भारतीय संविधान में किसी भी जाती का आरक्षण सिर्फ 10 साल के लिए था तो ऊसे खत्म करने के बजाए ऊसे क्यों बढाया?...


user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां आप बिल्कुल सही कह रहे हैं और किसी भी और जाति के लिए भारतीय संविधान में जो आरक्षण की अवधि थी वह 10 साल के लिए ही थी और उसके बाद उसे खत्म करने के लिए कहा गया था लेकिन देखिए और यह चीज में डिटेल नहीं लिखी गई है तो इस वजह से कोई इसको लागू नहीं कर पाया क्योंकि आप अंबेडकर जी ने संविधान में आरक्षण बना डाला था तो उन्होंने यह बात कही थी कि वह 10 साल के लिए जरूरी है उसके बाद उसको हटा देना चाहिए लेकिन कहीं भी यह चीज लिखित में नहीं थी इस वजह से कोई भी आरक्षण की बात को विरोध नहीं कर सकता कोई भी यह नहीं कह सकता कि 10 साल में से क्यों नहीं हटाया उसके बाद देखिए उसके बाद सिर कि मुझे लगता है कहीं ना कहीं और जितनी पोलिटिकल पार्टीज है उन्होंने आरक्षण की वजह से लोगों को जातियों में विभाजित कर दिया और उनको अपना वोट बैंक बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करने लगे और इसमें जैसे आरक्षण को एक तरह से उन्होंने एक धोखा देने वाला एक तरीका अपना लिया कि वह आरक्षण देंगे हम आपको तो आप हमें वोट दीजिए तो इस वजह से कई सारी पोलिटिकल पार्टीज आरक्षण को अपना एक कमरिया आने लगी वोट लेने का लोगों से और लोगों में अपना वोट बैंक बढ़ाने का तो इस वजह से उसको नहीं हटाया गया और उसको अभी तक बढ़ावा दिया जा रहा है

ji haan aap bilkul sahi keh rahe hain aur kisi bhi aur jati ke liye bharatiya samvidhan mein jo aarakshan ki awadhi thi vaah 10 saal ke liye hi thi aur uske baad use khatam karne ke liye kaha gaya tha lekin dekhiye aur yah cheez mein detail nahi likhi gayi hai toh is wajah se koi isko laagu nahi kar paya kyonki aap ambedkar ji ne samvidhan mein aarakshan bana dala tha toh unhone yah baat kahi thi ki vaah 10 saal ke liye zaroori hai uske baad usko hata dena chahiye lekin kahin bhi yah cheez likhit mein nahi thi is wajah se koi bhi aarakshan ki baat ko virodh nahi kar sakta koi bhi yah nahi keh sakta ki 10 saal mein se kyon nahi hataya uske baad dekhiye uske baad sir ki mujhe lagta hai kahin na kahin aur jitni political parties hai unhone aarakshan ki wajah se logo ko jaatiyo mein vibhajit kar diya aur unko apna vote bank badhane ke liye istemal karne lage aur isme jaise aarakshan ko ek tarah se unhone ek dhokha dene vala ek tarika apna liya ki vaah aarakshan denge hum aapko toh aap hamein vote dijiye toh is wajah se kai saree political parties aarakshan ko apna ek kamriya aane lagi vote lene ka logo se aur logo mein apna vote bank badhane ka toh is wajah se usko nahi hataya gaya aur usko abhi tak badhawa diya ja raha hai

जी हां आप बिल्कुल सही कह रहे हैं और किसी भी और जाति के लिए भारतीय संविधान में जो आरक्षण की

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  118
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!