क्या यह सही है सत्य को खोजने के लिए झूठ की आवश्यकता पड़ती है?...


user
0:46
Play

Likes  259  Dislikes    views  3260
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pramod Kumar Singh

Motivator And Business

1:23
Play

Likes  118  Dislikes    views  1479
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  20  Dislikes    views  270
WhatsApp_icon
user

Kanta Jhanwar

Self Employed

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपने पूछा क्या यह सही है कि सत्य को खोजने के लिए झूठ की आवश्यकता पड़ती है देखिए यह कानून में ऐसा होता है कई बार किसी व्यक्ति का जो अदालत कानून चलता है उसमें ऐसा होता है कि सत्य का पता लगाने के लिए कभी कभी झूठ की आवश्यकता पड़ती है

namaskar aapne poocha kya yah sahi hai ki satya ko khojne ke liye jhuth ki avashyakta padti hai dekhiye yah kanoon me aisa hota hai kai baar kisi vyakti ka jo adalat kanoon chalta hai usme aisa hota hai ki satya ka pata lagane ke liye kabhi kabhi jhuth ki avashyakta padti hai

नमस्कार आपने पूछा क्या यह सही है कि सत्य को खोजने के लिए झूठ की आवश्यकता पड़ती है देखिए य

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  421
WhatsApp_icon
user

Tauqeer Beg

Advvocate

0:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सही है सच के लिए झूठ का सहारा लेना पड़ता है

bilkul sahi hai sach ke liye jhuth ka sahara lena padta hai

बिल्कुल सही है सच के लिए झूठ का सहारा लेना पड़ता है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  48
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका यह प्रश्न है क्या यह सही है कि सब को खोजने के लिए झूठ की आवश्यकता पड़ती है तो मैं आपको बता दूं वह सत्य ही क्या जिस को खोजने के लिए झूठ की आवश्यकता पड़े हमें तब तो खोजना होगा अपने आप से खोजना होगा आपने से शुरू करना होगा हम अगर कोई भी काम भूत पर आश्रित होकर करते हैं हम सत्य की खोज कभी नहीं कर सकते इसलिए सत्य खोजना है तो सत्य के मार्ग पर चलकर खोजना होगा

aapka yah prashna hai kya yah sahi hai ki sab ko khojne ke liye jhuth ki avashyakta padti hai toh main aapko bata doon vaah satya hi kya jis ko khojne ke liye jhuth ki avashyakta pade hamein tab toh khojana hoga apne aap se khojana hoga aapne se shuru karna hoga hum agar koi bhi kaam bhoot par aashrit hokar karte hain hum satya ki khoj kabhi nahi kar sakte isliye satya khojana hai toh satya ke marg par chalkar khojana hoga

आपका यह प्रश्न है क्या यह सही है कि सब को खोजने के लिए झूठ की आवश्यकता पड़ती है तो मैं आपक

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  815
WhatsApp_icon
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने बहुत ही अच्छा मुद्दा उठाया है मेरा नाम है गौतम और आज मैं आपको आपके प्रश्न का आंसर बताऊंगा आपने पूछा है क्या यही सत्य है सत्य को खोजने के लिए झूठ की आवश्यकता पड़ती है जी हां बिल्कुल मान लीजिए अगर आप कोई पुलिस वाले हैं आपको अपराधी को पकड़ने गए झूठ बोलेंगे तभी अपराधी कर सकते बाहर आएगा ना अब झूठ बोलकर किसी और से मतलब जिस अपराधी को पकड़ने गए और उसके लगता कोई भी आदमी है तो उसके साथ आप झूठ बोलेंगे तभी तो आपको पकड़ पाएंगे ना समझ रहे हैं ना इसी तरह से आज सत्य को खोजने के लिए झूठ बोलने वाले कभी कभी ऐसा नहीं कि हर बार बोलना पड़ता है कभी-कभी बोलना पड़ता है लेकिन इसमें ऐसा नहीं होता कि सब कुछ सत्य बोलने के लिए ही होता है कुछ झूठ बोलने से भी होता है इसीलिए सत्य को समझने के लिए जूस की भी आवश्यकता है धन्यवाद अगर कोई क्वेश्चन प्लीज फिर से पूछेगा

aapne bahut hi accha mudda uthaya hai mera naam hai gautam aur aaj main aapko aapke prashna ka answer bataunga aapne poocha hai kya yahi satya hai satya ko khojne ke liye jhuth ki avashyakta padti hai ji haan bilkul maan lijiye agar aap koi police waale hain aapko apradhi ko pakadane gaye jhuth bolenge tabhi apradhi kar sakte bahar aayega na ab jhuth bolkar kisi aur se matlab jis apradhi ko pakadane gaye aur uske lagta koi bhi aadmi hai toh uske saath aap jhuth bolenge tabhi toh aapko pakad payenge na samajh rahe hain na isi tarah se aaj satya ko khojne ke liye jhuth bolne waale kabhi kabhi aisa nahi ki har baar bolna padta hai kabhi kabhi bolna padta hai lekin isme aisa nahi hota ki sab kuch satya bolne ke liye hi hota hai kuch jhuth bolne se bhi hota hai isliye satya ko samjhne ke liye juice ki bhi avashyakta hai dhanyavad agar koi question please phir se puchhega

आपने बहुत ही अच्छा मुद्दा उठाया है मेरा नाम है गौतम और आज मैं आपको आपके प्रश्न का आंसर बता

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  84
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!