कोरोना पुर होम्योपैथी रिसर्च क्यों नहीं कर रही है?...


user

Dr.Amit Agrahari

Alopathic Ayurvedic Unani Doctor

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्रीमान जी आज आप होम्योपैथिक दवा की बात है और आपने कहा कि करो ना मैं हूं पैथिक सर्च क्यों नहीं कर रही है तो करो ना वायरस क्या है कि यह 14 दिन में ही जानलेवा हो जाता है इसका दुख होता है वह 14 दिन ही रहता है पहले तो चार दिन खातिर होती है बुखार होता है और ऐसे करते को प्राप्त हो जाता है कोई फेक डालती है नहीं धीरे-धीरे असर करती है और और जहां तक कारगर की बातें तो यह बहुत कारगर नहीं धीरे-धीरे फैक्ट करती है यह है कि अगर यह पहले से पता चले कि इस मौसम में अन्नपूर्णा भारत का आक्रमण होने वाला है और जानलेवा नहीं है और यह ठीक होने वाला है तो इसका इलाज संभव है कि लोग से बात करते हैं लेकिन वह तो बहुत ही खतरनाक है बहुत जल्दी फैक्ट करता है इस वजह से होम्योपैथी की दवा का इस पर कोई असर नहीं होता और इसी वजह से बहुत ज्यादा अभी तक सोया नहीं हो रहा है

shriman ji aaj aap homeopathic dawa ki baat hai aur aapne kaha ki karo na main hoon paithik search kyon nahi kar rahi hai toh karo na virus kya hai ki yah 14 din me hi janleva ho jata hai iska dukh hota hai vaah 14 din hi rehta hai pehle toh char din khatir hoti hai bukhar hota hai aur aise karte ko prapt ho jata hai koi fake daalti hai nahi dhire dhire asar karti hai aur aur jaha tak kargar ki batein toh yah bahut kargar nahi dhire dhire fact karti hai yah hai ki agar yah pehle se pata chale ki is mausam me annpurna bharat ka aakraman hone vala hai aur janleva nahi hai aur yah theek hone vala hai toh iska ilaj sambhav hai ki log se baat karte hain lekin vaah toh bahut hi khataranaak hai bahut jaldi fact karta hai is wajah se homeopathy ki dawa ka is par koi asar nahi hota aur isi wajah se bahut zyada abhi tak soya nahi ho raha hai

श्रीमान जी आज आप होम्योपैथिक दवा की बात है और आपने कहा कि करो ना मैं हूं पैथिक सर्च क्यों

Romanized Version
Likes  318  Dislikes    views  3158
WhatsApp_icon
29 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr Ramesh Kumar

Ayurvedic Doctor

0:39

Likes  10  Dislikes    views  201
WhatsApp_icon
user

Dr Rakesh Kumar

Homeopathy Doctor

2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

होम्योपैथी कोरोनावायरस पर सर्च क्यों नहीं हो रहा यह आपका सवाल है अभी जो देश की स्थिति है जितने भी क्रोना भारत के पेशेंट के लक्षण मौजूद होते हैं उसको एलोपैथिक डॉक्टर के इंग्लिश में रखा जाता है लेकिन सच्चाई यह है कि अगर कुरौना वायरस से संक्रमित पेशेंट को होम्योपैथी के माध्यम से देखा जाए तो यह निश्चित है कि होम्योपैथिक जो पड़ती है उससे ज्यादा रिजल्ट मिलेगा यह एक तरह का टेलीविजन टाइप का हो गया है यह भ्रम हो गया है कि हम एलोपैथिक में इलाज करवा रहे हैं तो अच्छी तरह से चिकित्सा मिलेगी खुद समझ सकते हैं होम्योपैथिक करती है कोई दवा इलाज नहीं करता है इलाज कौन करता है आपके अंदर जो यूज पावर है डिफेंस में कनीज में है वही इलाज करता है दवा सिर्फ उत्प्रेरक का काम करता है तो पेशेंट क्या है पेशेंट को सर्दी खांसी है सांस लेने में दिक्कत हो रहा है तो इस चिंतन के आधार पर हमें दवा का चुनाव करेंगे अगर हमारे पास पेशेंट आता है तो और जो सबसे सूटेबल होगा जो मैच करेगा वह दवा देंगे उसके बाद पेशेंट का इम्यून सिस्टम भरेगा और वही जो है पेशेंट को ठीक करता है तो ही सोचने वाली बात है कि इस पार्टी में हमारा इम्यून सिस्टम भर रहा है तो निश्चित और एलोपैथिक दवा में भिनगा दवा लेते हैं तीन सिस्टम घटता है तू ही सत्य है निश्चित है कि हमको होम्योपैथिक को मौका दिया जाए तो जो परसेंटेज है कि ओर का निश्चित रूप से ज्यादा होगा धन्यवाद

homeopathy coronavirus par search kyon nahi ho raha yah aapka sawaal hai abhi jo desh ki sthiti hai jitne bhi corona bharat ke patient ke lakshan maujud hote hain usko allopathic doctor ke english me rakha jata hai lekin sacchai yah hai ki agar kurauna virus se sankrameet patient ko homeopathy ke madhyam se dekha jaaye toh yah nishchit hai ki homeopathic jo padti hai usse zyada result milega yah ek tarah ka television type ka ho gaya hai yah bharam ho gaya hai ki hum allopathic me ilaj karva rahe hain toh achi tarah se chikitsa milegi khud samajh sakte hain homeopathic karti hai koi dawa ilaj nahi karta hai ilaj kaun karta hai aapke andar jo use power hai defence me kanij me hai wahi ilaj karta hai dawa sirf utprerak ka kaam karta hai toh patient kya hai patient ko sardi khansi hai saans lene me dikkat ho raha hai toh is chintan ke aadhar par hamein dawa ka chunav karenge agar hamare paas patient aata hai toh aur jo sabse suitable hoga jo match karega vaah dawa denge uske baad patient ka immune system bharega aur wahi jo hai patient ko theek karta hai toh hi sochne wali baat hai ki is party me hamara immune system bhar raha hai toh nishchit aur allopathic dawa me bhinga dawa lete hain teen system ghatata hai tu hi satya hai nishchit hai ki hamko homeopathic ko mauka diya jaaye toh jo percentage hai ki aur ka nishchit roop se zyada hoga dhanyavad

होम्योपैथी कोरोनावायरस पर सर्च क्यों नहीं हो रहा यह आपका सवाल है अभी जो देश की स्थिति है ज

