लोग विश्वास क्योंं तोड़ते है, जबकि उन्हें पता होता है इससे लोगों को बहुत बुरा लगता है?...


user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कई बार हमेशा देखते हैं कि लोग एक दूसरे का विश्वास तोड़ देते हैं कई लोगों पर हमें अपने से भी ज्यादा भरोसा होता है और ऐसा हमारे दिमाग में चलता है कि चाहे जिंदगी में कैसी भी परिस्थिति क्यों ना हो यह इंसान हमारे लिए हमेशा खड़ा रहेगा चाहे परिस्थिति कैसी भी क्यों ना हो लेकिन ऐसा देखने को मिलता है कि जिन पर हम भरोसा करते हैं उनमें से कुछ लोग हमारा भरोसा हमारा विश्वास तोड़ देते हैं और ऐसा वह लोग इस वजह से करते हैं क्योंकि उन्हें दूसरों की कद्र नहीं होती उन्हें इसकी परवाह नहीं होती कि सामने वाला व्यक्ति क्या सोचेगा उस पर क्या बीतेगी क्योंकि आज के समय में बहुत सारे लोग स्वार्थी हो गए हैं उन्हें सिर्फ खुद के बारे में सोचना आता है उन्हें किस प्रकार से दूसरों का फायदा उठाया जाए यह चीजें अच्छी प्रकार से आती हैं इसी वजह से लोग दूसरे का भरोसा तोड़ देते हैं तो हमें हमेशा ऐसे लोगों से बचकर रहना चाहिए हालांकि यह तो काफी मुश्किल है कि हम सभी लोगों को पहचान ले कि वह समय आने पर हमारा साथ देंगे या फिर नहीं यानी कि हमारे भरोसे लायक वह हैं या फिर नहीं लेकिन फिर भी जहां तक प्रयास यही होना चाहिए कि ऐसे लोगों के साथ हम बिल्कुल ना रहे जिन्होंने कभी ना कभी हमारा भरोसा तोड़ा है

kai baar hamesha dekhte hain ki log ek dusre ka vishwas tod dete hain kai logo par hamein apne se bhi zyada bharosa hota hai aur aisa hamare dimag mein chalta hai ki chahen zindagi mein kaisi bhi paristithi kyon na ho yah insaan hamare liye hamesha khada rahega chahen paristithi kaisi bhi kyon na ho lekin aisa dekhne ko milta hai ki jin par hum bharosa karte hain unmen se kuch log hamara bharosa hamara vishwas tod dete hain aur aisa vaah log is wajah se karte hain kyonki unhe dusro ki kadra nahi hoti unhe iski parvaah nahi hoti ki saamne vala vyakti kya sochega us par kya bitegi kyonki aaj ke samay mein bahut saare log swaarthi ho gaye hain unhe sirf khud ke bare mein sochna aata hai unhe kis prakar se dusro ka fayda uthaya jaaye yah cheezen achi prakar se aati hain isi wajah se log dusre ka bharosa tod dete hain toh hamein hamesha aise logo se bachakar rehna chahiye halaki yah toh kaafi mushkil hai ki hum sabhi logo ko pehchaan le ki vaah samay aane par hamara saath denge ya phir nahi yani ki hamare bharose layak vaah hain ya phir nahi lekin phir bhi jaha tak prayas yahi hona chahiye ki aise logo ke saath hum bilkul na rahe jinhone kabhi na kabhi hamara bharosa toda hai

कई बार हमेशा देखते हैं कि लोग एक दूसरे का विश्वास तोड़ देते हैं कई लोगों पर हमें अपने से भ

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  155
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!