किशोरों को विश्वविद्यालय या हाई स्कूल में होने पर नौकरियां मिलनी चाहिए? क्यों नहीं?...


user

Govind Saraf

Entrepreneur

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देख के मेरा यह मानना है कि विदेशों में यह पद्धति है अधिकतर लोग फॉलो भी करते हैं कि आप पढ़िए साथ में काम भी करिए एफिनिटी आज भारत में भी भोजन कर रहे डेफिनिटी इंटीग्रल यूनिवर्सिटी की डेट टाइमिंग्स होती है या फिर जिस तरीके से समय उसका होता है उसमें वह पॉसिबल नहीं हो पाता बहुत बार किया फुल टाइम काम करें कि निधि कोष पद्धति से अपना स्ट्रक्चर बना पड़ेगा जो शिक्षा ग्रहण करें किसी गली में ऊपर उच्च स्तरीय शिक्षा की बात कर रहा हूं नॉट ओनली ग्रेजुएशन ग्रेजुएशन के बाद की बात कर रहा हूं मास्टर उद्घाटन किस तरीके से यूनिवर्सिटी को अपने समय सारणी को तैयार करना होगा स्ट्रक्चर को तैयार करना होता कि वह पढ़ने वाले बच्चे नौकरियां भी कर पाए तो कि आर्थिक से दिन की इस तरह से नहीं पाते कि वह एजुकेशन को अपलोड कर पाए इसलिए स्ट्रक्चर को विस्तार से उन्हें तैयार करना पड़ेगा ताकि वहां के बच्चे भी नौकरियां कर पाए अगर पढ़ाई की जा सके तो इससे अच्छी बात और कुछ हो ही नहीं सकती है तो इस तरीके से मेरा मानना है कि हमारे देश में यूनिवर्सिटी या शिक्षा को इस तरह से स्ट्रक्चर बनाना पड़ेगा ताकि काम करना भी पॉसिबल है और साथ में पढ़ाई भी पॉसिबल चल रहे

dekh ke mera yah manana hai ki videshon mein yah paddhatee hai adhiktar log follow bhi karte hain ki aap padhiye saath mein kaam bhi kariye efiniti aaj bharat mein bhi bhojan kar rahe definiti integral university ki date taimings hoti hai ya phir jis tarike se samay uska hota hai usme vaah possible nahi ho pata bahut baar kiya full time kaam kare ki nidhi kosh paddhatee se apna structure bana padega jo shiksha grahan kare kisi gali mein upar ucch stariy shiksha ki baat kar raha hoon not only graduation graduation ke baad ki baat kar raha hoon master udghatan kis tarike se university ko apne samay sarni ko taiyar karna hoga structure ko taiyar karna hota ki vaah padhne waale bacche naukriyan bhi kar paye toh ki aarthik se din ki is tarah se nahi paate ki vaah education ko upload kar paye isliye structure ko vistaar se unhe taiyar karna padega taki wahan ke bacche bhi naukriyan kar paye agar padhai ki ja sake toh isse achi baat aur kuch ho hi nahi sakti hai toh is tarike se mera manana hai ki hamare desh mein university ya shiksha ko is tarah se structure banana padega taki kaam karna bhi possible hai aur saath mein padhai bhi possible chal rahe

देख के मेरा यह मानना है कि विदेशों में यह पद्धति है अधिकतर लोग फॉलो भी करते हैं कि आप पढ़ि

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  578
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Chandan Kumar Yadav

Lab Assistant

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों मैं आप लोग से कहना चाहूंगा कि जो लोग कहते हैं हमको चाहिए किस लाइन में निकलना है तो आपको अगर इन प्लास्टिक किए हुए हैं आप का बैकग्राउंड घर का खर्चा तू सबसे बड़ी बात यह है कि सबसे बड़ी बात यह है कि आप अपने पीछे को देखकर आगे और आगे बढ़े और अजंता 6 घंटा पार्ट टाइम जॉब पकड़ ले बाकी के समय में आप पढ़ ले और भाभी सुमन ऐसा कोई ऐसा जरूरी नहीं है कि आप के प्लास्टिक कंपनी के और काम कर ली का मतलब जन्नत लग्न से मिलेगा तो जरूर आगे बढ़ेगा

hello doston main aap log se kehna chahunga ki jo log kehte hain hamko chahiye kis line mein nikalna hai toh aapko agar in plastic kiye hue hain aap ka background ghar ka kharcha tu sabse badi baat yah hai ki sabse badi baat yah hai ki aap apne peeche ko dekhkar aage aur aage badhe aur ajanta 6 ghanta part time job pakad le baki ke samay mein aap padh le aur bhabhi suman aisa koi aisa zaroori nahi hai ki aap ke plastic company ke aur kaam kar li ka matlab jannat lagn se milega toh zaroor aage badhega

