शिवाजी किसकी पूजा करते थे और क्यों?...


play
user
1:07

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैसे तो शिवाजी महाराज सभी धर्म के देवी-देवताओं के प्रति उनके मन में आदर था लेकिन अगर बाथरूम के चरित्र की की जाए तो जो उन्होंने स्वराज्य के निर्माण की तो प्रतिज्ञा की थी वह 1 से वाले था अगर इनकी रायरेश्वर कारवाले था पुणे के नजदीक में वहां से उन्होंने प्रतिज्ञा कर कर स्वराज्य स्थापना की आरंभ किया था उसके बाद एक मिथक कथा व कथा भी बताई जाती है कि शिवाजी राजे को की जो तलवार है को पानी नहीं दिखी हालांकि स्थल वालों को तलवार का नाम माता भवानी के नाम से भवानी तलवार था और ऐसा कहा जाता था कि भवानी देवीचे थी उनका आशीर्वाद शिवाजी महाराज पर बना हुआ था लेकिन जहां तक अन्य धर्मों के भी किसी देवी देवता का सवाल है तो शिवाजी महाराज एक लोटे से शायद किंग है इंडिया के बीच उन्होंने सभी धर्मों का सर किया था और सभी धर्मों के जो प्रार्थना स्थल है उनका आरक्षण भी किया था

waise toh shivaji maharaj sabhi dharm ke devi devatao ke prati unke man me aadar tha lekin agar bathroom ke charitra ki ki jaaye toh jo unhone swarajya ke nirmaan ki toh pratigya ki thi vaah 1 se waale tha agar inki rayreshwar karvale tha pune ke nazdeek me wahan se unhone pratigya kar kar swarajya sthapna ki aarambh kiya tha uske baad ek mithak katha va katha bhi batai jaati hai ki shivaji raje ko ki jo talwar hai ko paani nahi dikhi halaki sthal walon ko talwar ka naam mata bhawani ke naam se bhawani talwar tha aur aisa kaha jata tha ki bhawani deviche thi unka ashirvaad shivaji maharaj par bana hua tha lekin jaha tak anya dharmon ke bhi kisi devi devta ka sawaal hai toh shivaji maharaj ek lote se shayad king hai india ke beech unhone sabhi dharmon ka sir kiya tha aur sabhi dharmon ke jo prarthna sthal hai unka aarakshan bhi kiya tha

वैसे तो शिवाजी महाराज सभी धर्म के देवी-देवताओं के प्रति उनके मन में आदर था लेकिन अगर बाथरू

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  207
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

chivalry 9414672463

Farmer Author

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय माता दी जय शिवाजी कहते हैं कि तुलजा भवानी की पूजा करते थे और क्यों करते थे देखे पूजा करना है आपका निजी मामला होता है लेकिन शिवाजी के बारे में पूछा तो ऐसा माना जाता है कि जो तुलजा भवानी है तो यह अपने आप को क्या है मेवाड़ के वंशज मानते थे और मेवाड़ में तुलजा भवानी उनकी कुलदेवी मानी जाती है परिवार की देवी मानी जाती आराध्य देवी माने जाते इसलिए वह तुलजा भवानी की पूजा करते थे जय माता दी

jai mata di jai shivaji kehte hain ki tulja bhawani ki puja karte the aur kyon karte the dekhe puja karna hai aapka niji maamla hota hai lekin shivaji ke bare me poocha toh aisa mana jata hai ki jo tulja bhawani hai toh yah apne aap ko kya hai mewad ke vanshaj maante the aur mewad me tulja bhawani unki kuldevi maani jaati hai parivar ki devi maani jaati aradhya devi maane jaate isliye vaah tulja bhawani ki puja karte the jai mata di

जय माता दी जय शिवाजी कहते हैं कि तुलजा भवानी की पूजा करते थे और क्यों करते थे देखे पूजा कर

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  244
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!