संविधान का अंत कब हुआ?...


play
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

1:32

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है संविधान का अंत कब हुआ यह संविधान का तो अभी तक कोई अंत नहीं हुआ पर हमारे देश में अधिकांश लोग व्यक्तिगत लाभ से संचालित हैं कि जब भी उनके लाभ तक कोई प्रश्न नहीं होता या दुश्मन का नुकसान होता है उसी में उन्हें दिखाई देने लगता कि संविधान की हत्या हो गई सुप्रीम कोर्ट कैदी की जोरदार ऐसा आता है जिससे किसी दूसरे को लाभ हो रहा है तो 1 वर्ग चिल्लाने लगता है उसे लगता है संविधान की हत्या हो गई क्योंकि वह जानता है कि यह सच्चाई है लेकिन सिर्फ और सिर्फ अपने अनुयायियों को अपने साथ रखने के लिए अपना विश्वास बताने के लिए विपक्ष चिल्लाता है और वह कहता संविधान की हत्या हो गई जबकि ऐसा कहीं कुछ नहीं है तो यह हर प्रकार से होता है अधिक हमेशा ही आप देखें खाता के कुछ लोग ऐसे हो गए हैं कि यदि कोर्ट सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी इनके खिलाफ हो तो भी उन्हें संविधान के दिखाई देती है कि कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता वह हर चीज स्वीकार करते हैं लेकिन एक बार ऐसा बन गया हमारे देश में जो भी हर चीज के खिलाफ संविधान संविधान की दुहाई देता पड़ता है जबकि हमारे देश का संविधान करना कमजोर नहीं है कैसे कोई तोड़ सके वह मजबूत है और मजबूत हो रहा है समय के हिसाब से संविधान की कभी कोई अंत नहीं हुआ संविधान ऐसी चीज नहीं है जिसका कोई अंत हो सके यह सिर्फ और सिर्फ लोग मूर्ख बना रहे हैं गुमराह कर रहे हैं यदि कोई ऐसा कहता है तो व्यक्तिगत राजनीति के लिए व्यक्तिगत हित और लाभ के हिसाब से कोई व्यक्ति इसकी व्याख्या कर रहा है पर ऐसा खेल है

aapka prashna hai samvidhan ka ant kab hua yah samvidhan ka toh abhi tak koi ant nahi hua par hamare desh me adhikaansh log vyaktigat labh se sanchalit hain ki jab bhi unke labh tak koi prashna nahi hota ya dushman ka nuksan hota hai usi me unhe dikhai dene lagta ki samvidhan ki hatya ho gayi supreme court kaidi ki jordaar aisa aata hai jisse kisi dusre ko labh ho raha hai toh 1 varg chillane lagta hai use lagta hai samvidhan ki hatya ho gayi kyonki vaah jaanta hai ki yah sacchai hai lekin sirf aur sirf apne anuyayiyon ko apne saath rakhne ke liye apna vishwas batane ke liye vipaksh chillaata hai aur vaah kahata samvidhan ki hatya ho gayi jabki aisa kahin kuch nahi hai toh yah har prakar se hota hai adhik hamesha hi aap dekhen khaata ke kuch log aise ho gaye hain ki yadi court supreme court ka faisla bhi inke khilaf ho toh bhi unhe samvidhan ke dikhai deti hai ki kuch log aise hain jinhen koi fark nahi padta vaah har cheez sweekar karte hain lekin ek baar aisa ban gaya hamare desh me jo bhi har cheez ke khilaf samvidhan samvidhan ki duhaai deta padta hai jabki hamare desh ka samvidhan karna kamjor nahi hai kaise koi tod sake vaah majboot hai aur majboot ho raha hai samay ke hisab se samvidhan ki kabhi koi ant nahi hua samvidhan aisi cheez nahi hai jiska koi ant ho sake yah sirf aur sirf log murkh bana rahe hain gumrah kar rahe hain yadi koi aisa kahata hai toh vyaktigat raajneeti ke liye vyaktigat hit aur labh ke hisab se koi vyakti iski vyakhya kar raha hai par aisa khel hai

आपका प्रश्न है संविधान का अंत कब हुआ यह संविधान का तो अभी तक कोई अंत नहीं हुआ पर हमारे देश

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  1978
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!