क्या आजकल शिक्षित होना बहुत ज़रूरी है?...


user

Rajesh Dewangan

Hindi Linguistics

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल ही नहीं हर युग में शिक्षित होना बहुत जरूरी है भाई साहब क्योंकि शिक्षा जो है जीवन का एक अंग है जीवन का एक भाग गए ग्राम शिक्षित नहीं होते हैं तुम्हारे जीवन का एक भाग खाली रह जाएगा एक बाघ अधूरा रह जाएगा और मनुष्य पूर्ण विकास नहीं करेगा उसको विकास का एक ही सागर खाली रह जाता है तो वह मनुष्य कहां से पूर्ण विकास करेगा इसलिए आजकल नहीं हर युग में हर काल में शिक्षित होना बहुत जरूरी है

aajkal hi nahi har yug me shikshit hona bahut zaroori hai bhai saheb kyonki shiksha jo hai jeevan ka ek ang hai jeevan ka ek bhag gaye gram shikshit nahi hote hain tumhare jeevan ka ek bhag khaali reh jaega ek bagh adhura reh jaega aur manushya purn vikas nahi karega usko vikas ka ek hi sagar khaali reh jata hai toh vaah manushya kaha se purn vikas karega isliye aajkal nahi har yug me har kaal me shikshit hona bahut zaroori hai

आजकल ही नहीं हर युग में शिक्षित होना बहुत जरूरी है भाई साहब क्योंकि शिक्षा जो है जीवन का ए

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  276
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Gautam Sinha

Yoga Trainer And HOLISTIC HEALER

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां हमारे लिए आजकल शिक्षित होना बहुत ज्यादा हमारे लिए शिक्षित होना बहुत जरूरी है जैसे स्वास्थ्य शरीर के स्वास्थ्य में जरूरी बसी शिक्षित समाज रविदास शिक्षा हम कुछ भी नहीं कर सकते इसके कारण शिक्षा अगर नहीं होती है तो जिसके कारण हम हर जगह तेरी बुद्धि के साथ समाज शिक्षा डिग्री भी होना बहुत ही जरूरी है

haan hamare liye aajkal shikshit hona bahut zyada hamare liye shikshit hona bahut zaroori hai jaise swasthya sharir ke swasthya me zaroori basi shikshit samaj ravidas shiksha hum kuch bhi nahi kar sakte iske karan shiksha agar nahi hoti hai toh jiske karan hum har jagah teri buddhi ke saath samaj shiksha degree bhi hona bahut hi zaroori hai

हां हमारे लिए आजकल शिक्षित होना बहुत ज्यादा हमारे लिए शिक्षित होना बहुत जरूरी है जैसे स्वा

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user
1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शिक्षा का महत्व सभी कालों में रहा है प्राचीन काल से हमारे यहां ज्योतिष खगोल शास्त्र विज्ञान आयुर्वेद और एवं जीवन से जुड़े शिक्षा पद्धति पर अध्ययन अध्यापन चलता रहा है वर्तमान परिपेक्ष में समीचीन और काल पाद पक्षियों के हिसाब से शिक्षा प्रणाली में विषयों का समावेश किया गया और उस हिसाब से एक सफल नागरिक बनने के लिए शिक्षित होना अत्यंत आवश्यक है व्याप्त शिक्षा के ना तो हम जी गोपाल जी के उचित रोजगार प्राप्त कर सकते हैं और ना ही एक मनशील और ज्ञान सहित व्यक्तित्व का विकास कर पाएंगे जो कि हमारे भाभी बीवी के लिए एक बहुत बड़ा उपहार होगा ऐसा शिक्षा जीवन के हर दौर में बहुत ही जरूरी है और शिक्षा के महत्व पर कभी भी किसी भी दायरे में नहीं रखा जाना चाहिए शिक्षा को एक विस्तृत रूप देना चाहिए ताकि वह व्यक्ति रोजगार सहित जीवन के हर पहलू में उसका उपयोग कर सके धन्यवाद

shiksha ka mahatva sabhi kaalon me raha hai prachin kaal se hamare yahan jyotish khagol shastra vigyan ayurveda aur evam jeevan se jude shiksha paddhatee par adhyayan adhyapan chalta raha hai vartaman paripeksh me samichin aur kaal pad pakshiyo ke hisab se shiksha pranali me vishyon ka samavesh kiya gaya aur us hisab se ek safal nagarik banne ke liye shikshit hona atyant aavashyak hai vyapt shiksha ke na toh hum ji gopal ji ke uchit rojgar prapt kar sakte hain aur na hi ek manshil aur gyaan sahit vyaktitva ka vikas kar payenge jo ki hamare bhabhi biwi ke liye ek bahut bada upahar hoga aisa shiksha jeevan ke har daur me bahut hi zaroori hai aur shiksha ke mahatva par kabhi bhi kisi bhi daayre me nahi rakha jana chahiye shiksha ko ek vistrit roop dena chahiye taki vaah vyakti rojgar sahit jeevan ke har pahaloo me uska upyog kar sake dhanyavad

शिक्षा का महत्व सभी कालों में रहा है प्राचीन काल से हमारे यहां ज्योतिष खगोल शास्त्र विज्ञा

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user

Shobit Dixit

Motivational Speaker | Writer | Counsellor | Social Worker | Program Coordinator

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल आजकल यह किसी भी समय शिक्षा प्राप्त करना बहुत जरूरी है शिक्षा का उद्देश्य केवल पैसे इकट्ठा करना है कमाना ही नहीं है एक शिक्षित व्यक्ति जीवन को बहुत अच्छे तरीके से भी सकता है जीवन के विभिन्न पहलुओं पर विचार कर सकता है और जीवन के विभिन्न संघर्षों से अपने आप को अच्छी तरह लड़ाई सकता है

ji bilkul aajkal yah kisi bhi samay shiksha prapt karna bahut zaroori hai shiksha ka uddeshya keval paise ikattha karna hai kamana hi nahi hai ek shikshit vyakti jeevan ko bahut acche tarike se bhi sakta hai jeevan ke vibhinn pahaluwon par vichar kar sakta hai aur jeevan ke vibhinn sangharshon se apne aap ko achi tarah ladai sakta hai

जी बिल्कुल आजकल यह किसी भी समय शिक्षा प्राप्त करना बहुत जरूरी है शिक्षा का उद्देश्य केवल प

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

Meena

Advocate

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे कुछ नहीं आज क्या आज का शिक्षित होना बहुत जरूरी है तो मेरा जवाब इसके साथ होगा कि हां क्यों क्योंकि इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के जमाने में जी रहे हैं हम आज और जीते हुए हमें शिक्षित होना बहुत जरूरी है क्योंकि हम को देख रहे हैं कि आज के वक्त में अगर हम आगे बढ़ रहे हैं तो वह है हमारी कम्युनिकेशन कैपेसिटी होने के कारण और मैं हूं शिक्षित होना पहले जरूरी क्यों नहीं था पहले जरूरी नहीं था क्योंकि हमारे पास इतने सोर्सेस नहीं थे कि हम हर किसी से कनेक्टेड हो जाए पर आज आज हम देख रहे हैं आज हमारे पास एक स्मार्टफोन है स्मार्टफोन में स्मार्ट फीचर्स है पर यह फीचर चला कौन सकता है इन फीचर्स का मैं हूं एक बेस्ट और परफेक्ट यूज कौन कर रहा है वह एक एजुकेटेड पर्सन नहीं कर रहा है इसलिए हमारे लिए शिक्षा का होना बहुत जरूरी है और मैं आप देख रहे हो कि बड़े-बड़े आईएस ए आईपीएस है डॉक्टर एसपी है आपको राय दे रही हैं छोटे-मोटे तो नहीं कैसे यह बोल दो लोग है जो आपको आजा पोकले देख रहे हो वह कल ऐप पर आप को शिक्षित किया जा रहा है यह वही लाना मैं कहूं वही गाइडेंस वाले प्रशन है जो आज एजुकेटेड है और वही आपको एक आप एडवाइज ढूंढ रहे हो तो जींस जो आपको लग रहा है कि कच्छी एडवाइज दे रहे हैं आप उसकी मान रहे हो काम क्या है शिक्षित होने के कारण मान लो आप कहीं जा रहे हो और आप अनपढ़ आदमी तो आपके ट्रेन के आगे अगर कुछ नाम लिखा है और आप नहीं पढ़ पा रहे तो मानो आपके लिए कितनी बड़ी एक समस्या खड़ी होगी आप को देखो और इसी वजह से मालूम आप पढ़े लिखे हो तो आप आज कहीं भी जा रहे हो तो वहां हो ट्रेन का नाम आप आराम से पढ़ सकते हो जरूरी क्यों है किस दुनिया में जी रहे हैं उसको बोलते हैं आधुनिक दुनिया और वह दुनिया है कंप्यूटर की और कंप्यूटर आप जानते हो इंग्लिश में चलता है और मैं उस इंसान को इंग्लिश नहीं आती तो कंप्यूटर आपके लिए कुछ काम का नहीं है और मान लो वही कंप्यूटर में याद शिक्षित हो तो वही कंप्यूटर में आप एक बड़े और आज के टाइम में शिक्षित आप बैंक में जाते हो और बैंक में अगर आपको एक रिसिप्ट भरनी नहीं आती हां पढ़े लिखे हो तो आप आराम से बढ़ सकते हो क्योंकि आपने नाम देखा तो नाम लिखा तो हम देखते हैं कि वेट कर देंगे कोई आए और हमारा जो स्विफ्ट भरे और आज का बच्चा अगर जितना शिक्षित होगा तो मैं उसके लिए उतना ही फायदा है क्या फायदा ऐसे हैं कि पहले तो वह दुनिया के बराबर चलेगा दूसरी बात अगर आप दुनिया के बराबर चलेगा हम दूसरी बात उसमें समझ होगी क्योंकि पढ़ा लिखा इंसान में मैं हूं सबसे बड़ी चीज होती है तो वह है उसकी उसका विवेक और विवेक तब भी जागृत होता है जब इंसान के पास होता है ज्ञान और ज्ञान तभी आता है जो वह होता है शिक्षित और आपको पता है कि आज के समय में मैं कहूं ब्रह्मांड पर जाने की बात करते हैं तो आपने भी देखा होगा ब्रह्मांड पैसे तो नहीं जाया जा रहा था आज बड़ी-बड़ी टेक्नोलॉजी हमारे आगे आ रही है पर हमारे भारत के साइंटिस्ट सामना कर पा रहे हैं तो कारण कोई है कि वह यहां तक शिक्षित होने के बावजूद ही आ रहे हैं सामने आज हम देखें क्योंकि शिक्षा इंसान को मजबूत बनाती है मजबूत बनाने के साथ में वही बात की एक मैं हूं एक आंगन में क्या एक आंगन में मान लो बहुत सा कचरा बिखरा हुआ है और एक आदमी आकर अनपढ़ आदमी है सस्ता कचरा भी खराब है चलो यही तुम पर एक वही शिक्षित आदमी आ गया तो वह पहले तो यह सोचे गए इस कचरे को उठाऊं कैसे उठाने के बाद में उसके दिमाग में आएगा उस को डस्टबिन में डाल दो डस्टबिन में डालने के बाद में सफाई करूं फिर वही बात है इसका हमें आज दिखाई देता है ठीक है और मैं आपको बता सकती हूं शिक्षा आपके लिए सर्वोपरि है और शिक्षा आज की नहीं है आप देखो वेदों को वेदों ने वेदों को लिखा था वह वेदों को लिखा गया रामायण लिखी गई महाभारत में कपड़ा किसने जिसका ज्ञाता था जिसमें एक जरूरी नहीं कि स्कूलों में जाओ वहीं पढ़ाई होती है पड़ोसी की तो गए नहीं मतलब क्या आप उस चीज के बारे में नॉलेज चाहे आप सुन कर ले लो जरूरत हो ना अब आप मुझे सुन रहे हो तो जागरुक हो रहे हो आप शिक्षित हो रहे हो आपको समझ में आ रहा है कि मैं क्या अमेजॉन तो नहीं आ रही हूं मैं आपको एक साधन से क्या कर रही हूं जागरूक करेगी साधन जागरूक कर रही हूं आपने यहां कुछ लिखा था पढ़े लिखे हो तभी तो आपने एडवाइज मांगी तो उसके हाथ में मोबाइल है वह कल क्या करेगा तो नहीं पता पर उसको अगर पता लग गया तो वह भी शिक्षित हो गया तो शिक्षा का मतलब यह नहीं कह सकते कि किसी इंसान को आता ही नहीं है ठीक है इसी के साथ में आज का वक्त जो चल रहा है वो इतना फास्ट चल रहा है मैं कहती हूं हम हार्ड वर्क के जमाने में जीना ही हमने खत्म कर दिया हम स्मार्ट भर के जमाने में जीने और स्मार्ट वर्क तभी हो पाएगा जब हम शिक्षित होंगे कि आज हमारे पास नहीं नहीं पा रहे हैं देश में कितने पेपर जो जागरुक है जो समझदार है जो शिक्षित है वह इंसान फटाफट और जो मैंने देखा एक लड़की को देखा जो बिल्कुल पढ़ी-लिखी नहीं थी और वह फोन को उसके हाथ में स्मार्ट इतना बड़ा महंगा फोन हो जैसा उसको चलाना ही नहीं आता उसको लॉक खोलना ही है तब मैंने देखा कितनी विचित्र बात है यह इतनी बड़ी बात और अगर वह इसी की जगह शिक्षित होती तो मुझे लगता है कि वह इसका बेस्ट यूज कर सकता मैं आशिक एडवोकेट हूं तुम एक अच्छे एडवाइजर बन सकती हूं कैसे क्योंकि मैंने आज किसी के बारे में खुद ने होने लगती है और फिर मैं आपको एक नॉलेज दे सकती हूं ठीक है तो किसी के साथ में एक शिक्षा का एक पड़ाव और बताओ मैं आपको प्याज क्यों जरूरी है शिक्षा प्रशिक्षण इसलिए जरूरी है कि आज हम आने वाले भविष्य में इस चीज का सामना करेंगे वह होगा टेक्नोलॉजी अभी तो कर ही रहे हैं पर आने वाले टाइम में तो हम पूरे टेक्निकल एकदम यूजर बन जाएंगे और इसका कारण और अभी कौन पड़ेगा आगे वही पड़ेगा देख लेना आप जो शिक्षित होगा उसके बारे में जागरूक होगा आप एक और आपको पता होगा कि शिक्षा मुफ्त में नहीं मिलती है शिक्षा को कमाया जाता है वह भी बड़ी मेहनत से ठीक है मैं यह नहीं कहती कि अनएजुकेटेड पर्सन कुछ नहीं कर सकता कर सकता है प्रभु हार्ड वर्क कर सकता है स्मार्ट वर्क करने के लिए आपका शिक्षित होना बहुत जरूरी है और आज के वक्त में आप मैं कहती हूं जितना शिक्षित रहे मैंने देखा है और जमात में गए वह कम पढ़े लिखे लोग थे आज दिल्ली के अंदर एक हुआ जो आज लोगों वीडियो सुना रहे हैं बाहर जाकर बैठ के आ रहे हैं और वीडियो सुनाएं जा रहे हैं और वही हमारे जो डॉक्टर हैं आईएस थे एडवोकेट्स सी है वह आपको बार-बार रहा है दे जाने घर में बैठो सुरक्षित रहो घर में बैठ क्या माना जा रहा है फूलों की तरह हमने देखा कोई डॉक्टर एसएक्सई या कोई इंजीनियर ऐसे दिख रहा है न्यूज़ देख रहे हैं और वह ध्यान से देख ले एक ही चीज बोलो कर रहे हैं जो हमारे मोदी जी कह रहे हैं आप पर अनएजुकेटेड पर्सन हु यह सोच रहा होगा कुछ नहीं होगा झूठी अपने अंदर की दुनिया में रहता है इसलिए पर आज हम शिक्षित रहेंगे तो हम मेरा मानना है कि हम बहुत आगे जा सकते हैं इसलिए और बैंक में अब जा रहे हो तो बैंक के अंदर मैंने देखा है बहुत से लोग लाइन बड़ी में खड़े रहते हैं और खड़े रहने का कारण होता है बड़ी खड़े रहते हैं पर उनको खड़े रहते हैं पर आधे से ज्यादा भी नहीं आती या उनको यह भी नहीं पता होता वैसे सामने लिखा हुआ जाने के साथ ही वहां फटाफट अपना काम किया और आ जाता है इसका मैंने फर्क यहां देखा इसलिए आज हमारा शिक्षित होना मैं कहती हूं बहुत जरूरी है क्योंकि हम आधुनिक जमाने में सामना आधुनिक दुनिया से या फिर टेक्नोलॉजी से सामना करेंगे तो सबसे बड़ा सा ना तभी होगा जब हम शिक्षित होंगे और शिक्षित होने के लिए क्या करना पड़ेगा तो हां बोलना पड़ेगा क्योंकि पढ़ रहे हो पढ़ रहे हो क्या उसके बारे में जानने लग जाओगे एक आम की बात करूं तो मैं कहूं आम मीठा होता है और खट्टा होता है फिर मैं तो आपका नाम क्या बोल रहे कंफ्यूज कर रहे हो यही मैं आपको कम खा कर देख लो ना किसी प्रकार से नमक नमक आपने खाया है तो आप कहोगे मैम कड़वा होता है ठीक है कम मात्रा में नहीं खाया तो अब क्या करोगे यही कहोगे