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
user

DR. SHIVANKER KUMAR GUPTA

Homeopathy Doctor

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय फ्रेंड्स मैं डॉक्टर शिव शंकर कुमार गुप्ता होम्योपैथिक रिसर्च एंड रिवॉल्यूशन इन इंडिया में होम्योपैथिक के क्षेत्र में कुछ अपने अनुभव को शेयर करना चाहता हूं आज का यह सवाल है कोरोनावायरस क्यों नहीं कर रही है यह बात बिल्कुल ही गलत है कोरोनावायरस सभी देशवासियों और विश्व के हर एक लोगों के लिए बहुत बड़ी लड़ाई है होम्योपैथिक के तरफ से भी बहुत सारी रिसर्च हो रही है होम्योपैथिक के अभी हाल के ही आयुष गवर्नमेंट की तरफ से एक जारी किया गया है आदेश जिसमें कि 8 से निकल 130 दवाई पूरे देश में सभी लोगों को यूज करने के का आदेश दिया गया है इस दवा को यूज करते हैं आप अपने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा लेते हैं होम्योपैथिक में जितनी भी दवाइयां होती हैं वह उन सब से पहले आप यह समझ जाइए कि होम्योपैथी है क्या और वह काम कैसे करती है दिमाग ने इस बात को अच्छी तरह से बैठा लिया जाए कि होम्योपैथी की दवाइयां बीमारियों का इलाज करती तो है लेकिन वह हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है जब बाकी जितनी भी पैथिक है चिकित्सा पद्धतियां हैं उन सभी पतियों में जिस बीमारी का डायग्नोसिस किया जाता है उस बीमारी के लिए जो सर्वोत्तम दवा होती है वह दी जाती है लेकिन होम्योपैथिक में ऐसा नहीं है होम्योपैथिक में इंसान का इलाज किया जाता है ना की बीमारी का इलाज किया जाता है इंसान का इलाज किया जाता है इस बात से तात्पर्य यह है कि इंसान मतलब हमारे शरीर में जो हमारी जीवनी सकती है हमारा जो हाइडल फोर्स है हमारी जो इम्यूनिटी है हमारा जो प्रतिरोधक क्षमता है बीमारी से लड़ने का अधिक क्षमता है इस क्षमता को बढ़ा दिया जाता है ऐसा आज के टाइम में इस वायरल इंफेक्शन के टाइम ही नहीं हो रहा है ऐसा शुरू से ही होम्योपैथिक इसी प्रिंसिपल पर आधारित है कि हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को इतना बढ़ा दिया जाए ताकि बीमारी खुद-ब-खुद शरीर से कमजोर होकर दूर हो जाया करती है यह हमारे होम्योपैथी का सिद्धांत है इसी सिद्धांत पर होम्योपैथिक में हर परसेंट का आज तक इलाज किया गया है किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए और किया जाता है होम्योपैथिक हमारे शरीर के बीमारी से लड़ने की जो अपनी क्षमता होती है एक स्वस्थ आदमी और एक बीमार आदमी में क्या अंतर होता है एक बीमार आदमी बीमार तभी पड़ता है जब उसके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम पड़ जाती है और बीमारी से लड़ने की क्षमता उसकी कम हो जाती है इम्यूनिटी कमजोर पड़ जाता लेकिन एक स्वस्थ आदमी जिसकी इम्यूनिटी हंड्रेड परसेंट होती है तो इस तरह इस तरह के स्वस्थ हैं लोग अगर किसी भी इंफेक्शन के बीच से गुजरते हैं तो उन्हें किसी तरह की बीमारी जल्द नहीं पकड़ती है जैसा कि अभी कोरोना के रिसर्च में भी बताया गया है कि कोरोनावायरस को लग रहा है जो कि बहुत ही शारीरिक रूप से कमजोर हैं जो पहले से ही किसी चीज से रिलेटेड या अस्थमा दमा यह सब से पीड़ित लोग हैं उन लोगों को ज्यादा इफेक्ट कर रहा है ऐसे लोगों की मौतें ज्यादा हो रही है और उनकी तो बहुत सारे लोग पाए जाते हैं लेकिन उनमें से ज्यादातर जवान लोग बच जाते हैं बच्चे और गुरु की मौत हो जाती हैं उन लोगों का ट्रीटमेंट करने के बावजूद शरीर में पहले तो चुकी उनका यूनिटी बहुत ही लो होता है और पहले से ही वह भी कुछ अन्य बीमारी जैसे डायबिटीज थमा दी और भी बहुत सारी भयंकर बीमारियों से लड़ रहे होते हैं इसीलिए कोरोनावायरस अटैक कर पाता है और उनको उनके प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण उनके शरीर टूट जाती है और साथ में दिक्कत होने के कारण तरह-तरह के लक्षण जो कोरोना के हैं जैसे सर्दी खांसी बुखार सूखी खांसी गले में 4 दिन तक लक्षण देता है कोरोनावायरस वह छाती में चला जाता है जब शादी में चला जाता है तो सांस में प्रॉब्लम आ जाती है वेंटीलेटर की जरूरत पड़ती है यह सारे लक्षण के हैं इन सभी लक्षणों का बढ़ोतरी तभी होता है जब कि आपके शरीर में प्रतिरोधक क्षमता की कमी होती है और ऐसा तभी देखा जाता है जो ऑलरेडी पहले से बीमार लोग हैं उन लोगों में प्रतिरोधक क्षमता कम होती है यह हमारे प्रकृति का नियम है कि जिन की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होगी उन्हीं पर बीमारी अटैक करता है अतः मैं आप लोगों को यह रहस्य बताना चाहता हूं कि अगर आप किसी भी बीमारी से स्वस्थ रहना चाहते हैं तो सबसे पहले आप अपनी इम्यूनिटी को बढ़ाएं और उसके लिए सारी सारी मैनेजमेंट जो भी कुछ है वह करें करो सभी लड़ने के लिए ऐसा ही किया जा रहा है और तरह-तरह के भी निर्देश दिए गए हैं जैसे हाथ साफ रखें यह सब बचाव के उपाय बताए गए हैं इसके अलावा जो है बताया गया है कि हल्का व्यायाम योग करें शरीर को स्वस्थ रखें गंदगी से दूर रहें साफ सुथरा रहे हर समय ध्यान रखें और ना किए बगैर ढक कर रखें मास्क लगाकर रहें जिससे कि कोरोनावायरस है वह आपके आंख नाक कान और मुंह के अंदर प्रवेश ना कर पाए यह सारे प्रिकॉशंस इसलिए हैं लेकिन प्रिकॉशंस के अलावा जो ट्रीटमेंट होता है अगर किसी कोई बंदा करो ना प्लीज जी हो गया है तो उसके लिए भी तरह-तरह के लक्षण आते हैं इसमें क्योंकि सिमिलर सिम्टम्स हैं सभी लोगों को लगभग लगभग लक्षण सिम ही पाया जा रहा है किसी किसी मरीज मेरे अली विदाउट सिम भी डिवेलप है आपकी तकलीफ सर्दी खांसी वगैरह और बुखार तेज बुखार सर में दर्द बदन दर्द है यह सारा जो लक्षण कोरोनावायरस के बाद जो डिवेलप होता है इन सभी लक्षणों से लड़ने के लिए होम्योपैथिक के रिसर्च के अनुसार आयुष मंत्रालय के द्वारा जो हर सैनिक एल्बम तक की दवाई बताई गई उसका सेवन केरल केरल में है लगभग लगभग सभी लोगों पर कराया गया यहां तक कि गवर्नमेंट के आदेश के बाद वहां कराया गया तो लोग बीमार थे उनमें भी सुधार हुआ और बहुत सारे लोग ठीक हो गए और वहां लोगों के मरने की संख्या भी कम अतः यह सुनिश्चित कर लें कि इस आपदा से बाहर निकलने के लिए होम्योपैथिक एक बहुत बड़ा सहारा बन सकता है आर्थिक एल्बम पट्टी एक ऐसी दवा है जो दवा छुआछूत की बीमारियों के लिए दी जाती है यह एक बहुत ही प्रसिद्ध छुआछूत की बीमारी की दवा है यह किसी भी शुरू में फायदा करता है या कोरोनावायरस सही नहीं स्वाइन फ्लू के टाइम में भी चलाया गया था इसके पहले जो हुआ था उस टाइम में भी इसके अलावा किसी भी तरह का इंफेक्शन वगैरह जो फैल जाते हमारे समाज में निकल बहुत ही महत्वपूर्ण होता है क्योंकि होम्योपैथी दवाई बीमारी है विच कैन प्रोड्यूस ईट ओनली दैट कैन चोरी जिनमें बीमारी के लक्षण पैदा करने की क्षमता होती है उसी मेडिसिनल सब्सटेंस में बीमारी को दूर करने की क्षमता होती है क्या एक अटल सत्य है या सौ पर्सेंट धूप है इस धरती का स्त्रोत को मानकर ही होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति का आविष्कार किया गया और होम्योपैथी आज इतने बड़े रूप में हमारे सामने आया है जोकि होम्योपैथिक का आविष्कार सबसे लेट से हुआ है इसलिए इसका इससे डिवेलप करने में ही थोड़ा टाइम लग रहा है लेकिन आज के समय भी होम्योपैथिक में बहुत बड़ी-बड़ी सच हो रहे हैं गुरु नानक अभी हमारे देश में और पूरे वर्ल्ड में होम्योपैथिक के सभी डॉक्टर से एकजुट होकर बहुत ही अधिक महत्वपूर्ण मेहनत कर रहे हैं प्रयासरत हैं और होम्योपैथिक की दवाइयों से बहुत सारे मरीजों को लाभ और होम्योपैथिक दवाइयों से बहुत सारे मरीज और उनके ठीक भी हो रहे हैं इसीलिए होम्योपैथिक रिसर्च करो ना को लेकर नहीं होने की बात ना करें सबसे महत्वपूर्ण यह है कि होम्योपैथी को समझा जाए होम्योपैथिक सिमिलिया सिमिलीबस क्युरेंटूर पर डिपेंडेंट है होम्योपैथिक में जीत लक्षण जैसा लक्षण आपके शरीर में उपलब्ध है उस लक्षण लक्षण जिस दवा में पाया जाता है वह दवा ही सटीक दवा होती है उस मरीज के लिए और जब दी जाती है तो चाहे उस मरीज को कोरोनावायरस हो या कैंसर कोई लीवर प्रॉब्लम हो या उसके शरीर का सर से लेकर पांव तक का जो भी लक्षण है उसका लक्षण मिलाकर अगर कोई दवा करते हैं वह अगर दिया जाता है रामबाण दवा वो काम करती है और मरीज बिल्कुल स्वस्थ होते हैं इस सत्य को कभी बदला नहीं जा सकता यह बहुत बढ़िया अटल सत्य है अतः होम्योपैथिक में और भी दवाइयां हैं जैसे नाइट्रिक एसिड जो है वह बहुत पैदा करता है जब करो ना क्या लक्षण गले पर आता है तो उसमें नाइट्रिक एसिड की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है मैंने अपने क्लीनिक में कम से कम 50 मरीजों को जो कि कोरोनावायरस के लक्ष्ण पाए जाते थे उनको मैंने ठीक किया और अभी भी बहुत लोगों को एडवाइज दे रहा हूं अता नाइट्रिक एसिड का सेवन करें अगर गले तक आपका इंफेक्शन चला गया हो तो अगर आपके गले में इंफेक्शन है तो इसमें मर्क सोल नाम की दवा भी बहुत अधिक फायदा करती है वह भी यूज़ ऑफ कर सकते हैं प्रिवेंशन के लिए आर्सेनिक एल्बम शक्ति पैलेस यूज करें अगर आपको न पॉजिटिव नहीं है तो आर्सेनिक एल्बम 30 तीन दिन तक जरूर सेवन करें अगर आप पॉजिटिव हैं और लक्षण गले तक आ चुका है तो उसका सेवन जरूर करें नाइट्रिक एसिड और धन्यवाद

hi friends main doctor shiv shankar kumar gupta homeopathic research and revolution in india me homeopathic ke kshetra me kuch apne anubhav ko share karna chahta hoon aaj ka yah sawaal hai coronavirus kyon nahi kar rahi hai yah baat bilkul hi galat hai coronavirus sabhi deshvasiyon aur vishwa ke har ek logo ke liye bahut badi ladai hai homeopathic ke taraf se bhi bahut saari research ho rahi hai homeopathic ke abhi haal ke hi ayush government ki taraf se ek jaari kiya gaya hai aadesh jisme ki 8 se nikal 130 dawai poore desh me sabhi logo ko use karne ke ka aadesh diya gaya hai is dawa ko use karte hain aap apne sharir ki pratirodhak kshamta ko badha lete hain homeopathic me jitni bhi davaiyan hoti hain vaah un sab se pehle aap yah samajh jaiye ki homeopathy hai kya aur vaah kaam kaise karti hai dimag ne is baat ko achi tarah se baitha liya jaaye ki homeopathy ki davaiyan bimariyon ka ilaj karti toh hai lekin vaah hamare sharir ki pratirodhak kshamta ko badhati hai jab baki jitni bhi paithik hai chikitsa paddhatiyan hain un sabhi patiyon me jis bimari ka diagnosis kiya jata hai us bimari ke liye jo sarvottam dawa hoti hai vaah di jaati hai lekin homeopathic me aisa nahi hai homeopathic me insaan ka ilaj kiya jata hai na ki bimari ka ilaj kiya jata hai insaan ka ilaj kiya jata hai is baat se tatparya yah hai ki insaan matlab hamare sharir me jo hamari jeevni sakti hai hamara jo hydal force hai hamari jo immunity hai hamara jo pratirodhak kshamta hai bimari se ladane ka adhik kshamta hai is kshamta ko badha diya jata hai aisa aaj ke time me is viral infection ke time hi nahi ho raha hai aisa shuru se hi homeopathic isi principal par aadharit hai ki hamare sharir ki pratirodhak kshamta ko itna badha diya jaaye taki bimari khud bsp khud sharir se kamjor hokar dur ho jaya karti hai yah hamare homeopathy ka siddhant hai isi siddhant par homeopathic me har percent ka aaj tak ilaj kiya gaya hai kisi bhi bimari se ladane ke liye aur kiya jata hai homeopathic hamare sharir ke bimari se ladane ki jo apni kshamta hoti hai ek swasth aadmi aur ek bimar aadmi me kya antar hota hai ek bimar aadmi bimar tabhi padta hai jab uske sharir ki pratirodhak kshamta kam pad jaati hai aur bimari se ladane ki kshamta uski kam ho jaati hai immunity kamjor pad jata lekin ek swasth aadmi jiski immunity hundred percent hoti hai toh is tarah is tarah ke swasth hain log agar kisi bhi infection ke beech se gujarate hain toh unhe kisi tarah ki bimari jald nahi pakadti hai jaisa ki abhi corona ke research me bhi bataya gaya hai ki coronavirus ko lag raha hai jo ki bahut hi sharirik roop se kamjor hain jo pehle se hi kisi cheez se related ya asthama dama yah sab se peedit log hain un logo ko zyada effect kar raha hai aise logo ki mautain zyada ho rahi hai aur unki toh bahut saare log paye jaate hain lekin unmen se jyadatar jawaan log bach jaate hain bacche aur guru ki maut ho jaati hain un logo ka treatment karne ke bawajud sharir me pehle toh chuki unka unity bahut hi lo hota hai aur pehle se hi vaah bhi kuch anya bimari jaise diabetes thama di aur bhi bahut saari bhayankar bimariyon se lad rahe hote hain isliye coronavirus attack kar pata hai aur unko unke pratirodhak kshamta kam hone ke karan unke sharir toot jaati hai aur saath me dikkat hone ke karan tarah tarah ke lakshan jo corona ke hain jaise sardi khansi bukhar sukhi khansi gale me 4 din tak lakshan deta hai coronavirus vaah chhati me chala jata hai jab shaadi me chala jata hai toh saans me problem aa jaati hai ventilator ki zarurat padti hai yah saare lakshan ke hain in sabhi lakshano ka badhotari tabhi hota hai jab ki aapke sharir me pratirodhak kshamta ki kami hoti hai aur aisa tabhi dekha jata hai jo already pehle se bimar log hain un logo me pratirodhak kshamta kam hoti hai yah hamare prakriti ka niyam hai ki jin ki pratirodhak kshamta kamjor hogi unhi par bimari attack karta hai atah main aap logo ko yah rahasya batana chahta hoon ki agar aap kisi bhi bimari se swasth rehna chahte hain toh sabse pehle aap apni immunity ko badhaye aur uske liye saari saari management jo bhi kuch hai vaah kare karo sabhi ladane ke liye aisa hi kiya ja raha hai aur tarah tarah ke bhi nirdesh diye gaye hain jaise hath saaf rakhen yah sab bachav ke upay bataye gaye hain iske alava jo hai bataya gaya hai ki halka vyayam yog kare sharir ko swasth rakhen gandagi se dur rahein saaf suthara rahe har samay dhyan rakhen aur na kiye bagair dhak kar rakhen mask lagakar rahein jisse ki coronavirus hai vaah aapke aankh nak kaan aur mooh ke andar pravesh na kar paye yah saare prikashans isliye hain lekin prikashans ke alava jo treatment hota hai agar kisi koi banda karo na please ji ho gaya hai toh uske liye bhi tarah tarah ke lakshan aate hain isme kyonki similar Symptoms hain sabhi logo ko lagbhag lagbhag lakshan sim hi paya ja raha hai kisi kisi marij mere ali without sim bhi develop hai aapki takleef sardi khansi vagera aur bukhar tez bukhar sir me dard badan dard hai yah saara jo lakshan coronavirus ke baad jo develop hota hai in sabhi lakshano se ladane ke liye homeopathic ke research ke anusaar ayush mantralay ke dwara jo har sainik album tak ki dawai batai gayi uska seven kerala kerala me hai lagbhag lagbhag sabhi logo par karaya gaya yahan tak ki government ke aadesh ke baad wahan karaya gaya toh log bimar the unmen bhi sudhaar hua aur bahut saare log theek ho gaye aur wahan logo ke marne ki sankhya bhi kam atah yah sunishchit kar le ki is aapda se bahar nikalne ke liye homeopathic ek bahut bada sahara ban sakta hai aarthik album patti ek aisi dawa hai jo dawa chuachut ki bimariyon ke liye di jaati hai yah ek bahut hi prasiddh chuachut ki bimari ki dawa hai yah kisi bhi shuru me fayda karta hai ya coronavirus sahi nahi swine flu ke time me bhi chalaya gaya tha iske pehle jo hua tha us time me bhi iske alava kisi bhi tarah ka infection vagera jo fail jaate hamare samaj me nikal bahut hi mahatvapurna hota hai kyonki homeopathy dawai bimari hai which can produce eat only that can chori jinmein bimari ke lakshan paida karne ki kshamta hoti hai usi medisinal sabsatens me bimari ko dur karne ki kshamta hoti hai kya ek atal satya hai ya sau percent dhoop hai is dharti ka satrot ko maankar hi homeopathic chikitsa paddhatee ka avishkar kiya gaya aur homeopathy aaj itne bade roop me hamare saamne aaya hai joki homeopathic ka avishkar sabse late se hua hai isliye iska isse develop karne me hi thoda time lag raha hai lekin aaj ke samay bhi homeopathic me bahut badi badi sach ho rahe hain guru nanak abhi hamare desh me aur poore world me homeopathic ke sabhi doctor se ekjut hokar bahut hi adhik mahatvapurna mehnat kar rahe hain prayasarat hain aur homeopathic ki dawaiyo se bahut saare marizon ko labh aur homeopathic dawaiyo se bahut saare marij aur unke theek bhi ho rahe hain isliye homeopathic research karo na ko lekar nahi hone ki baat na kare sabse mahatvapurna yah hai ki homeopathy ko samjha jaaye homeopathic similia similibas kyurentur par dependent hai homeopathic me jeet lakshan jaisa lakshan aapke sharir me uplabdh hai us lakshan lakshan jis dawa me paya jata hai vaah dawa hi sateek dawa hoti hai us marij ke liye aur jab di jaati hai toh chahen us marij ko coronavirus ho ya cancer koi liver problem ho ya uske sharir ka sir se lekar paav tak ka jo bhi lakshan hai uska lakshan milakar agar koi dawa karte hain vaah agar diya jata hai rambaan dawa vo kaam karti hai aur marij bilkul swasth hote hain is satya ko kabhi badla nahi ja sakta yah bahut badhiya atal satya hai atah homeopathic me aur bhi davaiyan hain jaise Nitric acid jo hai vaah bahut paida karta hai jab karo na kya lakshan gale par aata hai toh usme Nitric acid ki bahut mahatvapurna bhumika hai maine apne clinic me kam se kam 50 marizon ko jo ki coronavirus ke lakshan paye jaate the unko maine theek kiya aur abhi bhi bahut logo ko edavaij de raha hoon ata Nitric acid ka seven kare agar gale tak aapka infection chala gaya ho toh agar aapke gale me infection hai toh isme merc soul naam ki dawa bhi bahut adhik fayda karti hai vaah bhi use of kar sakte hain prevention ke liye arsenic album shakti Palace use kare agar aapko na positive nahi hai toh arsenic album 30 teen din tak zaroor seven kare agar aap positive hain aur lakshan gale tak aa chuka hai toh uska seven zaroor kare Nitric acid aur dhanyavad

