अब अलग अलग केटेगरी के लोग आरक्षण मांग रहे हैं तो इसका परिणाम क्या पड़ेगा और वो पहले से ही आरक्षण में है क्या उनको आरक्षण की कमी आ रही है तो इस पर इन्साफ हो रहा है क्या?...


play
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:33

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओके जैसे कि आपने बोला कि आप जैसे अलग अलग कैटेगरी के लोग अलग-अलग समुदाय के लोग जो है आरक्षण मांग मांग रहे हर जगह कुछ जो कम जनसंख्या वाले लोग हैं केवल राजनीतिक लोगों को आरक्षण देना भारत में कहीं भी हद तक जायज नहीं है ठीक है और मुझे लगता है कि जो हम लोग बोले कि मुझे तुम चाहिए मैं आज छम के लायक हूं तो उस पर पूरे भारत पर बहुत ही गलत असर पड़ेगा 19 me कभी बात करें तो या फिर और भी तरीके से भारत पर अच्छा असर नहीं होगा ठीक है आरक्षण मिलना चाहिए ऐसे लोगों को जो कि सही में वाकई जरूरत है लोगों जैसे कि जो लोग पैसे की वजह से या किसी और का मतलब अपना पढ़ाई नहीं पूरा कर पा रहे हैं कृपया अपनी जो नार्मल जिंदगी है वह मैं नहीं कह करवाने तो इन सभी चीजों को हटाने के लिए आरक्षण होना चाहिए ठीक है जो आर्थिक और क्या लक्षण होती है और जातिगत आरक्षण आरक्षण कर दी जाए तो सही में वैसे ही रोक ली भतार मिल सकता है क्योंकि पैसों की वजह से आगे नहीं पढ़ पाए अपने बच्चों को नहीं पढ़ा पा रहा है और बहुत जरूरी है वैसे लोगों का राशन मिलना था कि वह लोग भी एक नार्मल जिंदगी जो है अपना सविता पैरों के कदमों से कदम मिलाकर आगे बढ़ पाए तो वैसे लोगों को बढ़ावा देने के लिए आरक्षण बहुत जरूरी है

ok jaise ki aapne bola ki aap jaise alag alag category ke log alag alag samuday ke log jo hai aarakshan maang maang rahe har jagah kuch jo kam jansankhya waale log hain keval raajnitik logo ko aarakshan dena bharat mein kahin bhi had tak jayaj nahi hai theek hai aur mujhe lagta hai ki jo hum log bole ki mujhe tum chahiye main aaj cham ke layak hoon toh us par poore bharat par bahut hi galat asar padega 19 me kabhi baat kare toh ya phir aur bhi tarike se bharat par accha asar nahi hoga theek hai aarakshan milna chahiye aise logo ko jo ki sahi mein vaakai zarurat hai logo jaise ki jo log paise ki wajah se ya kisi aur ka matlab apna padhai nahi pura kar paa rahe hain kripya apni jo normal zindagi hai vaah main nahi keh karwane toh in sabhi chijon ko hatane ke liye aarakshan hona chahiye theek hai jo aarthik aur kya lakshan hoti hai aur jaatigat aarakshan aarakshan kar di jaaye toh sahi mein waise hi rok li bhatar mil sakta hai kyonki paison ki wajah se aage nahi padh paye apne baccho ko nahi padha paa raha hai aur bahut zaroori hai waise logo ka raashan milna tha ki vaah log bhi ek normal zindagi jo hai apna savita pairon ke kadmon se kadam milakar aage badh paye toh waise logo ko badhawa dene ke liye aarakshan bahut zaroori hai

ओके जैसे कि आपने बोला कि आप जैसे अलग अलग कैटेगरी के लोग अलग-अलग समुदाय के लोग जो है आरक्षण

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!