hamare kuch nahi aaj kya aaj ka shikshit hona bahut zaroori hai toh mera jawab iske saath hoga ki haan kyon kyonki information technology ke jamane me ji rahe hain hum aaj aur jeete hue hamein shikshit hona bahut zaroori hai kyonki hum ko dekh rahe hain ki aaj ke waqt me agar hum aage badh rahe hain toh vaah hai hamari communication capacity hone ke karan aur main hoon shikshit hona pehle zaroori kyon nahi tha pehle zaroori nahi tha kyonki hamare paas itne sources nahi the ki hum har kisi se connected ho jaaye par aaj aaj hum dekh rahe hain aaj hamare paas ek smartphone hai smartphone me smart features hai par yah feature chala kaun sakta hai in features ka main hoon ek best aur perfect use kaun kar raha hai vaah ek educated person nahi kar raha hai isliye hamare liye shiksha ka hona bahut zaroori hai aur main aap dekh rahe ho ki bade bade ias a ips hai doctor SP hai aapko rai de rahi hain chote mote toh nahi kaise yah bol do log hai jo aapko aajad pokle dekh rahe ho vaah kal app par aap ko shikshit kiya ja raha hai yah wahi lana main kahun wahi guidance waale prashn hai jo aaj educated hai aur wahi aapko ek aap edavaij dhundh rahe ho toh jeans jo aapko lag raha hai ki kachhi edavaij de rahe hain aap uski maan rahe ho kaam kya hai shikshit hone ke karan maan lo aap kahin ja rahe ho aur aap anpad aadmi toh aapke train ke aage agar kuch naam likha hai aur aap nahi padh paa rahe toh maano aapke liye kitni badi ek samasya khadi hogi aap ko dekho aur isi wajah se maloom aap padhe likhe ho toh aap aaj kahin bhi ja rahe ho toh wahan ho train ka naam aap aaram se padh sakte ho zaroori kyon hai kis duniya me ji rahe hain usko bolte hain aadhunik duniya aur vaah duniya hai computer ki aur computer aap jante ho english me chalta hai aur main us insaan ko english nahi aati toh computer aapke liye kuch kaam ka nahi hai aur maan lo wahi computer me yaad shikshit ho toh wahi computer me aap ek bade aur aaj ke time me shikshit aap bank me jaate ho aur bank me agar aapko ek reciept bharani nahi aati haan padhe likhe ho toh aap aaram se badh sakte ho kyonki aapne naam dekha toh naam likha toh hum dekhte hain ki wait kar denge koi aaye aur hamara jo swift bhare aur aaj ka baccha agar jitna shikshit hoga toh main uske liye utana hi fayda hai kya fayda aise hain ki pehle toh vaah duniya ke barabar chalega dusri baat agar aap duniya ke barabar chalega hum dusri baat usme samajh hogi kyonki padha likha insaan me main hoon sabse badi cheez hoti hai toh vaah hai uski uska vivek aur vivek tab bhi jagrit hota hai jab insaan ke paas hota hai gyaan aur gyaan tabhi aata hai jo vaah hota hai shikshit aur aapko pata hai ki aaj ke samay me main kahun brahmaand par jaane ki baat karte hain toh aapne bhi dekha hoga brahmaand paise toh nahi jaya ja raha tha aaj badi badi technology hamare aage aa rahi hai par hamare bharat ke scientist samana kar paa rahe hain toh karan koi hai ki vaah yahan tak shikshit hone ke bawajud hi aa rahe hain saamne aaj hum dekhen kyonki shiksha insaan ko majboot banati hai majboot banane ke saath me wahi baat ki ek main hoon ek aangan me kya ek aangan me maan lo bahut sa kachra bikhra hua hai aur ek aadmi aakar anpad aadmi hai sasta kachra bhi kharab hai chalo yahi tum par ek wahi shikshit aadmi aa gaya toh vaah pehle toh yah soche gaye is kachre ko uthaun kaise uthane ke baad me uske dimag me aayega us ko dustbin me daal do dustbin me dalne ke baad me safaai karu phir wahi baat hai iska hamein aaj dikhai deta hai theek hai aur main aapko bata sakti hoon shiksha aapke liye sarvopari hai aur shiksha aaj ki nahi hai aap dekho vedo ko vedo ne vedo ko likha tha vaah vedo ko likha gaya ramayana likhi gayi mahabharat me kapda kisne jiska gyaata tha jisme ek zaroori nahi ki schoolon me jao wahi padhai hoti hai padosi ki toh gaye nahi matlab kya aap us cheez ke bare me knowledge chahen aap sun kar le lo zarurat ho na ab aap mujhe sun rahe ho toh jagruk ho rahe ho aap shikshit ho rahe ho aapko samajh me aa raha hai ki main kya amazon toh nahi aa rahi hoon main aapko ek sadhan se kya kar rahi hoon jagruk karegi sadhan jagruk kar rahi hoon aapne yahan kuch likha tha padhe likhe ho tabhi toh aapne edavaij maangi toh uske hath me mobile hai vaah kal kya karega toh nahi pata par usko agar pata lag gaya toh vaah bhi shikshit ho gaya toh shiksha ka matlab yah nahi keh sakte ki kisi insaan ko aata hi nahi hai theek hai isi ke saath me aaj ka waqt jo chal raha hai vo itna fast chal raha hai main kehti hoon hum hard work ke jamane me jeena hi humne khatam kar diya hum smart bhar ke jamane me jeene aur smart work tabhi ho payega jab hum shikshit honge ki aaj hamare paas nahi nahi paa rahe hain desh me kitne paper jo jagruk hai jo samajhdar hai jo shikshit hai vaah insaan phataphat aur jo maine dekha ek ladki ko dekha jo bilkul padhi likhi nahi thi aur vaah phone ko uske hath me smart itna bada mehnga phone ho jaisa usko chalana hi nahi aata usko lock kholna hi hai tab maine dekha kitni vichitra baat hai yah itni badi baat aur agar vaah isi ki jagah shikshit hoti toh mujhe lagta hai ki vaah iska best use kar sakta main aashik advocate hoon tum ek acche advisor ban sakti hoon kaise kyonki maine aaj kisi ke bare me khud ne hone lagti hai aur phir main aapko ek knowledge de sakti hoon theek hai toh kisi ke saath me ek shiksha ka ek padav aur batao main aapko pyaaz kyon zaroori hai shiksha prashikshan isliye zaroori hai ki aaj hum aane waale bhavishya me is cheez ka samana karenge vaah hoga technology abhi toh kar hi rahe hain par aane waale time me toh hum poore technical ekdam user ban jaenge aur iska karan aur abhi kaun padega aage wahi padega dekh lena aap jo shikshit hoga uske bare me jagruk hoga aap ek aur aapko pata hoga ki shiksha muft me nahi milti hai shiksha ko kamaya jata hai vaah bhi badi mehnat se theek hai main yah nahi kehti ki anaejuketed person kuch nahi kar sakta kar sakta hai prabhu hard work kar sakta hai smart work karne ke liye aapka shikshit hona bahut zaroori hai aur aaj ke waqt me aap main kehti hoon jitna shikshit rahe maine dekha hai aur jamaat me gaye vaah kam padhe likhe log the aaj delhi ke andar ek hua jo aaj logo video suna rahe hain bahar jaakar baith ke aa rahe hain aur video sunaen ja rahe hain aur wahi hamare jo doctor hain ias the edavokets si hai vaah aapko baar baar raha hai de jaane ghar me baitho surakshit raho ghar me baith kya mana ja raha hai fulo ki tarah humne dekha koi doctor SXE ya koi engineer aise dikh raha hai news dekh rahe hain aur vaah dhyan se dekh le ek hi cheez bolo kar rahe hain jo hamare modi ji keh rahe hain aap par anaejuketed person hoon yah soch raha hoga kuch nahi hoga jhuthi apne andar ki duniya me rehta hai isliye par aaj hum shikshit rahenge toh hum mera manana hai ki hum bahut aage ja sakte hain isliye aur bank me ab ja rahe ho toh bank ke andar maine dekha hai bahut se log line badi me khade rehte hain aur khade rehne ka karan hota hai badi khade rehte hain par unko khade rehte hain par aadhe se zyada bhi nahi aati ya unko yah bhi nahi pata hota waise saamne likha hua jaane ke saath hi wahan phataphat apna kaam kiya aur aa jata hai iska maine fark yahan dekha isliye aaj hamara shikshit hona main kehti hoon bahut zaroori hai kyonki hum aadhunik jamane me samana aadhunik duniya se ya phir technology se samana karenge toh sabse bada sa na tabhi hoga jab hum shikshit honge aur shikshit hone ke liye kya karna padega toh haan bolna padega kyonki padh rahe ho padh rahe ho kya uske bare me jaanne lag jaoge ek aam ki baat karu toh main kahun aam meetha hota hai aur khatta hota hai phir main toh aapka naam kya bol rahe confuse kar rahe ho yahi main aapko kam kha kar dekh lo na kisi prakar se namak namak aapne khaya hai toh aap kahoge maam kadwa hota hai theek hai kam matra me nahi khaya toh ab kya karoge yahi kahoge