हाय फ्रेंड्स मैं डॉक्टर शिव शंकर कुमार गुप्ता होम्योपैथिक रिसर्च एंड रिवॉल्यूशन इन इंडिया

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  262
WhatsApp_icon
user

Dr. Dilip Kumar

Homeopathy Doctor

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोरोनावायरस पैथिक मेडिसिन नहीं हो रहा है ऐसा नहीं है अभी पूरे वर्ल्ड में पेशेंट को हर सरकार अपने अंदर में रख लिया है उसको इलाज करने का इजाजत नहीं है जहां तक होम्योपैथी में किसी बीमारी की रिसर्च की बात आती है तो हमें पैथिक में कभी रिसर्च का उतना आवश्यकता नहीं पड़ता है क्योंकि यह जिस भी करवा के लक्षण से उस बीमारी का लक्षण मिल जाएगा वह दवाई दिया जाएगा ठीक है इसमें से ठीक है बुखार है दिल में दर्द है सांस लेने में दिक्कत है गला में सॉलिड होने का डर बना रहता है यह जिस भी दवा से मिल जाए इसे कुछ डॉक्टर लोग आर्सेनिक एल्बम बताए थे तो पूरे हिंदुस्तान के लोग काफी मात्रा मुस्तफा को प्रीवेंटिव के तौर पर लिए चीफ जस्टिस का नाम का दवाई बोले थे वह भी काफी लोग लिए इसलिए जब पैसे मिलेगा आपके सब को देखेगा दवा दी जाएगी तो वह पैदा करेगा ही करेगा क्योंकि अभी एलोपैथी में भी डॉक्टरों को कौन सा दवा सूट करेगा यह जानकारी एक देश से दूसरे देश से प्राप्त कर रहे हैं इसलिए अच्छी तरीका से ठीक है होम्योपैथी में भी इसकी दवा है लेकिन अभी सिर्फ सिर्फ हॉस्पिटल में ही एलोपैथिक हॉस्पिटल में ही सरकार रख रहा है कोई पेटेंट डॉक्टर को अभिमान का इलाज करने के लिए नहीं मिला

coronavirus paithik medicine nahi ho raha hai aisa nahi hai abhi poore world me patient ko har sarkar apne andar me rakh liya hai usko ilaj karne ka ijajat nahi hai jaha tak homeopathy me kisi bimari ki research ki baat aati hai toh hamein paithik me kabhi research ka utana avashyakta nahi padta hai kyonki yah jis bhi karva ke lakshan se us bimari ka lakshan mil jaega vaah dawai diya jaega theek hai isme se theek hai bukhar hai dil me dard hai saans lene me dikkat hai gala me solid hone ka dar bana rehta hai yah jis bhi dawa se mil jaaye ise kuch doctor log arsenic album bataye the toh poore Hindustan ke log kaafi matra mustafa ko priventiv ke taur par liye chief justice ka naam ka dawai bole the vaah bhi kaafi log liye isliye jab paise milega aapke sab ko dekhega dawa di jayegi toh vaah paida karega hi karega kyonki abhi allopathy me bhi doctoron ko kaun sa dawa suit karega yah jaankari ek desh se dusre desh se prapt kar rahe hain isliye achi tarika se theek hai homeopathy me bhi iski dawa hai lekin abhi sirf sirf hospital me hi allopathic hospital me hi sarkar rakh raha hai koi patent doctor ko abhimaan ka ilaj karne ke liye nahi mila

कोरोनावायरस पैथिक मेडिसिन नहीं हो रहा है ऐसा नहीं है अभी पूरे वर्ल्ड में पेशेंट को हर सरका

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  365
WhatsApp_icon
user

Dr. Ashish Kumar

Homeopathy Doctor

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी करो ना प्लीज सर्च क्यों नहीं कर रहे हैं अभी जो मैंने जो आपको हेल्थ डिपार्टमेंट जो बैठे हुए आयुष में जो बैठे हुए मंत्रालय जो हैं उनको 3 से ज्यादा सोचना चाहिए सेट कर रहे हो कि हम लोग को पता नहीं होगा हो सकता है लेकिन आपको रोना के लिए स्पेशल हम आपको बताना हम लोग यहां कुछ उपयोग किए मेडिसिन को ना कर तो रोगी आए नहीं हमारे लेकिन कुछ चीज है जो मेडिसिन हम सबके यहां ले रहा है नालंदा में खासकर मेडिसिन लोग ले रहे हैं कि त्रिवेंटी में आपको काम करेगा वह आर्सेनिक 30 नंबर सुबह-शाम 3 दिन तक लगातार लीजिए उसके बाद 7 दिन का इंटरवल कर दीजिए फिर आरसी 31 नंबर सुबह सुबह शाम 3 दिन तक लगातार लीजिए और बीच में जो गैपिंग है सोसायटी के बीच में गैप किसी एक दिन 4 दिन या पांच वाद्य तीसरा दिन आप जैन सीनियर 30 नवंबर सुबह शाम ले लीजिए और छठे दिन कॉस्टिकम सुबह और शाम ले लीजिए आपको कोरोनावायरस नहीं करेगा यह हम देखे हुए हैं इस जैक निक पर

vicky karo na please search kyon nahi kar rahe hain abhi jo maine jo aapko health department jo baithe hue ayush me jo baithe hue mantralay jo hain unko 3 se zyada sochna chahiye set kar rahe ho ki hum log ko pata nahi hoga ho sakta hai lekin aapko rona ke liye special hum aapko batana hum log yahan kuch upyog kiye medicine ko na kar toh rogi aaye nahi hamare lekin kuch cheez hai jo medicine hum sabke yahan le raha hai nalanda me khaskar medicine log le rahe hain ki triventi me aapko kaam karega vaah arsenic 30 number subah shaam 3 din tak lagatar lijiye uske baad 7 din ka interval kar dijiye phir RC 31 number subah subah shaam 3 din tak lagatar lijiye aur beech me jo gaiping hai sociaty ke beech me gap kisi ek din 4 din ya paanch vadhya teesra din aap jain senior 30 november subah shaam le lijiye aur chhathe din kastikam subah aur shaam le lijiye aapko coronavirus nahi karega yah hum dekhe hue hain is jack nick par

विकी करो ना प्लीज सर्च क्यों नहीं कर रहे हैं अभी जो मैंने जो आपको हेल्थ डिपार्टमेंट जो बैठ

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  617
WhatsApp_icon
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए होम्योपैथिक मेडिसिंस जो है जी तुम तो मैं ठीक क्यों ट्रीटमेंट होता है होम्योपैथिक में होम्योपैथिक ट्रीटमेंट होता है तो जो सिम्टम्स कोरोना वायरस के होते हैं वह मेडिसिंस हमारी है पहले ही बनाई जा चुकी है कोरोनावायरस की मेडिसिंस होम्योपैथी में बहुत पेटेंट मेडिसिंस है या नहीं समझने की जो स्वाइन फ्लू की मेडिसिन से लगभग वही कोरोनावायरस की मेडिसिन स्वाइन फ्लू के और कोरोनावायरस के सिम्टम्स लगभग मिलते-जुलते होते हैं तो हमारे यहां कई मेडिसिंस ऐसी हैं जो कोरोना वायरस में बहुत अच्छा काम करेंगे क्योंकि सिम्टम्स जो है वह मेडिसिन से मिलने चाहिए मैच खाने चाहिए हमारे यहां वह मेरी सीन अच्छा काम करती है तो हमारे यहां है कोरोनावायरस की मेडिसिन थैंक यू

dekhiye homeopathic medisins jo hai ji tum toh main theek kyon treatment hota hai homeopathic me homeopathic treatment hota hai toh jo Symptoms corona virus ke hote hain vaah medisins hamari hai pehle hi banai ja chuki hai coronavirus ki medisins homeopathy me bahut patent medisins hai ya nahi samjhne ki jo swine flu ki medicine se lagbhag wahi coronavirus ki medicine swine flu ke aur coronavirus ke Symptoms lagbhag milte julte hote hain toh hamare yahan kai medisins aisi hain jo corona virus me bahut accha kaam karenge kyonki Symptoms jo hai vaah medicine se milne chahiye match khane chahiye hamare yahan vaah meri seen accha kaam karti hai toh hamare yahan hai coronavirus ki medicine thank you

देखिए होम्योपैथिक मेडिसिंस जो है जी तुम तो मैं ठीक क्यों ट्रीटमेंट होता है होम्योपैथिक में

