हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनेता या अधिकारी ही मिटा सकते हैं?...


user

Sanjiv Kumar

Social Worker , Motivational Speaker

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में भ्रष्टाचार केवल आम आदमी ही मिटा सकता है ना राजनेता न मंत्री नकुल कोई नहीं दुनिया का कोई ताकत नहीं केवल आम जनता जिस दिन हम जनता होगी सोच लिया ना कि यह काम अगर नहीं करेगा तो हम स्पेस किसी से उठा देंगे तो याद रखिएगा उस दिन आपका भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा बाप बोल करेगा सर हम आम जनता ही चोर है हम आम जनता ही क्राफ्ट हैं इसीलिए हम आम जनता ही करप्शन को हटा सकते हैं

hamare desh me bhrashtachar keval aam aadmi hi mita sakta hai na raajneta na mantri nakul koi nahi duniya ka koi takat nahi keval aam janta jis din hum janta hogi soch liya na ki yah kaam agar nahi karega toh hum space kisi se utha denge toh yaad rakhiega us din aapka bhrashtachar khatam ho jaega baap bol karega sir hum aam janta hi chor hai hum aam janta hi craft hain isliye hum aam janta hi corruption ko hata sakte hain

हमारे देश में भ्रष्टाचार केवल आम आदमी ही मिटा सकता है ना राजनेता न मंत्री नकुल कोई नहीं दु

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  478
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anoop Akhre

Soft Skill Trainer

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में भ्रष्टाचार आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनेता यादें कारण तो मेरा यह जवाब इसके लिए होगा कि आम आदमी नहीं मिला सकता क्योंकि आम आदमी हमेशा फॉलो करता है अनुसरण करता है उससे बड़े व्यक्तियों को जैसे कि कोई अधिकारी हो या राजनेता शुरुआत कर सकते हैं क्योंकि असंभव कुछ भी नहीं होता कई बार ऐसा होता है कि एक छोटी सी चिंगारी बड़ी से बड़ी चीजों को जरा आदित्य वही स्थिति है यदि आम इंसान सोच ले कि मुझे यह भ्रष्टाचार मिटाना ही है तो प्रभु मिटा सकता है

hamare desh me bhrashtachar aam aadmi mita sakta hai ya ise sirf raajneta yaadain karan toh mera yah jawab iske liye hoga ki aam aadmi nahi mila sakta kyonki aam aadmi hamesha follow karta hai anusaran karta hai usse bade vyaktiyon ko jaise ki koi adhikari ho ya raajneta shuruat kar sakte hain kyonki asambhav kuch bhi nahi hota kai baar aisa hota hai ki ek choti si chingaari badi se badi chijon ko zara aditya wahi sthiti hai yadi aam insaan soch le ki mujhe yah bhrashtachar mitana hi hai toh prabhu mita sakta hai

हमारे देश में भ्रष्टाचार आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनेता यादें कारण तो मेरा यह ज

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user

S. M. Jha

Social Worker

2:33
Play

Likes  9  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भ्रष्टाचार की शुरुआत होती है आम नागरिक से आम नागरिक ही चाहे तो भ्रष्टाचार मिट सकता है राजनेता और अधिकारी कभी नहीं चाहेंगे कि देश से भ्रष्टाचार में टेक्स्ट आचार की मूलचंद है जड़ है आज की अज्ञानता

bhrashtachar ki shuruat hoti hai aam nagarik se aam nagarik hi chahen toh bhrashtachar mit sakta hai raajneta aur adhikari kabhi nahi chahenge ki desh se bhrashtachar me text aachar ki moolchand hai jad hai aaj ki agyanata

भ्रष्टाचार की शुरुआत होती है आम नागरिक से आम नागरिक ही चाहे तो भ्रष्टाचार मिट सकता है राजन

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
user

Sachin Sinha

Journalist

2:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अधिकारी और राजनेता को कभी नहीं मिटा सकते स्थित बढ़ावा दे सकते हैं आम आदमी अगर जागरुक हो और लेन-देन बंद करें और अपना स्वार्थ को जितना जल्दी दादरे के लिए खुला रहता है तो सब नीचे गिराने के लिए जाता है सब चीजों को छोड़ दे और सारे आम नागरिक हो जाए तो इस देश से भ्रष्टाचार और कोई भी राजनेता या अधिकारी किसी भी तरीके से भ्रष्टाचार नहीं देगा तो फिर 2000की नोट और 500 के नोट चलाया गया है कि भ्रष्टाचार और अधिक बढ़ सके कम पैसे में आपको बड़ा शाम को मिल जाएगा इसलिए 2 बटा 4 बटा 400 गुना बढ़ गया अब जहां आज आपको ₹500 देना था ₹200 मिल जाते थे आज उसकी जगह पर आपको देना सब लोग दर्द भी कम नोट लेकर जाते थे आवाज 2000 का नोट लेके जाइएगा तो 2000 के कई गड्डी लेके जाएगा कई लाखों लाखों रुपए आप बोले थे कि पापा को पता भी नहीं चलेगा और ₹400000 भेज देंगे और आपको पता भी चलेगा इसलिए से 2000की नोट बनाया गया है और 1000 और 500 के नोट हो उतना ज्यादा भ्रष्टाचार कम होते हैं और आम आदमी के साथ पीएसओ चलेगा पूरा देश 100 करोड़ में प्रचार नहीं करना है और हमको अपने काम को सीधा ही तो निकालना है और किसी दूसरे आदमी को कलर नहीं करता है संबंधित अपने तरीके से काम करें सरकार मिटेगा बाबू और कोई भी नेता और कोई अधिकारी जनप्रतिनिधि अधिकारी और बढ़ावा देगा

hum adhikari aur raajneta ko kabhi nahi mita sakte sthit badhawa de sakte hain aam aadmi agar jagruk ho aur len then band kare aur apna swarth ko jitna jaldi dadre ke liye khula rehta hai toh sab niche girane ke liye jata hai sab chijon ko chhod de aur saare aam nagarik ho jaaye toh is desh se bhrashtachar aur koi bhi raajneta ya adhikari kisi bhi tarike se bhrashtachar nahi dega toh phir ki note aur 500 ke note chalaya gaya hai ki bhrashtachar aur adhik badh sake kam paise me aapko bada shaam ko mil jaega isliye 2 bataa 4 bataa 400 guna badh gaya ab jaha aaj aapko Rs dena tha Rs mil jaate the aaj uski jagah par aapko dena sab log dard bhi kam note lekar jaate the awaaz 2000 ka note leke jaiega toh 2000 ke kai gaddi leke jaega kai laakhon laakhon rupaye aap bole the ki papa ko pata bhi nahi chalega aur Rs bhej denge aur aapko pata bhi chalega isliye se ki note banaya gaya hai aur 1000 aur 500 ke note ho utana zyada bhrashtachar kam hote hain aur aam aadmi ke saath PSO chalega pura desh 100 crore me prachar nahi karna hai aur hamko apne kaam ko seedha hi toh nikalna hai aur kisi dusre aadmi ko color nahi karta hai sambandhit apne tarike se kaam kare sarkar mitega babu aur koi bhi neta aur koi adhikari janapratinidhi adhikari aur badhawa dega

हम अधिकारी और राजनेता को कभी नहीं मिटा सकते स्थित बढ़ावा दे सकते हैं आम आदमी अगर जागरुक हो

Romanized Version
Likes  78  Dislikes    views  1715
WhatsApp_icon
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में भ्रष्टाचार के आम आदमी मिटा सकता है या सिर्फ राजनीति तारीख की मर्डर भ्रष्टाचार करने वाला नेता तो अपनी जगह है ही पर आम आदमी भी होता है किसी ऑफिस में आम आदमी ही जाकर बुद्धाचे मुझे काम जल्दी करवाना है पैसे जैसे हम हैं वैसे हमारे नेता हमारे नेता अलग नहीं है जो हमारा समाज है वही हमारा नेता है तो पहले अपने आप को देखे हमारी कमियां उसे स्वीकार करें हम भ्रष्टाचारी ऐसी नेताजी भ्रष्टाचारी मिलना है हमें हर इंसान यदि सुधर जाए तो बस अपने आप सुधर गया नेता भी तो यही करता किसी गांव में किसी को कुछ ज्यादा दे दिया किसी को कुछ करवा दें क्योंकि जनता नेता भी तो वही करता है जनता चाहती है तो भ्रष्टाचार आम आदमी ही मिटा सकता है नेता या सरकार कभी नहीं बता सकती वह कितनी भी कोशिश करना जब तक आम आदमी नहीं मानेगा बस अब नहीं हर व्यक्ति खुद प्रयास करता केसा मेरा काम जल्दी कर ₹200 दे दो तो अब इसमें कौन से नेता का दूसरों के अकाली नेता को दे देते हैं सबसे पहले खुद सुधर आम आदमी सुधर गया पूरा देश की कीमत नहीं पड़ेगी