हमारे कुछ नहीं आज क्या आज का शिक्षित होना बहुत जरूरी है तो मेरा जवाब इसके साथ होगा कि हां

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

अभिनन्दन मिश्र

रीजनिंग एक्सपर्ट

0:53
Play

Likes  4  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

Laljee Gupta

Career Counsellor

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है ना थोड़ा नावेद है वर्तमान में भी भूत में भी और भविष्य में शिक्षित होना बहुत जरूरी है आपके पास नहीं है सदैव अंधकार में डूबे रहेंगे अज्ञानी बने रहेंगे दूसरों के हाथ में से चलते रहेंगे शिक्षा में पशु अन्य जीव जंतुओं से मुझे अलग करता है मनुष्य को उससे अलग करता है शिक्षा का होना एक मनुष्य के लिए तो बहुत जरूरी है क्योंकि बगैर शिक्षा के तो आप मनुष्य बन नहीं सकते टैबू शिक्षा आप अपने परिवार में प्राप्त किया चाहे वह आपके माता पिता ने दिया हो चाहे आपने स्कूल में लिया हो कहीं से भी आपको शिक्षा मिली है तो आप एक अच्छे इंसान बन सकते हो शिक्षा के बिना अज्ञानता के रास्ते पर आप सदा चलते रहोगे जानते हैं इसके बारे में हमारे दार्शनिकों में प्लेटो ने जिसने दुनिया को रास्ता दिखाया उसने कहा अज्ञानी बनने से अच्छा है पैदा ही नहीं होना तो शिक्षा के बिना किसी की भी इस जीवन की कल्पना पूरी होती है क्या अंतर रह जाएगा हमें जीवों में कोई अंतर नहीं रहेगा शिक्षा इज द फर्स्ट स्टेप अब्दुल्लाह इस जहां से हम को आगे बढ़ने के रास्ते मिलते हैं जहां से हमें जीवन के प्रकाश देते हैं जहां से हमारे संस्कार शुरू होते हैं जहां से हम सीखना शुरू करते हैं जहां से हम सामाजिक नैतिकता और पारिवारिक मूल्यों को समझना शुरू करते हैं 2 शिक्षा के बिना मनुष्य मनुष्य नहीं हो सकता इसलिए शिक्षा का होना मनुष्य के जीवन में बहुत जरूरी है और वह कभी भी किसी भी समय के लिए कन्वर्ट हो सकता है

aapka prashna aajkal shikshit hona bahut zaroori hai na thoda naved hai vartaman me bhi bhoot me bhi aur bhavishya me shikshit hona bahut zaroori hai aapke paas nahi hai sadaiv andhakar me doobe rahenge agyani bane rahenge dusro ke hath me se chalte rahenge shiksha me pashu anya jeev jantuon se mujhe alag karta hai manushya ko usse alag karta hai shiksha ka hona ek manushya ke liye toh bahut zaroori hai kyonki bagair shiksha ke toh aap manushya ban nahi sakte taboo shiksha aap apne parivar me prapt kiya chahen vaah aapke mata pita ne diya ho chahen aapne school me liya ho kahin se bhi aapko shiksha mili hai toh aap ek acche insaan ban sakte ho shiksha ke bina agyanata ke raste par aap sada chalte rahoge jante hain iske bare me hamare darshanikon me plato ne jisne duniya ko rasta dikhaya usne kaha agyani banne se accha hai paida hi nahi hona toh shiksha ke bina kisi ki bhi is jeevan ki kalpana puri hoti hai kya antar reh jaega hamein jivon me koi antar nahi rahega shiksha is the first step Abdullah is jaha se hum ko aage badhne ke raste milte hain jaha se hamein jeevan ke prakash dete hain jaha se hamare sanskar shuru hote hain jaha se hum sikhna shuru karte hain jaha se hum samajik naitikta aur parivarik mulyon ko samajhna shuru karte hain 2 shiksha ke bina manushya manushya nahi ho sakta isliye shiksha ka hona manushya ke jeevan me bahut zaroori hai aur vaah kabhi bhi kisi bhi samay ke liye convert ho sakta hai

आपका प्रश्न आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है ना थोड़ा नावेद है वर्तमान में भी भूत में भी और

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

bhaand's Theatre and Acting Classes

Acting And drama Coach Casting director Drama Director

2:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी आजकल क्या हमेशा से ही शिक्षित होना बहुत जरूरी था और है देखिए आप अपने श्री कृष्णा राम मतलब इन सब लोगों को भी देखा होगा कि गुरुकुल में जाकर शिक्षा लेते थे फिर हमारे जो भी गुरु लोगों ने भी कहीं ना कहीं जाकर शिक्षा लिए हमारे यहां भी इतने बड़े-बड़े स्कूल से कॉलेज हैं वह शिक्षा के ही है शिक्षा के लिए ही है इतने सारे स्कूल में कॉलेज है गुरुकुल है यह है वह तू शिक्षा जरूरी होगी तभी तो है अगर आप शिक्षित होंगे तो आपको किसी के अधीन नहीं रहेंगे मतलब गुरु से चलना तू शिक्षा बहुत जरूरी है शिक्षित होना बहुत जरूरी है अगर आप किसी शिक्षा किसी तरीके से रुक गई है या कुछ प्रॉब्लम के चलते आप नहीं पढ़ पाए हैं शिक्षा नहीं ले पाए हैं घर बैठे आप किसी दोस्त से किसी बच्चे से अपने बच्चों से ज्ञान भाई के बच्चे जो भी आपकी उम्र रही हो तो अब कुछ इतना नॉलेज तो ले सकते हैं क्या चीजों को पढ़ सके और समझता कि कि क्या लिखा हुआ है जो राष्ट्र रास्ते में चलते थे सारे बोर्ड लिखे होते हैं वह क्या लिखे हुए किस चीज की दुकान है वह विज्ञापन चल रहे हैं टीवी पर वह किस चीज के विज्ञापन है जो वक्त दिया जा रहा है वह किस बारे में है और उसका अर्थ क्या है तो यह छोटी-छोटी चीजें हैं जो आपको शाम के अंतर्गत आती है जरूरी नहीं है कि अब स्कूल या कॉलेज में जाकर ही है शिक्षा ले सकें अगर आपको शिक्षित होना है तो आप खुद भी हो सकते हैं शिक्षित होने के लिए कोई डिग्री डिप्लोमा की जरूरत नहीं होती शिक्षित होने के लिए नॉलेज ज्ञान की जरूरत होती है अब घर में बैठकर भी पढ़ सकते हैं आपको डिग्री से मिले ना मिले आप अगर पढ़ना सीख गए तो आप जमाने भर की किताबें पढ़ सकते हैं आप जमाने भर के सवाल सॉल्व करना सीख सकते हैं तू और वही ज्ञान वही नॉलेज आपका जीवन बहुत आगे ले जाएगा तो शिक्षित होना जरूरी है

ji aajkal kya hamesha se hi shikshit hona bahut zaroori tha aur hai dekhiye aap apne shri krishna ram matlab in sab logo ko bhi dekha hoga ki gurukul me jaakar shiksha lete the phir hamare jo bhi guru logo ne bhi kahin na kahin jaakar shiksha liye hamare yahan bhi itne bade bade school se college hain vaah shiksha ke hi hai shiksha ke liye hi hai itne saare school me college hai gurukul hai yah hai vaah tu shiksha zaroori hogi tabhi toh hai agar aap shikshit honge toh aapko kisi ke adheen nahi rahenge matlab guru se chalna tu shiksha bahut zaroori hai shikshit hona bahut zaroori hai agar aap kisi shiksha kisi tarike se ruk gayi hai ya kuch problem ke chalte aap nahi padh paye hain shiksha nahi le paye hain ghar baithe aap kisi dost se kisi bacche se apne baccho se gyaan bhai ke bacche jo bhi aapki umar rahi ho toh ab kuch itna knowledge toh le sakte hain kya chijon ko padh sake aur samajhata ki ki kya likha hua hai jo rashtra raste me chalte the saare board likhe hote hain vaah kya likhe hue kis cheez ki dukaan hai vaah vigyapan chal rahe hain TV par vaah kis cheez ke vigyapan hai jo waqt diya ja raha hai vaah kis bare me hai aur uska arth kya hai toh yah choti choti cheezen hain jo aapko shaam ke antargat aati hai zaroori nahi hai ki ab school ya college me jaakar hi hai shiksha le sake agar aapko shikshit hona hai toh aap khud bhi ho sakte hain shikshit hone ke liye koi degree diploma ki zarurat nahi hoti shikshit hone ke liye knowledge gyaan ki zarurat hoti hai ab ghar me baithkar bhi padh sakte hain aapko degree se mile na mile aap agar padhna seekh gaye toh aap jamane bhar ki kitaben padh sakte hain aap jamane bhar ke sawaal solve karna seekh sakte hain tu aur wahi gyaan wahi knowledge aapka jeevan bahut aage le jaega toh shikshit hona zaroori hai

जी आजकल क्या हमेशा से ही शिक्षित होना बहुत जरूरी था और है देखिए आप अपने श्री कृष्णा राम मत

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user
1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार टशन है क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है यह सिर्फ आज कल की बात नहीं है प्राचीन समय से ही शिक्षा पर बहुत ही ज्यादा जोर दिया गया प्राचीन काल से आज तक शिक्षित व्यक्तित्व निखार पाया है एक शिक्षित व्यक्ति का जितना कद्र अभी है उतना और किसी का नहीं मूर्ख का यहां पर कोई गिनती नहीं है आंखों के लिए बहुत सारी हम लोकोक्तियां पैदा हो चुकी है अशिक्षित व्यक्ति को राजा के आसन के बराबर स्थान मिला है तो इसीलिए शिक्षित होना जरूरी ही नहीं बल्कि कर्तव्य है हम हमारे मनुष्य को हमारे बुद्धि को हमारे व्यक्तित्व को काम में लाने के लिए शिक्षित होना जरूरी है हम एक सफल देश के नागरिक होने के लिए शिक्षित होना जरूरी है एक विश्व नागरिक होने के लिए शिक्षित होना जरूरी है क्योंकि हमें हर चीज को अभी नए टेक्नोलॉजी कौशिक जरूरी है जानना जरूरी है हर व्यक्ति शिक्षित का मतलब सिर्फ बड़े-बड़े की क्रिया लेकर आना नहीं है बल्कि शिक्षक के मूल्य को पहचाना अपने आप को पहचानना अपना समाज को पहचानना अपना देश प्रेम की भावना को जागृत करना एक सफल नागरिक बोध होना यह शिक्षा का सबसे बड़ा उदाहरण है धन्यवाद

namaskar tashan hai kya aajkal shikshit hona bahut zaroori hai yah sirf aaj kal ki baat nahi hai prachin samay se hi shiksha par bahut hi zyada jor diya gaya prachin kaal se aaj tak shikshit vyaktitva nikhaar paya hai ek shikshit vyakti ka jitna kadra abhi hai utana aur kisi ka nahi murkh ka yahan par koi ginti nahi hai aakhon ke liye bahut saari hum lokoktiyan paida ho chuki hai ashikshit vyakti ko raja ke aasan ke barabar sthan mila hai toh isliye shikshit hona zaroori hi nahi balki kartavya hai hum hamare manushya ko hamare buddhi ko hamare vyaktitva ko kaam me lane ke liye shikshit hona zaroori hai hum ek safal desh ke nagarik hone ke liye shikshit hona zaroori hai ek vishwa nagarik hone ke liye shikshit hona zaroori hai kyonki hamein har cheez ko abhi naye technology kaushik zaroori hai janana zaroori hai har vyakti shikshit ka matlab sirf bade bade ki kriya lekar aana nahi hai balki shikshak ke mulya ko pehchana apne aap ko pahachanana apna samaj ko pahachanana apna desh prem ki bhavna ko jagrit karna ek safal nagarik bodh hona yah shiksha ka sabse bada udaharan hai dhanyavad