Romanized Version
Likes  201  Dislikes    views  2022
WhatsApp_icon
user

Dr. Randhir Kumar

Homeopathy Doctor

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कराना पर रिसर्च करने की आवश्यकता नहीं है करना होने से पहले हर सैनिक एल्बम नाम की दवा खाने से लोगों के इम्यूनिटी बूस्टर होता है और लोग रोग से दूर रहते हैं

krana par research karne ki avashyakta nahi hai karna hone se pehle har sainik album naam ki dawa khane se logo ke immunity booster hota hai aur log rog se dur rehte hain

कराना पर रिसर्च करने की आवश्यकता नहीं है करना होने से पहले हर सैनिक एल्बम नाम की दवा खाने

Romanized Version
Likes  250  Dislikes    views  2832
WhatsApp_icon
user

Dr. Asif Ali

Homeopathy Doctor

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही अच्छा आप का सवाल है कोरोनावायरस की गई थी रिसीव क्यों नहीं कर रही है देखिए मैं आपको डॉक्टर आसिफ अली होम्योपैथी डॉक्टर आपको यह बताना चाहूंगा के होम्योपैथी में बहुत ही कामयाब बहुत ही सफल इलाज है कोरोना का सही बात तो यह है कि होम्योपैथी लक्षणों को डील करते हैं होम्योपैथी बॉडी की इम्युनिटी बढ़ाती है रोगों से लड़ने की क्षमता पैदा करते हैं तो अगर सिंप्टोमेटिक पूरी तरीके से अगर बात करके मरीज से और दवा अगर होम्योपैथी में दी जाती है तो बहुत ही सही और बहुत ही बढ़िया दवाएं होम्योपैथी में उपलब्ध हैं तो होम्योपैथी में जो है इसका बहुत ही सफल इलाज है तो ऐसा नहीं है होम्योपैथी के बहुत बड़े बड़े इंस्टिट्यूट इससे और अग्रसर हैं और क्योंकि होम्योपैथी में हमेशा कोरोना का नहीं बल्कि चिंतन का इलाज होता है कोरोनावायरस इन में नाम है लेकिन मरीज को दिक्कत क्या हो रही है होम्योपैथिक डॉक्टर के लिए इंपॉर्टेंट डायग्नोसिंग होता है इंपॉर्टेंट होता है मरीज को परेशानी का वह अपने सिस्टम बता देते बताता है और हम जो है एकदम सेट करते हैं जो मरीज के लिए इंपॉर्टेंट होती है और मरीज के सिम्टम्स को पर सिमिलिमम उतरती है मतलब हम उसको अपने हिसाब से रिप्लाई कर के और जो दवा सेट कर के देते हैं वह निश्चित रूप से उसकी मिनट ही बनाती है और बीमारी से बाहर निकल आती है बहुत बढ़िया कामयाब जब आए हैं होम्योपैथी में और उल्लू का तो इलाज ही देखा जाए तो हम ही पर थी में है बहुत ही कामयाब इलाज है सर ठीक है सर

bahut hi accha aap ka sawaal hai coronavirus ki gayi thi receive kyon nahi kar rahi hai dekhiye main aapko doctor asif ali homeopathy doctor aapko yah batana chahunga ke homeopathy me bahut hi kamyab bahut hi safal ilaj hai corona ka sahi baat toh yah hai ki homeopathy lakshano ko deal karte hain homeopathy body ki immunity badhati hai rogo se ladane ki kshamta paida karte hain toh agar simptometik puri tarike se agar baat karke marij se aur dawa agar homeopathy me di jaati hai toh bahut hi sahi aur bahut hi badhiya davayain homeopathy me uplabdh hain toh homeopathy me jo hai iska bahut hi safal ilaj hai toh aisa nahi hai homeopathy ke bahut bade bade institute isse aur agrasar hain aur kyonki homeopathy me hamesha corona ka nahi balki chintan ka ilaj hota hai coronavirus in me naam hai lekin marij ko dikkat kya ho rahi hai homeopathic doctor ke liye important diagnosing hota hai important hota hai marij ko pareshani ka vaah apne system bata dete batata hai aur hum jo hai ekdam set karte hain jo marij ke liye important hoti hai aur marij ke Symptoms ko par similimam utarati hai matlab hum usko apne hisab se reply kar ke aur jo dawa set kar ke dete hain vaah nishchit roop se uski minute hi banati hai aur bimari se bahar nikal aati hai bahut badhiya kamyab jab aaye hain homeopathy me aur ullu ka toh ilaj hi dekha jaaye toh hum hi par thi me hai bahut hi kamyab ilaj hai sir theek hai sir

बहुत ही अच्छा आप का सवाल है कोरोनावायरस की गई थी रिसीव क्यों नहीं कर रही है देखिए मैं आपको

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
play
user

सुरेश चंद आचार्य

Social Worker ( Self employed )

0:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों को रनों पर होम्योपैथी आयुर्वेद एलोपैथी सभी विभाग अपने अपने स्तर पर रिसर्च कर रहे हैं लेकिन अभी तक कोई ठोस प्रमाण ठोस दवाई बनी नहीं है

namaskar doston ko rano par homeopathy ayurveda allopathy sabhi vibhag apne apne sthar par research kar rahe hain lekin abhi tak koi thos pramaan thos dawai bani nahi hai

नमस्कार दोस्तों को रनों पर होम्योपैथी आयुर्वेद एलोपैथी सभी विभाग अपने अपने स्तर पर रिसर्च

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  1332
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं डॉक्टर संजीव कुमार सरोज आपका सवाल है कि कोरोना पर होम्योपैथी रिसर्च क्यों नहीं कर रही है तो एक्चुली कहने का मतलब यह कोरोनावायरस क्यों नहीं कर रही है ऐसा नहीं है जो होम्योपैथी है वह इंडिविजुअलाइजेशन यानी की पूरी केस हिस्ट्री पेशेंट की हिस्ट्री लेने के बाद मेडिसिन किस काम करते हैं उसके नेचर बीयर बीयर के हिसाब से ठीक है ना और जो सिम्टम्स उसके आते हैं फिजिकल मेंटल जनरल लेवल के और डिजीज जिसको पैथोलॉजी उन सबको मैच कराने बाद जोमेंट सिलेक्ट करते हैं उसको इंडियन पोस्ट ऑफिस के लिए मेडिसिन होम्योपैथिक की बात करें तो पेशेंट्स एक्यूट होगा यह इसको जब देखते तो पेशेंट की जो डिस्पोजिशन है चेंज इस समय कि ऐसा कौन है 20 साल से चला रहा है 6 महीने चला रहा है एक पेशेंट बेड टाइम होता तो ऐसे टाइम पर हम उसका डिस्पोजिशन चेंजिंग क्या है उस समय उसको क्या-क्या कंप्लेंट आ रही है तो उस बेस तेजाब से गर्मी लग रही ठंडी लग रही ज्यादा लग रहा है कैसा है उसका मेंटल लेवल कैसा है उसको है डर लग रहा है या क्या है स्वयं जो भी है तो उसका माइंड का पिकअप करने के बाद उसका जो फिजिकल से उसको उठा हुआ जो मेडिसिन मेडिसिन हम उसको देंगे तो हंड्रेड परसेंट मैं कहता हूं उससे उसको कहा तक इंप्रूवमेंट होगा धन्यवाद

main doctor sanjeev kumar saroj aapka sawaal hai ki corona par homeopathy research kyon nahi kar rahi hai toh ekchuli kehne ka matlab yah coronavirus kyon nahi kar rahi hai aisa nahi hai jo homeopathy hai vaah indivijualaijeshan yani ki puri case history patient ki history lene ke baad medicine kis kaam karte hain uske nature beer beer ke hisab se theek hai na aur jo Symptoms uske aate hain physical mental general level ke aur disease jisko pathology un sabko match karane baad joment select karte hain usko indian post office ke liye medicine homeopathic ki baat kare toh patients acute hoga yah isko jab dekhte toh patient ki jo dispojishan hai change is samay ki aisa kaun hai 20 saal se chala raha hai 6 mahine chala raha hai ek patient bed time hota toh aise time par hum uska dispojishan changing kya hai us samay usko kya kya complaint aa rahi hai toh us base tezab se garmi lag rahi thandi lag rahi zyada lag raha hai kaisa hai uska mental level kaisa hai usko hai dar lag raha hai ya kya hai swayam jo bhi hai toh uska mind ka pickup karne ke baad uska jo physical se usko utha hua jo medicine medicine hum usko denge toh hundred percent main kahata hoon usse usko kaha tak improvement hoga dhanyavad

मैं डॉक्टर संजीव कुमार सरोज आपका सवाल है कि कोरोना पर होम्योपैथी रिसर्च क्यों नहीं कर रही

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
user

Dr A.H.Nazar

Homeopath, sexologist

2:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मेरा नाम डॉक्टर नजर है और आपने बहुत ही अच्छा क्वेश्चन पूछा है कि को रोना पर होम्योपैथिक रिसर्च क्यों नहीं कर रही है और यह निश्चित तौर पर जितने भी फोन पर थे और फोन पर थी को चाहने वाले लोग हैं उनके लिए बहुत ही निराशाजनक था यह बात है कि हम लोगों को रोना के पेशेंट को ट्रीटमेंट के लिए हम लोगों को आगे नहीं किया जा रहा है यह हम लोगों को मौका नहीं दिया जा रहा है कि आपको यह पता है कि यह अनुमान सर ने पूरी गाइडलाइन तनु को दी हुई है कि अगर किसी एरिया में किसी देश में कोई बीमारी फैलती है वह बीमारी चाहे एपिडेमिक हो या पेंट में उस बीमारी को ट्रीट करने के लिए हमें क्या करना चाहिए क्या स्टेप लेना चाहिए तो सर ने हमें यह बताया था कि किसी भी चीज जो कि सीरिया में फैली हुई है सही करने के लिए उस से रिलेटेड 20 से 25 पेशेंट हमें देखने चाहिए उसके जितने भी सिम्टम्स है वह में नोट डाउन करना चाहिए जैसे कि आजकल करो ना कि जो पेशेंट है उनमें जो कॉमन सेंटर निकल कर आ रहे हैं कि गले में खराश होना सांस लेने में दिक्कत होना फीवर होना यह सारे कॉमन सिमटा हुए बहुत सारे ऐसे होंगे जो कुछ भी लेंगे और कुछ स्पेशल में नहीं मिलेंगे अगर इन सब को ले करके रिप्लाई किया जाए तो मुझसे से 67 दवाइयां सेलेक्ट होगी तो इस तरह के केस में यूज हो सकती है तो यह सब दवाइयां भी यूज हो सकती है और रोटी भी हो सकती है तो फ्री में सर ने कितने साल पहले बिल्कुल पूरी तरीके से गाइडलाइन हमें दे दिए लेकिन रिसर्च क्यों नहीं हो पा रही है मुझे लगता है कि हमारा हमारे यहां इस मंत्रालय हैं वो थोड़ा सा कमजोर हो जा रहा है एलोपैथी की लॉबी बहुत ही मजबूत है और उन्होंने पूरा मेडिकल सिस्टम पर एक तरह से कब्जा किया हुआ है इस मौके पर आयुष मंत्रालय को आगे आना चाहिए और अखिलेश उनको भी कहना चाहिए कि भाई जो पेशेंट एडमिट है हमें एक मौका तो दे कि कम से कम उनका जो पेशेंट है उनको उनके उनको ऐड कर सके जिससे कि हमारे साथ में निकाल सके और जैसा कि हमारे मंत्री मोदी जी इसके लिए बहुत उत्सुक रहते हैं कि और आगे आए लेकिन अगर वह इस तरह से ध्यान दे तो मेरे से ज्यादा अच्छा रहेगा अगर आपको कुछ मेरी बातों से अगर आप सहमत है तो आप जरूर मुझे बताइए या अगर आपको कोई चीज और बताना चाहते हैं या मुझे सुझाव देना चाहते हैं कोई बात कहना चाहते मुझसे पर्सनली धन्यवाद

