आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कैसे करते हैं?...


user

Pawan Rajput

Educator

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छात्रों का मूल्यांकन उनके मानसिक स्तर से करते हैं उनके इंटरेस्ट करते हैं और बच्चा पढ़ने में कमजोर है तो कोई बात नहीं अगर बच्चा बनना चाहता है तो बड़ी बात है ऐसे बच्चे जो आलसी होते हैं मकान होते हैं टीचरों की बात नहीं मानते हैं अपने आप कोई प्रॉमिस समझते हैं इन बच्चों को हम में पढ़ाते हैं उन्हें मौका देते हैं ऐसे बच्चे जो पढ़ना चाहते हैं टीचर के आने से क्लास में आ जाते हैं क्लास में पढ़ते हैं पैसे बच्चे पढ़ने में आते हैं

chhatro ka mulyankan unke mansik sthar se karte hain unke interest karte hain aur baccha padhne me kamjor hai toh koi baat nahi agar baccha banna chahta hai toh badi baat hai aise bacche jo aalsi hote hain makan hote hain ticharon ki baat nahi maante hain apne aap koi promise samajhte hain in baccho ko hum me padhate hain unhe mauka dete hain aise bacche jo padhna chahte hain teacher ke aane se class me aa jaate hain class me padhte hain paise bacche padhne me aate hain

छात्रों का मूल्यांकन उनके मानसिक स्तर से करते हैं उनके इंटरेस्ट करते हैं और बच्चा पढ़ने मे

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Preeti Sharma

Career Counsellor, Educator

3:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक छात्र के या कक्षा के सभी छात्रों का मूल्यांकन के तरीके अलग-अलग होते हैं आमतौर पर हम यह देखते हैं कि बहुत सारे स्कूल में बच्चों का मूल्यांकन किया जाता है वह टेस्ट पेपर से किया जाता है कि नंबर कितने आए हैं उस टेस्ट में या फिर हम बेसिक लिए देखते हैं कि साइंस में अच्छे माल खिला रहा है तो बच्चा अच्छा है मैच में चला रहा है तो अच्छा है बाकी सब्जेक्ट मजा नहीं आ रहा है तो वह बता अच्छा नहीं माना जाता जबकि ऐसा नहीं होता है अगर आप एक टीचर हैं तो आपको सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर बच्चों के उनका मूल्यांकन करना चाहिए इसके साथ ही टेस्ट पेपर तो चलो एक बार थे कि हमें सिस्टम के साथ चलना ही होता है लेकिन अगर आप क्लास में पढ़ा रहे हैं ठीक है तो अभी क्वेश्चन आंसर क्वेश्चन पूछ सकते हैं ठीक है नहीं तो आप कोई एक्टिविटी करवा सकते हैं एक्टिविटी में जितने बच्चे पार्टिसिपेट करेंगे मान लो कुछ बच्चों को डर भी लगता है कि हां हम नहीं कर सकते तो उनको भी आप को प्रमोट करना आइए और आपको उन्हें मोटिवेट करना चाहिए कि आपको भी पार्टिसिपेट करना चाहिए चाहे वह सही हो या गलत आप उनके साथ हमेशा खड़े रहेंगे आप अगर गलत मियां तो आप उन्हें डांट आएंगे नहीं मारेंगे नहीं ठीक है तो यह भी मूल्यांकन के कई सारे तरीके होते हैं तो जो अच्छी सी है आपका कॉन्टिनेंट एंड कंप्रिहेंसिव इवेलुएशन सीबीएसई ने एतराज किया है कि क्या हमारे एजुकेशन सिस्टम में जो डिस्क्राइब किया गया है बाय सीबीएसई सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन तो वह कहता है कि बच्चे का ऑल परफॉर्मेंस देखना चाहिए और परफॉर्मेंस मींस एजुकेशन बाय फॉर फिजिकल एंड मेंटल कॉग्निटिव प्रोसेस भी कहते हैं बुद्धि भी देखना चाहिए कि बच्चे का मानसिक विकास कितना हो रहा है ठीक है हम कभी भी बच्चों को जज नहीं कर सकते हैं कि ऐसे पर्केसो अगर खेलकूद में बच्चा अच्छा है तो हो सकता है उसकी रीढ़ में भाग ले जाए या फिर अगर हो सकता है पढ़ाई में अच्छे तो पढ़ाई के लिए आगे प्रदर्शन ही सुबह करें लेकिन हम प्यार नहीं कर सकते बच्चों को हर एक बच्चे का इंडिविजुअल डिफरेंस होता है हर एक अच्छा अलग होता है उसकी अपनी मल्टीपल इंटेलीजेंस होती है और मतलब मल्टीपल इंटेलीजेंस का मतलब होता है कि अगर एक बच्चा और जैसे बहुत सारे बच्चे क्या होते हैं आपके प्रतिभाशाली होते तो बाकी सब चीजों के साथ ऐसा नहीं होता तो हमें उनका कंपैरिजन कभी नहीं करना चाहिए क्या आप इसमें बच्चे क्यों नहीं आ रहा इसमें अच्छी क्यों है मेरे हिसाब से जो मैंने आपको बताया कि बच्चे का ओवरऑल यानी कि पूरा सब कुछ देख लिया पूरे पहलुओं को देखकर बच्चे के तो हमें मूल्यांकन करना चाहिए ना कि हमको क्या था

