क्या हमारी एकता धर्म के नाम पर खत्म होती जा रही है?...


user

Sarup Singh

Journalist

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें हमारे देश हमारे मुसलमान किस तरीके से हमारी जिंदगी है हम लोग साथ में रहते हैं सभी एक दूसरे के धर्म का पालन करने वाले हैं जो भी आदमी जिसको भी लगता है कि हम लोग अलग है जिससे उस दोस्त से अलग मानते हैं जो मैसेज आते हैं उसे हम थोड़ी देर थोड़ी देर से जुड़े हुए हैं धर्म धर्म के नाम पर देश को तोड़ना गाना करना या किसी दूसरे धर्म के प्रति उसको दुर्भावना रखना नारियल के दोस्त हैं तो सभी होते हैं एक दोस्त है वह मुझसे अलग है या किसी वजह से मुझे प्रॉपर्टी कॉर्पोरेट नहीं कर पा रहा है या फिर उनकी वजह से मुझसे नफरत करता है उसे अपने दिल की बात नहीं हम उनके नाम पर कोई इंडियन आता है

hamein hamare desh hamare musalman kis tarike se hamari zindagi hai hum log saath mein rehte hain sabhi ek dusre ke dharm ka palan karne waale hain jo bhi aadmi jisko bhi lagta hai ki hum log alag hai jisse us dost se alag maante hain jo massage aate hain use hum thodi der thodi der se jude hue hain dharm dharam ke naam par desh ko todna gaana karna ya kisi dusre dharm ke prati usko durbhavana rakhna nariyal ke dost hain toh sabhi hote hain ek dost hai vaah mujhse alag hai ya kisi wajah se mujhe property corporate nahi kar paa raha hai ya phir unki wajah se mujhse nafrat karta hai use apne dil ki baat nahi hum unke naam par koi indian aata hai

हमें हमारे देश हमारे मुसलमान किस तरीके से हमारी जिंदगी है हम लोग साथ में रहते हैं सभी एक द

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  76
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vatsal

Engineering Student

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि मैं आपके सवाल क्यों लेट में जवाब दो तो हमारी एकता जो है वह धर्म के नाम पर खत्म नहीं हो रही है आ रही है बल्कि हमारी एकता जो है वह धर्म के नाम पर बढ़ती जा रही है उसके दिमाग को स्पष्ट रूप से देहरादून तक देखिए BJP सरकार ने कोई काम नहीं किया हम सब जानते हैं यह वह पार्टी की जाती है उसका भी जानते हैं जनता को चुपके सुनाते वोट मांगने गए इसलिए वह बरगला रहे हैं हिंदू मुस्लिम डिवाइड कर रहे हैं जिसने जिससे कि जो मुस्लिमों के प्रति द्वेष की भावना है उस नजरिए से सब हिंदू एकजुट और उनको वोट दे भक्तों का बेड़ा पार हो गया अब जबकि से हिंदू या मुस्लिम नाम के टोन कैसे बनाई जाती है यह बात हिंदू मुस्लिम की आ जाए उनकी पक्षियों के विपक्ष की बात आ जाए वही समझ जाते हैं और मुस्लिमों के प्रति आवाज अपोजीशन वाले धर्म की बात करें उनके खिलाफ होने लगते हैं उनके जब बात आ रही है तो आप सारी चीजें भूल जा रहे हो अगर जमीनी हकीकत देखो तो किसकी बात सही है कि गलत है कुछ काम किए या काम नहीं किए यह भी भूल जा रहे हो आपको क्या याद है कि हिंदू लगता है कि लोगों में लगातार हो रही है बहुत गलत चीज है जो कि हमें हमेशा सच्चाई का पक्ष रखना चाहिए अगर हिंदुओं के पक्ष में हो तो वह ठीक है अगर गलत हो तुम गलत ही है

kyonki main aapke sawaal kyon late mein jawab do toh hamari ekta jo hai vaah dharm ke naam par khatam nahi ho rahi hai aa rahi hai balki hamari ekta jo hai vaah dharm ke naam par badhti ja rahi hai uske dimag ko spasht roop se dehradun tak dekhiye BJP sarkar ne koi kaam nahi kiya hum sab jante hain yah vaah party ki jaati hai uska bhi jante hain janta ko chupake sunaate vote mangne gaye isliye vaah bargala rahe hain hindu muslim divide kar rahe hain jisne jisse ki jo muslimo ke prati dvesh ki bhavna hai us nazariye se sab hindu ekjut aur unko vote de bhakton ka beda par ho gaya ab jabki se hindu ya muslim naam ke tone kaise banai jaati hai yah baat hindu muslim ki aa jaaye unki pakshiyo ke vipaksh ki baat aa jaaye wahi samajh jaate hain aur muslimo ke prati awaaz apojishan waale dharm ki baat kare unke khilaf hone lagte hain unke jab baat aa rahi hai toh aap saree cheezen bhool ja rahe ho agar zameeni haqiqat dekho toh kiski baat sahi hai ki galat hai kuch kaam kiye ya kaam nahi kiye yah bhi bhool ja rahe ho aapko kya yaad hai ki hindu lagta hai ki logo mein lagatar ho rahi hai bahut galat cheez hai jo ki hamein hamesha sacchai ka paksh rakhna chahiye agar hinduon ke paksh mein ho toh vaah theek hai agar galat ho tum galat hi hai