hamare desh me bhrashtachar ke aam aadmi mita sakta hai ya sirf raajneeti tarikh ki murder bhrashtachar karne vala neta toh apni jagah hai hi par aam aadmi bhi hota hai kisi office me aam aadmi hi jaakar buddhache mujhe kaam jaldi karwana hai paise jaise hum hain waise hamare neta hamare neta alag nahi hai jo hamara samaj hai wahi hamara neta hai toh pehle apne aap ko dekhe hamari kamiyan use sweekar kare hum bhrashtachaari aisi netaji bhrashtachaari milna hai hamein har insaan yadi sudhar jaaye toh bus apne aap sudhar gaya neta bhi toh yahi karta kisi gaon me kisi ko kuch zyada de diya kisi ko kuch karva de kyonki janta neta bhi toh wahi karta hai janta chahti hai toh bhrashtachar aam aadmi hi mita sakta hai neta ya sarkar kabhi nahi bata sakti vaah kitni bhi koshish karna jab tak aam aadmi nahi manega bus ab nahi har vyakti khud prayas karta kesa mera kaam jaldi kar Rs de do toh ab isme kaun se neta ka dusro ke akali neta ko de dete hain sabse pehle khud sudhar aam aadmi sudhar gaya pura desh ki kimat nahi padegi

हमारे देश में भ्रष्टाचार के आम आदमी मिटा सकता है या सिर्फ राजनीति तारीख की मर्डर भ्रष्टाच

Romanized Version
Likes  86  Dislikes    views  2207
WhatsApp_icon
user

Virendra Singh

Public figure

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में भ्रष्टाचार एक आम आदमी ही मिटा सकता है लेकिन वह आम आदमी जनता के रूप में ही नहीं मिटा सकता अकेला नहीं मिटा सकता है उस आम आदमी को एक मतदाता के रूप में जागरूक होना होगा उस आम आदमी को अधिकारी के रूप में भी पहुंचना होगा उसी आम आदमी को विधायक सांसद इस रूप में भी पहुंचना होगा तब जाकर के हम सोच सकते हैं कि हम भ्रष्टाचार पर विजय पा लेंगे एक अकेला आदमी चाहे वह नेता हो चाहे वह अधिकारी हो या जनता हो अकेला आदमी भ्रष्टाचार नहीं मिटा सकता इसके लिए वृहद स्तर पर जागरूकता की आवश्यकता होती है

bharat me bhrashtachar ek aam aadmi hi mita sakta hai lekin vaah aam aadmi janta ke roop me hi nahi mita sakta akela nahi mita sakta hai us aam aadmi ko ek matdata ke roop me jagruk hona hoga us aam aadmi ko adhikari ke roop me bhi pahunchana hoga usi aam aadmi ko vidhayak saansad is roop me bhi pahunchana hoga tab jaakar ke hum soch sakte hain ki hum bhrashtachar par vijay paa lenge ek akela aadmi chahen vaah neta ho chahen vaah adhikari ho ya janta ho akela aadmi bhrashtachar nahi mita sakta iske liye vrihad sthar par jagrukta ki avashyakta hoti hai

भारत में भ्रष्टाचार एक आम आदमी ही मिटा सकता है लेकिन वह आम आदमी जनता के रूप में ही नहीं मि

Romanized Version
Likes  180  Dislikes    views  1331
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका वचन है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकते हैं या सिर्फ राजनेता जानकारी मिटा सकते हैं देखे भाई साहब आपका जब उसका जो आपने पूछा क्या आज आम आदमी भ्रष्टाचार कुंडा से बिल्कुल कुछ भेजता क्या खूब मिटा सकते हैं इसके लिए जो आम आदमी है उसको संकल्प करा लेना चाहिए अब इसकी शुरुआत होगी चुनाव में चुनाव के समय अगर कोई लीडर नेता जी कोई आपको प्रलोभन देता है पैसा देता है जान या कोई पास में देता है उसको आकर हम लोग ना करेंगे ना तो भ्रष्टाचार को लगाम लगाने के लिए पहला कदम वाला होगा अगर हम लोग के बिना किसी प्रलोभन से अपना वोट सही व्यक्ति को देंगे तो बेबी आप जो समस्या उस तक पहुंच जाओगे आपकी समस्या को हल करने की कोशिश करेगा उसको पता है आप लोगों ने बिना किसी को लोगों से उसको भूख लग रही राजनेता की बात तो राजनेता जानकारी इन से यह भ्रष्टाचार खत्म करने की कृपा करें तो यह बहुत कठिन है क्योंकि जो राजनेता है भ्रष्टाचार को खत्म नहीं करेगा वह जो दिखा दिया वह भी नहीं कर सकता जो गुरुदेव का क्या तरीका है राजनीतिक लोग अधिकारियों को को प्ले करो खत्म कर दिया हम आदमी को ही आ गया और अगर आपको लेनी है कुछ सुविधा लेनी है तो उसको बोलिए हमें शिक्षा दीजिए और हमें हर तो बताओ अच्छी

aapka vachan hai hamare desh me bhrashtachar kya aam aadmi mita sakte hain ya sirf raajneta jaankari mita sakte hain dekhe bhai saheb aapka jab uska jo aapne poocha kya aaj aam aadmi bhrashtachar kunda se bilkul kuch bhejta kya khoob mita sakte hain iske liye jo aam aadmi hai usko sankalp kara lena chahiye ab iski shuruat hogi chunav me chunav ke samay agar koi leader neta ji koi aapko pralobhan deta hai paisa deta hai jaan ya koi paas me deta hai usko aakar hum log na karenge na toh bhrashtachar ko lagaam lagane ke liye pehla kadam vala hoga agar hum log ke bina kisi pralobhan se apna vote sahi vyakti ko denge toh baby aap jo samasya us tak pohch jaoge aapki samasya ko hal karne ki koshish karega usko pata hai aap logo ne bina kisi ko logo se usko bhukh lag rahi raajneta ki baat toh raajneta jaankari in se yah bhrashtachar khatam karne ki kripa kare toh yah bahut kathin hai kyonki jo raajneta hai bhrashtachar ko khatam nahi karega vaah jo dikha diya vaah bhi nahi kar sakta jo gurudev ka kya tarika hai raajnitik log adhikaariyo ko ko play karo khatam kar diya hum aadmi ko hi aa gaya aur agar aapko leni hai kuch suvidha leni hai toh usko bolie hamein shiksha dijiye aur hamein har toh batao achi

आपका वचन है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकते हैं या सिर्फ राजनेता जानकारी म

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  766
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम आदमी बिना राजनेता या अधिकारी बने हुए भ्रष्टाचार नहीं मिटा सकता लेकिन जब तक वह राजनेता या अधिकारी बनता है तब तक वह पूरी तरह भ्रष्ट हो गए हो जाता है इसलिए हमारे देश से भ्रष्टाचार कभी नहीं मिट सकता

aam aadmi bina raajneta ya adhikari bane hue bhrashtachar nahi mita sakta lekin jab tak vaah raajneta ya adhikari banta hai tab tak vaah puri tarah bhrasht ho gaye ho jata hai isliye hamare desh se bhrashtachar kabhi nahi mit sakta

आम आदमी बिना राजनेता या अधिकारी बने हुए भ्रष्टाचार नहीं मिटा सकता लेकिन जब तक वह राजनेता य

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

Vedpal

Social Worker

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश में व्याप्त भ्रष्टाचार को ना राजनेता कभी भी मिटा सकते ना कभी भी अधिकारी मिटा सकते हैं उसका मुख्य कारण यह है कि यही तो उनकी यही तो भ्रष्टाचार की मूल जड़ हैं तो जो मूल चटन गूगल कैसे मिटा मिटा 4 को मिटायेंगे इसका तो मिटाने का मूल्य शुरुआत करनी पड़ेगी वह खुद से करनी पड़ी जो प्रश्न करता उसको खुद ही करनी पड़ेगी क्या भ्रष्टाचार कानून तो यह कहता कि रिश्वत देना और अशोक मेरा दोनो गुनाह करें तो क्या जो आज ऑपरेशन करता है अगर वह किसी को रिश्वत देता हुआ जब एक दूसरे पहलू को दूसरे पक्ष कार को ही कैसे कह सकते हैं कि वह भ्रष्टाचार कैसे लेते हैं वह खुद से शुरुआत कीजिए आप आपका काम कितने भी लेट हो कितना भी देरी से हो चाहे भले हो ना तो आप ₹1 भी पांच पैसे की भी रिश्वत नहीं देंगे काम करेंगे तो ईमानदारी से करें आप संकल्प की थी मैं खुद परेशान करता है मैंने जीवन में कभी किसी को रिश्वत नहीं दी हां काम बहुत है काम सरकारी महकमों से बहुत मस्त पड़ा है तेरी बहुत हुई है चपले बहुत जिसमें यह सच बात है लेकिन कभी रिश्वत नीति सिद्धांत बटन सिद्धांत पूरा कमरा कभी रिश्वत लेते और आत्मा की आवाज पर बिना रिश्वत के काम हो जाता है और जातक अधिकारी है क्या बात है वह तो संबंधित अधिकारी हो या नहीं तो बनते इसलिए पॉकेट बनाने के लिए सेवा करने के लिए फोन बनता है जब बनते हैं कोयल का इंटरव्यू लेता है कुछ प्रेस वाला कोई बड़े चाहते हैं जी हम देश की सेवा करेंगे मुझे बहुत हंसी आती है क्योंकि मैंने प्रैक्टिकल इन सब को देखा है सब का पता है हमें क्योंकि मेरा वास्तविक पढ़ाई चाहिए