ek chatra ke ya kaksha ke sabhi chhatro ka mulyankan ke tarike alag alag hote hain aamtaur par hum yah dekhte hain ki bahut saare school me baccho ka mulyankan kiya jata hai vaah test paper se kiya jata hai ki number kitne aaye hain us test me ya phir hum basic liye dekhte hain ki science me acche maal khila raha hai toh baccha accha hai match me chala raha hai toh accha hai baki subject maza nahi aa raha hai toh vaah bata accha nahi mana jata jabki aisa nahi hota hai agar aap ek teacher hain toh aapko sabhi pahaluwon ko dhyan me rakhakar baccho ke unka mulyankan karna chahiye iske saath hi test paper toh chalo ek baar the ki hamein system ke saath chalna hi hota hai lekin agar aap class me padha rahe hain theek hai toh abhi question answer question puch sakte hain theek hai nahi toh aap koi activity karva sakte hain activity me jitne bacche participate karenge maan lo kuch baccho ko dar bhi lagta hai ki haan hum nahi kar sakte toh unko bhi aap ko promote karna aaiye aur aapko unhe motivate karna chahiye ki aapko bhi participate karna chahiye chahen vaah sahi ho ya galat aap unke saath hamesha khade rahenge aap agar galat miyan toh aap unhe dant aayenge nahi marenge nahi theek hai toh yah bhi mulyankan ke kai saare tarike hote hain toh jo achi si hai aapka Continent and kamprihensiv ivelueshan cbse ne ittaraj kiya hai ki kya hamare education system me jo describe kiya gaya hai bye cbse central board of secondary education toh vaah kahata hai ki bacche ka all performance dekhna chahiye aur performance means education bye for physical and mental kagnitiv process bhi kehte hain buddhi bhi dekhna chahiye ki bacche ka mansik vikas kitna ho raha hai theek hai hum kabhi bhi baccho ko judge nahi kar sakte hain ki aise parkeso agar khelkud me baccha accha hai toh ho sakta hai uski reedh me bhag le jaaye ya phir agar ho sakta hai padhai me acche toh padhai ke liye aage pradarshan hi subah kare lekin hum pyar nahi kar sakte baccho ko har ek bacche ka individual difference hota hai har ek accha alag hota hai uski apni multiple intelijens hoti hai aur matlab multiple intelijens ka matlab hota hai ki agar ek baccha aur jaise bahut saare bacche kya hote hain aapke pratibhashali hote toh baki sab chijon ke saath aisa nahi hota toh hamein unka kampairijan kabhi nahi karna chahiye kya aap isme bacche kyon nahi aa raha isme achi kyon hai mere hisab se jo maine aapko bataya ki bacche ka overall yani ki pura sab kuch dekh liya poore pahaluwon ko dekhkar bacche ke toh hamein mulyankan karna chahiye na ki hamko kya tha

एक छात्र के या कक्षा के सभी छात्रों का मूल्यांकन के तरीके अलग-अलग होते हैं आमतौर पर हम यह

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user

RAJENDRA YADAV

Career Coach

1:20
Play

Likes  27  Dislikes    views  378
WhatsApp_icon
user

डी.एस.पटनायक

सेवानिव्रृत प्राचार्य

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छात्रों का मूल्यांकन जैसे कि मैंने अपने शिक्षक की जीवन में अनुभव किया है वह ज्ञान एवं व्यक्तिगत दोनों आधार पर यह गाना चाहिए परंतु मालूम है कि शिक्षा का उद्देश्य मनुष्य के रूप में एक अच्छे नागरिक के रूप में शिक्षा में शिक्षा का उद्देश्य क्या है उसके व्यक्तिगत गुणों की शिक्षा के साथ व्यक्तिगत गुरु पर भी ध्यान देना पड़ेगा उस महान मनाते हैं इसी प्रकार के व्यक्ति किस राशि के छात्रों का

chhatro ka mulyankan jaise ki maine apne shikshak ki jeevan me anubhav kiya hai vaah gyaan evam vyaktigat dono aadhar par yah gaana chahiye parantu maloom hai ki shiksha ka uddeshya manushya ke roop me ek acche nagarik ke roop me shiksha me shiksha ka uddeshya kya hai uske vyaktigat gunon ki shiksha ke saath vyaktigat guru par bhi dhyan dena padega us mahaan manate hain isi prakar ke vyakti kis rashi ke chhatro ka

छात्रों का मूल्यांकन जैसे कि मैंने अपने शिक्षक की जीवन में अनुभव किया है वह ज्ञान एवं व्यक

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप उस दिन आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कैसे करते हैं लेकिन करने के दो तरीके से मेरे पास में एक तो उनका शैक्षिक मूल्यांकन में करते थे उनको पढ़ा तो खुद की परीक्षा होती है उनसे भी प्रश्न करता हूं तो इस तरीका तो शैक्षिक मूल्यांकन का है इसके अलावा में उनके दूसरे कार्य व्यवहार कोई मूल्यांकन करता मैं बच्चों के साथ ऐसा व्यवहार करता हूं कक्षा में कि वह अपनी बातें मुझसे गलती कर सकें ऐसी परेशानियां भी बता सके अपनी समस्याएं बता सके और मैं देखता हूं कि उनकी दूसरी प्रकार की परेशानी है सेक्सी परेशानी के तरीके क्या उनकी सहायता कर सकता हूं कैसी मदद कर सकते हैं उनके करना पड़ता है कि एक अच्छे नागरिक बने अच्छे विद्यार्थी के साथ अच्छे नागरिक बन समय-समय पर उनको कहानियां सुनाता रहूं में जो मोटिवेशनल स्टोरीज है उनके कलेक्शन मेरे पास में शाम को सुनाता हूं उनके साथ खेलता भी हूं और योग व्यायाम के सभी चीजों में उनके साथ निरंतर लगा रहता हूं इस प्रकार से मैं उनके अंदर की ओर छुपी हुई प्रतिभा चाहता हूं कि बाहर आए और भी अच्छे और जिम्मेदार मनुष्य करें

aap us din aap apne chhatro ka mulyankan kaise karte hain lekin karne ke do tarike se mere paas me ek toh unka shaikshik mulyankan me karte the unko padha toh khud ki pariksha hoti hai unse bhi prashna karta hoon toh is tarika toh shaikshik mulyankan ka hai iske alava me unke dusre karya vyavhar koi mulyankan karta main baccho ke saath aisa vyavhar karta hoon kaksha me ki vaah apni batein mujhse galti kar sake aisi pareshaniya bhi bata sake apni samasyaen bata sake aur main dekhta hoon ki unki dusri prakar ki pareshani hai sexy pareshani ke tarike kya unki sahayta kar sakta hoon kaisi madad kar sakte hain unke karna padta hai ki ek acche nagarik bane acche vidyarthi ke saath acche nagarik ban samay samay par unko kahaniya sunata rahun me jo Motivational stories hai unke collection mere paas me shaam ko sunata hoon unke saath khelta bhi hoon aur yog vyayam ke sabhi chijon me unke saath nirantar laga rehta hoon is prakar se main unke andar ki aur chhupee hui pratibha chahta hoon ki bahar aaye aur bhi acche aur zimmedar manushya kare

आप उस दिन आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कैसे करते हैं लेकिन करने के दो तरीके से मेरे पास मे

