उन लोगों से मेरे विचार नहीं मिलते जिनके साथ मैं रहता हूँ तो ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए?...


user

अशोक वशिष्ठ

Author, Retired Principal

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि उन लोगों से मेरे विचार नहीं मिलते जिनके साथ मैं रहता हूं तो ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए क्योंकि आपकी इस शब्दावली से ऐसा लग रहा है कि आप किसी दूसरे के साथ रह रहे हैं किसी और के साथ रह रहे हैं परिवारी जनों के साथ नहीं तो मैं यहां स्पष्ट आपसे कर दूं कि अगर आप परिवारी जनों के बारे में यह बात लिख रहे हैं तब तो मैं आपको तुरंत राय नहीं दूंगा कि आप उनका साथ छोड़ दीजिए क्योंकि भैया परिवार तो परिवार होता है परिवार में माता-पिता होते हैं भाई बहन होते हैं भाभी भाभी होते हैं ताऊ ताई होते हैं परिवार के साथ अगर ऐसी बात है कि आपके विचार उनके साथ नहीं मिलते तो सामंजस्य करना पड़ेगा परिवार को छोड़ना आसान नहीं है और छोड़ने के बाद फिर जो दरार पड़ जाती है उस दरार को पाटना भी आसान नहीं है हां मतभेद हैं तो उनको दूर किया जा सकता है लेकिन यही बात अगर कोई और गैर के साथ आप रह रहे हैं सामंजस्य कर रहे हैं समझौता करके रह रही है तो फिर अगर आपके विचार नहीं मिलते तो फिर इंतजार किस बात पर छोड़िए ना उनको अपनी राह चलने दीजिए आप अपनी राह चली है क्यों गुड गुड कर दिया जाए क्यों जबरदस्ती विचार मिलाने की कोशिश की जाए जो विचार मिलते ही नहीं है तो लेकिन अगर यह बात आपकी यहां गिरस्ती की बात है परिवार की बात है तो आप उस पर थोड़ा सा विचार करना पड़ेगा कि ऐसा ना हो कि आप की शक्ति से कहीं संबंधों में बहुत गहरी दरार आ जाए

aapka prashna hai ki un logo se mere vichar nahi milte jinke saath main rehta hoon toh aise me mujhe kya karna chahiye kyonki aapki is shabdavli se aisa lag raha hai ki aap kisi dusre ke saath reh rahe hain kisi aur ke saath reh rahe hain parivari jano ke saath nahi toh main yahan spasht aapse kar doon ki agar aap parivari jano ke bare me yah baat likh rahe hain tab toh main aapko turant rai nahi dunga ki aap unka saath chhod dijiye kyonki bhaiya parivar toh parivar hota hai parivar me mata pita hote hain bhai behen hote hain bhabhi bhabhi hote hain taau taii hote hain parivar ke saath agar aisi baat hai ki aapke vichar unke saath nahi milte toh samanjasya karna padega parivar ko chhodna aasaan nahi hai aur chodne ke baad phir jo daraar pad jaati hai us daraar ko paatna bhi aasaan nahi hai haan matbhed hain toh unko dur kiya ja sakta hai lekin yahi baat agar koi aur gair ke saath aap reh rahe hain samanjasya kar rahe hain samjhauta karke reh rahi hai toh phir agar aapke vichar nahi milte toh phir intejar kis baat par chodiye na unko apni raah chalne dijiye aap apni raah chali hai kyon good good kar diya jaaye kyon jabardasti vichar milaane ki koshish ki jaaye jo vichar milte hi nahi hai toh lekin agar yah baat aapki yahan girasti ki baat hai parivar ki baat hai toh aap us par thoda sa vichar karna padega ki aisa na ho ki aap ki shakti se kahin sambandhon me bahut gehri daraar aa jaaye

आपका प्रश्न है कि उन लोगों से मेरे विचार नहीं मिलते जिनके साथ मैं रहता हूं तो ऐसे में मुझे

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  823
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!