भारत की सबसे बड़ी समस्या भ्रष्टाचार ही क्यों है?...


user

Balwant Yadav

Journalist

6:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की सबसे बड़ी समस्या भ्रष्टाचार ही क्यों है यह प्रस्तुत सुनने में थोड़ा अजीब जरूर है परंतु है बड़ा सही भारत जैसे देश में भ्रष्टाचार उस दीमक की तरह से है जो दिन प्रतिदिन इस को खोखला करता जा रहा है और भ्रष्टाचार की जड़ कहीं न कहीं राजनीति से ही है शासक वर्ग से ही भ्रष्टाचार की जड़ शुरू हो रही है क्या कहना पिक्चर कि नहीं होगा कि आज भारत में ईमानदार व्यक्तियों की खोज किया जाए तो प्रतिशत में बहुत कम लोग ऐसे मिलेंगे जो वास्तव में ईमानदार बाकी भ्रष्टाचारियों की तो बात ही छोड़ दिया जाए आजादी के बाद अगर भारत में सबसे ज्यादा किसी का हरासमेंट हुआ है तो इंसान का नैतिक पतन नैतिक पर गिरा है हर इंसान अपने नैतिकता से इस कदर गिरता गया कि भ्रष्टाचार की झलक प्रत्येक व्यक्ति के अंदर देखने को मिलती है पंचायत चुनाव से लेकर बड़े-बड़े चुनाव में ऐसा देखा जाता है कि हर व्यक्ति पैसा लेकर वोट करना गलत व्यक्ति को वोट देना और वह व्यक्ति जो पैसा लगाकर चुनाव जीतता है वह क्या करता है सारी योजनाओं का सारे धन का गमन कर जाता है आज राजनीति व्यवसाय हो गया है पैसा लगाकर लोग चुनाव लड़ते हैं और चुनाव जीत जाने के बाद उस पैसे को निकालते हैं तू कहीं ना कहीं जनता का पैसा जो सरकार द्वारा जनता को दिया जाता है इस पर 30% यही जनता तक पहुंच पाता है बाकी सारा पैसा नेताओं अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा खा लिया जाता है कुछ कटु शब्द हैं जो नहीं कहना चाहिए लेकिन भारत में सरकारी नौकरियों में बैठे हुए लोग ऐसे हैं जो सरकार से तनख्वाह सिर्फ बैठने का लेते हैं काम करने के लिए उन्हें रिश्वत की जरूरत पड़ती है बिना रिश्वत लिए काम नहीं करते हैं वह सिर्फ कुर्सी पर बैठने का पैसा सरकार से लेते हैं काम करने का नहीं अगर वह किसी तरीके से पकड़ भी लिए जाते हैं तो अपने नाजायज तरीके से कमाई हुई दौलत का कुछ हिस्सा खर्च करके बड़ी आसानी से बचे जाते हैं तो कहेंगे नीचे से लेकर 1 चपरासी से लेकर और सबसे ऊंची कुर्सी पर बैठा हुआ व्यक्ति में कहीं कोई ऐसा नजर नहीं आता जी ना भ्रष्टाचार ना हो या जो भ्रष्टाचारी ना हो इसलिए हमारे अनुसार भ्रष्टाचार एक ऐसे दिमाग की तरह से है जो भारत जैसे देश को दिन प्रतिदिन खोखला करता जा रहा है उसके अस्तित्व को गिराता जा रहा है अगर भारत से भ्रष्टाचार को जड़ से मिटा दिया जाए तो मेरा दावा है कि पूरे विश्व में भारत की बराबरी करने वाला कोई भी देश नहीं होगा भारत विश्व गुरु रहा है विश्व गुरु रहेगा परंतु जब तक भारत में भ्रष्टाचार रहेगा इसका उत्थान नहीं हो सकता किसी कीमत पर नहीं हो सकता तो भारत की सबसे बड़ी समस्या भ्रष्टाचार है या कहना बिल्कुल गलत नहीं है क्योंकि इस भ्रष्ट युग में कभी ऐसा समर्थक की ईमानदार ओके जग में भ्रष्टाचारियों का जीना मुहाल हो जाता था आज की स्थिति यह है इस भ्रष्ट समाज समाज में ईमानदार व्यक्ति नहीं जी सकता उसे किसी न किसी तरीके से हटा दिया जाता है तो भ्रष्टाचार ही इस देश की तरक्की का सबसे बड़ा बाधक है