hello mera naam doctor nazar hai aur aapne bahut hi accha question poocha hai ki ko rona par homeopathic research kyon nahi kar rahi hai aur yah nishchit taur par jitne bhi phone par the aur phone par thi ko chahne waale log hain unke liye bahut hi nirashajanak tha yah baat hai ki hum logo ko rona ke patient ko treatment ke liye hum logo ko aage nahi kiya ja raha hai yah hum logo ko mauka nahi diya ja raha hai ki aapko yah pata hai ki yah anumaan sir ne puri guideline tanu ko di hui hai ki agar kisi area me kisi desh me koi bimari failati hai vaah bimari chahen epidemic ho ya paint me us bimari ko treat karne ke liye hamein kya karna chahiye kya step lena chahiye toh sir ne hamein yah bataya tha ki kisi bhi cheez jo ki syria me faili hui hai sahi karne ke liye us se related 20 se 25 patient hamein dekhne chahiye uske jitne bhi Symptoms hai vaah me note down karna chahiye jaise ki aajkal karo na ki jo patient hai unmen jo common center nikal kar aa rahe hain ki gale me kharash hona saans lene me dikkat hona fever hona yah saare common simta hue bahut saare aise honge jo kuch bhi lenge aur kuch special me nahi milenge agar in sab ko le karke reply kiya jaaye toh mujhse se 67 davaiyan select hogi toh is tarah ke case me use ho sakti hai toh yah sab davaiyan bhi use ho sakti hai aur roti bhi ho sakti hai toh free me sir ne kitne saal pehle bilkul puri tarike se guideline hamein de diye lekin research kyon nahi ho paa rahi hai mujhe lagta hai ki hamara hamare yahan is mantralay hain vo thoda sa kamjor ho ja raha hai allopathy ki lobby bahut hi majboot hai aur unhone pura medical system par ek tarah se kabza kiya hua hai is mauke par ayush mantralay ko aage aana chahiye aur akhilesh unko bhi kehna chahiye ki bhai jo patient admit hai hamein ek mauka toh de ki kam se kam unka jo patient hai unko unke unko aid kar sake jisse ki hamare saath me nikaal sake aur jaisa ki hamare mantri modi ji iske liye bahut utsuk rehte hain ki aur aage aaye lekin agar vaah is tarah se dhyan de toh mere se zyada accha rahega agar aapko kuch meri baaton se agar aap sahmat hai toh aap zaroor mujhe bataiye ya agar aapko koi cheez aur batana chahte hain ya mujhe sujhaav dena chahte hain koi baat kehna chahte mujhse personally dhanyavad

हेलो मेरा नाम डॉक्टर नजर है और आपने बहुत ही अच्छा क्वेश्चन पूछा है कि को रोना पर होम्योपैथ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user
0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पूरा करो ना जो एपिडेमिक डिजीज है रोना महामारी जो है उस पर होम्योपैथी मेडिसिंस को लेकर रिसर्च जारी और होम्योपैथिक दवाई के द्वारा बहुत से क्वॉरेंटाइन किए हुए पेशेंस ठीक भी हो रहा है और होम पैथिक दवाई से काफी मात्रा में गुजरात में ट्रायल किया गया जिससे काफी पेशंस थी और उनके टेस्ट नेगेटिव भी आए तो दवाई के द्वारा ट्रायल कंटिन्यू चालू है इसके लिए गवर्नमेंट ने भी एडमिट कर दिया है

pura karo na jo epidemic disease hai rona mahamari jo hai us par homeopathy medisins ko lekar research jaari aur homeopathic dawai ke dwara bahut se kwarentain kiye hue patience theek bhi ho raha hai aur home paithik dawai se kaafi matra me gujarat me trial kiya gaya jisse kaafi Patience thi aur unke test Negative bhi aaye toh dawai ke dwara trial continue chaalu hai iske liye government ne bhi admit kar diya hai

पूरा करो ना जो एपिडेमिक डिजीज है रोना महामारी जो है उस पर होम्योपैथी मेडिसिंस को लेकर रिसर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  71
WhatsApp_icon
user

Dr Neeraj kumar Meena

Homeopathy Doctor

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते डॉक्टर नीरज मीना जैसा कि हम जानते हैं कि एक सवाल आया है कि कोरोनावायरस क्यों नहीं कर रही ऐसा नहीं है होम्योपैथिक ट्रीटमेंट है जो कि बॉडी पर एक ईमेल के थ्रू एंटीजन एंटीबॉडी रिएक्शन के बल पर काम करता है मेडिसिटी है कि आपकी मिनट को बढ़ा है और जो इस तरह के बारे में इंफेक्शन है तो उनको उनको रोक सके क्योंकि अगर आप की मिलिट्री अच्छी होगी तो यह नहीं पसंद होगा ही नहीं आपकी मिलिट्री को बढ़ाता है तो जैसा कि है कि हम और पति के झोंके चलते हैं जिस तरह इंफिनिटी कि हम मेडिसिंस को देते और ऐसा नहीं है कि मैं सच नहीं हो रही होम्योपैथी में कोई हम पार्टी कूलर बीमारी को बीमारी ना मांगे हम उसके इंटर्मेटिक ट्रीटमेंट तरीके हम जहां तक लगता है मुझे ऐसा कहना कि रिसर्च नहीं है आप हमें सिटी एक बहुत ही रोड साइंसेज की बहुत ज्यादा जरूरत है जैसा कि अब पेशेंट के लिए परमिशन दरों पर हां यह के होम्योपैथिक प्रवीण टेक मेडिसिन बहुत अच्छी तरह कारगर है इसमें किसी भी तरह इस तरह के वायरस और किसी भी तरह के वायरस को कैसे बचाते हैं

namaste doctor Neeraj meena jaisa ki hum jante hain ki ek sawaal aaya hai ki coronavirus kyon nahi kar rahi aisa nahi hai homeopathic treatment hai jo ki body par ek email ke through Antigen antibody reaction ke bal par kaam karta hai medicity hai ki aapki minute ko badha hai aur jo is tarah ke bare me infection hai toh unko unko rok sake kyonki agar aap ki miltary achi hogi toh yah nahi pasand hoga hi nahi aapki miltary ko badhata hai toh jaisa ki hai ki hum aur pati ke jhonke chalte hain jis tarah infinity ki hum medisins ko dete aur aisa nahi hai ki main sach nahi ho rahi homeopathy me koi hum party cooler bimari ko bimari na mange hum uske intarmetik treatment tarike hum jaha tak lagta hai mujhe aisa kehna ki research nahi hai aap hamein city ek bahut hi road sciences ki bahut zyada zarurat hai jaisa ki ab patient ke liye permission daro par haan yah ke homeopathic praveen take medicine bahut achi tarah kargar hai isme kisi bhi tarah is tarah ke virus aur kisi bhi tarah ke virus ko kaise bachate hain

नमस्ते डॉक्टर नीरज मीना जैसा कि हम जानते हैं कि एक सवाल आया है कि कोरोनावायरस क्यों नहीं क

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user

Dr. Manish Misra

Homeopathy Doctor

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

होम्योपैथी और क्रोना वायरस और क्वेश्चन यह कि क्रोना पर वहां पर थी सच क्यों नहीं कर रही है तो पति ने कोरोनावायरस आज अभी पूरी की है मुंबई के एक डॉक्टर ने डॉक्टर राजेश था उन्होंने क्रोना वायरस को लेकर दवा तैयार की है उसको 908 बोलते हैं वह पति में जो दवाएं किसी डिजीज प्रोडक्ट के द्वारा बनाई जाती हैं जैसे टीवी से बनाई जाती है तुम रिप्लाई न कैंसर से उसे 10 कार्सिनोसिन चिकली से सप्लाई ना उसी तरह से उन्होंने एक दवा खाते निर्माण किया है जिसका जो क्रोना वायरस से ही बनाई गई तो अभी वह ट्रायल बेसिस पर है और उसका ट्रेलर किया जा रहा है कि उसके देने से मरीजों में क्या जोड़ देते हैं जैसे वह पूर्व हो जाता है कि रिजल्ट आना शुरू हो गए हैं तो मैं फोरम में आपके क्वेश्चन आगे कोई क्वेश्चन आता है तो उस पर भी जवाब दूंगा कि हम पति ने क्रोना वायरस के लिए क्या रिसर्च किया है

homeopathy aur corona virus aur question yah ki corona par wahan par thi sach kyon nahi kar rahi hai toh pati ne coronavirus aaj abhi puri ki hai mumbai ke ek doctor ne doctor rajesh tha unhone corona virus ko lekar dawa taiyar ki hai usko 908 bolte hain vaah pati me jo davayain kisi disease product ke dwara banai jaati hain jaise TV se banai jaati hai tum reply na cancer se use 10 karsinosin chikli se supply na usi tarah se unhone ek dawa khate nirmaan kiya hai jiska jo corona virus se hi banai gayi toh abhi vaah trial basis par hai aur uska trelar kiya ja raha hai ki uske dene se marizon me kya jod dete hain jaise vaah purv ho jata hai ki result aana shuru ho gaye hain toh main forum me aapke question aage koi question aata hai toh us par bhi jawab dunga ki hum pati ne corona virus ke liye kya research kiya hai

होम्योपैथी और क्रोना वायरस और क्वेश्चन यह कि क्रोना पर वहां पर थी सच क्यों नहीं कर रही है

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  234
WhatsApp_icon
user

Prakash Jain

Homeopath

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

करुणा पर होम्योपैथिक रिसर्च क्यों नहीं कर रही है आपने क्वेश्चन बहुत ही अच्छा पूछा है मगर इंडिया में भारतवर्ष में होम्योपैथी का प्रचार-प्रसार कम है कम होने का रीजन है उसे सरकारी मान्यताएं एवं रिसर्च सेंटर बहुत कम है डॉक्टर बहुत बढ़ गए हैं मगर एक दूसरे की सामान्य होता नहीं हो पा रही है जब श्रद्धा कल एक ग्रुप में चलेंगे निश्चित रूप से किसी बात का रिसर्च आएगा वैसे इसके ऊपर अच्छे-अच्छे होम्योपैथिक डॉक्टरों ने अभी तक यह है और उसकी मेडिसिन निकाली है मगर होम्योपैथिक में लक्षण अनुसार ही दवा दी जाती है बीमारी के अनुसार नहीं जिसे बुखार आ रहा है पेरासिटामोल दे दिया है ऐसा होम्योपैथिक में नहीं होता है होम्योपैथिक ने पेशेंट की हिस्ट्री की जाती है उसकी चाय कैसी है वह किस वात्र्ण में रहना पसंद करता है क्या खाना चाहता है क्या पीना चाहता है सब बातों का पूरी फीस लेने के बाद उसको मेडिसिन से मैच किया जाता है फिर उसका होम्योपैथिक आज बहुत आगे बढ़ चुका है इसमें कोई संदेह नहीं है मगर फिर भी तक सेंटरों की कमी थैंक यू

corona par homeopathic research kyon nahi kar rahi hai aapne question bahut hi accha poocha hai magar india me bharatvarsh me homeopathy ka prachar prasaar kam hai kam hone ka reason hai use sarkari manyatae evam research center bahut kam hai doctor bahut badh gaye hain magar ek dusre ki samanya hota nahi ho paa rahi hai jab shraddha kal ek group me chalenge nishchit roop se kisi baat ka research aayega waise iske upar acche acche homeopathic doctoron ne abhi tak yah hai aur uski medicine nikali hai magar homeopathic me lakshan anusaar hi dawa di jaati hai bimari ke anusaar nahi jise bukhar aa raha hai paracetamol de diya hai aisa homeopathic me nahi hota hai homeopathic ne patient ki history ki jaati hai uski chai kaisi hai vaah kis vatrn me rehna pasand karta hai kya khana chahta hai kya peena chahta hai sab baaton ka puri fees lene ke baad usko medicine se match kiya jata hai phir uska homeopathic aaj bahut aage badh chuka hai isme koi sandeh nahi hai magar phir bhi tak sentaron ki kami thank you

करुणा पर होम्योपैथिक रिसर्च क्यों नहीं कर रही है आपने क्वेश्चन बहुत ही अच्छा पूछा है मगर