हेलो दोस्तों मैं आप लोग से कहना चाहूंगा कि जो लोग कहते हैं हमको चाहिए किस लाइन में निकलना

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  335
WhatsApp_icon
user

Harmeet kaur

Career Counselor

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं नौकरी के बाजार मैं यही कहूंगी कि कुछ शेरों को हाई स्कूल में पार्ट टाइम और इंटर्नशिप करना बहुत जरूरी है क्योंकि वह इंटर्नशिप मदद करती है आप को पूछने की क्या मेरे को एक नौकरी के रिलेटेड आगे पढ़ाई करनी है नहीं करनी क्या मैं इस नौकरी को कर सकता हूं या कर सकती हूं या नहीं तो नौकरी तो पैसा कमाने के लिए कौन सा टाइम इंटर्नशिप करना बहुत जरूरी है

main naukri ke bazaar main yahi kahungi ki kuch sheron ko high school mein part time aur internship karna bahut zaroori hai kyonki vaah internship madad karti hai aap ko poochne ki kya mere ko ek naukri ke related aage padhai karni hai nahi karni kya main is naukri ko kar sakta hoon ya kar sakti hoon ya nahi toh naukri toh paisa kamane ke liye kaun sa time internship karna bahut zaroori hai

मैं नौकरी के बाजार मैं यही कहूंगी कि कुछ शेरों को हाई स्कूल में पार्ट टाइम और इंटर्नशिप कर

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1155
WhatsApp_icon
user

Rahul Kumar Prajapati

Director, ACME Study Point

0:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे समस्त पर करते समय अगर मैं पानी पुरी बिक नहीं हो तो जवाब नहीं करना चाहिए अगर मेरे पास आने के लिए बर्थडे नहीं है तो जवाब नहीं करना बहुत ज्यादा बेस्ट होगा और मैं अपना ज्यादा अच्छा दिखा पाऊंगा

mere samast par karte samay agar main pani puri bik nahi ho toh jawab nahi karna chahiye agar mere paas aane ke liye birthday nahi hai toh jawab nahi karna bahut zyada best hoga aur main apna zyada accha dikha paunga

मेरे समस्त पर करते समय अगर मैं पानी पुरी बिक नहीं हो तो जवाब नहीं करना चाहिए अगर मेरे पास

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  434
WhatsApp_icon
user
1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे इंडिया में डिफेंडिंग कि मेरा बेटा पहले पढ़ाई करेगा रोशन करेगा 20 साल तक के बाद उसको नौकरी करनी चाहिए पढ़ाई करने जाएगा मतलब पढ़ाई करेगा तो वह कमा कमा ले जाएगा तो पढ़ाई नहीं कर पाएगा और कमाई करने का तो इसमें क्या होता है बच्चा एक तरफ स्टडी भी करता है कॉलेज स्कूल भी जाता है और पार्ट टाइम जॉब भी करता है इससे फायदा क्या होता है कि बाहर निकलता है उसके पास ग्रेजुएशन का सर्टिफिकेट भी होता है तो उसी के साथ के साथ जॉब का एक्सीडेंट होता है जो कि उनके पास दो हमारे इंडिया में प्रॉब्लम यह है कि पेरेंट्स अपने बच्चों को पढ़ाते हैं उसके बाद पहली बार इंटरव्यू के लिए जाता है जॉब जॉब भी उठा सकते हैं तो बैठक इंपॉर्टेंट देती है पर वो एजुकेशन भी अच्छे लगते हैं

hamare india mein defending ki mera beta pehle padhai karega roshan karega 20 saal tak ke baad usko naukri karni chahiye padhai karne jayega matlab padhai karega toh wah kama kama le jayega toh padhai nahi kar payega aur kamai karne ka toh ismein kya hota hai baccha ek taraf study bhi karta hai college school bhi jata hai aur part time job bhi karta hai isse fayda kya hota hai ki bahar nikalta hai uske paas graduation ka certificate bhi hota hai toh usi ke saath ke saath job ka accident hota hai jo ki unke paas do hamare india mein problem yeh hai ki parents apne baccho ko padhate hain uske baad pehli baar interview ke liye jata hai job job bhi utha sakte hain toh baithak important deti hai par vo education bhi acche lagte hain

