भारतीय न्याय व्यवस्था बहुत ढीली है - इसमें आपकी क्या राय है?...


user

Rathee Suresh

READER (Rtd.)Legal Advisor, Career Counsellor, Social Services

1:44
Play

Likes  39  Dislikes    views  554
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ravi Sharma

Advocate

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय न्याय व्यवस्था पर डिग्री है हमें कह सकते हैं परंतु इसके लिए न्याय व्यवस्था अपने आप मुझे पता नहीं है इसके लिए हमारी सरकारें हैं वह प्यारा मुझे बता रहे हैं सरकारों का कार्य होता है विधानपालिका राज्य सभा लोक सभा तथा विधान परिषद 2017 के कानून ना तो बनते हैं ना ही लोकसभा के सत्र होते हैं वह अंग्रेजों के समय के चले वालेकुम कि आज कोई औचित्य नहीं है भारत का संभाग अर्थव्यवस्था राजनीति बहुत तेजी से बदल आज भी हम 150 125 वर्ष पुराने अपने कानूनों को लेकर बैठे हैं जो किसी भी प्रकार के धर्म संसद भी नहीं है न्याय संगत भी नहीं है वैज्ञानिक रूप से देखा जाए तो बाद में बदलाव के साथ-साथ भारत की न्याय प्रणाली को नहीं होता मैं मानता हूं कि करोड़ों वैसे भारत में रहते हैं रहते हैं दीवाने होते हैं या नहीं मुझे लगता है कि जजों की भारी संख्या में कमी होना तथा जनता की अपेक्षा गजब का कम होना यह भी बहुत बड़े कारण है कि भारत की न्याय व्यवस्था जो है वह अकेली रहती है इसका बदला कि शीघ्र अतिशीघ्र

bharatiya nyay vyavastha par degree hai hamein keh sakte hain parantu iske liye nyay vyavastha apne aap mujhe pata nahi hai iske liye hamari sarkaren hain vaah pyara mujhe bata rahe hain sarkaro ka karya hota hai vidhanpalika rajya sabha lok sabha tatha vidhan parishad 2017 ke kanoon na toh bante hain na hi lok sabha ke satra hote hain vaah angrejo ke samay ke chale walekum ki aaj koi auchitya nahi hai bharat ka sambhag arthavyavastha raajneeti bahut teji se badal aaj bhi hum 150 125 varsh purane apne kanuno ko lekar baithe hain jo kisi bhi prakar ke dharm sansad bhi nahi hai nyay sangat bhi nahi hai vaigyanik roop se dekha jaaye toh baad mein badlav ke saath saath bharat ki nyay pranali ko nahi hota main manata hoon ki karodo waise bharat mein rehte hain rehte hain deewane hote hain ya nahi mujhe lagta hai ki judgon ki bhari sankhya mein kami hona tatha janta ki apeksha gajab ka kam hona yah bhi bahut bade karan hai ki bharat ki nyay vyavastha jo hai vaah akeli rehti hai iska badla ki shighra atishighra

भारतीय न्याय व्यवस्था पर डिग्री है हमें कह सकते हैं परंतु इसके लिए न्याय व्यवस्था अपने आप

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  801
WhatsApp_icon
user

Govind Saraf

Entrepreneur

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की न्याय व्यवस्था बोर्ड ढीली है इसमें एकदम से आप सहमत हूं आप ही कह सकते भारत की न्याय व्यवस्था बहुत ढीली नहीं है मैं फ्री नहीं बोलूंगा लेकिन वक्त बहुत लगता है एक बहुत अच्छी मूवी का डायलॉग है पर फेमस डायलॉग तारीख पे तारीख तारीख पे तारीख यह बहुत फेमस डायलॉग है तो न्याय व्यवस्था भी नहीं बोलूंगा लेकिन समय बहुत बढ़ जाता है अनी से कम करने के लिए बहुत सारे मेटल्स उठाए गए हैं बहुत सर सोशल स्टार्टअप चाहिए कम करने के तौर पर मुझे याद है देश का सबसे बड़ा लॉ स्कूल में मैं गया था एंड महापरीक्षा तथा स्टिल रिमेंबर दर्द ई हैव टेकन 10 इनीशिएटिव जिस तरह से मिलने इनीशिएटिव लिया है जिनके सिस्को कंपनी का बहुत ही सराहनीय है मौत सराहनीय चीज है यह और जिससे इनोवेशन उन्होंने लाया है तेरी कदम इंडियन मीडिया शनवी कि मैं गया था तो मैं यही बोलूंगा भारत के नए यूनिवर्सिटी में यह भारत के लोगों को न्याय व्यवस्था को देखने का नजरिया कुछ इस तरह बन गया है अगर उस नजरिए को बदलने की कोशिश करें तो सबसे पहले से पुणे लेना पड़ेगा ना कि आप सरकार पिया ने व्यवस्था पर आरोप-प्रत्यारोप का सेट कर दीजिए इस न्याय व्यवस्था भी ना लगे आपको प्रोग्रेसिव की तरह

