मैं माँ बाप को छोड़ना चाहता हूँ, क्या करुँ?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त अगर अपने माता-पिता को आप छोड़ना चाहते हैं तो जिंदगी में आप यह सबसे बड़ा पाप कर रहे हैं जानते हो क्यों क्योंकि आपका जो वजूद है आप जो आज सोच रहे हैं उसके माता-पिता की देन है कि आपका आज इस पृथ्वी पर श्लोक पर कुछ वजूद है लोग आपको जानते हैं आप लोग समझदार जो लोग अपने माता पिता को दोस्त को ठुकरा देते हैं या ऐसी सोच पालते हैं कि हम अपने मां-बाप को छोड़ देंगे ऐसे लोग जिंदगी में कभी सुखी नहीं रहते हैं और अगले जन्म में उन्हें मनुष्य का रूप जो है धारण करने को कभी नहीं मिल पाता कि मैं कहना चाहूंगा दोस्तों यह प्रवृत्ति माता-पिता को छोड़ने की प्रवृत्ति सिर्फ जानवरों में ही पाई जाती है इंसानों में नहीं क्योंकि इंसान सर्वश्रेष्ठ है और भाई सब समझ सकता है कर सकता है जिन मां-बाप ने आपके लिए सुख दर्द उठाए जिस मा ने आपको गिले से खुद लेटी और स्वयं सूखे में आपको ले डाला उस मां बाप के बारे में आप ऐसा सोचते हैं कभी आपने अपने पिता से पूछा की किताब मुझे कोई दिक्कत हुई और आप मेरे लिए मेरी आप सकता हूं को पूरी करने के लिए आपको क्या दिक्कत थी मां-बाप के प्रति ऐसी सोच भगवान किसी को भी ना दें और अगर आप ऐसा सोचते हैं तो तुरंत ही छोड़ दीजिए चाहे आपकी बीवी बच्चे अगर दादी बाबा को नहीं चाहते हैं सास-ससुर नहीं चाहते फिर भी आपका फर्ज है कि आप उनके बेटे हैं उनकी बेटी हैं मां बाप को कभी दुनिया में मां बाप ही भगवान के

dost agar apne mata pita ko aap chhodna chahte hain toh zindagi me aap yah sabse bada paap kar rahe hain jante ho kyon kyonki aapka jo wajood hai aap jo aaj soch rahe hain uske mata pita ki then hai ki aapka aaj is prithvi par shlok par kuch wajood hai log aapko jante hain aap log samajhdar jo log apne mata pita ko dost ko thukara dete hain ya aisi soch palate hain ki hum apne maa baap ko chhod denge aise log zindagi me kabhi sukhi nahi rehte hain aur agle janam me unhe manushya ka roop jo hai dharan karne ko kabhi nahi mil pata ki main kehna chahunga doston yah pravritti mata pita ko chodne ki pravritti sirf jaanvaro me hi payi jaati hai insano me nahi kyonki insaan sarvashreshtha hai aur bhai sab samajh sakta hai kar sakta hai jin maa baap ne aapke liye sukh dard uthye jis ma ne aapko gile se khud leti aur swayam sukhe me aapko le dala us maa baap ke bare me aap aisa sochte hain kabhi aapne apne pita se poocha ki kitab mujhe koi dikkat hui aur aap mere liye meri aap sakta hoon ko puri karne ke liye aapko kya dikkat thi maa baap ke prati aisi soch bhagwan kisi ko bhi na de aur agar aap aisa sochte hain toh turant hi chhod dijiye chahen aapki biwi bacche agar dadi baba ko nahi chahte hain saas sasur nahi chahte phir bhi aapka farz hai ki aap unke bete hain unki beti hain maa baap ko kabhi duniya me maa baap hi bhagwan ke

दोस्त अगर अपने माता-पिता को आप छोड़ना चाहते हैं तो जिंदगी में आप यह सबसे बड़ा पाप कर रहे ह

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  862
KooApp_icon
WhatsApp_icon
15 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
आप को चोदना चाहता हूं ; हम आप को चोदना चाहते हैं ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!