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  360
WhatsApp_icon
user

Usha Batra

Beauty Therapist

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने छात्रों का मूल्यांकन बहुत सारी तरीकों से करते हैं फ्रांस में उसके टंडन क्लास का बिहेवियर क्लास एग्जाम रेडमी जो है उनका एग्जाम से भी उनका मूल्यांकन किया जाएगा जो काम किया जाता है कितने टाइम में वह कंप्लीट करती है कॉपी चेक करवाते हैं कि नहीं करवाते हैं प्रैक्टिकली कितना काम करते हैं रेक्टिफिकेशन भी करते हैं तो किस टाइप का करते हैं इतना लिख पाते हैं पेपर में किस टाइप से माने लिखा बहुत अच्छी रिकॉर्डिंग करके चक्र का मूल्यांकन किया जाता है

apne chhatro ka mulyankan bahut saari trikon se karte hain france me uske tandon class ka behaviour class exam redmi jo hai unka exam se bhi unka mulyankan kiya jaega jo kaam kiya jata hai kitne time me vaah complete karti hai copy check karwaate hain ki nahi karwaate hain practically kitna kaam karte hain rektifikeshan bhi karte hain toh kis type ka karte hain itna likh paate hain paper me kis type se maane likha bahut achi recording karke chakra ka mulyankan kiya jata hai

अपने छात्रों का मूल्यांकन बहुत सारी तरीकों से करते हैं फ्रांस में उसके टंडन क्लास का बिहे

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  791
WhatsApp_icon
user

J P Singh

Principal

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नमस्कार आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कैसे करते हैं यह छात्रों का मूल्यांकन करने का दो पहलू होता है एक दो जो उसने अपनी कॉपी में लिख दिया आप उसको पढ़ करके उसको मार्किंग करके उससे ज्यादा नंबर दे सकते हैं लेकिन का सही मूल्यांकन होगा कि देखा जाए कि बच्चे स्कूल में आने के बाद स्कूल से क्या सीखे संस्कार आया चेयरमैन के चरित्र का विकास हुआ उनका शारीरिक विकास हुआ है क्या उनका सामाजिक विकास हुआ इन सब को भी देखना चाहिए सिर्फ उनके लिख देने के आधार पर यह मूल्यांकन करते हैं जो कि गलत होता है धन्यवाद

ji namaskar aap apne chhatro ka mulyankan kaise karte hain yah chhatro ka mulyankan karne ka do pahaloo hota hai ek do jo usne apni copy me likh diya aap usko padh karke usko marking karke usse zyada number de sakte hain lekin ka sahi mulyankan hoga ki dekha jaaye ki bacche school me aane ke baad school se kya sikhe sanskar aaya chairman ke charitra ka vikas hua unka sharirik vikas hua hai kya unka samajik vikas hua in sab ko bhi dekhna chahiye sirf unke likh dene ke aadhar par yah mulyankan karte hain jo ki galat hota hai dhanyavad

जी नमस्कार आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कैसे करते हैं यह छात्रों का मूल्यांकन करने का दो प

Romanized Version
Likes  130  Dislikes    views  1472
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कर कैसे सीमेंट करता हूं कि उनका जो रिजल्ट टर्मिनल टेस्ट होते हैं इन ऑल टेस्ट होते उसके ब्यावर करता मैं 50 बरस का नाइंथ का इलेवंथ ट्वेल्थ के वहां तो भाई हमें वही गाड़ी लाइन चालू करनी पड़ती जो हमें सीवीसी के बच्चा कितना है तू है कितना क्रिएटिविटी है कितना उसका पार्टिसिपेशन है में कम है तू क्या दूसरे कारणों को बेहतर करना डिलीट करना कि नहीं कर रहा है डिसाइड करना है कि नहीं करना ध्यान में रखकर

aap apne chhatro ka mulyankan kar kaise cement karta hoon ki unka jo result terminal test hote hain in all test hote uske byavar karta main 50 baras ka ninth ka eleventh twelfth ke wahan toh bhai hamein wahi gaadi line chaalu karni padti jo hamein CVC ke baccha kitna hai tu hai kitna creativity hai kitna uska participation hai me kam hai tu kya dusre karanon ko behtar karna delete karna ki nahi kar raha hai decide karna hai ki nahi karna dhyan me rakhakar

आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कर कैसे सीमेंट करता हूं कि उनका जो रिजल्ट टर्मिनल टेस्ट होते

Romanized Version
Likes  411  Dislikes    views  3527
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके प्रश्न क्या क्या आप अपने चरणों का मूल्यांकन कैसे करते हैं छात्रों का मूल्यांकन पाया उनके आचरण उनकी क्रियाकलाप उनकी सोच समझ बिहार अरुण का जो बॉडी लैंग्वेज है उनकी जो संस्कार हैं उनका जो पढ़ने का तरीका है उससे ही उनका असली मूल्यांकन होता है कभी अंको से मूल्यांकन नहीं होता कभी इंसान के अमीरी और गरीबी से मूल्यांकन नहीं होता कभी अच्छी पोशाक क्या स्टैंडर्ड श्री कृष्ण से मूल्यांकन मूल्यांकन हमेशा इंसान कैसे ट्यूट उसके बिहेवियर उसके हाव-भाव और उसके पढ़ने के तौर तरीके से होते हैं अब उसमें बदलाव की जरूरत है तो हम उन कमियों को नोट करते हैं जिनके कारण वह एक योग्य होते हुए भी योग्यता से दूर रहता है तो उसे हम कमियों को निपटारा करते हुए उसमें कुछ अच्छे गुणों का समावेश करने का प्रयास करते हैं जिससे कि वह एक योग्य विद्यार्थी साबित और उसका सही मूल्यांकन हो सकता

aapke prashna kya kya aap apne charno ka mulyankan kaise karte hain chhatro ka mulyankan paya unke aacharan unki kriyakalap unki soch samajh bihar arun ka jo body language hai unki jo sanskar hain unka jo padhne ka tarika hai usse hi unka asli mulyankan hota hai kabhi anko se mulyankan nahi hota kabhi insaan ke amiri aur garibi se mulyankan nahi hota kabhi achi poshaak kya standard shri krishna se mulyankan mulyankan hamesha insaan kaise tyut uske behaviour uske hav bhav aur uske padhne ke taur tarike se hote hain ab usme badlav ki zarurat hai toh hum un kamiyon ko note karte hain jinke karan vaah ek yogya hote hue bhi yogyata se dur rehta hai toh use hum kamiyon ko niptara karte hue usme kuch acche gunon ka samavesh karne ka prayas karte hain jisse ki vaah ek yogya vidyarthi saabit aur uska sahi mulyankan ho sakta

