अगर आपका जीवन एक उपन्यास होता तो उसका शीर्षक क्या होता?...


user

अशोक वशिष्ठ

Author, Retired Principal

2:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं अशोक वर्सेस आपका प्रश्न है अगर आपका जीवन एक उपन्यास होता तो उसका शीर्षक क्या होता बहुत बढ़िया प्रश्न है मैं लिखने का शौकीन तो हूं लिखना मेरी रुचि है और शौक ही नहीं फितूर है मेरे लिए दीवानगी है अगर मेरा जीवन एक उपन्यास होता तो उसका शीर्षक होता जागती आंखों का सपना जी हां यदि मैं अपने जीवन पर कोई प्रयास लिखता या कोई और लिखता तो मैं उसका शीर्षक यही रखता जागती आंखों का सपना यह जो अभी टॉपिक मैंने आपको बताया यह मेरे दिल के करीब बहुत है इसी तरह की भावनाओं के दम पर में जीवन में आज जो हूं वह हूं मैं एक रिटायर्ड प्रिंसिपल हूं 67 साल मेरी उम्र है मैं एक लेखक हूं पत्रकार हूं स्वयंसेवी संगठन का अध्यक्ष हूं रजिस्टर्ड संस्था है पूर्व विद्यार्थियों के एक संगठन का मैंने गठन किया जब मैं प्रिंसिपल था जो इंटर कॉलेज या जूनियर कॉलेज इसको बोलते हैं वह विद्यार्थी हमारे साथ हैं लाखों रुपए का हमारे पास फंड है एक ट्रस्ट हमने रजिस्टर्ड कराया है वह सारे काम करते हैं और यह सारी जो और कल्पनाएं साकार हुई है मेरे जीवन की वह सब जागते हुई आंखों से देखे गए सपने हैं क्योंकि रात की नींद के आगोश में देखे गए सपने तो आंख खुलते ही टूट जाते हैं सपने सपने कब हुए अपने आंख खुली तो टूट गए वह बंदा के सपने होते हैं और खुली आंखों से देखे गए सपने अगर साकार कर लिए जाएं तो मनुष्य सार्थक जिंदगी जी सकता है तो मैं फिर एक बार आपको बता दूं कि अगर मेरा जीवन एक उपन्यास होता तो उसका शिक्षक केवल और केवल होता जागती आंखों का सपना धन्यवाद

namaskar main ashok versus aapka prashna hai agar aapka jeevan ek upanyas hota toh uska shirshak kya hota bahut badhiya prashna hai main likhne ka shaukin toh hoon likhna meri ruchi hai aur shauk hi nahi fitoor hai mere liye deewangi hai agar mera jeevan ek upanyas hota toh uska shirshak hota jaagti aakhon ka sapna ji haan yadi main apne jeevan par koi prayas likhta ya koi aur likhta toh main uska shirshak yahi rakhta jaagti aakhon ka sapna yah jo abhi topic maine aapko bataya yah mere dil ke kareeb bahut hai isi tarah ki bhavnao ke dum par me jeevan me aaj jo hoon vaah hoon main ek retired principal hoon 67 saal meri umar hai main ek lekhak hoon patrakar hoon swayansevi sangathan ka adhyaksh hoon registered sanstha hai purv vidyarthiyon ke ek sangathan ka maine gathan kiya jab main principal tha jo inter college ya junior college isko bolte hain vaah vidyarthi hamare saath hain laakhon rupaye ka hamare paas fund hai ek trust humne registered karaya hai vaah saare kaam karte hain aur yah saari jo aur kalpanaen saakar hui hai mere jeevan ki vaah sab jagte hui aakhon se dekhe gaye sapne hain kyonki raat ki neend ke aagosh me dekhe gaye sapne toh aankh khulte hi toot jaate hain sapne sapne kab hue apne aankh khuli toh toot gaye vaah banda ke sapne hote hain aur khuli aakhon se dekhe gaye sapne agar saakar kar liye jayen toh manushya sarthak zindagi ji sakta hai toh main phir ek baar aapko bata doon ki agar mera jeevan ek upanyas hota toh uska shikshak keval aur keval hota jaagti aakhon ka sapna dhanyavad

नमस्कार मैं अशोक वर्सेस आपका प्रश्न है अगर आपका जीवन एक उपन्यास होता तो उसका शीर्षक क्या ह

Romanized Version
Likes  52  Dislikes    views  1166
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!