लोग धर्म को क्यों नहीं मानता है अधर्म की ओर बढ़ता जा रहा है?...


user

Vijay kotapkar

Mind Trainer

6:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका यह सवाल है ना एकदम परफेक्ट सवाल है मुझे बहुत अच्छा लगा कि आप एक जागरूक इंसान हो क्योंकि ऐसा क्यों हो रहा है कि इंसान और धर्म की तरह क्यों बोल रहा है इसलिए मूड रहा है कि उसको धर्मों में भी इस तरह तैयार किया गया धर्मों के अंदर है कि भी धर्म और लगेगा यह किस धर्म में रहकर भी उसको उधर भी बनाया जा रहा है वह किस तरफ देखो यार आसपास माहौल क्या आपके आसपास माहौल क्या किसकी तरक्की हो रही है कौन से धर्म की तरक्की हो रही है क्या जो इंसान धर्म बनाता है वह बनाने वाले इंसान की तरह की हो रही है क्या जो इंसान को धर्मों से जुड़ा है क्या उनकी तरक्की हो रही है उनकी आदत की बात नहीं कर रहा हूं मैं वह तो लोग अच्छी तरह से करवा रहे हैं लेकिन उनकी मानसिक तरक्की जो बोलते हैं उनके आरती तरह के तर्क की बात करता हूं उसकी बात करता हूं तब देखो यार क्या लाखों लोगों को लाखों नहीं करोड़ों लोगों को इतना बुरा किया जाता है ना धर्म के नाम पर क्या धर्म करोगे ना तो या फिर कर्म लिखे जाएंगे तो ऐसा कौन सी किताब में लिखा है कि आप धर्म को मिलाकर मलिक है और ऐसी कौन सी किताब कर्म करोगे तो सद्भावना दिखाता है जो मीठे मीठे बोल बोलता है काम नहीं करेगा आपकी जेब से किस सन तक पहुंचाना ही काम करना है सबसे बड़ा जो आज दुनिया बंधन के नाम पर धर्म के नाम पर तो यह इसीलिए क्योंकि इंसान को यह धर्म के नाम पर कुछ धर्म समझने में कितना धर्म वाकई में है क्या एक ही है जहां तक मेरा मानना है कि जो परवरिश हमारी हुई है उसमें कुछ कमी रह रही है ना और कल अच्छी तरह से कर ले हमें क्या करना चाहिए हमारे परिवार के लिए बड़े समाज के लिए दूसरा हमारे बच्चों की परवरिश कैसे करनी चाहिए भोजपुरी धर्मों में ऐसी ही नहीं सिखाया जाता के गर्भ में संस्कार दिए जाए क्यों नहीं सिखाया जाता आज जब स्वामी विवेकानंद उनकी माताजी उनके दो बच्चे पर जाने के बाद मुझे शामिल करने का जन्म होता था ना तो उन्होंने है ना टेलीपति से उन्होंने प्राण प्रतिष्ठा जिसे बोलते कि वह मेडिटेशन करके ध्यान करके उन्होंने स्वामी करने के उपाय गर्भ में यहां तक कि प्रहलाद की माता बाल्मीकि के वहां तक रही थी पूरा दुनिया में लिया था जब पहला गर्भ में थे तभी यह सारी चीजें है ना यह सिखाई नहीं जाती हमारे घर के अंदर सबसे बड़ा हमारा जो कमजोर पॉइंट वही है वहां पर आपके बच्चे अगर बड़े हो जाते बोला जाता