आपके प्रश्न क्या क्या आप अपने चरणों का मूल्यांकन कैसे करते हैं छात्रों का मूल्यांकन पाया

Romanized Version
Likes  314  Dislikes    views  4350
WhatsApp_icon
user

pervs

Tutor

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी छतों का मूल्यांकन कैसे करती हो सकता है अब देखिए किसी बच्चे का नंबर है नंबर आपको केवल इसलिए डरता है क्या

apni chaton ka mulyankan kaise karti ho sakta hai ab dekhiye kisi bacche ka number hai number aapko keval isliye darta hai kya

अपनी छतों का मूल्यांकन कैसे करती हो सकता है अब देखिए किसी बच्चे का नंबर है नंबर आपको केवल

Romanized Version
Likes  164  Dislikes    views  2054
WhatsApp_icon
user
1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए छात्रों का मूल्यांकन का जो तरीका है 5 ईयर का एक्सपीरियंस है क्लास क्वेश्चन पूछते हैं बहुत कम लड़के हैंड रेस करते हैं तो उठाते उठाते हैं दूसरा हम जानते हैं कि मुंह से बोलना कठिन होता है तो हम बोलते हैं एक छोटा सा क्वेश्चन देते सामान्यता और उसका उत्तर लिखिए 6 लाइन में और दिखाते जाइए हम किसी को सबके सामने उसको पब्लिक साइड नहीं करेंगे कि आप क्या लिखे आप को कितना नंबर मिला है इस प्रकार से मूल्यांकन की प्रणाली हम बी ए प्रथम वर्ष में ही कर देते हैं फिर उनमें से हम छात्रों को छोड़ देते हैं कौन छात्र आगे जा सकते हैं फिर कौन सलाह देते हैं कि कौन सा न्यूज़ पर पढ़ना चाहिए बीबीसी लंदन हिंदी सुनना चाहिए एनडीटीवी देखना चाहिए अभी नहीं मानता कि छात्रों का मूल्यांकन उनके इसको से होता है नंबर से होता है नंबर एकदम अलग चीज है वह तो रट के कोई भी पड़ सकता है लोग ही बंद रखकर आई एस बी आई पी एस छात्रों का मूल्यांकन जब हमसे बात करते हैं तब हम समझ में आ जाता है कि इनके व्यक्तित्व क्या है और इनकी वक्त इसमें क्या कमी है और इसके 32 की कमी को दूर करने के लिए हम कौन कौन सा बुक इन को रेफर करें कि यह पड़ी है कौन-कौन सा हम अगर हिंदी मीडियम के हैं तो उसके हिसाब से न्यूज़ पेपर इंग्लिश मीडियम के हिसाब से न्यूज़पेपर मोटिवेशनल बुक्स मोटिवेशनल लेक्चर

dekhiye chhatro ka mulyankan ka jo tarika hai 5 year ka experience hai class question poochhte hain bahut kam ladke hand race karte hain toh uthate uthate hain doosra hum jante hain ki mooh se bolna kathin hota hai toh hum bolte hain ek chota sa question dete samanyata aur uska uttar likhiye 6 line me aur dikhate jaiye hum kisi ko sabke saamne usko public side nahi karenge ki aap kya likhe aap ko kitna number mila hai is prakar se mulyankan ki pranali hum be a pratham varsh me hi kar dete hain phir unmen se hum chhatro ko chhod dete hain kaun chatra aage ja sakte hain phir kaun salah dete hain ki kaun sa news par padhna chahiye bbc london hindi sunana chahiye NDTV dekhna chahiye abhi nahi maanta ki chhatro ka mulyankan unke isko se hota hai number se hota hai number ekdam alag cheez hai vaah toh rutt ke koi bhi pad sakta hai log hi band rakhakar I S be I p S chhatro ka mulyankan jab humse baat karte hain tab hum samajh me aa jata hai ki inke vyaktitva kya hai aur inki waqt isme kya kami hai aur iske 32 ki kami ko dur karne ke liye hum kaun kaun sa book in ko Refer kare ki yah padi hai kaun kaun sa hum agar hindi medium ke hain toh uske hisab se news paper english medium ke hisab se Newspaper Motivational books Motivational lecture

देखिए छात्रों का मूल्यांकन का जो तरीका है 5 ईयर का एक्सपीरियंस है क्लास क्वेश्चन पूछते हैं

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  656
WhatsApp_icon
user

सुरेन्द्र पाल गुप्ता

रिटायर्ड प्रधानाचार्य

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अपने छात्रों का समग्र मूल्यांकन करते मूल्यांकन में बच्चे की प्रत्येक एक्टिविटीज देखी जाती है उसकी पढ़ाई देखी जाती है उसका व्यवहार देखा जाता है उसकी योग्यता देखी जाती है इसे साथ-साथ उसके मार्क्स देखे जाते हैं तो एक याचिका कर मूल्यांकन करते हैं तो हम इन बातों का ध्यान रखते हैं एक माली बच्चा मशीन ठीक है लेकिन उसका हल अनुषका बहुत अधिक निर्दोष बच्चों के मूल्यांकन करते समय उसकी सारी एक्टिविटी हाल है उस योग्यताएं क्वालिफिकेशन में कितने मार्क्स आते हैं उसका अपने मित्रों के साथ किस प्रकार का संबंध क्रिकेटर और करना भी चाहिए धन्यवाद

hum apne chhatro ka samagra mulyankan karte mulyankan me bacche ki pratyek activities dekhi jaati hai uski padhai dekhi jaati hai uska vyavhar dekha jata hai uski yogyata dekhi jaati hai ise saath saath uske marks dekhe jaate hain toh ek yachika kar mulyankan karte hain toh hum in baaton ka dhyan rakhte hain ek maali baccha machine theek hai lekin uska hal anushaka bahut adhik nirdosh baccho ke mulyankan karte samay uski saari activity haal hai us yogyataen qualification me kitne marks aate hain uska apne mitron ke saath kis prakar ka sambandh cricketer aur karna bhi chahiye dhanyavad

हम अपने छात्रों का समग्र मूल्यांकन करते मूल्यांकन में बच्चे की प्रत्येक एक्टिविटीज देखी जा

