guru ,Finger Prints Consultant

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुस्कान आपका दर्शन हमारे देश में कुछ विभागों में आज में अंग्रेजों के समय का कानून लागू क्या मुस्कान हो आज बदलने की जरूरत नहीं है हमारे देश के लगभग विभागों में पुराना कानूनी चला रहा है अंग्रेजों का समय का आवर्ती से समय में उसमें परिवर्तन की बिल्कुल आवश्यकता है उसमें परिवर्तन किया जाना चाहिए हमारी शिक्षा पद्धति में अंग्रेजों के समय की यह है उसमें भी हमें बुनियादी परिवर्तन किए जाने की आवश्यकता है ऐसा मेरा मानना है धन्यवाद

muskaan aapka darshan hamare desh me kuch vibhagon me aaj me angrejo ke samay ka kanoon laagu kya muskaan ho aaj badalne ki zarurat nahi hai hamare desh ke lagbhag vibhagon me purana kanooni chala raha hai angrejo ka samay ka aawarti se samay me usme parivartan ki bilkul avashyakta hai usme parivartan kiya jana chahiye hamari shiksha paddhatee me angrejo ke samay ki yah hai usme bhi hamein buniyadi parivartan kiye jaane ki avashyakta hai aisa mera manana hai dhanyavad

मुस्कान आपका दर्शन हमारे देश में कुछ विभागों में आज में अंग्रेजों के समय का कानून लागू क्य

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  735
WhatsApp_icon
Likes  10  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केवल इसलिए कि कोई कानून अंग्रेजो ने बनाया है और उससे बदला जाए इसकी कोई आवश्यकता नहीं है और भारतीय संविधान भी उन कानूनों को मान्यता प्रदान करता है जो पहले से लागू थी बहुत सारे कानून ऐसे जो कि बहुत ही लाभप्रद है और आज भी प्रासंगिक हैं जितने कि उस समय तो जब जो कि वह बनाए गए थे एक उदाहरण आप देख सकते हैं भारतीय दंड विधान भारतीय दंड विधान अपने आप में संपूर्ण अपराधियों को समाहित करता है फिर भी नए नए कानून बनाए जाते हैं जैसे जैसे आवश्यकताएं होती हैं और पुराने कानूनों में भी संशोधन किया जा सकता है कि आज आता भी है जैसे-जैसे उनकी आवश्यकता होती है तू एक फ्लैक्सिबल समाज में कानूनों में हमेशा संशोधन और परिवर्धन या उसमें कमी या कटौती करना एक आम बात है एक आम प्रक्रिया है लेकिन केवल कोई कानून इसलिए न लागू की जाए कि वह अंग्रेजों ने बनाया था इसका कोई तर्क नहीं है ना कोई बात तो है तो बहुत सारे कारण उपयोगी हैं और वह लागू करने में कोई दिक्कत नहीं

keval isliye ki koi kanoon angrejo ne banaya hai aur usse badla jaaye iski koi avashyakta nahi hai aur bharatiya samvidhan bhi un kanuno ko manyata pradan karta hai jo pehle se laagu thi bahut saare kanoon aise jo ki bahut hi laabhaprad hai aur aaj bhi prasangik hain jitne ki us samay toh jab jo ki vaah banaye gaye the ek udaharan aap dekh sakte hain bharatiya dand vidhan bharatiya dand vidhan apne aap me sampurna apradhiyon ko samahit karta hai phir bhi naye naye kanoon banaye jaate hain jaise jaise aavashyakataen hoti hain aur purane kanuno me bhi sanshodhan kiya ja sakta hai ki aaj aata bhi hai jaise jaise unki avashyakta hoti hai tu ek flaiksibal samaj me kanuno me hamesha sanshodhan aur parivardhan ya usme kami ya katauti karna ek aam baat hai ek aam prakriya hai lekin keval koi kanoon isliye na laagu ki jaaye ki vaah angrejo ne banaya tha iska koi tark nahi hai na koi baat toh hai toh bahut saare karan upyogi hain aur vaah laagu karne me koi dikkat nahi

केवल इसलिए कि कोई कानून अंग्रेजो ने बनाया है और उससे बदला जाए इसकी कोई आवश्यकता नहीं है और

