मैं किसी से मिलता हूँ तो क्या बातें करे कुछ समझ नहीं आता नर्वस हो जाता हूँ इसके लिए क्या किया जाये?...


user

निर्मला विश्नोई

अध्यापिका व समाज सेवा

1:41
Play

Likes  45  Dislikes    views  522
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:30
Play

Likes  210  Dislikes    views  1886
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:29
Play

Likes  172  Dislikes    views  2338
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

9:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि मैं किसी से मिलता हूं तो क्या बातें करें कुछ समझ नहीं आता नर्वस हो जाता हूं इसके लिए क्या किया जाए आप अकेले नहीं है बहुत लोग हैं नर्वस होते हैं बहुत लोग आते हैं लोग जाते हैं नई परिस्थिति में कोई परिवर्तन आने से क्वेश्चन लड़के टीनएजर क्वेश्चन आते हैं लड़कियों से मिलते हैं कोई भी घर में नया ताजा तो यह नर्वसनेस यह घबराहट शारीरिक मानसिक हम यहां पर शारीरिक घबराहट की बात नहीं करेंगे क्योंकि आपको लोगों के मिलने से घबराहट होती है इसलिए शारीरिक कारण इनकी मानसिकता रानी हम तो आज हम आपको पर आप कुछ नहीं क्या करना चाहिए क्यों पहले थोड़ा कारण देख लो तब आपको पता लगेगा कि वह कारण है तो उस से रिलेटेड पेशाब के उपाय देखे जाएंगे तो बच्चों सबको घबराते होती बहुत लोगों को होती लेकिन सबको नहीं इसलिए हम लोगों को सामान्य लोगों की तुलना में राठौर सकती किंतु यदि कोई शारीरिक कारण नहीं है कि नबी ने लोगों को मिलने से पहले या मिलते समय किसी भी नया स्कूल कॉलेजों में प्रवेश से पहले किसी के सामने देखने खासकर हस्ताक्षर करते समय किसी बड़े या महत्वपूर्ण ग्रुप में जाने से पहले पब्लिक में भाषण या कोई गायन कविता गया बात करते समय घर में नए या महत्वपूर्ण मेहमानों के आने से तो देखा आपने कारण कुछ भी हो परंतु बहुत जानने समझने की बात है कि कुछ लोगों को किसी खास चुटिया विशेष लोगों के सामने घबराहट होती है जबकि बहुत से दूसरे लोगों को हर समय और हर परिस्थिति में घबराहट होती तो हर समय अधिक अपराध होने के कारण क्या है उसको पता होना चाहिए ईडीएसडी या अतिसक्रियता हाइपर एक्टिव होने की वजह से एक्टिव तुमको दूसरा कारण हो सकते एडिनल हमारी अर्जुन ग्रंथियां होती है उनके द्वारा चिंता के अधिकार मंच बनाने की वजह से इसका कारण आपने विश्वास की कमी होती इन भाग में किया जा सकता क्योंकि कुछ दवाएं और नशीले पदार्थों के ज्यादा सेवन करने थे अब आप पूछते हैं किसके लिए क्या करें मतलब उपाय जानना चाह रहे हैं शवासन धीमे वाललंबे गहरे श्वास लें और यह धीरे में और लंबे गहरे श्वास लेते समय खुद को यह सुझाव किस बात छोड़ दें तो मैं आपकी सभी किस्म के घबराहट और नकारात्मकता दूर हो रही है और श्वास भरते समय आपके भीतर सभी पार्टी की भावनाएं और विचार प्रवेश कर रहे हैं इससे शांति मिलेगी और घबराहट कमी मेडिटेशन मेडिटेशन के बाद बढ़ापुर मेडिटेशन मेडिटेशन में हमें अपनी श्वास को आते जाते देखना है महसूस करना है और शरीर के भीतर होने वाले हर कंपनी और एहसास को महसूस करना है अपने हर आते-जाते भाव को देखना उसके प्रति जागृत रहना तू यह चारों कार्य यानी प्राणायाम शवासन धीमी और गहरी श्वास और मैनपुर मेडिटेशन के लिए आप अपने आसपास किसी भी पार्क में योग कक्षाओं में शामिल होकर हकीकत अभ्यास कर सकती तुम को कम करने के उपाय करें ऐसा करने के लिए अपनी नकारात्मक भावनाओं से अपना ध्यान हटाकर अपने पसंद के सकारात्मक एनी पॉजिटिव कैसे डांस करना और संगीत सुनना बजाना गार्डन करना पेंटिंग करना या कुछ भी रोचक काम करना जिसने आपको अवश्य करें अपनी शादी की फटाफट दूर करने के लिए विश्राम करें मनपसंद पुस्तक पढ़ो टीवी मनपसंद टीवी सीरियल देखो नींद आरएचएस उतना को कम करने की तकनीक को अमल करें जैसे आपको मेडिटेशन शहर कन्हैया के आप लाइफ़स्किल्स चीजें जो जीवन को सक्षम बनाती है भाग्य से लाइट कैसे होती है और उनका अभ्यास करने से आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा और काम कर सकते हैं बच्चों में अगर आपको इंटरेस्ट है तो उनमें रुचि में जहां तक हो सके बच्चों के साथ कुछ समय बिताने का प्रयास करें घर में बच्चे हैं तो ठीक है नहीं तो अपने आसपास के बच्चों का एक छोटा सा नाटक उन्हें किसी पार्टी अपने घर पर ही समय देकर उन्हें रोचक और जानदार कहानियां सुनाएं और उनसे सुने हम को सिखाएं तो बच्चों को भी खुशी का और आप छोटी बातें बंद करना उच्चतम जब आप लोगों को चबा चबा कर खाने रात को नींद पूरी अजब गजब अजब रात हो रही है तू अब ऐसे घर बैठे बैठे कुछ नहीं होगा अपने भावनात्मक संतुलन के लिए किसी अच्छे ट्रांसफर से मदद लेने बहुत-बहुत और एक दोस्ती का दायरा बढ़ाने का बढ़ाने और एक पति की बात मत करना और माफी मांगने की कला सीखी आपने नंबर मांगे तो दूसरा भी नाम पर व्यापार करने को देर से बेवर सो जाएगा और लास्ट बट नॉट चली अपने काउंसलर या मनोचिकित्सक से परामर्श कर फिर बाद में हो तो बिना चिकित्सक किया अब इस चित्र में आएंगे