bharat ki nyay vyavastha board dhili hai isme ekdam se aap sahmat hoon aap hi keh sakte bharat ki nyay vyavastha bahut dhili nahi hai free nahi boloonga lekin waqt bahut lagta hai ek bahut achi movie ka dialogue hai par famous dialogue tarikh pe tarikh tarikh pe tarikh yah bahut famous dialogue hai toh nyay vyavastha bhi nahi boloonga lekin samay bahut badh jata hai ani se kam karne ke liye bahut saare metals uthye gaye hain bahut sir social startup chahiye kam karne ke taur par mujhe yaad hai desh ka sabse bada law school mein main gaya tha and mahapriksha tatha steel remember dard ee have taken 10 inishietiv jis tarah se milne inishietiv liya hai jinke Cisco company ka bahut hi sarahniya hai maut sarahniya cheez hai yah aur jisse innovation unhone laya hai teri kadam indian media shanavi ki main gaya tha toh main yahi boloonga bharat ke naye university mein yah bharat ke logo ko nyay vyavastha ko dekhne ka najariya kuch is tarah ban gaya hai agar us nazariye ko badalne ki koshish kare toh sabse pehle se pune lena padega na ki aap sarkar piya ne vyavastha par aarop pratyarop ka set kar dijiye is nyay vyavastha bhi na lage aapko progressive ki tarah

भारत की न्याय व्यवस्था बोर्ड ढीली है इसमें एकदम से आप सहमत हूं आप ही कह सकते भारत की न्याय

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  1630
WhatsApp_icon
play
user

Ayush Prasad

Government Service IAS

2:01

Likes  9  Dislikes    views  705
WhatsApp_icon
user

Norang sharma

Social Worker

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों बात करने जा रही हैं न्याय व्यवस्था पर जी हां किसी भी देश में न्याय व्यवस्था बहुत ही अहम रोल प्ले करती है क्योंकि किसी भी देश के सफल संचालन में यह तय करना जरूरी है कि वहां का जो आम आदमी है वह कितना सुरक्षित महसूस करता है वह कितना सेफ महसूस करता है अगर यह न्याय प्रक्रिया बहुत ढीली होगी तो आम आदमी अपने आप को सुरक्षित तो महसूस नहीं कर पाएगा क्योंकि उसे न्याय मिलने में देरी होगी तो फिर न्याय से उसका भरोसा उठेगा और ऐसा ही कुछ हमारे देश में होता आया है कुछ तो जो अगर मैं बुनियादी इसकी बनावट की बात करूं तो यह अंग्रेजों द्वारा निर्मित है अंग्रेज चले गए लेकिन अपनी व्यवस्थाएं यहां छोड़ गए तो एक कारण तो यह है कि इस न्याय व्यवस्था में बहुत सारे लोग फुल हैं और दूसरा इसमें बहुत ही भ्रष्टाचार भी व्याप्त है भ्रष्टाचार सब जगह व्याप्त है लेकिन न्याय व्यवस्था में तो इसकी एक विशेष भूमिका हम देख सकते हैं कि आज कोई भी अमीर आदमी या कोई मंत्री या कोई बड़ा रसूखदार बड़ी आसानी से अपनी तारीख आगे करवा लेता है और न्यायिक प्रक्रिया में बाधा डाल देता है उसे लंबित कर देता है और जब तक न्याय आता है तब तक उस अन्याय का कोई मतलब नहीं रह जाता तो एक कहावत है ना कि जस्टिस डिलेड इस जस्टिस डिनाइड यानी कि अगर जस्टिस देरी से मिला है तो वो एक तरह से अन्याय ही है वह न्याय नहीं कहा जा सकता यही कमियां है जिसकी वजह से भारत पिछड़ रहा है इन मामलों में क्राइम के मामलों में अगर हमें रोकथाम करनी है तो इस व्यवस्था को हमें तेज करना होगा पुख्ता करना होगा और मजबूत करना होगा ताकि आम आदमी सुरक्षित महसूस कर सकें धन्यवाद