Romanized Version
Likes  134  Dislikes    views  976
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन आजकल तो शीशे के द्वारा रचनात्मक मूल्यांकन के द्वारा होता है कुछ लिखित और मौखिक हारे कपाट होने के बाद घटक परीक्षा लेना चाहिए और मूल्यांकन करते समय हमें समझ में आएगा यह छात्र पूरा अंक लिया है या उसे समझ में आया है कम मांग लिया है तो उसका कारण दो हो सकता है वह स्कूल नहीं आए वह क्या चाहते ठीक तरह पढ़ा नहीं होगा या उसके घर में कुछ कठिनाई होगी यह सब सोचकर उस छात्र को और एक बार मौका देना चाहिए और हो सके तो समय मिला तो उस छात्र को बुलाकर कमजोर छात्र कहते हैं हम लोग उन छात्रों को प्यार करो थोड़े ही दिन में गुरु का नाम रोशन कर सकता है

hum apne chhatro ka mulyankan aajkal toh shishe ke dwara rachnatmak mulyankan ke dwara hota hai kuch likhit aur maukhik hare kapaat hone ke baad ghatak pariksha lena chahiye aur mulyankan karte samay hamein samajh me aayega yah chatra pura ank liya hai ya use samajh me aaya hai kam maang liya hai toh uska karan do ho sakta hai vaah school nahi aaye vaah kya chahte theek tarah padha nahi hoga ya uske ghar me kuch kathinai hogi yah sab sochkar us chatra ko aur ek baar mauka dena chahiye aur ho sake toh samay mila toh us chatra ko bulakar kamjor chatra kehte hain hum log un chhatro ko pyar karo thode hi din me guru ka naam roshan kar sakta hai

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन आजकल तो शीशे के द्वारा रचनात्मक मूल्यांकन के द्वारा होता है क

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  73
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कैसे करता हूं मूल्यांकन का अर्थ होता है किसी बच्चे की या किसी स्टूडेंट की मेहनत का क्या मूल्य हम प्रदान करने वाले मूल्यांकन का मतलब यह नहीं है कि हम आंख बंद करके उसको अंक दे दें मूल्यांकन बहुत ही चतुराई के साथ बुद्धिमता के साथ और सजगता के साथ करने वाला विषय है यदि बहुत ज्यादा कढ़ाई कर दी जाए और बच्चा एक नंबर या दो नंबर से अनुत्तीर्ण होने की कगार पर है उसका साल खराब हो सकता है ऐसी स्थिति में हम पुनर्मूल्यांकन की अवस्था वहां पर नॉर्मल होना पड़ता है फिर चेक करते हैं कहां पर उस बच्चे को एक नंबर और दिया जा सकता है कहीं पर लड़ाई हो गई है तो वहां पर कुछ नंबर यदि उसे पढ़ने योग्य है तो उसको बनाया जाता है उसमें समय लगता है क्योंकि फिर से उसको चेक करना पड़ता है कि कहां पर क्या हो सकता है मूल्यांकन का अर्थ दो-तीन चीजों में डिपेंड करता है पहला चीज लिखने वाला लिखने वाले की सोच क्या है ऐसा नहीं है कि किताब में जैसा है वैसा ही बोलेगा तो उसको पूरा नंबर मिल सकता है कर दिया है या वह बच्चा जो अपने दिमाग से लिखा है दोनों ही स्थिति को देखते हुए उसको नंबर देना पड़ता है मूल्यांकन बिल्कुल सजगता वाली बात होती है तू कि उसमें स्टूडेंट का भविष्य निर्मित हो सकता है या भविष्य खराब हो सकता है इस स्थिति में मेरा निजी अनमोल यही है कि मैंने आज तक किसी बच्चे का इतना किया बच्चा कितना नंबर या कितना अंक अर्जित करने वाला है वह उतना ही अंक अर्जित करेगा यदि कोई बच्चा एक नंबर के लिए अनुत्तीर्ण होने की स्थिति में है तो उस बच्चे का सिर समय मूल्यांकन करते हुए कहीं पर अगर उसका एक नंबर बढ़ पा रहा है उसको उतना देने की पर्याप्त कोशिश में रहता हूं यह नहीं कि उसको सीधा अनुसरण कर दिया जाए उसकी संभावनाओं को तलाशने कि मैं जरूर खुश किस करता हूं मैं कभी नहीं चाहता कि किसी बच्चे का हमारे गलतियों की वजह से या ने गुरुजी की टूटी की वजह से किसी स्टूडेंट का भविष्य खराब हो ऐसा मूल्यांकन में कभी भी नहीं करता

aap apne chhatro ka mulyankan kaise karta hoon mulyankan ka arth hota hai kisi bacche ki ya kisi student ki mehnat ka kya mulya hum pradan karne waale mulyankan ka matlab yah nahi hai ki hum aankh band karke usko ank de de mulyankan bahut hi chaturaai ke saath buddhimata ke saath aur sajgata ke saath karne vala vishay hai yadi bahut zyada kadhai kar di jaaye aur baccha ek number ya do number se anuttirn hone ki kagar par hai uska saal kharab ho sakta hai aisi sthiti me hum punarmoolyaankan ki avastha wahan par normal hona padta hai phir check karte hain kaha par us bacche ko ek number aur diya ja sakta hai kahin par ladai ho gayi hai toh wahan par kuch number yadi use padhne yogya hai toh usko banaya jata hai usme samay lagta hai kyonki phir se usko check karna padta hai ki kaha par kya ho sakta hai mulyankan ka arth do teen chijon me depend karta hai pehla cheez likhne vala likhne waale ki soch kya hai aisa nahi hai ki kitab me jaisa hai waisa hi bolega toh usko pura number mil sakta hai kar diya hai ya vaah baccha jo apne dimag se likha hai dono hi sthiti ko dekhte hue usko number dena padta hai mulyankan bilkul sajgata wali baat hoti hai tu ki usme student ka bhavishya nirmit ho sakta hai ya bhavishya kharab ho sakta hai is sthiti me mera niji anmol yahi hai ki maine aaj tak kisi bacche ka itna kiya baccha kitna number ya kitna ank arjit karne vala hai vaah utana hi ank arjit karega yadi koi baccha ek number ke liye anuttirn hone ki sthiti me hai toh us bacche ka sir samay mulyankan karte hue kahin par agar uska ek number badh paa raha hai usko utana dene ki paryapt koshish me rehta hoon yah nahi ki usko seedha anusaran kar diya jaaye uski sambhavanaon ko talashane ki main zaroor khush kis karta hoon main kabhi nahi chahta ki kisi bacche ka hamare galatiyon ki wajah se ya ne guruji ki tuti ki wajah se kisi student ka bhavishya kharab ho aisa mulyankan me kabhi bhi nahi karta