desh me vyapt bhrashtachar ko na raajneta kabhi bhi mita sakte na kabhi bhi adhikari mita sakte hain uska mukhya karan yah hai ki yahi toh unki yahi toh bhrashtachar ki mul jad hain toh jo mul chatan google kaise mita mita 4 ko mitayenge iska toh mitane ka mulya shuruat karni padegi vaah khud se karni padi jo prashna karta usko khud hi karni padegi kya bhrashtachar kanoon toh yah kahata ki rishwat dena aur ashok mera dono gunah kare toh kya jo aaj operation karta hai agar vaah kisi ko rishwat deta hua jab ek dusre pahaloo ko dusre paksh car ko hi kaise keh sakte hain ki vaah bhrashtachar kaise lete hain vaah khud se shuruat kijiye aap aapka kaam kitne bhi late ho kitna bhi deri se ho chahen bhale ho na toh aap Rs bhi paanch paise ki bhi rishwat nahi denge kaam karenge toh imaandaari se kare aap sankalp ki thi main khud pareshan karta hai maine jeevan me kabhi kisi ko rishwat nahi di haan kaam bahut hai kaam sarkari mahkamon se bahut mast pada hai teri bahut hui hai chapale bahut jisme yah sach baat hai lekin kabhi rishwat niti siddhant button siddhant pura kamra kabhi rishwat lete aur aatma ki awaaz par bina rishwat ke kaam ho jata hai aur jatak adhikari hai kya baat hai vaah toh sambandhit adhikari ho ya nahi toh bante isliye pocket banane ke liye seva karne ke liye phone banta hai jab bante hain koyal ka interview leta hai kuch press vala koi bade chahte hain ji hum desh ki seva karenge mujhe bahut hansi aati hai kyonki maine practical in sab ko dekha hai sab ka pata hai hamein kyonki mera vastavik padhai chahiye

देश में व्याप्त भ्रष्टाचार को ना राजनेता कभी भी मिटा सकते ना कभी भी अधिकारी मिटा सकते हैं

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
user

Ashwini Sharma

Social Worker

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनीति अधिकारी मिटा सकते हैं हमारे देश में भ्रष्टाचार हम सब मिलकर के मिटा सकते हैं आम आदमी मिटा सकता है राजनेता और अधिकारी आम आदमी से ही बनते हैं अधिकारी से और राजनेता से आदमी नहीं बनते इसलिए जन जन की पुकार खत्म हो दुनिया से भ्रष्टाचार यदि हम सब मिलकर किस तरह के प्रयास करते हैं तो बिल्कुल हम सब मिलकर के सदाचार की बात सोचेंगे सदाचार का आचरण करेंगे तो निश्चित रूप से भ्रष्टाचार समाप्त होगा

hamare desh me bhrashtachar kya aam aadmi mita sakta hai ya ise sirf raajneeti adhikari mita sakte hain hamare desh me bhrashtachar hum sab milkar ke mita sakte hain aam aadmi mita sakta hai raajneta aur adhikari aam aadmi se hi bante hain adhikari se aur raajneta se aadmi nahi bante isliye jan jan ki pukaar khatam ho duniya se bhrashtachar yadi hum sab milkar kis tarah ke prayas karte hain toh bilkul hum sab milkar ke sadachar ki baat sochenge sadachar ka aacharan karenge toh nishchit roop se bhrashtachar samapt hoga

हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनीति अधिकारी मिटा सकते

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user
2:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में भ्रष्टाचार का आम आदमी कर सकता है या फिर से राजनेता या अधिकारी भी बता सकते हैं आपका आप सोचते हैं कि भ्रष्टाचार राजनीति अधिकारी मिठास गलत है क्योंकि राजनेता जो सरकार में बैठे नेता लोग होते हैं तो यह सरकार में बैठकर प्रचार करने के लिए भी होते हैं कहां जाए तो कोई भी सरकार भ्रष्ट नहीं होती है जो सरकार देखी है वह भ्रष्ट नहीं होती है उपचार करने के लिए भी सरकार को बनाया जाता है और जो सरकार रहेगी वह अपने अधिकारी अपने और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देंगे इसके लिए आम आदमी को समझ सकता है कि हमको ऑफिस को वोट देना चाहिए किसको नहीं देना चाहिए तो चुनाव से पहले देश को परखना जरूरी है कि उसकी छवि कैसी है सही है सही है ईमानदार है या नहीं है इसीलिए आम अदमी को चुनाव के समय देखना चाहिए जिससे एक मित्र से सरकार बनी है इसके प्रचार में कुछ कमी है

hamare desh me bhrashtachar ka aam aadmi kar sakta hai ya phir se raajneta ya adhikari bhi bata sakte hain aapka aap sochte hain ki bhrashtachar raajneeti adhikari mithaas galat hai kyonki raajneta jo sarkar me baithe neta log hote hain toh yah sarkar me baithkar prachar karne ke liye bhi hote hain kaha jaaye toh koi bhi sarkar bhrasht nahi hoti hai jo sarkar dekhi hai vaah bhrasht nahi hoti hai upchaar karne ke liye bhi sarkar ko banaya jata hai aur jo sarkar rahegi vaah apne adhikari apne aur bhrashtachar ko badhawa denge iske liye aam aadmi ko samajh sakta hai ki hamko office ko vote dena chahiye kisko nahi dena chahiye toh chunav se pehle desh ko parakhana zaroori hai ki uski chhavi kaisi hai sahi hai sahi hai imaandaar hai ya nahi hai isliye aam adami ko chunav ke samay dekhna chahiye jisse ek mitra se sarkar bani hai iske prachar me kuch kami hai

हमारे देश में भ्रष्टाचार का आम आदमी कर सकता है या फिर से राजनेता या अधिकारी भी बता सकते है

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  48
WhatsApp_icon
user

Omkar Vishwakarma

Human Right Defendr

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भ्रष्टाचार भारत के शिक्षक मिटा सकते हैं और आज व्यक्ति की एक मजबूत इच्छाशक्ति मिटा सकती अगर शिक्षक हमारे स्कूल में अच्छी शिक्षा देंगे और भ्रष्टाचार के खिलाफ शिक्षा देंगे बच्चों को तो वह बच्चे आने वाले भविष्य में देश में हो रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ कदम उठाएंगे और उनके पास मजबूत इच्छाशक्ति भी होगी लेकिन शिक्षा की शुरू से ही क्लास में ₹10 ₹5 हैं तो ऐसे में भ्रष्टाचार मिट यह कैसे संभव

bhrashtachar bharat ke shikshak mita sakte hain aur aaj vyakti ki ek majboot ichchhaashakti mita sakti agar shikshak hamare school me achi shiksha denge aur bhrashtachar ke khilaf shiksha denge baccho ko toh vaah bacche aane waale bhavishya me desh me ho rahe bhrashtachar ke khilaf kadam uthayenge aur unke paas majboot ichchhaashakti bhi hogi lekin shiksha ki shuru se hi class me Rs Rs hain toh aise me bhrashtachar mit yah kaise sambhav

भ्रष्टाचार भारत के शिक्षक मिटा सकते हैं और आज व्यक्ति की एक मजबूत इच्छाशक्ति मिटा सकती अगर

