IPC सेक्शन 107 के बारे में बताएँ?...


user
1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आईपीसी सेक्शन 107 के बारे में बताएं भारतीय दंड संहिता धारा 107 के अंतर्गत यह दिया गया है कि कौन सा व्यक्ति है जो कि अपराध कराने में सहयोग देता समझ के तौर पर आप समझिए कि यदि कोई अपराध होता है तो उसके अंदर एक व्यक्ति होता है अपराध करने वाला और एक होता प्राप्त कराने वाला तो इस धारा के अंत का किया बताया गया है कि कौन से व्यक्ति को प्राप्त कराने वाला माना जाएगा तो यह भी देखते हैं तो इसके अंतर्गत तीन चीजें हैं यदि कोई व्यक्ति किसी को आता है अपराध करने के लिए या फिर किसी को अपने साथ मिल आता है उस अपराध की योजना बनाने के लिए सिर्फ एक ही इच्छा से अपराधी की चाहिए कि वह अपराध हो सके तीसरी चीज है कि यदि वह व्यक्ति किसी की मदद करता है गलत काम को गलत काम को करके या फिर सही काम ना करके तो उस स्थिति में वह अपराध कराने के लिए दोषी माना जाएगा उदाहरण के तौर पर देखते हैं कि यदि कोई सरकारी वारंट लेकर किसी अपराधी को पकड़ने जाता है और यदि कोई व्यक्ति जो तू अपराधी का दोस्त है किसी नादान व्यक्ति को उस अपराधी का हुलिया बताकर प्रस्तुत करता है या फिर उस अपराधी के तौर पर उसको प्रस्तुत करता है अपने दोस्त अपराधी को छुपा कर के किसी और व्यक्ति को प्रस्तुत करता है यह दिखाता है कि यही अपराधी है तो उसकी के अंदर जो व्यक्ति उसको छुपाता है वह अपराध कराने का दोषी माना जाएगा धन्यवाद

namaskar doston ipc section 107 ke bare me bataye bharatiya dand sanhita dhara 107 ke antargat yah diya gaya hai ki kaun sa vyakti hai jo ki apradh karane me sahyog deta samajh ke taur par aap samjhiye ki yadi koi apradh hota hai toh uske andar ek vyakti hota hai apradh karne vala aur ek hota prapt karane vala toh is dhara ke ant ka kiya bataya gaya hai ki kaun se vyakti ko prapt karane vala mana jaega toh yah bhi dekhte hain toh iske antargat teen cheezen hain yadi koi vyakti kisi ko aata hai apradh karne ke liye ya phir kisi ko apne saath mil aata hai us apradh ki yojana banane ke liye sirf ek hi iccha se apradhi ki chahiye ki vaah apradh ho sake teesri cheez hai ki yadi vaah vyakti kisi ki madad karta hai galat kaam ko galat kaam ko karke ya phir sahi kaam na karke toh us sthiti me vaah apradh karane ke liye doshi mana jaega udaharan ke taur par dekhte hain ki yadi koi sarkari warrant lekar kisi apradhi ko pakadane jata hai aur yadi koi vyakti jo tu apradhi ka dost hai kisi nadan vyakti ko us apradhi ka huliya batakar prastut karta hai ya phir us apradhi ke taur par usko prastut karta hai apne dost apradhi ko chupa kar ke kisi aur vyakti ko prastut karta hai yah dikhaata hai ki yahi apradhi hai toh uski ke andar jo vyakti usko chhupata hai vaah apradh karane ka doshi mana jaega dhanyavad

नमस्कार दोस्तों आईपीसी सेक्शन 107 के बारे में बताएं भारतीय दंड संहिता धारा 107 के अंतर्गत

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  93
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!