किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर सरकार क्या कदम उठा रही है?...


user

Ravi Sharma

Advocate

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे ऐसा लगता है कि किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर सरकार ने जो भी कदम उठाए हैं जैसे की घर वापसी ही तथा अन्य सरकारी तथा कृषि संबंधित योजनाएं प्रारंभ की है विभिन्न राज्यों में वह नाकाफी है तथा इसके लिए कृषि की जो मूलभूत परिभाषा है उसको ही बदलना होगा जिससे कि कृषि को सबसे पहले मौसम पर केंद्रित है जिस प्रकार की किसी पर आश्रित है उससे छुटकारा दिलाना होगा नई लहरों का निर्माण करना होगा मध्यस्थों की भूमिका को भी एक प्रकार से नियंत्रण में लाना होगा तभी किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर सरकार जो है उन पर अंकुश लगा सकती है साथ ही साथ शिक्षकों के लिए नई नई योजनाएं प्रारंभ करनी होगी तथा यह समझना होगा कि आज के समय में कृषि संबंधित उद्योगों से तथा कृषि जो सीधे तौर पर चढ़े हुए किसान हमारे कृषक भाई हैं उनकी क्या क्या आवश्यकता है उनको किस प्रकार सेवा प्रोत्साहन दे सकती है इसके लिए सरकार को ना केवल योजनाएं प्रारंभ करनी होगी परंतु उनको कार्यालय में भी लाना होगा सभी राज्यों को तथा केंद्र सरकार को इसके साथ कृषकों के लिए एक साथ मिल कर कार्य करना होगा ना कि एक दूसरे का विरोध करते हुए कृषकों की अनदेखी करनी होगी किसानों के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदम जो सरकार को उठाना चाहिए वह है कि उनको आधुनिक जो सुख सुविधाएं हैं तथा आधुनिक जोक साधन है कृषि के लिए वह उपलब्ध कराने होंगे सस्ते दरों पर बीज तथा जमीन मुहैया करानी होगी तथा एक प्रकार से 4 फीट से भूमि सुधार आंदोलन को नए तरीके से परिभाषित करना होगा तभी किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर रोक लगाई जा सकती है फिलहाल केंद्र सरकार अथवा राज्य सरकार द्वारा जो भी कदम किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर अंकुश लगाने के लिए लिए गए हैं वह मेरे आधार से मेरे अनुरूप जो है आना काफी है धन्यवाद

mujhe aisa lagta hai ki kisano ki badhti atmahatya par sarkar ne jo bhi kadam uthye hai jaise ki ghar wapsi hi tatha anya sarkari tatha krishi sambandhit yojanaye prarambh ki hai vibhinn rajyo mein vaah nakafi hai tatha iske liye krishi ki jo mulbhut paribhasha hai usko hi badalna hoga jisse ki krishi ko sabse pehle mausam par kendrit hai jis prakar ki kisi par aashrit hai usse chhutkara dilana hoga nayi laharon ka nirmaan karna hoga madhyasthon ki bhumika ko bhi ek prakar se niyantran mein lana hoga tabhi kisano ki badhti atmahatya par sarkar jo hai un par ankush laga sakti hai saath hi saath shikshakon ke liye nayi nayi yojanaye prarambh karni hogi tatha yah samajhna hoga ki aaj ke samay mein krishi sambandhit udhyogo se tatha krishi jo sidhe taur par chade hue kisan hamare krishak bhai hai unki kya kya avashyakta hai unko kis prakar seva protsahan de sakti hai iske liye sarkar ko na keval yojanaye prarambh karni hogi parantu unko karyalay mein bhi lana hoga sabhi rajyo ko tatha kendra sarkar ko iske saath krishakon ke liye ek saath mil kar karya karna hoga na ki ek dusre ka virodh karte hue krishakon ki andekha karni hogi kisano ke liye sabse mahatvapurna kadam jo sarkar ko uthna chahiye vaah hai ki unko aadhunik jo sukh suvidhaen hai tatha aadhunik joke sadhan hai krishi ke liye vaah uplabdh karane honge saste daro par beej tatha jameen muhaiya karani hogi tatha ek prakar se 4 feet se bhoomi sudhaar andolan ko naye tarike se paribhashit karna hoga tabhi kisano ki badhti atmahatya par rok lagayi ja sakti hai filhal kendra sarkar athva rajya sarkar dwara jo bhi kadam kisano ki badhti atmahatya par ankush lagane ke liye liye gaye hai vaah mere aadhaar se mere anurup jo hai aana kaafi hai dhanyavad

