किस धर्म का सब से पवित्र ग्रंथ है?...


user

Gyandeep Kkr

Social Activist

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धर्म तो अच्छाई के लिए ही बनते हैं परंतु आने वाले समय में उनमें त्रुटियां आ जाती है धर्म के नाम पर कुछ और ही होने लग जाता है वैसे तो सबका मानव धर्म है और सबको एक ही सर्वशक्तिमान भगवान की पूजा करनी होती है फिर भी अपने धर्म कैसे बनता है यह भी आपको जानना चाहिए सर्वशक्तिमान भगवान एक है और उसका मार्ग भी एक ही है पहले आपने सुना होगा शायद की जाना एक जता है मार्ग अलग-अलग है परंतु ऐसा नहीं है मार दिए क्या करूं आत्मा भी एक ही है सबके लिए एक समान ही फायदा है और भगवान ने जो शरीर में रचना की गई है जब हम यहां से जाते हैं वह पूरे नर-नारी पूरी सृष्टि का एक ही बनाया है अनजान लोग जब भक्ति मार के बारे में बोलने लग जाते हैं तो लोग गुमराह हो जाते और उनकी बातों को स्वीकार करती है इसका उदाहरण देखिए कितने विश्व में धारणा धर्म के नाम पर जब परमात्मा एक ऐसी बात बताया जाएगा तो आप जानिए मैंने खुद देखा एक सत्संग ऐसा पहला सत्संग जिसमें एक एक चीज को क्लियर करके पाया जाता है आज तक तो हमें यही नहीं पता था कि माता की स्थिति क्या है विष्णु जी की क्या है ब्रह्मा जी की क्या है ब्रहम क्या है परब्रह्म क्या है पूनम क्या है अब तुमको देख कर मुझे प्रमाण मिले जाते हैं तो आपको विश्वास हो जाता है अगर आप विश्वास करना चाहिए अगर विश्वास नहीं करना चाहे तो अलग बात है परंतु प्रमाण देख कर ऐसा कौन हो सकता है कि जो विश्वास न करना चाहिए आप सोचिए इस बारे में तो आप भी देखिए साधना चैनल शाम को 8:30 बजे ईश्वर टीवी शाम को 8:30 से 9:30 बजे संत रामपाल जी का सत्संग

dharm toh acchai ke liye hi bante hain parantu aane waale samay me unmen trutiyaan aa jaati hai dharm ke naam par kuch aur hi hone lag jata hai waise toh sabka manav dharm hai aur sabko ek hi sarvshaktimaan bhagwan ki puja karni hoti hai phir bhi apne dharm kaise banta hai yah bhi aapko janana chahiye sarvshaktimaan bhagwan ek hai aur uska marg bhi ek hi hai pehle aapne suna hoga shayad ki jana ek jata hai marg alag alag hai parantu aisa nahi hai maar diye kya karu aatma bhi ek hi hai sabke liye ek saman hi fayda hai aur bhagwan ne jo sharir me rachna ki gayi hai jab hum yahan se jaate hain vaah poore nar nari puri shrishti ka ek hi banaya hai anjaan log jab bhakti maar ke bare me bolne lag jaate hain toh log gumrah ho jaate aur unki baaton ko sweekar karti hai iska udaharan dekhiye kitne vishwa me dharana dharm ke naam par jab paramatma ek aisi baat bataya jaega toh aap janiye maine khud dekha ek satsang aisa pehla satsang jisme ek ek cheez ko clear karke paya jata hai aaj tak toh hamein yahi nahi pata tha ki mata ki sthiti kya hai vishnu ji ki kya hai brahma ji ki kya hai braham kya hai parbrahm kya hai poonam kya hai ab tumko dekh kar mujhe pramaan mile jaate hain toh aapko vishwas ho jata hai agar aap vishwas karna chahiye agar vishwas nahi karna chahen toh alag baat hai parantu pramaan dekh kar aisa kaun ho sakta hai ki jo vishwas na karna chahiye aap sochiye is bare me toh aap bhi dekhiye sadhna channel shaam ko 8 30 baje ishwar TV shaam ko 8 30 se 9 30 baje sant rampal ji ka satsang

धर्म तो अच्छाई के लिए ही बनते हैं परंतु आने वाले समय में उनमें त्रुटियां आ जाती है धर्म के

Romanized Version
Likes  99  Dislikes    views  949
KooApp_icon
WhatsApp_icon
27 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!