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user

Dr Vineet Kapurwan

Homeopathic Doctor At Kapurwan's Homoeopathic Clinic & SkinCare

2:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों मैं डॉक्टर विनीता पूर्वान्ह होम्योपैथिक स्टेशन आपका क्वेश्चन है कि कोरोनावायरस में प्रति रिसर्च क्यों नहीं करते तो जो आपका क्वेश्चन है इसके मैं बताऊं कि आपको जानकारी नहीं है होम्योपैथी लगातार कोरोनावायरस ऐड कर रही है इसके लिए केंद्र सरकार का एक उपक्रम होता है सीसीआरए सेंट्रल काउंसिल आफ होम्योपैथी रिसर्च जो होम्योपैथी पर किसी भी बीमारी के लिए किसी भी दवाई के लिए कुछ भी रिसर्च करने के लिए वही सिर्फ भारत सरकार से अधिकृत होता है बाकी अभी कोरोना पेशेंट का ट्रीटमेंट करने के लिए बिना आईसीएमआर की गाइडलाइन के किसी भी चिकित्सक को अधिकार नहीं है चाहे वह कोई भी चिकित्सकों वह उसका इलाज नहीं कर सकता है सिर्फ सरकारी हॉस्पिटल में या गवर्नमेंट द्वारा ऑक्साइड जितने भी हॉस्पिटल में उन्हीं को कोरोनावायरस एंड का ट्रीटमेंट करने का अधिकार है यदि हमारे पास कोई कोरोनावायरस एंड आता भी है तो हम उसका इलाज नहीं कर सकते हमें उसे रेफर करना होगा सरकारी हॉस्पिटल में जहां तक बात आती है होम्योपैथी तो होम्योपैथी लगातार इस पर रिसर्च कर रही है और होम्योपैथी ने में सीसी आरक्षण द्वारा आर्सेनिक एल्बम नामक मेडिसिन को त्रिवेंटी मेडिसिन कोरोना के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए एक जारी की है जो कि बहुत जगह खिलाई जा रही है और दूसरा लगातार सीसीआरएच इस पर अपना अनुभव शेयर कर रहा है और रिसर्च कर रहा है जैसे कोई व्यक्ति या कोई भी दवाई उसका ट्रीटमेंट के लिए उनके सिस्टम को कलेक्ट कर रहे हैं आती है तो वैसे ही सीसीआरएच उसे अब लिख कर आएगा तो ऐसा नहीं है कि वह में प्रति रिसर्च नहीं कर रही है होम्योपैथी रिसर्च कर रही है लेकिन अभी किसी भी प्राइवेट डॉक्टर को चाहे वह होम्योपैथी होम्योपैथी और आयुर्वेद ओ करो ना के पेशेंट का इलाज करने की अनुमति नहीं है यह अनुमति आईसीएमआर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च द्वारा जब तक किसी को नहीं दी जा सकती तब तक कोई इश्क कोरोनावायरस ट्रीटमेंट नहीं कर सकता है कुछ लोग दावा कर रहे हैं कि हमारे पास इलाज है हम ठीक कर देंगे वह कर देंगे यह बिल्कुल ही गलत है और इस तरीके के दम पर विश्वास नहीं किया जाना चाहिए और ऐसे करना भी कानूनी रूप से अपराध भी है सरकार द्वारा बिना निर्देशों का बिना अनुमति के आप किसी भी कोरोनावायरस एंड को इलाज नहीं कर सकते हैं जब तक सरकार से आपके पास अनुमति ना हो तो इसलिए इस तरीके के दावों पर विश्वास ना करें आयुष मंत्रालय का काम है होम्योपैथी आयुर्वेद युनानी सिद्धा से रिलेटेड जानकारियां देना जब तक आयुष मंत्रालय की कोई गाइडलाइन नहीं आती है जो आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन है उसी के अनुसार आप होम्योपैथी और आयुर्वेद को फॉलो करेंगे और बाकी आईसीएमआर की गाइडलाइन को ही फॉलो कीजिए बाकी अगर कोई दावा करता है तो वह बिल्कुल ही गलत है

namaskar doston main doctor vinita purvanh homeopathic station aapka question hai ki coronavirus me prati research kyon nahi karte toh jo aapka question hai iske main bataun ki aapko jaankari nahi hai homeopathy lagatar coronavirus aid kar rahi hai iske liye kendra sarkar ka ek upakram hota hai CCRA central council of homeopathy research jo homeopathy par kisi bhi bimari ke liye kisi bhi dawai ke liye kuch bhi research karne ke liye wahi sirf bharat sarkar se adhikrit hota hai baki abhi corona patient ka treatment karne ke liye bina ICMR ki guideline ke kisi bhi chikitsak ko adhikaar nahi hai chahen vaah koi bhi chikitsakon vaah uska ilaj nahi kar sakta hai sirf sarkari hospital me ya government dwara oxide jitne bhi hospital me unhi ko coronavirus and ka treatment karne ka adhikaar hai yadi hamare paas koi coronavirus and aata bhi hai toh hum uska ilaj nahi kar sakte hamein use Refer karna hoga sarkari hospital me jaha tak baat aati hai homeopathy toh homeopathy lagatar is par research kar rahi hai aur homeopathy ne me cc aarakshan dwara arsenic album namak medicine ko triventi medicine corona ke liye immunity badhane ke liye ek jaari ki hai jo ki bahut jagah khilai ja rahi hai aur doosra lagatar CCRH is par apna anubhav share kar raha hai aur research kar raha hai jaise koi vyakti ya koi bhi dawai uska treatment ke liye unke system ko collect kar rahe hain aati hai toh waise hi CCRH use ab likh kar aayega toh aisa nahi hai ki vaah me prati research nahi kar rahi hai homeopathy research kar rahi hai lekin abhi kisi bhi private doctor ko chahen vaah homeopathy homeopathy aur ayurveda O karo na ke patient ka ilaj karne ki anumati nahi hai yah anumati ICMR indian council of medical research dwara jab tak kisi ko nahi di ja sakti tab tak koi ishq coronavirus treatment nahi kar sakta hai kuch log daawa kar rahe hain ki hamare paas ilaj hai hum theek kar denge vaah kar denge yah bilkul hi galat hai aur is tarike ke dum par vishwas nahi kiya jana chahiye aur aise karna bhi kanooni roop se apradh bhi hai sarkar dwara bina nirdeshon ka bina anumati ke aap kisi bhi coronavirus and ko ilaj nahi kar sakte hain jab tak sarkar se aapke paas anumati na ho toh isliye is tarike ke davon par vishwas na kare ayush mantralay ka kaam hai homeopathy ayurveda yunani siddha se related jankariyan dena jab tak ayush mantralay ki koi guideline nahi aati hai jo ayush mantralay ki guideline hai usi ke anusaar aap homeopathy aur ayurveda ko follow karenge aur baki ICMR ki guideline ko hi follow kijiye baki agar koi daawa karta hai toh vaah bilkul hi galat hai

नमस्कार दोस्तों मैं डॉक्टर विनीता पूर्वान्ह होम्योपैथिक स्टेशन आपका क्वेश्चन है कि कोरोनाव

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

Dr Chaman Rawat

Homeopathy Doctor

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए करो ना पर हो बैठी रिचार्ज करेंगे ऑफिस में कोई शक नहीं है एंड एजुकेट रोना यह महामारी अपने देश में पहली बार आई है इसलिए इसके बारे में अभी और पति की कौन सी दवा है बेहतर काम करेंगे यह क्या पाना भी मुश्किल है लेकिन कई किताबों के अकॉर्डिंग 11238 है तो भारत की पेंटिंग के लिए मेडिसिन हमारे किताब में है जैसे कि आप मंसूरगंज अंबानी अगर एक दोस्त ले ले तो बहुत हद तक हो सकता है कि करो ना अब से आसानी से आपके अंदर ना प्रवेश करवाएं और प्रवेश करता है तो उसके सिंपल इतनी बाय लैंड नहीं रहेंगे जितने किसी आम इंसान में रहेंगे जिसने कैंसिल अंजना लिया हूं यह दवा का नाम ले सकते हैं रिपोर्ट में है ले सकते हैं वहां पर थी अगर किसी को अगर किसी को रोना पड़े हो गया है तो फिर एक बार एलडीसी से उस कंडीशन में सिंप्टोमेटिक इलाज ही दिया जाएगा कि भारत का इंटरम लगा लगा 8 से 10 दिन बहुत ज्यादा तेज रहता है शुरू में 5 दिन में बारिश का पता नहीं चलता लेकिन 5 दिन के बीच में बहुत सफर करते हैं बहुत ज्यादा प्रॉब्लम से जेसीबी सर्दी जुखाम बुखार कैसे करुणा वेरिफिकेशन में फेफड़े में इन्फेक्शन हो जाते हैं ऐसे में सूजन हो जाती है सूजन श्री कृष्ण निकलता है इससे गले की नली में सूजन हो जाती है जैसे सांस लेने में दिक्कत होती है तो उस कंडीशन में हम भी एक अच्छा विकल्प है जो कि को ना वैसे केस में यह वायरल डिसीसिस में कुछ अलका चीज की जरूरत पड़ेगी जैसे ब्रांडेड लेटेस्ट ब्रा हुए और इन चीजों के साथ

dekhiye karo na par ho baithi recharge karenge office me koi shak nahi hai and educate rona yah mahamari apne desh me pehli baar I hai isliye iske bare me abhi aur pati ki kaun si dawa hai behtar kaam karenge yah kya paana bhi mushkil hai lekin kai kitabon ke according 11238 hai toh bharat ki painting ke liye medicine hamare kitab me hai jaise ki aap mansuraganj ambani agar ek dost le le toh bahut had tak ho sakta hai ki karo na ab se aasani se aapke andar na pravesh karvaaein aur pravesh karta hai toh uske simple itni bye land nahi rahenge jitne kisi aam insaan me rahenge jisne cancel anjana liya hoon yah dawa ka naam le sakte hain report me hai le sakte hain wahan par thi agar kisi ko agar kisi ko rona pade ho gaya hai toh phir ek baar el dee see se us condition me simptometik ilaj hi diya jaega ki bharat ka intaram laga laga 8 se 10 din bahut zyada tez rehta hai shuru me 5 din me barish ka pata nahi chalta lekin 5 din ke beech me bahut safar karte hain bahut zyada problem se JCB sardi jukham bukhar kaise corona verification me fefade me infection ho jaate hain aise me sujan ho jaati hai sujan shri krishna nikalta hai isse gale ki nali me sujan ho jaati hai jaise saans lene me dikkat hoti hai toh us condition me hum bhi ek accha vikalp hai jo ki ko na waise case me yah viral disisis me kuch alka cheez ki zarurat padegi jaise branded latest bra hue aur in chijon ke saath

देखिए करो ना पर हो बैठी रिचार्ज करेंगे ऑफिस में कोई शक नहीं है एंड एजुकेट रोना यह महामारी