namaskar doston baat karne ja rahi hai nyay vyavastha par ji haan kisi bhi desh mein nyay vyavastha bahut hi aham roll play karti hai kyonki kisi bhi desh ke safal sanchalan mein yah tay karna zaroori hai ki wahan ka jo aam aadmi hai vaah kitna surakshit mehsus karta hai vaah kitna safe mehsus karta hai agar yah nyay prakriya bahut dhili hogi toh aam aadmi apne aap ko surakshit toh mehsus nahi kar payega kyonki use nyay milne mein deri hogi toh phir nyay se uska bharosa uthega aur aisa hi kuch hamare desh mein hota aaya hai kuch toh jo agar main buniyadi iski banawat ki baat karu toh yah angrejo dwara nirmit hai angrej chale gaye lekin apni vyavasthaen yahan chod gaye toh ek karan toh yah hai ki is nyay vyavastha mein bahut saare log full hai aur doosra isme bahut hi bhrashtachar bhi vyapt hai bhrashtachar sab jagah vyapt hai lekin nyay vyavastha mein toh iski ek vishesh bhumika hum dekh sakte hai ki aaj koi bhi amir aadmi ya koi mantri ya koi bada rasukhdar baadi aasani se apni tarikh aage karva leta hai aur nyayik prakriya mein badha daal deta hai use lambit kar deta hai aur jab tak nyay aata hai tab tak us anyay ka koi matlab nahi reh jata toh ek kahaavat hai na ki justice delayed is justice denied yani ki agar justice deri se mila hai toh vo ek tarah se anyay hi hai vaah nyay nahi kaha ja sakta yahi kamiya hai jiski wajah se bharat pichad raha hai in mamlon mein crime ke mamlon mein agar hamein roktham karni hai toh is vyavastha ko hamein tez karna hoga pukhta karna hoga aur majboot karna hoga taki aam aadmi surakshit mehsus kar sake dhanyavad

नमस्कार दोस्तों बात करने जा रही हैं न्याय व्यवस्था पर जी हां किसी भी देश में न्याय व्यवस्थ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  395
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय न्याय व्यवस्था बहुत ढीली है आपने सही बोला इसके मुख्य कारण हमारे देश की कांग्रेस पार्टी है जो भी जल हमारे देश में किसी मुद्दे पर फैसला सुनाना चाहता है अगर उस सुना देता है तो उस जज का कैरियर खत्म कर दिया जाता है एक आरती पांडे जी थे फैज़ाबाद के जज वह एक बार अयोध्या गए थे तो अयोध्या में जब उन्होंने बंदर को लड्डू फेंका तो बंदर लड्डू नहीं खा रहा था तो उन्होंने अयोध्या के एक आदमी से पूछा कि यह बंदर लड्डू क्यों नहीं खा रहा है तो उस आदमी ने बोला कि आज इसके भगवान तिरपाल में हूं वह लड्डू कैसे खा सकता है सर उन्होंने फैसला सुनाया कि जो ताला खुला था उसका ताला खोलने का फैसला सुनाया तो उन्होंने अयोध्या मंदिर में उनका कैरियर कांग्रेस पार्टी ने चौपट कर दिया वह डिस्ट्रिक्ट जज बन के मतलब होते हुए ही रिटायर हो गए वह कभी आगे नहीं पड़ता तो इसीलिए जो हमारे देश के न्यायाधीश हैं वह फैसला नहीं सुना पाते हैं क्योंकि उनके कैरियर का सवाल होता है यह पार्टी को एक जो भी भेजो कांग्रेस पार्टी है उनका कैरियर बर्बाद कर देती है तो हमारे देश में अगर न्याय व्यवस्था ढीला है कि स्कूल सही करना चाहिए देखिए यह सही कोई और नहीं कर सकता है सही एक ही पार्टी कर सकती है वह भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री मोदी जी ही सही करेंगे न्यायिक व्यवस्था को बहुत सारे बेगुनाह लोग फसा दिए जाते हैं अगर केस में हमेशा बेगुनाह लोग भी फसाया जाते हैं तो इसके लिए भी व्यवस्था अगर कोई सरकार करेगी तो वह भारतीय जनता पार्टी करेगी हम सभी देशवासियों को मिलजुल कर अपना महत्वपूर्ण वोट भारतीय जनता पार्टी को देना होगा ताकि हमारी देश की न्याय व्यवस्था सही हो सके धन्यवाद

