लोग दिन रात नौकरी करके अपना खुद का घर खरीदते हैं और जबकि पूरा दिन उन्हें बाहर ही रहना है, तो इतनी मेहनत बस उस घर में सोने के लिए करते हैं?...


user

Ridhaan Panwar

Entrepreneur

2:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है लोग दिन रात नौकरी करके अपना खुद का घर खरीदते हैं और जब कि पूरा दिन उन्हें बाहर ही रहना पड़ता है तो इतनी मेहनत बस उस घर में सोने के लिए करते हैं फ्रेंड्स आपका क्वेश्चन सोचने वाला है और इसके मैं आपको एक नहीं दो तीन रीजन बताऊंगा कि ऐसा क्यों होता है तो पहला है फीलिंग ऑफ सिक्योरिटी इंसान खुद को सिक्योर फील कराना चाहता है चाहो चाहे वह किसी भी फील्ड में हूं जैसे आप नौकरी में देख लीजिए तो वह सरकारी नौकरी की तरफ उसका ज्यादा इंटरेस्ट होता है क्योंकि वहां पर उसे कुछ सिक्योरिटी फिर होती है इसी तरह किराए के मकान के बजाय उसे अपने मकान में ज्यादा इंटरेस्ट होता है चाहे वह उसे कितना भी कर्जा देने के बाद उसे खरीदना पड़े वह खरीद लेता है क्योंकि अपने मकान में इंसान को सिक्योर फील होता है यह आपका आपके मन की प्रकृति है और एक जो दूसरा रीजन है कि कुछ भी अपनी डिजायर जख्म एकंपलीस करते हैं पूरे होते हमारे डिजायर तो हमें एक फीलिंग ऑफ अचीवमेंट जो मिलती है वह एक एडिक्शन होती एडिक्शन की तरह होती है हमने कुछ सोचा कि मुझे यह चाहिए और हमने उसके लिए काम किया वह हमें मिल गया उसके बाद हमें फिल्मों का चीफ मिठाई हमारे अंदर एक कंपलीट करने के बाद हमने अपनी दूसरी डिजायर कंप्लीट करिए तीसरी करी चौथी करी उसी तरह हम खुद को प्राउड फील करते जाते हैं और अंदर से अच्छा महसूस करते जाते हैं कॉन्फिडेंस महसूस करते जाते हैं सोसाइटी में हम अपने आप को बड़ा बड़ा महसूस करते हैं तो यही एक फिल्म अचीवमेंट एक बहुत बड़ा कारण है इसकी वजह से हम यह कदम भी उठाते हैं

prashna hai log din raat naukri karke apna khud ka ghar kharidte hain aur jab ki pura din unhe bahar hi rehna padta hai toh itni mehnat bus us ghar me sone ke liye karte hain friends aapka question sochne vala hai aur iske main aapko ek nahi do teen reason bataunga ki aisa kyon hota hai toh pehla hai feeling of Security insaan khud ko secure feel krana chahta hai chaho chahen vaah kisi bhi field me hoon jaise aap naukri me dekh lijiye toh vaah sarkari naukri ki taraf uska zyada interest hota hai kyonki wahan par use kuch Security phir hoti hai isi tarah kiraye ke makan ke bajay use apne makan me zyada interest hota hai chahen vaah use kitna bhi karja dene ke baad use kharidna pade vaah kharid leta hai kyonki apne makan me insaan ko secure feel hota hai yah aapka aapke man ki prakriti hai aur ek jo doosra reason hai ki kuch bhi apni desire jakhm ekampalis karte hain poore hote hamare desire toh hamein ek feeling of achievement jo milti hai vaah ek addiction hoti addiction ki tarah hoti hai humne kuch socha ki mujhe yah chahiye aur humne uske liye kaam kiya vaah hamein mil gaya uske baad hamein filmo ka chief mithai hamare andar ek complete karne ke baad humne apni dusri desire complete kariye teesri kari chauthi kari usi tarah hum khud ko proud feel karte jaate hain aur andar se accha mehsus karte jaate hain confidence mehsus karte jaate hain society me hum apne aap ko bada bada mehsus karte hain toh yahi ek film achievement ek bahut bada karan hai iski wajah se hum yah kadam bhi uthate hain

प्रश्न है लोग दिन रात नौकरी करके अपना खुद का घर खरीदते हैं और जब कि पूरा दिन उन्हें बाहर ह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  94
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!