नमस्कार टशन है क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है यह सिर्फ आज कल की बात नहीं है प्राचीन

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  84
WhatsApp_icon
user

Eh Dr.Y.N Mishra

Electrohomoeopath

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी मेरे ख्याल से आजकल शिक्षित होना बहुत ही जरूरी है शिक्षा का यह मतलब नहीं होता है कि आपने कोई नौकरी कर लेनी है या आपको कोई बढ़िया सा जॉब मिल गया और आपकी शिक्षा काम आ गए शिक्षा का मतलब होता है कि इंसान जीवन में कितना समझ चुका है कितना उसने अनुभव प्राप्त कर लिया है और अपने उस जीवन के अनुभव को उच्च शिक्षा के माध्यम से मॉडिफाई करता है चेंज करता है अच्छा करता है जैसे कि मान लीजिए आप ने शिक्षा लिया और आप खेती कर रहे हैं खेती को नई टेक्नोलॉजी और उन्नतशील तरीके से करेंगे कि आपने कोई व्यवसाय किया लोगों से अलग बनाएगा और आपको एक नई गति और नया उन्नति आपकी एक नई पहचान बनाएगा बहुत-बहुत धन्यवाद

ji mere khayal se aajkal shikshit hona bahut hi zaroori hai shiksha ka yah matlab nahi hota hai ki aapne koi naukri kar leni hai ya aapko koi badhiya sa job mil gaya aur aapki shiksha kaam aa gaye shiksha ka matlab hota hai ki insaan jeevan me kitna samajh chuka hai kitna usne anubhav prapt kar liya hai aur apne us jeevan ke anubhav ko ucch shiksha ke madhyam se madifai karta hai change karta hai accha karta hai jaise ki maan lijiye aap ne shiksha liya aur aap kheti kar rahe hain kheti ko nayi technology aur unnatashil tarike se karenge ki aapne koi vyavasaya kiya logo se alag banayega aur aapko ek nayi gati aur naya unnati aapki ek nayi pehchaan banayega bahut bahut dhanyavad

जी मेरे ख्याल से आजकल शिक्षित होना बहुत ही जरूरी है शिक्षा का यह मतलब नहीं होता है कि आपने

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
user

Amrit Raj

Motivational Speakar,Social Activist,Analyst,Shayar,Strategist & Research Scholar.

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिल्कुल आजकल शिक्षित होना इसलिए जरूरी है क्योंकि जब तक आप एजुकेटेड नहीं हो गए तो आप अपने फंडामेंटल राइट हो आप के क्या अधिकार हैं आपके क्या ड्यूटी है कंट्री को लेकर सोसाइटी को लेकर मिशन को लेकर या फिर आपके सारे आने वाले जीवन के अगले ध्यान ना क्या कर सकते हैं क्लिक क्या संभावनाएं कौन-कौन से जॉब कर सकते हैं या फिर आपके अंदर जो अब डिजर्व करते हैं उस चीज को आप को समझने के लिए शिक्षित होना जरूरी है तभी आप अपने सारे चीजों को समझकर जीवन में सफल इंसान बन पाएंगे

ji haan bilkul aajkal shikshit hona isliye zaroori hai kyonki jab tak aap educated nahi ho gaye toh aap apne fundamental right ho aap ke kya adhikaar hain aapke kya duty hai country ko lekar society ko lekar mission ko lekar ya phir aapke saare aane waale jeevan ke agle dhyan na kya kar sakte hain click kya sambhavnayen kaun kaun se job kar sakte hain ya phir aapke andar jo ab deserve karte hain us cheez ko aap ko samjhne ke liye shikshit hona zaroori hai tabhi aap apne saare chijon ko samajhkar jeevan me safal insaan ban payenge

जी हां बिल्कुल आजकल शिक्षित होना इसलिए जरूरी है क्योंकि जब तक आप एजुकेटेड नहीं हो गए तो आप

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Tanay Mishra

Head Control Clerk In Forest Department U.P.

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिल्कुल आप के समय में शिक्षित होना बहुत ही ज्यादा जरूरी है क्योंकि जब आप शिक्षित रहेंगे जब आप किसी के बारे में ज्ञान अर्जित किए रहेंगे तभी आप ज्ञान दूसरे को दे सकते हैं किसी को बता सकते हैं और अपनी एक अलग पर्सनैलिटी समाज में रख सकते तो शिक्षित होना बहुत ही ज्यादा जरूरी है कृपया मैं बहुत सारी चीजों का ज्ञान होता है उसे धन्यवाद

ji haan bilkul aap ke samay me shikshit hona bahut hi zyada zaroori hai kyonki jab aap shikshit rahenge jab aap kisi ke bare me gyaan arjit kiye rahenge tabhi aap gyaan dusre ko de sakte hain kisi ko bata sakte hain aur apni ek alag personality samaj me rakh sakte toh shikshit hona bahut hi zyada zaroori hai kripya main bahut saari chijon ka gyaan hota hai use dhanyavad

जी हां बिल्कुल आप के समय में शिक्षित होना बहुत ही ज्यादा जरूरी है क्योंकि जब आप शिक्षित रह

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  217
WhatsApp_icon
user

Beer Singh Rajput

Career Counsellor & Lecturer.

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है हां जी बिल्कुल जरूरी है क्योंकि पिछले संसार मेहनत से और बाजुओं की ताकत से चलता था अब संसार ज्ञान हो तकनीक के सहारे चलता है और इन दोनों के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है क्योंकि शिक्षा से ही ज्ञान प्राप्त होता है और शिक्षा से ही तकनीकी का ज्ञान प्राप्त होता है और उन्नत तकनीक के साथ चलना और नई-नई तकनीकों की खोज करना यह भी शिक्षा के सहारे ही प्राप्त हुआ है शिक्षा के सहारे हम तकनीकी में उन्नति कर सकते हैं उन्नत तकनीकी का उपयोग कर सकते हैं और मानव जीवन को और सहज और सरल बना सकते हैं इसीलिए शिक्षक होना बहुत जरूरी है

kya aajkal shikshit hona bahut zaroori hai haan ji bilkul zaroori hai kyonki pichle sansar mehnat se aur bajuon ki takat se chalta tha ab sansar gyaan ho taknik ke sahare chalta hai aur in dono ke liye shiksha bahut zaroori hai kyonki shiksha se hi gyaan prapt hota hai aur shiksha se hi takniki ka gyaan prapt hota hai aur unnat taknik ke saath chalna aur nayi nayi taknikon ki khoj karna yah bhi shiksha ke sahare hi prapt hua hai shiksha ke sahare hum takniki me unnati kar sakte hain unnat takniki ka upyog kar sakte hain aur manav jeevan ko aur sehaz aur saral bana sakte hain isliye shikshak hona bahut zaroori hai

क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है हां जी बिल्कुल जरूरी है क्योंकि पिछले संसार मेहनत से

Romanized Version
Likes  196  Dislikes    views  1515
WhatsApp_icon
user

Mr. Mukesh Kumar

Youtuber, https://youtu.be/lxwi7CXLHSQ

3:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के समय में प्रत्येक व्यक्ति का शिक्षित होना परम आवश्यक है यदि कोई व्यक्ति शिक्षित नहीं होता है तो समझिए कि वह एक जानवर के समान अपना जीवन व्यतीत कर रहा है क्योंकि जानवरों को हम रस्सी में बांधकर की जड़ों में रखकर रखते हैं यदि वे चाहे पिजड़े में सिस्टम निकलना तो नहीं निकल पाते क्योंकि उनकी चाबी हमारे हाथों में होते हैं उनसे अनुसार यदि हम शिक्षित नहीं होते हैं तो हमें अपने अधिकार का ज्ञान नहीं होता है क्या सही है क्या गलत है इसका क्या नहीं होता है हमें क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए इस बारे में भी जानकारी नहीं होती और यह सब ना होने के कारण लोग हमारा फायदा उठाते हैं अर्थात हम एक पिजड़े में बंद मनुष्य के समान हो जाते हैं जिसका चाबी वह लोग रखते हैं जिसके पास आपसे ज्यादा ज्ञान होता है हमसे ज्यादा ज्ञान होता है तो ऐसे हालात में शिक्षित होना परम आवश्यक अव्य बताते हैं कि शिक्षित किस क्षेत्र में हो तो देखे जरूरी नहीं है कि हमारे पास डिग्री या होना ही शिक्षित होने का प्रमाण है यदि कोई व्यक्ति कहता है कि मेरे पास डिग्री बहुत अधिक है और यह शिक्षित होने का प्रमाण है तो यहां उपयुक्त नहीं हैं क्योंकि वे केवल डिग्री ले लेने से अगर शिक्षित होते तो बहुत ऐसे हमारे समाज में व्यक्ति मिलेंगे जो एजुकेटेड ना होने के बावजूद भी एक एजुकेटेड पर्सन से काफी अच्छा योगिता रखते हैं दक्षता रखते हैं जीवन क्वेश्चन रखते हैं तो ऐसे में शिक्षित होना प्रत्येक पहलू अपनी अपनी विशेषता होती है अर्थात यदि किसान आप है तो किसान के क्षेत्र में शिक्षित हो सकते हैं जिसमें आप डिग्री ना लेने के बावजूद भी प्रदेश प्रति वर्ष प्रति माह किए जाने वाले फलों के अध्ययन से आप उस क्षेत्र के एक शिक्षित व्यक्ति कहला सकते हैं एक बेड है तो बेड को भी जड़ी बूटियों की काफी जानकारियां हो जाती है पहले के लोग जो थे वह जरूर नीचे के पढ़े लिखे होते थे वहीं बहन होते थे तो उन्हें केवल बेसिक जानकारी ही नहीं काफी अच्छा अध्यात्मिक गुण रखते थे लेकिन वे उन्हें शिक्षित कहा जाता था ब्राह्मण समुदाय की भी बात कर सकते हैं चाहे हम कोई भी जाति धर्म का हो यदि वह अपने कार्य कौशल में अपने कर्तव्य में काफी अच्छा पकड़ लगता है तो उसे क्षेत्र के लिए शिक्षित माना जा सकता है कहा भी गया है कि आप कोई भी कार्य करें यदि उसमें आप पूर्ण रुप से निपुण है तो आप समझ ही उस कार्य के लिए फोन पर शिक्षित हैं हालांकि किताबी ज्ञान के साथ-साथ व्यावहारिक ज्ञान की भी बहुत आवश्यकता होती है इसलिए व्यवहारिक ज्ञान भी एक शिक्षित के दायरे में आता है तो इस तरह हम देख सकते हैं कि यदि हम अपने अधिकारों का प्रयोग सही प्रकार से करें हमें क्या चीज करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए अपने जीवन के लिए अपने परिवार के लिए अपने समाज के लिए अपने देश के लिए तो ऐसे में शिक्षित होना जरूरी

aaj ke samay me pratyek vyakti ka shikshit hona param aavashyak hai yadi koi vyakti shikshit nahi hota hai toh samjhiye ki vaah ek janwar ke saman apna jeevan vyatit kar raha hai kyonki jaanvaro ko hum rassi me bandhkar ki jadon me rakhakar rakhte hain yadi ve chahen pijde me system nikalna toh nahi nikal paate kyonki unki chabi hamare hathon me hote hain unse anusaar yadi hum shikshit nahi hote hain toh hamein apne adhikaar ka gyaan nahi hota hai kya sahi hai kya galat hai iska kya nahi hota hai hamein kya karna chahiye kya nahi karna chahiye is bare me bhi jaankari nahi hoti aur yah sab na hone ke karan log hamara fayda uthate hain arthat hum ek pijde me band manushya ke saman ho jaate hain jiska chabi vaah log rakhte hain jiske paas aapse zyada gyaan hota hai humse zyada gyaan hota hai toh aise haalaat me shikshit hona param aavashyak avya batatey hain ki shikshit kis kshetra me ho toh dekhe zaroori nahi hai ki hamare paas degree ya hona hi shikshit hone ka pramaan hai yadi koi vyakti kahata hai ki mere paas degree bahut adhik hai aur yah shikshit hone ka pramaan hai toh yahan upyukt nahi hain kyonki ve keval degree le lene se agar shikshit hote toh bahut aise hamare samaj me vyakti milenge jo educated na hone ke bawajud bhi ek educated person se kaafi accha yogita rakhte hain dakshata rakhte hain jeevan question rakhte hain toh aise me shikshit hona pratyek pahaloo apni apni visheshata hoti hai arthat yadi kisan aap hai toh kisan ke kshetra me shikshit ho sakte hain jisme aap degree na lene ke bawajud bhi pradesh prati varsh prati mah kiye jaane waale falon ke adhyayan se aap us kshetra ke ek shikshit vyakti kahela sakte hain ek bed hai toh bed ko bhi jadi butiyon ki kaafi jankariyan ho jaati hai pehle ke log jo the vaah zaroor niche ke padhe likhe hote the wahi behen hote the toh unhe keval basic jaankari hi nahi kaafi accha adhyatmik gun rakhte the lekin ve unhe shikshit kaha jata tha brahman samuday ki bhi baat kar sakte hain chahen hum koi bhi jati dharm ka ho yadi vaah apne karya kaushal me apne kartavya me kaafi accha pakad lagta hai toh use kshetra ke liye shikshit mana ja sakta hai kaha bhi gaya hai ki aap koi bhi karya kare yadi usme aap purn roop se nipun hai toh aap samajh hi us karya ke liye phone par shikshit hain halaki kitabi gyaan ke saath saath vyavaharik gyaan ki bhi bahut avashyakta hoti hai isliye vyavaharik gyaan bhi ek shikshit ke daayre me aata hai toh is tarah hum dekh sakte hain ki yadi hum apne adhikaaro ka prayog sahi prakar se kare hamein kya cheez karna chahiye kya nahi karna chahiye apne jeevan ke liye apne parivar ke liye apne samaj ke liye apne desh ke liye toh aise me shikshit hona zaroori