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  515
WhatsApp_icon
user

Anil Janbandhu

Social Worker

4:51
Play

Likes  7  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
user
2:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्र भ्रष्टाचार हमारे समाज में दीमक की तरह लगा हुआ है और यह हमारे देश की एक बहुत बड़ी समस्या है छोटी समस्या नहीं है और इस इतनी बड़ी समस्या को कुछ लाइनों में पिरोया नहीं जा सकता बांधा नहीं जा सकता इसका जवाब कुछ लाइनों में नहीं दिया जा सकता इसमें जहां तक में अगर मुझसे कहा जाए तो मैं यह कहूंगा कि भ्रष्टाचार को रोकने के लिए जो आपने लिखा है कि आम आदमी राजनेता या अधिकारी इनमें से कौन रोक सकता है मेरा कहना है कि इन सभी को एक साथ रहना होगा इसमें पत्रकारों को भी शामिल मीडिया को भी शामिल करना पड़ेगा और इस तरीके से जो असली हथियार हैं वह है जागरूकता आपके अधिकार और सोशल मीडिया का सहारा अगर आपसे कोई भ्रष्टाचार की डिमांड करता है आप अगर उसको केवल उजागर कर देंगे और इतना आपको रिस्क लेना पड़ेगा कि आप की समस्या को शॉट आउट हो सकता वह ना हो जिसमें वह आपका काम न करें लेकिन आप समाज के लिए एक काम कर सकते हैं कि आप अगर उस समस्या को सोशल मीडिया के पत्रकारों मीडियम वगैरा-वगैरा कई चरण हैं इसके उनमें अगर आप प्रसारित करते हैं उनको अगर यह सूचना देते हैं और उसको डिफेम करते हैं तो वह आदमी लक्षित होगा और बदनामी एक ऐसी चीज है जिससे हर आदमी डरता बेईमान आदमी ज्यादा डरता है तो अगर ऐसा होता है तो वह भी एक हथियार है आजकल और सोशल मीडिया बहुत बड़ा हथियार है उसका सही से अपने होशियारी से विवेकपूर्ण तरीके से उसका इस्तेमाल करें और उससे भी रोकता में सहायता मिलेगी और बाकी जो गवर्नमेंट की सरकार की एजेंसियां हैं वह लगी हुई हैं इस काम में उपलब्ध हैं हमारे आपके लिए हम और आप उनके नंबर प्राप्त करके गूगल से कहीं से भी तो उन पर इंफॉर्मेशन देते भ्रष्टाचार के संबंध में कंप्लेंट कर सकते हैं उस पर तत्काल सुनवाई होती है इन्वेस्टिगेशन होती है और अगर आप की सूचना सही पाई जाती है तो उसमें ट्रैपिंग होती है और संबंधित को घूसखोर को पकड़कर जेल भी भेजा जाता है

mitra bhrashtachar hamare samaj me dimak ki tarah laga hua hai aur yah hamare desh ki ek bahut badi samasya hai choti samasya nahi hai aur is itni badi samasya ko kuch lineon me piroya nahi ja sakta bandha nahi ja sakta iska jawab kuch lineon me nahi diya ja sakta isme jaha tak me agar mujhse kaha jaaye toh main yah kahunga ki bhrashtachar ko rokne ke liye jo aapne likha hai ki aam aadmi raajneta ya adhikari inmein se kaun rok sakta hai mera kehna hai ki in sabhi ko ek saath rehna hoga isme patrakaron ko bhi shaamil media ko bhi shaamil karna padega aur is tarike se jo asli hathiyar hain vaah hai jagrukta aapke adhikaar aur social media ka sahara agar aapse koi bhrashtachar ki demand karta hai aap agar usko keval ujagar kar denge aur itna aapko risk lena padega ki aap ki samasya ko shot out ho sakta vaah na ho jisme vaah aapka kaam na kare lekin aap samaj ke liye ek kaam kar sakte hain ki aap agar us samasya ko social media ke patrakaron medium vagera vagera kai charan hain iske unmen agar aap prasarit karte hain unko agar yah soochna dete hain aur usko defame karte hain toh vaah aadmi lakshit hoga aur badnami ek aisi cheez hai jisse har aadmi darta beiimaan aadmi zyada darta hai toh agar aisa hota hai toh vaah bhi ek hathiyar hai aajkal aur social media bahut bada hathiyar hai uska sahi se apne hoshiyaari se vivekpurn tarike se uska istemal kare aur usse bhi rokta me sahayta milegi aur baki jo government ki sarkar ki Agenciyan hain vaah lagi hui hain is kaam me uplabdh hain hamare aapke liye hum aur aap unke number prapt karke google se kahin se bhi toh un par information dete bhrashtachar ke sambandh me complaint kar sakte hain us par tatkal sunvai hoti hai investigation hoti hai aur agar aap ki soochna sahi payi jaati hai toh usme trapping hoti hai aur sambandhit ko ghuskhor ko pakadakar jail bhi bheja jata hai

मित्र भ्रष्टाचार हमारे समाज में दीमक की तरह लगा हुआ है और यह हमारे देश की एक बहुत बड़ी समस

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user

सुरेन्द्र पाल गुप्ता

रिटायर्ड प्रधानाचार्य

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी हमारे देश में भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है इसमें कोई संदेह नहीं है यह सिर्फ राजनेता और अधिकारी वर्ग ही नहीं है फिर तो आम आदमी का भी इसमें योगदान देता है हम लोग अपने काम को करवाने में जो है पैसा देते हम चाहते हैं कि जल्दी से जल्दी हमारा काम हो हमें चक्कर काटना नहीं पढ़े थे ऐसे कारण से अगर हमारा जायज काम है तभी हमें पैसा देना पड़ता है तो भ्रष्टाचार पहले आम आदमी को बंद करना पड़ेगा आम आदमी कभी सोचे कि मैं काम कर आऊंगा तो किसी रूप में पैसा नहीं देंगे यह अगर सब लोग निर्णय कर ले तो मेरे हिसाब से अधिकारियों और राजनेताओं की इतनी हिम्मत नहीं होती है ईपेपर सांगली हर आदमी अपना अधिक लाभ सोचता है तो ऐसी स्थिति के अंदर जनता भी इसमें दोषी है जनता को भी अगर भ्रष्टाचार खत्म करना है तो सबसे पहले इमानदारी पूर्वक काम करें और किसी भी तरह की कोताही नहीं बरते क्यों हम पैसा देना फेसबुक से राजनेताओं और अधिकारियों हमारा काम अगर सही होगा तो पैसे देने की आवश्यकता ही नहीं होगी काम नहीं सही नहीं होता है तब हम सब मिलकर काम करें तो देश से भ्रष्टाचार खत्म हो सकता है धन्यवाद

vicky hamare desh me bhrashtachar apni charam seema par hai isme koi sandeh nahi hai yah sirf raajneta aur adhikari varg hi nahi hai phir toh aam aadmi ka bhi isme yogdan deta hai hum log apne kaam ko karwane me jo hai paisa dete hum chahte hain ki jaldi se jaldi hamara kaam ho hamein chakkar kaatna nahi padhe the aise karan se agar hamara jayaj kaam hai tabhi hamein paisa dena padta hai toh bhrashtachar pehle aam aadmi ko band karna padega aam aadmi kabhi soche ki main kaam kar aaunga toh kisi roop me paisa nahi denge yah agar sab log nirnay kar le toh mere hisab se adhikaariyo aur rajnetao ki itni himmat nahi hoti hai ipepar sangli har aadmi apna adhik labh sochta hai toh aisi sthiti ke andar janta bhi isme doshi hai janta ko bhi agar bhrashtachar khatam karna hai toh sabse pehle imaandari purvak kaam kare aur kisi bhi tarah ki kotahi nahi barte kyon hum paisa dena facebook se rajnetao aur adhikaariyo hamara kaam agar sahi hoga toh paise dene ki avashyakta hi nahi hogi kaam nahi sahi nahi hota hai tab hum sab milkar kaam kare toh desh se bhrashtachar khatam ho sakta hai dhanyavad

विकी हमारे देश में भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है इसमें कोई संदेह नहीं है यह सिर्फ राजनेता

Romanized Version
Likes  146  Dislikes    views  1103
WhatsApp_icon
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो विभिन्न आपका क्वेश्चन है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनेता या अधिकारी ही मिटा सकते हैं दोस्तों इस को बिल्कुल ही कहा जा सकता है कि इसको आम आदमी ही मिटा सकते हैं क्योंकि आम आदमी चाहेंगे और लोग भी चाहेंगे तो जरुर मिल सकता है लेकिन हां हम लोग को अपने घर से ही स्टार्ट करना पड़ेगा अपने आप से ही स्टार्ट करना पड़ेगा और सभी लोग को मिलकर ही स्टार्ट करें तो जरूर मिल सकता है क्योंकि हमें तो नहीं लगता है कि राजनेता अधिकारी से मिटा सकते हैं जब आम आदमी चाहेंगे तो वह लोग भी सपोर्ट करना पड़ेगा और करेगी भी जरूर मिल सकता है थैंक यू

hello vibhinn aapka question hai hamare desh me bhrashtachar kya aam aadmi mita sakta hai ya ise sirf raajneta ya adhikari hi mita sakte hain doston is ko bilkul hi kaha ja sakta hai ki isko aam aadmi hi mita sakte hain kyonki aam aadmi chahenge aur log bhi chahenge toh zaroor mil sakta hai lekin haan hum log ko apne ghar se hi start karna padega apne aap se hi start karna padega aur sabhi log ko milkar hi start kare toh zaroor mil sakta hai kyonki hamein toh nahi lagta hai ki raajneta adhikari se mita sakte hain jab aam aadmi chahenge toh vaah log bhi support karna padega aur karegi bhi zaroor mil sakta hai thank you

