सिंधु घाटी सभ्यता क्या है विस्तार में बताइए?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिंधु घाटी सभ्यता विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक हैं यह डिग्री ऑफ लेटेस्ट के तट पर मेसोपोटामिया नील नदी के तट पर मिस्र की सभ्यता में चीनी सभ्यता के समकालीन थे इस सभ्यता के दौरान सबसे पहले 1921 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अध्यक्ष जॉन मोशन ने सर्वप्रथम हड़प्पा की खोज की जिस वजह से इसे हड़प्पा सभ्यता भी कहा जाता है दयाराम साहनी ने हड़प्पा स्थल की खुदाई की इसके बाद सन् 1922 में राखल दास बनर्जी ने एक और स्थान को खोजा जिसका नाम था मोहनजोदड़ो यहां की शहरी अर्थव्यवस्था थी इन लोगों का खान-पान रहन-सहन सब कुछ बहुत ही बढ़िया तरीके से था इन्होंने अपने जो अपने जो शहर बसा रखे थे वह बिल्कुल एक स्मार्ट सिटी की तरह बसा रखी थी इनके घरों का किसी भी घर का दरवाजा मेन गेट पर नहीं खुलता था हर एक घर में एक स्नानागार एक रसोई अन्ना घर आंगन आंगन के अंदर एक साइड में एक कुआं होता था यह भी बताया जाता है कि यह लोग दो मंजिले अपील मंजिलें मकानों में रहते थे यह लोग आभूषणों का भी उपयोग करते थे आभूषणों में यह मन का मोती सी मिट्टी आदि के द्वारा पहनती थी इन कॉसमॉस दो वर्गों में बंटा हुआ था एक उच्च समाज के लोग उच्च वर्ग के लोग जिसमें पुरोहित वर्ग आता था और एक निम्न वर्ग जिसमें गरीब मजदूर और किसान आते हैं इनका गांव दो भागों में बटा हुआ था यानी कि जो पुरोहित वर्ग था वह एक ऊंचे टीले पर बना हुआ था और उसके चारों बाउंड्री की विधि चारदीवारी बनाई हुई थी ताकि कोई भी बाहरी आक्रमण हो तो उनकी सुरक्षा हो सके लेकिन जो निम्न वर्ग के लोग थे उनका कोई चारदीवारी नहीं थी

sindhu ghati sabhyata vishwa ki prachintam sabhyatao me se ek hain yah degree of latest ke tat par mesopotamia neel nadi ke tat par mistra ki sabhyata me chini sabhyata ke samkalin the is sabhyata ke dauran sabse pehle 1921 me bharatiya puratatva sarvekshan vibhag ke adhyaksh john motion ne sarvapratham hadappa ki khoj ki jis wajah se ise hadappa sabhyata bhi kaha jata hai dayaram sahani ne hadappa sthal ki khudai ki iske baad san 1922 me rakhal das banerjee ne ek aur sthan ko khoja jiska naam tha mohenjodaro yahan ki shahri arthavyavastha thi in logo ka khan pan rahan sahan sab kuch bahut hi badhiya tarike se tha inhone apne jo apne jo shehar basa rakhe the vaah bilkul ek smart city ki tarah basa rakhi thi inke gharon ka kisi bhi ghar ka darwaja main gate par nahi khulta tha har ek ghar me ek snanagar ek rasoi anna ghar aangan aangan ke andar ek side me ek kuan hota tha yah bhi bataya jata hai ki yah log do manjile appeal manjilen makanon me rehte the yah log abhusano ka bhi upyog karte the abhusano me yah man ka moti si mitti aadi ke dwara pahanti thi in cosmos do vargon me bata hua tha ek ucch samaj ke log ucch varg ke log jisme purohit varg aata tha aur ek nimn varg jisme garib majdur aur kisan aate hain inka gaon do bhaagon me bataa hua tha yani ki jo purohit varg tha vaah ek unche teele par bana hua tha aur uske charo boundary ki vidhi chardivari banai hui thi taki koi bhi bahri aakraman ho toh unki suraksha ho sake lekin jo nimn varg ke log the unka koi chardivari nahi thi

सिंधु घाटी सभ्यता विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक हैं यह डिग्री ऑफ लेटेस्ट के तट पर

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  99
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!