आज के समय में प्रत्येक व्यक्ति का शिक्षित होना परम आवश्यक है यदि कोई व्यक्ति शिक्षित नहीं

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1651
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पीके शिक्षित होना भी जरूरी है कि शिक्षित होंगे तभी आप सब से बनेंगे शिक्षित आदमी को यह पता होता है क्या करना है कि आपका है क्या पता है और आजकल तो आपके दिखे कितने गांव के बच्चे हैं वह इतने शिक्षा ग्रहण करें आईएएस अफसर ऑफिस आईपीएस अफसर अफसर कमिश्नर बन के दिखा रही हो अभी मैं देख रहा था एक लड़की के साथ जिसके मां बाप को जिसके बाप की बचपन में डेथ हो गई थी जब वह 14 साल की थी कि बाप के पढ़ने जाती थी बाप पर ही छाया मुझे बढ़ाते थे इंग्लिश आती इतना जानते थे और उसके बाद जब उनकी डेथ हो गई तो फिर मेरी मां ने सारा कुछ करा और आज वह 150 से आईपीएस ऑफिसर बनी हुई है खेती में अमेरिका में जाकर पढ़ कर आई हूं स्कॉलरशिप किसी की और वहां मेंटॉप करो जब एंट्रेंस एग्जाम दिया था ऑफ कर रहा था तो बस करो सिर्फ पढ़ाई हो उन्होंने बहुत का मुझे यहां सेवा करनी तो अपने देश की करनी है वापिस इंडिया गजब की जात की मोमडन है वह और उनके रिश्ते को लोग बुरा बना दे मेरी मासूम की जाती थी और चुपचाप मेरी हिम्मत भाई होगी यह शिक्षा बहुत जरूरी है आज की टाइम में शिक्षा होने का प्रमाण में सलमान होगा अच्छी जगह जाएंगे हम आपका मान सम्मान होगा

pk shikshit hona bhi zaroori hai ki shikshit honge tabhi aap sab se banenge shikshit aadmi ko yah pata hota hai kya karna hai ki aapka hai kya pata hai aur aajkal toh aapke dikhe kitne gaon ke bacche hain vaah itne shiksha grahan kare IAS officer office ips officer officer commissioner ban ke dikha rahi ho abhi main dekh raha tha ek ladki ke saath jiske maa baap ko jiske baap ki bachpan me death ho gayi thi jab vaah 14 saal ki thi ki baap ke padhne jaati thi baap par hi chhaya mujhe badhate the english aati itna jante the aur uske baad jab unki death ho gayi toh phir meri maa ne saara kuch kara aur aaj vaah 150 se ips officer bani hui hai kheti me america me jaakar padh kar I hoon scholarship kisi ki aur wahan mentap karo jab entrance exam diya tha of kar raha tha toh bus karo sirf padhai ho unhone bahut ka mujhe yahan seva karni toh apne desh ki karni hai vaapas india gajab ki jaat ki momadan hai vaah aur unke rishte ko log bura bana de meri masoom ki jaati thi aur chupchap meri himmat bhai hogi yah shiksha bahut zaroori hai aaj ki time me shiksha hone ka pramaan me salman hoga achi jagah jaenge hum aapka maan sammaan hoga

पीके शिक्षित होना भी जरूरी है कि शिक्षित होंगे तभी आप सब से बनेंगे शिक्षित आदमी को यह पता

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  3520
WhatsApp_icon
user

Dhananjay Kumar

government

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल ही नहीं अपितु हां सचिन काल से ही शिक्षा का काफी बड़ा ही महत्वपूर्ण है और आजकल तो इस बदलते परिवेश में चारों तरफ से सभी मॉडर्न होते जा रहे हैं तो उसने शिक्षित होना और साक्षर ने शिक्षित होना जरूरी है लोगों को अपना अधिकार अपना मौलिक अधिकार मौलिक कर्तव्य से ज्ञात हो जाता है शिक्षक होने के बाद भी बहुत ही जरूरी चीज है शिक्षित होना

aajkal hi nahi apitu haan sachin kaal se hi shiksha ka kaafi bada hi mahatvapurna hai aur aajkal toh is badalte parivesh me charo taraf se sabhi modern hote ja rahe hain toh usne shikshit hona aur sakshar ne shikshit hona zaroori hai logo ko apna adhikaar apna maulik adhikaar maulik kartavya se gyaat ho jata hai shikshak hone ke baad bhi bahut hi zaroori cheez hai shikshit hona

आजकल ही नहीं अपितु हां सचिन काल से ही शिक्षा का काफी बड़ा ही महत्वपूर्ण है और आजकल तो इस ब

Romanized Version
Likes  70  Dislikes    views  974
WhatsApp_icon
user

Sapna

Social Worker

2:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या आज का शिक्षित होना बहुत जरूरी है तो आपकी जानकारी के लिए मैं आपको बताना चाहूंगी कि बिना शिक्षा के जीवन का हर काम अधूरा होता है शिक्षा से ही जीवन का हर सपना पूरा होता है शिक्षा के अभाव में जो हमारे काम खराब हो जाती हैं वह काम खराब नहीं होती शिक्षा का हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण स्थान होता है शिक्षा ज्ञान होता है और जो ज्ञान होता है वह प्रकाश होता है और हम प्रकाश में ही रहकर किसी काम को सही तरीके से कर पाते हैं मान लीजिए मैं आपको एक उदाहरण देती हूं कि हमें मालू कोई काम करना है और हम किसी कमरे के अंदर हैं उसमें अंधेरा है तो क्या हम उसको कर पाएंगे आप जरा सोचिए नहीं ना तो ऐसा ही है अंधेरा होता है अशिक्षा शिक्षित होना होता है अंधेरे का उदाहरण जिसमें वह कर दे अगर हम शिक्षित हैं तो हम अपने जीवन में किसी भी काम को सही तरीके से नहीं कर पाते और यदि हमारे पास शिक्षा है हमारे पास ज्ञान है तो हम हर काम को ठीक प्रकार से कर सकते हैं और दूसरों का मार्गदर्शन भी कर सकते हैं और मार्गदर्शन इस तरीके से कर सकते हैं कि हमें हम उनको शिक्षा प्राप्ति में मदद कर सकते हैं उन्हें सही रास्ता दिखा सकते हैं हम अपने शिक्षित होने का इस तरीके से जो फायदा है वह अपना फायदा है उसे दूसरे लोगों की मदद करने में लगा सकते हैं ताकि आज जो हमारे पास ज्ञान हैं वह ज्ञान सप्त पहुंचे हमारे घर परिवार में रहे वह ज्ञान जो ज्ञान है वह समाज में रहे देश में रहे शिक्षा ज्ञान बहुत जरूरी होता है और यह और यह ज्ञान केवल हमारे लिए नहीं बल्कि हर इंसान के लिए जरूरी होता है क्योंकि हर इंसान का जीवन ज्ञान के बिना अधूरा होता है सपना शर्मा

aapka prashna hai kya aaj ka shikshit hona bahut zaroori hai toh aapki jaankari ke liye main aapko batana chahungi ki bina shiksha ke jeevan ka har kaam adhura hota hai shiksha se hi jeevan ka har sapna pura hota hai shiksha ke abhaav me jo hamare kaam kharab ho jaati hain vaah kaam kharab nahi hoti shiksha ka hamare jeevan me bahut mahatvapurna sthan hota hai shiksha gyaan hota hai aur jo gyaan hota hai vaah prakash hota hai aur hum prakash me hi rahkar kisi kaam ko sahi tarike se kar paate hain maan lijiye main aapko ek udaharan deti hoon ki hamein maloom koi kaam karna hai aur hum kisi kamre ke andar hain usme andhera hai toh kya hum usko kar payenge aap zara sochiye nahi na toh aisa hi hai andhera hota hai asiksha shikshit hona hota hai andhere ka udaharan jisme vaah kar de agar hum shikshit hain toh hum apne jeevan me kisi bhi kaam ko sahi tarike se nahi kar paate aur yadi hamare paas shiksha hai hamare paas gyaan hai toh hum har kaam ko theek prakar se kar sakte hain aur dusro ka margdarshan bhi kar sakte hain aur margdarshan is tarike se kar sakte hain ki hamein hum unko shiksha prapti me madad kar sakte hain unhe sahi rasta dikha sakte hain hum apne shikshit hone ka is tarike se jo fayda hai vaah apna fayda hai use dusre logo ki madad karne me laga sakte hain taki aaj jo hamare paas gyaan hain vaah gyaan sapt pahuche hamare ghar parivar me rahe vaah gyaan jo gyaan hai vaah samaj me rahe desh me rahe shiksha gyaan bahut zaroori hota hai aur yah aur yah gyaan keval hamare liye nahi balki har insaan ke liye zaroori hota hai kyonki har insaan ka jeevan gyaan ke bina adhura hota hai sapna sharma

आपका प्रश्न है क्या आज का शिक्षित होना बहुत जरूरी है तो आपकी जानकारी के लिए मैं आपको बताना

Romanized Version
Likes  111  Dislikes    views  1919
WhatsApp_icon
user

professor Govind Tripathi

Professor(P.hd in mathematics)/Social worker

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं परमिशन गोविंद त्रिपाठी आपका प्रश्न है कि आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है आजकल ही नहीं शिक्षित होना हमेशा जरूरी था जरूरी है और जंगली होगा शिक्षा का लाइफ में अर्थात जीवन में बहुत अधिक मात्रा है प्रशिक्षित गति है वह अपने जीवन को अच्छे ढंग से जी सकता है अपनी लाइफ को अच्छे ढंग से सेटल कर सकता है अगर शिक्षित व्यक्ति है वह दूसरों को शिक्षा दे सकता है प्रशिक्षित व्यक्ति हैं वह जीवन के हर क्षेत्र में प्रगति कर सकता है बशर्ते उसकी शिक्षा किताबी कीड़ा ना हो प्रैक्टिकल में भी शिक्षित होना चाहिए अर्थात शिक्षा का जीवन में जो उपयोग है उसको उपयोग करना चाहिए तभी शिक्षा का असली मकसद प्राप्त होगा धन्यवाद

namaskar main permission govind tripathi aapka prashna hai ki aajkal shikshit hona bahut zaroori hai aajkal hi nahi shikshit hona hamesha zaroori tha zaroori hai aur jungli hoga shiksha ka life me arthat jeevan me bahut adhik matra hai prashikshit gati hai vaah apne jeevan ko acche dhang se ji sakta hai apni life ko acche dhang se settle kar sakta hai agar shikshit vyakti hai vaah dusro ko shiksha de sakta hai prashikshit vyakti hain vaah jeevan ke har kshetra me pragati kar sakta hai basharte uski shiksha kitabi kida na ho practical me bhi shikshit hona chahiye arthat shiksha ka jeevan me jo upyog hai usko upyog karna chahiye tabhi shiksha ka asli maksad prapt hoga dhanyavad

नमस्कार मैं परमिशन गोविंद त्रिपाठी आपका प्रश्न है कि आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है आजकल

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज का क्रिकेट होना बहुत जरूरी है हर युग में शिक्षित होना जरूरी है बस शिक्षा का तरीका में लिया है बड़े गुरु आश्रम में शिक्षा दी जाती थी सामाजिक राजनीतिक आर्थिक चर्च शिक्षा अशिक्षा और इंसान को ज्ञान शिक्षा दान शिक्षा विज्ञान शिक्षा और आज की जो शिक्षाएं यह उन शिक्षकों से दूर नाटक दिखाएं और मशीनी शिक्षाएं और ज्ञानी शिक्षाएं शिक्षा हर क्षेत्र में जरूरी है और हमेशा क्योंकि

aaj ka cricket hona bahut zaroori hai har yug me shikshit hona zaroori hai bus shiksha ka tarika me liya hai bade guru ashram me shiksha di jaati thi samajik raajnitik aarthik church shiksha asiksha aur insaan ko gyaan shiksha daan shiksha vigyan shiksha aur aaj ki jo sikshayen yah un shikshakon se dur natak dikhaen aur mashini sikshayen aur gyani sikshayen shiksha har kshetra me zaroori hai aur hamesha kyonki