क्योंकि मैं आपके सवाल क्यों लेट में जवाब दो तो हमारी एकता जो है वह धर्म के नाम पर खत्म नही

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मुझे काफी हद तक लगता है कि हमारी एकता और धर्म के नाम पर खत्म होती जा रही है क्योंकि हमारे देश में अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं अलग-अलग ऐसे धर्म फॉलो होते हैं जिन्हें और बाकी देशों में शायद देखा भी नहीं जाता है तो कहीं ना कहीं जो अलग-अलग धर्म के लोग हैं वह वह लोगों की तो एकता हमेशा रहती है पर जो भारत की एकता है जो भारत के 100 योजन होना यानि भारतवासी होने की वजह से हम सब महमूद की सही नदी खत्म होती जा रही है क्योंकि लोग धर्म को जाति को बहुत ज्यादा महत्व देने लगे हैं और उनको लगता है कि हमारे धर्म के लोग ही अपने बाकी धर्मों के लोग अलग हमसे और इसी वजह से धर्म के नाम पर खत्म होती जा रही है मेरे देश के लोगों की भारत वासियों की तो मुझे लगता है कि यह सब करने में सबसे बड़ा हाथ पोलिटिकल पार्टीज का है कि वह लोग धर्म के नाम पर लोगों का विभाजन कर रहे हैं धर्म के नाम पर लोगों से राजनीति कर रहे हैं और इसी वजह से लोग व एकता खत्म हुआ कर रहा है अपनी एक दूसरे के बीच की और धर्म के नाम पर विभाजित होते जा रहे हैं

ji haan mujhe kaafi had tak lagta hai ki hamari ekta aur dharm ke naam par khatam hoti ja rahi hai kyonki hamare desh mein alag alag dharmon ke log rehte hain alag alag aise dharm follow hote hain jinhen aur baki deshon mein shayad dekha bhi nahi jata hai toh kahin na kahin jo alag alag dharm ke log hain vaah vaah logo ki toh ekta hamesha rehti hai par jo bharat ki ekta hai jo bharat ke 100 yojan hona yani bharatvasi hone ki wajah se hum sab mahmood ki sahi nadi khatam hoti ja rahi hai kyonki log dharm ko jati ko bahut zyada mahatva dene lage hain aur unko lagta hai ki hamare dharm ke log hi apne baki dharmon ke log alag humse aur isi wajah se dharm ke naam par khatam hoti ja rahi hai mere desh ke logo ki bharat vasiyo ki toh mujhe lagta hai ki yah sab karne mein sabse bada hath political parties ka hai ki vaah log dharm ke naam par logo ka vibhajan kar rahe hain dharm ke naam par logo se raajneeti kar rahe hain aur isi wajah se log va ekta khatam hua kar raha hai apni ek dusre ke beech ki aur dharm ke naam par vibhajit hote ja rahe hain

जी हां मुझे काफी हद तक लगता है कि हमारी एकता और धर्म के नाम पर खत्म होती जा रही है क्योंकि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
play
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ऐसा नहीं है धर्म के नाम पर खत्म हो जाएगा रही है मुझे तो लगता कि धर्म के नाम पर बढ़ती जा रही है जहां पर इंसान मुस्लिम घायल होकर से मारने लगते हैं कि यह हमारी माता है इसे नहीं ले जा सकते तो मुझे लगता है कि घर पर नाते हमारी एकता बढ़ती जा रही है जबकि एक धर्म के नाम पर नहीं होनी चाहिए लेकिन नेशनल

dekhiye aisa nahi hai dharm ke naam par khatam ho jaega rahi hai mujhe toh lagta ki dharm ke naam par badhti ja rahi hai jaha par insaan muslim ghayal hokar se maarne lagte hain ki yah hamari mata hai ise nahi le ja sakte toh mujhe lagta hai ki ghar par naate hamari ekta badhti ja rahi hai jabki ek dharm ke naam par nahi honi chahiye lekin national

देखिए ऐसा नहीं है धर्म के नाम पर खत्म हो जाएगा रही है मुझे तो लगता कि धर्म के नाम पर बढ़ती

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!