जंतुओं में प्रतिवर्ती चौक क्यों उत्पन्न होता है?...


play
user
1:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है जंतुओं में प्रतिवर्ती चौक क्यों उत्पन्न होता है मैं बताता हूं प्रतिवर्ती चाप प्रतिवर्ती क्रियाओं का आगम संकेतों पता लगाने और निर्गम कर रहा हूं ओके करने के लिए संवेदी तंत्रिका कोशिका और प्रेरित तंत्रिका कोशिका में रज्जू के साथ मिलकर एक पथ का निर्माण करती है जिसे प्रतिवर्ती चाप कहते हैं और जंतुओं में प्रतिवर्ती चाप 110 प्रणाली अथवा जंतुओं के प्रति विधि चाप की उपयोगिता अधिकता जंतुओं प्रतिवर्ती चाप इसलिए विकसित हुआ है क्योंकि इनके मस्तिष्क के सोचने का प्रक्रम बहुत तेज नहीं है वास्तव में अधिकांश जंतुओं में सोचने के लिए अभिषेक जटिल जालिया तो अल्फिया अनुपस्थित होता है यह स्पष्ट है कि वास्तव में वास्तविक विचार प्रक्रम के अनुपस्थिति में प्रतिवर्ती चाप अध्यक्ष कार्यप्रणाली के रूप में विकास हुआ है याद भी जटिल न्यू रांजल के अस्तित्व में आने के बाद प्रतिवर्ती चाप तुरंत प्रक्रिया के लिए 110 अधिक दक्ष प्रणाली के रूप में कार्य करता है आधा जंतुओं में सौंपने की शक्ति बहुत कम या चीन होती है जिसमें वह तुरंत अनुक्रिया कर अपना बचाव नहीं कर सकते अतः इसी कमी को पूरा करने के लिए अधिकतर जंतुओं में प्रतिवर्ती चाप 110 प्रणाली के रूप में कार्य करता है धन्यवाद

aapka prashna hai jantuon me prativarti chauk kyon utpann hota hai main batata hoon prativarti chap prativarti kriyaon ka aagam sanketon pata lagane aur nirgam kar raha hoon ok karne ke liye samvedi tantrika koshika aur prerit tantrika koshika me rajju ke saath milkar ek path ka nirmaan karti hai jise prativarti chap kehte hain aur jantuon me prativarti chap 110 pranali athva jantuon ke prati vidhi chap ki upayogita adhikata jantuon prativarti chap isliye viksit hua hai kyonki inke mastishk ke sochne ka prakram bahut tez nahi hai vaastav me adhikaansh jantuon me sochne ke liye abhishek jatil jaliya toh alfiya anupasthit hota hai yah spasht hai ki vaastav me vastavik vichar prakram ke anupsthiti me prativarti chap adhyaksh Karya Pranali ke roop me vikas hua hai yaad bhi jatil new ranjal ke astitva me aane ke baad prativarti chap turant prakriya ke liye 110 adhik daksh pranali ke roop me karya karta hai aadha jantuon me saumpane ki shakti bahut kam ya china hoti hai jisme vaah turant anukriya kar apna bachav nahi kar sakte atah isi kami ko pura karne ke liye adhiktar jantuon me prativarti chap 110 pranali ke roop me karya karta hai dhanyavad

आपका प्रश्न है जंतुओं में प्रतिवर्ती चौक क्यों उत्पन्न होता है मैं बताता हूं प्रतिवर्ती चा

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  861
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!