आज का क्रिकेट होना बहुत जरूरी है हर युग में शिक्षित होना जरूरी है बस शिक्षा का तरीका में ल

Romanized Version
Likes  380  Dislikes    views  4497
WhatsApp_icon
user

(Baba ji pehowa )

Motivational Speaker

4:19
Play

Likes  4  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Manish Kumar Chotu

Bpsc Instructor and content writer

7:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है हां भाई आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है वर्तमान समय को देखते हुए वर्तमान समाज को देखते हुए शिक्षित होना बहुत जरूरी है कितना होते हैं तो समाज में हमारी इज्जत कम हो जाती है समाज में देखने का लोगों का नजरिया चेंज हो जाता है बात करने का नजरिया चेंज हो जाता है तो इस सब के लिए हमें वर्तमान में शिक्षित होना जरूरी है क्योंकि शिक्षा से ही हम अच्छे जीवन के लिए कामना कर सकते हैं अगर शिक्षा नहीं होगी तो बच्चे जीवन की कामना नहीं करते ऐसी बात नहीं किसी का नहीं है तो अच्छे जीवन में काम नहीं कर सकते हैं फिर उसके पास स्टार्टअप है कौन सा बिजनेस कर सकते हैं लेकिन शिक्षा शिक्षित होने पर हमारा समाज में बहुत ज्यादा इज्जत है शिक्षा को हमारे समाज में पूजनीय माना गया है शिक्षित जो बाल होते हैं उसे पूजनीय माना गया है लेकिन वर्तमान की हो रही है तो सही है लेकिन अगर देखा जाए तो शिक्षित होना बहुत जरूरी नहीं है क्यों एग्जांपल थे शिक्षा ही आज पृथ्वी के विनाश का कारण है जब शिक्षा नहीं था तो पृथ्वी बहुत ही बढ़िया जिंदगी बहुत ही स्मूथ पर कोई कठिनाई नहीं थी लेकिन जैसे-जैसे शिक्षा बढ़ता गया कठिनाइयां बढ़ती गई घटना या बढ़ती गई जैसे इतिहास भारत का इतिहास सबसे पुराना इतिहास है हड़प्पा सभ्यता हड़प्पा सभ्यता को आज ऐतिहासिक सभ्यता कहते हैं आज ऐतिहासिक मतलब कि आधा इतिहास वहां पर लिखावट तो मिली है लेकिन पड़ने पाए मतलब वहां शिक्षा नहीं थी तो शिक्षा उस समय नहीं थी फिर भी जिंदगी में कठिनाइयां नहीं कि कोई भी कठिनाइयां नहीं थी नारी अधिकार सभी को बर्तन कोई जाति प्रथा नहीं थी महिलाओं को पूरी अधिकार मिला हुआ था यहां तक कि महिला घर की प्रधानी भी हुआ करती कोई मंदिर पूजा को पूजा पाठ नहीं हुआ करता था कोई देवी देवता नहीं हुआ करता था एक देवी एक देखता के साथ मिलते हैं जो बोलते हैं जिसके बारे में शिव जी के बारे में लिंग देवता की पूजा हुई थी इसका साथ मिलते हैं उसमें साथ मिला था लेकिन जैसे ही हम शिक्षित हुए ऐसे ही हम शिक्षित हुए तो जीवन में कठिनाइयां बढ़ गई जीवन आफ स्मूथ पूर्ण नहीं रहा अब जीवन में कठिनाइयां बढ़ गई घटना या बढ़ गई जीवन में मतलब एक नई प्रथा को जीवन सरवाइव करने के लिए नई प्रथा को लागू कर दिया गया जाति प्रथा वर्तमान में जाति प्रथा भी ठीक थी जब वैदिक काल के आसपास प्रत्याशी प्रस्तावित ठीक थी क्योंकि वह कर्म तथा कर्म प्रधान देश हमारा है वह कर्म पर था सही था लेकिन आगे आकर वह जाति प्रथा जन्म प्रथम बांगरी और यही समाज के सबसे बड़ा बहुत बड़ी बुराई हुई क्योंकि अगर एक ब्राह्मण का बेटा कितना भी हो तो वह ब्राह्मण ही कहलाएगा और एक सूत्र का बेटा शिक्षित हो गया तो भी वह शुद्ध कहलाएगा समाज में उसको सुधार की ही दृष्टि से देखा जाएगा यह प्रथा के समाज में दूरियां बनी इंसान के इंसान के बीच दूरियां बनी जो कि वर्तमान इसके पहले नहीं था उस समय एक ही घर में चार जातियों के लोग रहते थे मतलब पिताजी अगर पढ़ा रहे हैं तो शिक्षक हैं भाई लड़ रहा है क्षत्रिय है मां अन्य पूछ रही है तो बैठे हैं और हम तीनों का सेवा कर रहे हैं तो सुधर कह रहा है एक ही घर में चार जाती है जाती मतलब इंसान में कोई छूट की भावना नहीं हुई लेकिन जैसे ही जाती कर्म प्रधान से जन प्रधान व छुआछूत की भावना आने लगी दूरी बनने लगी तो यह शिक्षित बड़की हमारे समाज में कठिनाइयां लाए वर्तमान में हमारा समाज ग्लोबल पूरा पृथ्वी एक गांव हो गया पहले पृथ्वी के एक छोर से दूसरे छोर पर वह कहां क्या है पता भी नहीं था अमेरिका के बारे में किसी को पता भी नहीं था वो तो बस कोलंबस ने अमेरिका की खोज की लेकिन आज भी हमारा गांव होगी एक गांव के कारण की शिक्षा उसके लिए बहुत जरूरी हो गया है इसीलिए वर्तमान में शिक्षित होना बहुत जरूरी है लेकिन शिक्षा ही नुकसान दे दी है कोई चीज भी जब कोई चीज बढ़िया चीज होते हैं तो उसमें नुकसान देते हैं उसमें अच्छाइयां है तो बुराई ही रहेगी ही रहेंगे नहीं रहने का सवाल नहीं है अगर 9976 वह एक प्रसिद्ध भी बुराई होगी तो शिक्षा अच्छाई है तो उसमें कुछ बुराइयां भी है वह बुराइयों को खत्म करने के लिए हमारे समाज को वर्तमान जो है उसको अतीत को देखकर जीना होगा हमारे समाज को आपस में मिलकर इन बुराइयों को खत्म करना होगा मानव मानव का मानव मानव को पहचानने देवता के भाग नमक मिला है मानव ही देव है जो वर्तमान में यह संक्रमण काल जो फैला हुआ है जो यह करो ना पाए तब बात चल रही है यह मानव बुरी बना रहा था मानव कहां जा रहा है पता नहीं बस ग्लोबलाइजेशन वह बढ़ रहा है तो हम भी बढ़ रहे हैं बस बड़े जा रहे हैं बड़े जा रहे हैं कहां जाएं हैं पता नहीं एक कहावत है कि छत गिर रहा है क्या छत गिर रहा है उसके पीछे भाग रहा है छत गिर रहा है तो दिखेगा नहीं वह बोल दिया उसके पीछे भाग रहे भाग रहे हैं कहां जा रहे हैं पता नहीं वही हमारा वही हमारा देश वही हमारा वर्ल्ड हो गया है भागे जा रहे हैं पता नहीं सरकार को अस्थिर करने की कोशिश शायद प्रकृति का दिन है सारे परमाणु के पीछे पीछे लड़ रहे थे सारे को परमाणु पर घमंड था लेकिन एक विषाणु के सामने घुटने टेक दिए तो वर्तमान में जिंदगी सरवाइव अच्छी जिंदगी जीने के लिए शिक्षा जरूरी है हम भी शिक्षित वर्ग से ही है और वर्तमान में शिक्षा ग्रहण करने की कोशिश कर रहे हैं शिक्षक गठन नहीं शिक्षा ग्रहण कर लिया है ग्रहण कर आते हैं और अच्छा से जिंदगी जीने के लिए एक अच्छे पद की प्राप्ति चाहते हैं आप लोग का क्रम आशीर्वाद से शायद मिल जाए ओके धन्यवाद विजयदशमी की शुभकामनाएं पूरी मंगलमय हो आप लोग का धन्यवाद

kya aajkal shikshit hona bahut zaroori hai haan bhai aajkal shikshit hona bahut zaroori hai vartaman samay ko dekhte hue vartaman samaj ko dekhte hue shikshit hona bahut zaroori hai kitna hote hain toh samaj me hamari izzat kam ho jaati hai samaj me dekhne ka logo ka najariya change ho jata hai baat karne ka najariya change ho jata hai toh is sab ke liye hamein vartaman me shikshit hona zaroori hai kyonki shiksha se hi hum acche jeevan ke liye kamna kar sakte hain agar shiksha nahi hogi toh bacche jeevan ki kamna nahi karte aisi baat nahi kisi ka nahi hai toh acche jeevan me kaam nahi kar sakte hain phir uske paas startup hai kaun sa business kar sakte hain lekin shiksha shikshit hone par hamara samaj me bahut zyada izzat hai shiksha ko hamare samaj me pujaniya mana gaya hai shikshit jo baal hote hain use pujaniya mana gaya hai lekin vartaman ki ho rahi hai toh sahi hai lekin agar dekha jaaye toh shikshit hona bahut zaroori nahi hai kyon example the shiksha hi aaj prithvi ke vinash ka karan hai jab shiksha nahi tha toh prithvi bahut hi badhiya zindagi bahut hi smooth par koi kathinai nahi thi lekin jaise jaise shiksha badhta gaya kathinaiyaan badhti gayi ghatna ya badhti gayi jaise itihas bharat ka itihas sabse purana itihas hai hadappa sabhyata hadappa sabhyata ko aaj etihasik sabhyata kehte hain aaj etihasik matlab ki aadha itihas wahan par likhavat toh mili hai lekin padane paye matlab wahan shiksha nahi thi toh shiksha us samay nahi thi phir bhi zindagi me kathinaiyaan nahi ki koi bhi kathinaiyaan nahi thi nari adhikaar sabhi ko bartan koi jati pratha nahi thi mahilaon ko puri adhikaar mila hua tha yahan tak ki mahila ghar ki pradhani bhi hua karti koi mandir puja ko puja path nahi hua karta tha koi devi devta nahi hua karta tha ek devi ek dekhta ke saath milte hain jo bolte hain jiske bare me shiv ji ke bare me ling devta ki puja hui thi iska saath milte hain usme saath mila tha lekin jaise hi hum shikshit hue aise hi hum shikshit hue toh jeevan me kathinaiyaan badh gayi jeevan of smooth purn nahi raha ab jeevan me kathinaiyaan badh gayi ghatna ya badh gayi jeevan me matlab ek nayi pratha ko jeevan survive karne ke liye nayi pratha ko laagu kar diya gaya jati pratha vartaman me jati pratha bhi theek thi jab vaidik kaal ke aaspass pratyashi prastavit theek thi kyonki vaah karm tatha karm pradhan desh hamara hai vaah karm par tha sahi tha lekin aage aakar vaah jati pratha janam pratham bangari aur yahi samaj ke sabse bada bahut badi burayi hui kyonki agar ek brahman ka beta kitna bhi ho toh vaah brahman hi kehlaega aur ek sutra ka beta shikshit ho gaya toh bhi vaah shudh kehlaega samaj me usko sudhaar ki hi drishti se dekha jaega yah pratha ke samaj me duriyan bani insaan ke insaan ke beech duriyan bani jo ki vartaman iske pehle nahi tha us samay ek hi ghar me char jaatiyo ke log rehte the matlab pitaji agar padha rahe hain toh shikshak hain bhai lad raha hai kshatriya hai maa anya puch rahi hai toh baithe hain aur hum tatvo ka seva kar rahe hain toh sudhar keh raha hai ek hi ghar me char jaati hai jaati matlab insaan me koi chhut ki bhavna nahi hui lekin jaise hi jaati karm pradhan se jan pradhan va chuachut ki bhavna aane lagi doori banne lagi toh yah shikshit badaki hamare samaj me kathinaiyaan laye vartaman me hamara samaj global pura prithvi ek gaon ho gaya pehle prithvi ke ek chhor se dusre chhor par vaah kaha kya hai pata bhi nahi tha america ke bare me kisi ko pata bhi nahi tha vo toh bus columbus ne america ki khoj ki lekin aaj bhi hamara gaon hogi ek gaon ke karan ki shiksha uske liye bahut zaroori ho gaya hai isliye vartaman me shikshit hona bahut zaroori hai lekin shiksha hi nuksan de di hai koi cheez bhi jab koi cheez badhiya cheez hote hain toh usme nuksan dete hain usme achaiya hai toh burayi hi rahegi hi rahenge nahi rehne ka sawaal nahi hai agar 9976 vaah ek prasiddh bhi burayi hogi toh shiksha acchai hai toh usme kuch buraiyan bhi hai vaah buraiyon ko khatam karne ke liye hamare samaj ko vartaman jo hai usko ateet ko dekhkar jeena hoga hamare samaj ko aapas me milkar in buraiyon ko khatam karna hoga manav manav ka manav manav ko pahachanne devta ke bhag namak mila hai manav hi dev hai jo vartaman me yah sankraman kaal jo faila hua hai jo yah karo na paye tab baat chal rahi hai yah manav buri bana raha tha manav kaha ja raha hai pata nahi bus globalization vaah badh raha hai toh hum bhi badh rahe hain bus bade ja rahe hain bade ja rahe hain kaha jayen hain pata nahi ek kahaavat hai ki chhat gir raha hai kya chhat gir raha hai uske peeche bhag raha hai chhat gir raha hai toh dikhega nahi vaah bol diya uske peeche bhag rahe bhag rahe hain kaha ja rahe hain pata nahi wahi hamara wahi hamara desh wahi hamara world ho gaya hai bhaage ja rahe hain pata nahi sarkar ko asthir karne ki koshish shayad prakriti ka din hai saare parmanu ke peeche peeche lad rahe the saare ko parmanu par ghamand tha lekin ek vishnu ke saamne ghutne take diye toh vartaman me zindagi survive achi zindagi jeene ke liye shiksha zaroori hai hum bhi shikshit varg se hi hai aur vartaman me shiksha grahan karne ki koshish kar rahe hain shikshak gathan nahi shiksha grahan kar liya hai grahan kar aate hain aur accha se zindagi jeene ke liye ek acche pad ki prapti chahte hain aap log ka kram ashirvaad se shayad mil jaaye ok dhanyavad vijayadashmi ki subhkamnaayain puri mangalmay ho aap log ka dhanyavad