है कि आओ बैठो सत्संग से लोग सभी धर्मों में बिजली तैयारी के बारे में कोई सिखाने जरा इंसान जन्म लेने के बाद में इतना बुद्धिशाली होने के बाद में और ज्ञान ले जाता है तो सबसे बड़ा मूर्ख इंसान तो है क्योंकि डालना चाहिए था ना उसको पैदा हुआ था क्या करते समय रहता है और जो इंसान के अंदर रिदम संसार ऐसी बात नहीं है किधर संसार उसके 9 महीने से शुरू होता है यह जब विचार करते पति-पत्नी मुझे अच्छा संतान चाहिए तभी से शुरू होता है और तभी से उसकी जो कोशिश होती है ना हो जाती है कि मुझे संतान चाहिए वह क्या करेगी पिक्चर के अंदर कैसा दिखना चाहिए ऐसी दिखनी चाहिए पुराना चाहिए वह सब पूरा डिजाइन कर ले तो लोग हमारे शास्त्रों में पुराणों में जो लिखिए ना यह ट्रेनिंग कोई नहीं देगा आपको किस कर लेना है तो सामने हजार इंसान कानून को मिल जाता है हम लोग करें दान पुण्य दान करना चाहिए लेकिन यह दान करने से क्या आपका पैसा सी जगह जाता है क्या उससे आपका मानसिक आस हो रहा है फिर मन को शांति मिल रही है लेकिन क्या उससे नकारात्मकता नष्ट हो रही है संसार की पूरी की पूरी अगर मान लो इतने सारे धर्म होने के बाद में भी अगर मान लो के खत्म खत्म नहीं हुई है जो नेगेटिविटी है जो शंका के बादल लोगों के घर में है दिमाग में है जो दुख के बादल लोगों के घर पर मंडरा रहे लोग बीमार रहते हैं सी बीमारियां नहीं होती ना प्रमाण पत्र को ऑन रोड आपको मिल जाएगा देखना कितने बीमार है कितने रोगी है कितने मानसिक रोगी है इसी से पता चल रहा और वह सारे के सारे लोग क्या कोई ना कोई धर्म से नहीं जुड़े होगी देख लेना अगर मान लो मेरी बात सही जा रही है ना सही बात समझ लोगे हमारा शरीर किस तरह काम करता बुद्धि की तरह काम करके मेरा मन की तरह काम कर दे उस धर्म के बारे में विचार छोड़ दें धर्मा वह करें जिसे स्वयं का विकास होना मैं क्या चीज हूं मैं क्यों आप ऐसा लगा धन दौलत ना सर आपकी इस समय नहीं है कि आप वहीं पर आपको ध्यान देना पड़ेगा कि अगर आप आपके ऊपर जो आपकी सेवर पड़े हैं कि जन्म के अंदर जो दुनिया ना खींचे कपड़ा आप नहीं ले रहे हो और कोई लेकर आपकी जेब पर पड़ रहा है खाली कर रहा है और निकाल रहा है चलता रहेगा सवा लाख बराबर धर्मेंद्र लिखा हुआ है दिखाई है तो पूरा संसार है ना पूरे संसार में कोई न्योता भी दुखी नहीं होता सब के सब दिल से करते हो कर बहुत मस्ती करते हो गलती किसकी है माननीय रागिनी लोग उनकी गलती है क्यों समझ नहीं पा रहा हमारे साथ होता क्या थैंक यू आपको और ज्यादा ऑडियो मेरी तो पता चलेगा मैं क्या करना चाहता हूं