हेलो विभिन्न आपका क्वेश्चन है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकता है या इसे सि

Romanized Version
Likes  165  Dislikes    views  1109
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनेता या अधिकारी ही मिटा सकते हैं काफी अच्छा प्रश्न है देखिए भ्रष्टाचार मिटाने के लिए पूरे देश के नागरिकों को एकजुट होना पड़ेगा चाहे वे सरकारी अधिकारी हो चाहे वह राजनेता हो चाहे वह आम आदमी हूं बिना सभी को एकजुट हुए भ्रष्टाचार को मिटाना असंभव आशा करता हूं आप इस जवाब से सहमत एवं संतुष्ट होंगे धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

aapka prashna hai hamare desh me bhrashtachar kya aam aadmi mita sakta hai ya ise sirf raajneta ya adhikari hi mita sakte hain kaafi accha prashna hai dekhiye bhrashtachar mitane ke liye poore desh ke nagriko ko ekjut hona padega chahen ve sarkari adhikari ho chahen vaah raajneta ho chahen vaah aam aadmi hoon bina sabhi ko ekjut hue bhrashtachar ko mitana asambhav asha karta hoon aap is jawab se sahmat evam santusht honge dhanyavad aapka din shubha ho

आपका प्रश्न है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी मिटा सकता है या इसे सिर्फ राजनेता या

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  252
WhatsApp_icon
user

Tanay Mishra

Head Control Clerk In Forest Department U.P.

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखी हारेगी हमारे देश में आम आदमी आम जनता से आम आदमी से आम जनता में एकता को एकजुट होकर काम करें तो हंड्रेड परसेंट भ्रष्टाचार हटाया जा सकता और सिर्फ आम आदमी

likhi haaregi hamare desh me aam aadmi aam janta se aam aadmi se aam janta me ekta ko ekjut hokar kaam kare toh hundred percent bhrashtachar hataya ja sakta aur sirf aam aadmi

लिखी हारेगी हमारे देश में आम आदमी आम जनता से आम आदमी से आम जनता में एकता को एकजुट होकर काम

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  237
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भ्रष्टाचार को आम आदमी मिटा सकता है राजनेता और अधिकारी भ्रष्टाचार को बढ़ावा देते हैं क्योंकि भ्रष्टाचार कौन कहता है एक जनता नहीं करती जनता किस से करेगी कुछ अपना काम निकालना है तो काम कौन करता है या टोटका री करता है या कर्मचारी करता है या राजनेता करता है और रिश्वत की मांग यही लोग करते हैं हां जनता जिस दिन यह ठान लेगी उस दिन इस भारत से भ्रष्टाचार का अंत हो जाएगा

bhrashtachar ko aam aadmi mita sakta hai raajneta aur adhikari bhrashtachar ko badhawa dete hain kyonki bhrashtachar kaun kahata hai ek janta nahi karti janta kis se karegi kuch apna kaam nikalna hai toh kaam kaun karta hai ya totaka ri karta hai ya karmchari karta hai ya raajneta karta hai aur rishwat ki maang yahi log karte hain haan janta jis din yah than legi us din is bharat se bhrashtachar ka ant ho jaega

भ्रष्टाचार को आम आदमी मिटा सकता है राजनेता और अधिकारी भ्रष्टाचार को बढ़ावा देते हैं क्योंक

Romanized Version
Likes  339  Dislikes    views  6201
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चुकी भ्रष्टाचार हमारे देश में एक समस्या है और इस समस्या को राजनेता अधिकारी वॉइस के साथ-साथ जनता भी इस तरह की समस्याओं से लड़कर बचा सकती है लेकिन जो ब्यूरोक्रेट है ब्यूरोक्रेट की सबसे बड़ी जिम्मेदारी होती है कि वह भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों पर अपना ध्यान प्रकट करें और इस स्थिति में सब का एक ही तो है और सब लोग मिलकर के भ्रष्टाचार को खत्म कर सकते हैं

chuki bhrashtachar hamare desh me ek samasya hai aur is samasya ko raajneta adhikari voice ke saath saath janta bhi is tarah ki samasyaon se ladkar bacha sakti hai lekin jo Bureaucrat hai Bureaucrat ki sabse badi jimmedari hoti hai ki vaah bhrashtachar jaise muddon par apna dhyan prakat kare aur is sthiti me sab ka ek hi toh hai aur sab log milkar ke bhrashtachar ko khatam kar sakte hain

चुकी भ्रष्टाचार हमारे देश में एक समस्या है और इस समस्या को राजनेता अधिकारी वॉइस के साथ-साथ

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  1537
WhatsApp_icon
user

S. K. Jani

Observer And Analyst

0:31
Play

Likes  148  Dislikes    views  4843
WhatsApp_icon
user
0:52
Play

Likes  164  Dislikes    views  1535
WhatsApp_icon
user

Jitendra Singh

Social Worker

5:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में भ्रष्टाचार को आम आदमी मिटा सकता है लेकिन पहले आम आदमी को विवेक वन बनना पड़ेगा उसको ज्ञान की भाषा सीखनी पड़ेगी शब्द गुण बनना पड़ेगा जब शब्द गुण ज्ञान उस पर आ जाएगा तो भ्रष्टाचार मिट जाएगा अधिकारी राजनेता हमारे ही बीच से बनते हैं हमारे ही पास से यह लोग जाते हैं हमारे ही बेटे होते हैं हमारी बाहों में होती है हमारी बेटियां होती है लेकिन यह इनके ऊपर जिम्मेदारी हम केवल नहीं डाल सकते पहले हम अपने अंदर से भ्रष्टाचार को खत्म करें पहले हम अपने अंदर से इस चीज को खत्म करें मैं पूछता हूं कि हम लोग गाड़ी घोड़ा इतना चलाते हैं चाट खाने जाते हैं हजार रुपए खर्च कर जाते हैं कहीं भी जाते हैं गाड़ी लेकर जाते पेट्रोल हो गया ते दोस्तों की पार्टी में जाते-जाते महंगी मोटरसाइकिल महंगी गाड़ियां महंगे कपड़े पहन के टीशर्ट महंगे जूते पहनते हैं क्या कभी सोचा है कि इतना सब करने के बावजूद भी हम भिखारी हैं क्योंकि हम सरकार से 200 कुछ रूपए गैस सिलेंडर पर सब्सिडी लेते हैं शर्म आनी चाहिए हमको हम जो हैं खुद भ्रष्ट हैं ₹205 हम सरकार से सब्सिडी चाहते हैं भ्रष्टाचार मिटाने के बाद हम सरकार से जो है हर चीज पर छूट जाते हैं हम सरकार से जाते हैं कि हमारा ऋण माफ कर दे ऐसा जीवन जीने के लिए शास्त्र अनुमति नहीं देता शास्त्र अनुमति देता है हे भगवन हमको इतना आप यशस्वी और तेजस्वी और कीर्तिमान बनाई है कि हमारा कमाया हुआ धन से सामने वाले का सामान हमेशा बिल्कुल भी महंगा ना लगे कभी मुझे सा आदमी को अपने जीवन में भाव ना करना पड़े समझो वही धनवान आदमी करोड़पति है लेकिन वह प्याज आलू वाले से भाव करते हैं बहुत ज्यादा करोड़पति हैं जूता काटने वाले से भाव करते हैं पहले करोड़पति भाव जो करता है इसका मतलब उसके भाव खराब है इसका मतलब उसके अंदर इंसानियत नहीं है हम इतना अच्छा ज्यादा कमाए सामने वाले का हर सामान हमको सस्ता लगे बार यह हमारी इमानदारी से कमाया हुआ धन होना चाहिए हमारे कर्तव्य के द्वारा होना चाहिए तो फिर इसमें कोई संशय नहीं है कि भ्रष्टाचार आम जनता ही मिटा देंगे लेकिन आ जनता को पहले अपने को बदलना पड़ेगा भ्रष्ट अधिकारी और राजनेता बाद में आम जनता अपने अंदर भ्रष्टाचार खोजें क्या हम पल-पल 3 हिना जिंदगी नगीना हम भिखारियों की जिंदगी नहीं जी रहे हैं हम भी अधिकारी की जिंदगी जी रहे हैं हम भी दीन हीन की जिंदगी जी रहे हैं दिन तक क्या है ₹500 मोदी जीतेंगे खाते हैं अरे मोदी जी खाते में देंगे ₹500 जो गरीब आदमी है उसके लिए उचित है लेकिन जो करोड़ों करोड़ों लोगों ने जनधन खाते खुलवा रखे हैं करोड़पति ओके जनधन खाते हैं उनको भी ₹500 मिलेंगे अगले लेंगे भेजने के लिए इतने दिन है ले लेंगे तो गरीब होना दिन होना अपनी सोच है धन से पूरे गरीबों में नहीं होता मैं तो मानता हूं जिसका मन उज्जवल है वही उज्जवल है और जिसका मन जो है गिरा हुआ वही गरीब है गिरा हुआ ही गरीब होता है और ऊर्जावान मन ही उज्जवल होता है मैं तो यह मानता हूं हमारे मन की स्थिति को देख लो अगर आप अपने सब्सिडी छोड़ दें तो चाट की प्लेट आप बढ़िया रेस्टोरेंट खाते हुए अच्छे लगते हैं तो फिर आप समझो एक जहर खाने बनके चोर हैं आप आप भी चोरी में पीछे नहीं है आप एक तरफ हजारों लुटा रहे हैं एक तरफ गैस सिलेंडर की सब्सिडी खाए जा रहे हैं गरीबों का हक मार रहे हैं इसीलिए आप अपने बारे में सोचिए राजनेताओं अधिकारियों को तो जब जनता एक हो जाएगी हम खुद ही कर देंगे उनको ठीक करने में ज्यादा टाइम नहीं लगेगा तो हमारे घर के बहू बेटी बच्चे हैं बनती करते हुए लेकिन हमें जनता को सुधारना पड़ेगा ज्ञानवान बनना पड़ेगा त्यागी बनना पड़ेगा और जब तक हम जाएगी नहीं बनेंगे तब तक संभव हो ही नहीं सकता धन्यवाद