aapka prashna hai ki main kisi se milta hoon toh kya batein kare kuch samajh nahi aata nervous ho jata hoon iske liye kya kiya jaaye aap akele nahi hai bahut log hain nervous hote hain bahut log aate hain log jaate hain nayi paristhiti me koi parivartan aane se question ladke teenager question aate hain ladkiyon se milte hain koi bhi ghar me naya taaza toh yah nervousness yah ghabarahat sharirik mansik hum yahan par sharirik ghabarahat ki baat nahi karenge kyonki aapko logo ke milne se ghabarahat hoti hai isliye sharirik karan inki mansikta rani hum toh aaj hum aapko par aap kuch nahi kya karna chahiye kyon pehle thoda karan dekh lo tab aapko pata lagega ki vaah karan hai toh us se related peshab ke upay dekhe jaenge toh baccho sabko ghabarate hoti bahut logo ko hoti lekin sabko nahi isliye hum logo ko samanya logo ki tulna me rathore sakti kintu yadi koi sharirik karan nahi hai ki nabi ne logo ko milne se pehle ya milte samay kisi bhi naya school collegeon me pravesh se pehle kisi ke saamne dekhne khaskar hastakshar karte samay kisi bade ya mahatvapurna group me jaane se pehle public me bhashan ya koi gaayan kavita gaya baat karte samay ghar me naye ya mahatvapurna mehmanon ke aane se toh dekha aapne karan kuch bhi ho parantu bahut jaanne samjhne ki baat hai ki kuch logo ko kisi khas chutiya vishesh logo ke saamne ghabarahat hoti hai jabki bahut se dusre logo ko har samay aur har paristhiti me ghabarahat hoti toh har samay adhik apradh hone ke karan kya hai usko pata hona chahiye EDSD ya atisakriyata hyper active hone ki wajah se active tumko doosra karan ho sakte edinal hamari arjun granthiyan hoti hai unke dwara chinta ke adhikaar manch banane ki wajah se iska karan aapne vishwas ki kami hoti in bhag me kiya ja sakta kyonki kuch davayain aur nashile padarthon ke zyada seven karne the ab aap poochhte hain kiske liye kya kare matlab upay janana chah rahe hain shavasan dhime valalambe gehre swas le aur yah dhire me aur lambe gehre swas lete samay khud ko yah sujhaav kis baat chhod de toh main aapki sabhi kism ke ghabarahat aur nakaratmakta dur ho rahi hai aur swas bharte samay aapke bheetar sabhi party ki bhaavnaye aur vichar pravesh kar rahe hain isse shanti milegi aur ghabarahat kami meditation meditation ke baad badhapur meditation meditation me hamein apni swas ko aate jaate dekhna hai mehsus karna hai aur sharir ke bheetar hone waale har company aur ehsaas ko mehsus karna hai apne har aate jaate bhav ko dekhna uske prati jagrit rehna tu yah charo karya yani pranayaam shavasan dheemi aur gehri swas aur mainpur meditation ke liye aap apne aaspass kisi bhi park me yog kakshaon me shaamil hokar haqiqat abhyas kar sakti tum ko kam karne ke upay kare aisa karne ke liye apni nakaratmak bhavnao se apna dhyan hatakar apne pasand ke sakaratmak any positive kaise dance karna aur sangeet sunana bajana garden karna painting karna ya kuch bhi rochak kaam karna jisne aapko avashya kare apni shaadi ki phataphat dur karne ke liye vishram kare manpasand pustak padho TV manpasand TV serial dekho neend RHS utana ko kam karne ki taknik ko amal kare jaise aapko meditation shehar kanhaiya ke aap laifaskils cheezen jo jeevan ko saksham banati hai bhagya se light kaise hoti hai aur unka abhyas karne se aapka aatmvishvaas badhega aur kaam kar sakte hain baccho me agar aapko interest hai toh unmen ruchi me jaha tak ho sake baccho ke saath kuch samay bitane ka prayas kare ghar me bacche hain toh theek hai nahi toh apne aaspass ke baccho ka ek chota sa natak unhe kisi party apne ghar par hi samay dekar unhe rochak aur janadar kahaniya sunaen aur unse sune hum ko sikhaye toh baccho ko bhi khushi ka aur aap choti batein band karna ucchatam jab aap logo ko chaba chaba kar khane raat ko neend puri ajab gajab ajab raat ho rahi hai tu ab aise ghar baithe baithe kuch nahi hoga apne bhavnatmak santulan ke liye kisi acche transfer se madad lene bahut bahut aur ek dosti ka dayara badhane ka badhane aur ek pati ki baat mat karna aur maafi mangne ki kala sikhi aapne number mange toh doosra bhi naam par vyapar karne ko der se beawar so jaega aur last but not chali apne counselor ya manochikitsak se paramarsh kar phir baad me ho toh bina chikitsak kiya ab is chitra me aayenge