aapka yah sawaal hai na ekdam perfect sawaal hai mujhe bahut accha laga ki aap ek jagruk insaan ho kyonki aisa kyon ho raha hai ki insaan aur dharm ki tarah kyon bol raha hai isliye mood raha hai ki usko dharmon me bhi is tarah taiyar kiya gaya dharmon ke andar hai ki bhi dharm aur lagega yah kis dharm me rahkar bhi usko udhar bhi banaya ja raha hai vaah kis taraf dekho yaar aaspass maahaul kya aapke aaspass maahaul kya kiski tarakki ho rahi hai kaun se dharm ki tarakki ho rahi hai kya jo insaan dharm banata hai vaah banane waale insaan ki tarah ki ho rahi hai kya jo insaan ko dharmon se juda hai kya unki tarakki ho rahi hai unki aadat ki baat nahi kar raha hoon main vaah toh log achi tarah se karva rahe hain lekin unki mansik tarakki jo bolte hain unke aarti tarah ke tark ki baat karta hoon uski baat karta hoon tab dekho yaar kya laakhon logo ko laakhon nahi karodo logo ko itna bura kiya jata hai na dharm ke naam par kya dharm karoge na toh ya phir karm likhe jaenge toh aisa kaun si kitab me likha hai ki aap dharm ko milakar malik hai aur aisi kaun si kitab karm karoge toh sadbhavana dikhaata hai jo meethe meethe bol bolta hai kaam nahi karega aapki jeb se kis san tak pahunchana hi kaam karna hai sabse bada jo aaj duniya bandhan ke naam par dharm ke naam par toh yah isliye kyonki insaan ko yah dharm ke naam par kuch dharm samjhne me kitna dharm vaakai me hai kya ek hi hai jaha tak mera manana hai ki jo parvarish hamari hui hai usme kuch kami reh rahi hai na aur kal achi tarah se kar le hamein kya karna chahiye hamare parivar ke liye bade samaj ke liye doosra hamare baccho ki parvarish kaise karni chahiye bhojpuri dharmon me aisi hi nahi sikhaya jata ke garbh me sanskar diye jaaye kyon nahi sikhaya jata aaj jab swami vivekananda unki mataji unke do bacche par jaane ke baad mujhe shaamil karne ka janam hota tha na toh unhone hai na telipati se unhone praan prathishtha jise bolte ki vaah meditation karke dhyan karke unhone swami karne ke upay garbh me yahan tak ki prahlad ki mata balmiki ke wahan tak rahi thi pura duniya me liya tha jab pehla garbh me the tabhi yah saari cheezen hai na yah sikhai nahi jaati hamare ghar ke andar sabse bada hamara jo kamjor point wahi hai wahan par aapke bacche agar bade ho jaate bola jata hai ki aao baitho satsang se log sabhi dharmon me bijli taiyari ke bare me koi sikhane zara insaan janam lene ke baad me itna buddhishali hone ke baad me aur gyaan le jata hai toh sabse bada murkh insaan toh hai kyonki dalna chahiye tha na usko paida hua tha kya karte samay rehta hai aur jo insaan ke andar ryhthm sansar aisi baat nahi hai kidhar sansar uske 9 mahine se shuru hota hai yah jab vichar karte pati patni mujhe accha santan chahiye tabhi se shuru hota hai aur tabhi se uski jo koshish hoti hai na ho jaati hai ki mujhe santan chahiye vaah kya karegi picture ke andar kaisa dikhana chahiye aisi dikhni chahiye purana chahiye vaah sab pura design kar le toh log hamare shastron me purano me jo likhiye na yah training koi nahi dega aapko kis kar lena hai toh saamne hazaar insaan kanoon ko mil jata hai hum log kare daan punya daan karna chahiye lekin yah daan karne se kya aapka paisa si jagah jata hai kya usse aapka mansik aas ho raha hai phir man ko shanti mil rahi hai lekin kya usse nakaratmakta nasht ho rahi hai sansar ki puri ki puri agar maan lo itne saare dharm hone ke baad me bhi agar maan lo ke khatam khatam nahi hui hai jo negativity hai jo shanka ke badal logo ke ghar me hai dimag me hai jo dukh ke badal logo ke ghar par mandra rahe log bimar rehte hain si bimariyan nahi hoti na pramaan patra ko on road aapko mil jaega dekhna kitne bimar hai kitne rogi hai kitne mansik rogi hai isi se pata chal raha aur vaah saare ke saare log kya koi na koi dharm se nahi jude hogi dekh lena agar maan lo meri baat sahi ja rahi hai na sahi baat samajh loge hamara sharir kis tarah kaam karta buddhi ki tarah kaam karke mera man ki tarah kaam kar de us dharm ke bare me vichar chhod de dharma vaah kare jise swayam ka vikas hona main kya cheez hoon main kyon aap aisa laga dhan daulat na sir aapki is samay nahi hai ki aap wahi par aapko dhyan dena padega ki agar aap aapke upar jo aapki sevar pade hain ki janam ke andar jo duniya na khinche kapda aap nahi le rahe ho aur koi lekar aapki jeb par pad raha hai khaali kar raha hai aur nikaal raha hai chalta rahega sava lakh barabar dharmendra likha hua hai dikhai hai toh pura sansar hai na poore sansar me koi nyota bhi dukhi nahi hota sab ke sab dil se karte ho kar bahut masti karte ho galti kiski hai mananiya ragini log unki galti hai kyon samajh nahi paa raha hamare saath hota kya thank you aapko aur zyada audio meri toh pata chalega main kya karna chahta hoon

आपका यह सवाल है ना एकदम परफेक्ट सवाल है मुझे बहुत अच्छा लगा कि आप एक जागरूक इंसान हो क्यों

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  88
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!