hamare desh me bhrashtachar ko aam aadmi mita sakta hai lekin pehle aam aadmi ko vivek van banna padega usko gyaan ki bhasha sikhni padegi shabd gun banna padega jab shabd gun gyaan us par aa jaega toh bhrashtachar mit jaega adhikari raajneta hamare hi beech se bante hain hamare hi paas se yah log jaate hain hamare hi bete hote hain hamari baahon me hoti hai hamari betiyan hoti hai lekin yah inke upar jimmedari hum keval nahi daal sakte pehle hum apne andar se bhrashtachar ko khatam kare pehle hum apne andar se is cheez ko khatam kare main poochta hoon ki hum log gaadi ghoda itna chalte hain chat khane jaate hain hazaar rupaye kharch kar jaate hain kahin bhi jaate hain gaadi lekar jaate petrol ho gaya te doston ki party me jaate jaate mehengi motorcycle mehengi gadiyan mehnge kapde pahan ke Tshirt mehnge joote pehente hain kya kabhi socha hai ki itna sab karne ke bawajud bhi hum bhikhari hain kyonki hum sarkar se 200 kuch rupee gas cylinder par subsidy lete hain sharm aani chahiye hamko hum jo hain khud bhrasht hain Rs hum sarkar se subsidy chahte hain bhrashtachar mitane ke baad hum sarkar se jo hai har cheez par chhut jaate hain hum sarkar se jaate hain ki hamara rin maaf kar de aisa jeevan jeene ke liye shastra anumati nahi deta shastra anumati deta hai hai bhagwan hamko itna aap yashashvi aur tejaswi aur kirtiman banai hai ki hamara kamaya hua dhan se saamne waale ka saamaan hamesha bilkul bhi mehnga na lage kabhi mujhe sa aadmi ko apne jeevan me bhav na karna pade samjho wahi dhanwan aadmi crorepati hai lekin vaah pyaaz aalu waale se bhav karte hain bahut zyada crorepati hain juta katne waale se bhav karte hain pehle crorepati bhav jo karta hai iska matlab uske bhav kharab hai iska matlab uske andar insaniyat nahi hai hum itna accha zyada kamaye saamne waale ka har saamaan hamko sasta lage baar yah hamari imaandari se kamaya hua dhan hona chahiye hamare kartavya ke dwara hona chahiye toh phir isme koi sanshay nahi hai ki bhrashtachar aam janta hi mita denge lekin aa janta ko pehle apne ko badalna padega bhrasht adhikari aur raajneta baad me aam janta apne andar bhrashtachar khojen kya hum pal pal 3 heena zindagi nagina hum bhikhariyo ki zindagi nahi ji rahe hain hum bhi adhikari ki zindagi ji rahe hain hum bhi din heen ki zindagi ji rahe hain din tak kya hai Rs modi jitenge khate hain are modi ji khate me denge Rs jo garib aadmi hai uske liye uchit hai lekin jo karodo karodo logo ne jandhan khate khulwa rakhe hain crorepati ok jandhan khate hain unko bhi Rs milenge agle lenge bhejne ke liye itne din hai le lenge toh garib hona din hona apni soch hai dhan se poore garibon me nahi hota main toh maanta hoon jiska man ujjawal hai wahi ujjawal hai aur jiska man jo hai gira hua wahi garib hai gira hua hi garib hota hai aur urjavan man hi ujjawal hota hai main toh yah maanta hoon hamare man ki sthiti ko dekh lo agar aap apne subsidy chhod de toh chat ki plate aap badhiya restaurant khate hue acche lagte hain toh phir aap samjho ek zehar khane banke chor hain aap aap bhi chori me peeche nahi hai aap ek taraf hazaro loota rahe hain ek taraf gas cylinder ki subsidy khaye ja rahe hain garibon ka haq maar rahe hain isliye aap apne bare me sochiye rajnetao adhikaariyo ko toh jab janta ek ho jayegi hum khud hi kar denge unko theek karne me zyada time nahi lagega toh hamare ghar ke bahu beti bacche hain banti karte hue lekin hamein janta ko sudharna padega gyaanvaan banna padega tyagi banna padega aur jab tak hum jayegi nahi banenge tab tak sambhav ho hi nahi sakta dhanyavad

हमारे देश में भ्रष्टाचार को आम आदमी मिटा सकता है लेकिन पहले आम आदमी को विवेक वन बनना पड़ेग

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
play
user

सुरेश चंद आचार्य

Social Worker ( Self employed )

0:33

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों भ्रष्टाचार मिटाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका होगी आम आदमी की यदि आम आदमी चाहे तुम भ्रष्टाचार वास्तव में मिट सकता है क्योंकि कहीं ना कहीं भ्रष्टाचार आम आदमी से ही जुड़ा हुआ होता है आवश्यकता है पूर्ति सब आम आदमी के लिए होती है सरकारी कामकाज सब आम आदमी के लिए होते हैं इसलिए आम आदमी से मुझे चले कि मैंने भ्रष्टाचार करूंगा नेपाली दूंगा तो यह खत्म हो सकता है

namaskar doston bhrashtachar mitane me sabse mahatvapurna bhumika hogi aam aadmi ki yadi aam aadmi chahen tum bhrashtachar vaastav me mit sakta hai kyonki kahin na kahin bhrashtachar aam aadmi se hi juda hua hota hai avashyakta hai purti sab aam aadmi ke liye hoti hai sarkari kaamkaaj sab aam aadmi ke liye hote hain isliye aam aadmi se mujhe chale ki maine bhrashtachar karunga nepali dunga toh yah khatam ho sakta hai

नमस्कार दोस्तों भ्रष्टाचार मिटाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका होगी आम आदमी की यदि आम आदमी च

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  1688
WhatsApp_icon
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब तक आम आदमी भ्रष्टाचार में शामिल नहीं होगा जब तक आम आदमी भ्रष्टाचार निशानेबाजी नहीं होगा जब तक आम आदमी घोषित नहीं देगा तब तक भ्रष्टाचार राजनेता यह अधिकारी नहीं कर सकते हैं लेकिन मुश्किल यह है कि अपना काम करने के लिए हाथ आम आदमी के अधिकारी बाबू या राजनेता को पैसा देते हैं उसके क्या भ्रष्टाचार बढ़ता है अगर भ्रष्टाचार मिटाना है तो आम आदमी को insta4 में शामिल नहीं होना पड़ेगा

jab tak aam aadmi bhrashtachar me shaamil nahi hoga jab tak aam aadmi bhrashtachar nishanebaji nahi hoga jab tak aam aadmi ghoshit nahi dega tab tak bhrashtachar raajneta yah adhikari nahi kar sakte hain lekin mushkil yah hai ki apna kaam karne ke liye hath aam aadmi ke adhikari babu ya raajneta ko paisa dete hain uske kya bhrashtachar badhta hai agar bhrashtachar mitana hai toh aam aadmi ko insta4 me shaamil nahi hona padega

जब तक आम आदमी भ्रष्टाचार में शामिल नहीं होगा जब तक आम आदमी भ्रष्टाचार निशानेबाजी नहीं होगा

Romanized Version
Likes  687  Dislikes    views  12106
WhatsApp_icon
user

...