bharat ki sabse badi samasya bhrashtachar hi kyon hai yah prastut sunne me thoda ajib zaroor hai parantu hai bada sahi bharat jaise desh me bhrashtachar us dimak ki tarah se hai jo din pratidin is ko khokhla karta ja raha hai aur bhrashtachar ki jad kahin na kahin raajneeti se hi hai shasak varg se hi bhrashtachar ki jad shuru ho rahi hai kya kehna picture ki nahi hoga ki aaj bharat me imaandaar vyaktiyon ki khoj kiya jaaye toh pratishat me bahut kam log aise milenge jo vaastav me imaandaar baki bharashtachariyo ki toh baat hi chhod diya jaaye azadi ke baad agar bharat me sabse zyada kisi ka harasment hua hai toh insaan ka naitik patan naitik par gira hai har insaan apne naitikta se is kadar girta gaya ki bhrashtachar ki jhalak pratyek vyakti ke andar dekhne ko milti hai panchayat chunav se lekar bade bade chunav me aisa dekha jata hai ki har vyakti paisa lekar vote karna galat vyakti ko vote dena aur vaah vyakti jo paisa lagakar chunav jitata hai vaah kya karta hai saari yojnao ka saare dhan ka gaman kar jata hai aaj raajneeti vyavasaya ho gaya hai paisa lagakar log chunav ladte hain aur chunav jeet jaane ke baad us paise ko nikalate hain tu kahin na kahin janta ka paisa jo sarkar dwara janta ko diya jata hai is par 30 yahi janta tak pohch pata hai baki saara paisa netaon adhikaariyo karmachariyon dwara kha liya jata hai kuch katu shabd hain jo nahi kehna chahiye lekin bharat me sarkari naukriyon me baithe hue log aise hain jo sarkar se tankhvaah sirf baithne ka lete hain kaam karne ke liye unhe rishwat ki zarurat padti hai bina rishwat liye kaam nahi karte hain vaah sirf kursi par baithne ka paisa sarkar se lete hain kaam karne ka nahi agar vaah kisi tarike se pakad bhi liye jaate hain toh apne najayaj tarike se kamai hui daulat ka kuch hissa kharch karke badi aasani se bache jaate hain toh kahenge niche se lekar 1 chaprasi se lekar aur sabse unchi kursi par baitha hua vyakti me kahin koi aisa nazar nahi aata ji na bhrashtachar na ho ya jo bhrashtachaari na ho isliye hamare anusaar bhrashtachar ek aise dimag ki tarah se hai jo bharat jaise desh ko din pratidin khokhla karta ja raha hai uske astitva ko girata ja raha hai agar bharat se bhrashtachar ko jad se mita diya jaaye toh mera daawa hai ki poore vishwa me bharat ki barabari karne vala koi bhi desh nahi hoga bharat vishwa guru raha hai vishwa guru rahega parantu jab tak bharat me bhrashtachar rahega iska utthan nahi ho sakta kisi kimat par nahi ho sakta toh bharat ki sabse badi samasya bhrashtachar hai ya kehna bilkul galat nahi hai kyonki is bhrasht yug me kabhi aisa samarthak ki imaandaar ok jag me bharashtachariyo ka jeena muhal ho jata tha aaj ki sthiti yah hai is bhrasht samaj samaj me imaandaar vyakti nahi ji sakta use kisi na kisi tarike se hata diya jata hai toh bhrashtachar hi is desh ki tarakki ka sabse bada badhak hai

भारत की सबसे बड़ी समस्या भ्रष्टाचार ही क्यों है यह प्रस्तुत सुनने में थोड़ा अजीब जरूर है प

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  137
KooApp_icon
WhatsApp_icon
22 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!