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  395
WhatsApp_icon
user

Balkar Singh

Advocate

3:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो इस सवाल के जवाब में कि हमारे देश में कुछ इलाकों में आज भी अंग्रेजी अंग्रेजों के समय के कानून लागू है उस कानून को बदलने की जरूरत नहीं है सरकार को रिपीट कर दिया कि कल नहीं है उनकी जरूरत नहीं है लेकिन बहुत सारे कानून या हमारा संविधान भी अलग-अलग जगह से जहां-जहां अच्छी सी हमने चमकीली जो भारत का कानून है इंडियन पेनल कोड सीपीसी सिविल प्रोसीजर कोड सीआरपीसी क्रिमिनल प्रोसीजर कोड कि वह अरे जो क्रिमिनल केस है पायल है उसके मैसेज पर चलता उसकी गाइडलाइंस में चलता है दीवानगी की गाइडलाइंस में चलते हैं उसमें सारण का तरीका दिया गया है कि कैसे कोई ट्रायल चलेगा कैसे क्या करना है किस चीज में पैसा कैसे करना है इस फिल्म के लिए और न्यायाधीशों के लिए दिशानिर्देश में एक सेक्टर 25 से चले आ रहे हैं और उनमें थोड़े बहुत बदलाव जरूरत के हिसाब से नाम मात्र 5 से 10 साल तक हमारे जो किसी लोगों को चैलेंज करते हैं उन बदलावों को हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में लेकिन अगर वह सही कोर्ट तो हम सिर्फ यह कहे कि अंग्रेजों के टाइम के हैं यह कानून इसलिए बदलना चाहिए वह बात सही नहीं था अगर इस कानून की आज के परिपेक्ष कोई बाध्यता नहीं है अभी ड्यूटी नहीं है प्रैक्टिकल नहीं है साहब उसको जरूर बदलना चाहिए और ऐसा सरकार ने पहले से ही ऐसे बहुत सारे कानून है जिनको हाईलाइट करके रिप्लाई कर दिया था कि रतलाम में गिरा देगी सरकार उसके बारे में काम करती रहती है तो हम सिर्फ यह न कहें कि अंग्रेजों के समय से है इसलिए वह गलत है यह कहना गलत होगा क्योंकि हमें बहुत सारी चीजें उस समय से भी मिली है और अच्छी चीजें हैं वह रखनी चाहिए करनी चाहिए उनको चलाना चाहिए और उस में बहुत ज्यादा अंतर जो कानून है बिल्कुल सही है और उस को बदलने की सभी कानून सारे टोटल उस को बदलने की जरूरत है के पुराने गीत सहित

hello is sawaal ke jawab me ki hamare desh me kuch ilako me aaj bhi angrezi angrejo ke samay ke kanoon laagu hai us kanoon ko badalne ki zarurat nahi hai sarkar ko repeat kar diya ki kal nahi hai unki zarurat nahi hai lekin bahut saare kanoon ya hamara samvidhan bhi alag alag jagah se jaha jaha achi si humne chamkili jo bharat ka kanoon hai indian panel code CPC civil procedure code crpc criminal procedure code ki vaah are jo criminal case hai payal hai uske massage par chalta uski gaidalains me chalta hai deewangi ki gaidalains me chalte hain usme saran ka tarika diya gaya hai ki kaise koi trial chalega kaise kya karna hai kis cheez me paisa kaise karna hai is film ke liye aur nyaydhisho ke liye dishanirdesh me ek sector 25 se chale aa rahe hain aur unmen thode bahut badlav zarurat ke hisab se naam matra 5 se 10 saal tak hamare jo kisi logo ko challenge karte hain un badlaon ko highcourt aur supreme court me lekin agar vaah sahi court toh hum sirf yah kahe ki angrejo ke time ke hain yah kanoon isliye badalna chahiye vaah baat sahi nahi tha agar is kanoon ki aaj ke paripeksh koi baadhyata nahi hai abhi duty nahi hai practical nahi hai saheb usko zaroor badalna chahiye aur aisa sarkar ne pehle se hi aise bahut saare kanoon hai jinako highlight karke reply kar diya tha ki ratlam me gira degi sarkar uske bare me kaam karti rehti hai toh hum sirf yah na kahein ki angrejo ke samay se hai isliye vaah galat hai yah kehna galat hoga kyonki hamein bahut saari cheezen us samay se bhi mili hai aur achi cheezen hain vaah rakhni chahiye karni chahiye unko chalana chahiye aur us me bahut zyada antar jo kanoon hai bilkul sahi hai aur us ko badalne ki sabhi kanoon saare total us ko badalne ki zarurat hai ke purane geet sahit

हेलो इस सवाल के जवाब में कि हमारे देश में कुछ इलाकों में आज भी अंग्रेजी अंग्रेजों के समय क

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

Yogender Dhillon

Law Educator , Advocate Motivational Coach

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां जी कुछ डिपार्टमेंट में जैसे पुलिस डिपार्टमेंट में जैसे आईपीसी में हमारे पुराने कानून लागू है उनको आज बदलने की जरूरत है और सरकार इस दिशा में काम कर भी रही है अगर हम भाजपा की बात करें तो भाजपा ने बहुत सारे कानून बनाए हैं और आगे यह बनाएगी इन पुराने कानूनों को रिटेल करें

haan ji kuch department me jaise police department me jaise ipc me hamare purane kanoon laagu hai unko aaj badalne ki zarurat hai aur sarkar is disha me kaam kar bhi rahi hai agar hum bhajpa ki baat kare toh bhajpa ne bahut saare kanoon banaye hain aur aage yah banayegi in purane kanuno ko retail kare