हमारे इंडिया में डिफेंडिंग कि मेरा बेटा पहले पढ़ाई करेगा रोशन करेगा 20 साल तक के बाद उसको

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  1232
WhatsApp_icon
user

Girish Billore Mukul

Government Officer

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ज्यादा जरूरी नहीं है अगर उनके पैरेंट्स दे सकते हैं तो वह देते हैं तो लेकिन हम जानते हैं कि आर्थिक क्रियाएं करने से हमारा कांफिडेंस भी पड़ता है और हमने जैसा आप कह रहे हैं कि हाई स्कूल के बाद ही विश्वविद्यालय तो बात की बात थी अर्थ उपार्जन शुरू कर दिया था अमेरिकन पैटर्न भी कुछ इसी तरह से है जहां पर किशोर हाईस्कूल पास करने के बाद विश्वविद्यालय पढ़ाई के लिए जॉब किया करते हैं और वहां सामाजिक न्याय व्यवस्था इसे स्वीकृति देती है और इसे हम बहुत सारी चीजें सीख भी सकते हैं खासतौर पर मैनेजमेंट की स्किल हमें बहुत बेहतर तरीके से आसन मैंने भी उस समय 11वीं क्लास हुआ करती थी हाई सेकेंडरी 11 वीं के बाद से आर्थिक कार्य शुरू कर दिए थे पैसा कमाना शुरू कर दिया जो अभी 55 साल की उम्र तक जारी है थैंक यू

bahut zyada zaroori nahi hai agar unke pairents de sakte hain toh vaah dete hain toh lekin hum jante hain ki aarthik kriyaen karne se hamara confidence bhi padta hai aur humne jaisa aap keh rahe hain ki high school ke baad hi vishwavidyalaya toh baat ki baat thi arth uparjan shuru kar diya tha american pattern bhi kuch isi tarah se hai jaha par kishore highschool paas karne ke baad vishwavidyalaya padhai ke liye job kiya karte hain aur wahan samajik nyay vyavastha ise swikriti deti hai aur ise hum bahut saree cheezen seekh bhi sakte hain khaasataur par management ki skill hamein bahut behtar tarike se aasan maine bhi us samay vi class hua karti thi high secondary 11 vi ke baad se aarthik karya shuru kar diye the paisa kamana shuru kar diya jo abhi 55 saal ki umr tak jaari hai thank you

बहुत ज्यादा जरूरी नहीं है अगर उनके पैरेंट्स दे सकते हैं तो वह देते हैं तो लेकिन हम जानते ह

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  246
WhatsApp_icon
play
user

Anuj Gupta

Professional & Life Advisor

1:58

Likes    Dislikes    views  7
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल पढ़ते-पढ़ते कंपनी

bilkul padhte padhte company

बिल्कुल पढ़ते-पढ़ते कंपनी

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  212
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बी के देश के सामने बेरोजगारी बड़ी समस्या है और सरकार कोई भी हो जाए अभी कि केंद्र सरकार और चैन से पहले की सरकारों हर सरकार वादा करते हैं कि बेरोजगारी को खत्म करेगी लेकिन प्रैक्टिकल यह पॉसिबल नहीं कि सरकार बेरोजगारी को खत्म कर पाए क्योंकि उस का सबसे बड़ा कारण यह है कि इस देश की पापुलेशन बहुत ज्यादा है दूसरा सबसे ज्यादा पॉपुलेशन युवा पापुलेशन है जो भी बेरोजगार है दूसरा आपने कहा कि जिस प्रकार हाई स्कूल या ग्रेजुएशन में इस जॉब में नहीं चाहिए तो देखिए इतना हार्डकोर कंपटीशन हो चुका है कि आप एक्सपर्ट करके आप हाई स्कूल ग्रेजुएशन में आपको जॉब मिल जाए तो पॉसिबल नहीं आई फॉरेन में हो सकता है कि जो पापुलेशन कम होती है गम कंट्रीज डिवेलप होते हैं तो वहां एक अपॉर्च्युनिटीज होती है वहां गवर्मेंट जॉब से तो कोई काम भी नहीं होता लेकिन इंडिया में तो मुझे नहीं लगता कि अगर आपके पास मैं ग्रेजुएशन और हाईस्कूल फेल तो पीजिए निबंध पीएचडी भी हो जवाब किसी कंपटीशन क्वालीफाई नहीं करेंगे तब तो आपको जॉब नहीं मिल सकता