मुझे ऐसा लगता है कि किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर सरकार ने जो भी कदम उठाए हैं जैसे की घर व

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  613
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसानों की आत्महत्या का कारण कुछ और है किसानों की आत्महत्या का कारण सिर्फ एक है जो उनको तो पता लगता है अनाज उगाने में उसका के दाम उनको नहीं मिलता उसके कार्य में जा रहे हैं विदेश की बहुत बड़ी संख्या है पूरा विदर्भ व्यस्त है प्रॉब्लम सिर्फ एक ही बोलते हैं हम आपको सब्सिडी देंगे हम आप हम आपके अनाज को मोलभाव नहीं देंगे जिसके कारण किसान आत्महत्या बढ़ रही है उसको अच्छा रेट मिल जाए तो उसके ऊपर पोपट बोले जो कि दलालों के कारण उनको मिलता नहीं नौटंकी

kisano ki atmahatya ka karan kuch aur hai kisano ki atmahatya ka karan sirf ek hai jo unko toh pata lagta hai anaaj ugane mein uska ke daam unko nahi milta uske karya mein ja rahe hain videsh ki bahut badi sankhya hai pura vidarbh vyast hai problem sirf ek hi bolte hain hum aapko subsidy denge hum aap hum aapke anaaj ko molabhav nahi denge jiske karan kisan atmahatya badh rahi hai usko accha rate mil jaaye toh uske upar popat bole jo ki dalalon ke karan unko milta nahi nautanki

किसानों की आत्महत्या का कारण कुछ और है किसानों की आत्महत्या का कारण सिर्फ एक है जो उनको तो

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तू भी है कि हमने किसानों के लिए आपकी बातों से पाकिस्तान जो हमारा अन्नदाता है मैं समझता हूं कि हमारा देश कृषि प्रधान देश भी माना जाता है कृषि प्रधान देश होने के नाते सरकारों की सबसे बड़ी जिम्मेदारी उस अन्नदाता के लिए दो वक्त की रोटी रोटी के नाम और शिक्षाओं को सम्मान देने की जिम्मेदारी थी लेकिन बदकिस्मती से हमने आज तक उनको नहीं दिया है और दूसरी बात यह है कि अगर आप उनकी आत्मा की बात करें तो मैं समझता हूं कि कहीं न कहीं जो सबसे बड़ा सांप है वो आशिक जो आर्थिक रूप से कमजोर है में लगाया है अपनी किसानी में लगाया है कुछ ऐसी बारिश नहीं हुई है और उनको क्या है और क्यों नहीं बता रहा है और पीछे से जो सरकार की एजेंसी है चाहे वह बैंक को यदि उनका टेशन लगातार जो है बढ़ता जाएगा तो कोई क्या करेगा सुप्रीम आ जाता है तो उसको लगता है कि शायद हम अपने को जो है ना ईश्वर के हवाले कर दें कि हमने आज तक कोई ऐसा सिस्टम नहीं किया कि हमारा वह अन्नदाता जो हमें खाने को दे रहा है जो तक की भी खींच में अनाज पैदा कर रहा है क्या बाढ़ की हालत में आपने कोई और भारत को एक मजबूत राष्ट्र बनाने की

