राजनीति में चुनाव लड़ने के लिए प्रक्रिया बताएं?...


play
user

umrao Singh

Professor ( Ph.d)

2:50

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत एक लोकतांत्रिक व्यवस्था वाला देश है और लोकतंत्र का आधार होता है चुनाव या निर्वाचन और यह चुनाव शासन के सबसे निचले स्तर पर स्थानीय प्रशासन से लेकर सर्वोच्च स्तर पर राष्ट्रपति या संगी व्यवस्था तक चुनाव से ही होता है अतः प्रत्येक सरकार के प्रत्येक स्तर का गठन और प्रत्येक संगठन का गठन जो है वह चुनाव की प्रक्रिया चुनाव के तहत ही होता है तो चुनाव लड़ने के लिए जो परीक्षाएं होती हैं उसमें चाहे आप छात्रसंघ का चुनाव लड़ना हो चाहे पंचायत का चुनाव लड़ना हो चाहे जिला पंचायत जैविक विकास खंड के स्तर पर चाय विधायक का चाय सांसद का 4 राष्ट्रपति का पद के लिए अलग-अलग चुनाव प्रक्रिया अपनाई गई हैं सामान्यतः उनके लिए जो योग्यता ही होती है वह सबसे पहले पूरी करनी होती है और वह भारत का नागरिक हो प्रत्येक स्तर पर सबके लिए अलग-अलग आयु सीमा रखी गई है जैसे पंचायत का सदस्य बनना है तो उसके लिए 21 वर्ष की आयु सीमा नगर पालिका में पार्षद नियर बनना तो उसके लिए भी 21 वर्ष की आयु सीमा विधायक बनने के लिए और सांसद बनने के लिए आयु सीमा 30 वर्ष 25 वर्ष राज्य सभा और विधान परिषद का सदस्य बनना है उसके लिए 30 वर्ष और राष्ट्रपति उपराष्ट्रपति बनने है उसके लिए 35 वर्ष है अतः यह तो एक अनिवार्य योग्यताएं हैं जो सभी उम्मीदवारों में होनी चाहिए दूसरा राजनीति में चुनाव लड़ने के लिए यद्यपि लोकल और इसके तहत जिसमें स्थानीय प्रशासन के तहत पंचायत और नगरपालिका आती हैं उसमें दिल्ली व्यवस्था का कोई प्रावधान नहीं है लेकिन सांसद और विधायक का चुनाव लड़ने के लिए आप किसी एक राजनीतिक दल विशेष का सदस्य प्रतिनिधि के नाम से भी चुनाव लड़ सकते हैं और एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में जिसे हम लाडली कहते हैं उस रूम में भी चुनाव लड़ते हैं और इसके लिए एक जमानत राशि या कुछ निकुल की व्यवस्था भी रखी गई है जो सभी के लिए अलग-अलग है तू राष्ट्र चुनाव की जो प्रक्रिया है वह भारत में प्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली है जिसके तहत जनता स्वयं भागीदारी करते हुए अपने उम्मीदवारों या प्रतिनिधियों का चुनाव करती है धन्यवाद

bharat ek loktantrik vyavastha vala desh hai aur loktantra ka aadhar hota hai chunav ya nirvachan aur yah chunav shasan ke sabse nichle sthar par sthaniye prashasan se lekar sarvoch sthar par rashtrapati ya sangi vyavastha tak chunav se hi hota hai atah pratyek sarkar ke pratyek sthar ka gathan aur pratyek sangathan ka gathan jo hai vaah chunav ki prakriya chunav ke tahat hi hota hai toh chunav ladane ke liye jo parikshaen hoti hain usme chahen aap chatrasangh ka chunav ladana ho chahen panchayat ka chunav ladana ho chahen jila panchayat Jaivik vikas khand ke sthar par chai vidhayak ka chai saansad ka 4 rashtrapati ka pad ke liye alag alag chunav prakriya apnai gayi hain samanyatah unke liye jo yogyata hi hoti hai vaah sabse pehle puri karni hoti hai aur vaah bharat ka nagarik ho pratyek sthar par sabke liye alag alag aayu seema rakhi gayi hai jaise panchayat ka sadasya banna hai toh uske liye 21 varsh ki aayu seema nagar palika me parshad near banna toh uske liye bhi 21 varsh ki aayu seema vidhayak banne ke liye aur saansad banne ke liye aayu seema 30 varsh 25 varsh rajya sabha aur vidhan parishad ka sadasya banna hai uske liye 30 varsh aur rashtrapati uprashtrapati banne hai uske liye 35 varsh hai atah yah toh ek anivarya yogyataen hain jo sabhi ummidwaron me honi chahiye doosra raajneeti me chunav ladane ke liye yadyapi local aur iske tahat jisme sthaniye prashasan ke tahat panchayat aur nagarpalika aati hain usme delhi vyavastha ka koi pravadhan nahi hai lekin saansad aur vidhayak ka chunav ladane ke liye aap kisi ek raajnitik dal vishesh ka sadasya pratinidhi ke naam se bhi chunav lad sakte hain aur ek swatantra ummidvar ke roop me jise hum laadalee kehte hain us room me bhi chunav ladte hain aur iske liye ek jamanat rashi ya kuch nikul ki vyavastha bhi rakhi gayi hai jo sabhi ke liye alag alag hai tu rashtra chunav ki jo prakriya hai vaah bharat me pratyaksh chunav pranali hai jiske tahat janta swayam bhagidari karte hue apne ummidwaron ya pratinidhiyo ka chunav karti hai dhanyavad

भारत एक लोकतांत्रिक व्यवस्था वाला देश है और लोकतंत्र का आधार होता है चुनाव या निर्वाचन और

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  271
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!