be ke desh ke saamne berojgari badi samasya hai aur sarkar koi bhi ho jaaye abhi ki kendra sarkar aur chain se pehle ki sarkaro har sarkar vada karte hain ki berojgari ko khatam karegi lekin practical yah possible nahi ki sarkar berojgari ko khatam kar paye kyonki us ka sabse bada karan yah hai ki is desh ki population bahut zyada hai doosra sabse zyada population yuva population hai jo bhi berozgaar hai doosra aapne kaha ki jis prakar high school ya graduation mein is job mein nahi chahiye toh dekhiye itna hardakor competition ho chuka hai ki aap expert karke aap high school graduation mein aapko job mil jaaye toh possible nahi I foreign mein ho sakta hai ki jo population kam hoti hai gum countries develop hote hain toh wahan ek aparchyunitij hoti hai wahan government se toh koi kaam bhi nahi hota lekin india mein toh mujhe nahi lagta ki agar aapke paas main graduation aur highschool fail toh PGA nibandh phd bhi ho jawab kisi competition qualify nahi karenge tab toh aapko job nahi mil sakta

बी के देश के सामने बेरोजगारी बड़ी समस्या है और सरकार कोई भी हो जाए अभी कि केंद्र सरकार और

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किशोर उम्र को विश्वविद्यालय या हाई स्कूल में होने पर नौकरियां मिलनी चाहिए क्यों नहीं और देखिए मेरे हिसाब से उनको भी जो है लेकर जब टीनेजर्स हो जाते हैं तो उनको भी तो है लेकिन डिपेंडेंट होना जरूरी है ताकि वह ज्यादातर डिपेंडेंट ना हो तो उनको भी जॉब करने की कोशिश करना चाहिए हालांकि जैसे कि पार्ट टाइम भी कर सकते हैं पर घर बैठे भी कर सकते हैं यहां पर जॉब करना चाहिए मेरे हिसाब से ताकि और भी नॉलेज गेन कर सकते हैं और उनको भी आ सकते हैं कि आगे के लिए क्या कर सकते हैं हमेशा किसी और को इंडिपेंडेंट होना कैसा है और डिपार्टमेंट कैसे उनको डिफरेंस के पता चलेगा तो मेरे हिसाब से अगर वह हाई स्कूल में हैं तो कोई भी यूनिवर्सिटी सागर पढ़ाई भी कर रहे हैं आगे की पढ़ाई तो उन्हें जॉब करना बहुत ही जरूरी है

kishore umr ko vishwavidyalaya ya high school mein hone par naukriyan milani chahiye kyon nahi aur dekhiye mere hisab se unko bhi jo hai lekar jab teenagers ho jaate hain toh unko bhi toh hai lekin dependent hona zaroori hai taki vaah jyadatar dependent na ho toh unko bhi job karne ki koshish karna chahiye halaki jaise ki part time bhi kar sakte hain par ghar baithe bhi kar sakte hain yahan par job karna chahiye mere hisab se taki aur bhi knowledge gain kar sakte hain aur unko bhi aa sakte hain ki aage ke liye kya kar sakte hain hamesha kisi aur ko independent hona kaisa hai aur department kaise unko difference ke pata chalega toh mere hisab se agar vaah high school mein hain toh koi bhi university sagar padhai bhi kar rahe hain aage ki padhai toh unhe job karna bahut hi zaroori hai

किशोर उम्र को विश्वविद्यालय या हाई स्कूल में होने पर नौकरियां मिलनी चाहिए क्यों नहीं और दे