आप अपने छात्रों का मूल्यांकन कैसे करता हूं मूल्यांकन का अर्थ होता है किसी बच्चे की या किसी

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  77
WhatsApp_icon
user

Balkrishan

Teacher

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि छात्रों का मूल्यांकन कैसे करते हैं शब्द को समझते हैं मूल्यांकन किसी की जो उसके मस्तिक में ज्ञान है उसको समझना उसको परखना तो छात्रों को परखने के लिए समझने के लिए अध्यापक कुछ क्लास में पढ़ता है उसकी अंतर होती हो तो उसके अंदर क्या चल रहा है समझ लेते हैं अध्यापक की एक मनोदशा होती है समझने की बच्चा क्या करना चाहता है उसे बच्चे को पढ़ाते हुए शेर के कुछ तो टीचर पढ़ाते हुए सीखते हैं कुछ उसके अनुभवों से सीखते हैं अपने कुछ बच्चे को पास बुलाते हैं उसे पूछते हैं बेटा में क्या बेस्ट है बगैरा बगैरा पूछ सकती हैं

aapka sawaal hai ki chhatro ka mulyankan kaise karte hain shabd ko samajhte hain mulyankan kisi ki jo uske mastisk me gyaan hai usko samajhna usko parakhana toh chhatro ko parkhane ke liye samjhne ke liye adhyapak kuch class me padhata hai uski antar hoti ho toh uske andar kya chal raha hai samajh lete hain adhyapak ki ek manodasha hoti hai samjhne ki baccha kya karna chahta hai use bacche ko padhate hue sher ke kuch toh teacher padhate hue sikhate hain kuch uske anubhavon se sikhate hain apne kuch bacche ko paas bulate hain use poochhte hain beta me kya best hai bagaira bagaira puch sakti hain

आपका सवाल है कि छात्रों का मूल्यांकन कैसे करते हैं शब्द को समझते हैं मूल्यांकन किसी की जो

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
play
user

Arjun jha

Rt Science Teacher

4:39

Likes  5  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं मूल्यांकन ने क्लास में पढ़ाते समय बच्चों के का करता हूं कि वह पढ़ाई में पढ़ाई के कर्म में वो किस तरह से लिसन को फॉलो करते हैं उस तरह बच्चों के एबिलिटी का हम मूल्यांकन करते हैं कि कौन तेज है कौन चीज नहीं है

main mulyankan ne class me padhate samay baccho ke ka karta hoon ki vaah padhai me padhai ke karm me vo kis tarah se listen ko follow karte hain us tarah baccho ke ability ka hum mulyankan karte hain ki kaun tez hai kaun cheez nahi hai

मैं मूल्यांकन ने क्लास में पढ़ाते समय बच्चों के का करता हूं कि वह पढ़ाई में पढ़ाई के कर्म

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  130
WhatsApp_icon
user

A_KUMAR

PRINCIPAL TEACHER

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उनकी सोच समझ सक्रियता सवाल को समझना और उसके जवाब देने के आधार पर उनकी क्रियाशीलता है उनकी इस रचनात्मकता सोचने की दिशा दशा खेलकूद एक्टिविटी सहकारिता कक्षा में उपस्थिति सीखने का क्रम स्थिति प्रश्न पूछना उनको समझना नए प्रश्न का निर्माण करना उनके जवाब ढूंढना और इस तरह की तमाम गतिविधियां हैं तमाम मानक है जिनके आधार पर छात्रों का मूल्यांकन किया जाता है

unki soch samajh sakriyata sawaal ko samajhna aur uske jawab dene ke aadhar par unki kriyashilta hai unki is rachnatmaka sochne ki disha dasha khelkud activity sahkarita kaksha me upasthitee sikhne ka kram sthiti prashna poochna unko samajhna naye prashna ka nirmaan karna unke jawab dhundhana aur is tarah ki tamaam gatividhiyan hain tamaam maanak hai jinke aadhar par chhatro ka mulyankan kiya jata hai

उनकी सोच समझ सक्रियता सवाल को समझना और उसके जवाब देने के आधार पर उनकी क्रियाशीलता है उनकी

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों का मूल्यांकन उनके उनके कार्य और उनकी पढ़ाई के अनुसार किया जाता है वैसे तो लेकिन बच्चों का मूल्यांकन अगर देखें तो वह कई तरह से हम कर सकते हैं उनके भाव अनुभव और उनके

baccho ka mulyankan unke unke karya aur unki padhai ke anusaar kiya jata hai waise toh lekin baccho ka mulyankan agar dekhen toh vaah kai tarah se hum kar sakte hain unke bhav anubhav aur unke

बच्चों का मूल्यांकन उनके उनके कार्य और उनकी पढ़ाई के अनुसार किया जाता है वैसे तो लेकिन बच्

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

AFJAL KHAN

Teacher

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं अपने छात्रों का मूल्यांकन मूल्यांकन उनके फेस एक्सप्रेशन उनके चेहरे के हावभाव उनकी रेस्पॉन्स उनकी क्वेश्चनिंग उनकी रेगुलेटिंग फंक्शनैलिटी और डिसिप्लिन को देख कर के करता हूं

main apne chhatro ka mulyankan mulyankan unke face expression unke chehre ke havabhav unki respans unki kweshchaning unki regulating fankshanailiti aur discipline ko dekh kar ke karta hoon

मैं अपने छात्रों का मूल्यांकन मूल्यांकन उनके फेस एक्सप्रेशन उनके चेहरे के हावभाव उनकी रेस्

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user

Kumar Saurabh

Education

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों इस प्रश्न के उत्तर में मैं अपने छात्रों का मूल्यांकन उनसे प्रश्न पूछ कर करता आते समय बीच-बीच में मैं फैसल पहुंचता हूं और उन उत्तरण से उनका मूल्यांकन करते हुए अपने अंदर जो भी सुधार हो सकता है उसे करने का प्रयास करता हूं किस तरह से मेरे बच्चों को ज्यादा से ज्यादा समझ में आए ऐसी विधि का सहारा लेता हूं

namaskar doston is prashna ke uttar me main apne chhatro ka mulyankan unse prashna puch kar karta aate samay beech beech me main faissal pahuchta hoon aur un uttaran se unka mulyankan karte hue apne andar jo bhi sudhaar ho sakta hai use karne ka prayas karta hoon kis tarah se mere baccho ko zyada se zyada samajh me aaye aisi vidhi ka sahara leta hoon