क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है हां भाई आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है वर्तमान समय

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  489
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

3:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे जब हमारा शिक्षित होना बोलते हैं तो अधिकतर हमारा ध्यान जाता है कि मैं स्कूल में जो हम पढ़ाई लिखाई करते हैं कॉलेज में पढ़ाई लिखाई करते हैं कोई डिग्री लेते हैं सॉरी फिकेशन लेते हैं और कुछ करते हैं कुछ करते हैं तो उसे हम पढ़ाई लिखाई बोलते हैं क्या यह जरूरी है हां जी बिल्कुल जरूरी है क्या इसके बिना काम चल सकते हैं हां चल तू सके लेकिन देखे जिस तरीके से हम आगे बढ़ रहे हैं उसके लिए पढ़ाई लिखाई होना जरूरी है अच्छी बात है ना हम अबे टेक्नोलॉजी वाली युग में आ गए हैं और यहां पर जो कम्युनिकेशन होता है जिस तरीके से यूनो पूरा ग्रुप 11 ग्लोबल विलेज की तरह देखा जाता है कल को आप पढ़ाई लिखाई कर देते हैं कर लेते हैं तो आप के चांसेस बढ़ जाते हैं कि आप इंडिया में नहीं इंडिया के बाहर भी काम कर सकते हैं बहुत सारी चीजें कर सकें बहुत सारे ऑप्शन स्कूल के जुकेशन वाली की बात कर रहा हूं अगर वह नहीं होते तो आपके ऑप्शंस कहां हो जाते हैं लाइफ में करने के लिए नहीं बोला कि आप कुछ और नहीं कर सकते हैं बिना पढ़े भाई आप देखने के लिए बिजनेस कर सकते आप नेट शुरू कर सकते हैं हर आदमी ऐसा नहीं करते लाखों लोग ग्रेजुएशन कंप्लीट करते हैं ग्रेजुएट होते हैं हर साल से नौकरी मिलती है जी नहीं ऐसा नहीं होता ना क्यों नहीं मिलता क्योंकि भाई उनकी कैपेबिलिटी से पढ़ाई में तो चलो डिग्री तो मिल गई एक तो यह कि भाई इतनी सारी नौकरियां नहीं है दूसरी जहां पर मौका मिलता है वहां पर हम से अच्छा कोई ना कोई बैठा होता है और उसको वह मिल जाता है क्योंकि वह बाकी सारी एरिया से हम से बैठा है मानसून से चालू हो सकते हैं बराबर हो सितम से नीचे भी हो लेकिन बाकी इसके उसमें अगर वह हमसे बैठे थे तो उसको देखने के लिए मिल ही जाएगा शिक्षित होना एक तो हो गया किताब अली दूसरा हो गया कि भाई आपने क्या सीखा है आपको कोई काम आता है कोई स्केल आपने डेवलप किया है और तो वह होता है तीसरा होता है कि भाई राकेश सॉफ्ट स्किल्स कैसे हैं मतलब आपका मिनिकेत एक ऐसा करते इतना करते हैं आप की विचारधारा कैसे ऐसा ऐसा सोचते हैं कि ऐसा काम करते हैं और क्या आप 3 प्ले है या नहीं आई फॉर डिटेलिंग है या नहीं है आप बारीकियों पर ध्यान देते हैं नहीं देते आप किसी काम को अंजाम तक ले जाने में सक्षम है या नहीं आपका नजरिया कैसे होते आपका व्यक्तित्व कैसा है तो यह सारी चीजें भी बहुत इंपॉर्टेंट रोल प्ले करते हैं तो इसलिए बात करते हैं तो इसमें यह सारी चीजें आती है साथ में आपके संस्कार वगैरह भी आते हैं कि मैं शिक्षित होने का मतलब यह नहीं कि मैंने खाली स्कूल की पढ़ाई की है लेकिन जिस तरीके से मैं बीएफ करता हूं पेश आता हूं मेरे को कोई तमीज नहीं है क्या वह सही बात हो गई थी नहीं बिल्कुल मुझे कोई अपने पास रखिएगा ही नहीं मैं किसी से बात ही नहीं कर पाऊंगा मैं किसी के संगत मेरे ही नहीं पाऊंगा तुम ही पड़ा है कि इन टोटलिटी हम अपने आपको कैसे लगते हैं और शिक्षित होना जब मैं बोलता हूं तुम्हें हर एंगल से शिक्षा की बात करता हूं और तरीके की बात करता हूं तरीके की बात करता हूं तो इसलिए यह बात नहीं है और ऐसा नहीं है कि अगर आप बहुत सेक्सी चाहिए इंसान डॉक्टर इंजीनियर उसके नीचे भी लोग कुछ और करेंगे कुछ करेंगे लेकिन एक तो तभी बेसिक शिक्षा आपको मिली से दूसरा भाई शिक्षा की कोई सीमा नहीं होती कोई क्वांटिटी नहीं होता कोई इनो दूरी नहीं होती कि भाई इतनी होगी तो काफी है जी नहीं हम पूरी लाइफ सीखते रहते हैं तो जो भी जहां से जो भी कुछ सीख मिलती है हमें सीख लेना चाहिए जीवन में उतारना चाहिए आगे बढ़ना चाहिए मैं तो लाइफ को ऐसे देखता हूं और शिक्षा को भी ऐसी देखता हूं

dekhe jab hamara shikshit hona bolte hain toh adhiktar hamara dhyan jata hai ki main school me jo hum padhai likhai karte hain college me padhai likhai karte hain koi degree lete hain sorry fikeshan lete hain aur kuch karte hain kuch karte hain toh use hum padhai likhai bolte hain kya yah zaroori hai haan ji bilkul zaroori hai kya iske bina kaam chal sakte hain haan chal tu sake lekin dekhe jis tarike se hum aage badh rahe hain uske liye padhai likhai hona zaroori hai achi baat hai na hum abe technology wali yug me aa gaye hain aur yahan par jo communication hota hai jis tarike se uno pura group 11 global village ki tarah dekha jata hai kal ko aap padhai likhai kar dete hain kar lete hain toh aap ke chances badh jaate hain ki aap india me nahi india ke bahar bhi kaam kar sakte hain bahut saari cheezen kar sake bahut saare option school ke jukeshan wali ki baat kar raha hoon agar vaah nahi hote toh aapke options kaha ho jaate hain life me karne ke liye nahi bola ki aap kuch aur nahi kar sakte hain bina padhe bhai aap dekhne ke liye business kar sakte aap net shuru kar sakte hain har aadmi aisa nahi karte laakhon log graduation complete karte hain graduate hote hain har saal se naukri milti hai ji nahi aisa nahi hota na kyon nahi milta kyonki bhai unki capability se padhai me toh chalo degree toh mil gayi ek toh yah ki bhai itni saari naukriyan nahi hai dusri jaha par mauka milta hai wahan par hum se accha koi na koi baitha hota hai aur usko vaah mil jata hai kyonki vaah baki saari area se hum se baitha hai monsoon se chaalu ho sakte hain barabar ho sitam se niche bhi ho lekin baki iske usme agar vaah humse baithe the toh usko dekhne ke liye mil hi jaega shikshit hona ek toh ho gaya kitab ali doosra ho gaya ki bhai aapne kya seekha hai aapko koi kaam aata hai koi scale aapne develop kiya hai aur toh vaah hota hai teesra hota hai ki bhai rakesh soft skills kaise hain matlab aapka miniket ek aisa karte itna karte hain aap ki vichardhara kaise aisa aisa sochte hain ki aisa kaam karte hain aur kya aap 3 play hai ya nahi I for detailing hai ya nahi hai aap barikiyon par dhyan dete hain nahi dete aap kisi kaam ko anjaam tak le jaane me saksham hai ya nahi aapka najariya kaise hote aapka vyaktitva kaisa hai toh yah saari cheezen bhi bahut important roll play karte hain toh isliye baat karte hain toh isme yah saari cheezen aati hai saath me aapke sanskar vagera bhi aate hain ki main shikshit hone ka matlab yah nahi ki maine khaali school ki padhai ki hai lekin jis tarike se main bf karta hoon pesh aata hoon mere ko koi tamij nahi hai kya vaah sahi baat ho gayi thi nahi bilkul mujhe koi apne paas rakhiega hi nahi main kisi se baat hi nahi kar paunga main kisi ke sangat mere hi nahi paunga tum hi pada hai ki in totliti hum apne aapko kaise lagte hain aur shikshit hona jab main bolta hoon tumhe har Angle se shiksha ki baat karta hoon aur tarike ki baat karta hoon tarike ki baat karta hoon toh isliye yah baat nahi hai aur aisa nahi hai ki agar aap bahut sexy chahiye insaan doctor engineer uske niche bhi log kuch aur karenge kuch karenge lekin ek toh tabhi basic shiksha aapko mili se doosra bhai shiksha ki koi seema nahi hoti koi quantity nahi hota koi ino doori nahi hoti ki bhai itni hogi toh kaafi hai ji nahi hum puri life sikhate rehte hain toh jo bhi jaha se jo bhi kuch seekh milti hai hamein seekh lena chahiye jeevan me utarana chahiye aage badhana chahiye main toh life ko aise dekhta hoon aur shiksha ko bhi aisi dekhta hoon

देखे जब हमारा शिक्षित होना बोलते हैं तो अधिकतर हमारा ध्यान जाता है कि मैं स्कूल में जो हम

Romanized Version
Likes  674  Dislikes    views  5494
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है आज के समय में अगर आप शिक्षित नहीं रहोगे तो आप इस दुनिया में आपको कोई मतलब नहीं है क्योंकि शिक्षित होना बहुत ज्यादा जरूरी है कम से कम इतना तो हो जाओगी जी खा सकूं और अच्छे से रेप आपने जिन अपने इस दुनिया में

kya aajkal shikshit hona bahut zaroori hai aaj ke samay me agar aap shikshit nahi rahoge toh aap is duniya me aapko koi matlab nahi hai kyonki shikshit hona bahut zyada zaroori hai kam se kam itna toh ho jaogi ji kha sakun aur acche se rape aapne jin apne is duniya me

क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है आज के समय में अगर आप शिक्षित नहीं रहोगे तो आप इस दुनि

Romanized Version
Likes  270  Dislikes    views  3168
WhatsApp_icon
user

Debidutta Swain

IAS Aspirant | Life Motivational Speaker,Daily Story Teller

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी पिक्चर क्यों ना बहुत जरूरत है क्योंकि सीखता ही का कार्य कर सकता होगा तभी आपको को एक परसेंट मिलेगा कितने लाइक दीपावली आकर आपको समझ पाओगे पाओगे

hindi picture kyon na bahut zarurat hai kyonki sikhata hi ka karya kar sakta hoga tabhi aapko ko ek percent milega kitne like deepawali aakar aapko samajh paoge paoge