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दीक्षा को क्वेश्चन कि किसी और को विश्व विद्यालय हाई स्कूल में होने पर नौकरी मिलनी चाहिए या नहीं अभी के विश्वविद्यालय में तो बिल्कुल होनी चाहिए लेकिन हाई स्कूल में मुझे कहां तक सही नहीं लगता मुझे लगता है कि जो व्यक्ति है उसको कम से कम कम से कम 12 तक तो पढ़ाई करनी चाहिए उसके बाद बिल्कुल अगर वह जॉब करना चाहे तो वह कर सकता है लेकिन कम से कंप्लेंट करने का मन हो तो एक ही व्यक्ति को ग्रेजुएशन तो करनी ही चाहिए मिनिमम पर कि ग्रेजुएशन कर रहे हमारा हमारी नॉलेज बढ़ती है साथ के साथ हमारे पास जॉब अपॉर्च्युनिटी ज्यादा अच्छी होती हैं हमारी लाइफ स्टाइल प्रैक्टिकल लाइफ के एक्सपीरियंस जीने जीने का मौका मिलता है और हमारी थिंकिंग बदलती है तू ही सब चीज होती है जो कि एक व्यक्ति की जीवन को बदल सकते हैं ट्यूशन करनी चाहिए और आप और आगे पढ़ना जाए तो पड़े लेकिन तेल की बात भी बिल्कुल काफी लोग नहीं अपनी पढ़ाई को आगे बढ़ा पाते हैं तो उनके लिए बिल्कुल जॉब सुनी चाहिए अगर वह चाहे तो लेकिन उसके अलावा मैं यह भी बोलना चाहूंगा कि काफी लोग मजबूर हो जाते जॉब करने के लिए 12th के बाद उनके लिए हमारी सरकार को कुछ ऐसी अपॉर्च्युनिटीज आनी चाहिए जो कि स्कॉलरशिप इजीली मिल जाए पढ़ाई के लिए अपनी पढ़ाई और अपना रहने का खर्चा अच्छे से निकाल सके तो कुछ स्कॉलरशिप स्कीम लाने के कुछ कहा कि हमारी सरकार को और जहां तक बात है 10th की तो देखिए पेड़ पर मुझे लगता है कि धूप सेट करनी चाहिए क्योंकि जॉब्स के चक्कर में लोग अपनी बेसिक एजुकेशन पूरी नहीं करेंगे और उसके अलावा आज का समय यह है कि यह सिर्फ जॉब्स की बहुत कमी है क्योंकि पापुलेशन बहुत ज्यादा है जनसंख्या ज्यादा है जोक्स कम है तो सरकार हर किसी को जोक्स नहीं प्रोवाइड करा सकती है तो अभी से 32 लोगों को फाइट करना होगा लेकिन सरकार रेगुलेट अच्छे से कर सकती है अपने सारे एग्जाम को जॉब्स

diksha ko question ki kisi aur ko vishwa vidyalaya high school mein hone par naukri milani chahiye ya nahi abhi ke vishwavidyalaya mein toh bilkul honi chahiye lekin high school mein mujhe kahaan tak sahi nahi lagta mujhe lagta hai ki jo vyakti hai usko kam se kam kam se kam 12 tak toh padhai karni chahiye uske baad bilkul agar vaah job karna chahen toh vaah kar sakta hai lekin kam se complaint karne ka man ho toh ek hi vyakti ko graduation toh karni hi chahiye minimum par ki graduation kar rahe hamara hamari knowledge badhti hai saath ke saath hamare paas job opportunity zyada achi hoti hain hamari life style practical life ke experience jeene jeene ka mauka milta hai aur hamari thinking badalti hai tu hi sab cheez hoti hai jo ki ek vyakti ki jeevan ko badal sakte hain tuition karni chahiye aur aap aur aage padhna jaaye toh pade lekin tel ki baat bhi bilkul kaafi log nahi apni padhai ko aage badha paate hain toh unke liye bilkul job suni chahiye agar vaah chahen toh lekin uske alava main yah bhi bolna chahunga ki kaafi log majboor ho jaate job karne ke liye 12th ke baad unke liye hamari sarkar ko kuch aisi aparchyunitij aani chahiye jo ki scholarship ijili mil jaaye padhai ke liye apni padhai aur apna rehne ka kharcha acche se nikaal sake toh kuch scholarship scheme lane ke kuch kaha ki hamari sarkar ko aur jaha tak baat hai 10th ki toh dekhiye ped par mujhe lagta hai ki dhoop set karni chahiye kyonki jobs ke chakkar mein log apni basic education puri nahi karenge aur uske alava aaj ka samay yah hai ki yah sirf jobs ki bahut kami hai kyonki population bahut zyada hai jansankhya zyada hai jokes kam hai toh sarkar har kisi ko jokes nahi provide kara sakti hai toh abhi se 32 logo ko fight karna hoga lekin sarkar regulate acche se kar sakti hai apne saare exam ko jobs

दीक्षा को क्वेश्चन कि किसी और को विश्व विद्यालय हाई स्कूल में होने पर नौकरी मिलनी चाहिए या

