मनुष्य को समाज की आवश्यकता क्यों होती है?...


user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम राम जी की आपका समाज की आवश्यकता क्यों होती है तो मनुष्य को समाज की आवश्यकता है इसलिए होती के मनुष्य के लिए नहीं रह सकता अगर अकेले रहना है तो उनके नियम कानून विमान में होते हैं और समाज में रहना तो उसी टाइप से रहें और सभी कि अपना समाज के बिना जैसे आप सामाजिक कार्य कर रहे हैं अपने घर में शादी ब्याह कर आप उसको नहीं लेकर चलेंगे तो फिर समाज में रहना मुश्किल हो जाता तो समाज में रहने के लिए समाज की आवश्यकता होती ही है चाहे कोई भी कारण बहुत से कारण ऐसे हैं जो समाज के बिना चलानी है आप अकेले क्या क्या कर सकते आप बताइए आप कुछ पूछेगा आप अकेले क्या कर सकते हैं अकेले आप कहते हैं अकेला चना भाड़ नहीं भूल सकता उसी हिसाब से समाज के साथ चलने में ही अच्छा है और अच्छा भी लगता है सुनता भी होती है खुशी भी होती है और दुख और सुख तो जीवन पर जो धूप में नहीं सूखता है दुखाता दुख के पास को खाता है समाज के बिना मनुष्य की आवश्यकता है आपका दिन शुभ हो

ram ram ji ki aapka samaj ki avashyakta kyon hoti hai toh manushya ko samaj ki avashyakta hai isliye hoti ke manushya ke liye nahi reh sakta agar akele rehna hai toh unke niyam kanoon Vimaan me hote hain aur samaj me rehna toh usi type se rahein aur sabhi ki apna samaj ke bina jaise aap samajik karya kar rahe hain apne ghar me shaadi byaah kar aap usko nahi lekar chalenge toh phir samaj me rehna mushkil ho jata toh samaj me rehne ke liye samaj ki avashyakta hoti hi hai chahen koi bhi karan bahut se karan aise hain jo samaj ke bina chalani hai aap akele kya kya kar sakte aap bataiye aap kuch puchhega aap akele kya kar sakte hain akele aap kehte hain akela chana bhad nahi bhool sakta usi hisab se samaj ke saath chalne me hi accha hai aur accha bhi lagta hai sunta bhi hoti hai khushi bhi hoti hai aur dukh aur sukh toh jeevan par jo dhoop me nahi sookhata hai dukhata dukh ke paas ko khaata hai samaj ke bina manushya ki avashyakta hai aapka din shubha ho

राम राम जी की आपका समाज की आवश्यकता क्यों होती है तो मनुष्य को समाज की आवश्यकता है इसलिए

Romanized Version
Likes  374  Dislikes    views  2678
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!