Nil

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी ही मिटा सकता है या सिर्फ और राजनेता या अधिकारी ही मिटा सकते हैं देखिए इस को एक आम आदमी भी मिटा सकता है भ्रष्टाचार होता कैसे रिश्वत कैसे ली जाती है देता कौन है शुरुआत देने की अम्मी करते हैं बिना हेलमेट के प्लस चौरागढ़ के लिए ₹500 का चालान काटती तो हम उसको ₹200 देकर बचने की कोशिश करते हैं हमारा कहीं काम नहीं होता है हमारे कुछ कागजों में गड़बड़ी होती है तो हम ₹200 देखे वो कागज पास करवाने की कोशिश करते हैं चाहे लोन के हो चाहे किसी भी बैंक में हो या विवाह किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार की शुरुआत तो हम भी कर देते हैं कहीं वह भी खत्म कर सकते हैं वह चाहे तो भ्रष्टाचार बहुत जल्दी खत्म हो जाए धन्यवाद

namaskar aapka sawaal hai hamare desh me bhrashtachar kya aam aadmi hi mita sakta hai ya sirf aur raajneta ya adhikari hi mita sakte hain dekhiye is ko ek aam aadmi bhi mita sakta hai bhrashtachar hota kaise rishwat kaise li jaati hai deta kaun hai shuruat dene ki ammi karte hain bina helmet ke plus chauragadh ke liye Rs ka chalan katatee toh hum usko Rs dekar bachne ki koshish karte hain hamara kahin kaam nahi hota hai hamare kuch kagazo me gadbadi hoti hai toh hum Rs dekhe vo kagaz paas karwane ki koshish karte hain chahen loan ke ho chahen kisi bhi bank me ho ya vivah kisi vibhag me hue bhrashtachar ki shuruat toh hum bhi kar dete hain kahin vaah bhi khatam kar sakte hain vaah chahen toh bhrashtachar bahut jaldi khatam ho jaaye dhanyavad

नमस्कार आपका सवाल है हमारे देश में भ्रष्टाचार क्या आम आदमी ही मिटा सकता है या सिर्फ और राज

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  258
WhatsApp_icon
user

Liyakat Ali Gazi

Motivational Speaker, Life Coach & Soft Skills Trainer 📲 9956269300

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हमारे देश में भ्रष्टाचार एक जड़ की तरह समाहित हो चुका है छोटे से लेकर की बड़ी स्तर तक छोटी पद से लेकर के बड़े पत्तक छोटे अधिकारी से लेकर के बड़े अधिकारी तक छोटे नेता से लेकर के बड़े राजनेता तक जो 1 गांव से लेकर के महासागर तक महा शहर तक पहुंच चुका है कहने का मतलब भ्रष्टाचार हमारे देश में जड़ जड़ में नस नस में हर इंसान के रंग रंग में पहुंच चुका है तो इसको कोई एक इंसान अकेले खुद नहीं मिटा सकता लेकिन हां यदि राज नेता अधिकारी और समझकर करता चाहें तो जनता के सहयोग से इस को शत-प्रतिशत मिटा सकते नहीं गया कि भ्रष्टाचार को फैलाने में सबसे बड़ा जो हाथी और राजनेताओं और अधिकारियों का है यह हकीकत है इसको मारना पड़ेगा भारत में भ्रष्टाचार के यही मुख्य कारण है जिसकी वजह से भ्रष्टाचार बढ़ता जा रहा है

dekhiye hamare desh me bhrashtachar ek jad ki tarah samahit ho chuka hai chote se lekar ki badi sthar tak choti pad se lekar ke bade pattak chote adhikari se lekar ke bade adhikari tak chote neta se lekar ke bade raajneta tak jo 1 gaon se lekar ke mahasagar tak maha shehar tak pohch chuka hai kehne ka matlab bhrashtachar hamare desh me jad jad me nas nas me har insaan ke rang rang me pohch chuka hai toh isko koi ek insaan akele khud nahi mita sakta lekin haan yadi raj neta adhikari aur samajhkar karta chahain toh janta ke sahyog se is ko shat pratishat mita sakte nahi gaya ki bhrashtachar ko felane me sabse bada jo haathi aur rajnetao aur adhikaariyo ka hai yah haqiqat hai isko marna padega bharat me bhrashtachar ke yahi mukhya karan hai jiski wajah se bhrashtachar badhta ja raha hai

देखिए हमारे देश में भ्रष्टाचार एक जड़ की तरह समाहित हो चुका है छोटे से लेकर की बड़ी स्तर त

Romanized Version
Likes  531  Dislikes    views  4990
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

6:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्ण आपका बड़ा ही सार्थक और समय उचित है समय के अनुकूल है मेरे मित्र इस देश में से भ्रष्टाचार को केवल आम आदमी ही मिटा सकता है यह राज नेता या अधिकारी यह कर्मचारी यह व्यापारिक कभी नहीं बताएंगे क्यों नहीं पट आएंगे सॉन्ग तुम्हें खुदगर्जी में डूबे हुए 108 फुट दरजी के पतले हैं आम आदमी खान लेगा आमदनी अठन्नी के में स्वच्छ छवि के नेता चुनने है राजनीति को किस गंदगी स्वार्थ खुदगर्जी से मुक्त करना है गबन घोटाले करने वाले नेताओं को हमारा देंगे उनको पराजित करके घर बैठा देंगे फिर आगे जाकर के स्वच्छ छवि वाले की मानदार जब नेता चुन करके जाएंगे मान कर चलो कि कर्मचारी और अधिकारियों को सुधार दिया जाएगा जब ऊपर से राजनीति स्वच्छ हो जाएगी हमारे सांसद होंगे इस वक्त हमारे अपराध मुक्त हमारा जब ऐसे नेता होंगे तो निश्चित मान कर चलो कि इन अधिकारी कर्मचारियों को तो मंडोवर में सुधारा जा सकता है क्योंकि हमारे देश के भी कानून के लक्षण है इतनी कमजोर है और यह राजनीति भ्रष्टाचारियों का मन को हटाले पकड़ने वाले को संरक्षण कर रही है जिस दिन स्कूल का संरक्षण जाएगा स्वच्छ छवि वाले नेता होंगे ईमानदार उनके सताई पर चलने वाले होंगे जनहितकारी होंगे उस दिन तुम देख लेना यह भारत स्वच्छ हो जाएगा व्यापारी कर्मचारी अधिकारी इन को सुधारना कोई बड़ी बात नहीं है यह में सुधर जाएंगे क्योंकि जैसा राजा होता है वैसी प्रजा अपने आप बन जाती है काश हमारे देश में ईमानदार नेताम ने शुरू से चुने होते तो आज इतनी चिंता करते नहीं हो पाती ना व्यापारी तक रेक्टेड बताना कर्मचारी अधिकारी जब तुम सोचो कि काला दिन खींची धाम के पास शान है अकेले नहीं अपने क्षेत्र में अपने स्थान में अपने राज्य में इस भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी को बंद कर दिया उसके समय में किसी कर्मचारी की भट्टाचार्य पूरी करने की हिम्मत नहीं होती थी किसी सामान कि नहीं होती थी क्योंकि वह खालको खिंचवा लेता था जब एक बादशाह कर सकता है तू क्यों नहीं कर सकते हैं हम बस शर्त उसके लिए ईमानदारी की हमारी खुद की नीति होनी चाहिए कि ईमानदारी से आप लोचन करके देखो कितने ऐसे व्यक्ति हैं जो जो मोदी जैसे हैं कितने ऐसे व्यक्ति हैं जो योगी जैसे हैं जिनका अपना कुछ नहीं है जो संभवत बाप से जीते हैं जिनके लिए देश की लिस्ट राही यह देश के देश भक्ति सर्वोपरि है जिस दिन मोदी और योगी जैसे सब बन गए उस दिन देख लेना यह भारत सुधर जाएगा और भारत अपराध मुक्त हो जाएगा छवि वाले नेताओं के स्वच्छ राजनीति योगी और यह हमारी राजनीति अपराध मुक्त हो जाएगी गवन घोटाले करने वालों का दूर-दूर तक नाम नहीं होगा क्योंकि इस क्रिया में संवैधानिक रूप भी करने हैं क्योंकि हमारे सारे अधिकार हमारे हमारे देश में सर्वाधिक आरजू होते हैं वह संसद में नहीं धोते हैं संसद और सांसद ही ऐसे हो जाएंगे तो तुम सोचो सिर्फ भ्रष्टाचार का बंद घोटाले कहां से होंगे क्योंकि ईमानदार प्रशासक होता है तो कर्मचारियों को तो सुधारना ही होता है सख्त कानून होंगे हाउस जब कानूनों से एक अपराधी नहीं बच पाएगा तो जी टीवी पाएगी कोई नहीं बच पाएगा पार दस्ता के साथ में सजाएं हो जिस ने जो किया है उसके लिए जाति धर्म के बंधन से मुक्त हो 1 देशों में चुनाव हो तुम सोचो जिस देश में एक संविधान है लेकिन लोटो चलते कई तो इस प्रकार के अंग्रेजों के जमाने के हैं वह आज तक चले आ रहे हैं तू इसको आम आदमी बता सकता है आम आदमी कमर कस ले के नाम भ्रष्टाचार करेंगे ना करने देंगे नाम लिस्ट पूरी करेंगे ना करने देंगे तो यह देश में सब कुछ बन जाएगा गंदगी चली जाएगी और हमारी राजनीति एकदम निर्मल स्वच्छ हो जाएगी जैसे स्वच्छ चमकता हुआ पानी होता है जिसमें मानव का प्रतिबंध देख लेता है आज उचित यह है कि प्रत्येक देशवासी अभिषेक करने कि हम जाति धर्म शुद्धता के आधार पर वोट नहीं देंगे अपने वोट को 115 में नहीं और हम ईमानदारी के साथ ईमानदार लोगों को ही नेता बनाएंगे देखी अच्छा निर्णय करेंगे तो निश्चित रूप से देख लेना एक दिन भारत से मुक्त हो जाएगा और हम लोग भी जापान की तरह उन्नति करते हुए इसराइल की तरह उन्नति करते हुए अपने देश का नाम रोशन कर सकेंगे यानी कि राष्ट्र में अपने देश को खड़ा कर सकेंगे काश हमारे देश में इजराइल की पुष्टि का होता काश हमारे देश में जापान जैसे देश भक्ति होती क्या हमारे देश में हमारे राष्ट्र के नागरिकों में राष्ट्रीय चेतना राष्ट्रभक्ति होती देशभक्ति होती तो निश्चित रूप से ही यह गवन घोटाले रिश्वतखोरी भ्रष्टाचार कभी नहीं होता

