देश में क्या सिविल कोड लागू किया जाना चाहिए?...


play
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभिषेक कि आपने बोला देश में सिविल कोड लागू किया जाना चाहिए नीचे बिल्कुल इस बात पर तो बहस चल रही है सुप्रीम तो यह चीज बहुत पहले से चल रहा है इस लागू करने की बात भी चल रही है जो अब मतलब बेफिक्रे जोलो है भारत में अभी किस तरह से कानून है कि जो माइनॉरिटी लोग हैं कुछ हिंदू मुस्लिम के लिए कुछ इलाज है अलग-अलग बनाए गए हैं कि किया तो गरम बात करते हैं तो आज क्या हाल है अलग धर्म और रिलीजन के विशेष का लगा लगा जैसे कि अगर हिंदू है तो हिंदू पर्सनल मुस्लिम पर्सनल लॉ बनाया गया धर्म के आधार पर माइनॉरिटी के आधार पर लेकिन यह यूनिफॉर्म सिविल कोड कहता है बेफिक्री की हर एक धर्म के लिए कानून के समान होनी चाहिए खासकर जिसकी विवाह में हो या फिर अनाथ बच्चे को गोद लेने की बात हो विधवा महिला के साथ या फिर भी जो 40 लोग होते हैं उसके ऊपर जो परंपरा है वह अगर हो जाए तो बहुत अच्छी जगह लागू हो जाता है तो उस सभी के लिए बहुत अच्छा है ठीक है पूरे अगर कानून एक जैसा देता है लोगों को मताधिकार देता है तो एक जैसा कानून भी होना चाहिए ताकि सब लोग एक बराबर फील कर पाए तो बहुत जरूरी है भारत में चीज लागू होने के बाद भी चल रही है बहुत सारे लोगों का सुझाव दिया है कि वह सारे कमीशन सामने आए हैं कि जो है आनी चाहिए इस जो लॉ कमीशन है इसकी उस मामले में अपनी सिफारिश की सरकार को भेज भेजी है वैसी करें तो लगता है आज आएगा या फिर इसके बारे में सुनवाई होगी और यह आज से नहीं बहुत पहले से जब बेटी सरकार थी यहां पर उसमें से जो पर्सनल लॉ है वह चल रही है जिसकी माटी के आधार पर तय की गई थी कि अगर आपके लिए हमें फॉलो कर दो ठीक है आप कॉल कीजिए किसीको रोका नहीं गया तो उसको सही चीज चला आ रहा है तो अभी तक यही है उसको चेंज करने के बाद मुझे प्रॉब्लम तो होगी लेकिन इसको चेंज भी करना जरूरी है

abhishek ki aapne bola desh mein civil code laagu kiya jana chahiye niche bilkul is baat par toh bahas chal rahi hai supreme toh yah cheez bahut pehle se chal raha hai is laagu karne ki baat bhi chal rahi hai jo ab matlab befikre jolo hai bharat mein abhi kis tarah se kanoon hai ki jo minority log hain kuch hindu muslim ke liye kuch ilaj hai alag alag banaye gaye hain ki kiya toh garam baat karte hain toh aaj kya haal hai alag dharm aur religion ke vishesh ka laga laga jaise ki agar hindu hai toh hindu personal muslim personal law banaya gaya dharm ke aadhaar par minority ke aadhaar par lekin yah uniform civil code kahata hai befikri ki har ek dharm ke liye kanoon ke saman honi chahiye khaskar jiski vivah mein ho ya phir anath bacche ko god lene ki baat ho vidva mahila ke saath ya phir bhi jo 40 log hote hain uske upar jo parampara hai vaah agar ho jaaye toh bahut achi jagah laagu ho jata hai toh us sabhi ke liye bahut accha hai theek hai poore agar kanoon ek jaisa deta hai logo ko matadhikar deta hai toh ek jaisa kanoon bhi hona chahiye taki sab log ek barabar feel kar paye toh bahut zaroori hai bharat mein cheez laagu hone ke baad bhi chal rahi hai bahut saare logo ka sujhaav diya hai ki vaah saare commision saamne aaye hain ki jo hai aani chahiye is jo law commision hai iski us mamle mein apni sifarish ki sarkar ko bhej bheji hai vaisi kare toh lagta hai aaj aayega ya phir iske bare mein sunvai hogi aur yah aaj se nahi bahut pehle se jab beti sarkar thi yahan par usme se jo personal law hai vaah chal rahi hai jiski mati ke aadhaar par tay ki gayi thi ki agar aapke liye hamein follow kar do theek hai aap call kijiye kisiko roka nahi gaya toh usko sahi cheez chala aa raha hai toh abhi tak yahi hai usko change karne ke baad mujhe problem toh hogi lekin isko change bhi karna zaroori hai

अभिषेक कि आपने बोला देश में सिविल कोड लागू किया जाना चाहिए नीचे बिल्कुल इस बात पर तो बहस च

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  156
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Yk Sahu

Educated Unemployed

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिविल कोड लागू दो पिया जी गाना चाहिए देश के नियम कानून के हिसाब से भी हमको देखना चाहिए कि वहां की सिस्टम क्या है और हमारी सिस्टम क्या है हम को भी विकसित देशों की आलोचना न कर उनकी तस्वीर की जो सिस्टम है कानून है बरसता है शिक्षा है टेक्नोलॉजी है उनको सेट करना होगा कि उनकी आलोचना करनी करनी चाहिए थी वहां की संस्कृति खराब है या है वहां के लोग कैसे जीते हैं लेकिन स्थित है उनकी सोच है उनकी जीवन शैली स्वच्छता पर स्वच्छता पर आजादी पर भारत के कई मामले में होती है हमको चाहिए क्योंकि जो तमाम रणनीति शिक्षा शिक्षा पद्धति टेक्नोलॉजी इन सब चीज को हम को फॉलो करना चाहिए धन्यवाद

civil code laagu do piya ji gaana chahiye desh ke niyam kanoon ke hisab se bhi hamko dekhna chahiye ki wahan ki system kya hai aur hamari system kya hai hum ko bhi viksit deshon ki aalochana na kar unki tasveer ki jo system hai kanoon hai barasta hai shiksha hai technology hai unko set karna hoga ki unki aalochana karni karni chahiye thi wahan ki sanskriti kharab hai ya hai wahan ke log kaise jeete hain lekin sthit hai unki soch hai unki jeevan shaili swachhta par swachhta par azadi par bharat ke kai mamle mein hoti hai hamko chahiye kyonki jo tamaam rananiti shiksha shiksha paddhatee technology in sab cheez ko hum ko follow karna chahiye dhanyavad

सिविल कोड लागू दो पिया जी गाना चाहिए देश के नियम कानून के हिसाब से भी हमको देखना चाहिए कि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  145
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!