नमस्कार दोस्तों इस प्रश्न के उत्तर में मैं अपने छात्रों का मूल्यांकन उनसे प्रश्न पूछ कर क

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
user
0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें अपने छात्रों का मूल्यांकन करते हुए ना सर में इतना सिर्फ मार्किंग स्कीम पर ही ध्यान देना चाहिए उनके उनके बिहेवियर एजुकेशन की भावनात्मक शक्तियों का अवलोकन करना चाहिए वह किस तरह से पूरे साल अपना व्यवहार रखते हैं अनुशासन उनका देखना चाहिए उनके घर में कैसा व्यवहार है उनकी प्रसिद्ध क्या कहते हैं उसके आधार पर ही मूल्यांकन किया जा सकता है

hamein apne chhatro ka mulyankan karte hue na sir me itna sirf marking scheme par hi dhyan dena chahiye unke unke behaviour education ki bhavnatmak shaktiyon ka avalokan karna chahiye vaah kis tarah se poore saal apna vyavhar rakhte hain anushasan unka dekhna chahiye unke ghar me kaisa vyavhar hai unki prasiddh kya kehte hain uske aadhar par hi mulyankan kiya ja sakta hai

हमें अपने छात्रों का मूल्यांकन करते हुए ना सर में इतना सिर्फ मार्किंग स्कीम पर ही ध्यान दे

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user

Niraj Yadav

Study for Healthy Bharat...

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन पाठ्यपुस्तक के आधार पर उसके अलावा खेल या क्रीडा के आधार पर क्रियात्मक यार टन में कितना छिपा हुआ है उस आधार पर उनमें नेतृत्व क्षमता कितनी है इस आधार पर उनकी विशिष्ट सोच क्या होती है जो समाज को एक नई दिशा दे सके उस आधार पर उनके स्वास्थ्य के आधार पर और भी कई ऐसे पहलू हैं जिन को आधार बनाकर उनका संपूर्ण मूल्यांकन किया जा सकता है ताकि वह कितने अपने आप को समाज के साथ जोड़ कर रख पाते हैं यह समझा जा सकता है

hum apne chhatro ka mulyankan paathyapustak ke aadhar par uske alava khel ya krida ke aadhar par kriyatmak yaar ton me kitna chhipa hua hai us aadhar par unmen netritva kshamta kitni hai is aadhar par unki vishisht soch kya hoti hai jo samaj ko ek nayi disha de sake us aadhar par unke swasthya ke aadhar par aur bhi kai aise pahaloo hain jin ko aadhar banakar unka sampurna mulyankan kiya ja sakta hai taki vaah kitne apne aap ko samaj ke saath jod kar rakh paate hain yah samjha ja sakta hai

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन पाठ्यपुस्तक के आधार पर उसके अलावा खेल या क्रीडा के आधार पर क्

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
user
1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छात्रों का मूल्यांकन कई प्रकार से किया जाता है मैं अपने छात्रों का भूखा सतत एवं व्यापक मूल्यांकन करता हूं अर्थात मैं जो रोज पढ़ाता हूं प्रतिदिन कक्षा के अंत में मैं कुछ प्रश्न विद्यार्थियों से पूछता हूं और एक दुश्मन को भी टूटी होती है तो उनको उसका उत्तर देता हूं मैं अपनी शिक्षण योजना इस तरह से तैयार करना हूं कि कक्षा के अंत में मेरे लिए 7 से 10 मिनट बचे ताकि मैं बाइक फिल्म पृष्ठपोषण ले सकूं अर्थात फीडबैक लिस्ट को प्रतिदिन का मूल्यांकन करते करते सप्ताह के अंतिम दिन मैं बच्चों से छोटे-छोटे लिखित प्रश्न करता हूं जो कि पूरे पीरियड चलता है मैं उनकी कॉपिया जमा कर लेता हूं और जो मेरे पीरियड खाली होते हैं या जब मुझे अवकाश होता है तो मैं उन काफिरों का मूल्यांकन करता हूं और अगले दिन जिन विद्यार्थियों में जो कमी रहती है उसको इस तरीके से समझाता हूं कि बच्चे को कक्षा में इंफेरियारिटी भी ना महसूस हो और बच्चे अपनी गलती खुश मचले

chhatro ka mulyankan kai prakar se kiya jata hai main apne chhatro ka bhukha satat evam vyapak mulyankan karta hoon arthat main jo roj padhata hoon pratidin kaksha ke ant me main kuch prashna vidyarthiyon se poochta hoon aur ek dushman ko bhi tuti hoti hai toh unko uska uttar deta hoon main apni shikshan yojana is tarah se taiyar karna hoon ki kaksha ke ant me mere liye 7 se 10 minute bache taki main bike film prishthaposhan le sakun arthat feedback list ko pratidin ka mulyankan karte karte saptah ke antim din main baccho se chote chote likhit prashna karta hoon jo ki poore period chalta hai main unki kapiya jama kar leta hoon aur jo mere period khaali hote hain ya jab mujhe avkash hota hai toh main un kafiron ka mulyankan karta hoon aur agle din jin vidyarthiyon me jo kami rehti hai usko is tarike se samajhaata hoon ki bacche ko kaksha me imferiyariti bhi na mehsus ho aur bacche apni galti khush machale

छात्रों का मूल्यांकन कई प्रकार से किया जाता है मैं अपने छात्रों का भूखा सतत एवं व्यापक मूल

