जीवन कैसे जिया जाता है?...


user

Norang sharma

Social Worker

2:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वोकल पर सुन रही मेरी सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार दोस्तों आज का सवाल है जीवन कैसे जिया जाता है या लाइफ को हमें कैसे जीना चाहिए दोस्तों जीवन जीने का कोई तय तरीका नहीं होता क्योंकि कोई भी इस दुनिया में मैप लेकर नहीं आता कि हमें कब कब क्या करना है एक के बाद एक रेंडम सिचुएशंस हमारे सामने आती हैं और हमें उन पर रिएक्ट करना होता है या उनसे सबक लेकर एक्शन में आना होता है तो दोस्तों उतार-चढ़ाव सुख-दुख हानि लाभ यह सारी चीजें हमारे जीवन में एक के बाद एक होती चली जाएंगी हम एक ही काम कर सकते हैं कि हम लगातार एक दिशा चुन सकते हैं और उस दिशा में हमें अपना समय और अपनी ऊर्जा लगानी है किसी एक खास मकसद के वह मकसद कुछ भी हो सकता है वह मकसद एक अच्छी नौकरी भी हो सकता है एक अच्छा जीवन साथी भी हो सकता है पैसा कमाना अमीर बनना सफल होना कोई भी मकसद आपका हो सकता है मानवता की सेवा करना तो कोई भी लक्ष्य आप अपने हिसाब से चुन सकते हैं और पूरे जीवन भर आप उस लक्ष्य का पीछा करते हुए अपना जीवन बिता सकते हैं क्योंकि दोस्तों आप कुछ करें या ना करें आपका जो समय है वह लगातार बीत रहा है और जीवन का कुल मिलाकर यही मतलब होता है कि हमें प्रकृति की तरफ से कह लो या ईश्वर की तरफ से कह लो एक निश्चित समय और कुछ एनर्जी मिली है अगर हम इन दोनों का कॉन्बिनेशन बनाकर और इस एक सही दिशा में लगा देते हैं तो हम अपने जीवन के हर मोमेंट को एंजॉय करते हुए जी सकते हैं अदर वाइज जीवन कब भी जाएगा आपको पता भी नहीं चलेगा तो दोस्तों की पूरी तरीके से हम पर निर्भर करता है कि हम अपने जाने के बाद किस तरीके से लोगों के दिलों में क्या लोगों की यादों में याद किया जाना पसंद करते हैं तो दोस्तों यह तो पूरी तरह आप पर निर्भर है और यह हर इंसान का एक व्यक्तिगत इशू है कि वह अपने जीवन को ठीक है आप असफल लोगों का जो मार्गदर्शन है या उनके नक्शे कदम पर चल सकते हैं जैसा वह कर रहे हैं वैसा आप भी कर सकते हैं तो जीवन की सार्थकता को कुल मिलाकर आप खुद महसूस करें यह सबसे ज्यादा चीज मायने रखती है धन्यवाद

namaskar doston vocal par sun rahi meri sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar doston aaj ka sawaal hai jeevan kaise jiya jata hai ya life ko hamein kaise jeena chahiye doston jeevan jeene ka koi tay tarika nahi hota kyonki koi bhi is duniya me map lekar nahi aata ki hamein kab kab kya karna hai ek ke baad ek rendam sichueshans hamare saamne aati hain aur hamein un par react karna hota hai ya unse sabak lekar action me aana hota hai toh doston utar chadhav sukh dukh hani labh yah saari cheezen hamare jeevan me ek ke baad ek hoti chali jayegi hum ek hi kaam kar sakte hain ki hum lagatar ek disha chun sakte hain aur us disha me hamein apna samay aur apni urja lagani hai kisi ek khas maksad ke vaah maksad kuch bhi ho sakta hai vaah maksad ek achi naukri bhi ho sakta hai ek accha jeevan sathi bhi ho sakta hai paisa kamana amir banna safal hona koi bhi maksad aapka ho sakta hai manavta ki seva karna toh koi bhi lakshya aap apne hisab se chun sakte hain aur poore jeevan bhar aap us lakshya ka picha karte hue apna jeevan bita sakte hain kyonki doston aap kuch kare ya na kare aapka jo samay hai vaah lagatar beet raha hai aur jeevan ka kul milakar yahi matlab hota hai ki hamein prakriti ki taraf se keh lo ya ishwar ki taraf se keh lo ek nishchit samay aur kuch energy mili hai agar hum in dono ka kanbineshan banakar aur is ek sahi disha me laga dete hain toh hum apne jeevan ke har moment ko enjoy karte hue ji sakte hain other wise jeevan kab bhi jaega aapko pata bhi nahi chalega toh doston ki puri tarike se hum par nirbhar karta hai ki hum apne jaane ke baad kis tarike se logo ke dilon me kya logo ki yaadon me yaad kiya jana pasand karte hain toh doston yah toh puri tarah aap par nirbhar hai aur yah har insaan ka ek vyaktigat issue hai ki vaah apne jeevan ko theek hai aap asafal logo ka jo margdarshan hai ya unke nakshe kadam par chal sakte hain jaisa vaah kar rahe hain waisa aap bhi kar sakte hain toh jeevan ki sarthakta ko kul milakar aap khud mehsus kare yah sabse zyada cheez maayne rakhti hai dhanyavad

नमस्कार दोस्तों वोकल पर सुन रही मेरी सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार दोस

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  2090
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!