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  87
WhatsApp_icon
user

Dr.Adesh Kumar Goel

Ayurvedic Doctor

0:20
Play

Likes  4  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
user
4:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मित्र आपके प्रश्नों से जान पड़ता है कि आपने पहले सही मान लिया है कि होम्योपैथ काफी पिछड़ा हुआ है 12:00 तक आपका सोचना है कि रिसर्च क्यों नहीं कर रहे तो रिसर्च करने यकीन पूरी दुनिया में पहली बार नई बीमारी के रूप में सामने आई है बहुत सारे लोग को जानता ही नहीं हो 411 का तो जान रहे थे कि वह निमोनिया लाइसेंस का उसी तरह से इसका भी थोड़ा सा डेंजरस ज्यादा है जहां तक होने की बीमारी के लक्षणों को कम करता है कि इस बीमारी ने कितने लक्षण सामने आए और किस प्रकार के लक्षण है और यदि उन लक्षणों का चरित्र चित्रण किसी दवा से मिलता है तो वह सीधे-सीधे बिना किसी रिसर्च के या बिना किसी उसके वह दवा चला देगा उस दवा से आराम भी मिलता है और रही बात रिसर्च की तो यह दवा क्वालिटी हुए पैसे है ही बी आयुष मंत्रालय स्वास्थ्य विभाग ने इस बात का एक सर्कुलर जारी किया की होम्योपैथी दवा सभी सरकारी शाखाओं में जैसे ऑफिसों में इस दवा को पहुंचाया जाए तो उस दवा का नाम है और सैनिक एल्बम 30 और इनफ्लूएंजिनम 200 यह दो दवा ऐसी दवाएं हैं जो कि वायरल इन्फेक्शन को रोकने में इस शरीर का मदद करती है सहयोग करती गाने मतलब आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को यह दोनों दवा अवश्य ही बढ़ा देंगे तो शरीर उसको आसानी से निपट लेगा लड़ लेगा उसे मुकाबला कर सकता है फरीदाबाद सरकारी विभागों में हमने भी इसे कप्तान साहब कहां सप्लाई किया सीओ साहब ऐसो साहब सभी लोग आए ले गए दवा मांग मांग कर हमको दीजिए हमको अपने ऑफिस में खिलाना है तो भाई कहीं कहीं इस बात का भरोसा है ना कि खाएंगे जिसे चेचन्या महारानी निकलती है तो सीजन शुरू होने से पहले लोग एक एक खुराक सबको वैरेविनम 1000 पावर की एक एक खुराक सबको मरीजों को पूरे परिवार में जो मरीज नहीं है स्वस्थ आदमियों को भी दिया जाता है सिर्फ इस सोच के साथ कि यदि यह दवा खाए हैं तो चेचक हमारे परिवार में नहीं होगा यह हमारे फैमिली मेंबर्स को नहीं हो सकता सीजन शुरू होने से पहले ज्यादातर लोग ले लेते हैं एक मेडिसिन के रूप में तो उसी तर्ज पर कोरोनावायरस से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए शरीर में इंदौर दवाओं का प्रयोग बड़ी तेजी से किया गया तो आपकी जानकारी के लिए जानना अच्छा है कि दोबारा विचार करने की आवश्यकता नहीं हालांकि आज मंत्रालय में सभी विभाग के विशेषज्ञों को चुने हुए विशेषज्ञों को बुलाया गया है उनकी राय ली गई है आयुर्वेद के डॉक्टरों की अलग सा कारण कर रही है होम्योपैथी अलग कर रही एलोपैथिक वैज्ञानिक क्योंकि अपने स्तर पर इस बात को प्रमाणित करने कोशिश कर रहे हैं कि इस बीमारी पर हमारी यह वाला दवा काम करेगी सरकार का काम है कि किसको देता है सरकार तो फिर खिला लो वैसे भी पक्षपात करती ही रही है विभाग को रिसर्च के नाम पर बहुत कम धन मुहैया कराती है जबकि वहीं एलोपैथी वालों को जबरदस्त रिसर्च के नाम पर खर्च करती है सुविधा ज्यादा तो संसाधनों की कमी भी कहीं न कहीं आड़े आता है बहुत सारी मुश्किलों के बाद भी ओवैस अपना वजूद बनाए रखा पूरी दुनिया में यह अपने आप में एक महत्वपूर्ण बात है विचार अवश्य करिएगा मिस्टर धन्यवाद

namaskar mitra aapke prashnon se jaan padta hai ki aapne pehle sahi maan liya hai ki homeopath kaafi pichda hua hai 12 00 tak aapka sochna hai ki research kyon nahi kar rahe toh research karne yakin puri duniya me pehli baar nayi bimari ke roop me saamne I hai bahut saare log ko jaanta hi nahi ho 411 ka toh jaan rahe the ki vaah pneumonia license ka usi tarah se iska bhi thoda sa dangerous zyada hai jaha tak hone ki bimari ke lakshano ko kam karta hai ki is bimari ne kitne lakshan saamne aaye aur kis prakar ke lakshan hai aur yadi un lakshano ka charitra chitran kisi dawa se milta hai toh vaah sidhe sidhe bina kisi research ke ya bina kisi uske vaah dawa chala dega us dawa se aaram bhi milta hai aur rahi baat research ki toh yah dawa quality hue paise hai hi be ayush mantralay swasthya vibhag ne is baat ka ek circular jaari kiya ki homeopathy dawa sabhi sarkari shakhaon me jaise afison me is dawa ko pahunchaya jaaye toh us dawa ka naam hai aur sainik album 30 aur inafluenjinam 200 yah do dawa aisi davayain hain jo ki viral infection ko rokne me is sharir ka madad karti hai sahyog karti gaane matlab aapke sharir ki pratirodhak kshamta ko yah dono dawa avashya hi badha denge toh sharir usko aasani se nipat lega lad lega use muqabla kar sakta hai faridabad sarkari vibhagon me humne bhi ise captain saheb kaha supply kiya CO saheb aiso saheb sabhi log aaye le gaye dawa maang maang kar hamko dijiye hamko apne office me khilana hai toh bhai kahin kahin is baat ka bharosa hai na ki khayenge jise chechanya maharani nikalti hai toh season shuru hone se pehle log ek ek khurak sabko vairevinam 1000 power ki ek ek khurak sabko marizon ko poore parivar me jo marij nahi hai swasth adamiyo ko bhi diya jata hai sirf is soch ke saath ki yadi yah dawa khaye hain toh chechak hamare parivar me nahi hoga yah hamare family members ko nahi ho sakta season shuru hone se pehle jyadatar log le lete hain ek medicine ke roop me toh usi tarj par coronavirus se pratirodhak kshamta badhane ke liye sharir me indore dawaon ka prayog badi teji se kiya gaya toh aapki jaankari ke liye janana accha hai ki dobara vichar karne ki avashyakta nahi halaki aaj mantralay me sabhi vibhag ke vishesagyon ko chune hue vishesagyon ko bulaya gaya hai unki rai li gayi hai ayurveda ke doctoron ki alag sa karan kar rahi hai homeopathy alag kar rahi allopathic vaigyanik kyonki apne sthar par is baat ko pramanit karne koshish kar rahe hain ki is bimari par hamari yah vala dawa kaam karegi sarkar ka kaam hai ki kisko deta hai sarkar toh phir khila lo waise bhi pakshapat karti hi rahi hai vibhag ko research ke naam par bahut kam dhan muhaiya karati hai jabki wahi allopathy walon ko jabardast research ke naam par kharch karti hai suvidha zyada toh sansadhano ki kami bhi kahin na kahin ade aata hai bahut saari mushkilon ke baad bhi ovais apna wajood banaye rakha puri duniya me yah apne aap me ek mahatvapurna baat hai vichar avashya kariega mister dhanyavad

नमस्कार मित्र आपके प्रश्नों से जान पड़ता है कि आपने पहले सही मान लिया है कि होम्योपैथ काफी

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

Dr.Murli Manohar

Ayurvedic Doctor

2:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रचना की कोरोनावायरस एक विश्वास क्यों नहीं कर रही लिखिए आप को समझना होगा पहले भी होम्योपैथ क्या है उसके बाद जो संस्कृत लोग बात करेंगे तो होम्योपैथ का जवाब अध्ययन करोगे तो यहां पर लक्षण के आधार पर चिंता होती है यानी कोई भी सिंगल एक किसी खास बीमारी को ठीक करने के लिए होम्योपैथिक प्रयोग ही नहीं दूसरा होम्योपैथी पद्धति में किसी भी व्याधि का नाम उसमें बिलकुल भी ट्रीटमेंट में बात तो नहीं लगता है उदाहरण के तौर पर आपके पास नितिन डेंगू के पेशेंट आते हैं तो तीनों में होंगे पैथी अलग-अलग मिलेगी क्योंकि के बॉडी कॉन्स्टिट्यूशन और साथ में डिजीज के सिम्टम्स के अकॉर्डिंग मेडिसिंस की संरक्षण की जाती है बुखार चला था बिहार में तो ऐसे कंडीशन में हायो समोसा भी बहुत सारी मेडिसिंस वापस हो रहा है इसको और आस्ट्रेलिया ने की नाम लिस्ट रेडियन है खाने की इच्छा में क्या हो रहा है लंबाई कैसा है गोरा है मोटा है मानसिक में कैसा है काम क्रोध लोभ मोह है इसका क्या रिस्पांस है यह बीमारी का लक्षण हो सकता नहीं है इसमें हां यह जरूर है कि यदि होम्योपैथी डॉक्टर्स को एक केस दिए जाएं तो यह अक्षर गलत है पर दुर्भाग्य यह है भारत में कि होम्योपैथ के पास या आयुष के पास को रोना को बैटिंग के केसेस को ट्रीट करने का मौका ही अवेलेबल नहीं किया गया वैसे आपको एक गुड न्यूज़ में दूध की आयुष मंत्रालय के द्वारा पॉजिटिव मनुष्यों के जो ऐसे मरीजों को रोना कॉल देती है उसके संपर्क में आए हुए 5000 से ज्यादा मरीज आयुर्वेद के द्वारा उनको क्वॉरेंटाइन करके ट्रीटमेंट और होम्योपैथ के द्वारा 16 मरीजों पर ट्रायल किया गया यानी कि ऐसा पुरुष जो कि पॉजिटिव किसी पेशेंट के संक्रमण में आ गया है लेकिन पूर्णा पूर्णा ऐसे में जब ट्रीटमेंट उसका दिया गया होम्योपैथ के द्वारा तो कब का 14 दिन का जो करंट टाइम पीरियड खत्म होने के बाद सारे के सारे नेगेटिव आए हैं तो इस तरह से इस बात को ध्यान रखना होगा ठीक है

rachna ki coronavirus ek vishwas kyon nahi kar rahi likhiye aap ko samajhna hoga pehle bhi homeopath kya hai uske baad jo sanskrit log baat karenge toh homeopath ka jawab adhyayan karoge toh yahan par lakshan ke aadhar par chinta hoti hai yani koi bhi singles ek kisi khas bimari ko theek karne ke liye homeopathic prayog hi nahi doosra homeopathy paddhatee me kisi bhi vyadhi ka naam usme bilkul bhi treatment me baat toh nahi lagta hai udaharan ke taur par aapke paas nitin dengue ke patient aate hain toh tatvo me honge paithi alag alag milegi kyonki ke body Constitution aur saath me disease ke Symptoms ke according medisins ki sanrakshan ki jaati hai bukhar chala tha bihar me toh aise condition me hayo samosa bhi bahut saari medisins wapas ho raha hai isko aur Australia ne ki naam list radion hai khane ki iccha me kya ho raha hai lambai kaisa hai gora hai mota hai mansik me kaisa hai kaam krodh lobh moh hai iska kya response hai yah bimari ka lakshan ho sakta nahi hai isme haan yah zaroor hai ki yadi homeopathy doctors ko ek case diye jayen toh yah akshar galat hai par durbhagya yah hai bharat me ki homeopath ke paas ya ayush ke paas ko rona ko batting ke cases ko treat karne ka mauka hi available nahi kiya gaya waise aapko ek good news me doodh ki ayush mantralay ke dwara positive manushyo ke jo aise marizon ko rona call deti hai uske sampark me aaye hue 5000 se zyada marij ayurveda ke dwara unko kwarentain karke treatment aur homeopath ke dwara 16 marizon par trial kiya gaya yani ki aisa purush jo ki positive kisi patient ke sankraman me aa gaya hai lekin poorna poorna aise me jab treatment uska diya gaya homeopath ke dwara toh kab ka 14 din ka jo current time period khatam hone ke baad saare ke saare Negative aaye hain toh is tarah se is baat ko dhyan rakhna hoga theek hai

रचना की कोरोनावायरस एक विश्वास क्यों नहीं कर रही लिखिए आप को समझना होगा पहले भी होम्योपैथ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon
user