tu bhi hai ki humne kisano ke liye aapki baaton se pakistan jo hamara annadata hai samajhata hoon ki hamara desh krishi pradhan desh bhi mana jata hai krishi pradhan desh hone ke naate sarkaro ki sabse badi jimmedari us annadata ke liye do waqt ki roti roti ke naam aur shikshaon ko sammaan dene ki jimmedari thi lekin badakismati se humne aaj tak unko nahi diya hai aur dusri baat yah hai ki agar aap unki aatma ki baat kare toh main samajhata hoon ki kahin na kahin jo sabse bada saap hai vo aashik jo aarthik roop se kamjor hai mein lagaya hai apni kisaani mein lagaya hai kuch aisi barish nahi hui hai aur unko kya hai aur kyon nahi bata raha hai aur peeche se jo sarkar ki agency hai chahen vaah bank ko yadi unka teshan lagatar jo hai badhta jaega toh koi kya karega supreme aa jata hai toh usko lagta hai ki shayad hum apne ko jo hai na ishwar ke hawale kar de ki humne aaj tak koi aisa system nahi kiya ki hamara vaah annadata jo hamein khane ko de raha hai jo tak ki bhi khinch mein anaaj paida kar raha hai kya baadh ki halat mein aapne koi aur bharat ko ek majboot rashtra banane ki

तू भी है कि हमने किसानों के लिए आपकी बातों से पाकिस्तान जो हमारा अन्नदाता है मैं समझता हूं

Romanized Version
Likes  152  Dislikes    views  2756
WhatsApp_icon
play
user

Ayush Prasad

Government Service IAS

1:34

Likes  2  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

Dr. Radha kant Singh

किसान

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर सरकार ने क्या कदम उठा रही है किसान बीमा किसान फसल बीमा योजना खत्म किसान पेंशन योजना किसान स्वाभिमान योजना और सम्मान योजना यह बहुत सारी योजनाएं सरकार चला रही है समय में जोधा सरकार आने वाले समय में और भी योजनाएं आने को है और कोशिश कोई भी सरकार चाहती है कि किसान आत्महत्या ना करें चाहे वह कोई सरकार हो जाए भाजपा हो चाहे कांग्रेस को देखिए इसे हर सरकार की गुडविल गिरती है सरकार को ब्याज रहित कर्ज का भी प्रस्ताव दिया गया है शायद वह भी जल्द ही आ जाएगा तो यह सारी योजना सरकार द्वारा चलाई जा रही है

kisano ki badhti atmahatya par sarkar ne kya kadam utha rahi hai kisan bima kisan fasal bima yojana khatam kisan pension yojana kisan swabhiman yojana aur sammaan yojana yah bahut saree yojanaye sarkar chala rahi hai samay mein jodha sarkar aane waale samay mein aur bhi yojanaye aane ko hai aur koshish koi bhi sarkar chahti hai ki kisan atmahatya na kare chahen vaah koi sarkar ho jaaye bhajpa ho chahen congress ko dekhiye ise har sarkar ki goodwill girti hai sarkar ko byaj rahit karj ka bhi prastaav diya gaya hai shayad vaah bhi jald hi aa jaega toh yah saree yojana sarkar dwara chalai ja rahi hai

किसानों की बढ़ती आत्महत्या पर सरकार ने क्या कदम उठा रही है किसान बीमा किसान फसल बीमा योजना

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  1033
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नेकी की सरकार ने बहुत सारी योजनाएं चलाई है जैसे-जैसे किसान क्रेडिट कार्ड और बहुत सारी योजनाएं जिसे किसान जो है वह कम दर पर ब्याज कम ब्याज दर पर लोन ले सके उसको धीरे-धीरे करके चुका है लेकिन फिर भी जो है यह बहुत सारे किसानो तक नहीं पहुंची है जिसके कारण जो है किसान वह पैसे ना चुकाने की वजह से आत्महत्या कर रहे हैं तो पहले पढ़ कर आना होगा और अगर ऐसा हुआ है तो क्यों कर रहे हैं इसके बावजूद भी ठीक करें किसान ही चीज जाननी होगी और उसको ठीक करनी होगी

neki ki sarkar ne bahut saree yojanaye chalai hai jaise jaise kisan credit card aur bahut saree yojanaye jise kisan jo hai vaah kam dar par byaj kam byaj dar par loan le sake usko dhire dhire karke chuka hai lekin phir bhi jo hai yah bahut saare kisano tak nahi pahuchi hai jiske karan jo hai kisan vaah paise na chukaane ki wajah se atmahatya kar rahe hai toh pehle padh kar aana hoga aur agar aisa hua hai toh kyon kar rahe hai iske bawajud bhi theek kare kisan hi cheez janni hogi aur usko theek karni hogi