आपका प्रश्न है कि मैं किसी से मिलता हूं तो क्या बातें करें कुछ समझ नहीं आता नर्वस हो जाता

Romanized Version
Likes  780  Dislikes    views  4678
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:22
Play

Likes  153  Dislikes    views  3374
WhatsApp_icon
user

Somit Yoga Varanasi

Yoga Trainer and Astrologer

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तो जब भी आप किसी से मिली है तो बहुत अपनेपन के साथ मिली है आपको पन से अगर आप किसी के साथ मिल रहे हैं तो उसे जिंदादिली में बात कीजिए एकदम घबराइए मत और जब भी आपको नर्वसनेस लगे तो लंबी गहरी सांस लीजिए बहुत बदलाव सकारात्मक बदलाव आपके व्यक्तित्व में आएगा

sabse pehle toh jab bhi aap kisi se mili hai toh bahut apanepan ke saath mili hai aapko pan se agar aap kisi ke saath mil rahe hain toh use jindadili me baat kijiye ekdam ghabaraiye mat aur jab bhi aapko nervousness lage toh lambi gehri saans lijiye bahut badlav sakaratmak badlav aapke vyaktitva me aayega

सबसे पहले तो जब भी आप किसी से मिली है तो बहुत अपनेपन के साथ मिली है आपको पन से अगर आप किसी

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  304
WhatsApp_icon
user

Jyotsna

Homemaker

0:55
Play

Likes  67  Dislikes    views  1183
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  22  Dislikes    views  220
WhatsApp_icon
play
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब भी आप किसी से मिलते हैं तो क्या बात है करें कुछ समझ में नहीं आता नर्वस हो जाते हैं उसके लिए क्या करें बहुत कम होती है जब अब सोशल नहीं होते तो उड़ जाते हैं तो समझ में नहीं आता क्या बात है करें कौन से टॉपिक स्टार्ट के सबसे पहले उससे बात करना स्टार्ट करना पड़ेगा स्टार्ट से बात करते कि आपको अच्छा लगे तो कमेंट टॉपिक है इंटरेस्ट पर टॉपिक है उससे बात करना उससे बात करना शुरू कर पहले फिर बैठ कर बातें करके अच्छा लगेगा दोस्त बनाए जो कि आपको लगता है कि आपकी आपकी सोच सोच मिलती है तो उसके दोस्त के साथ रहे आप लोगों से अलग हुए लोगों से बातें करना स्टार्ट कर दो मैं खुलकर सामने आना पड़ेगा आपको देना पड़ेगा तभी ठीक हो सकती है

jab bhi aap kisi se milte hain toh kya baat hai kare kuch samajh mein nahi aata nervous ho jaate hain uske liye kya kare bahut kam hoti hai jab ab social nahi hote toh ud jaate hain toh samajh mein nahi aata kya baat hai kare kaunsi topic start ke sabse pehle usse baat karna start karna padega start se baat karte ki aapko accha lage toh comment topic hai interest par topic hai usse baat karna usse baat karna shuru kar pehle phir baith kar batein karke accha lagega dost banaye jo ki aapko lagta hai ki aapki aapki soch soch milti hai toh uske dost ke saath rahe aap logo se alag hue logo se batein karna start kar do main khulkar saamne aana padega aapko dena padega tabhi theek ho sakti hai

जब भी आप किसी से मिलते हैं तो क्या बात है करें कुछ समझ में नहीं आता नर्वस हो जाते हैं उसके

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  168
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!