धन या ज्ञान, कौन सा महत्वपूर्ण है?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे प्रिय मित्र पूर्व काल में प्राचीन काल में जान का बोलबाला था ज्ञानवान की विद्वान सर्वत्र आदर होता था उस समय थाने एक साधन के रूप में ही मारना चाहता हूं भारतीय कल्चर तो आज भी तनु को एक साधन ही मानती है जनमानस के द्वारा कमाया जाता है मानव के लिए धन होता है धन के लिए मानव नहीं होता है हमारी भारतीय का क्षत्रिय मांगती है लेकिन कालांतर में यह बिल्कुल ही बदल गया अब धमकी मेहता हो गई जान कोने में रखा रह गया ज्ञानवान को कोई भी पूछा है गुणवान को कोई आधार नहीं है किंतु भगवान का बोलबाला है लोग उसके बारे में यह कभी नहीं सोचते कि यह धन जो कमाया किसी भी 50 तरीकों से कमाया रिश्वत से कमाया या जो समाज के विकास में अवरोधक हैं समाज के द्वारा जो सहमत नहीं है अनिश्चित रास्ते हैं भीम रास्ते हैं उनके द्वारा धन कमाया लेकिन चारों तरफ पेचेक आप उसी की होती क्योंकि धनिया प्रतिष्ठा का विषय बन गया प्रतिष्ठा का आधार बन गया जबकि प्राचीन काल में ज्ञान प्रतिष्ठा का आधा आधार था धन नहीं आप यदि प्राचीन हमारे उसको पढ़ कर देखें तो जब भी दान किया ऋषि मुनि गाने जब सभा में पधारे थे तो राजा भी खड़े होकर के उनको सम्मान देता था राजा एक धनवान की शक्ति का रूप माने लेकिन वह भी उठकर क्या कर दिया करता था लेकिन आज उल्टा हो गया तो अब हम लोग धीरे-धीरे क्योंकि आज के समय में धन की महत्ता लिखें

mere priya mitra purv kaal mein prachin kaal mein jaan ka bolbala tha gyaanvaan ki vidwan sarvatra aadar hota tha us samay thane ek sadhan ke roop mein hi marna chahta hoon bharatiya culture toh aaj bhi tanu ko ek sadhan hi maanati hai janmanas ke dwara kamaya jata hai manav ke liye dhan hota hai dhan ke liye manav nahi hota hai hamari bharatiya ka kshatriya mangati hai lekin kalantar mein yeh bilkul hi badal gaya ab dhamki mehta ho gayi jaan kone mein rakha reh gaya gyaanvaan ko koi bhi puchha hai gunvaan ko koi aadhaar nahi hai kintu bhagwan ka bolbala hai log uske bare mein yeh kabhi nahi sochte ki yeh dhan jo kamaya kisi bhi 50 trikon se kamaya rishwat se kamaya ya jo samaj ke vikas mein avarodhak hain samaj ke dwara jo sahmat nahi hai anischit raste hain bhim raste hain unke dwara dhan kamaya lekin charo taraf paycheck aap usi ki hoti kyonki dhania prathishtha ka vishay ban gaya prathishtha ka aadhaar ban gaya jabki prachin kaal mein gyaan prathishtha ka aadha aadhaar tha dhan nahi aap yadi prachin hamare usko padh kar dekhen toh jab bhi daan kiya rishi muni gaane jab sabha mein padhaare the toh raja bhi khade hokar ke unko sammaan deta tha raja ek dhanwan ki shakti ka roop maane lekin wah bhi uthakar kya kar diya karta tha lekin aaj ulta ho gaya toh ab hum log dhire dhire kyonki aaj ke samay mein dhan ki mahatta likhen

मेरे प्रिय मित्र पूर्व काल में प्राचीन काल में जान का बोलबाला था ज्ञानवान की विद्वान सर्वत

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  367
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!