bharatiya nyay vyavastha bahut dhili hai aapne sahi bola iske mukhya karan hamare desh ki congress party hai jo bhi jal hamare desh mein kisi mudde par faisla sunana chahta hai agar us suna deta hai toh us judge ka carrier khatam kar diya jata hai ek aarti pandey ji the faizabad ke judge vaah ek baar ayodhya gaye the toh ayodhya mein jab unhone bandar ko laddu fenkaa toh bandar laddu nahi kha raha tha toh unhone ayodhya ke ek aadmi se poocha ki yah bandar laddu kyon nahi kha raha hai toh us aadmi ne bola ki aaj iske bhagwan tirpal mein hoon vaah laddu kaise kha sakta hai sir unhone faisla sunaya ki jo tala khula tha uska tala kholne ka faisla sunaya toh unhone ayodhya mandir mein unka carrier congress party ne chowpat kar diya vaah district judge ban ke matlab hote hue hi retire ho gaye vaah kabhi aage nahi padta toh isliye jo hamare desh ke nyayadhish hai vaah faisla nahi suna paate hai kyonki unke carrier ka sawaal hota hai yah party ko ek jo bhi bhejo congress party hai unka carrier barbad kar deti hai toh hamare desh mein agar nyay vyavastha dheela hai ki school sahi karna chahiye dekhiye yah sahi koi aur nahi kar sakta hai sahi ek hi party kar sakti hai vaah bharatiya janta party pradhanmantri modi ji hi sahi karenge nyayik vyavastha ko bahut saare begunah log fasa diye jaate hai agar case mein hamesha begunah log bhi phasaya jaate hai toh iske liye bhi vyavastha agar koi sarkar karegi toh vaah bharatiya janta party karegi hum sabhi deshvasiyon ko miljul kar apna mahatvapurna vote bharatiya janta party ko dena hoga taki hamari desh ki nyay vyavastha sahi ho sake dhanyavad

भारतीय न्याय व्यवस्था बहुत ढीली है आपने सही बोला इसके मुख्य कारण हमारे देश की कांग्रेस पार

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  398
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय न्याय व्यवस्था बहुत ढीली है इसमें आप अगर हमारी दाई जानना चाहते हैं तो अपनी जो वचन बोला है वह बिल्कुल सत्य बोल हैं भारत में कानून बहुत हैं हमारे यहां हर एक गलती किस कानून के तहत यह सजा मिलेगी केस पेंडिंग ज्यादा होती है आज रेप के मामले में भारत में नंबर वन पर है क्या जो सबसे बड़ा कारण यही है कि हमारी जो न्याय व्यवस्था है कोई दोस्ती को भी फांसी देने में समय लगाती है अगर हमारी देश की व्यवस्था जुड़े हमारे देश का कानून है इस्लामिक कानून स्वामी कंट्री के जो कानून के तहत हो जाए तो हमारे यहां से जुड़े क्राइम खत्म हो जाए

bharatiya nyay vyavastha bahut dhili hai isme aap agar hamari dai janana chahte hain toh apni jo vachan bola hai vaah bilkul satya bol hain bharat mein kanoon bahut hain hamare yahan har ek galti kis kanoon ke tahat yah saza milegi case pending zyada hoti hai aaj rape ke mamle mein bharat mein number van par hai kya jo sabse bada karan yahi hai ki hamari jo nyay vyavastha hai koi dosti ko bhi fansi dene mein samay lagati hai agar hamari desh ki vyavastha jude hamare desh ka kanoon hai islamic kanoon swami country ke jo kanoon ke tahat ho jaaye toh hamare yahan se jude crime khatam ho jaaye

