किशोरों को विश्वविद्यालय या हाई स्कूल में होने पर नौकरियां मिलनी चाहिए? क्यों नहीं?...


user

Govind Saraf

Entrepreneur

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देख के मेरा यह मानना है कि विदेशों में यह पद्धति है अधिकतर लोग फॉलो भी करते हैं कि आप पढ़िए साथ में काम भी करिए एफिनिटी आज भारत में भी भोजन कर रहे डेफिनिटी इंटीग्रल यूनिवर्सिटी की डेट टाइमिंग्स होती है या फिर जिस तरीके से समय उसका होता है उसमें वह पॉसिबल नहीं हो पाता बहुत बार किया फुल टाइम काम करें कि निधि कोष पद्धति से अपना स्ट्रक्चर बना पड़ेगा जो शिक्षा ग्रहण करें किसी गली में ऊपर उच्च स्तरीय शिक्षा की बात कर रहा हूं नॉट ओनली ग्रेजुएशन ग्रेजुएशन के बाद की बात कर रहा हूं मास्टर उद्घाटन किस तरीके से यूनिवर्सिटी को अपने समय सारणी को तैयार करना होगा स्ट्रक्चर को तैयार करना होता कि वह पढ़ने वाले बच्चे नौकरियां भी कर पाए तो कि आर्थिक से दिन की इस तरह से नहीं पाते कि वह एजुकेशन को अपलोड कर पाए इसलिए स्ट्रक्चर को विस्तार से उन्हें तैयार करना पड़ेगा ताकि वहां के बच्चे भी नौकरियां कर पाए अगर पढ़ाई की जा सके तो इससे अच्छी बात और कुछ हो ही नहीं सकती है तो इस तरीके से मेरा मानना है कि हमारे देश में यूनिवर्सिटी या शिक्षा को इस तरह से स्ट्रक्चर बनाना पड़ेगा ताकि काम करना भी पॉसिबल है और साथ में पढ़ाई भी पॉसिबल चल रहे

dekh ke mera yah manana hai ki videshon mein yah paddhatee hai adhiktar log follow bhi karte hain ki aap padhiye saath mein kaam bhi kariye efiniti aaj bharat mein bhi bhojan kar rahe definiti integral university ki date taimings hoti hai ya phir jis tarike se samay uska hota hai usme vaah possible nahi ho pata bahut baar kiya full time kaam kare ki nidhi kosh paddhatee se apna structure bana padega jo shiksha grahan kare kisi gali mein upar ucch stariy shiksha ki baat kar raha hoon not only graduation graduation ke baad ki baat kar raha hoon master udghatan kis tarike se university ko apne samay sarni ko taiyar karna hoga structure ko taiyar karna hota ki vaah padhne waale bacche naukriyan bhi kar paye toh ki aarthik se din ki is tarah se nahi paate ki vaah education ko upload kar paye isliye structure ko vistaar se unhe taiyar karna padega taki wahan ke bacche bhi naukriyan kar paye agar padhai ki ja sake toh isse achi baat aur kuch ho hi nahi sakti hai toh is tarike se mera manana hai ki hamare desh mein university ya shiksha ko is tarah se structure banana padega taki kaam karna bhi possible hai aur saath mein padhai bhi possible chal rahe

देख के मेरा यह मानना है कि विदेशों में यह पद्धति है अधिकतर लोग फॉलो भी करते हैं कि आप पढ़ि

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  578
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!