हिंदी पिक्चर क्यों ना बहुत जरूरत है क्योंकि सीखता ही का कार्य कर सकता होगा तभी आपको को एक

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  1056
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा आपने प्रश्न किया कि क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है आजकल ही नहीं किसी भी युग में शिक्षित होना अति आवश्यक है आदमी के पास शिक्षा रहेगी तो वह जो भी कार्य करेगा उसको एक सिस्टमैटिक सुव्यवस्थित योजनाबद्ध तरीके से कार्य कर सकें सिस्टमैटिक योजनाबद्ध और सुव्यवस्थित ढंग से कार्य करना और एक दिन आप सुबह से ढंग से कार्य करने में जमीन आसमान का फर्क पड़ता है इसी प्रकार जब आदमी शिक्षित होता है तो वह अपने कार्य को निपुणता के साथ संपादित करता है इसका अच्छा रिजल्ट रहता है इसीलिए शिक्षित होना अनिवार्य शिक्षित होना हर युग में चाय विक्रेताओं द्वापरयुग कलयुग हो सामने चिकन होती है कि कि कुछ होती है वही पूरी करता है धन्यवाद

aisa aapne prashna kiya ki kya aajkal shikshit hona bahut zaroori hai aajkal hi nahi kisi bhi yug me shikshit hona ati aavashyak hai aadmi ke paas shiksha rahegi toh vaah jo bhi karya karega usko ek systematic suvyavasthit yojnabadh tarike se karya kar sake systematic yojnabadh aur suvyavasthit dhang se karya karna aur ek din aap subah se dhang se karya karne me jameen aasman ka fark padta hai isi prakar jab aadmi shikshit hota hai toh vaah apne karya ko nipunata ke saath sanpadit karta hai iska accha result rehta hai isliye shikshit hona anivarya shikshit hona har yug me chai vikretaon dwaparayug kalyug ho saamne chicken hoti hai ki ki kuch hoti hai wahi puri karta hai dhanyavad

ऐसा आपने प्रश्न किया कि क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है आजकल ही नहीं किसी भी युग में

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  1147
WhatsApp_icon
user

Anjana Baliga

Counselor

2:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस प्रश्न का मैं पहले भी उत्तर दे चुकी हूं की शिक्षा कहां तक जरूरी है अगर आपको सिर्फ पढ़ना लिखना आता है और आप आठवीं सदी तक पास है और इससे इस शिक्षा से आप व्यवसाय कर सकते हैं उच्च शिक्षा के लिए उतनी ही जरूरी है शिक्षा जरूरी है जब तक आप पढ़ना लिखना जानते हो हिसाब करना जानते हो कोई आपको धोखा नहीं देती पर आपके हस्ताक्षर ना ले तो यहां पर शिक्षा जरूरी है जब तक आप हिसाब किताब दुनियादारी कुणाची की शिक्षा के लिए बोझ बनने लग जा 11वीं 12वीं में अक्सर पढ़ा नहीं जा रहा अब बार-बार फेल हो रहे हैं तब आपको लगे कि नहीं शिक्षा मेरे लिए नहीं और उच्च शिक्षा प्राप्त करने से नौकरी भी अच्छी मिलती है और पैसे भी अच्छे मिलते हैं तो शिक्षा का उपयोग तो वहीं तक है जहां तक आप पढ़ना चाहते हैं आपकी लग्न क्या है और आप क्या करना चाहते हैं अगर मैं कुछ पीएचडी रिसर्च करना चाहता हूं तो मुझे भी मुझे पढ़ना ही पड़ेगा परंतु मैं एक सामान्य दुकानदार बन के रहना चाहता हूं मेरी शिक्षा के लिए कोई मायने नहीं रखता कि मुझे हिसाब किताब आता हो सामान लाना करना यह सब मैं सक्षम हूं शिक्षा के बगैर भी बहुत कुछ संभव है अगर आपके पास में कौन है आप वीडियो बना सकते हैं तो आ सकते हैं और सीखने के लिए आपको कुछ भेजा है लिखित में उसको पढ़ना लिखना उसको समझना कि कैसे होगा तो खाली देखभाल करके भी आप सीख सकते हैं तो आज की डेट में दुनिया में बहुत ऐसे काम बिना शिक्षा के व्यवसाय कर सकते हैं चाहे मुर्गी पालन हो दूध का होगे बसा एक छोटी दुकान हो या डिजिटल मीडिया में कुछ लिखना लेखन सकती हो आपके पास कविता लिखने की शक्ति हो किताब लिखने की शक्ति हो या आप वीडियो बनाने में बहुत अच्छे माहिर हैं जो आप ऐसे सोशल मीडिया में बहुत सारी चीजें हैं आज के डेट में कोई भी इंफोसीक कर अमीर बन सकता है आपके ऊपर निर्भर करता है कि शिक्षा आप क्या बनना चाहते हैं उस उस चीज की शिक्षा करें धन्यवाद

is prashna ka main pehle bhi uttar de chuki hoon ki shiksha kaha tak zaroori hai agar aapko sirf padhna likhna aata hai aur aap aatthvi sadi tak paas hai aur isse is shiksha se aap vyavasaya kar sakte hain ucch shiksha ke liye utani hi zaroori hai shiksha zaroori hai jab tak aap padhna likhna jante ho hisab karna jante ho koi aapko dhokha nahi deti par aapke hastakshar na le toh yahan par shiksha zaroori hai jab tak aap hisab kitab duniyaadaari kunachi ki shiksha ke liye bojh banne lag ja vi vi me aksar padha nahi ja raha ab baar baar fail ho rahe hain tab aapko lage ki nahi shiksha mere liye nahi aur ucch shiksha prapt karne se naukri bhi achi milti hai aur paise bhi acche milte hain toh shiksha ka upyog toh wahi tak hai jaha tak aap padhna chahte hain aapki lagn kya hai aur aap kya karna chahte hain agar main kuch phd research karna chahta hoon toh mujhe bhi mujhe padhna hi padega parantu main ek samanya dukaandar ban ke rehna chahta hoon meri shiksha ke liye koi maayne nahi rakhta ki mujhe hisab kitab aata ho saamaan lana karna yah sab main saksham hoon shiksha ke bagair bhi bahut kuch sambhav hai agar aapke paas me kaun hai aap video bana sakte hain toh aa sakte hain aur sikhne ke liye aapko kuch bheja hai likhit me usko padhna likhna usko samajhna ki kaise hoga toh khaali dekhbhal karke bhi aap seekh sakte hain toh aaj ki date me duniya me bahut aise kaam bina shiksha ke vyavasaya kar sakte hain chahen murgi palan ho doodh ka hoge basa ek choti dukaan ho ya digital media me kuch likhna lekhan sakti ho aapke paas kavita likhne ki shakti ho kitab likhne ki shakti ho ya aap video banane me bahut acche maahir hain jo aap aise social media me bahut saari cheezen hain aaj ke date me koi bhi imfosik kar amir ban sakta hai aapke upar nirbhar karta hai ki shiksha aap kya banna chahte hain us us cheez ki shiksha kare dhanyavad

इस प्रश्न का मैं पहले भी उत्तर दे चुकी हूं की शिक्षा कहां तक जरूरी है अगर आपको सिर्फ पढ़ना

Romanized Version
Likes  345  Dislikes    views  5471
WhatsApp_icon
user

Ajit Pandit

visual Artist आप ललित कला में कैरियर बनाना हैं तो संपर्क कर सकते हैं

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल ही नहीं हमेशा शिक्षित होना बहुत जरूरी है अगर आप शिक्षक नहीं है तो चीजों को समझ नहीं पाएंगे सामने हो जाएगा सामने घटना घट जाएगी और आपको पता ही नहीं चलेगा क्या हुआ और क्या नहीं हुआ और हर टाइम में शिक्षित होना बहुत जरूरी है इसीलिए हम तो राजा को ही पूछते रहना शुरू से क्योंकि राजा पढ़े लिखे होते थे और प्रजा मूर्ख जो राजा कहता था वह पूजा करता था इसीलिए आप पढ़िए और राजा बढ़िया

aajkal hi nahi hamesha shikshit hona bahut zaroori hai agar aap shikshak nahi hai toh chijon ko samajh nahi payenge saamne ho jaega saamne ghatna ghat jayegi aur aapko pata hi nahi chalega kya hua aur kya nahi hua aur har time me shikshit hona bahut zaroori hai isliye hum toh raja ko hi poochhte rehna shuru se kyonki raja padhe likhe hote the aur praja murkh jo raja kahata tha vaah puja karta tha isliye aap padhiye aur raja badhiya

आजकल ही नहीं हमेशा शिक्षित होना बहुत जरूरी है अगर आप शिक्षक नहीं है तो चीजों को समझ नहीं प

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  529
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

0:22
Play

Likes  697  Dislikes    views  7836
WhatsApp_icon
user

Sanjay Kumar Yadav

Career Counsellor

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार देखिए आपने प्रश्न किया है क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है हमसे है शिक्षा तो आवश्यक है ही लेकिन शिक्षा के लिए महज डिग्री ले लेने से शिक्षित होना नहीं कहा जा सकता शिक्षित होने का सेंस यह है कि आपके अंदर सामाजिकता हो आपको सामाजिक ज्ञान हो आपका हर क्षेत्र में सामाजिकता में राजनीति में अर्थ में इन चीजों में आप का ज्ञान होना आवश्यक है इसके लिए शिक्षित होना आवश्यक है परंतु दिखी लेकिन इसमें है ऐसा कि आप अगर चित्र नहीं है तो भी बहुत सारे अपने देश में ऐसे लोग हैं कि जो शिक्षित ना होते हुए भी इन सारे विषयों पर उनको गहन अध्ययन नॉलेज है उनको वह अपने ज्ञान विवेक से इतनी ज्ञान ऊर्जा को अर्जित किए हुए हैं कि उनके लिए डिग्री का कोई महत्व नहीं रखता है परंतु आज के समाज में डिग्री लेना और शिक्षित होना आवश्यक है लेकिन ऐसा ना हो कि हम सिर्फ डिग्री सीरियल हमारे अंदर उस तरह के सोशल ज्ञान का होना अति आवश्यक है नमस्कार दोस्तों आपका दिन शुभ हो

namaskar dekhiye aapne prashna kiya hai kya aajkal shikshit hona bahut zaroori hai humse hai shiksha toh aavashyak hai hi lekin shiksha ke liye mahaj degree le lene se shikshit hona nahi kaha ja sakta shikshit hone ka sense yah hai ki aapke andar samajikta ho aapko samajik gyaan ho aapka har kshetra me samajikta me raajneeti me arth me in chijon me aap ka gyaan hona aavashyak hai iske liye shikshit hona aavashyak hai parantu dikhi lekin isme hai aisa ki aap agar chitra nahi hai toh bhi bahut saare apne desh me aise log hain ki jo shikshit na hote hue bhi in saare vishyon par unko gahan adhyayan knowledge hai unko vaah apne gyaan vivek se itni gyaan urja ko arjit kiye hue hain ki unke liye degree ka koi mahatva nahi rakhta hai parantu aaj ke samaj me degree lena aur shikshit hona aavashyak hai lekin aisa na ho ki hum sirf degree serial hamare andar us tarah ke social gyaan ka hona ati aavashyak hai namaskar doston aapka din shubha ho

नमस्कार देखिए आपने प्रश्न किया है क्या आजकल शिक्षित होना बहुत जरूरी है हमसे है शिक्षा तो आ

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  809
WhatsApp_icon
user

Rajesh Kumar Saxena

Assistant Professor

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल शिक्षित होने के साथ साक्षर होना बहुत जरूरी है आपको अच्छा ज्ञान है तभी आप बहुत अच्छी तरीके से शिक्षित कर लाएंगे और शिक्षा के लिए बहुत जरूरी है कि आप अपने क्लासेस को आगे बढ़ाते चाहे कक्षाओं को आगे बढ़ाते ज्ञान जिससे कि आपको बहुत सारा ज्ञान हो सके और आप विभिन्न प्रकार के जो कंपटीशन होते हैं उनमें भाग्य

aajkal shikshit hone ke saath sakshar hona bahut zaroori hai aapko accha gyaan hai tabhi aap bahut achi tarike se shikshit kar layenge aur shiksha ke liye bahut zaroori hai ki aap apne classes ko aage badhate chahen kakshaon ko aage badhate gyaan jisse ki aapko bahut saara gyaan ho sake aur aap vibhinn prakar ke jo competition hote hain unmen bhagya

आजकल शिक्षित होने के साथ साक्षर होना बहुत जरूरी है आपको अच्छा ज्ञान है तभी आप बहुत अच्छी त

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  170
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!