भारतीय न्याय व्यवस्था बहुत ढीली है इसमें आप अगर हमारी दाई जानना चाहते हैं तो अपनी जो वचन ब

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  186
WhatsApp_icon
user

Mayank Saxena

Journalist-Writer

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दरअसल भारत की न्याय व्यवस्था ढीली नहीं है समस्या यह है कि हमारे पास अदालतों की संख्या कम है तो इंफ्रास्ट्रक्चर कम होना और व्यवस्था ढीली होना धीमी होना इस में अंतर है हमारे पास जज कम है हमारे पास बदलते कम हैं बहुत कम लोग होते हैं जो जज बनने की जो प्रयोग परीक्षा है जो प्रोसेस है उसको क्लियर कर पाते हैं तो उच्च न्यायालय की खंडपीठ हमको जाना चाहिए होंगी ज्यादा सेशन कोर्ट चाहिए होंगे ज्यादा फास्ट ट्रैक कोर्ट सही होंगे ज्यादा जज चाहिए होंगे उसके लिए और इसके लिए सरकार को सोचना पड़ेगा तो न्याय व्यवस्था ढीली होने से ज्यादा समस्या इन्फ्रास्ट्रक्चर यानी की मूलभूत ढांचे की कमी है तो इसको हल करना सॉल्व करना ज्यादा जरूरी है और इसलिए होता यह है कि चुकी जज कम है और वह सारे केस उन्हीं के पास जाते हैं देश की आबादी बहुत बड़ी है और एक और समस्या है हमारे देश में बहुत छोटे-छोटे मामले को लोग अदालती मामला बनाने को तैयार रहते हैं तो एक समाज जैसे जैसे ज्यादा शब्द होगा वैसे वैसे अदालत में या पुलिस थाने में दर्ज होने वाले मुकदमों में भी कमी आएगी बेरोजगारी हमारे यहां बहुत ज्यादा है जिस वजह से अपराध भी बहुत ज्यादा है तो बेरोजगारी कम करनी होगी उससे अपराध में कमी आएगी और यह सारी चीजें मिलकर एक बेहतर व्यवस्था बना सकती है केवल अदालत या कोर्ट से ही न्याय व्यवस्था बेहतर नहीं होती है

darasal bharat ki nyay vyavastha dhili nahi hai samasya yeh hai ki hamare paas adalaton ki sankhya kam hai toh infrastructure kam hona aur vyavastha dhili hona dheemi hona is mein antar hai hamare paas judge kam hai hamare paas badalte kam hain bahut kam log hote hain jo judge banne ki jo prayog pariksha hai jo process hai usko clear kar paate hain toh ucch nyayalaya ki khandpeeth hamko jana chahiye hongi zyada session court chahiye honge zyada fast track court sahi honge zyada judge chahiye honge uske liye aur iske liye sarkar ko sochna padega toh nyay vyavastha dhili hone se zyada samasya infrastructure yani ki mulbhut dhanche ki kami hai toh isko hal karna solve karna zyada zaroori hai aur isliye hota yeh hai ki chuki judge kam hai aur wah saare case unhi ke paas jaate hain desh ki aabadi bahut badi hai aur ek aur samasya hai hamare desh mein bahut chhote chhote mamle ko log adalati maamla banane ko taiyaar rehte hain toh ek samaj jaise jaise zyada shabd hoga waise waise adalat mein ya police thane mein darj hone wale mukadmon mein bhi kami aayegi berojgari hamare yahan bahut zyada hai jis wajah se apradh bhi bahut zyada hai toh berojgari kam karni hogi usse apradh mein kami aayegi aur yeh saree cheezen milkar ek behtar vyavastha bana sakti hai keval adalat ya court se hi nyay vyavastha behtar nahi hoti hai

दरअसल भारत की न्याय व्यवस्था ढीली नहीं है समस्या यह है कि हमारे पास अदालतों की संख्या कम ह

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  39
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
bhartiya nyay vyavastha ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!