क्या आप अपनी कक्षा में उन छात्रों को पसंद करते हैं जो बहुत सारे प्रश्न पूछते हैं?...


user
2:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां गूगल पर मैं शहीदों की नगरी शाहजहांपुर उत्तर प्रदेश से शशांक मिश्र भारती आपका स्वागत करता हूं आपका सवाल है क्या आप अपनी कक्षा में कुल छात्रों को पसंद करके जो बहुत सारे करते हैं जी हां बहुत सारे जिज्ञासु जिनमें जाने दो स्कंठा है एक कभी न बुझने अच्छा शिक्षण से संबंधित हो पीछे के भटकाव वाले नाम अनुशासन भागने वाले ना हो साथ ही साथ शिक्षण के धाराप्रवाह चलते समय व्यवधान डालने वाले ना हो तब मुझे प्रसन्न करने वाले छात्र और उनके प्रश्न पसंद आते हैं कई बार छात्र जानबूझकर ऐसा करते दिन का शिक्षण शिक्षण विषय वस्तु से कोई लेना देना नहीं होता है कि वह अपनी उदासीनता के कारण अनावश्यक वातावरण निर्मित करना चाहते हैं अनुशासन भंग करना चाहते हैं शिक्षण के गण को तोड़ना चाहते हैं और पूरी कक्षा का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करना चाहते हैं ऐसे छात्रों को समझाने का प्रयास करता हूं और अन्य छात्रों को उत्साहित करना चाहता हूं क्या आप भी इस तरह के एक दो छात्रों का सहयोग करें उनकी नकारात्मकता को दूर करें ताकि सही और समय के अनुसार प्रश्न सामने आए आज नहीं तो कल उत्तर देकर पूछने वाले को संतुष्ट किया जा सके धन्यवाद

ji haan google par main shaheedo ki nagari Shahjahanpur uttar pradesh se shashank mishra bharati aapka swaagat karta hoon aapka sawaal hai kya aap apni kaksha me kul chhatro ko pasand karke jo bahut saare karte hain ji haan bahut saare jigyasu jinmein jaane do skantha hai ek kabhi na bujhane accha shikshan se sambandhit ho peeche ke bhatkaav waale naam anushasan bhagne waale na ho saath hi saath shikshan ke dharaprawah chalte samay vyavdhan dalne waale na ho tab mujhe prasann karne waale chatra aur unke prashna pasand aate hain kai baar chatra janbujhkar aisa karte din ka shikshan shikshan vishay vastu se koi lena dena nahi hota hai ki vaah apni udasinta ke karan anavashyak vatavaran nirmit karna chahte hain anushasan bhang karna chahte hain shikshan ke gan ko todna chahte hain aur puri kaksha ka dhyan apni aur aakarshit karna chahte hain aise chhatro ko samjhane ka prayas karta hoon aur anya chhatro ko utsaahit karna chahta hoon kya aap bhi is tarah ke ek do chhatro ka sahyog kare unki nakaratmakta ko dur kare taki sahi aur samay ke anusaar prashna saamne aaye aaj nahi toh kal uttar dekar poochne waale ko santusht kiya ja sake dhanyavad

जी हां गूगल पर मैं शहीदों की नगरी शाहजहांपुर उत्तर प्रदेश से शशांक मिश्र भारती आपका स्वागत

Romanized Version
Likes  130  Dislikes    views  1112
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!