आपने शिक्षक बनने का फैसला क्यों किया?...


user

Parveen Chauhan

Spoken English Trainer

3:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही बढ़िया सवाल है कि मैंने शिक्षक बनने का फैसला क्यों लिया सर्वप्रथम मैं आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि शिक्षा के क्षेत्र से चाहे वह विद्यार्थी जीवन हो चाहे प्रोफेशनल लाइफ ओक व्यावसायिक तौर पर हो मेरा एक जिंदगी का एक बहुत बड़ा भाग क्षेत्र से जुड़ा हुआ है सीधे तौर पर यह नकली भी कह सकते हैं मैं आपको बता दूं कि जब मैंने ट्वेल्थ की थी 18 साल का समय तो उसके पश्चात ही मेरे को गवर्नमेंट जॉब मिल गई थी डिफरेंस में उसके पश्चात जब मैंने जॉब ज्वाइन कर ली थी तो ऐसा मानवता और परफेक्शंस भी यही बने हुए कि जो व्यक्ति सरकारी जॉब या अपनी रोजगार हेतु कोई भी चीज प्राप्त कर लेता है तो उस रिक्शा का जो मेन उद्देश्य है उसके प्राप्त समझी जाती लेकिन मैंने अपनी शिक्षा को जा अशोक में ज्वाइन होने के पश्चात मैंने दूरस्थ शिक्षा माध्यमिक जिसको की डिस्टेंस लर्निंग मोड भी बोलते हैं आउट थे आपने ग्रेजुएशन जारी रखी ग्रेजुएशन के पश्चात मैंने इंग्लिश लिटरेचर में पोस्टिंग भी थी तत्पश्चात मैंने अभी-अभी की एलएलबी और लगातार अभी भी ना कुछ ना कुछ शिक्षा प्राप्त करने के समय कोई ना कोई डिग्री करता रहता हूं जिससे कि मैं अपने ज्ञान की शादी कर सकूं अब जॉब से साथ में जो अन्य कौन से ऐप से नॉलेज जो कि अन्य डिग्रियों के माध्यम से मैंने प्राप्ति मैं चाहता था कि उसको भी एक अनुभव और उन सब से नॉलेज के मिक्सर के तौर पर जिसको कि हम जिस भी बोलते हैं और निचोड़ भी बोलते हैं वह विद्यार्थियों को अन्य विद्यार्थियों को जिनकी इनकी इनको इनकी जरूरत है वास्तव में उनको दे सको तो यही सबसे बड़ा कारण था इन सभी चीजों को अनुभव एवं विभिन्न प्रकार की डिग्रियों के माध्यम से जो ज्ञान प्राप्त करा है उसको एक सही दिशा में और सही तरीके से ने विद्यार्थियों को सशक्त माध्यम के द्वारा सुगम रूप से पहुंचाना पहुंचाने के लिए ही मैंने शिक्षक का व्यवसाय चुना क्योंकि यही एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा अन्य विद्यार्थियों के साथ में बहुत ज्यादा और बहुत ही सुगम तरीके से हम आपस में जुड़ सकते हैं और विद्यार्थी कोई व्यक्ति आजकल इतना समय किसी के पास नहीं कि वह ठोकर खाकर सीखे या अपने एक्सपीरियंस पहले वह अनुभव ले और उसके बाद में ही सीख लें यह जरूरी नहीं हम कभी भी किसी अन्य व्यक्तियों के अनुभव और ज्ञान से भी सीख सकते हैं उनको भी हम अपने जीवन में डायरेक्टली अप्लाई कर सकते हैं और एक व्यक्ति जो किन चीजों से निकला हुआ है जिन्होंने इस तरह का अनुभव किया हुआ है वह बिल्कुल सही दिशा में किसी भी अन्य व्यक्ति को जिस को इसकी जरूरत होती है उनको वह ज्ञात गाइड कर सकता है उनको दिशानिर्देश कर सकता है तो मैं भी कुछ इसी उद्देश्य के साथ में इस क्षेत्र में आया था और मुझे लगा कि यह बिल्कुल सही समय और सही चीजें हैं जिससे मैं अपना पूरा का पूरा अनुभव एवं ज्ञान विद्यार्थियों में समर्पित कर सकूं

bahut hi badhiya sawaal hai ki maine shikshak banne ka faisla kyon liya sarvapratham main aapki jaankari ke liye bata doon ki shiksha ke kshetra se chahen vaah vidyarthi jeevan ho chahen professional life oak vyavasayik taur par ho mera ek zindagi ka ek bahut bada bhag kshetra se juda hua hai sidhe taur par yah nakli bhi keh sakte hain main aapko bata doon ki jab maine twelfth ki thi 18 saal ka samay toh uske pashchat hi mere ko government job mil gayi thi difference me uske pashchat jab maine job join kar li thi toh aisa manavta aur parafekshans bhi yahi bane hue ki jo vyakti sarkari job ya apni rojgar hetu koi bhi cheez prapt kar leta hai toh us riksha ka jo main uddeshya hai uske prapt samjhi jaati lekin maine apni shiksha ko ja ashok me join hone ke pashchat maine durasth shiksha madhyamik jisko ki distance learning mode bhi bolte hain out the aapne graduation jaari rakhi graduation ke pashchat maine english literature me posting bhi thi tatpashchat maine abhi abhi ki llb aur lagatar abhi bhi na kuch na kuch shiksha prapt karne ke samay koi na koi degree karta rehta hoon jisse ki main apne gyaan ki shaadi kar sakun ab job se saath me jo anya kaun se app se knowledge jo ki anya degreeon ke madhyam se maine prapti main chahta tha ki usko bhi ek anubhav aur un sab se knowledge ke mixer ke taur par jisko ki hum jis bhi bolte hain aur nichod bhi bolte hain vaah vidyarthiyon ko anya vidyarthiyon ko jinki inki inko inki zarurat hai vaastav me unko de Sako toh yahi sabse bada karan tha in sabhi chijon ko anubhav evam vibhinn prakar ki degreeon ke madhyam se jo gyaan prapt kara hai usko ek sahi disha me aur sahi tarike se ne vidyarthiyon ko sashakt madhyam ke dwara sugam roop se pahunchana pahunchane ke liye hi maine shikshak ka vyavasaya chuna kyonki yahi ek aisa madhyam hai jiske dwara anya vidyarthiyon ke saath me bahut zyada aur bahut hi sugam tarike se hum aapas me jud sakte hain aur vidyarthi koi vyakti aajkal itna samay kisi ke paas nahi ki vaah thokar khakar sikhe ya apne experience pehle vaah anubhav le aur uske baad me hi seekh le yah zaroori nahi hum kabhi bhi kisi anya vyaktiyon ke anubhav aur gyaan se bhi seekh sakte hain unko bhi hum apne jeevan me directly apply kar sakte hain aur ek vyakti jo kin chijon se nikala hua hai jinhone is tarah ka anubhav kiya hua hai vaah bilkul sahi disha me kisi bhi anya vyakti ko jis ko iski zarurat hoti hai unko vaah gyaat guide kar sakta hai unko dishanirdesh kar sakta hai toh main bhi kuch isi uddeshya ke saath me is kshetra me aaya tha aur mujhe laga ki yah bilkul sahi samay aur sahi cheezen hain jisse main apna pura ka pura anubhav evam gyaan vidyarthiyon me samarpit kar sakun

बहुत ही बढ़िया सवाल है कि मैंने शिक्षक बनने का फैसला क्यों लिया सर्वप्रथम मैं आपकी जानकारी

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  143
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!