krishna aapka bada hi sarthak aur samay uchit hai samay ke anukul hai mere mitra is desh me se bhrashtachar ko keval aam aadmi hi mita sakta hai yah raj neta ya adhikari yah karmchari yah vyaparik kabhi nahi batayenge kyon nahi pat aayenge song tumhe khudagarji me doobe hue 108 feet darji ke patle hain aam aadmi khan lega aamdani athanni ke me swachh chhavi ke neta chunane hai raajneeti ko kis gandagi swarth khudagarji se mukt karna hai gaban ghotale karne waale netaon ko hamara denge unko parajit karke ghar baitha denge phir aage jaakar ke swachh chhavi waale ki mandar jab neta chun karke jaenge maan kar chalo ki karmchari aur adhikaariyo ko sudhaar diya jaega jab upar se raajneeti swachh ho jayegi hamare saansad honge is waqt hamare apradh mukt hamara jab aise neta honge toh nishchit maan kar chalo ki in adhikari karmachariyon ko toh mandovar me sudhara ja sakta hai kyonki hamare desh ke bhi kanoon ke lakshan hai itni kamjor hai aur yah raajneeti bharashtachariyo ka man ko hatale pakadane waale ko sanrakshan kar rahi hai jis din school ka sanrakshan jaega swachh chhavi waale neta honge imaandaar unke sataee par chalne waale honge janahitkari honge us din tum dekh lena yah bharat swachh ho jaega vyapaari karmchari adhikari in ko sudharna koi badi baat nahi hai yah me sudhar jaenge kyonki jaisa raja hota hai vaisi praja apne aap ban jaati hai kash hamare desh me imaandaar netam ne shuru se chune hote toh aaj itni chinta karte nahi ho pati na vyapaari tak rekted batana karmchari adhikari jab tum socho ki kaala din khinchi dhaam ke paas shan hai akele nahi apne kshetra me apne sthan me apne rajya me is bhrashtachar rishwat khori ko band kar diya uske samay me kisi karmchari ki bhattacharya puri karne ki himmat nahi hoti thi kisi saamaan ki nahi hoti thi kyonki vaah khalko khinchava leta tha jab ek badshah kar sakta hai tu kyon nahi kar sakte hain hum bus sart uske liye imaandaari ki hamari khud ki niti honi chahiye ki imaandaari se aap lochan karke dekho kitne aise vyakti hain jo jo modi jaise hain kitne aise vyakti hain jo yogi jaise hain jinka apna kuch nahi hai jo sambhavat baap se jeete hain jinke liye desh ki list rahi yah desh ke desh bhakti sarvopari hai jis din modi aur yogi jaise sab ban gaye us din dekh lena yah bharat sudhar jaega aur bharat apradh mukt ho jaega chhavi waale netaon ke swachh raajneeti yogi aur yah hamari raajneeti apradh mukt ho jayegi gavan ghotale karne walon ka dur dur tak naam nahi hoga kyonki is kriya me samvaidhanik roop bhi karne hain kyonki hamare saare adhikaar hamare hamare desh me sarvadhik aaraju hote hain vaah sansad me nahi dhote hain sansad aur saansad hi aise ho jaenge toh tum socho sirf bhrashtachar ka band ghotale kaha se honge kyonki imaandaar prashasak hota hai toh karmachariyon ko toh sudharna hi hota hai sakht kanoon honge house jab kanuno se ek apradhi nahi bach payega toh ji TV payegi koi nahi bach payega par dasta ke saath me sajayen ho jis ne jo kiya hai uske liye jati dharm ke bandhan se mukt ho 1 deshon me chunav ho tum socho jis desh me ek samvidhan hai lekin loto chalte kai toh is prakar ke angrejo ke jamane ke hain vaah aaj tak chale aa rahe hain tu isko aam aadmi bata sakta hai aam aadmi kamar cas le ke naam bhrashtachar karenge na karne denge naam list puri karenge na karne denge toh yah desh me sab kuch ban jaega gandagi chali jayegi aur hamari raajneeti ekdam nirmal swachh ho jayegi jaise swachh chamakta hua paani hota hai jisme manav ka pratibandh dekh leta hai aaj uchit yah hai ki pratyek deshvasi abhishek karne ki hum jati dharm shuddhta ke aadhar par vote nahi denge apne vote ko 115 me nahi aur hum imaandaari ke saath imaandaar logo ko hi neta banayenge dekhi accha nirnay karenge toh nishchit roop se dekh lena ek din bharat se mukt ho jaega aur hum log bhi japan ki tarah unnati karte hue israel ki tarah unnati karte hue apne desh ka naam roshan kar sakenge yani ki rashtra me apne desh ko khada kar sakenge kash hamare desh me israel ki pushti ka hota kash hamare desh me japan jaise desh bhakti hoti kya hamare desh me hamare rashtra ke nagriko me rashtriya chetna rashtra bhakti hoti deshbhakti hoti toh nishchit roop se hi yah gavan ghotale rishwat khori bhrashtachar kabhi nahi hota

कृष्ण आपका बड़ा ही सार्थक और समय उचित है समय के अनुकूल है मेरे मित्र इस देश में से भ्रष्टा

Romanized Version
Likes  312  Dislikes    views  4392
WhatsApp_icon
user

Prem Koranga

Social Worker

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए आज तंत्र भी अप्रत्यक्ष आएगी और आम आदमी भी जब तक तीनों मिल के लोग तीनों लोग मिलकर काम नहीं करेंगे तब तक के भ्रष्टाचार मिटा नहीं सकता हर इंसान को जागरूक होना पड़ेगा हर इंसान को ईमानदारी से काम करना पड़ेगा जहां पर बुरा हो रहा होगा वहां पर आवाज उठानी पड़ेगी जब आवाज उठाई जाएगी हर आदमी सक्षम होगा हर आदमी स्ट्रक्चर होगा हर आदमी समझदार होगा तो यह भ्रष्टाचार जड़ से खत्म हो सकता है नहीं तो सिर्फ अफसरशाही यासिर नेतागिरी या राजनीति को खत्म नहीं कर सकता है इसमें एक आम इंसान की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है

hamare desh me bhrashtachar ko mitane ke liye aaj tantra bhi apratyaksh aayegi aur aam aadmi bhi jab tak tatvo mil ke log tatvo log milkar kaam nahi karenge tab tak ke bhrashtachar mita nahi sakta har insaan ko jagruk hona padega har insaan ko imaandaari se kaam karna padega jaha par bura ho raha hoga wahan par awaaz uthani padegi jab awaaz uthayi jayegi har aadmi saksham hoga har aadmi structure hoga har aadmi samajhdar hoga toh yah bhrashtachar jad se khatam ho sakta hai nahi toh sirf afasarashahi yasir netagiri ya raajneeti ko khatam nahi kar sakta hai isme ek aam insaan ki bahut badi jimmedari hai

हमारे देश में भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए आज तंत्र भी अप्रत्यक्ष आएगी और आम आदमी भी जब तक

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!