भाजपा के 4 सालों की सरकार में युवाओं के ऊपर सबसे ज़्यादा भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं इस पर आप क्या कहेंगे?...


user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सही है कि पिछले कुछ समय से भ्रष्टाचार और जो कुछ भी नेगेटिव हो रहा है उसके बारे में हमें ज्यादा पता चल रहा है हमें ज्यादा सुनाई दे रहा है हम ज्यादा पढ़ रहे हैं और हमें ज्यादा इस बात की जानकारी मिल रही है क्योंकि हम 21वीं सदी में है और हर 6 महीने में कोई नई तकनीकी आती है कुछ वैज्ञानिक नया करते हैं उससे इस तकनीकी के युग में प्रचार प्रसार के साधन बढ़ गए हैं और जो चीजें पहले छुपी रहती थी लोगों को पता नहीं चलती थी आज हर इंसान तक की बातें पहुंच रही है दोस्तों आज हमारे देश की एक ही पसंद है इसीलिए भ्रष्टाचार और अपराध में भी युवाओं का आंकड़ा बढ़ा हुआ है क्योंकि युवा ही जाता है तो अगर कुछ अच्छा हो रहा है तो वह भी युवा कर रहे हैं और अगर कुछ बुरा हो रहा है तो वह भी उनके द्वारा हो रहा है तीसरा कारण यह है कि जो समस्याएं हमारे देश में बरसों से है वह समस्याएं खत्म करने में वक्त लगेगा बेरोजगारी भ्रष्टाचार गरीबी इन सब को अगर हमें जड़ से मिटाना है तो इसके लिए जनता को और सरकार को दोनों को मिलकर काम करना पड़ेगा सरकार अपनी तरफ से योजनाएं बनाती है लेकिन जनता को भी सहयोग देना पड़ेगा जनता को भी अपने नैतिक आदर्श रुचि रखने होंगे जनता को भी थोड़ा समय देना होगा सरकार को इन समस्याओं से लड़ सके इन समस्याओं के समाधान निकाल सके मुझे लगता है बेरोजगारी गरीबी भ्रष्टाचार इन सब से हमारी युवा शक्ति हो गए हैं इसीलिए कुछ गलत करते हैं उन्हें समझना होगा कि वक्त बदल रहा है पर

yah sahi hai ki pichle kuch samay se bhrashtachar aur jo kuch bhi Negative ho raha hai uske bare mein hamein zyada pata chal raha hai hamein zyada sunayi de raha hai hum zyada padh rahe hain aur hamein zyada is baat ki jaankari mil rahi hai kyonki hum vi sadi mein hai aur har 6 mahine mein koi nayi takniki aati hai kuch vaigyanik naya karte hain usse is takniki ke yug mein prachar prasaar ke sadhan badh gaye hain aur jo cheezen pehle chhupee rehti thi logo ko pata nahi chalti thi aaj har insaan tak ki batein pohch rahi hai doston aaj hamare desh ki ek hi pasand hai isliye bhrashtachar aur apradh mein bhi yuvaon ka akanda badha hua hai kyonki yuva hi jata hai toh agar kuch accha ho raha hai toh vaah bhi yuva kar rahe hain aur agar kuch bura ho raha hai toh vaah bhi unke dwara ho raha hai teesra karan yah hai ki jo samasyaen hamare desh mein barson se hai vaah samasyaen khatam karne mein waqt lagega berojgari bhrashtachar garibi in sab ko agar hamein jad se mitana hai toh iske liye janta ko aur sarkar ko dono ko milkar kaam karna padega sarkar apni taraf se yojanaye banati hai lekin janta ko bhi sahyog dena padega janta ko bhi apne naitik adarsh ruchi rakhne honge janta ko bhi thoda samay dena hoga sarkar ko in samasyaon se lad sake in samasyaon ke samadhan nikaal sake mujhe lagta hai berojgari garibi bhrashtachar in sab se hamari yuva shakti ho gaye hain isliye kuch galat karte hain unhe samajhna hoga ki waqt badal raha hai par

यह सही है कि पिछले कुछ समय से भ्रष्टाचार और जो कुछ भी नेगेटिव हो रहा है उसके बारे में हमे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  118
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!