नेकी की सरकार ने बहुत सारी योजनाएं चलाई है जैसे-जैसे किसान क्रेडिट कार्ड और बहुत सारी योजन

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसानों की बढ़ती हुई आत्महत्या की जो समझा आ रही है उस पर सरकार क्या कदम उठा रही है मोदी की सरकार ने काफी सारे कदम जरूर बताएं और किसानों को क्रॉप इंश्योरेंस दिया किसान क्रेडिट कार्ड बनवाया और काफी सारी ऐसी योजनाएं हैं जो किसानों पर केंद्रित है और उन्हीं के लिए बनाई गई है लेकिन सबसे बड़ी समस्या है इसमें यही है कि सरकार योजना जरूर बना रही है लेकिन वह योजनाओं को ढंग से क्रियान्वित नहीं कर रहे जिस वजह से कोई योजनाएं किसानों तक नहीं पहुंच पाती और कहीं ना कहीं किसान ने उसे योजनाओं का लाभ नहीं ले पाते हैं और फाइनली वह किसान आत्महत्या करने की सोचते हैं क्योंकि उनके पास कोई और विकल्प नहीं बचता तू जो सबसे बड़ी समस्या है वह यही है कि वो टेंशन बन रही है सरकार जरूर काम कर रही है पर योजनाएं क्रियांवित नहीं हो रही है बीच में ही उनका सारा और जो काम होता है वह लोगों तक नहीं पहुंच पा रहा है और बीच में वह सारा पैसा खा लिया जाता है और इसी वजह से किसानों को जब लाभ नहीं मिलता है तो उनके पास कोई और विकल्प नहीं बचता है और वह सिर्फ आत्महत्या करने की सोचते तो किसानों की भर्ती में आत्महत्या की जनसंख्या आ रही है उस पर सरकार कदम उठा रही है लेकिन उसका कोई फल नहीं मिल रहा है

kisano ki badhti hui atmahatya ki jo samjha aa rahi hai us par sarkar kya kadam utha rahi hai modi ki sarkar ne kaafi saare kadam zaroor bataye aur kisano ko crop insurance diya kisan credit card banwaya aur kaafi saree aisi yojanaye hain jo kisano par kendrit hai aur unhi ke liye banai gayi hai lekin sabse badi samasya hai isme yahi hai ki sarkar yojana zaroor bana rahi hai lekin vaah yojnao ko dhang se kriyanwit nahi kar rahe jis wajah se koi yojanaye kisano tak nahi pohch pati aur kahin na kahin kisan ne use yojnao ka labh nahi le paate hain aur finally vaah kisan atmahatya karne ki sochte hain kyonki unke paas koi aur vikalp nahi bachta tu jo sabse badi samasya hai vaah yahi hai ki vo tension ban rahi hai sarkar zaroor kaam kar rahi hai par yojanaye kriyanvit nahi ho rahi hai beech mein hi unka saara aur jo kaam hota hai vaah logo tak nahi pohch paa raha hai aur beech mein vaah saara paisa kha liya jata hai aur isi wajah se kisano ko jab labh nahi milta hai toh unke paas koi aur vikalp nahi bachta hai aur vaah sirf atmahatya karne ki sochte toh kisano ki bharti mein atmahatya ki jansankhya aa rahi hai us par sarkar kadam utha rahi hai lekin uska koi fal nahi mil raha hai

किसानों की बढ़ती हुई आत्महत्या की जो समझा आ रही है उस पर सरकार क्या कदम उठा रही है मोदी की

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!