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाथों को मुलायम करने के लिए सबसे पहले छात्रों को शिक्षण कराएंगे और शिक्षण कराने के बाद जो अधिगम करेंगे उसके अनुसार उनका विश्लेषण से कुछ प्रश्न पूछेंगे मौसी के बाद डिंपल गिराने की कोशिश करेंगे और उनका करेंगे क्यों कहां तक सीखे हैं और और क्या उन्हें त्रुटियां उनका निदान जैसे निदान करेंगे क्या त्रुटि है और कहां तक चलते हैं यदि उसमें जो त्रुटि बजती है तो उनका इस प्रकार की त्रुटियां प्राप्त होती है उनका उपचार इन थे उनका कृति को जानते हुए उनको शिक्षण कराने और अधिक बढ़ाने का प्रयास करते हैं इस प्रकार से हम बच्चों का मूल्यांकन करते हैं

hathon ko mulayam karne ke liye sabse pehle chhatro ko shikshan karaenge aur shikshan karane ke baad jo adhigam karenge uske anusaar unka vishleshan se kuch prashna puchenge mausi ke baad dimple girane ki koshish karenge aur unka karenge kyon kaha tak sikhe hain aur aur kya unhe trutiyaan unka nidan jaise nidan karenge kya truti hai aur kaha tak chalte hain yadi usme jo truti bajati hai toh unka is prakar ki trutiyaan prapt hoti hai unka upchaar in the unka kriti ko jante hue unko shikshan karane aur adhik badhane ka prayas karte hain is prakar se hum baccho ka mulyankan karte hain

हाथों को मुलायम करने के लिए सबसे पहले छात्रों को शिक्षण कराएंगे और शिक्षण कराने के बाद जो

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने छात्र का मंजन कैसे करते हैं इसके ऊपर मैं आपको बताता हूं अपने छात्रों का मूल्यांकन क्या परीक्षा फल के परीक्षाफल करने के उपरांत जबल डीजे बॉक्स मेल काट देते हैं उसके आधार पर मेन यह लेकिन मूल्यांकन करने के तरीका आपको और बताएं जिससे कि आपको उनके जीवन की भविष्य के लिए कि उनका मूल्यांकन का नया अविष्कार गड़खोल तो जो हम दिखाते हैं अगर हमने छोटा आ बड़ा आ छोटी बड़ी 123456789 कुछ बताया हमने तो उनसे पूछेंगे क्या है अगर उन्होंने उसका उत्तर सही तरह से वर्णमाला बता दी बता दी क्या अंग्रेजी की वर्णमाला बता दी तो छात्रों का मूल्यांकन हो जाता है कि हां हमने तो सिखाया उसको उन्होंने सीखा कि नहीं सीखा और कैसा है इस प्रकार से करने से उसके जीवन के लिए धन्यवाद

aap apne chatra ka manzan kaise karte hain iske upar main aapko batata hoon apne chhatro ka mulyankan kya pariksha fal ke parikshafal karne ke uprant jabal DJ box male kaat dete hain uske aadhar par main yah lekin mulyankan karne ke tarika aapko aur bataye jisse ki aapko unke jeevan ki bhavishya ke liye ki unka mulyankan ka naya avishkar gadkhol toh jo hum dikhate hain agar humne chota aa bada aa choti badi 123456789 kuch bataya humne toh unse puchenge kya hai agar unhone uska uttar sahi tarah se varnmala bata di bata di kya angrezi ki varnmala bata di toh chhatro ka mulyankan ho jata hai ki haan humne toh sikhaya usko unhone seekha ki nahi seekha aur kaisa hai is prakar se karne se uske jeevan ke liye dhanyavad

आप अपने छात्र का मंजन कैसे करते हैं इसके ऊपर मैं आपको बताता हूं अपने छात्रों का मूल्यांकन

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन उनसे पूछ कर उनका अध्ययन कर कर सकते हैं जिससे जून में उनमें जो कमी होती है उसको दूर करने का प्रयास करते समय समय पर उनकी उनका टेस्ट भी लेते रहते हैं फोन में जो कमी पाई जाती है उस पर विशेष ध्यान देते हैं

hum apne chhatro ka mulyankan unse puch kar unka adhyayan kar kar sakte hain jisse june me unmen jo kami hoti hai usko dur karne ka prayas karte samay samay par unki unka test bhi lete rehte hain phone me jo kami payi jaati hai us par vishesh dhyan dete hain

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन उनसे पूछ कर उनका अध्ययन कर कर सकते हैं जिससे जून में उनमें जो

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  50
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन उनके रहन-सहन उनके मार्क्स उनकी एबिलिटी पर करते हैं

hum apne chhatro ka mulyankan unke rahan sahan unke marks unki ability par karte hain

हम अपने छात्रों का मूल्यांकन उनके रहन-सहन उनके मार्क्स उनकी एबिलिटी पर करते हैं

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user
0:07
Play

Likes  3  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छात्रों को टेस्ट द्वारा उनका मूल्यांकन तो हम जान सकते हैं उनकी जो बुद्धि है वह कहां तक है वह हम कुछ प्रश्नों के माध्यम से कर सकते हैं लेकिन ज्यादा समय तक क्लास में रहने के बावजूद हमें दो-तीन महीने बाद अपने आप पता चल जाता है कि कौन सा बच्चा है पढ़ने लायक है कौन नहीं पड़ेगा तथा किस की क्षमता ज्यादा है किसकी कम है किसका क्या व्यवहार है उसको हम ज्यादातर बच्चों के अटैच में रहकर हम जान सकते हैं कि बच्चे कैसे हैं उनका मूल्यांकन जरूरी नहीं है तो टेस्ट और परीक्षाओं के माध्यम से ही किया जाए जरूरी यह है कि हम छात्रों को कितना समय दे पा रहे तो था उस समय में वह बच्चे कितना उधर करते हैं तो हमें दो-तीन महीनों में अपने आप पता चल जाता है कि यह बच्चा फर्स्ट आएगा यह सेकंड है यह इसका वीडियो

chhatro ko test dwara unka mulyankan toh hum jaan sakte hain unki jo buddhi hai vaah kaha tak hai vaah hum kuch prashnon ke madhyam se kar sakte hain lekin zyada samay tak class me rehne ke bawajud hamein do teen mahine baad apne aap pata chal jata hai ki kaun sa baccha hai padhne layak hai kaun nahi padega tatha kis ki kshamta zyada hai kiski kam hai kiska kya vyavhar hai usko hum jyadatar baccho ke attach me rahkar hum jaan sakte hain ki bacche kaise hain unka mulyankan zaroori nahi hai toh test aur parikshao ke madhyam se hi kiya jaaye zaroori yah hai ki hum chhatro ko kitna samay de paa rahe toh tha us samay me vaah bacche kitna udhar karte hain toh hamein do teen mahinon me apne aap pata chal jata hai ki yah baccha first aayega yah second hai yah iska video

छात्रों को टेस्ट द्वारा उनका मूल्यांकन तो हम जान सकते हैं उनकी जो बुद्धि है वह कहां तक है

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  85
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!