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किशोरों को विश्व विद्यालय हाई स्कूल में होने पर नौकरियां मिलनी चाहिए नहीं कोई भी कर किशोरावस्था में है हाई स्कूल में पढ़ रहे हैं कॉलेज में पढ़ने उसको जॉब की आवश्यकता नहीं होती आपको जॉब के लिए आपकी डायरेक्शन अलग कर देता है आप जो आपको मिस गाइड कर देता है अपनी ख़ैरियत से आप जब स्कूल में होते हैं कॉलेज में होते हैं तो उस पर भी फोकस के साथ पढ़ाई करते हैं तो आगे चलकर आपको पढ़ाई में फायदा फायदा पहुंचता नौकरी की तलाश में लग जाते हैं तो आपको पैसे की 1 किलो हो जाती है और अब इतना मेहनत नहीं कर पाता जितना पहले कर पाएंगे

kishoron ko vishwa vidyalaya high school mein hone par naukriyan milani chahiye nahi koi bhi kar kishoraavastha mein hai high school mein padh rahe hai college mein padhne usko job ki avashyakta nahi hoti aapko job ke liye aapki direction alag kar deta hai aap jo aapko miss guide kar deta hai apni khairiyat se aap jab school mein hote hai college mein hote hai toh us par bhi focus ke saath padhai karte hai toh aage chalkar aapko padhai mein fayda fayda pahuchta naukri ki talash mein lag jaate hai toh aapko paise ki 1 kilo ho jaati hai aur ab itna mehnat nahi kar pata jitna pehle kar payenge

किशोरों को विश्व विद्यालय हाई स्कूल में होने पर नौकरियां मिलनी चाहिए नहीं कोई भी कर किशोरा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबका एजुकेशन पाने का मोटर जॉब सी होता है सबको जॉब चाहिए होती है और आज के इस में पढ़ाई तो सब कर रहे हैं पर जॉब्स अवेलेबल नहीं है और खामियाजा आज का युद्ध करता है क्योंकि यूथ भटका हुआ है उसके पास कुछ जरिया नहीं है और फिर गलत काम में लग जाता है तो गवर्नमेंट को एंजॉय करना चाहिए कि स्टूडेंट गर्ल्स हाई स्कूल में है या विश्वविद्यालय में है तो उसके लिए जॉब्स हो कि वह जॉब करेगा नहीं अगर को पढ़कर फिर घर बैठ जाएगा तो फिर स्टेशन क्रिएट हो गया प्रशिक्षण के बाद इंसान जब वह बोल देना कि खाली दिमाग शैतान का घर होता है तो वह उसका शैतानी दिमाग चलेगा और कुछ ना कुछ गलत चाय पी लिया जाएगा तो फिर पटेरिया की कब्र में नहीं करेगी कोई जॉब से तो बिल्कुल जॉब्स में नहीं चाहिए और अगर आप ग्रेजुएशन है हाई स्कूल में पहुंच गए इसका मतलब आप किधर है कुछ ना कुछ तो करने के और कुछ ना कुछ करने के लिए जॉब का होना जरूरी है और जॉब से सरकार ही क्रिएट कर सकते तो बिल्कुल जॉब मलेशिया

sabka education paane ka motor job si hota hai sabko job chahiye hoti hai aur aaj ke is mein padhai toh sab kar rahe hain par jobs available nahi hai aur khamiyaja aaj ka yudh karta hai kyonki youth bhataka hua hai uske paas kuch zariya nahi hai aur phir galat kaam mein lag jata hai toh government ko enjoy karna chahiye ki student girls high school mein hai ya vishwavidyalaya mein hai toh uske liye jobs ho ki vaah job karega nahi agar ko padhakar phir ghar baith jaega toh phir station create ho gaya prashikshan ke baad insaan jab vaah bol dena ki khaali dimag shaitaan ka ghar hota hai toh vaah uska shaitani dimag chalega aur kuch na kuch galat chai p liya jaega toh phir pateriya ki kabr mein nahi karegi koi job se toh bilkul jobs mein nahi chahiye aur agar aap graduation hai high school mein pohch gaye iska matlab aap kidhar hai kuch na kuch toh karne ke aur kuch na kuch karne ke liye job ka hona zaroori hai aur job se sarkar hi create kar sakte toh bilkul job malaysia

सबका एजुकेशन पाने का मोटर जॉब सी होता है सबको जॉब चाहिए होती है और आज के इस में पढ़ाई तो स

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  28
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!