Dr HIMANI

Homeopathic Physician

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

होम्योपैथी जो सिस्टम है यह बहुत पुराना एंड सिस्टम है मेडिसिंस था जो कि आयुष के अंदर आता है तो यह नेचुरल ट्रीटमेंट है इस बीमारी को ठीक करने का होम्योपैथिक की आखिरी और कौन से पांच लोगों में हुई है कि वह डिजीज के लिए लोग मेडिसिंस बोलते हैं लेकिन होम्योपैथी में क्या है कि जो भी हो सकते हैं जहां पर सिंह के रिकॉर्ड से वह भी आते हैं मेडिसिन को देने से ऑडिट है इनको अप्लाई करते हैं तो हम यह नहीं देखते कि पेशेंट को का नाम क्या है हम यह देखते स्पेशल क्या है चाहे वह कोई और मिली और लाइलाज बीमारी हो तो होम्योपैथी हमेशा तुमको देखे ही दी जाती है क्योंकि हर एक पेशेंट कम है वह दूसरे से अलग होता है आपको आपको हेडेक हो आपको बदन दर्द बुखार हो लेकिन आपको चलने से आराम मिलने या दूसरा पेशेंट है उसको भी यही सकता हूं लेकिन उसको बैठने से आराम मिले इस तरह से हम और जुकाम मेडिसिन सेंसुअली आपके घर में अपर स्टेट के फॉर्म में होम्योपैथी की होनी चाहिए जो कि कोई भी ब्लू में या नॉर्मल इनफेक्शंस में भी आप यूज कर सकते हैं उसमें जैसे एकोनाइट है गुड नाईट करती रस तक 30 ग्राम या है चलती नियम है आठ सैनिक है नक्स वॉमिका है ही पर सल्फर सल्फर है तो यह मर जाती है इनफेक्शन मेडिसिन मेडिटेशन

homeopathy jo system hai yah bahut purana and system hai medisins tha jo ki ayush ke andar aata hai toh yah natural treatment hai is bimari ko theek karne ka homeopathic ki aakhiri aur kaun se paanch logo me hui hai ki vaah disease ke liye log medisins bolte hain lekin homeopathy me kya hai ki jo bhi ho sakte hain jaha par Singh ke record se vaah bhi aate hain medicine ko dene se audit hai inko apply karte hain toh hum yah nahi dekhte ki patient ko ka naam kya hai hum yah dekhte special kya hai chahen vaah koi aur mili aur laailaaj bimari ho toh homeopathy hamesha tumko dekhe hi di jaati hai kyonki har ek patient kam hai vaah dusre se alag hota hai aapko aapko headache ho aapko badan dard bukhar ho lekin aapko chalne se aaram milne ya doosra patient hai usko bhi yahi sakta hoon lekin usko baithne se aaram mile is tarah se hum aur zukam medicine sensuali aapke ghar me upper state ke form me homeopathy ki honi chahiye jo ki koi bhi blue me ya normal inafekshans me bhi aap use kar sakte hain usme jaise ekonait hai good night karti ras tak 30 gram ya hai chalti niyam hai aath sainik hai naks vamika hai hi par sulphur sulphur hai toh yah mar jaati hai inafekshan medicine meditation

होम्योपैथी जो सिस्टम है यह बहुत पुराना एंड सिस्टम है मेडिसिंस था जो कि आयुष के अंदर आता है

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Dr Vikas Srivastava

Homeopathy Doctor

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

करुणा का रिसर्च होम्योपैथिक में हो रहा है और हो चुका है होम्योपैथिक महीने सिस्टम को ठीक करके ही कोई वीडियो को ठीक किया जाता है तो कोई भी सिस्टम कोई भी सिम्टम्स का पेशेंट आता है तो उसे पहले ही बढ़ाया जाता है

corona ka research homeopathic me ho raha hai aur ho chuka hai homeopathic mahine system ko theek karke hi koi video ko theek kiya jata hai toh koi bhi system koi bhi Symptoms ka patient aata hai toh use pehle hi badhaya jata hai

करुणा का रिसर्च होम्योपैथिक में हो रहा है और हो चुका है होम्योपैथिक महीने सिस्टम को ठीक कर

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
user

Dr Ashutosh Mishra

SR. CONSULTANT PHYSICIAN

3:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं डॉक्टर आशुतोष मिश्र कानपुर से कुर्ला कुर्ला है क्या लक्षण क्या है इससे सर्दी जुखाम बदन दर्द और चेस्ट का पूरा इन्फेक्शन होने के कारण होता है जिसमें की दो प्रकार की देश का है और मछली को भी बहुत कम होती है क्योंकि भाई रस्टोक एलियम सीपा मिथिया और भी बहुत अंशकालीन 20:22 मिनट पर ऐसे हैं जो कि इस सिम सिम और लक्षणों के आधार पर लक्षणों के आधार पर यह दिया जा सकता है इसलिए अगर इस बात पर रखा जाएगा उस बात को और सुखी कुछ लोग अपना विस्तार कर लेते हैं में समय लग रहा है लेकिन अब तेरी फिल्मी जमीन और उसका हाई कमीशन ब्लॉक किया है मैं नहीं बोलूंगा अगर विस्तार हुआ है कैसे हुआ है वह दुनिया जान रही है लेकिन हमारे सीनियर लोग अगर आगे आते हैं तो बोलो बंद करके बैठे हुए हैं उसके बारे में कोई आपको नहीं मिल रहा है क्या करें

namaskar main doctor ashutosh mishra kanpur se kurla kurla hai kya lakshan kya hai isse sardi jukham badan dard aur chest ka pura infection hone ke karan hota hai jisme ki do prakar ki desh ka hai aur machli ko bhi bahut kam hoti hai kyonki bhai rastok eliyam sipa mithiya aur bhi bahut anshkalin 20 22 minute par aise hain jo ki is sim sim aur lakshano ke aadhar par lakshano ke aadhar par yah diya ja sakta hai isliye agar is baat par rakha jaega us baat ko aur sukhi kuch log apna vistaar kar lete hain me samay lag raha hai lekin ab teri filmy jameen aur uska high commision block kiya hai main nahi boloonga agar vistaar hua hai kaise hua hai vaah duniya jaan rahi hai lekin hamare senior log agar aage aate hain toh bolo band karke baithe hue hain uske bare me koi aapko nahi mil raha hai kya kare

नमस्कार मैं डॉक्टर आशुतोष मिश्र कानपुर से कुर्ला कुर्ला है क्या लक्षण क्या है इससे सर्दी ज

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
user

Dr Pavan Nagar

Homeopathy Doctor

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोरोनावायरस व्यापक महामारी क्योंकि पूरे विश्व में व्याप्त है डॉक्टर से लेकर साइंटिस्ट ऑफिस से परेशान है ऐसा नहीं है कि मैं बैठी में शक नहीं चल रहे बड़े-बड़े डॉक्टर चिकित्सा पद्धति में बहुत संभावनाएं रहती है जिसमें हम पेशेंट के सिम्टम्स के हिसाब से उसको ट्रीटमेंट देते हैं कई राज्यों में उसे रखा गया जिसमें हर गति दवाइयों से ही कोरोना का इलाज हो पाएगा धन्यवाद

coronavirus vyapak mahamari kyonki poore vishwa me vyapt hai doctor se lekar scientist office se pareshan hai aisa nahi hai ki main baithi me shak nahi chal rahe bade bade doctor chikitsa paddhatee me bahut sambhavnayen rehti hai jisme hum patient ke Symptoms ke hisab se usko treatment dete hain kai rajyo me use rakha gaya jisme har gati dawaiyo se hi corona ka ilaj ho payega dhanyavad

कोरोनावायरस व्यापक महामारी क्योंकि पूरे विश्व में व्याप्त है डॉक्टर से लेकर साइंटिस्ट ऑफिस

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

Omkar Singh

Homeopathy Doctor

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोरोनावायरस मेडिकल शुरू हो गई है जो कि आगरा के एक मुकदमे में कॉलेज में शुरू हुई है वैसे इसके लिए काफी समय पहले से ही दी जा रही है जोगिया फिल्मों की धूम शुरू करें उसके लिए आप अपने नजदीकी हूं पैथिक डॉक्टर से संपर्क करें तो ज्यादा बेहतर वैसे गवर्नमेंट ने आयुष गवर्नमेंट के आयुष मंत्रालय के द्वारा एक एडवाइजरी जारी की गई है जिसके अंतर्गत आर्सेनिक एल्बम 30 पोटेंसी में आपको सुबह खाली पेट 3 दिन लेने की सलाह दी गई है जिसकी रूप बसंत बढ़ जाएगी और यह आप को पूर्ण करने में काफी मदद करेगी

coronavirus medical shuru ho gayi hai jo ki agra ke ek mukadme me college me shuru hui hai waise iske liye kaafi samay pehle se hi di ja rahi hai jogiya filmo ki dhoom shuru kare uske liye aap apne najdiki hoon paithik doctor se sampark kare toh zyada behtar waise government ne ayush government ke ayush mantralay ke dwara ek advisory jaari ki gayi hai jiske antargat arsenic album 30 potensi me aapko subah khaali pet 3 din lene ki salah di gayi hai jiski roop basant badh jayegi aur yah aap ko purn karne me kaafi madad karegi

कोरोनावायरस मेडिकल शुरू हो गई है जो कि आगरा के एक मुकदमे में कॉलेज में शुरू हुई है वैसे इस

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
user

Dr. Anil Kumar Sharma

Homeopathy Doctor

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

करुणा पर हूं पैथिक सर्च कर रही है अभी तक इसके लिए गवर्नमेंट की तरफ से परमिशन नहीं मिली थी कि किसी पेशेंट के सर्च कीजिए आगरा में है नेमिनाथ होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज असर देखा जा रहा है अभी दो ही दिन में 7 दिन में काफी कुछ निकल आएगी और लोक विश्वास है देखो 351 रोना का इलाज अवश्य निकलेगा और भूपति में ही इसका परमानेंट ट्रीटमेंट होगा और भी इस तरह की कई देशों में हुआ था

corona par hoon paithik search kar rahi hai abhi tak iske liye government ki taraf se permission nahi mili thi ki kisi patient ke search kijiye agra me hai neminath homeopathic medical college asar dekha ja raha hai abhi do hi din me 7 din me kaafi kuch nikal aayegi aur lok vishwas hai dekho 351 rona ka ilaj avashya niklega aur bhoopati me hi iska permanent treatment hoga aur bhi is tarah ki kai deshon me hua tha

करुणा पर हूं पैथिक सर्च कर रही है अभी तक इसके लिए गवर्नमेंट की तरफ से परमिशन नहीं मिली थी

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user

Dr Varun Pratap Singh

Homeopathy Doctor

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत सारे चिकित्सक अपने स्तर पर कोरोनावायरस सर्च कर रहे हैं सरकार द्वारा बहुत ज्यादा प्रोत्साहन होम्योपैथिक चिकित्सा वह नहीं मिल पा रहा है जिसकी कि हम लोग अपेक्षा करते हैं इस वजह से भी इसमें थोड़ा सा विलंब हो रहा है

bahut saare chikitsak apne sthar par coronavirus search kar rahe hain sarkar dwara bahut zyada protsahan homeopathic chikitsa vaah nahi mil paa raha hai jiski ki hum log apeksha karte hain is wajah se bhi isme thoda sa vilamb ho raha hai

बहुत सारे चिकित्सक अपने स्तर पर कोरोनावायरस सर्च कर रहे हैं सरकार द्वारा बहुत ज्यादा प्र

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user
0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

करुणा पर होम्योपैथिक रिसर्च चल रही है और रिसर्च बहुत आगे तक जा चुकी है बहुत सारे पेशेंट जो है आगरा के नेमिनाथ कॉलेज में और दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू कॉलेज में भर्ती थे वह सब के सब रिकवर होकर अपने घर जा चुके हैं और इसका रिकवरी डेट भी बहुत तेजी से आया है आप चिंता ना करिए होम्योपैथी की सबसे पहले विकल्प लेकर आया कोरोनावायरस रोना होम्योपैथिक से पूरी तरह ठीक हो सकता है धन्यवाद

corona par homeopathic research chal rahi hai aur research bahut aage tak ja chuki hai bahut saare patient jo hai agra ke neminath college me aur delhi ke jawaharlal nehru college me bharti the vaah sab ke sab recover hokar apne ghar ja chuke hain aur iska recovery date bhi bahut teji se aaya hai aap chinta na kariye homeopathy ki sabse pehle vikalp lekar aaya coronavirus rona homeopathic se puri tarah theek ho sakta hai dhanyavad

करुणा पर होम्योपैथिक रिसर्च चल रही है और रिसर्च बहुत आगे तक जा चुकी है बहुत सारे पेशेंट जो

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  1169
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!