हां जी कुछ डिपार्टमेंट में जैसे पुलिस डिपार्टमेंट में जैसे आईपीसी में हमारे पुराने कानून ल

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अंग्रेजों के समय से चल रहे कानूनों में कई जगह बदलाव की आवश्यकता है जिसको समय-समय पर सरकारें जो है अमेंडमेंट करती रहती हैं और हां यह बात सही है कि अंग्रेजों के जमाने की जो कानून है वह इस परिपेक्ष में अगर नहीं उचित है तो उनको बदल देना चाहिए

angrejo ke samay se chal rahe kanuno me kai jagah badlav ki avashyakta hai jisko samay samay par sarkaren jo hai Amendment karti rehti hain aur haan yah baat sahi hai ki angrejo ke jamane ki jo kanoon hai vaah is paripeksh me agar nahi uchit hai toh unko badal dena chahiye

अंग्रेजों के समय से चल रहे कानूनों में कई जगह बदलाव की आवश्यकता है जिसको समय-समय पर सरकारे

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  64
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल अंग्रेजों के टाइम की कई कानूनों की अनुपयोगी लग रहे हैं उनकी समीक्षा होनी चाहिए और जो जो कानून के उपयोगी हैं वह चीजें ही नहीं हो रही है आजकल तो उनको खत्म कर दो और कुछ कानून में फेरबदल भी किया जाता है वह भी रहा है

bilkul angrejo ke time ki kai kanuno ki anupyogi lag rahe hain unki samiksha honi chahiye aur jo jo kanoon ke upyogi hain vaah cheezen hi nahi ho rahi hai aajkal toh unko khatam kar do aur kuch kanoon me ferabadal bhi kiya jata hai vaah bhi raha hai

बिल्कुल अंग्रेजों के टाइम की कई कानूनों की अनुपयोगी लग रहे हैं उनकी समीक्षा होनी चाहिए और

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  1128
WhatsApp_icon
user
0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश के कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय कानून लागू है बात तो सही है अंग्रेज के समय का है कानून अभी तक हम लोग झेल रहे हैं उसका थोड़ा बहुत बदलाव हुआ है लेकिन उनका नहीं हुआ आज के समय परिस्थितियों को देखते हुए कानून में बदलाव लाना बहुत जरूरी है यह पता नहीं है कि बदलाव होना चाहिए कानून में क्योंकि पहले जमाने कानून और आपकी कानून में बहुत अंतर हो अभी नया नया एप्स दिखाएं हो रखा गया और भी एक्स्ट्रा रहे हैं इन सबसे भी कानून बने हैं लेकिन अभी भी बहुत से कानून ऐसे हैं जो पुराने ढर्रे पर चले आना बहुत जरूरी है सभी को देखते हुए कानून में बदलाव लाना जरूरी है

hamare desh ke kuch vibhagon me aaj bhi angrejo ke samay kanoon laagu hai baat toh sahi hai angrej ke samay ka hai kanoon abhi tak hum log jhel rahe hain uska thoda bahut badlav hua hai lekin unka nahi hua aaj ke samay paristhitiyon ko dekhte hue kanoon me badlav lana bahut zaroori hai yah pata nahi hai ki badlav hona chahiye kanoon me kyonki pehle jamane kanoon aur aapki kanoon me bahut antar ho abhi naya naya apps dikhaen ho rakha gaya aur bhi extra rahe hain in sabse bhi kanoon bane hain lekin abhi bhi bahut se kanoon aise hain jo purane dharre par chale aana bahut zaroori hai sabhi ko dekhte hue kanoon me badlav lana zaroori hai

हमारे देश के कुछ विभागों में आज भी अंग्रेजों के समय कानून लागू है बात तो सही है अंग्रेज के

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
user

Brijpal Singh Chouhan

Social Worker, journalist

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल उस अंग्रेजों के कानून को बदलने की जरूरत है क्योंकि जब हमारा देश आजाद हो गया तो कानून भी हमारी ही होनी चाहिए पता नहीं क्यों देश की सरकार है स्कूल नहीं बदल पा रही हैं शायद वर्तमान की सरकार इसमें हस्तक्षेप कर रही है और सफल भी हो रही है हमें पूरा भरोसा है कि अंग्रेजों कानून को बदला जाए और अपने देश का कानून लागू किया जाए तो अच्छा रहेगा

bilkul us angrejo ke kanoon ko badalne ki zarurat hai kyonki jab hamara desh azad ho gaya toh kanoon bhi hamari hi honi chahiye pata nahi kyon desh ki sarkar hai school nahi badal paa rahi hain shayad vartaman ki sarkar isme hastakshep kar rahi hai aur safal bhi ho rahi hai hamein pura bharosa hai ki angrejo kanoon ko badla jaaye aur apne desh ka kanoon laagu kiya jaaye toh accha rahega

बिल्कुल उस अंग्रेजों के कानून को बदलने की जरूरत है क्योंकि जब हमारा देश आजाद हो गया तो कान

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!